Bhati

From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search

Bhati (भाटी)[1] [2] Bhatti (भाट्टी)/(भट्टी)[3] [4] [5]is Chandravanshi clan name found in Jats. Also found in Rajputs and Muslims in India and Pakistan. They give their name to the Bhattiana and to the Bhattiora tracts, as well as to various places, such as Bhatinda, Bhatner, Pindi Bhattian and possibly the Bhattiāṭ in Chamba. They live in Punjab and Uttar Pradesh. [6]. They are found in Gujarat and known as Bhatiya. Bati clan is found in Afghanistan.[7] Bati Jat clan is found in Multan.[8] Bhati (भाती) is a Jat, Arain, Gujar and Rajput clan found in Amritsar, also a Jat and Rajput clan found in Multan.[9]

Contents

Origin

There was a great poet named Bhatti (भट्टी) in the court of Dharasena IV (धारसेन) . People coming from the side of Bhatinda were called Bahttis.[10]

Bhatti clan people in Central Asia

Some research suggests:

"The Bhattis were originally its own Central Asian tribe, (as documented by Arab writers), and later married with Jats and became Jats. They later became Rajputs, which they claim descent from Lord Krishna. Cunningham expressed the view that they were from Kashmir and their Capital at Gajnipur (Rawalpindi) and they are Indo-Scythians. Incidentally, the town of Bhatinda according to Dhillon was Bhatti–da and became Bhatinda."[11]

History

Thakur Deshraj[12] suggests that Bhatis were initially Yadavas. When the people were driven away from the fertile lands of Brij, Ghazni, Herat and Punjab, then they came to desert area of Jangladesh. Jangladesh was infertile and there was scarcity of water everywhere in this region. The people had to wander from here to there in search of water and food. These people were known as Bhati. The word Bhati is derived from Hindi word 'Bhatkana'.

Bhatis had come to Jangladesh prior to 4th century when the Buddhism was at peak. Later, when the influence of Buddhism came down and Hindu religion was spreading, Bhatis got divided into two categories namely - 1. Jat Bhati and 2. Rajput Bhati. Third category came into existence, Muslim Bhati, under the influence of Islam.[13]Rajput Bhatis ruled Jaisalmer.

Thakur Deshraj writes that as per the Bard Records of Bhati people - One Chauhan ruler Kodakhokhar had three sons:Maan, Dalla and Desal. They became Jats due to marrying with Jatnis. Their descendants were known by Maan, Dalal and Deshwal. One other Bard tells that Bhati Nekpal had three sons - Nagraj, Āloji and Udal. Udal originated Deshwal and Dalal gotras. Aloji originated - Kundo, Mond, Tod gotras.[14]

Jat Bhatis ruled Bhatner, presently Hanumangarh, and Bhatinda. Bhatner was historically important because it was situated on route of invaders from Central Asia to India. 'Wakaata Jaisalmer' writes that this area was known as Bhatner due to Bhati population in the area. 'Bhar Suthal' Geography tells us that northern part was called Ner and combined this with Bhat, which was proffered by Muslim Bhatis, became Bhatner.[15]

Thakur Deshraj[16] writes with reference to writer Munshi Jwalasahay in 'Wakaye Rajputana' that there are large number of traces of ruins near Hakra river. Village Dhandhusar (धांधूसर) was a well developed city at the time of Invasion of Alexander. It is said that their chieftains had good palaces, people were having number of ponds and sufficient land was left for cattle grazing. They lost their Kingdoms during reign of Akbar, but still they were in possession of large tracts of land. In 18th century Kuhadwas the area was ruled by Kuhad Singh and his son Panne Singh. Later, Bhatis of Kuhadsar were known as Kuhads. Kunwar Panne Singh was a Public Servant of Shekhawati and Kuhad ruler Pannesingh was 15 generations earlier to him. Like Kuhads, the Dular Bhatis also migrated from Punjab and established a small state here. The Bard records tell us they occupied land near Gorir and Singhana.


H.A. Rose[17] writes that Bhati (बहाती), a tribe of Hindus, chiefly interesting as being the ancestors of the Bhattis and the Sidhu Barar Jats, as the following table shows : —

  • Bhati, Brother of Sunrija → Jaisal → Hindu Bhatis.
[Fagan—Hissar Gazetteer, pp. 124, 127—129.]

According to H.A. Rose[18] Jat clans derived from Bhatti are: Lahar, Sara, Bharon, Makar, Mond, Kohar, Saharan, Isharwal, Khetalan, Jatai, Khodma, Bloda, Batho and Dhokia.


H.A. Rose writes:[19] Bhatti (भट्टी). The name Bhatti would appear to be unquestionably connected with Bhat, Bhatt, Bhati and Bhatiti, Bhatt bearing the same relation to Bhat as Jatt to Jat, kamm in Punjabi to kācim, etc. As a tribe the Bhattis are of some antiquity, numerous and wide-spread. They give their name to the Bhattiana and to the Bhattiora tracts, as well as to various places, such as Bhatinda, Bhatner, Pindi Bhattian and possibly the Bhattiāṭ in Chamba. Historically the Bhattis first appear to be mentioned in the Tārikh-i-Firoz-shāhi of Shams-i-Siraj Afif.

H.A. Rose writes:[20] On the south-east border of the Punjab the subject population of Bikaner is largely composed of Bhattis, and tradition†† almost always [p.103] carries us back to the ancient city of Bhatner, which lies on the banks of the long since dry Ghaggar, in the territory of that State bordering on Sirsa. But in that tract, which corresponds to the old Bhattiana, the Bhatti is no longer a dominant tribe and the term is loosely applied to any Muhammadan Jat or Rajput from the direction of the Sutlej, as a generic term almost synonymous with Rath or Pachhada.

According to H.A. Rose:[21] The Hissar tradition says that the Battis are of the Jatu family, and that like the Tunwars they trace their origin to remote antiquity. At some distant period, two persons named Bhatti and Sumija are said to have come to this country from Mathura. The latter had no male issue, and his descendants (called Joiyas) live in Sirsa. After some generations the of the family of the former, niinnd Rusalu, became Raja— he had two sens, Dusul and Jaisul. The latter became Raja of Jaisalmer, where his descendants still reign. The former remained in Bhattiana— he had ony one son, named Janra, who had several wives by whom he had 21 sons, whose [p.103]descendants established different tribes, such as the Lakhiwal, Sidhu, and Barar Jats. Janra founded the town of Abohur, naming it after his wife Abho— by this wife he had three sons- Rajpal, Chun and Dhum :— the Wattus are descendants of the first- the Mai Rajputs of the second— and the Nawab of Rania and his family, of the third. Inasmuch as the Bhattis were more numerous than the rest, the country was called Bhattiana. The habits, manners and customs of Bhattis are similar to those of the Tunwars. (Hissar Settlement Report, p. 8, §§ 25, 26.)

भाटी जाट वंश

ठाकुर देशराज लिखते हैं: ये लोग आरम्भ के यादव हैं। ब्रज और फिर गजनी-हिरात तथा पंजाब जैसी उपजाऊ भूमि से विताड़ित होकर जब यह समूह जांगल-प्रदेश में आया, जहां न कोई मेवा और फल पैदा होते हैं और न गेहूं जैसा आवश्यक अन्न, जहां पानी के लिए यात्री भटक-भटककर मर सकता है, तो भाटी नाम से दूसरे लागों ने इन्हें पुकारा। भरतपुर और करोली के यादवों के लिए यह बिल्कुल गैर-उपजाऊ अर्थात भण्टड मुल्क में बसे हुए दिखाई दिए। यही कारण था कि जांगल प्रदेश के यादव भाटी नाम से प्रसिद्ध हुए। इस भूमि पर ये उस समय में आ चुके थे जब कि बौद्ध-धर्म पूर्ण यौवन पर था अर्थात् तीसरी-चौथी सदी से पूर्व ही। बौद्ध-धर्म के पश्चात् जब नवीन हिन्दू-धर्म बढ़ने लगा तो इस समुदाय के दो टुकड़े हो गये-एक जाट भट्टी, दूसरे राजपूत भट्टी। यही क्यों, इस्लाम की बाढ़ ने दो के स्थान पर भाटी क्षत्रियों को तीन भागों में बांट दिया। तीसरा दल मुसलमान भट्टी कहलाने लगा। जाट भट्टी और राजपूत-भट्टी दो में कैसे विभक्त हो गये, इसका उत्तर भाट लोगों ने उसी युक्ति से दिया है जा कि नितान्त निर्मूल है। एक जगह भाट लोगों की किताब में हम पढ़ते हैं-

‘एक चौहान राजा कोड़खोखर के, मान, दल्ला और देसाल तीन पुत्र थे। वे तीनों जाटनियों के साथ शादी करने से जाट हो गये। उनके वंशज क्रमशः मान, दलाल और देसवाल गोतों से मशहूर हुए।’

इस कथन का उल्लेख मि. डब्ल्यू. क्रुक और पण्डित अमीचन्द शर्मा दोनों ही अपने लेखों में करते है। एक दूसरे भाट की किताब में इसी वर्णन को इस भांति लिखा है-

‘‘भाटी नेकपाल के तीन पुत्र हुए - नगराज, आलोजी, ऊदल। ऊदल का तो देसवाल, दलाल हुआ, और आलोजी का गोत-कुंडो, मोंड, तोड़ हुआ।’’

यह है भाट ग्रन्थों की उस सत्यता का नमूना जो उन्होंने अनेक जाट गोतों के सम्बन्ध में प्रकट की है। इस विषय पर हम पिछले अध्यायों में काफी प्रकाश डाल चुके हैं। इसलिये यहां यह आवश्यकता नहीं कि उसी विषय की पुनरावृत्ति की जाय।

भटनेर और भटिण्डा पर जाट भाटियों का और जैसलमेर के विशाल प्रदेश


जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-600


पर राजपूत भाटियों का राज रहा है। हांसी और हिसार कभी जाट और कभी राजपूतों के कब्जे में एक लम्बे अरसे तक रहे हैं। ‘वाकए-राजपूताना’ के लेखक ने भाटी जाटों के राज्य के विषय में इस प्रकार लिखा है-

"भटनेर जो अब रियासत बीकानेर का भाग है पुराने जमाने में जाटों के दूसरे समूह की राजधानी था। यह जाट ऐसे प्रबल थे, कि उत्थान के समय में बादशाहों का मुकाबला किया और अब आपत्ति आई हाथ सम्भाले। कहा जाता है कि भटनेर का नाम भाटियों से जो कि उनमें अवस्थित हुए थे, सम्बन्ध नहीं रखता है, किन्तु किसी प्रसिद्ध रईस के वरदाई अर्थात् भाट से निकला है। उसको यह मुल्क प्रदान हुआ और उसने कवियों के खानदान को प्रसिद्ध करने के अभिप्राय से, बतौर संस्थापक के अपनी रियासत का पेशे के नाम से नामकरण किया। किन्तु ‘वाकआत जैसलमेरी’ में लिखा है कि भाटियों की आबादी की वजह से इस इलाके का नाम भटनेर हुआ। ‘भारसुथल’ के प्राचीन भूगोल के आधार पर उत्तरी हिस्से का नाम नेर है और जब भाटियों की चन्द शाखाओं ने इस्लाम-धर्म को स्वीकार किया तो अपने नाम से अकार को निकाल दिया, इस तरह भट और नेर मिलकर भटनेर हो गया। जो लोग मध्य-एशिया से भारत पर आक्रमण करते थे, उनके मार्ग में स्थित होने से भटनेर ने इतिहास में भारी प्रसिद्धि प्राप्त की है। विश्वास है कि जाटों ने सिन्ध नदी की नाविक लड़ाई में महमूद गजनवी से मुकाबला होने से पहले ही पंजाब के जंगलों में बस्तियां आबाद कर दी थीं। यह भी विश्वास है कि महमूद से सैकड़ों वर्ष पहले जाट शासक थे। जिस समय शहाबुद्दीन ने भारत को विजय किया था, उससे सिर्फ बारह वर्ष बाद सन् 1205 में उसके उत्तराधिकारी कुतुब को मजबूरन उत्तरी जंगलों के जाटों से बजात खुद लड़ना पड़ा। अभागी रजिया बेगम, फीराज-आजम के योग्य उत्तराधिकारी ने दुश्मन के खौफ से तख्त छोड़कर जाटों की शरण ली। उन्होंने संयोग से गकरों की कुल फौज इकट्ठी करके उक्त मलिका की इम्दाद में शत्रु पर चढ़ाई की। उसके भाग्य में शत्रुओं पर विजय पाना था, किन्तु वे बैर लेने में नेकनामी से मारे गये। फिर 1397 ई. में तैमूर ने भारत पर आक्रमण किया, तब मुल्तान-युद्ध में अड़चन और कष्ट पहुंचाने के कारण उसने भटनेर पर हमला किया। कुल कौम का कत्ल करके मुल्क को प्रकाश रहित कर दिया। सारांश यह है कि भट्टी और जाट ऐसे मिले-जुले हैं कि उनमें भिन्नता करना कठिन है।’’1


तैमूर के हमले के थोड़े दिन बाद एक गिरोह ने अपनी हुकूमत को वापस लेने के लिए मारोट और फूलरा से निकलकर भटनेर पर हमला किया। उस समय भटनेर में तैमूर या दिल्ली के बादशाह का हाकिम शासन करता था। भटनेर उनके


1. वाक-ए राजपूताना, जिल्द 3


जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-601


हाथ में आ गया। इस सरदार का नाम वीरसिंह या वैरीसाल था जिसने कि फिर से भटनेर को अपने कब्जे में कर लिया था। वैरीसाल ने सत्ताईस वर्ष हुकुमत की और उसका बेटा भारू उसके बाद भटनेर का शासक हुआ। वैरीसाल के समय में चगताखां ने दिल्ली के बादशाह से मदद लेकर भटनेर पर चढ़ाई की। दो बार तो उन्हें हारकर लौटना पड़ा। तीसरी बार फिर चढ़ाई की। भटनेर के लोग हमलों से तंग आ गये थे, इसलिए भारू ने सुलह के लिए प्रार्थना की। कहा जाता है कि आखिर में भारू और उसके साथी मुसलमान हो गए। जब राठौर प्रबल हुए तो उनके सरदार रायसिंह ने भटनेर की जीत लिया।

मुन्शी ज्वालासहाय जी ‘वाकए राजपूताना’ के लेखक ने आगे लिखा है-

‘‘हाकरा नदी के आसपास बहुत से खंडहर पाये जाते हैं। रंगमहल के मकानात जो दिखाई पड़ते है बहुत जमाने के हैं। धांधूसर जो कि भटनेर से दक्षिण 25 मील के फासले पर है, उसके सम्बन्ध में एक भटनेर निवासी सज्जन ने बतलाया था कि यह कस्बा कभी सिकन्दर के आक्रमण के समय पूरा रईस था।

"x x अगर कोई हांसीहिसार की ओर से बीकानेर में प्रवेश करे तो इन मशहूर खंडहरों के सम्बन्ध की कहावतों की बखूबी जानकारी हासिल कर सकता है, जो पुराने जमाने में परमार, जोहिया अथवा जाट रईसों के महल की बुनियाद थी। इधर से यात्री को काफी ऐतिहासिक सामग्री मिल सकती है।
"अमौर, बंजीर का नगर, रंगमहल, सोदल (सूरतगढ़) माचूताल, रातीबंग, बन्नी, मानिकखर, सूर सागर, कालीबंग, कल्यान सर, फूलरा, मारोट, तिलवाड़ा, गिलवाड़ा, भामेनी, कोरीवाला, कुल ढेरनी, नवकोटि, मासका ये ऐसे स्थान हैं जिनमें से अधिकांश के सम्बन्ध में काफी ऐतिहासिक सामग्री मिल सकती है।’’

‘वाकए-राजपूताना’ के लेख से जहां यह बात प्रकट होती है कि जाटों का एक बडे़ प्रदेश पर लम्बे समय तक राज रहा है तथा उन्होंने प्रत्येक आक्रमणकारी मुसलमान विजेता से सामना किया है, वहां जाट-राज्यों के सम्बन्ध में यह बात भी इस लेख से मालूम हो जाती है कि ये जाट-राज्य सब प्रकार से समृद्धिशाली थे। उनके समय में कला-कौशल की भी वृद्धि हुई। यही तो कारण था कि सिकंदर ने आने के समय उनका धांधूसर नामक नगर पूरे वैभव पर पाया गया। उनकी राजधानियों में जहां सरदारों के रहने के लिए अच्छे-अच्छे राज-भवन थे, वहां प्रजा के सुख के लिए तालाब भी थे। पशुओं के लिए वे काफी गोचर भूमि छोड़ते थे।

खास भटनेर से भाटी जाटों की हुकूमत यद्यपि अकबर के समय अर्थात् सत्राहवीं सदी में नष्ट हो गई थी, किन्तु फिर भी वे जांगल तथा ढूंढार पंजाब के बहुत से भू-भाग को विभिन्न स्थानों पर दबाये रहे। अठारहवीं सदी में कुहाड़वास और उसके प्रदेश पर कुहाड़सिंह और उसका पुत्र पन्नेसिंह शासक था। हालांकि


जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-602


यह उनकी बहुत ही छोटी रियासत थी। आगे चलकर कुहाड़सर के भाटी कुहाड़ नाम से प्रसिद्ध हुए। शेखावाटी के लोग-सेवक कुंवर पन्नेसिंह जी से कुहाड़ का शासक पन्नेसिंह 15 पीढ़ी पहले हुआ था। कुहाड़ों की भांति पंजाब से सरककर दूलड़ भाटियों ने भी एक छोटा-सा राज्य स्थापित कर रखा था। मालवा में भी वे चुप नहीं बैठे रहे। भूमि पर कब्जा करके अपने प्रभुत्व को जमाने का अधिकार तो उन्होंने अब तक नहीं छोड़ा है। भाट लोगों की शाखा ने गोरीर और सिंधाना के निकट की भूमि पर प्रभुत्व स्थापित किया ऐसा भी भाट-ग्रन्थों में वर्णन मिलता है।

Distribution in Punjab

The Indus River In Punjab, there are several villages that are populated entirely by Bhatti. The historic Patiala and East Punjab States Union had a large concentration of Bhatti. Bhati jats are found in the villages Sahlon,Rampur, Ghurial (Jalandhar), Rehla, Phuglana, Salah, Daroli, Machhli Kalan, Lalru, Jhawansa, Tardak, Joli,Rampur, Samgoli Nagla, Jhhanjeri, Cholta, Badali, Rangian, Magra, Gunnoo Bhattian,saharan chattha , Khellan-mallan, Killianwali (Mukatsar, Punjab),

Villages in Jalandhar district

Gurial,

Villages in Ludhiana District

Harion Kalan, Sarmala, Tappariya,

Villages in Nawanshahr district

Villages in Patiala district

Bhatti Jat population is 1,410 in Patiala district.[22]

Villages in Amritsar district

Bhatti Jat population is 1,509 in Amritsar district.[23]

Villages in Sangrur district

Distribution in Rajasthan

Village in Alwar district

Ghat Lachhmangarh, Kherli Veeran, Mahlakpur, Ronpur,

Distribution in Jammu & kasmir

Jadiya,Sai Kalan

Villages in Ratlam district

Villages in Ratlam district with population of this gotra are:

Ratlam 1,

Distribution in Pakistan

Distribution in erstwhile Multan State

References

  1. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Parishisht-I, s.n. भ-10
  2. O.S.Tugania:Jat Samuday ke Pramukh Adhar Bindu, p.54, s.n. 1890
  3. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Parishisht-I, s.n. भ-25
  4. O.S.Tugania:Jat Samuday ke Pramukh Adhar Bindu, p.53, s.n. 1844
  5. B S Dahiya:Jats the Ancient Rulers (A clan study)/Jat Clan in India, p.236, s.n.26
  6. Jat History Thakur Deshraj/Chapter IX,pp.599-603
  7. An Inquiry Into the Ethnography of Afghanistan,H. W. Bellew, p.29,133,137
  8. A glossary of the Tribes and Castes of the Punjab and North-West Frontier Province By H.A. Rose Vol II/B , p. 70
  9. A glossary of the Tribes and Castes of the Punjab and North-West Frontier Province By H.A. Rose Vol II/B , p.90
  10. Mahendra Singh Arya et al: Adhunik Jat Itihas, p. 272
  11. jatts.com » Several Jat Clans | A Brief History of Various Jatt Clans - Author: Sunny Jatt
  12. Thakur Deshraj: Jat Itihas , p. 600
  13. Thakur Deshraj: Jat Itihas p. 600
  14. Thakur Deshraj: Jat Itihas , p. 600
  15. Thakur Deshraj: Jat Itihas , p. 601
  16. Thakur Deshraj: Jat Itihas, p. 602-03
  17. A glossary of the Tribes and Castes of the Punjab and North-West Frontier Province By H.A. Rose Vol II/B , p.90
  18. A glossary of the Tribes and Castes of the Punjab and North-West Frontier Province By H.A. Rose Vol II/J,p.376
  19. A glossary of the Tribes and Castes of the Punjab and North-West Frontier Province By H.A. Rose Vol II/B , p.101
  20. A glossary of the Tribes and Castes of the Punjab and North-West Frontier Province By H.A. Rose Vol II/B , p.103-04
  21. A glossary of the Tribes and Castes of the Punjab and North-West Frontier Province By H.A. Rose Vol II/B , p.103-04 fn
  22. History and study of the Jats. B.S Dhillon. p.126
  23. History and study of the Jats. p.124

Back to Gotras