Hanumangarh

From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search
Map of Hanumangarh district
Map of Hanumangarh district

Hanumangarh (हनुमानगढ़ ) is a town and district in Rajasthan. Bhatner is the old name of Hanumangarh town. The twin towns consist of Hanumangarh Junction and Hanumangarh Town.

Hanumangarh Junction is one of the biggest and the oldest Railway Junctions in the area while Hanumangarh Town has the glory of old Bhatner Fort built by Bhati Jats.

Founders

It was founded by Bhatti Jats. It is believed that in the 3rd century, Rao Bhatti established the towns of Bathinda and Bhatner in Lakhi Jungle. Rao Bhatti did his best to habilitate people from outside in this region. Later on there arose several conflicts between Bhattis, Brars and Rajputs for domination and ultimately the Brars succeeded in capturing the area of present Bhatinda District.[1]

Tahsils in Hanumangarh district

Bhatner Fort Hanumangarh

Jat gotras in District

Jat Villages in District

Villages in Hanumangarh tahsil

1 Arw, 1 Awsm, 1 Bpm, 1 Bpsm, 1 C, 1 Cs, 1 Dbl-A, 1 Dbl-B, 1 Jrk, 1 Kkw, 1 Knj (Rural), 1 Kwd, 1 Kwm, 1 Lgw, 1 Lk, 1 M, 1 Mod, 1 Mw, 1 Mwm, 1 Nwn, 1 R, 1 Rp, 1 Snm, 1 Stb, 1 Std, 1 Stg (Rural), 1 Zwd, 2 Am, 2 Arw, 2 Awsm, 2 C, 2 Dbl, 2 Hlm, 2 Hmh, 2 Jrk, 2 Kkw, 2 Knj, 2 Kwm, 2 Lk, 2 M, 2 Mod-A, 2 Mod-B, 2 Mw, 2 Mwm-A, 2 Mwm-B, 2 Nwn (Rural), 2 Pbn, 2 R, 2 Rrw, 2 Snm (Rural), 2 Ssw, 2 Std, 2 Stg, 3 Arw, 3 Awsm-A, 3 Awsm-B, 3 Bpm, 3 Bpsm, 3 Dbl, 3 Hlm, 3 Kkw-A; 3 Kkw-B; 3 Knj (Rural), 3 Kwm, 3 Lk, 3 Mod, 3 Mw, 3 Mwm, 3 Pbn, 3 Rrw-A, 3 Rrw-B, 3 Snm, 3 Std, 3 STG, 4 Arw, 4 Arw-A, 4 Awsm 4 Hlm, 4 Hlm-A, 4 Kkw, 4 Lk, 4 Mod, 4 Mw, 4 Mwm-A, 4 Mwm-B 4 Pbn, 4 Rrw, 4 Snm, 4 Ssw, 4 Stg, 5 Arw-A, 5 Arw-B, 5 Awsm, 5 Hmh, 5 Jrk, 5 Kkw, 5 Knj, 5 Lk, 5 Llw, 5 Md, 5 Mw, 5 Mwm-A (Mainawali), 5 Mwm-B, 5 Rp 5 Ssw (Jhambar), 6 Hmh, 6 Kkw, 6 Llw, 6 Md-A, 6 Md-B, 6 Mod, 6 Mwm-A, 6 Mwm-B, 6 Rp, 6 Snm, 6 Ssw, 6 Stg, 7 Hmh, 7 Jrk, 7 Llw, 7 Md, 7 Mod, 7 Mwm, 7 Ndr-A, 7 Ndr-B, 7 Rp-A, 7 Rp-B, 7 Rpc, 7 Snm, 7 Ssw, 7 Stg, 8 Hmh, 8 Jrk, 8 Ksp, 8 Llw, 8 Md, 8 Mod, 8 Mwm, 8 Ndr, 8 Rp-Cad(Rahit), 8 Rp-Cad(Sahit), 8 Ssw, 8 Stg-B, 9 Hmh, 9 Jrk, 9 Llw, 9 Md, 9 Mod, 9 Mwm, 9 Mzw, 9 Ndr, 9 Rp, 9 Ssw, 9 Stg, 1 Jdw, 1 Uts, 10 Hmh, 10 Ksp, 10 Llw, 10 Md-B, 10 Md-C, 10 Mod, 10 Mwm, 10 Mzw, 10 Ndr, 10 Rp-A, 10 Rp-B, 10 Ssw-A, 10 Ssw-B, 10 Stg, 11 Hmh, 11 Jrk, 11 Ksp, 11 Llw, 11 Md, 11 Mmk, 11 Ndr, 11 Rp, 12 Hmh, 12 Jrk, 12 Llw, 12 Md, 12 Ndr-A, 12 Ndr-B, 12 Rp, 12 Stg, 13 Hmh (Rural), 13 Ksp-A, 13 Ksp-B, 13 Llw, 13 Md, 13 Mmk, 13 Ndr, 13 Rp, 13 Stg, 14 Ag, 14 Hmh (Rural), 14 Jrk-A, 14 Jrk-B, 14 Ksp, 14 Llw, 14 Mwm, 14 Ndr-Cad, 14 Ndr-Cad (Rahit), 14 Ssw, 14 Stg, 15 Ag, 15 Hmh (Rural), 15 Llw-A, 15 Llw-B, 15 Md, 15 Ndr-A, 15 Ndr-B, 15 Rp, 15 Ssw-A, 15 Ssw-B, 15 Stg-A, 15 Stg-B, 16 Ag, 16 Hmh (Rural), 16 Jrk, 16 Ksp, 16 Llw-A, 16 Md, 16 Ndr, 16 Ssw, 16 Stg, 17 Ag, 17 Hmh (Rural), 17 Ksp, 17 Ndr, 17 Stg, 18 Ag, 18 Hmh (Rural), 18 Ndr, 18 Ssw, 18 Stg, 19 Ag, 19 Hmh, 19 Ksp (Kishanpura), 19 Ndr, 19 Ssw, 19 Stg, 2 Jdw, 20 Ag, 20 Hmh, 20 Ksp, 20 Ndr-A, 20 Ndr-B, 20 Ssw, 20 Stg, 21 Ag, 21 Hmh-A, 21 Hmh-B, 21 Ksp, 21 Ndr, 22 Hmh, 22 Ksp, 22 Ndr, 22 Ssw, 23 Hmh, 23 Ksp, 23 Ndr, 23 Ssw, 24 Ksp, 24 Ndr, 24 Ssw, 25 Ksp, 25 Ndr-A, 25 Ndr-B, 25 Ssw, 26 Ndr-A, 26 Ndr-B, 26 Ssw, 27 Ndr, 28 Ndr, 28 Ssw, 29 Ndr, 29 Ssw, 3 Jdw, 3 Jrk, 3 Umw-A, 3 Umw-B, 3 Uts, 30 Ndr, 30 Ssw, 31 Ndr, 31 Ssw (Fatehgarh), 32 Ndr, 32 Ssw, 33 Ssw, 34 Ssw, 35 Ndr, 35 Ssw, 36 Ssw, 37 Ngc, 37 Ssw, 38 Ngc, 39 Ngc, 39 Ssw, 4 Jdw, 4 Jrk, 4 Uts, 40 Ngc, 40 Ssw, 41 Ngc, 41 Ssw, 42 Ngc, 42 Ssw, 43 Ngc, 43 Ssw, 44 Ngc, 44 Ssw, 45 Ngc, 45 Ssw, 46 Ngc, 47 Ngc, 48 Ngc (Rural), 49 Ngc (Rural), 5 Jdw, 5 Uts, 50 Ngc (Rural), 51 Ngc (Rural), 55/56 Rd, 6 Jdw, 6 Jrk, 6 Uts, 7 Dlp,, 7 Jdw, 7 Uts, 8 Dlp, 9 Dlp, 10 Dlp, 10 Jdw, 10 Jrk, 10 Mmk, 11 Dlp, 11 Jdw, 12 Jdw, 12 Mmk, 13 Jdw, 13 Jrk, 14 Jdw, 14 Mmk, 15 Jdw, 15 Jrk, 16 Llw-B, 17 Mmk, 18 Llw-A, 18 Llw-B, 18 Mmk, 19 Jrk, 19 Llw, 19 Mmk, 20 Llw, 20 Mmk, 21 Llw, 21 Mmk, 22 Llw-A, 22 Llw-B, 22 Mjd, 22 Mmk, 23 Llw, 23 Mjd, 23 Mmk, 24 Llw-A, 24 Llw-B, 24 Mmk, 25 Llw, 25 Mmk, 26 Llw, 28 Llw, 29 Llw, 29 Mmk, 30 Llw, 30 Mmk, 31 Llw, 31 Mmk, 32 Llw, 32 Mmk, 33 Mmk, Ratnadesar Dudhli Hanumangarh (M),

Population and People

Hanumangarh District is dominated by Jat population and hence the political and social scenario. Since 1952, it was only once that a non-jat MLA was elected otherwise every time a Jat candidate represented the constituency in the State Assembly.

Here is the list of MLA's since 1952 :

1952 Ram Chandra Chaudhary

1957 Sheopat Singh Godara

1958 Ram Chandra Chaudhary

1962 Sheopat Singh Godara

1964 Kumbha Ram Arya

1967 Brij Prakash Goyal

1972 Ram Chandra Chaudhary

1977 Sheopat Singh Godara

1980 Atma Ram

1985 Sheopat Singh Godara

1990 Vinod Kumar

1993 Dr. Ram Pratap

1998 Dr. Ram Pratap

2003 Vinod Kumar

2008 Vinod Kumar

History

According to Ram Sarup Joon[2] Sidhu Brar belonged to the Bhati gotra. According to their history, their ancestors, having been ousted from Ghazni, had come to India in Yudhishthiri Samvat 3008. The leader was either Bhattrak, the founder of Bhati gotra, or his father. Bhatinda and Bhatner (Bhatnair) were named after him.

James Tod[3] writes that The warriors assembled under Visaladeva Chauhan against the Islam invader included the ruler of Bhatner. - Then came the Nuzzur from Bhatner, See Annals of Jaisalmer.

Description by James Tod

James Tod writes about Bootas in Annals of Jaisalmer. Beeji Rao had succeeded as Bhatti Chief in S. 870 (A.D. 814). He commenced his reign with the teeka-dour against his old enemies, the Barahas, whom be defeated and plundered. In S. 892, he had a son by the Boota queen, who was called Deoraj. The Barahas and Langahas once more united to attack the Bhatti prince ; but they were defeated and put to flight. Finding that they could not succeed by open warfare, they had recourse to treachery. Having, under pretence of terminating this long feud, invited young Deoraj to marry the daughter of the Baraha chief, the Bhattis attended, when Beeji Rai and eight hundred of his kin and clan were massacred. Deoraj escaped to the house of the Purohit (of the Barahas, it is presumed), whither he was pursued. There being no hope of escape, the Brahmin threw the Brahminical thread round the neck of the young prince, and in order to convince his pursuers that they were deceived as to the object of their search, he sat down to eat with him from the same dish. Tanot was invested and taken, and nearly every soul in it put to the sword, so that the very name of Bhatti was for a while extinct. [4]

Deoraj remained for a long time concealed in the territory of the Barahas ; but at length he ventured to Boota, his maternal abode, where he had the happiness to find his mother, who had escaped the massacre at Tanot. She was rejoiced to behold her son's face, and " waved the salt over his head," then threw it into the water, exclaiming, " thus may your enemies melt away !" Soon tired of a life of dependence, Deoraj asked for a single village, which was promised ; but the kin of the Boota chief alarmed him, and he recalled it, and limited his grant to such a quantity of land as he could encompass by the thongs cut from a single buffalo's hide : and this, too, in the depth of the desert. For this expedient he was indebted to the architect Kekeya, who had constructed the castle of Bhatner. [5]


This deception practised by the Bhatti chief to obtain land on which to erect a fortress is not unknown in other parts of India, and in more remote regions. Bhatner owes its name to this expedient, from the division (bhatna) of the hide.[6]

Deoraj immediately commenced erecting a place of strength, which he called after himself Deogarh, or Deorawal, on Monday, the 5th of the month Mah (sudi) the Pookh Nikhitra, S. 909 (853 AD). [7]

जाटों का तैमूर से युद्ध

दलीप सिंह अहलावत[8] ने लिखा है कि मध्यएशिया में जाटों को परास्त करके तैमूर ने अपनी राजधानी समरकन्द में स्थापित की। उसने अपनी विशाल सेना से तुर्किस्तान, फारस, अफगानिस्तान आदि देशों को जीतकर भारत पर आक्रमण करने का निश्चय किया जो उस समय बड़ी अव्यवस्थित दशा में था। दिल्ली सल्तनत पर तुगलक वंश का अन्तिम बादशाह महमूद तुगलक था जो कि एक निर्बल शासक था। भारत में फैली हुई अराजकता को दबाने में वह असफल था। इस दशा से लाभ उठाते हुए तैमूर ने भारत पर आक्रमण कर दिया।

तैमूर ने सबसे पहले अपने पौत्र पीर मुहम्मद को सेना के अग्रभाग का सेनापति बनाकर भेजा। उसने सिन्ध को पार कर कच्छ को जीत लिया। उसने आगे बढ़कर मुलतान, दिपालपुर और पाकपटन को जीत लिया। इसके बाद वह सतलुज नदी तक पहुंच गया जहां वह अपने दादा के आने की प्रतीक्षा करने लगा। तैमूर ने 92000 घुड़सवारों के साथ 24 सितम्बर 1398 ई० में हिन्दुकुश मे मार्ग से आकर सिन्ध को पार किया। वह पेशावर से मुलतान पहुंचा। वहां से आगे बढ़ने पर खोखर जाटों से इसकी सख्त टक्कर हुई जिनको परास्त करके वह सतलुज नदी पर अपने पौत्र से जा मिला। मुलतान युद्ध में तथा आगे मार्ग में जाटों ने तैमूर का बड़ी वीरता से मुकाबला किया था। अब उसने भटनेर पर आक्रमण कर दिया जहां से उस पर जाटों का आक्रमण होने का डर


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-377


था। भटनेर की स्थिति भटिण्डा से बीकानेर जाने वाले मार्ग पर थी[9]

वाक़ए-राजपूताना, जिल्द 3 में लेखक मुंशी ज्वालासहाय ने लिखा है कि “भटनेर जो अब रियासत बीकानेर का भाग है, पुराने जमाने में जाटों के दूसरे समूह की राजधानी थी। ये जाट ऐसे प्रबल थे कि उत्थान के समय में बादशाहों का मुक़ाबला किया और जब आपत्ति आई, हाथ संभाले। भाटी जाटों की आबादी की वजह से इस इलाके का नाम भटनेर हुआ है। जो लोग मध्यएशिया से भारत पर आक्रमण करते थे, उनके मार्ग में स्थित होने से भटनेर ने इतिहास में प्रसिद्धि प्राप्त की है। तैमूर के आक्रमण का भी मुकाबिला किया।”

तैमूर ने भटनेर को जीत लिया और यहां पर अपने हाकिम चिगात खां को नियुक्त करके आगे को बढ़ा। इस हमले के थोड़े दिन बाद जाटों ने अपने राज्य को वापिस लेने हेतु अपने सरदार वीरसिंह या वैरीसाल के नेतृत्व में मारोट और फूलरा से निकलकर भटनेर पर आक्रमण कर दिया। विजय प्राप्त करके फिर से भटनेर को अपने अधिकार में ले लिया। (जाट इतिहास पृ० 596-597, लेखक ठा० देशराज)।

तैमूर के साथ जाटों ने बड़ी वीरता से युद्ध किए। इसीलिए तो उसने कहा था कि

“जाट एक अत्यन्त मज़बूत जाति है। देखने में वे दैत्य जैसे, चींटी और टिड्डियों की तरह बहुत संख्या वाले और शत्रुओं के लिए सच्ची महामारी हैं।”

शाह तैमूर दस हजार चुनींदा सवारों के साथ जंगलों से भरे मार्गों से होकर टोहाना गांव में पहुंचा वह अपने विजय संस्मरणों में लिखता है कि

टोहाना पहुंचने पर मुझे पता लगा कि यहां के निवासी वज्र देहधारी जाति के हैं और ये जाट कहलाते हैं। ये केवल नाम से मुसलमान हैं, लेकिन डकैती और राहज़नी में इनके मुकाबिले की अन्य कोई जाति नहीं है। ये जाट कबीले सड़कों पर आने-जाने वाले कारवां को लूटते हैं और इन लोगों ने मुसलमान अथवा यात्रियों के हृदय में भय उत्पन्न कर दिया है।”

प्रथम अभियान में तैमूर जाटों को शान्त नहीं कर सका और उसे आगे बढ़कर अधिक सैनिक शक्ति का प्रयोग करना पड़ा। आगे वह लिखता है कि

“वास्तव में हिन्दुस्तान विजय का मेरा उद्देश्य मूर्तिपूजक हिन्दुओं के विरुद्ध धर्मयुद्ध संचालन करने तथा मुहम्मद के आदेश अनुसार इस्लाम धर्म कबूल करवाने का रहा है। अतः यह आवश्यक था कि मैं इन जाटों की हस्ती मिटा दूं।”

तैमूर ने 2000 दैत्याकार जाटों का वध किया। उनकी पत्नी तथा बच्चों को बन्दी बनाया। पशु और धन सम्पत्ति लूटी। उनको दबाकर सन्तोष की श्वास ली। [10]

स्वतन्त्रता सेनानी श्री आशाराम व वीरांगनाओं का आत्मिक अभिनंदन[11]

मातृभूमि के लिए शहीद होने वाले सैनिक की वीरांगनाओं तथा स्वतन्त्रता सेनानियों का जिला कलक्टर श्रीमती मुग्धा सिन्हा ने आत्मिक सम्मान किया

हनुमानगढ , 28 सितम्बर। शहीदे-आजम-भगतसिंह की 100 वीं जयन्ती के उपलक्ष्य में जिला प्रशासन द्वारा एक विशेष पहल के रुप में शुक्रवार को स्वतन्त्रता सेनानियों, शहीद सैनिकों व वीरांगनाओं की समस्याओं पर विचार विमर्श के लिए बैठक का आयोजन किया गया। इस दौरान मातृभूमि के लिए शहीद हाने वाले सैनिक की वीरांगनाओं तथा स्वतन्त्रता सेनानियों का जिला कलक्टर श्रीमती मुग्धा सिन्हा ने आत्मिक सम्मान करते हुए इस विशेष दिन पर जिले की जन भावनाओं का इजहार किया और शहीदों के प्रति कृतज्ञता व्यक्त की।

  • इस दौरान 1991 में ऑपरेशन रायनों में शहीद हुए पक्का सहारणा के हवलदार जसवीर सिंह की वीरांगना श्रीमती नरेन्द्र कौर,
  • मणीपुर में इस वर्ष के आरम्भ में उग्रवादियों के हमले में शहीद हुए पक्कासारणा के हवलदार ओमप्रकाश ज्याणी की वीरांगना श्रीमती रामवती देवी,
  • 2002 में जम्मू कश्मीर में शहीद हुए डबलीराठान के हवलदार चमकौरसिंह की वीरांगना श्रीमती मनदीप कौर,
  • 1998 में जम्मू कश्मीर म ऑपरेशन रक्षक में शहीद हुए भादरा के नायक देशराज चाहर की वीरांगना श्रीमती शकुंतला,
  • कारगिल में शहीद हुए पंडितावाली के हवलदार भूपेन्द्र सिंह की वीरांगना श्रीमती सोमाबालान,
  • 1988 में श्रीलंका में ऑपरेशन पवन में शहीद हुए हवलदार होशियार सिंह की वीरांगना श्रीमती भादो देवी,
  • 1994 में सियाचीन मे ऑपरेशन मेघदूत में शहीद हुए नायक राम कुमार चाहर की वीरांगना श्रीमती कृष्णा,
  • 2001 में त्रिपुरा में आतंकवादी मुठभेड मे शहीद हुए सिकरोडी के सुभाष बुरडक की वीरांगना श्रीमती राजबाला तथा
  • फेफाना के स्वत्रन्ता सेनानी श्री आशाराम

का जिला कलक्टर श्रीमती मुग्धा सिन्हा ने माल्यार्पण कर अभिवादन किया। जिला कलक्टर ने बारी -बारी से सभी वीरांगनाओं व स्वत्रंता सेनानियों के पास स्वयं पहुंचकर उनसे आत्मिक संवाद किया। उन्होंने परिवार की कुशलक्षेम पूछी व समस्याओं के बारे में जानकारी ली। इस दौरान श्री गंगानगर के जिला सैनिक कल्याण अधिकारी कर्नल विजय सिह चौधरी ने वीरांगनाओं व शहीदों के बारे में जिला कलक्टर को जानकारी से अवगत कराया। स्वतत्रंता सेनानी श्री आशाराम के पेंशन सम्बन्धी प्रकरण पर जिला कलकटर ने नवीन नियमों को अध्ययन कर प्रकरण के शीघ्र निस्तारण के निर्देश दिए। उनके बस पास को बनाने के लिए उन्हने रोडवेज के श्री दुष्यंत यादव को प्रारण को बीकानेर के मुख्य प्रबंधक को भिजवाने के निर्देश दिए। जिला कलक्टर बैठक में हनुमानगढ नगरपालिका के अधिशाषी अधिकारी को चौराहों पर मूर्ति, सडक के नामकरण व बस स्टैण्ड बनाने के लम्बित प्रकरणों की 3 दिन में रिपोर्ट देने के निर्देश दिए।

PIN Codes Hanumangarh District

• 15 Kwd 335524 • 23 Ff 335024 • 26 J R K 335802 • 4 Cym 335524 • 4 Dwm 335524 • Ahmedpura 335803 • Ajitpura 335501 • Amarpura Jalukhat 335063 • Amarpura Rathan 335803 • Amarpura Theri 335513 • Amarsinghwala 335802 • Aradhki 335523 • Awali 335512 • Ayalki 335802 • Badbiran 335504 • Bahlolnagar 335801 • Baramsar 335524 • Barwali 335504 • Bashir 335063 • Bhadi 335501 • Bhadra 335501 • Bhadra Bazar 335501 • Bhagatpura 335063 • Bhagwan 335501 • Bhakranwali 335063 • Bhanai 335501 • Bhangarh 335501 • Bharwana 335504 • Bherunsari 335524 • Bhirani 335503 • Bhukarka 335523 • Birkali 335523 • Bisrasar 335524 • Bojhla 335502 • Bolanwali 335063 • Budhwalia 335524 • Chahiyan 335524 • Chahuwali 335524 • Chak 2 Ksp 335526 • Chak 34 Stg 335803 • Chak 4 Ksp 335526 • Chak Sardarpura 335523 • Channibari 335511 • Chohilanwali 335803 • Civil Line Hanumangarh3 335512 • Dabli Rathan 335801 • Dablibaspema 335802 • Dablikalan 335524 • Daidas 335523 • Daniyasar 335524 • Deengarh 335063 • Deeplana 335504 • Dhaba 335803 • Dhandhela 335523 • Dhani Lakhan 335523 • Dhannasar 335524 • Dhansia 335523 • Dhilki 335504 • Dobi 335501 • Dulmana 335803 • Dungarana 335502 • Durjana 335523 • Farlika 335504 • Gadhra 335503 • Gandheli 335523 • Gandhi Bari 335501 • Garhichhani 335511 • Gheu 335502 • Gilwala 335063 • Gorkhana 335523 • Gudia 335523 • Gurusar Modia 335802 • Hanumangarh Jn. Court 335512 • Hanumangarh Jn. Ho 335512 • Hardaswali 335524 • Hardayalpura 335802 • Haripura 335063 • Ind. Area Hanumangarh Jn. 335512 • Jabrasar 335523 • Jandwali 335512 • Jandwali Sikhan 335063 • Jawalasinghwala 335512 • Jhamber 335513 • Jhansal 335511 • Jhedasar 335523 • Jogiwala 335503 • Jorawarpura 335524 • Jorkia 335512 • Kalibanga 335803 • Kamana 335801 • Kamrani 335513 • Kanau 335502 • Kanwani 335524 • Karanisar Sahjipura 335801 • Karanpura 335501 • Kewalwali Dhani 335802 • Khachwana 335504 • Kharakhera 335063 • Kheruwala 335512 • Khinania 335523 • Khoda 335524 • Khotanwali 335802 • Khuiuyan 335523 • Kikarawali 335063 • Kiradabara 335502 • Kishanpura Dikhnada 335513 • Kohlan 335513 • Kulchander 335063 • Kunji 335502 • Lakhuwali Head 335524 • Lalana 335504 • Lalania 335523 • Longewala 335803 • Madhunagar 335524 • Mahela 335524 • Mahrana 335511 • Mainawali 335524 • Makkasar 335512 • Malwani 335523 • Manderpura 335523 • Manuka 335512 • Masani 335526 • Masitanwali 335526 • Meghana 335523 • Meharwala 335526 • Mirzewali Mer 335524 • Mohanmagaria 335524 • Morjand Sikhan 335063 • Moter 335524 • Munda 335526 • Mundriabara 335502 • Munsari 335504 • Nai Abadi Hanumangarh Town 335513 • Naiwala 335063 • Naiyasar 335524 • Nanau 335523 • Narayangarh 335512 • Nathwania 335504 • Naulakhi 335523 • Naurangdesar 335524 • Nethrana 335504 • Ninan 335511 • Nukera 335063 • Pakka Bhadwan 335802 • Pakka Saharana 335512 • Pakki Dabli 335526 • Pallu 335524 • Panditanwali 335803 • Pandusar 335523 • Peerkamadia 335526 • Phephana 335527 • Pilibanga Village 335803 • Pilibangan 335803 • Poharka 335524 • Prempura 335803 • Purabsar 335524 • Ramgadhia 335511 • Rampura Mala 335063 • Rampura Matoria 335524 • Rampura Ramsara 335526 • Ramsara Narain 335513 • Raslana 335502 • Rathikhara 335526 • Rorawali 335512 • Sabuana 335063 • Sagra 335503 • Saliwala 335063 • Salochanwala 335803 • Sangaria 335063 • Sangaria Rs 335063 • Sanger 335803 • Santpura 335063 • Satipura 335512 • Shahpini 335063 • Sherekan 335513 • Shivdanpura 335503 • Silwala Kalan 335525 • Silwala Khurd 335526 • Sirangsar 335523 • Surewala/pco 335526 • Surewali 335802 • Talwara Jheel 335525 • Thalarka 335524 • Thirana 335523 • Tibbi 335526 • Tidyasar 335523 • Toparia/pco 335523 • Ujjalwas 335504 • Utradabas 335501 • Vidyapeeth 335063

Notable persons

  • Dr. Ravishankar Kaswan - Resident Doctor(Surgery) Medical & Health, Date of Birth : 7-August-1983, Permanent Address : Sector no 5 ,Nohar,Hanumangarh, Present Address : Room no 177 RD hostel, sms medical college, jaipur, Resident Phone Number : 0141-2609923, Mobile Number : 9414636192, Email Address : rkaswan7737@gmail.com
  • Ram Vilas Mirdha - RAS (Retd), Gali No. 5 Nai Abadi, Hanumangarh.[12]

People’s Gallery

External links

References

  1. B.B. Lal and S.P. Gupta. www.punjabrevenue.nic.in
  2. History of the Jats/Chapter XI,p.190
  3. James Tod: Annals and Antiquities of Rajasthan, Volume II,Annals of Haravati,p.414-416
  4. James Tod: Annals and Antiquities of Rajasthan, Volume II, Annals of Jaisalmer, p.211
  5. James Tod: Annals and Antiquities of Rajasthan, Volume II, Annals of Jaisalmer, p.211
  6. James Tod: Annals and Antiquities of Rajasthan, Volume II, Annals of Jaisalmer, p.211, fn.2
  7. James Tod: Annals and Antiquities of Rajasthan, Volume II, Annals of Jaisalmer, p.212
  8. जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठ.377-378
  9. सहायक पुस्तक - मध्यकालीन भारत का संक्षिप्त इतिहास पृ० 161-163 लेखक ईश्वरीप्रसाद; हिन्दुस्तान का इतिहास उर्दू पृ० 186-189; जाटों का उत्कर्ष पृ० 115 लेखक योगेन्द्रपाल शास्त्री; जाट इतिहास पृ० 596-598, लेखक ठा० देशराज।
  10. ई० तथा डा० तुजुके तैमूरी भाग 3, पृ० 429 और शरफद्दीन अली यज्दी कृत जफ़रनामा, भाग 3, पृ० 492-493)।
  11. http://www.khabarexpress.com/9/28/2007/heartly-Honoured-to-freedom-fighter-news_4281.html
  12. Kisan Chhatrawas Bikaner Smarika 1994, p.130, sn 308
  13. Jat Gatha, September-2015,p. 15
  14. Jat Gatha, 3/2016, p.33

Back to Places