Lord Krishna

From Jatland Wiki
(Redirected from Krishna)
Jump to: navigation, search
Lord Krishna
Krishna and Radha

Lord Krishna (कृष्ण) belonged to royal family based at Mathura, and was born as the eighth child to Devaki and Vasudeva in the Yaduvanshi Jat clan. Based on scriptural details and astrological calculations, the date of Krishna's birth, known as Janmashtami,[1] is 18 July 3228 BCE. and Krishna's Death is 18th February 3102 BCE (the start of Kali Yuga)[2]

Birth of Krishna

Genealogy of Chandravansha
Genealogy of Chandravansha

Mathura was the capital of the closely linked clans of Vrishni, Andhaka, and Bhoja. They are generally known as Yadavas after their eponymous ancestor Yadu, and sometimes as Surasenas after another famed ancestor. Vasudeva and Devaki belonged to these clans. The king Kamsa, Devaki's brother, had ascended the throne by imprisoning his father, King Ugrasena. Afraid of a prophecy that predicted his death at the hands of Devaki's eighth son, he had the couple cast into prison where he planned to kill all of Devaki's children at birth. After killing the first six children, and Devaki's apparent miscarriage of the seventh, Krishna took birth. As his life was in danger he was smuggled out to be raised by his foster parents Yasoda and Nanda in Gokula, Mahavana. Two of his siblings also survived, Balarama (Devaki's seventh child, transferred to the womb of Rohini, Vasudeva's first wife) and Subhadra (daughter of Vasudeva and Devaki born much later than Balarama and Krishna).

Vrishni clan

Krishna belonged to Vrishni clan, which is a Jat clan. Vrishni (वृषणि) was a descendent of Yadu in Yadav vansh. Vrishni was born as eldest son of Maharaja Madhu in 19th generation of Yadu, the son of Yayati. He is a Chandravanshi Jat kshatriya. Vrishnis were the descendant of Vrishni. Krishna belonged to this branch of the Chandravanshi of Vrishnis from whom he got the name Varshneya. [3] The people of Dwaraka were known as the Vrishnis.

Genealogy of Krishna

Ram Sarup Joon[4] provides the Genealogy of Taka-Krishna:

(Recognised by the Tartars as their ancestors)
	     Tak 
____________________________
|			|
Harjanda		Wansat
|			|
Bhajan		      Balam
|			|
Dorativa		Kapotram
||			| 
			|
Sura		      Anu
|                                                
Salni			Andhak
			Dhantry
|			|
Bhoj		     VirDatt
|			|
Rawak			Punvarsu
|			|
Devsidha		Kok
|			|
Vasdev		      Ugarsen
| 			|
Shri Krishna Devki and Kans

In Rajatarangini

Rajatarangini[5] tells us that the history of Kashmir then presents a blank till the reign of Gonanda I at the beginning of the Kaliyuga. This powerful king was contemporary with Yudhisthira and a friend of his enemy Jarasandha. Gonanda I, who ruled in Kashmira, where the Ganges flows cheering the mount Kailasa on her way, was invited by Jarasindhu to help him in his invasion of Mathura, the capital of Krishna. With a large army they invested that city and encamped on the banks of the Yamuna to the great terror of their foes. On one occasion the army of Krishna was defeated in a battle, but Balarama not only retrieved the confusion of his army, but made a vigorous attack on the allied force. For a long time victory remained doubtful, till at last Gonanda I, pierced with wounds fell dead on the field, and the army of Krishna was victorious. On his death Damodara I ascended the throne of Kashmira, and though possessed of this beautiful kingdom, he was far from being happy ; his proud heart brooded on his father's death. While in this state, he had that the Gandharas had invited Krishna and his relatives to the nuptials of some of the daughters of


[p.6]: their tribe, to be celebrated near the banks of the Indus, and in which the bridegrooms , were to be chosen by the brides. With great preparations were being made for the nuptials, the king moved with a large army of infantry and horse, and interrupted the, festival. In the battle that ensued, many of the Gandharas were killed, but the king, pierced to the heart with Krishna's chakra perished.

Migration of Vrishnis to Dwaraka

Jarasandha, father-in-law of Kans, invaded Mathura with a vast army; and though Krishna destroyed his army of demons, another asura, Kalayavana by name, surrounded Mathura with another army of thirty million monstrous fiends. Then Krishna thought it well to depart to Dwaraka. [6]

Wives of Krishna

Lord Kṛṣṇa's eight principal queens are 1.Rukmiṇī, 2.Satyabhāmā, 3.Jāmbavatī, 4. Nāgnajitī, 5. Kālindī, 6. Lakṣmaṇā, 7. Mitravindā and 8. Bhadrā. Having mentioned all their sons, Śukadeva Gosvāmī now refers to the sons of the other 16,100 queens by mentioning the two principal sons of Queen Rohiṇī, the foremost of the remaining queens.[7]

1. Rukmini - Rukmani was the senior of these wives ; The first son of Queen Rukmiṇī was Pradyumna, and also born of her were Cārudeṣṇa, Sudeṣṇa and the powerful Cārudeha, along with Sucāru, Cārugupta, Bhadracāru, Cārucandra, Vicāru and Cāru, the tenth.[8]

2.Satyabhama - The ten sons of Satyabhāmā were Bhānu, Subhānu, Svarbhānu, Prabhānu, Bhānumān, Candrabhānu, Bṛhadbhānu, Atibhānu (the eighth), Śrībhānu and Pratibhānu.[9]


3.Jambavati - Jambuvati was the name of the seventh wife, whose eldest son was called Samba. Jambavati was the mother of Samba, Sumitra, Purujit, Shatajit, Sahasrajit, Vijaya, Chitraketu, Vasuman, Dravida and Kratu.[10]. Samba obtained possession of the tracts on both sides the Indus, and founded the Sind-Samma dynasty, from which the Jharejas are descended. There is every probability that Sambus of Samba-nagari (Minagara), the opponeot of Alexander, was a descendant of Samba, son of Krishna. The Jhareja chroniclea, in ignorance of the origin of this titular appellation, say that their " ancestors came from Sham, or Syria." [11]

4. Nāgnajitī - The sons of Nāgnajitī were Vīra, Candra, Aśvasena, Citragu, Vegavān, Vṛṣa, Āma, Śańku, Vasu and the opulent Kunti.[12]


5. Kalindi - Śruta, Kavi, Vṛṣa, Vīra, Subāhu, Bhadra, Śānti, Darśa and Pūrṇamāsa were sons of Kālindī. Her youngest son was Somaka.[13]

6. Lakṣmaṇā - Mādrā is also known as Lakṣmaṇā. Mādrā's sons were Praghoṣa, Gātravān, Siḿha, Bala, Prabala, Ūrdhaga, Mahāśakti, Saha, Oja and Aparājita.[14]

7.Mitrabinda - Mitravindā's sons were Vṛka, Harṣa, Anila, Gṛdhra, Vardhana, Unnāda, Mahāḿsa, Pāvana, Vahni and Kṣudhi.[15]

8. Bhadrā - Sańgrāmajit, Bṛhatsena, Śūra, Praharaṇa, Arijit, Jaya and Subhadra were the sons of Bhadrā, together with Vāma, Āyur and Satyaka.[16]


9. Rohini - Dīptimān, Tāmratapta and others were the sons of Lord Kṛṣṇa and Rohiṇī.[17]


Krishna married Rukmini, daughter of King Bhishmaka of Vidarbha. He also married Mitrabinda, Satyabhama, Jambavati and others, winning each by great deeds; and another time, when a demon named Bhaumasura carried off and concealed many thousand princesses, Krishna pursued and slew him, and received these also into his house. Each of his wives had ten sons and one daughter. While Krishna was ruling at Dwaraka, Duryodhana was oppressing the Pandavas at Hastinapur and sought to compass their death. Krishna and Balarama went to give them help, and it was while Krishna was the Pandavas’ guest that he married Kalindi, daughter of Sun.[18]

Out of 8 Ranis of Krishna three were Nagavanshi. [19]

End of Vrishnis

After the death of Duryodhana in Mahabharata, Krishna received the curse of his mother. She bewailed the death of her son and of friend and foe; then recognizing Hari as the Prime Mover, the One behind All, she cursed him for letting such things befall. This was her curse: that after 36 years Krishna should perish alone miserably and his people, the Vrishnis, should be destroyed. These things in due time came to pass. A madness seized the people of Dwaraka so that they fell upon one another and were slain, together with all sons and grandsons of Krishna. Only the women and Krishna and Balarama remained alive.

Death of Balarama: Then Balarama went to the forest, and Krishna first sent a messenger to the Kuru city, to place the city and women of Dwaraka under the Pandavas protection, and then took leave of his father; afterward he himself sought the forest, where Balarama awaited him. Krishna discovered his brother seated under a mighty tree on the edge of the forest; he sat like a yogi, and behold, there came forth from his mouth a mighty snake, the thousand headed Naga, Ananta, and glided away to ocean. Ocean himself and the sacred rivers and many divine Nagas came to meet him.

Death of Krishna : Thus Krishna beheld his brother depart from human world, and he wandered alone in forest. He thought of Gandhari’s curse and all that had befallen, and he knew that the time had come for his own departure. He restrained his senses in yoga and laid himself down. Then there came a hunter that way and thought him a deer, and loosed a shaft and pierced his foot; but when he came close the hunter beheld a man wrapped in yellow robes practicing yoga. Thinking himself an offender, he touched his feet. Then Krishna rose and gave him comfort, and himself ascended to Heaven.[20]

The place where Jara hunter pierced Krishna's foot and Krishna ascended to Heaven is known as Bhalaka Tirtha situated in Prabhas Patan (Verawal).

Arjuna went to Dwaraka and brought away the women and children of the Vrishnis, and set out for Kurukshetra. On the way a band of warriors attacked the cavalcade and carried away a great part of women. Arjuna established the others with the remnants of Krishna’s descendants in new cities; but Rukmini and many others of Krishna’s wives became Sati, burning themselves on pyre, and others became ascetics and nuns. The waters of ocean advanced and overwhelmed Dwaraka so that no trace remained.[21]

Krishna was ancestor of Jats

The evidences from history and literature in support of the fact that Krishna was Jat are as under:-

  • When Jarasandha invaded Mathura with a vast army; and another asura, Kalayavan by name, surrounded Mathura with army of thirty million monstrous fiends, Then Krishna departed to Dwaraka along with Andhakas, Vrishnis, Bhojas etc clans. Mahabharata mentions in chapter 25, shloka 26 that Lord Krishna founded a federation ‘Gana-sangha’ of Andhak and Vrishni clans. This federation was known as ‘Gyati-sangh’. Each member of this ‘Gyati-sangh’ was known as ‘Gyat’. Krishna was chief of this sangha. Over a period of time ‘Gyati’ became ‘Gyat’ and it changed to Jat. The use of sutra - Jat jhat sanghate in sanskrit by Panini's grammar seems to have started from here. Thus Krishna is the real ancestor and founder of Jats. [22] [23]
  • According to Pandit Lekhraj descendants of Yadu are known as Yadavas after their eponymous ancestor Yadu. Yadu changes to Yadav which changes to Jadav and Jat as per Sanskrit grammar. [24]
  • Nazmul Gani in Karnam-e-Rajput writes that Jat community is right in having proud of being descended from Krishna.[25]
  • The Arabian traveller Al-Biruni has mentioned that Jats have descended from Lord Krishna. [26][27] The Muslim contries have a notion that Jats are the ancestors of Yadavas.
  • Mr Neshfield, a renowned scholar of Indology, writes that The word Jat is nothing more than the modern Hindi pronunciation of Yadu or Jadu, the tribe in which Krishna was born.
  • UN Sharma has mentioned the chronology of Krishna in which starting from Sindhupal in 64th generation of Krishna to Bharatpur ruler Maharaja Brijendra Singh (1929-1948) all the rulers are mentioned as Yaduvanshi Jats. [32]
  • Thakur Deshraj has mentioned in "Jat Itihas" that Bharatpur rulers were Chandravanshi, which was a branch Vrishni clan Yaduvanshis in which was born Krishna. [33]
तीन जाति जादव की, अंधक, विस्‍नी, भोज ।
तीन भांति तेई भये, तै फिर तिनही षोज ।।
पूर्व जनम ते जादव विस्‍नी ।
तेई प्रकटे आइ सिनसिनी ।।

Translation:-The Yadavas had three clans of Andhaka, Vrishni and Bhoja out of which was originated the Sinsinwar clan.

  • Raja Laxman Singh writes in Memoirs of Bulandshahar that it is a verified fact that the Jats of Bharatpur are descendants of Yadavas in which was born Krishna. The states of Bharatpur, Karauli, Jaisalmer, Mysore and Sirmaur link there ancestry with Krishna.[37]
  • Prakash Chandra Chandawat has conducted Ph.D. research work on Maharaja Suraj Mal of Bharatpur in which he writes that The Bharatpur Jat rulers are from the Yadavavansha descended from Krishna. The rulers of Bharatpur and Karauli have a common ancestor Sindpal, in the twelfth generation of Sindpal were Tahanpal, whose youngest son is the ancestor of Karauli rulers and third son Madanpal is ancestor of Bharatpur rulers. After the puranic records of Yaduvanshi Krishna, the historical records are found from the time of Dharmpal, who wasin 77th generation of Krishna. The ancestor of Bharatpur rulers was Madanpal and his descendant was Balchand in the 19th generation.[38]
  • Jat historian Bhaleram Beniwal has written after recent researches with evidences in his book "Jāton kā Ādikālīn Itihās" that Krishna was by all evidences noting other than Jat. He has mentioned the above referred evidences in addition to the following authors which mention Krishna as Jats. [39] These are Yogendrapal Shastri[40], Motilal Gupta [41] Walter Hamilton [42].

Nagavanshi Krishna

The Mahabharata Book 2: SECTION IX Sabha Parva Kisari Mohan Ganguli, tr.1883-1896 mentions names of following naga kings who attended the Sabha of Yudhishthira:

Vasuki and Takshaka, and the Naga called Airavata; Krishna and Lohita; Padma and Chitra endued with great energy; the Nagas called Kamvala and Aswatara; and Dhritarashtra and Valahaka; Matimat and Kundadhara and Karkotaka and Dhananjaya; Panimat and the mighty Kundaka, O lord of the Earth; and Prahlada and Mushikada, and Janamejaya,--all having auspicious marks and mandalas and extended hoods;--these and many other snakes. These have been described from shloka 8 to 11 as under:

वासुकिस तक्षकश चैव नागश चैरावतस तदा
कृष्णशलॊहितश चैव पद्मश चित्रश च वीर्यवान ।।8।।
कम्बलाश्वतरौ नागौ धृतराष्ट्र बलाहकौ
मणिमान कुण्डलधरः कर्कॊटक धनंजयौ ।।9।।
परह्लाथॊ मूषिकादश च तदैव जनमेजयः
पताकिनॊ मण्डलिनः फणवन्तश च सर्वशः ।।10।।
एते चान्ये च बहवः सर्पास तस्यां युधिष्ठिर
उपासते महात्मानं वरुणं विगतक्लमाः ।।11।।

Notable persons of Krishna Gotra

  • M.L. Krishna - RAS, Home District : Jhunjhunu

कृष्ण वंशावली

मत्स्य पुराण

ऋषियों! (अब) आप लोग राजर्षि क्रोष्टु के उस उत्तम बल-पौरूष से सम्पन्न वंश का वर्णन सुनिये, जिस वंश में वृष्णिवंशावतंस भगवान विष्णु (श्रीकृष्ण) अवतीर्ण हुए थे। क्रोष्टु के पुत्र महारथी वृजिनीवान हुए। वृजिनीवान् के स्वाह (पद्मपुराण में स्वाति) नामक महाबली पुत्र उत्पन्न हुआ। राजन्! वक्ताओं में श्रेष्ठ रूषंगु [43]स्वाह के पुत्ररूप में पैदा हुए। रूषंगु ने संतान की इच्छा से सौम्य स्वभाव वाले पुत्र की कामना की। तब उनके सत्कर्मों से समन्वित एवं चित्र-विचित्र रथ से युक्त चित्ररथ नामक पुत्र हुआ। चित्ररथ के एक वीर पुत्र उत्पन्न हुआ जो शशबिन्दु नाम से विख्यात था। वह आगे चलकर चक्रवर्ती सम्राट हुआ। वह यज्ञों में प्रचुर दक्षिणा देने वाला था। पूर्वकाल में इस शशबिन्दु के विषय में वंशानुक्रमणिकारूप यह श्लोक गाया जाता रहा है कि शशबिन्दु के सौ पुत्र हुए। उनमें भी प्रत्येक के सौ-सौ पुत्र हुए। वे सभी प्रचुर धन-सम्पत्ति एवं तेज से परिपूर्ण, सौन्दर्यशाली एवं बुद्धिमान् थे। उन पुत्रों के नाम के अग्रभाग में 'पृथु' शब्द से संयुक्त छ: महाबली पुत्र हुए। उनके पूरे नाम इस प्रकार हैं- पृथुश्रवा, पृथुयशा, पृथुधर्मा, पृथुंजय, पृथुकीर्ति और पृथुमनां ये शशबिन्दु के वंश में उत्पन्न हुए राजा थे। पुराणों के ज्ञाता विद्वान् लोग इनमें सबसे ज्येष्ठ पृथुश्रवा की विशेष प्रशंसा करते हैं। उत्तम यज्ञों का अनुष्ठान करने वाले पृथुश्रवाका पुत्र सुयज्ञ हुआ। सुयज्ञ का पुत्र उशना हुआ, जो सर्वश्रेष्ठ धर्मात्मा था। उसने इस पृथ्वी की रक्षा करते हुए सौ अश्वमेध-यज्ञों का अनुष्ठान किया था। उशना का पुत्र तितिक्षु* हुआ जो शत्रुओं को संतप्त कर देने वाला था। राजर्षियों में सर्वश्रेष्ठ मरूत्त तितिक्षु के पुत्र हुए। मरूत्त का पुत्र वीरवर कम्बलवर्हिष था। कम्बलबर्हिष का पुत्र विद्वान् रूक्मकवच हुआ। रूक्मकवच ने अपने अनेकों प्रकार के बाणों के प्रहार से धनुर्धारी एवं कवच से सुसज्जित शत्रुओं को मारकर इस पृथ्वी को प्राप्त किया था। शत्रुवीरों का संहार करने वाले राजा रूक्मकवचने एक बार बड़े (भारी) अश्वमेध यज्ञ में ब्राह्मणों को प्रचुर दक्षिणा प्रदान की थी ॥14-27॥

इन (राजा रूक्मकवच)- के रूक्मेषु, पृथुरूक्म, ज्यामघ, परिघ और हरिनामक पाँच पुत्र हुए, जो महान पराक्रमी एवं श्रेष्ठ धनुर्धर थे। पिता रूक्मकवच ने इनमें से परिघ और हरि- इन दोनों को विदेह देश के राज-पद पर नियुक्त कर दिया। रूक्मेषु प्रधान राजा हुआ और पृथुरूक्म उसका आश्रित बन गया। उन लोगों ने ज्यामघ को राज्य से निकल दिया। वहाँ एकत्र ब्राह्मण द्वारा समझाये- बुझाये जाने पर वह प्रशान्त-चित्त होकर वानप्रस्थीरूप से आश्रमों में स्थिररूप से रहने लगा। कुछ दिनों के पश्चात वह (एक ब्राह्मण की शिक्षा से) ध्वजायुक्त रथ पर सवार हो हाथ में धनुष धारण कर दूसरे देश की ओर चल पड़ा। वह केवल जीविकोपार्जन की कामना से अकेले ही नर्मदातट पर जा पहुँचा। वहाँ दूसरों द्वारा उपभुक्त- ऋक्षवान् गिरि (शतपुरा पर्वत-श्रेणी)- पर जाकर निश्चितरूप से निवास करने लगा। ज्यामघकी सती-साध्वी पत्नी शैव्या प्रौढ़ा हो गयी थीं (उसके गर्भ से) कोई पुत्र न उत्पन्न हुआ। इस प्रकार यद्यपि राजा ज्यामघ पुत्रहीन अवस्था में ही जीवनयापन कर रहे थे, तथापि उन्होंने दूसरी पत्नी नहीं स्वीकार की। एक बार किसी युद्ध में राजा ज्यामघ की विजय हुईं वहाँ उन्हें (विवाहार्थ) एक कन्या प्राप्त हुई। (पर) उसे लाकर पत्नी को देते हुए राजा ने उससे भयपूर्वक कहा- 'शुचिस्मिते! यह (मेरी स्त्री नहीं,) तुम्हारी स्नुषा (पुत्रबधू) है।' इस प्रकार कहे जाने पर उसने राजा से पूछा- 'यह किसकी स्नुषा है?'॥28-34॥

शैव्या

प्राय: अठारह पुराणों तथा उपपुराणों में एवं भागवतादि की टीकाओं में 'ज्यामघ' की पत्नी शैव्या ही कही गयी है। कुछ मत्स्यपुराण की प्रतियों में 'चैत्रा' नाम भी आया है, परंतु यह अनुकृति में भ्रान्तिका ही परिणाम है। तब राजा ने कहा-(प्रिये) तुम्हारे गर्भ से जो पुत्र उत्पन्न होगा, उसी की यह पत्नी होगी। (यह आश्चर्य देख-सुनकर वह कन्या तप करने लगी।) तत्पश्चात उस कन्या की उग्र तपस्या के परिणामस्वरूप वृद्धा प्राय: बूढ़ी होने पर भी शैव्याने (गर्भ धारण किया और) विदर्भ नामक एक पुत्र को जन्म दिया। उस विद्वान् विदर्भ ने स्त्रुषाभूता उस राजकुमारी के गर्भ से क्रथ, कैशिक तथा तीसरे परम धर्मात्मा लोमपाद नामक पुत्रों को उत्पन्न किया। ये सभी पुत्र शूरवीर एवं युद्धकुशल थे। इनमें लोमपाद से मनु नामक पुत्र उत्पन्न हुआ तथा मनु का पुत्र ज्ञाति हुआ। कैशिक का पुत्र चिदि हुआ, उससे उत्पन्न हुए नरेश चैद्य नाम से प्रख्यात हुए। विदर्भ-पुत्र क्रथ के कुन्ति नामक पुत्र पैदा हुआ। कुन्ति से धृष्ट नामक पुत्र उत्पन्न हुआ जो परम प्रतापी एवं रणविशारद था। धृष्टका पुत्र निर्वृति हुआ जो धर्मात्मा एवं शत्रु-वीरों का संहारक था। निर्वृति के एक ही पुत्र था जो विदूरथ नाम से प्रसिद्ध था। विदूरथ का पुत्र दशार्ह* और दशार्ह का पुत्र व्योम बतलाया जाता है। दशार्हवंशी व्योम से पैदा हुए पुत्र को जीमूत नाम से कहा जाता है ॥35-40॥

तत्पश्चात राजा देवावृध का जन्म हुआ, जो बन्धुओं के साथ सुदृढ़ मैत्री के प्रवर्धक थे। परंतु राजा (देवावृध) को कोई पुत्र न थां उन्होंने 'मुझे सम्पूर्ण सद्गुणों से सम्पन्न पुत्र पैदा हो 'ऐसी अभिलाषा से युक्त हो अत्यन्त घोर तप किया। अन्त में उन्होंने मन्त्र को संयुक्त कर पर्णाशा [44] नदी के जल का स्पर्श किया। इस प्रकार स्पर्श करने के कारण पर्णाशा नदी राजा का प्रिय करने का विचार करने लगी। वह श्रेष्ठ नदी उस राजा के कल्याण की चिन्ता से व्याकुल हो उठी। अन्त में वह इस निश्चय पर पहुँची कि मैं ऐसी किसी दूसरी स्त्री को नहीं देख पा रही हूँ, जिसके गर्भ से इस प्रकार का (राजा की अभिलाषा के अनुसार) पुत्र पैदा हो सके, इसलिये आज मैं स्वयं ही हज़ारों प्रकार का रूप धारण करूँगी। तत्पश्चात् पर्णाशा ने परम सुन्दर शरीर धारण करके कुमारी रूप में प्रकट होकर राजा को सूचित किया। तब महान व्रतशाली राजा ने उसे (पत्नीरूप से) स्वीकार कर लिया तदुपरान्त नदियों में श्रेष्ठ पर्णाशा ने राजा देवावृध के संयोग से नवें महीने में सम्पूर्ण सद्गुणों से सम्पन्न बभ्रु नामक पुत्र को जन्म दिया। पुराणों के ज्ञाता विद्वान्लोग वंशानुकीर्तनप्रसंग में महात्मा देवावृध के गुणों का कीर्तन करते हुए ऐसी गाथा गाते हैं- उद्गार प्रकट करते हैं- 'इन (बभ्रु)- के विषय में हमलोग जैसा (दूरसे) सुन रहे थे, उसी प्रकार (इन्हें) निकट आकर भी देख रहे हैं। बभ्रु तो सभी मनुष्यों में श्रेष्ठ हैं और देवावृध (साक्षात्) देवताओं के समान हैं। राजन्! बभ्रु और देवावृध के प्रभाव से इनके छिहत्तर हज़ार पूर्वज अमरत्व को प्राप्त हो गयें राजा बभ्रु यज्ञानुष्ठानी, दानशील, शूरवीर, ब्राह्मणभक्त, सुदृढ़व्रती, सौन्दर्यशाली, महान तेजस्वी तथा विख्यात बल-पराक्रम से सम्पन्न थे। तदनन्तर (बभ्रु के संयोग से) कंक की कन्या ने कुकुर, भजमान, शशि और कम्बलबर्हिष नामक चार पुत्रों को जन्म दिया। कुकुर का पुत्र वृष्णि,* वृष्णि का पुत्र धृति, उसका पुत्र कपोतरोमा, उसका पुत्र तैत्तिरि, उसका पुत्र सर्प, उसका पुत्र विद्वान् नल था। नल का पुत्र दरदुन्दुभि* नाम से कहा जाता था ॥51-63॥ नरश्रेष्ठ दरदुन्दुभि पुत्रप्राप्ति के लिये अश्वमेध-यज्ञ का अनुष्ठान कर रहे थे उस विशाल यज्ञ में पुनर्वसु नामक पुत्र प्रादुर्भूत हुआ। पुनर्वसु अतिरात्र के मध्य में सभा के बीच प्रकट हुआ था, इसलिये वह विदान्, शुभाशुभ कर्मों का ज्ञाता, यज्ञपरायण और दानी था।

वसुदेव-देवकी

बुद्धिमानों में श्रेष्ठ राजन्! पुनर्वसु के आहुक नामक पुत्र और आहुकी नाम की कन्या- ये जुड़वीं संतान पैदा हुई। इनमें आहुक अजेय और लोकप्रसिद्ध था। उन आहुक के प्रति विद्वान् लोग इन श्लोकों को गाया गरते हैं- 'राजा आहुक के पास दस हज़ार ऐसे रथ रहते थे, जिनमें सुदृढ़ उपासंग (कूबर) एवं अनुकर्ष (धूरे) लगे रहते थे, जिन पर ध्वजाएँ फहराती रहती थीं, जो कवच से सुसज्जित रहते थे तथा जिनसे मेघ की घरघराहट के सदृश शब्द निकलते थे। उस भोजवंश में ऐसा कोई राजा नहीं पैदा हुआ जो असत्यवादी, निस्तेज, यज्ञविमुख, सहस्त्रों की दक्षिणा देने में असमर्थ, अपवित्र और मूर्ख हो।' राजा आहुक से भरण-पोषण की वृत्ति पाने वाले लोग ऐसा कहा करते थे। आहुक ने अपनी बहन आहुकी को अवन्ती-नरेश को प्रदान किया था। आहुक के संयोग से काश्य की कन्या ने देवक और उग्रसेन नामक दो पुत्रों को जन्म दिया। वे दोनों देव-पुत्रों के सदृश कान्तिमान एवं पराक्रमी चार शूरवीर पुत्र उत्पन्न हुए। उनके नाम हैं- देववान्, उपदेव, सुदेव और देवरक्षित। इनके सात बहनें भी थीं, जिन्हें देवक ने वसुदेव को समर्पित किया था। उनके नाम हैं- देवकी, श्रुतदेवी, मित्रदेवी, यशोधरा, श्रीदेवी, सत्यदेवी और सातवीं सुतापी ॥64-73॥ कंस

उग्रसेन के नौ पुत्र थे, उनमें कंस ज्येष्ठ था। उनके नाम हैं- न्यग्रोध, सुनामा, कंक, शंकु अजभू, राष्ट्रपाल, युद्धमुष्टि और सुमुष्टिद। उनके कंसा, कंसवती, सतन्तू, राष्ट्रपाली और कंका नाम की पाँच बहनें थीं, जो परम सुन्दरी थीं। अपनी संतानों सहित उग्रसेन कुकुर-वंश में उत्पन्न हुए कहे जाते हैं भजमान का पुत्र महारथी विदूरथ और शूरवीर राजाधिदेव विदूरथ का पुत्र हुआ। राजाधिदेव के शोणाश्व और श्वेतवाहन नामक दो पुत्र हुए, जो देवों के सदृश कान्तिमान और नियम एवं व्रत के पालन में तत्पर रहने वाले थे। शोणाश्व के शमी, देवशर्मा, निकुन्त, शक्र और शत्रुजित नामक पाँच शूरवीर एवं युद्धनिपुण पुत्र हुए। शमी का पुत्र प्रतिक्षत्र, प्रतिक्षत्र का पुत्र प्रतिक्षत्र, उसका पुत्र भोज और उसका पुत्र हृदीक हुआ। हृदीक के दस अनुपम पराक्रमी पुत्र उत्पन्न हुए, उनमें कृतवर्मा ज्येष्ठ और शतधन्वा मँझला था। शेष के नाम (इस प्रकार) हैं- देवार्ह, नाभ, धिषण, महाबल, अजात, वनजात, कनीयक और करम्भक। देवार्ह के कम्बलबर्हिष नामक विद्वान् पुत्र हुआ। उसका पुत्र असोमजा और असोमजा का पुत्र तमोजा हुआ। इसके बाद सुदंष्ट, सुनाभ और कृष्ण नाम के तीन राजा और हुए जो परम पराक्रमी और उत्तम कीर्तिवाले थे। इनके कोई संतान नहीं हुई। ये सभी अन्धकवंशी माने गये हैं। जो मनुष्य ॥74-85॥

महाराजा श्रीकृष्ण जी जाट थे (प्रमाण)

Quoted from : Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter III (Pages 187-190)

1.: महाराजा ययाति के पांच पुत्रों में से ज्येष्ठ पुत्र यदु से चन्द्रवंश की महत्ता और अस्तित्व में विशेष शोभावृद्धि हुई। यदु के नाम पर ही यादव वंश प्रचलित हुआ जो कि जाटवंश है।

पं० लेखराम जी के अनुसार यदु से यादव, यादव से जादव, जादव से जाट शब्द संस्कृत व्याकरण के अनुसार बनता है (क्षत्रियों का इतिहास, लेखक श्री परमेश शर्मा तथा राजपालसिंह शास्त्री)। इसी यादव वंश में महाराज श्रीकृष्ण जी उत्पन्न हुए। (देखो यदु की वंशावली)

2.: कर्नल टॉड ने भी इस बात को माना है कि जाट यादव हैं। मि० नेशफील्ड और विल्सन साहब ने भी टॉड की राय को दाद दी है। मि० नेशफील्ड जो भारतीय जातीय शास्त्र के एक अद्वितीय ज्ञाता माने जाते हैं, लिखते हैं - “The word Jat is nothing more than the modern Hindi pronunciation of Yadu or Jadu, the tribe in which Krishna was born.”

अर्थात् जाट यदु या जदु के वर्तमान हिन्दी उच्चारण के सिवा कोई दूसरा शब्द नहीं है। यह वही जाति है जिसमें श्रीकृष्ण पैदा हुए थे।

3.: महाराज श्रीकृष्ण जी वृष्णि गोत्र के थे जो कि जाट गोत्र है। यदुवंश के शाखागोत्र - 1. वृष्णि 2. अन्धक 3. हाला 4. शिवस्कन्दे या सौकन्दे 5. डागुर या डीगराणा 6. खिरवार-[[खरे 7. बलहारा 8. सारन 9. सिनसिनवाल 10. छोंकर 11. सोगरवार 12. हागा 13. घनिहार 14. भोज। ये सब जाट गोत्र हैं जो आज भी विद्यामान हैं।

4.: श्रीकृष्ण जी व्रज से वहां के अन्धक, वृष्णि व भोज आदि जाटगोत्रों को साथ लेकर द्वारिका गये। वहां पहुंचकर कृष्णजी ने यदुवंश के दो कुलों - अन्धक और वृष्णि - का एक राजनैतिक संघ स्थापित किया, जिसका नाम “ज्ञाति संघ” कहलाया। ज्ञाति संघ के प्रत्येक सदस्य को ज्ञात नाम से बोला जाता है। इस संघ के सेनापति स्वयं श्रीकृष्ण जी थे। ज्ञाति व ज्ञात जात अथवा जाट नाम प्रसिद्ध हुआ। ज्ञाति संघ का वर्णन, महाभारत कृष्ण व नारद उवाच में आता है (देखो जाटवीरों की उत्पत्ति)।

5.: 29 दिसम्बर 1031 ई० (पहली मुहर्रम 423 हिजरी) को पूरी होने वाली ‘तहकीकए हिन्द’ नामक पुस्तक में प्रसिद्ध अरबी यात्री अबुल रिहा मुहम्मदबिन अहमद अलबुरुनी ने भगवान् श्रीकृष्ण जी को जाट जाति का पूर्वज लिखा है। वह इन परिवारों यो यादव लिखता है। मुस्लिम राष्ट्रों में यह धारणा परम्परागत चलती रही कि जाट यादव संस्कृति के वंशज और युद्धवीर हैं।

6.: ‘कारनामा राजपूत’ के लेखक नजमुल गनी ने लिखा है कि इस जाट कौम को भगवान् श्रीकृष्ण से पैदा होने का गुमान (गौरव) सच (ठीक) ही होता है।

7.: कर्नल जेम्स टॉड ने राजस्थान के इतिहास में लिखा है कि जमाना महाभारत में जो चक्र यादव कृष्ण का था, उससे जाट सवार ही मस्सलह (शस्त्रधारी) रहते थे। (अर्थात् - महाभारत काल में श्रीकृष्ण जी के नेतृत्व में शस्त्रधारी जाट सैनिक थे।)

8.: बुलन्दशहर मेमायर्स के लेखक राजा लक्ष्मणसिंह ने लिखा है कि “यह प्रमाणित सत्य है कि भरतपुर के जाट श्री कृष्णचन्द्र से गौरवान्वित यादवों के वंशज हैं। वर्तमान हिजहाईनेस भरतपुर, जैसलमेर, करौली, मैसूर और सिरमौर रियासतें अपने इतिहासों में श्रीकृष्ण जी को सम्बन्धित करती हैं”

9.: लगभग सभी प्रारम्भिक जाटशासकों के वंश का वर्णन उल्लेख करते हुए समकालीन कवि उन्हें यदुवंशी बतलाते हैं - कवि सूदन, सुजान चरित्र पृ० 4, कवि सोमनाथ, सुजान विलास (पा० लि०) पृ० 133 व कवि उदयराम सुजान सँवत् में लिखते हैं -

तीन जाति जादवन की, अंधक विस्नी, भोज ।
तीन भाँति तेई भये, ते फिर तिनही षेज ॥
पूर्व जन्म ते जादव विस्नी, तेई प्रकटे आइ सिनसिनी ॥

10.: एक बार भारतेन्द्र महाराजा जवाहरसिंह को एक सलाहकार ने राय देते हुए कहा कि “महाराज! जयपुर नरेश भगवान् राम की सन्तान हैं जिन्होंने लंका के समुद्र पर पुल बांधा था। इसलिए उस पर चढाई न करिये।” उसके उत्तर में महाराज जवाहरसिंह ने कहा कि “हम भी तो भगवान् श्रीकृष्ण की सन्तान हैं जिन्होंने सात दिन तक गोवर्धन पर्वत को उंगली पर उठाए रखा था।” यह भी सुना है कि शेखावाटी के राजपूतों ने ‘जय गोपीनाथ जी की’ करना इसलिए छोड़ दिया है कि कृष्ण जी तो जाटों का पूर्वज था। वे परस्पर ‘जय रघुनाथ जी की’ करते हैं।

11.: जाटों की परम्परा सिन्धु के पश्चिम क्षेत्र में अपना उद्गम और अपने को यदुवंशी मानते हैं।

12.: पांचवीं शताब्दी का एक अभिलेख जाटों को 36 राजकुलों में होने और उनके यदुवंशी होने के दावे को सुदृढ. करता है।

13.: भरतपुर नरेश श्रीकृष्ण जी के वंशज हैं और वे जाटवंश के प्रसिद्ध क्षत्रिय जाट हैं। “क्षत्रिय वंश” श्री कुंवर रिसालसिंह यादव प्रणीत, ग्रन्थ के पृष्ठ 11, 12, 13 पर कृष्ण जी की वंशावली लिखी है। उसमें श्रीकृष्ण से 89वीं पीढी में भरतपुर नरेश महाराजा बदनसिंह हैं। आपके समेत 13 भरतपुर नरेश हुए, उनमें अन्तिम महाराजा बृजिन्द्रसिंह, श्रीकृष्ण जी से 101 वीं पीढी में हुए। ये सब नरेश जाट हैं। (देखो प्रथम अध्याय, महाराज श्रीकृष्ण जी की वंशावली)।

14.: इसी तरह भरतपुर राज्य का इतिहास, लेखक चौबे राधारमण सिकत्तर ने, पृ० 1-3 पर भरतपुर राज्य के नरेशों को श्रीकृष्ण जी के वंशज और यदुवंशी क्षत्रिय लिखा है।

15.: ‘महाराजा सूरजमल और उनका युग’ पृ० 15 पर लेखक डॉ प्रकाशचन्द्र चान्दावत ने लिखा है कि “भूतपूर्व भरतपुर राज्य के शासक मूलतः श्रीकृष्ण जी के वंशज एवं यादव (यदुवंशी) क्षत्रिय हैं।”

16.: जाट इतिहास, लेखक ठा० देशराज ने पृ० 628 पर लिखा है कि “भरतपुर का राजवंश भी चन्द्रवंशी है किन्तु यह वृष्णि शाखा के यदुवंशी हैं जिसमें कि स्वयं भगवान् श्रीकृष्ण थे।”

17.: जाटों का नवीन इतिहास, परिशिष्ट 2 और 3 पर लेखक यू० एन० शर्मा ने श्रीकृष्ण जी की 64वीं पीढी में सिन्धुपाल से लेकर भरतपुर नरेश महाराजा सवाई बृजेन्द्रसिंह 1929-1948 ई०) तक सबको यदुवंशी लिखा है, जो कि जाट जाति के नरेश हैं। (इस लेखक ने श्रीकृष्ण से सिन्धुपाल तक के नाम नहीं लिखे हैं, जो कि सभी यदुवंशी जाट हैं)।

18.: श्रीकृष्ण जी जाट कुल में पैदा हुए थे। इस बात की प्रामाणिकता को अब से लगभग 950 वर्ष पूर्व विष्णु पुराण के आधार पर अलबुरुनी ने अपनी “भारतयात्रा सम्बन्धी पुस्तक” में स्वीकार किया है1। योगिराज महाराज श्रीकृष्ण जी ने जट या जाट संघ का निर्माण किया था जिसका कि अवशेष चिह्न वर्तमान जाट जाति है।

19.: बिड़ला मन्दिर दिल्ली में महाराजा सूरजमल भरतपुर नरेश का एक विशाल स्मारक (मूर्ति) स्थापित है। उस पर लिखा है कि “आर्य हिन्दू धर्मरक्षक यादववंशी जाटवीर भरतपुर के महाराजा सूरजमल जिनकी वीरवाहिनी जाट सेना ने मुग़लों के लालकिले (आगरा) पर विजय प्राप्त की।” इसी स्मारक के निकट इन्हीं के दूसरे स्मारक के शिलालेख पर लिखा है कि “यादववंशी महाराज सूरजमल भरतपुर जिनकी वीरवाहिनी जाट सेना ने आगरे के प्रसिद्ध शाहजहां के कोट को अधिकार में कर लिया था।”

20.: महाभारत में श्रीकृष्ण जी को कई स्थानों पर वृष्णिवंशी लिखा है जो कि जाटगोत्र (वंश) है -

(क) अश्वत्थामा यह जान गया था कि वृष्णि वीर श्रीकृष्ण और अर्जुन की विजय निश्चित है (महाभारत कर्णपर्व, अध्याय 17, श्लोक 23)।
(ख) युधिष्ठिर ने भीमसेन से कहा - भीम! देखो यह वृष्णि वंश के प्रमुख वीर श्रीकृष्ण ने बड़े जोर से शंख बजाया है (महाभारत द्रोणपर्व, अध्याय 127, श्लोक 21-22)।
(ग) वृष्णिवंशियों में दो ही महारथी युद्ध के लिए विख्यात हैं। एक तो महाबाहु प्रद्युम्न (श्रीकृष्ण के पुत्र) और दूसरा सात्यकि (द्रोणपर्व, अध्याय 156 श्लोक 4)।
(घ) शल्य ने कर्ण से कहा - महाबाहु ! तुम अर्जुन से प्रसन्न रहने वाले वृष्णिवंशी श्रीकृष्ण का भी सामना करो (कर्णपर्व अध्याय 79, श्लोक 48)।
(ङ) वृष्णिवंशी बलराम जी (कृष्ण जी के भाई) ने वहां ब्राह्मणों को बहुत धन का दान किया। इसके बाद वे रुषंगु मुनि के आश्रम पर गये। (शल्यपर्व, अध्याय 39 श्लोक 24)।

इन प्रमाणों से स्पष्ट है कि महाराज श्रीकृष्ण जी जाट थे।

References

  1. Knott, Kim (2000). Hinduism: A Very Short Introduction. Oxford University Press, USA. p. 160. ISBN 0-19-285387-2.
  2. Time of Lord Krishna's Birth
  3. Dr Mahendra Singh Arya, Dharmpal Singh Dudi, Kishan Singh Faujdar & Vijendra Singh Narwar: Adhunik Jat Itihas (The modern history of Jats), Agra 1998
  4. History of the Jats/Chapter II,p. 22-28
  5. Rajatarangini of Kalhana:Kings of Kashmira/Book I,p.5-6
  6. Sister Nivedita & Ananda K.Coomaraswamy: Myths and Legends of the Hindus and Bhuddhists, Kolkata, 2001 ISBN 81-7505-197-3
  7. Bhaktivedanta VedaBase: Śrīmad Bhāgavatam 10.61.18
  8. Bhaktivedanta VedaBase: Śrīmad Bhāgavatam 10.61.8-9
  9. Bhaktivedanta VedaBase: Śrīmad Bhāgavatam 10.61.10-12
  10. Bhaktivedanta VedaBase: Śrīmad Bhāgavatam 10.61.10-12
  11. James Tod:Annals of Jaisalmer, Vol.II, p.195
  12. Bhaktivedanta VedaBase: Śrīmad Bhāgavatam 10.61.13
  13. Bhaktivedanta VedaBase: Śrīmad Bhāgavatam 10.61.14
  14. Bhaktivedanta VedaBase: Śrīmad Bhāgavatam 10.61.15
  15. Bhaktivedanta VedaBase: Śrīmad Bhāgavatam 10.61.16
  16. Bhaktivedanta VedaBase: Śrīmad Bhāgavatam 10.61.17
  17. Bhaktivedanta VedaBase: Śrīmad Bhāgavatam 10.61.18
  18. Sister Nivedita & Ananda K.Coomaraswamy: Myths and Legends of the Hindus and Bhuddhists, Kolkata, 2001 ISBN 81-7505-197-3
  19. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter III,p. 241
  20. Sister Nivedita & Ananda K.Coomaraswamy: Myths and Legends of the Hindus and Bhuddhists, Kolkata, 2001 ISBN 81-7505-197-3
  21. Sister Nivedita & Ananda K.Coomaraswamy: Myths and Legends of the Hindus and Bhuddhists, Kolkata, 2001 ISBN 81-7505-197-3
  22. Mahabharata: Krishna – Narad Uvach
  23. Thakur Deshraj Jat Itihas (Hindi), Maharaja Suraj Mal Smarak Shiksha Sansthan, Delhi, 1934, 2nd edition 1992. Page 106-109
  24. Parmesh Sharma & Rajpal Shastri: Kshatriyon ka Itihas
  25. Nazmul Gani:Kārnām-e-Rājput
  26. Alberuni's India, vol i, p 401
  27. Al-Biruni, India:Translated by Kayamuddin, Published by National Book Trust, India, 1997 page-176
  28. Cf. Pali inscription, no. 1, Tod, op.cit., p621
  29. James Todd: Annals and Antiquities of Rajasthan, 2 Vols., Routledge & Kegan Paul Ltd., London, 1972 (reprint), first published in 1829
  30. Dr S. Jabir Raza:The Jats - Their Role and Contribution to the Socio-Economic Life and Polity of North and North West India, Vol.I, 2004. Page 55, Ed. by Dr Vir Singh , Publisher - M/S Originals (an imprint of low priced publications), A-6, Nimri commercial Centre, Near Ashok Vihar, Phase-IV, Delhi-110052.
  31. Dr. Prakash Chandra Chandawat: Maharaja Suraj Mal aur unka yug, Jaypal Agencies Agra, 1982
  32. UN Sharma :Jaton ka Navin Itihas
  33. Jat History Thakur Deshraj/Chapter IX, Maharaja Suraj Mal Smarak Shiksha Sansthan, Delhi. 1936, Page 628 (in Hindi)
  34. Sudan: Sujan-charitra, page-4
  35. Somnath: Sujanvilas,page 133
  36. Udayram: Sujan samva
  37. Raja Laxman Singh: Memoirs of Bulandshahar
  38. Dr. Prakash Chandra Chandawat: Maharaja Suraj Mal Aur Unka Yug (1745-1763). Jaypal Agencies, Agra. 1982, Page 15 (in Hindi)
  39. Bhaleram Beniwal : "Jāton kā Ādikālīn Itihās" (page 26-30), Jaypal Agencies Agra
  40. Yogendrapal Shastri:Jaton ka utkarsh (page286)
  41. Motilal Gupta: Matsya Pradesh ki Hindi Sahitya ko den (page214)
  42. Walter Hamilton: The east India Gazeteer (Vol. 1, page 233)
  43. भागवत 9।23।31 तथा विष्णु पुराण4।12।2 में 'रूशंगु' एवं पद्म पुराण 1।13।4 में 'कुशंग' पाठ है।
  44. भारत में पर्णाशा नाम की दो नदियाँ हैं ये दोनों राजस्थान की पूर्वी सीमापर स्थित हैं और पारियात्र पर्वत से निकली हैं। (द्रष्टव्य मत्स्य0 12।50 तथा वायुपुराण 38।176)

Back to The Ancient Jats