Maharaja Bhupinder Singh

From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search
Maharaja Bhupinder Singh of Patiala
Maharaja Bhupinder Singh

Lieutenant-General Maharaja Sir Bhupinder Singh, GCSI, GCIE, GCVO, GBE, |FRGS (b.12 October, 1891, r.-1900 Patiala–23 March 1938, Patiala) was Maharaja of the princely state of Patiala from 1900 to 1938.[1] He is perhaps the most famous Maharaja of Patiala, best known for his extravagance, and for being a cricketer.

He was born at the Moti Bagh Palace in Patiala, and educated at Aitchison College. At age 9, he succeeded as Maharaja of Patiala state upon death of his father, Maharaja Rajinder Singh, on 9 November 1900. A Council of Regency ruled in his name until he took partial powers shortly before his 18th birthday on 1 October 1909, and was invested with full powers by the Viceroy of India, the Gilbert Elliot-Murray-Kynynmound, 4th Earl of Minto, on 3 November 1910.

His services

He served on the General Staff in France, Belgium, Italy and Palestine in the First World War as an Honorary Lieutenant-Colonel, and was promoted Honorary Major-General in 1918 and Honorary Lieutenant-General in 1931. He represented India at the League of Nations in 1925, and was chancellor of the Indian Chamber of Princes for 10 years between 1926 and 1938, also being a representative at the Round Table Conference. He married ten times, and had 88 children by his wives and concubines.

He was well known for the construction of buildings with bold architectural designs in Patiala, including Kali Temple, Patiala, and Chail View Palace in the summer retreat of Kandaghat. [2] He was also known for an exceptional collection of medals, believed to be the world's largest at the time[3] According to legend, Maharaja Bhupinder Singh would be driven in a motorcade of 20 Rolls Royce cars. He also got a unique monorail system built in Patiala known as Patiala State Monorail Trainways.

He was captain of the Indian cricket team that visited England in 1911, and played in 27 first-class cricket matches between 1915 and 1937. For season of 1926/27, he played as member of Marylebone Cricket Club [4]. He donated the Ranji Trophy in honour of Kumar Shri Ranjitsinhji, Jam Sahib of Nawanagar. He was selected as the captain of India on its first Test tour of England in 1932, but dropped out on reasons of health two weeks before departure and the Maharaja of Porbandar took over.

His elder son, Yuvraj of Patiala and younger son Raja Bhalindra Singh played first-class cricket. Yuvraj played in one Test cricket for India, in 1934.

Yuvraj (also known as Yadavendrasingh) became the Maharaja on 23 March 1938. He was to be the last maharaja, agreeing to the incorporation of Patiala into the newly independent India on 5 May 1948, becoming Rajpramukh of the new Indian state of Patiala and East Punjab States Union.

Bhupinder's grandson (son of Yadavindra Singh) Amarinder Singh is a politician in India, and former Chief Minister of Punjab

Titles

1891-1900: Sri Yuvaraja Sahib Bhupinder Singhji

1900-1911: His Highness Farzand-i-Khas-i-Daulat-i-Inglishia, Mansur-i-Zaman, Amir ul-Umara, Maharajadhiraja Raj Rajeshwar, 108 Sri Maharaja-i-Rajgan, Maharaja Bhupinder Singh, Mahendra Bahadur, Yadu Vansha Vatans Bhatti Kul Bushan, Maharaja of Patiala

1911-1914: His Highness Farzand-i-Khas-i-Daulat-i-Inglishia, Mansur-i-Zaman, Amir ul-Umara, Maharajadhiraja Raj Rajeshwar, 108 Sri Maharaja-i-Rajgan, Maharaja Sir Bhupinder Singh, Mahendra Bahadur, Yadu Vansha Vatans Bhatti Kul Bushan, Maharaja of Patiala, GCIE

1914-1918: Lieutenant-Colonel His Highness Farzand-i-Khas-i-Daulat-i-Inglishia, Mansur-i-Zaman, Amir ul-Umara, Maharajadhiraja Raj Rajeshwar, 108 Sri Maharaja-i-Rajgan, Maharaja Sir Bhupinder Singh, Mahendra Bahadur, Yadu Vansha Vatans Bhatti Kul Bushan, Maharaja of Patiala, GCIE

1918-1921: Major-General His Highness Farzand-i-Khas-i-Daulat-i-Inglishia, Mansur-i-Zaman, Amir ul-Umara,Maharajadhiraja Raj Rajeshwar, 108 Sri Maharaja-i-Rajgan, Maharaja Sir Bhupinder Singh, Mahendra Bahadur, Yadu Vansha Vatans Bhatti Kul Bushan, Maharaja of Patiala, GCIE, GBE

1921-1922: Major-General His Highness Farzand-i-Khas-i-Daulat-i-Inglishia, Mansur-i-Zaman, Amir ul-Umara, Maharajadhiraja Raj Rajeshwar, 108 Sri Maharaja-i-Rajgan, Maharaja Sir Bhupinder Singh, Mahendra Bahadur, Yadu Vansha Vatans Bhatti Kul Bushan, Maharaja of Patiala, GCSI, GCIE, GBE

1922-1931: Major-General His Highness Farzand-i-Khas-i-Daulat-i-Inglishia, Mansur-i-Zaman, Amir ul-Umara, Maharajadhiraja Raj Rajeshwar, 108 Sri Maharaja-i-Rajgan, Maharaja Sir Bhupinder Singh, Mahendra Bahadur, Yadu Vansha Vatans Bhatti Kul Bushan, Maharaja of Patiala, GCSI, GCIE, GCVO, GBE

1931-1938: Lieutenant-General His Highness Farzand-i-Khas-i-Daulat-i-Inglishia, Mansur-i-Zaman, Amir ul-Umara,Maharajadhiraja Raj Rajeshwar, 108 Sri Maharaja-i-Rajgan, Maharaja Sir Bhupinder Singh, Mahendra Bahadur, Yadu Vansha Vatans Bhatti Kul Bushan, Maharaja of Patiala, GCSI, GCIE, GCVO, GBE


Honours

Delhi Durbar Gold Medal - 1903

Delhi Durbar Gold Medal - 1911

King George V Coronation Medal - 1911

Knight Grand Commander of the Order of the Indian Empire (GCIE) - 1911

1914 Star

British War Medal - 1918

Victory Medal - 1918

Mentioned in Despatches - 1919

Grand Cross of the Order of the Crown of Italy - 1918

Grand Cordon of the Order of the Nile of Egypt - 1918

Grand Cross of the Order of Leopold of Belgium - 1918

Knight Grand Cross of the Order of the British Empire (GBE) - 1918

Knight Grand Commander of the Order of the Star of India (GCSI) - for war services, New Year Honours 1921[4]

Knight Grand Cross of the Royal Victorian Order (GCVO) - 1922

Grand Cross of the Order of the Crown of Romania - 1922

Grand Cross of the Order of the Redeemer of Greece - 1926

Grand Cross of the Order of Charles III of Spain - 1928

Grand Cross of the Order of the White Lion of Czechoslovakia - 1930

Grand Cross of the Legion d'Honneur of France - 1930

King George V Silver Jubilee Medal - 1935

King George VI Coronation Medal - 1937

Grand Cross of the Order of Saints Maurice and Lazarus of Italy - 1935

Grand Cross of the Order of St Gregory the Great of the Vatican - 1935

Grand Cross of the Order of Dannebrog of Denmark

महाराज भूपेन्द्रसिंह

महाराजा भूपेन्द्र सिंह

महाराज भूपेन्द्रसिंह (12 October, 1891 –23 March 1938) ने एटकिंसन चीफ कॉलेज लाहौर में शिक्षा पाई थी। सन् 1903 में जब कि कारोनेशन दरबार हुआ था, ग्रेण्डरिव्यू दिखलाने के लिए आप स्वयं अपनी फौज को अपने संचालन में ले गए थे। तत्कालीन वायसराय कर्जन के साथ आपकी मुलाकात भी उसी समय हुई थी। सम्राट जार्जपंचम से जबकि वह लाहौर पधारे थे, आपने भेंट की। यह घटना सन् 1905 की है। इसी समय आपने अमृतसर खालसा कॉलिज को एक लाख रुपये का दान इसलिए दिया कि उक्त कॉलिज के विद्यार्थी इस रकम से विदेशों में शिक्षा प्राप्त करें। सन् 1908 ई० में जींद के सेनापति की सुपुत्री के साथ आपका विवाह हुआ और 30 सितम्बर 1909 को जबकि आपकी अवस्था 18 वर्ष की थी, सरकार ने आपको शासनाधिकार प्रदान किए। आप क्रिकेट के खेल के बड़े प्रेमी थे। सन् 1911 ई० में भारतीय क्रिकेट टीम के आप कैप्टन बनकर लन्दन गये थे। पहलवानों की कुश्तियां देखने में आप अच्छी दिलचस्पी रखते थे। प्रसिद्ध पहलवानों को समय-समय पर आपने प्रोत्साहन दिया। जिस समय सम्राट पंचमजार्ज का अभिषेक हुआ तो उसमें आप भी पधारे। देहली के दरबार में भी सम्मिलित हुए। सम्राट् की ओर से इसी दरबार में आपको जी० सी० एस० आई० की उपाधि मिली। इसी दरबार में आपकी परम विदुषी महारानी-साहिबा ने सम्राज्ञी मेरी को अभिनन्दन-पत्र दिया। जिस समय जर्मनी युद्ध छिड़ा तो आप इम्पीरियल युद्ध-कान्फ्रेंस में भारत की ओर से प्रतिनिधि मनोनीत किए गए। इस युद्ध में सारी सेना आपने सरकार के सुपुर्द कर दी। युद्ध के दिनों में आपने पुर्तगाल, इटली, फ्रांस जहां-जहां युद्ध-क्षेत्र थे


जाट इतिहास:ठाकुर देशराज, पृष्ठान्त-436


भ्रमण किया तथा वहां की सरकारों से सम्मानित हुए। आपकी इन महान् सेनाओं के उपहार में सम्राट् की सरकार ने आपको सी० ओ० बी० ई० की उच्च पदवी से विभूषित किया। पहले आपके बुजुर्गों को शाही दरबार में नजर देनी पड़ती थे, किन्तु इन सेवाओं के कारण नजर लेना सदैव के लिए सरकार ने बन्द कर दिया। मेजर जनरल की रेंक का सम्मान भी आपको प्राप्त हुआ। पहले आपके पूर्वजों के लिए 17 तोपों की सलामी थी। आपको 19 तोपों की कर दी गई। गत अफगान-युद्ध में भी आपने ब्रिटिश-सरकार की पूरी सहायता की। पटियाला नगर में आपने गर्ल-स्कूल, लेडी हार्डिंग गर्ल पाठशाला और विक्टोरिया मेमोरियल पूअर-हाउस आदि संस्थाएं स्थापित की थीं। विक्टोरिया मेमोरियल पूअर-हाउस में 8000 रुपये व्यय किए। शहर की सफाई के लिए भी महकमा-सफाई स्थापित कर दिया।

राज्य में 5 निजामतें थीं - करमगढ़, अमरगढ़, अनहदगढ़, महेन्द्रगढ़ और मिजोर। राज-संचालन के लिए चार विभाग थे - अर्थ-विभाग, वैदेशिक विभाग, न्याय विभाग और सेना-विभाग। राज्य की आमदनी मालगुजारी के सिवाय रेलवे, स्टाम्प, एक्साइज-ड्यूटी, इर्रीगेशन वर्क्स आदि से होती थी। पटियाला के प्रधान न्यायालय का नाम सदर कोर्ट था। फांसी के सिवाय दीवानी, फौजदारी के उसे कुल अधिकार प्राप्त थे, फांसी का हुक्म महाराज देते थे। पटियाला में बहुत से जमींदार थे जो भादोड़ कहलाते थे। इन जमींदारों की वार्षिक आय लगभग 70 हजार थी। सामान्य गांवों के जमींदारों को भी राज्य से 90,000 रुपये प्रतिवर्ष दिए जाते थे।

महाराज ने अब तक निम्न भांति संस्थाओं को दान दिया था -

  • मिंटो मेमोरियल फंड 5000 रुपये,
  • विक्टोरिया मेमोरियल हॉल 10,000 रुपये,
  • कांगड़ा रिलीफ फंड 10,000 रुपये,
  • किंग एडवर्ड मेमोरियल 20,000 रुपये,
  • खालसा कालेज अमृतसर एण्डोमेण्ट फंड 60,000 रुपये,
  • लेडी हार्डिंग मेमोरियल 125000 रुपये,
  • लेडी हार्डिंग मेडिकल कालेज 200,000 रुपये,
  • सिख कन्या महाविद्यालय फिरोजपुर 10,000 रुपये,
  • सिख धर्मशाला लन्दन 120,000 रुपये,
  • तिबिया कालेज देहली 25000 रुपये,
  • हिन्दू यूनिवर्सिटी बनारस 500,000 रुपया एकमुश्त और 20,000 रुपया प्रतिवर्ष,
  • युद्ध-सम्बन्धी सहायता 1,50,00000 रुपये और
  • प्रजा से संग्रह करके युद्ध-ऋण में 3,50,000 रुपये।

महाराज का उपाधि सहित नाम इस तरह था - मेजर जनरल सर भूपेन्द्रसिंह महेन्द्र बहादुर G.C.I.E. G.C.S.I. G.C.B.O. महाराजाधिराज। आप कई वर्षों नरेन्द्र-मंडल के चांसलर रहे। पिछली गोलमेज कान्फ्रेंस में भी आप पधारे थे। संघ-शासन में राजाओं के अधिकार दिलाने के लिए आपने कई स्कीमें पेश कीं। इससे चार-पांच वर्ष पहले भी बटलर-कमीशन


जाट इतिहास:ठाकुर देशराज, पृष्ठान्त-437


बिठवाने में आपने पूरी कौशिश की थी। भारत के राजनीतिज्ञों में आपका बहुत ऊंचा स्थान था।

सन् 1927 ई० में कुछ कुचक्री लोगों के परामर्श से आपने जाट से राजपूत होने का नाटक भी किया था। किसी हाथीभाई नामक पंडित ने आपका संस्कार किया। इतने चतुर महाराज ने इस अपमान को न मालूम किस कारण से सम्मान समझा कि उनका एक तरह का शुद्धि-संस्कार अथवा प्रायश्चित कराया गया। कुछ लोग इस जाति-परिवर्तन को रहस्य और कुछ लोग महाराज की भावुकता के नाम से याद करते थे। बहुत संभव है महाराज राजपूत बनके यह समझते होंगे कि मैं जाटों से अलग हो गया, किन्तु जाटों में ऐसा कोई भी आदमी नहीं है जो उन्हें अलग समझता हो और समझें भी कैसे जब कि उन्होंने पटियाला राज्य-स्थापना के लिए तथा महाराज के बुजुर्गों की मान-रक्षा के लिए अपने रक्त की नदियां बहाई थीं। जिन भट्टी राजपूतों से वे मिले थे, उनसे फरीदकोट और पटियाला की रक्षा के लिए न मालूम कितनी बार युद्ध करना पड़ा था। यह तो सिर्फ उनका भ्रम था कि भट्टी जाट, भट्टी राजपूतों में से निकले हैं। इसका विवेचन हम पीछे कर चुके हैं।

References

  1. History of Patiala from Patiala web site [1]
  2. Himachal Pradesh -- Solan web site [2]
  3. Singh J. A medal for collecting medals. The Tribune (Chandigarh) Sunday, February 29, 2004 [3]
  4. Template:LondonGazette

External links


Back to The Rulers