Dhaulya

From Jatland Wiki
(Redirected from Dholya)
Jump to: navigation, search
Tejaji
Harinarayan Dhaulya, Maadi

Dhaulya (धौल्या)[1] [2] Dhauliya (धौलिया)[3] Dholya (धोल्या) Dhavala (धवल)/(धावल)[4] [5] is a gotra of Jats found in Rajasthan and Madhya Pradesh. Dhaulyas were rulers in Kishangarh and Marwar much before the rule of Rathores. Dhoreliya clan is derived from Dhaulya clan. The towns Dholpur (Rajasthan)[6], Dhule (Maharashtra, Dhauli (Orissa) were probably founded by Dhaulya clan Jats.

Contents

Origin

They are descendants of Shveta Naga (श्वेत नाग) also called Dhaulya Naga (धौल्या नाग) locally.[7] Dhaulya is the Rajasthani version of Shveta (श्वेत) or Dhavala (धवल) in Sanskrit. Some historians consider this gotra of Jats to be originated from province named Dhaul (धौल) of Nagavansh. [8]

History of Dhaulya clan

Tejaji with Naga

Ancestors of Dhaulyas: The most prominent Dhaulya ruler in the memory of people was Tejaji (1074- 1103), who was born in the 21st generation of Dhalya dynasty epi-person Mahabala. If we take period of one generation to be 25 years then the period of Mahabala comes around 550 AD. This was around the end of Gupta Empire. The Gupta Empire was one of the largest political and military empires in ancient India. It was ruled by the Gupta dynasty from around 240 to 550 CE and covered most of northern India and what is now eastern Pakistan and Bangladesh. During this period it was considered a Great power. Historians consider Guptas to be Dharan Jats. The period of this Jat Empire is considered to be the Golden period in the History of India. Mahabala, the primeval man of Dhalya clan ancestry was probably a feudatory of Guptas in the eastern part around Kalinga. This fact get strength from the existence of Dhauli (धोली) hills located on the banks of the river Daya, 8 km south of Bhubaneswar in Orissa. Dhaulya clan of Jats probably gave name to the hill Dhauli.[9] It is a hill with vast open space adjoining it, and has major Edicts of Ashoka engraved on a mass of rock, by the side of the road leading to the summit of the hill. Dhauli hill is presumed to be the area where Kalinga War was fought. The Dhavaleswar temple is one of the larger temples in Dhauli. According to Dr Naval Viyogi remains of their offshoot, the royal family of Dhavaladeva is still existing at Dalbhumigarh near Kharagpur in Orissa. [10]

Dhavala ruler in Pali:

We find mention of a king named Dhavala in the branch of Hastikundi Chauhans. Hastikundi Inscription of V.S. 1053 (24 January 997 AD) was found at Beejapur village in Bali Tahsil of Pali district in Rajasthan. Its language is Sanskrit and script is similar to Harsha Inscription of 961 AD. It mentions the achievements of king Dhavala, who provided shelter to the armies of Chalukya King Mularaja and also Mahendra and Dharanivaraha against the enemies.[11]

Dhulia rulers in Haryana:

There is mention of Dhulia rulers by Ram Swarup Joon in Badli area of Haryana. Badra Sen was an officer in the army of Prithvi Raj. Badli Pargana was his estate. He belonged to a Dhulia family of Indergarh. Before the Chauhan rule, Bhadra, Ajmer, Indergarh etc. were the capitals of the Gor Jats. After the death of Prithvi Raj there was chaos in the country. The Khokhar Jats slayed Mohammad Ghori near Multan. There was a woman named Bodli. The village was named Badli in her honour. Sant Sarang Dev's samadhi (shrine) still exists in Badli and is widely worshipped.

Dhaulya rulers in Nagaur:

The Dhaulya clan ancestors of Tejaji (1074- 1103) were settled in Khilchipur in Madhya Pradesh. The Naga Jats of Marwar are from Vasuki or Ganapati Nagavansh. The Dhaulya clan started after Dhawal Rao or Dhaula Rao ruler of Nagavansh. Swet Naga in Sanskrit is the Dhaulya Naga in prakrit language. Tejaji's ancestor Udairaj (930 AD) occupied Kharnal area in Marwar and made it his capital. There were twenty four villages in Khirnal pargana and area was quite extensive. This pargana of Khirnal was very famous during those days.[12]


डॉ पेमाराम[13]लिखते हैं कि सिंध और पंजाब से समय-समय पर ज्यों-ज्यों जाट राजस्थान में आते गये, मरूस्थलीय प्रदेशों में बसने के साथ ही उन्होने प्रजातन्त्रीय तरीके से अपने छोटे-छोटे गणराज्य बना लिये थे जो अपनी सुरक्षा की व्यवस्था स्वयं करते थे तथा मिल-बैठकर अपने आपसी विवाद सुलझा लेते थे । ऐसे गणराज्य तीसरी सदी से लेकर सोलहवीं सदी तक चलते रहे । जैसे ईसा की तीसरी शताब्दी तक यौधेयों का जांगल प्रदेश पर अधिकार था । उसके बाद नागों ने उन्हें हरा कर जांगल प्रदेश (वर्तमान बिकानेर एवं नागौर जिला) पर अधिकार कर लिया । यौधेयों को हराने वाले पद्मावती के भारशिव नाग थे, जिन्होने चौथी शताब्दी से लेकर छठी शताब्दी तक बिकानेर, नागौर, जोधपुर तथा जालोर के जसवन्तपुरा तक शासन किया । जांगल प्रदेश में नागों के अधीन जो क्षेत्र था, उसकी राजधानी अहिच्छत्रपुर (नागौर) थी । यही वजह है कि नागौर के आस-पास चारों ओर अनेक नागवंशी मिसलों के नाम पर अनेक गांव बसे हुये हैं जैसे काला मिसल के नाम पर काल्यास, फ़िरड़ोदा का फिड़ोद, इनाणियां का इनाणा, भाकल का भाखरोद, बानों का भदाणा, भरणा का भरणगांव / भरनांवा / भरनाई, गोरा का डेह तथा धोला का खड़नाल आदि ।

छठी शताब्दी बाद नागौर पर दौसौ साल तक गूजरों ने राज किया परन्तु आठवीं शताब्दी बाद पुनः काला नागों ने गूजरों को हराकर अपना आधिपत्य कायम किया ।

दसवीं सदी के अन्त में प्रतिहारों ने नागों से नागौर छीन लिया । इस समय प्रतिहारों ने काला नागों का पूर्णतया सफ़ाया कर दिया । थोड़े से नाग बचे वे बलाया गांव में बसे और फिर वहां से अन्यत्र गये ।

Genealogy of Dhaulya rulers

Mansukh Ranwa[14] has provided the Genealogy of Dhaulya rulers. The primeval man of their ancestry was Mahābal, whose descendants and estimated periods calculated @ 30 years for each generation are as under:

  • 1. Mahābal (महाबल) (480 AD)
  • 2. Bhīmsen (भीमसेन) (510 AD)
  • 3. Pīlapunjar (पीलपंजर) (540 AD)
  • 4. Sārangdev (सारंगदेव) (570 AD)
  • 5. Shaktipāl (शक्तिपाल) (600 AD)
  • 6. Rāypāl (रायपाल) (630 AD)
  • 7. Dhawalpāl (धवलपाल) (660 AD)
  • 8. Nayanpāl (नयनपाल) (690 AD)
  • 9. Gharṣanpāl (घर्षणपाल) (720 AD)
  • 10. Takkapāl (तक्कपाल) (750 AD)
  • 11. Mūlsen (मूलसेन) (780 AD)
  • 12. Ratansen (रतनसेण ) (810 AD)
  • 13. Śuṇḍal (सुण्डल) (840 AD)
  • 14. Kuṇḍal (870 AD)
  • 15. Pippal (पिप्पल) (900 AD)
  • 16. Udayarāj (उदयराज) (930 AD)
  • 17. Narpāl (नरपाल) (960 AD)
  • 18. Kāmrāj (कामराज) (990 AD)
  • 19. Vohitrāj (वोहितराज) (1020 AD)
  • 20. Thirarāj (थिरराज) (1050 AD) or Tahadev (ताहड़देव)
  • 21. Tejpal (तेजपाल) (1074- 1103 AD)

Taharji had six sons namely - Tejaji, Raṇaji, Guṇaji, Maheshji, Nagji, and Rūpji. He had two daughters namely - Rājal and Dūngari. Rājal was married. Rājal was married to Jogaji Siyag of village Tabījī (तबीजी). Rājal had become sati with his brother Tejaji.

The most prominent Dhaulya Jat - Tejaji

Tejaji (तेजाजी) or Veer Teja (वीर तेजा) (1074- 1103) was a Jat folk-deity who lived in the state of Rajasthan in India. The history of Rajasthan is filled with lots of heroic stories and instances where people have put their life and families at risk and kept the pride and values like loyalty, freedom, truth, shelter,social reform etc intact. Veer Teja was one of these famous people in the history of Rajasthan.

Birth of Tejaji

Tejaji is considered to be folk-deity and worshiped in entire Rajasthan, Uttar Pradesh, and Madhya Pradesh by all communities. Tejaji as a historical person was was born on Bhadrapad Shukla Dashmi, dated 29 January 1074 (?), in the family of Dhaulya gotra Jats. His father was Chaudhary Taharji (Thirraj), a chieftain of Khirnal (Kharnal) in Nagaur district in Rajasthan. His mother's name was Sugna. The most renowned person in Dhaulya gotra was Tejaji or Veer Teja. He was born in 1074. Rajasthan was ruled at that time by small states, headed by various chieftains. Tejaji's father was Taharji who was chieftain of Khirnal. His rule extended from Khirnal to Roopnagar. Their neighbouring state was that of Nagas. Nagas had been eradicated from Nagaur. Gujars were rejected in Bhinmal. Meenas were rulers in various parts of Jaipur. Tejaji was married in Paner, which was situated on the banks of Banas River in Jaipur region.

ठाकुर देशराज लिखते हैं

ठाकुर देशराज लिखते हैं कि इस वंश के जाट राजस्थान के विभिन्न भागों में पाए जाते हैं। किशनगढ़ और मारवाड़ की भूमि पर राठौरों से बहुत पहले ये लोग राज करते थे। महापुरुष तेजाजी जो कि आज राजस्थान में देवता मानकर हनुमान और भैरव की भांति पूजे जाते हैं, इसी प्रसिद्ध राजवंश में पैदा हुए थे। ‘तारिख अजमेर’ में तेजाजी के सम्बन्ध में लिखा हुआ है कि -

“जाटों के तेजाजी कुल-देवता हैं। उनका जन्म मौजा खरनाल परगना नागौर में हुआ था। वह धौल्या गोत के जाट थे। मौजा पनेर इलाका रूपनगर में उनकी शादी हुई थी।”

कुछ लोग तेजाजी की जन्म-भूमि रूपनगर ही बताते हैं। उनकी जन्म-भूमि खरनाल थी या रूपनगर, इस प्रश्न का हल सहज में हो सकता था, यदि लेखक महानुभाव तेजाजी के समय की राजस्थान की राजनैतिक स्थिति से परिचित होते। तेजाजी का जन्म संवत् 1040 के आस-पास हुआ था, क्योंकि ‘तारीख अजमेर’ में उनकी मृत्यु का समय मार्गशीर्ष शुदी दशमी संवत् 1072 विक्रमी बताया है। वे तरुण अवस्था में स्वर्गवासी हुए थे। इसीलिए हमने उनका जन्म-समय संवत् 1040 के आस-पास माना है। उस समय समग्र भारतवर्ष छोटे-छोटे राज्यों में बंटा हुआ था। भारत में वल्लभी और भटिंडा (लाहौर) के दो राज्य अवश्य बड़े थे।


जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-627


राजस्थान में उस समय सर्वांश में नही तो अधिकांश में गण-राज्य (पंचायती शासन) थे। नागौर से नाग विताड़ित कर दिए गए थे।गूजर लोग भीनमाल से खारिज हो चुके थे। जातियों में परस्पर संघर्ष भी चल रहा था। तेजाजी के पिताजी स्वयं एक प्रजातन्त्र के सरदार थे। उनका नाम ताहरजी था। कुछ लेखकों ने ब़क्सारामजी लिखा है, किन्तु खरनाल के जाट जो तेजाजी के सगोत्री हैं, वे ताहरजी बतलाते हें। ताहरजी के राज्य में खरनाल और रूपनगर प्रसिद्ध स्थान थे। उनका राज्य इतने क्षेत्रफल वाला था, जिसके अन्तर्गत रूपनगर और खरनाल दोनों आ जाते थे। तेजाजी भक्त-प्रकृति के व्यक्ति थे। इसलिए वे घर के और राज के प्रबन्ध से उदासीन रहकर साधु-सन्तों की सेवा में लगे रहते थे। वे खरनाल और रूपनगर दोनों ही स्थानों पर जब जहां इच्छा होती रहते थे।

तेजाजी कुल सात भाई थे। छः की संतान अब तक मौजा खिडनाल में (जो कि पहले करनाल कहलाता था) रहती है। तेजाजी ने तप करने में पराकाष्ठा कर दी थीं उनका विवाह बाल्य-अवस्था में ही हो चुका था, किन्तु तेजाजी को संतों की संगति में देखकर मां-बाप की यह हिम्मत न होती थी कि उनसे बहू को लाने के लिए कहा जाए। तेजाजी के गोत्र के लोगों का उस समय नाग जाति के लोगों से झगड़ा चल रहा था। किन्तु तेजाजी ऐसे झगड़ों से दूर ही रहते थे। उनके पिता ने आखिर तेजाजी को गौ-सेवा पर नियुक्त किया। उस समय जनपदों के शासक पशु खूब रहते थे। उनके राज्य में अनेक तालाब थे, बावड़ी थी और साथ ही बाग-बगीचे भी थे। वे एक तालाब के किनारे ईश्वर-भक्ति कर रहे थे। उस समय एक गूजरी ने जिसका नाम माना बताया जाता है, बड़ा चुभता हुआ मजाक तेजाजी से किया। उनका भाव यह है -

“जिसकी स्त्री युवावस्था में तड़पे और उसका मर्द सन्त बना फिरै।”

तेजाजी को यह बात चाट गई, वे ससुराल जाने के लिए उसी समय प्रतिज्ञा कर बैठे। ससुराल जाने से पहले उन्हें बहन के यहां भी जाना पड़ा। उनकी बहन का नाम राजा और बहनोई का जौंरा था। कुछ लेखकों ने लिखा है बहन के यहां से लौटकर तेजाजी ससुराल पहुंचे। ससुराल वाले भी पूरे वैभवशाली थे। उनका राज्य भी भरा-पूरा था। उनकी लड़की बोदल (जो कि तेजाजी को ब्याही गई थी) के अलग बगीचे और बावड़ी थे। तेजाजी से उनकी ससुराल वाले अप्रसन्न तो थे ही, क्योकि जवान लड़की को घर में देखकर उन्हें रंज होता था, इसलिए उनका कोई अच्छा सत्कार नहीं हुआ। उनकी ससुराल का गांव पनेर राज्य जयपुर में बनास नदी के किनारे पर कहीं था। उस समय जयपुर के विभिन्न भागों पर मीणा जाति का राज्य था। मीणा लोग पड़ोसी राज्यों के प्रजा जन के पशुओं को चुरा ले जाते थे। पनेर में उसी दिन मीणों ने आक्रमण करके एक गूजरी के गायों के समूह को चुरा लिया। तेजाजी के ससुर बदनाजी बड़े प्रसिद्ध पुरुष थे। वे उस समय की बाहर गए हुए थे। तेजाजी ने जब मीणों


जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-628


की गाय चुराने की कहानी सुनी तो वे अपनी लीला नाम की घोड़ी पर सवार होकर मीणों के पीछे पड़े। मीणों की संख्या 150 तक बताई जाती है। संभव है तेजाजी के साथ भी दस-बीस आदमी हों, किन्तु कहा जाता है कि तेजाजी अकेले ही थे। यह बात उनका महत्व बढ़ाने के लिए कही गई है। तेजाजी इस युद्ध में सख्त घायल हुए। मीणे परास्त हुए तेजाजी की कीर्ति चारों ओर फैल गई।

ससुराल से लौटते समय तेजाजी पर महान् संकट आया अथवा यह कहना चाहिए कि तेजाजी का वह समय आ गया था, जिसे अन्तिम काल कहते हैं। बालू नाम के नाग ने उनका रास्ता घेर लिया। उसने शत्रुता निभाने का यह सबसे अच्छा मौका समझा। कहा जाता है कि पहली बार भी इसने तेजाजी को ललकारा था, किन्तु उस समय तेजाजी ने उससे यह इच्छा प्रकट की थी कि मैं ससुराल जाना चाहता हूं, अपनी स्त्री से मिलने के बाद मैं अवश्य इधर आऊंगा। घायल तेजाजी और उनकी वीर विदुषी स्त्री बोदल ने नाग और उसके साथियों का मुकाबला किया। तेजाजी और उनकी धर्मपत्नी मारे गये, किन्तु बालू नाग भी धराशायी कर दिया। बालू ने तेजाजी की अचेत अवस्था में जिह्वा काटने का प्रयत्न किया था। उनकी घायल घोड़ी भागकर खिड़नाल आ गई। उनकी रानी बोदल के और उनके शव खिड़नाल लाए गये। तेजाजी शत्रुओं से लड़ते हुए शहीद हुए थे, इसलिए वे जुझार तेजा कहलाने लगे। नाग बालू के मारे जाने से अन्य नाग भी उस प्रान्त को छोड़कर भाग गए। चारों ओर शांति हो गई। नाग बड़े कड़वे मिजाज के और सभी लागों को दुःखदायी थे। नागों से तेजाजी के शहीद होने से लागों का पीछ़ा छूट गया। सफल चित्रकार ने तेजाजी का ऐसा चित्र कर दिया है, जिसमें उनकी श़हादत का पूरा इतिहास आ जाता है। वह पांचों हथियार बांधे हुए लीला नाम घोड़ी को थामे खड़े हैं। नाग उनके गले में लिपटा हुआ है। शरीर खून से लथपथ है। पास में रानी बोदल खड़ी है। तेजाजी के सिर पर कलगी भी है उनके राज-पुत्र होने की सूचना देती है।

तेजाजी की पूजा पहले उनके राज्य, उनके बहनोई के राज्य तथा ससुराल वालों के राज्य में आरम्भ हुई। पीछे से सर्वत्र राजस्थान में आरम्भ हो गई। उनके नाम का असर और प्रयोग यहां तक हुआ कि सर्प (नाग) काटे का इलाज होने लगा। विश्वास और भावनाओं में राजस्थान में यहां तक परिपक्वता आ गई है कि उनके नाम की डसी बांधने से सर्प के विष का असर नहीं होता है।

तेजाजी के मेले - राजपूताने में अनेक स्थानों पर तेजाजी के मेले भरते हैं। अनेक स्थानों पर उनके मन्दिर हैं। भादों सुदी दसमीं को सहस्रों यात्री उनके मन्दिरों तक पहुचंकर चढ़ावा चढ़ाते हैं। राजा, रईस, गरीब, अमीर, ब्राह्मण, क्षत्री सभी तेजाजी के भक्त हैं।

तेजाजी का सबसे बड़ा मेला पर्वतसर राज्य जोधपुर में होता है।


जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-629


वहां तालाब के किनारे उनकी संगमरमर की मूर्ति है। तेजाजी घोड़े पर सवार तलवार, ढाल, बल्लम आदि शस्त्रों से सुसज्जित हैं। दूसरी ओर उनकी सती रानी घोड़ी पर सवार बायें हाथ में सर्प पकड़े हुए हैं। मन्दिर में एक शिलालेख है, जिस पर

‘संवत् 1791 शाके 1656 भादवा बदी 6 भृगवासरे महाराजाधिराज श्री श्री 108 श्री अभवसिंहजी तस्या प्रधारों भंडारीजी श्री विजयराजजी श्री तेजाजी की प्रतिष्ठा’

अंकित किया हुआ है। कहा जाता है भंडारीजी ने तेजाजी की मूर्ति सुरसुरे से, जहां कि तेजाजी शहीद हुए थे, पर्वतसर में लाकर स्थापित की थी। सुरसुरा गांव किशनगढ़ राज्य में है।

भादों सुदी एकादशी को पर्वतसर में, जोधपुर राज्य के मेले में तैनात बड़े-बड़े अफसर और हाकिम शुभ मुहूर्त में, तेजाजी का झंडा खड़ा करते थे। झंडा पर्वतसर हुकूमत से मय लवाजमे के लाया जाता था। 20 सवार, 25 पैदल और 20 पुलिसमैन मय अफसरों के ठीक समय पर झंडे को सलामी देते थे। झंडा खड़ा करने की आज्ञा देने से ठीक पहले जाटों को सम्बोधित करके कहा जाता था -

जाटों! आओ!! झंडा उठाओ!!!

झंडे को सभी लोग हाथ लगाते थे। झंडा खड़ा होते ही 11 तोपों की सलामी होती। झंडा प्रति वर्ष नया बदला जाता। चौबीसों घण्टे बाजे, ढोल मेले के दिनों में बजते रहते थे।

खरनाल स्थित तेजाजी का मन्दिर

तेजाजी के मन्दिर - उनकी जन्मभूमि खिड़नाल में तेजाजी का मन्दिर गांव के बीचों-बीच है। वह बहुत पुराना है। उसका जीर्णोद्धार संवत् 1943 में हुआ है। वहां के शिलालेख में उन लोगों के नाम हैं जिन्होंने मन्दिर की मरम्मत कराई थी। शिलालेख में एक दोहा है जो इस तरह है-

खिजमत हतो खिजमत, शजमत दिन चार।
चाहे जनम बिगार दे, चाहे जन्म सुधार।।

खिड़नाल गांव के पूर्व में एक तालाब के किनारे तेजाजी की एक दूसरी बहन का मन्दिर है। उसका नाम बागल था। वह सती हो गई थी। इस पर मेला भरता है ।

किशनगढ़, बूंदी, अजमेर आदि प्रदेशों में कई स्थानों पर भी तेजाजी के मन्दिर हैं।

यह जाट जाति के प्राचीन गौरव की एक हल्की-सी झांकी है। जुझार तेजा महापुरुष थे। महापुरुषों में सभी का साझा होता है और सभी जातियों में महापुरुषों की पूजा होती है।

राजस्थान की वीर भूमि पर जाटों ने जो सुख उपभोग किया था, आज उतना ही उनके लिए दुःख है। उनकी वर्तमान अवस्था को देखकर लोगों को यह ख्याल नहीं होता कि एक समय राजस्थान उनके अधिकार में नही रहा होगा, साम्राज्य


जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-630


के रूप में नहीं तो स्वतंत्र और जनतंत्र के रूप में तो वे उसके अधिकारी रहे ही थे। यदि पूर्ण रूप से खोज की जाए तो अनेक शिलालेख और सिक्के जाट-राज्यों के राजस्थान की भूमि में प्राप्त होंगे। पण्डित जयरामजी आयुर्वेदाचार्य ने किशनगढ़ में भी ऐसे निशानत और शिलालेख देखे थे जिनके आधार पर उन्होंने वहां जाट-राज्य होने का वर्णन ‘जाटवीर’ में प्रकाशित कराया था। उन्हें राजस्थान के एक जाट-राज्य का सिक्का मिला था।

परिहार, चौहान, सोलंकी और राठौर आदि के आने के समय तक राजस्थान जाटों के हाथ में रहा। मीणा और गूजरों सें भी पहले उनके इस प्रदेश में अनेक प्रजातंत्री राज्य थे। कहा जा सकता है कि भीलों के बाद राजस्थान की आदि भोक्ता जाति, जाट-जाति ही है। राजस्थान में वे बहुत प्राचीन समय से बस रहे हैं। यही कारण है कि उन्होंने वर्तमान के अनेक कष्ट सहकर भी अपनी मातृभूमि को नहीं छोड़ा है। कर्नल टाड के समय तक उनके पास बापोती थी अर्थात् अपने बाप-दादों से प्राप्त हुई भूमि के वे स्वतंत्र मालिक थे। कोई उनसे उनकी भूमि को छुड़ा नहीं सकता था।

इसमें तनिक भी सन्देह नहीं कि राजस्थान निवासी जाटों का भूतकाल अति उन्नतावस्था में था और वे इस प्रदेश के अधिकांश भाग के लम्बे अर्से तक शासक रहे हैं।

Distribution in Rajasthan

Villages in Barmer district

Setrau (सेतराऊ),

Villages in Jaipur district

Jatwara Jaipur, Kudli Jaipur, Nayagaon Fagi,

Villages in Nagaur district

Badgaon, Dehroo, Ganthia, Gowa Kalan, Kharnal (150), Leeliya, Dholiader, Dhundhiyari, Gunpaliya,

Villages in Jodhpur district

Baori, Jodhpur,

Villages in Baran district

Bhanwargarh,

Villages in Bhilwara district

Balapura Asind,

Villages in Kota district

Jhalara,

Locations in Jaipur city

Barkat Nagar, Sanganer,

Villages in Jaipur district

Dholya Jats live in villages:

Chandama (1), Jatwara Jaipur, Kareda Khurd (1), Kudli (6), Maadi (7), Nayagaon Phagi,

Villages in Tonk district

Babdi Darda, Balapura Tonk, Bhagwanpura (6), Bhairupura (2), Bhurali (1), Borkhandi (1), Dodwadi (1), Gopalpura (11), Kadila (6), Kalyanpura Bonrkhandi (6), Khidki (2), Kumharia (1), Loharwada (22), Mungoda (1), Palai (8), Ramnagar Aliyari (3), Sedari, Shergarh (12), Nohta , Nola ka Jhopda , Thanwala , Sendiyawas , Jankipura,

Villages in Sawai Madhopur district

Jatwara Kalan

Distribution in Madhya Pradesh

Villages in Dhar district

Talwada (Dhar)

Villages in Harda district

Harda Khurd, (Harda)

Villages in Nimach district

Malaheda, Nagpura

Villages in Ratlam district

Villages in Ratlam district with population of this gotra are:

Delanpur 1, Dodiana 1, Hanumanpalia 1, Mundari 2,

See also

  • Tejaji - Folk-deity from this gotra

References

  1. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Parishisht-I, s.n. ध-36
  2. O.S.Tugania:Jat Samuday ke Pramukh Adhar Bindu,p.46,s.n. 1351
  3. O.S.Tugania:Jat Samuday ke Pramukh Adhar Bindu,p.46,s.n. 1351
  4. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Parishisht-I, s.n. ध-58
  5. O.S.Tugania:Jat Samuday ke Pramukh Adhar Bindu,p.46,s.n. 1326
  6. जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृ.684
  7. Dr Pema Ram:‎Rajasthan Ke Jaton Ka Itihas, p.19
  8. Mahendra Singh Arya et al.: Ādhunik Jat Itihas, p.258
  9. Mahendra Singh Arya et al.: Ādhunik Jat Itihas, p.258
  10. Dr Naval Viyogi: Nagas – The Ancient Rulers of India, p. 158
  11. डॉ गोपीनाथ शर्मा: 'राजस्थान के इतिहास के स्त्रोत', 1983, पृ.68
  12. Mansukh Ranwa, Kshatriya Shiromani Veer Tejaji, 2001, p.13
  13. राजस्थान के जाटों का इतिहास, 2010, पृ.19
  14. Mansukh Ranwa: Kshatriya Shiromani Veer Tejaji, 2001, p.13

Further reading


Back to Gotras