Maharaja Bhim Singh Rana

From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search
Maharaja Bhim Singh Rana

Maharaja Bhim Singh Rana (महाराजा भीमसिंह राणा) (1717-1756) was the most powerful ruler of princely state Gohad in northwestern Madhya Pradesh, India. Rana Bhim Singh, son of Rana Jaswant Singh (1713 - 1717), Rana of Gohad, received his education from the privately engaged tutors. He succeeded his father on his death in 1717. He occupied Gwalior 1740-1756. He died due to wounds he had received in the Battle of Saloo, at Gwalior Fort, 1756.[1]


According to Cunningham and William Crooke, Bamraulia gotra jats from village Bamrauli (near Agra) in 1505 founded the city Gohad near Gwalior.[2] [3]

Sinhandev was the founder of Gohad state. Later it developed into an important Jat State. The Jat rulers of Gohad were awarded the title of Rana.

The Ranas were zamindars or Landholders of Gohad, then a small village 28 miles north east of the fortress of Gwalior. They belonged to the Jat caste, they were industrious and of a very warlike disposition. [4]

By the exercise of qualities the family brought themselves between the years 1725 and 1740 to the prominent notice of the Peshwa, Bajirao, and amid the lawlessness and disruptions of the times, managed to assume a quasi independence as lords of Gohad under suzerainty of Marathas. The chief, (Bhim Singh Rana), who accomplished this feat died about the middle of the 18th century, and was succeeded by his nephew. He, (Chhatra Singh Rana), being likewise a clear headed man, contrived to enlarge his borders. [5]

When Bhim Singh Rana succeeded as Rana of Gohad on the the death of his father in 1717, he had 4362 soldiers. He posted 100 soldiers on each garhi. His trusted chieftains were 125 out of them main samants were :Rao Balju of Nirpura, Pancham Singh, Jujhar Singh, Kunwar Aniruddh Singh of Chitora, Kunwar Madho Singh of Itayli, Kunwar Guman Singh of Mudaina, Hamir Singh, Aman Singh, Achal Singh and Thakur Das of Karwas, Vikramdutta of Pipara. [6]

Contents

Pachaira War

The ancestor of Bamraulis Jagdeo Singh had come from Agra and stayed at Bhind which was ruled by Aniruddh Singh Bhadauria. There was war between Bamraulias and Bhadauria rulers at place called Pach'hara in which Bhadauria was defeated. This war was fought on bhado sudi 10 friday vikram samvat 1794 (1737 AD). 12000 soldiers of Bhadaurias and 7000 soldiers of Jats took part in this war. Bhim Singh captured 11 elephants, nishans of nagaras, big canons and kept them at Chitora, Karwas, Gohad etc places in his state.[7] In 1739 AD Peshwa accepted the rights of Rana rulers on Gohad. [8][9]

The Ranas kept their capital at Pach'hara for some time and later shifted the capital to Gohad. The brother of Gohad ruler Jagdeo Singh constructed a fort here in samvat 1680 (1623 AD). [10]

After the Pachaira war there was no powerful ruler left on the south of Chambal River who could compete with Raja Bhim Singh.[11]

Alliance with Maharaja Suraj Mal

Maharaja Bhim Singh Chhatri at Gwalior Fort

Maharaja Bhim Singh Rana played an important role in keeping a power balance in Malwa. Delhi Mughal ruler sent Jay Singh of Jaipur as satrap of Malwa in 1729. Malharrao Holkar, Udaji Panwar and Kanthaji Panwar encountered Jay Singh in Mandavgarh fort. Jay Singh succeeded in defeating Marathas with the help of Maharaja Suraj Mal of Bharatpur state. Maharaja Bhim Singh Rana helped Suraj Mal in this mission. This alliance made them the enemies of Marathas.


Even when Maharaja Suraj Mal was so busily engaged in the affairs to his north and east, he did not forget to respond to the frantic call of his tribesmen. Maharaja Bhim Singh Rana had built a fort at Gohad and enlarged his possessions[12] as a result of which Gohad grew into one of three power centres of the Jat rule (The other two being Bharatpur and Patiala). He had occupied the imperial fort of Gwalior when its commandant preferring him to the waiting Marathas capitulated that fort. This ran contrary to the Maratha ambitions and they besieged Gohad (about June 1755). [13] Now the local Jats knocked at the doors of their big brethren, the the Jats of Bharatpur, for help and Bhim Singh sent his emissary Fateh Singh to Suraj Mal. The later thus obliged and despatched with Fateh Singh a force of 500 horse and 2000 foot to Gohad. Encouraged by this support, the Jats initially worsted force of 15000 Marathas. But with the arrival of reinforcements, the Marathas ultimately overpowered the Jats. Those perished in the fighting include 125 Jat horsemen. [14], [15] It is relevant here to take note of an important reference in Marathi despatch. Speaking about the Gohad Jats, it refers at one place, that they lay banking upon the support of Suraj Mal. This shows that as in the case of Jat Rai of Ballamgarh, Suraj Mal all along displayed a patronizing attitude towards the Jat Ranas of Gohad as well. [16] This may account for the grateful Rana [17], [18] as also the Rai often marching in person under the Bharatpur banners. Suraj Mal also displayed similar attitude, among others, towards the Jat chieftains of Bajhor, Kajraura and Karauli [19]as well. Significantly Sudan also makes a casual hint in this direction. [20]

Captures Gwalior fort

Maharaja Bhim Singh Rana increased his powers and was planning to expand his territories. He marched to Malwa in 1736 but came back and targeted the Gwalior Fort. Marathas were also in race to win the Gwalior Fort. The weak and easy-going Mughal satrap Alikhan, looking to the power of Jats, surrendered the fort to Maharaja Bhim Singh Rana. Meanwhile there was a severe fight between Marathas and Jats to win the Gwalior Fort but Jats won and the Gwalior fort came under Jats. Maharaja Bhim Singh Rana occupied the Gwalior fort from 1740-1756.[21]

Chhatri of Maharaja Bhim Singh Rana at Gwalior fort

Death

In 1756 Marathas attacked the Gwalior Fort under the leadership of Mahadji Sheetole, Yammaji Rahalkar and Motiram Bani with a huge army. Maharaja Bhim Singh Rana was wounded and died in war on Chaitra sudi nawami (Ram nawami) in 1756. His queen Roshani became sati. The fort came in occupation of Marathas.[22]

Constructed historical monuments

Maharaja Bhim Singh had constructed a historical monument Bhimtal in 1754 on the Gwalior fort. His successor Maharaja Chhatra Singh Rana constructed a grand Chhatri near Bhimtal in memory of Maharaja Bhim Singh on the Gwalior Fort. Jat Samaj Kalyan Parishad Gwalior organizes a fair on Gwalior fort on Ram Navami every year in honour of Maharaja Bhim Singh Rana.[23]

Assessment by Maratha historian

The Maratha Historian Balwantrao Bhaiya Saheb Sindhia[24], though a historian and ancestor of Madhav Rao Sindhia four generations back appreciated the bravery of Rana Bhim Singh and has written about Bhim Singh Rana in his book “History of Gwalior fort” as under:

“They (Kishwar Ali Khan and his people) decided to surrender the fort to Rana Bhim singh. Accordingly some 300 men of Rana were allowed to enter the fortress by the way of Kabootar Khana. They were soon followed by Rana Bhim Singh himself, who accompanied with soldiers on foot and on horse back and took up a position at the village of Goorganwan.
...The people of Gwalior were well cared and more protected during the Rana’s regime.
One day, as the Rana came out of the fort and took his stand at the village of Saloo merely to take a view of the position, and to give battle, the forces on both sides took the initiative without any word of command from their respective leaders.
The Rana being armless in the midst of the field of battle performed prodigies of valour and receiving wounds retired to Citedal, where he expired and three days after was cremated near the great Tank built by him in accordance with Hindu rites.”[25]

His successor

Rana Bhim Singh had no son. Girdhar Pratap Singh fourth and youngest son of Samant Rao Balju, of Nimrol was dopted by Rana Bhim Singh, and succeeded him on his death, 1756. But he could not rule for long as he expired in 1757. [26]

सुजस प्रबंध में राजा भीम सिंह का वर्णन

सुजस प्रबंध में छठे छंद से 68 वें छंद तक राजा भीम सिंह राणा के युद्धों का विशद वर्णन किया है. इसमें बड़े विस्तार के साथ, अनिरुद्ध या अनुरुद्ध (अटेर का शासक), सिरजा (महादजी सिंधिया) आदि मराठा सरदारों के साथ राजा भीमसिंह राणा के भीषण संग्राम का वर्णन है. कवि राजा भीमसिंह और उनके सैनिकों को सूर्य के प्रकाश के समान और शत्रु सेना को अंधकार के समान बताता है. गोहद राजा भीम सिंह राणा ने अनुरुद्ध (अटेर का शासक) के दल पर जीत प्राप्त की. फलतः संसार में उनका यश असीम होकर स्थापित हुआ. [27] १६ वें छंद में, राजा भीमसिंह राणा के भावसिंह तथा मदन सिंह नामक दो सरदारों के रण कौशल का भी वर्णन किया गया है.

वाजीराव के हाथों से उन्होंने दक्षिण से राज्य छीना था. उनके बल के सामने अनेक राजा भयभीत हुए थे और बड़े बड़े किले वाले शासक हिल गए थे. उन्होंने युद्ध में संघर्ष करके विकट किलों के मालिकों को भी अपने बस में किया था और हिन्दुओं के तिलक के समान गोहद के किले की स्थापना की थी. [28]

गोहद नरेश भीमसिंह ने सिंधु और चम्बल नदी के बीच में एक छत्र राज्य गोहद में किया. महाराजा भीम सिंह राणा अपने तेज के बल पर आगे बढ़ते गए. फ़िर उन्होंने गोपाचल (ग्वालियर दुर्ग) को भी अपने अधिकार में कर लिया. कवि ने भीमसिंह द्वारा ग्वालियर दुर्ग पर अधिकार करने का विशद वर्णन किया है.[29]

कुछ छंदों (छंद 19-31) में , मराठा सरदार ईठल (ईठ्ठल अर्थार्त विठ्ठल शिवदेव) के साथ राजा के युद्ध का वर्णन है इस वर्णन में, कवि ने ईठ्ठल को वर्षा ऋतु के समान कहा है, कहीं दु:शासन के समान और इसका संहार करने वाला भीमसिंह को बताया गया है. कुछ छंदों में, राजा के एक सेनापति फ़तेह सिंह का वर्णन है. राजा भीम सिंह ने कुछ सेना का संहार किया. तब बलसाली सेना को आगे की ओर लगाया. बीच में फतेहसिंह को खड़ा किया और उनकी पीठ पर अर्थात उसकी रक्षा के लिए स्वयम जम गए.[30] सिरजा (महादजी सिंधिया) के दल ने मैदान में दलों को देखा. परिणामस्वरूप तलवारें लड़ गई और विशेष भयंकर युद्ध होने लगा. [31] एक समय ऐसा आया जब जब यदुवंश के योद्धा अति क्रोधित हो गए थे. उनके सेनापति फौजदार फतेहसिंह थे. उन्होंने वागली काट कर घोर युद्ध किया और शत्रु-दल को मैदान से उखाड़ कर धरती पर सुला दिया. इस प्रकार भीमसिंह के सामंत सरदारों ने राजपुत्र की मर्यादा का निर्वहन किया. फलतः महादजी सिंधिया के सैनिकों के सिर मैदान में गिरने लगे. राजा भीम सिंह ने भी तलवार से युद्ध किया. इसका फल यह हुआ कि दक्षिण दिशा से आई सेना मैदान छोड़ गई. वह सेना पाँच कोस पीछे हट गई. [32] गोहद नरेश राजा भीमसिंह ने युद्ध जीत लिया. फतेहसिंह सुरपुर चले गए. [33] युद्ध में पूर्ण विजय पाकर गोहद नरेश राजा भीमसिंह का यदुवंशी दल घर लौट आया. इस विजय ने राजा का यश बहुत बढाया. ने युद्ध जीत लिया. फतेहसिंह सुरपुर चले गए. विजय के बाद राजा गोपाचल (ग्वालियर दुर्ग) आ गए. [34]

ईठ्ठल ने एक बार हारने के बाद कुछ दिन पूरी तरह संभलकर फ़िर से आक्रमण कर दिया. [35] संदेश वाहक ने सूचना दी कि ईठ्ठल ने सेना लेकर तथा अच्छे योद्धा एवं हथियारों के साथ फ़िर मैदान में आया है. [36] फ़िर लड़ाई की ख़बर पाकर राजा के सभी सरदार एकत्रित हुए. उनकी सेनाओं के बम्ब तथा नगाड़े बजने लगे. सबको विश्वास था कि फ़िर तीसरी बार महाभारत होगा. [37] स्वयं महादजी सिंधिया, उसके शूरवीर तथा समस्त सरदार आदि गोपाचल (ग्वालियर) और उसके राजा भीमसिंह की शक्ति को जानते थे. साथ ही इस बार उनकी परीक्षा लेने का इरादा रखते थे. [38]युद्ध भूमि में ऐसा अवसर आया की महादजी सिंधिया के दलों से गोपाचल के दलों की मुठभेड़ होने लगी. तब दक्षिण की मराठा सेनाओं का रंग देखकर राजा भीमसिंह भी मैदान में कूद पड़े. [39] इस प्रकार महाराजा भीमसिंह ने युद्ध में एक बार भी जीत अपने हाथों से बाहर नहीं जाने दी. उन्होंने दुष्ट आक्रमणकारियों के दलों को जीत कर पृथ्वी को अपने अधिकार में कर लिया. उन्होंने दक्षिण से आए मराठा दलों को पीट कर गोपाचल (ग्वालियर) को ले लिया.[40] राजा भीमसिंह के साथ युद्धभूमि में भाग लेने वाले अनेक शूरवीर शहीद हो गए थे, लेकिन राजा ने उनको (शत्रुओं) को हराकर यश कमाया और रण में शहीद शूरवीर स्वर्ग को चले गए. [41]

वसंत ऋतू के चैत माह में राम का अवतार हुआ था. इसीलिए उस दिन को रामनवमी कहा गया है. इस दिन स्वर्ग के द्वार खुले हए थे. इसी दिन गोहद नरेश महाराजा भीमसिंह स्वर्ग सिधार गए थे. [42]

राजा भीमसिंह का बलिदान हो गया. मराठा दल को हनन के बाद राणा भीमसिंह ने ऐसा युद्ध रचा कि सागर के तटों के पार तक उनका यश गया.[43] सभी ने एकसाथ उस सम्पति की रक्षा की और दुःख को सहन करते हुए कमर बाँध कर यह कार्य किया और हरनाथ ने अपने समस्त यौद्धा सरदार और पंचों को बुलाकर बड़े संयम के साथ एक बात कही. अब दक्षिण के समस्त दल क्रोधित होकर हमारे ऊपर आक्रमण करेंगे. अतः हम सब का परम धर्म है कि अपनी मातृ-भूमि को दांतों से पकड़ कर अपने पास रखें. किसी भी स्थिति में शत्रु को उस पर अधिकार न करने दें. [44]

ईठ्ठल के नेतृत्व में दक्षिण के दल सज-धज कर, संगठित होने के बाद, गढ़ गोहद पर आक्रमण के लिए आ गए. उनके आक्रमण से अनेक राजा कांपने लगे. दक्षिण दिशा अर्थार्त मराठा क्षेत्र में यह ख़बर फैली हुई थी कि मध्यदेश में एक राजा ऐसा था, जो वीर एवं शक्ति शाली था. भीमसिंह उसका नाम था. तलवार के बल में उसकी आन थी. उसने सब देशों को जीता और इसमें नीति और मर्यादा का पालन भी किया. ...इस तरह गोहद देश के वीर संग्राम करते हैं. उनके यौद्धा भी मिलकर युद्ध में सामिल होते हैं. अतः उन वीरों के सामने महादजी सिंधिया का बल क्षीण हो जाता है. पराजित सेना निकल कर जाने का मौका तलाश करती है और अंततः दक्षिण की ओर वापिस हो जाती है. गोहद की वीरता का यश देश-देश में फ़ैल जाता है. [45]

गढ़ गोहद सब सिमिट लरि सिरजा कौ बल षोई ।।
राषी सब वम्हरोलियानि सार धार धर सोई ।।59।। [46]

अर्थ- गढ़ गोहद की रक्षा के लिए सब लोग एक होकर लड़े हैं और इस तरह सिंधिया के बल को ख़त्म किया है. इस तरह बमरौली से गोहद आए बमरौलियों ने तलवार की धार से अपनी मान-मर्यादा की शान रखी. ।।59।। [47]

गढ़ गोहद पर ईठल की हार हो जाती है. और इस प्रकार गोहद को जीतने का उसका गर्व ख़त्म हो जाता है. [48] शत्रुदल संघर्ष त्याग कर दक्षिण दिशा की ओर चला गया. वहां पर करबद्ध होकर पेशवा के सामने उपस्थित हुआ और हाथ जोड़कर प्रार्थना की, कि मैंने गोहद की शक्ति को न समझ कर खंग धारण करके उससे लड़ाई लड़ डाली थी, लेकिन बात बनी नहीं. मैंने जब रणभूमि में देखा सिर लुढ़क रहे हैं, शरीर कटे पड़े हैं और राजा को युद्ध में देखा तो समझ लिया कि इसको झुकाना और गोहद पर अधिकार करना सम्भव नहीं है. [49] ईठ्ठल की बातें सुनकर पेशवा के मन में इस बार एक खटक पैदा हो गई. वह सोचने लगा कि मैंने दसों दिशाओं में फैले राजाओं को हरा दिया है, लेकिन मेरी सेना गोहद पर हार गई है.[50]

छंद 63 से 68 तक में कवि राजा भीमसिंह के पचैरा युद्ध का वर्णन करते है. राजा भीमसिंह ने हाथी के कंधे पर बैठकर पचैरा का युद्ध किया था. जदुवंश के उस श्रेष्ठ राजा ने एक शूरवीर की भांति भली प्रकार पचैरा के क्षेत्र में उत्साहपूर्वक युद्ध किया. [51]

यदुवंशियों की सेना आगे सामने की ओर चल रही थी और हरनाथ राजा की दाहिनी ओर का मोर्चा संभाल रहा था. गर्जना करते हुए तोपों के गोले सेना के बीच में गिर रहे थे. राजा के साथ लाल सिंह तथा चामुण्डराय जसे योद्धाओं का भी उल्लेख मिलता है.ये योद्धा शत्रु सेना के बीच घुस जाते थे. इस पर उनके साथ भयंकर युद्ध होने लगता था. इस युद्ध को बालि के साथ हुए युद्ध जैसा कहा जा सकता है. योद्धा लालसिंह कट कर मैदान में गिर गया. उसके साथ जितने शूरवीर थे, उन्होंने भी युद्ध भूमि में अपने शरीरों को समर्पित कर दिया. इन सब के बल पर राजा युद्ध में आया था और विजय प्राप्त की.[52] गोहद नरेश युद्ध भूमि में योद्धाओं को मारकर सुशोभित हुए. उन्होंने उदंड राजाओं को दण्डित करके नीति के तेज की रक्षा की. उनकी वीरता और नीति रक्षण की प्रकृति का यश, समुद्र पार के राजाओं तक भी पहुँच गया था. वे समझ गए थे कि गोहद नरेश दुर्बलों के प्रति सोचते हैं और सब के साथ नीति का पालन करते हैं. उनके सामने जो मैदान में खड़ा होता है उनके साथ संघर्ष करता है और जिस तरह पानी का बुलबुला थोडी देर में ख़त्म हो जाता है, उसी तरह रण भूमि में खड़ा होने वाला शत्रु का दल, थोडी देर में ख़त्म हो जाता है. ऐसे राजा समर भूमि में, शत्रु सेना का सफाया करके, एक बलशाली योद्धा की भांति गोहद लौट आए थे. [53]

References

  1. http://www.4dw.net/royalark/India/dholpur2.htm
  2. Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke jaton ka Itihas (Hindi), Nav sahitya Bhawan, New Delhi, p.14-15
  3. JN Sharma: Jaton ka navin Itihas,p.46
  4. An Historical Sketch of the Native States of India in Subsidiary Alliance with the British government, Elibron Classics,p.93
  5. An Historical Sketch of the Native States of India in Subsidiary Alliance with the British government, Elibron Classics,p.93
  6. Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke Jaton ka Itihas (Hindi), p. 19
  7. Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke Jaton ka Itihas (Hindi), p. 21
  8. Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke Jaton ka Itihas (Hindi), p. 21
  9. K.C.Luwai:Gwalior State Gazetteer, Part I, p. 217
  10. Bachchoo Singh Nauhwar: “Karwas Ki Garhi (Bhind), Jat-Veer Smarika, Gwalior. 1992, p. 48
  11. Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke Jaton ka Itihas (Hindi), p. 24
  12. Memoires des Jats, 4, f.n.]
  13. Hadiqat, 164-165
  14. S.P.D. II, 45, XXIX, 60 XXVII, 118, 113
  15. Hadiqat, 165
  16. S.P.D., II, 45
  17. S.P.D., XXI, 26
  18. William Irvines article, 'The Bangash Nawab of Farrukhabad' (in J.A.S.B.
  19. Hadiqat, 165, 169
  20. G.C.Dwivedi, The Jats, Their role in the Mughal Empire, Ed Dr Vir Singh, Delhi, 2003, p.110-112
  21. Dr Natthan Singh (2004) : Jat-Itihas, Jat Samaj Kalyan Parishad, Gwalior,p.359
  22. Dr Natthan Singh (2004) : Jat-Itihas, Jat Samaj Kalyan Parishad, Gwalior,p.359
  23. Dr Natthan Singh (2004) : Jat-Itihas, Jat Samaj Kalyan Parishad, Gwalior,p.360
  24. Historian Balwantrao Bhaiya Saheb Sindhia,Gwalior ke Qile ka Itihas,Mumbai, 1890
  25. Jat Vir Smarika 2005,p.6
  26. Dr. Ajay Kumar Agnihotri (1985) : Gohad ke jaton ka Itihas (Hindi), Nav sahitya Bhawan, New Delhi,p.25
  27. सुजस प्रबंध:छन्द 16, p. 31
  28. सुजस प्रबंध:छन्द 17, p. 32
  29. सुजस प्रबंध:छन्द 18, p. 33
  30. सुजस प्रबंध:छन्द 30, p. 40
  31. सुजस प्रबंध:छन्द 32, p. 42
  32. सुजस प्रबंध:छन्द 33, p. 45
  33. सुजस प्रबंध:छन्द 34, p. 45
  34. सुजस प्रबंध:छन्द 35, p. 46
  35. सुजस प्रबंध:छन्द 37, p. 47
  36. सुजस प्रबंध:छन्द 39, p. 49
  37. सुजस प्रबंध:छन्द 40, p. 49
  38. सुजस प्रबंध:छन्द 44, p. 51
  39. सुजस प्रबंध:छन्द 45, p. 51
  40. सुजस प्रबंध:छन्द 51, p. 55
  41. सुजस प्रबंध:छन्द 52, p. 55
  42. सुजस प्रबंध:छन्द 53, p. 55
  43. सुजस प्रबंध:छन्द 54, p. 56
  44. सुजस प्रबंध:छन्द 56, p. 57
  45. सुजस प्रबंध:छन्द 58, p. 60
  46. सुजस प्रबंध:छन्द 59, p. 60
  47. सुजस प्रबंध:छन्द 59, p. 60
  48. सुजस प्रबंध:छन्द 60, p. 61
  49. सुजस प्रबंध:छन्द 61, p. 61
  50. सुजस प्रबंध:छन्द 62, p. 62
  51. सुजस प्रबंध:छन्द 64, p. 63
  52. सुजस प्रबंध:छन्द 65, p. 63-67
  53. सुजस प्रबंध:छन्द 68, p. 68-69

See also


Back to The Rulers