PDA

View Full Version : DIRECTORY of ARYA PEOPLE in the WORLD



ashokpaul
May 9th, 2009, 12:25 AM
Namaste ji,

We are in aprocess to make directory of ARYA PEOPLE(the people who want to propagate vedic value system, followers of RAJA RAM and KRISHAN) of the world. So please feel free to add your name to the post or any arya with contact number. OR u can send me mail or personal message. or send sms to +919254092210 FORMAT may be as follows:

Name Contact NO. Place



Your cooperation will be a step toward propagation of our own value system, humanity, truth, justice and implementation of Law of HUMANITY.

Samarkadian
May 9th, 2009, 12:39 AM
Namaste ji,

We are in aprocess to make directory of ARYA PEOPLE(the people who want to propagate vedic value system, followers of RAJA RAM and KRISHAN) of the world. So please feel free to add your name to the post or any arya with contact number. OR u can send me mail or personal message. or send sms to +919254092210 FORMAT may be as follows:

Name Contact NO. Place



Your cooperation will be a step toward propagation of our own value system, humanity, truth, justice and implementation of Law of HUMANITY.

Would you mind explaining here rather than an email/sms.

What is WE?

ashokpaul
May 9th, 2009, 01:47 AM
Would you mind explaining here rather than an email/sms.

What is WE?

Namaste Kadian Bhai,
We i.e. the arya people of haryana under the banner RASHTRIYA ARYA NIRMATRI SABHA(Vidya Sabha of Arya Samaj)- the association to convert the Human Resources into Human Beings.

We are organising Short Term Courses for the purpose. The concept is to Educate the common man with vedic value system to make them aware about their rights and responsibilities toward society.

Today WE are more than 10000 strong, dedicated youth force in haryana with similar thought towards- how to improve the society which is in the clutches of ignorance, division of caste and creeds, jealosy toward each-other, foeticide, terrorism and much more.

The Answer to these problems is the Right Education.

As per Arya is concerned RAJA RAM of Ayodhya, RAJA Krishan of Dwarika, Vikramaditya, Chanakya, Swami Dayanad, Ram Prasad Bismil, Bhagat Singh and more than 85% of our freedom fighters were ARYAS.

We want the similar thought propagation in the society.

If you appreciate the step lets join the mission and pay to society back through Right Education.

Samarkadian
May 9th, 2009, 02:12 AM
Namaste Kadian Bhai,
We i.e. the arya people of haryana under the banner RASHTRIYA ARYA NIRMATRI SABHA(Vidya Sabha of Arya Samaj)- the association to convert the Human Resources into Human Beings.

We are organising Short Term Courses for the purpose. The concept is to Educate the common man with vedic value system to make them aware about their rights and responsibilities toward society.

Today WE are more than 10000 strong, dedicated youth force in haryana with similar thought towards- how to improve the society which is in the clutches of ignorance, division of caste and creeds, jealosy toward each-other, foeticide, terrorism and much more.

The Answer to these problems is the Right Education.

As per Arya is concerned RAJA RAM of Ayodhya, RAJA Krishan of Dwarika, Vikramaditya, Chanakya, Swami Dayanad, Ram Prasad Bismil, Bhagat Singh and more than 85% of our freedom fighters were ARYAS.

We want the similar thought propagation in the society.

If you appreciate the step lets join the mission and pay to society back through Right Education.

Thanks Ashok Paul Sir for explaining.

Does Vedic values somewhere says that Arya Sabha should train innocent young boys to turn in to Desi-Jehadis with the ''education'' of Arms? Correct me If I'm wrong.


Which document,study said that above mentioned personalities were ARYANS?

What is the meaning of ARYA in Vedic or as you interpreting it?

Thanks!

aryasatyadev
May 9th, 2009, 04:41 AM
Hi,
I Thought I also should joing this rather funny, chat.............. Let's put first thing first............ Not only the name as mentioned above are Arya..... there are many others, so much that you can't name each of them, Whaever you say or think or may call it the influence of western culture, but my dears there are only two kind of people in INDIA, the people living in Tamilnadu, Karnataka, Kerala and Andhra Pradesh are Dravidians and all other are Aryans (Except the tribes which you can find in the jungles of MP, Chattisgarh or Jharkhand)..... so name them if you can.... (Litrally ARYA means a better person)
Secondly, where is the question of making the innocent people Jehadis.... Aryasamaj has never propagated this sort of training, Aryasamaj is not RSS or VHP, so rest assured that Aryasamaj will be turning young people towards Jehad......
Thirdly, I am sorry to say it my dear fellows that over a period of time Aryasamaj has been disintigrated in various factions, and today nobody knows which faction is doing what, so you can join this Nirmatri Sabha (I doubt if it is registered or not) on your own...... and better still the propagators should put the agenda points in open forum........
Pls don't take offences........
Regards to both of you

ashokpaul
May 9th, 2009, 12:40 PM
Thanks Ashok Paul Sir for explaining.

Does Vedic values somewhere says that Arya Sabha should train innocent young boys to turn in to Desi-Jehadis with the ''education'' of Arms? Correct me If I'm wrong.


Which document,study said that above mentioned personalities were ARYANS?

What is the meaning of ARYA in Vedic or as you interpreting it?

Thanks!

Namaste,
To provide education is not ...... Samar bhai! even this word is not in vedic culture my dear! This movement is just to inculcate cultural values in the youth. you are cordially invited to attend the course. Otherwise security ke liye Nuclear bomb bhi America, china, ....bharat ke paas hai. iska matlab ye nahi ke ye jehadi hain. Arms are ornaments of noble persons.

As per the document is concerned, bharat-bhoo ke kan-kan se aawaj aa rahi hai. thodi si feelings rakho purakhe yaad aa hi jayenge. nahi to bharat me birth ke document abhi banane lage hain jab se bhaichara khatam hone laga hai. aadmi ki document se jyada kimat hoti hai. and we are proceeding toward paper-less society(jahan kewal word se kam chale--- PRAN JAYE PAR VACHAAN(WORD) na JAYE).
Baki meaning of Arya is very much clear satyadev arya's post(thanx satyadevji). aap OXFORD DICTIONAARY dekho to bhi meaning mil jayega.

Again you are invited to know roots of CHAKARVRATI SAAAMRAJYA (Global Kingdom) as our ancestors established for the wellbeing of humanity.

ashokpaul
May 9th, 2009, 12:50 PM
Hi,
I am sorry to say it my dear fellows that over a period of time Aryasamaj has been disintigrated in various factions, and today nobody knows which faction is doing what, so you can join this Nirmatri Sabha (I doubt if it is registered or not) on your own...... and better still the propagators should put the agenda points in open forum........
Pls don't take offences........
Regards to both of you

Namaste satyadevji,
thanx for joining the discussion aryaji. You are right as per factions are concerned. but now we want to change the scenario. for this All ARYAS should come forward. Rashtriya Arya Nirmatri sabha is doing its best to bridge the gap.
For more detail give your no., we will personally contact you. Our unity is the only way to save humanity from the clutches of ignorance, casteism, maoism, terrorism, foeticism, jehadism.........and other so-called ....ISMS.
So come forward and play your part for the betterment of humanity.

arvind1069
June 3rd, 2009, 12:50 PM
plz get me in ths list. i am a arya samaj believer

arvind chahal, melbourne , australia, Ph: +61 - 411405720
arvind1069@yahoo.co.in




Namaste ji,

We are in aprocess to make directory of ARYA PEOPLE(the people who want to propagate vedic value system, followers of RAJA RAM and KRISHAN) of the world. So please feel free to add your name to the post or any arya with contact number. OR u can send me mail or personal message. or send sms to +919254092210 FORMAT may be as follows:

Name Contact NO. Place



Your cooperation will be a step toward propagation of our own value system, humanity, truth, justice and implementation of Law of HUMANITY.

ARVINDJANGU
June 3rd, 2009, 11:38 PM
जब बात आर्य समाज की हो रही हैं तो मैं यहाँ चौ.हवा सिंह सांगवान जाट ( पूर्व कमांडेंट ) की क्रन्तिकारी किताब " असली लुटेरे कौन ? " का अध्याय 19 " स्वामी दयानंद के आर्यसमाज से जाटों को क्या लेना - देना था ? " प्रस्तुत करना चाहूँगा .......
19. स्वामी दयानंद के आर्यसमाज से जाटों को क्या लेना - देना था ?
इस अध्याय पर पिछले संस्करण में कुछ लोगो ने रोष जताया हैं | मैं जनता हू की मेरी कौम का आर्य समाज से बड़ा गहरा लगाव रहा हैं और जाट समुदाय स्वामी दयानंद को जाट ही समझते हैं | मेरी किसी जाट या आर्य समाजी की भावनाओ को ठेस पहुचाने की तनिक भी इच्छा नहीं हैं लेकिन वैदिक धर्म व वैदिक संस्कृति की बात तो की जाती हैं परन्तु इस धर्म व संस्कृति का भारतीय सविधान में नाम तक नहीं हैं , न ही आई . पी . सी . - सी आर पी सी या किसी अन्य भारतीय कानून में इनको मान्यता हैं | जब देश के सविधान व कानून में ही मान्यता नहीं तो हम किस बात का फक्र करे | दूसरा आर्य समाज ने हमारी कौम की बात छोड़ कर वर्ण की बात की हैं जिस कारण हमारी कौम गौण हो जाती हैं क्योकि कोई भी आर्य समाजी मंच पर खडा हो कर किसी जाति का नाम नहीं ले सकता तो फिर जाट जाति का नाम कहाँ ? मैं जनता हू मेरे कौम के महापुरुषों ने आर्य समाज के लिए अपना पूरा जीवन लगा दिया और बलिदान दिए जिस में स्वामी स्वतत्रानंद तथा भगत फूल सिंह आदि का बलिदान उलेखनीय हैं | मेरी सबसे बड़ी तड़फ हैं की स्वामी दयानंद जी महाराज के कहने के बावजूद भी आर्य समाज को ' हिन्दू ' शब्द से अलग नहीं किया गया , इस कारण आज यह खंडित व भ्रमित हैं | नतीजन फिर उसी पौराणिक और पाखंडी धर्म की शरण में जा रहा हैं | मेरे इस दर्द के कारण मैं इस निचे लिखे लेख को दोबारा से इस संस्करण में दोहरा रहा हू | यदि इस लेख का कोई सतलोक का रामपाल अपने स्वार्थ में प्रयोग करता हैं तो वह कानूनी अपराधी हैं | जाट आर्य हैं या नहीं कोई बहस का मुद्दा नहीं हैं क्योंकि नस्ल के आधार पर ज़मीनी हकीक़त कह रही हैं की जाट आर्य ही नहीं बल्कि शुद्ध आर्य हैं | इसके लिए किसी भी प्रमाण की आवश्यकता नहीं हैं :-
पं० शंकराचार्य ने 9 वीं सदी के प्रारम्ब में बौद्ध धर्म का विनाश करके हिन्दू ( ब्राह्मण ) धर्म की पुनः स्थापना की थी और भारत के चारों कोनो में हिन्दुओ की चार पीठ स्थापित की | इस ब्राह्मण धर्म की पुनः स्थापना पूरी तरह पौराणिक ब्राह्मणवाद पर ही आधारित थी , लेकिन सुधारो के साथ | जब इन पीठों पर शंकराचार्य मनोनीत करने की बात आई तो उन्होंने चारों शंकराचार्यों का चुनाव दक्षिण भारत के ब्राह्मणों से किया , उनमें से दक्षिण की रामेश्वर पीठ में मध्य भारत से मंडन मिश्र उर्फ़ सुरेशाचार्य को बैठाया बाकी सभी सुदूर दक्षिण भारत से थे | उत्तर में बदरिकाश्रम की पीठ का शंकराचार्य तोटकाचार्य केरल के नमुदरिपाद ब्राह्मण थे लेकिन उन्होंने उत्तरी भारत से अथार्त् ब्राह्मणों की पीठ काशी ( काशी प्राचीन में बौद्ध धर्मियो का शहर था ) से किसी भी ब्राह्मण को इस योग्य नहीं समझा क्योंकि वे उन्हें भ्रष्टाचारी समझते थे | वैसे पं० शंकराचार्य ने धर्म के साथ साथ अर्थशास्त्र को भी नहीं भुलाया क्योंकि उन्होंने दक्षिण भारत में पैदा होनेवाले नारियल को देवी देवताओ की उपासना में भेंट की प्रथा चलाई ताकि दक्षिण के लोगो को आर्थिक तौर पर फायदा हो सके | वैदिक काल से सरस्वती नदी एक धार्मिक नदी रही लेकिन शनै शनै वह सूखती गई ( वेदों में सरस्वती नदी का बार बार उल्लेख आया हैं , लेकिन गंगा का केवल तीन ही बार उल्लेख हैं ) तो पं० शंकराचार्य जी ने गंगा को हिन्दुओ की पवित्र नदी घोषित कर दिया तो साथ में एक गपोड़ को भी जोड़ दिया की सरस्वती अब इलाहाबाद में गंगा - जमना में धरती के निचे आकर मिल गई हैं और वहां अब त्रिवेणी हो गई हैं | इन्होने ही सबसे पहले गंगा किनारे गंगोत्री मंदिर बनवाया और गंगा नदी को हिन्दुओ की पवित्र नदी घोषित किया , जिसमे डुबकी लगाने से सब पापों का अंत होने लगा और आज इसी गंगा नदी के किनारे गंगोत्री से लेकर फराक्काबांध तक ( बंगाल ) भारतवर्ष के अधिक निर्धन लोग रहते हैं जिनके पाप पता नहीं धुले या नहीं लेकिन गरीबी नहीं धुल पाई | इसी गंगा की तर्ज पर गरीबी को पलने के लिए देश में अनेक गंगा बन गईं | उदाहरण के लिए जम्मू क्षेत्र में ' गुप्त गंगा ' मध्य प्रदेश में ' बैन गंगा ' किस्तवाड़ क्षेत्र में 'काली गंगा ' आदि आदि | ये सभी भाग्य के भरोसे रहने का पाठ पढाती हैं और स्वर्ग का झूठा लालच देकर हिन्दू समाज को निकम्मा बना रही हैं | आस्था के नाम से पाखंड व अन्धविश्वास फैलाना सामाजिक अपराध हैं | लेकिन पाखंडी लोगो ने वास्तविक जाट गंगा जिसे जाट कस्सियों से खोद कर लाए भुलाने का प्रयास किया | जब शंकराचार्य महाराज 32 वर्ष की अवस्था में ईश्वर को प्यारे हो गए तो उनकी मृत्यु के पश्चात् इस नवीन ब्राह्मण धर्म में फिर से भ्रष्टाचार की बाढ़ आ गई और यह धर्म फिर से अंधविश्वासों और कुरीतियों में फंसता चला गया | इस ब्राह्मणवादी धर्म की चपेट में राजपूत आदि कुछ जातियाँ पूरी तरह आ गई लेकिन जाटों की संस्कार हिन्दू प्रतीत होते हुए भी प्रछन्न बौद्ध धर्मी थे , जिसमे कुछ संस्कार आज भी जाट चरित्र में स्पष्ट दिखते हैं | जाट व कुछ अन्य सहयोगी जातियों के चरित्र में जो आदर्शता प्रतीत होती हैं व सभी की सभी प्राचीन बौद्ध धर्म की देन हैं | डा० धर्मकीर्ति ने अपनी एक शोध पुस्तक " जाट जाति प्रछन्न बौद्ध हैं | " लिखकर इसे ऐतिहासिक धरा पर सिद्ध कर दिया हैं | वास्तव में यह धर्म स्थापित करने आदर्श्ता समय भी बहुत बड़ा गोलमाल हुआ था क्योंकि उस समय कुमारिल भट्ट ब्राह्मण ही भारत में बौद्ध धर्म के एक बहुत बड़े विद्वान थे | लेकिन वे जानबूझकर पं० शंकराचार्य से शास्त्रार्थ में हार गए और फिर शंकराचार्य जी के साथ मिल गए | जरुर दाल में कुछ बड़ा काला था | इसी के बाद हिन्दू धर्म में मुर्गे , बकरे व भैंसों आदि बलि के लिए कटने लगे |
contd.......

ARVINDJANGU
June 3rd, 2009, 11:40 PM
जब यह ब्राह्मण धर्म फिर से अपने पतन की तरफ लोट रहा था उसी समय 19 वीं सदी में पं० स्वामी दयानंद जी प्रकट हो गए | जब उन्होंने सन् 1875 में बम्बई में आर्यसमाज की स्थापना की तो 96 सभासदों में से 39 ब्राह्मण , 24 अरोड़ा व खत्री , 18 गुजराती / मराठी बनिये तथा शेष 15 लोग वहां की स्थानीय जातियों से थे | इनमे कोई एक भी जाट नहीं था | स्वामी दयानंद का उद्देश्य गिरते हुए ब्राह्मण धर्म को फिर से ऊपर उठाना तथा उसमे सुधार करना था | अर्थात उनका उद्देश ब्राह्मण जाति में सुधार करना था जिसमे अनेक बुराइयां आ चुकी थी | जबकि जाट जाति अपने वैदिक बौद्ध धर्मी संस्कारों के कारण इन बुराइयों से कोसों दूर थी , जैसे मांस खाना , शराब पीना , अय्यासी करना व विधवा लड़कियों का पुनः विवाह न करना आदि आदि |
कहने का अर्थ हैं की स्वामी दयानंद का यह आर्यसमाज ब्राह्मणवाद के सुधार के लिए था न की जाटों के सुधार के लिए | एक बार स्वामी जी जब रेवाड़ी में ठहरे थे तो उनसे कुछ जाट लोग मिलने गए तो उन्होंने स्वामी जी आग्रह किया की वे उनके यहाँ आकर प्रवचन करें | इस पर स्वामी जी ने कहा था की मैं आपको क्या प्रवचन करूँ , जाट लोग तो पहले से ही आर्यसमाजी हैं | लेकिन जाट इस उत्तर को गहराई से नहीं समझ पाए और उत्साहित होकर आर्यसमाज का झंडा उठा लिया | जाट जाति बहुत उर्जावान जाति रही हैं | जाट का अर्थ ही एकजुट होना होता हैं अर्थात बिखरी हुई शक्ति को इकट्ठा करना | जाट तो एक शक्ति हैं , जाट बारूद के समान हैं | यदि इसी बारूद को कोने में दाल दिया जाये तो यह राख के समान प्रतीत होती हैं | वरना इसी बारूद से बड़े - बड़े पहाड़ तोड़कर सड़क और बाँध बनाये जा सकते हैं और यदि यही बारूद गलत हाथों में (नेत्रत्व ) में पड़ जाये तो बड़े से बड़ा विध्वंश या सर्वनाश किया जा सकता हैं | इस उर्जावान जाति में हमेशा उर्जावान पुरुष और महापुरुष पैदा होते रहें हैं | आर्यसमाज का झंडा भी इन्ही उर्जावान जाटों ने उठा लिया | जबकि इस झंडे से हम जाटों का किसी भी प्रकार का कोई सम्बन्ध नहीं था और न ही होना चाहिए था | लेकिन हमारे इन महान उर्जावान लोगो ने वैदिक संस्कृति की पुनः स्थापना का अनचाहा ठेका ले लिया और जब जाट जाति को ' कान्वेंट ' स्कूलों ( अंग्रेजी स्कुल ) की परम आवश्कता थी तो इन्होने संस्कृत स्कूलों व गुरुकुलों की बाढ़ ला दी | जो कार्य ब्राह्मणवाद ने करना चाहिए था , वह कार्य हमने अपने हाथों में ले लिया | इस देश के चरित्र और वैदिक धर्म के हम ठेकेदार बन गए | जबकि इस ठेकेदारी से हमारा कोई लेना देना नहीं था |
दूसरी तरफ इसी सभा में जो 96 सदस्य थे उनकी संतान स्वामी दयानंद के नाम पर अंग्रेजी पढ़ती रही और बड़े - बड़े सरकारी पदों पर पहुंचते रहे , इसका जीवन्त उदाहरण हैं महात्मा हंसराज ( हिन्दू पंजाबी खत्री ) जिन्होंने ' दयानंद एंग्लो वैदिक ' ( डी. ऐ . वी ) स्कूलों व कालेजों की बाढ़ ला दी और वहां पंजाब में स्वामी दयानंद के नाम पर आधुनिक शिक्षा पढाई जाती रही , वह अलग बात हैं कि इन्ही लोगो ने जैसे कि ज्ञानप्रकाश अरोड़ा ( हिन्दू पंजाबी अरोड़ा ) जैसों ने इन संस्थाओं को जी भरकर लुटा भी | इस लुट पर ' पंजाब केसरी ' ने सन् 2003 में धारावाहिक लेख लिखे | मैं लगभग दो साल दयानंद कालेज हिसार का छात्र रहा | जहाँ मैंने सुना था कि हर शुक्रवार को हास्टल के पास कहीं हवन होता था | कालेज में सप्ताह में शायद एक या दो बार आध्यात्मिक पीरियड ( divinity period ) होता था , जिसके लिए यह भी प्रचारित किया जाता था कि जब तक कोई विधार्थी आध्यात्मिक सर्टिफिकेट प्राप्त नहीं कर लेता तो वह फाइनल परीक्षा में नहीं बैठ सकता | लेकिन व्यवहार में मैंने कभी ऐसा नहीं पाया और ना ही मैंने कभी हवन देखा , न आध्यात्मिक पीरियड और सर्टिफिकेट ,लेकिन मैं अपनी क्लास में पास होता चला गया | मेरा कहने का अर्थ हैं कि जो लोग आर्यसमाज कि स्थापना में सहायक थे उनका कोई भी बच्चा कभी गुरुकुल नहीं गया जबकि आज भी गुरुकुल में 90 प्रतिशत जाटों के बच्चे हैं | जो काम हमारा नहीं था वह काम हमने अपने हाथों में लिया और वही आर्यसमाज साफ़ तौर पर लंगोट और चड्डी कि संस्कृति में बाँट गया | हमारे हाथ लंगोट आया और आज यही लंगोट इस चड्डी से बुरी तरह से पिछड़ रहा हैं |
contd.......

ARVINDJANGU
June 3rd, 2009, 11:43 PM
हमे कोई बतलाये कि गुरुकुलों में पढ़नेवाले कितने बच्चे सिविल सर्विसिज पास कर पाए ? इन गुरुकुलों की उपयोगिता केवल संस्कृत के मास्टर पैदा करने तक सीमित रही , ये कर्त्तव्य ब्राह्मणवाद का था हमारा नहीं | ये गुरुकुल गरीब तबके के जाट किसानो की लड़कियों को मास्टर बनाने तक ही सफल रहे , जबकि आज सभी सरकारें स्कूलों से संस्कृत विषयों को हटाकर अंग्रेजी अनिवार्य कर रही हैं | क्योंकि यह समय की मांग हैं | चाहे प्राचीन में इन ग्रंथो में चाहे जितना विज्ञान हो लेकिन आधुनिक युग की लगभग सभी खोजें यूरोप की देन हैं और आज विज्ञान का साहित्य विशेषकर मेडिकल व इंजीनियरिंग संस्थानों में अंग्रेजी भाषा में हैं और यही हमारे देश में लागु हैं और रहेगा | लेकिन जाट जाति एक के बाद एक निष्ठावान और कर्मठ आर्यसमाजी देती रही , फिर भी हमारे हाथ क्या आया ? एक बार एक समय था कि कई अन्य जातियाँ भी अपने को राजपूत कहलाने में गर्व का अनुभव करती थी | इसी प्रकार यह भी एक फैशन बन गया था कि कोई भी जाट पुरुष विख्यात होने पर उसे आर्यसमाजी कहा जाने लगा था | चौ.छोटूराम को भी लोगो ने आर्यसमाजी लिखा हैं , जबकि सच्चाई यह हैं कि उन्होंने 1923 से ही मन से आर्यसमाजी विचारधारा को निकाल दिया था | इसका प्रमाण उनके जाट सभाओ के भाषण से प्रमाणित हैं और इसी कारण आज भी पाकिस्तान के जाट मुसलमान उन्हें आदर भाव से याद करते हैं | इसी कारण वे जिन्ना को उसकी औकात बतलाने में सफल हुए और हिन्दू-मुस्लिम-सिक्ख और ईसाइयों को एक मंच पर खडा कर दिया | इस प्रकार इसी फैशन में जाट अपने घरों में स्वामी दयानंद द्वारा लिखी पुस्तक ' सत्यार्थप्रकाश ' की प्रतियाँ रखकर गौरव का अनुभव करने लगे | जबकि स्वामी दयानंद की शिक्षाएं कही भी व्यावहारिक , राष्ट्रवादी व आधुनिक विज्ञान पर आधारित नहीं हैं | कुछ उधाहरण इस प्रकार हैं :-
(i) 24 वर्ष की कन्या का विवाह 48 वर्ष के पुरुष से हो तो वह उत्तम विवाह हैं | (पृ० 54 स.प्र. ) (यह साफ़ तौर पर गैर व्यावहारिक शिक्षा हैं - लेखक )
(ii) ब्राह्मण वर्ण का ब्राह्मणी , क्षत्रिय वर्ण का क्षत्रिय , वैश्य वर्ण का वैश्य और शुद्र वर्ण का शुद्र के साथ विवाह करे | ( पृ० 60 स. प्र. ) यह स्पष्ट रूप से ब्राह्मणवादी विचारधारा हैं - लेखक )
(iii) जच्चा अपने बच्चे को केवल ६ दिन तक दूध पिलाये , इसके बाद बच्चे को दूध धाई पिलाए जिसे उत्तम खाना दिया जाये | ( पृ० 20 स. प्र. ) स्वामी जी ने पुरे विज्ञान व मातृत्व को ही अमान्य कर दिया - लेखक |
(iv) आर्यवर को भूरे नेत्रों वाली नारी से विवाह नहीं करना चाहिए आदि- आदि | ( पृ० 53 स. प्र .) अर्थात बेचारी भूरे नेत्रों वाली कन्याये तो त्याग के योग्य हैं - लेखक |
(v) नीच , भंगी व चमार आदि का खाना न खाए | ( पृ० 184 स. प्र. ) - स्वामी जी का कहने का अर्थ यह निकलता हैं की दलित समाज जाति के लोग तो होटलों / ढाबों में ही ना जाये - लेखक |
contd................

ARVINDJANGU
June 3rd, 2009, 11:45 PM
पूरा सत्यार्थप्रकाश एवं दुसरे ब्राह्मण ग्रन्थ ऐसी ही घृणित शिक्षाओं से अटे पड़े हैं | लिखा हैं शुद्रो का उपनयन न करे | उन्हें वेद न पढाये , शूद्रों को जनेऊ पहनने की आज्ञा नहीं होनी चाहिए , चांडालों को दूर बसाये , नीच जातियों से अनाज तक न ले आदि - आदि | इसी प्रकार इन्होने कबीर व गुरुनानक जी आदि की बुराई करने में कोई कमी नहीं छोड़ी | गुरुनानक जी को तो मुर्ख तक लिखा हैं | रामदास को ढेड कहकर लिखा और कबीर को तुम्बा बजानेवाला कहा | अर्थात सम्पूर्ण ब्राह्मणवाद के भूत को स्वामी जी ने एक नई बोतल में डालकर पेश कर दिया तथा इस भूत को जाटों पर छोड़ दिया और इस भूत ने जाटों को सौं वर्षों से भी अधिक समय से नचाये रखा हैं | लेकिन हम स्वामी जी के गुप्त एजेंडे को अभी तक समझ पाए , उनका एजेंडा था जाटों को सिक्ख व ईसाई धर्मी बनने से रोकना और हमेशा - हमेशा के लिए ब्राह्मणवाद का गुलाम रखकर हिन्दू जाट जाति को लुप्त कर देना | यह बात चाहे हमे कितनी भी अटपटी लगे लेकिन इसके अन्दर एक कटु सच्चाई छिपी हैं जिसे हम कम से कम अब तो स्वीकार कर लेना चाहिए | सिक्ख धर्म उस समय फैलता हुआ पंजाब से अम्बाला की सीमाओं को पार गया था लेकिन स्वामी जी अपने उद्देश्य में सफल रहें और हम जाटों को सिक्ख नहीं बनने दिया | डा० धर्मकीर्ति अपनी शोध पुस्तक ' जाट जाति प्रछन्न बौद्ध हैं ' में लिखते हैं कि " इसलिए परोक्ष रूप से सिक्ख धर्म अपनी प्रगतिशीलता मार्ग पर चलता रहा | लगभग एक शताब्दी पूर्व महर्षि दयानंद का प्रादुर्भाव हुआ | उन्होंने सनातन धर्म कि दकियानूसी विचारधारा और मूर्तिपूजा का खंडन कर वर्ण - व्यवस्था और जाति कि व्यापक और प्रगतिशीलता के आधार पर व्याख्या की तो बची हुई जाट जाति आर्यसमाजी हो गई | यही विद्वान इस बारे में आगे लिखते हैं की " आज के ब्राह्मणवाद ने इस महान जाति को आर्यसमाजी का झुनझुना हाथ में पकडा दिया हैं , जिसे भोले - भाले जाट बजाते फिर रहे हैं और ब्राह्मणवाद के मतृ शारीर को अपने कन्धों पर उठाकर घूम रहे हैं |"
जाट जाति में बहुत बड़ी तर्कशक्ति हैं और फिर जाट आर्यसमाजी हो तो सोने पर सुहागा | इसलिए कहावते चली की ' 65 वीं विधा जाट विधा हैं ' दूसरी कहावत हैं ' अनपढ़ जाट पढ़े जैसा , पढ़ा जाट खुदा जैसा ' | सन् 1857 की क्रांति के पशचात दिल्ली के रजिडैटं पद पर मि० मैट्काफ आये , जो इसाई जाट थे | ('हरियाणा की लोक संस्कृति' नाम पुस्तक में भी डा० भारद्वाज मानते हैं की मैट्काफ तथा चार्ल्स इलियट जाट प्रतीत होते थे ) | जब मैट्काफ ने दिल्ली व उसके चारों ओर फैली अपनी जाट जाति का अध्ययन किया तो पाया की उसकी जाति अशिक्षा और अंधविश्वास में फंसकर बुरी तरह से ब्राह्मणवाद ने जकड़ रखी हैं | इस पर उसने जाटों का उद्धार करने के लिए इन्हें ईसाई बनाकर आधुनिक शिक्षा दिलाने की योजना बनाई | उन्होंने एक हिंदी के जानकार पादरी डा० फिलेल को बुलाकर अपनी योजना समझाई तथा उसे कुछ दिन जाटों की भाषा व संस्कृति सीखने की सलाह दी | कुछ दिनों बाद डा० फिलेल ने अपना पहला प्रवचन एक जाट सभा बुलाकर इन शब्दों से आरम्भ किया " जाट भाइयों आप ईसा - मसीह में विश्वास लाये वे खुदा के बेटे हैं , आपके सभी गुनाह को मांफ कर देंगे "| ये शब्द बोलते ही एक वृद्ध जाट खडा हो गया और पादरी को उसके शब्द फिर से दोहराने को कहा | जब पादरी ने उन्ही शब्दों को दोहराया तो जाट ने पादरी से पूछा " खुदा मर गया या जिन्दा हैं ?" इस पर पादरी ने कहा " खुदा जिन्दा हैं " तो वृद्ध जाट बोला " हमारे जाटों में तो यह रिवाज हैं जब तक बाप जिन्दा होता हैं तो बेटे की चौधर नहीं होती " | इसके उत्तर में पादरी को कुछ भी कहने के लिए सूझा तो वह सभा से चुपचाप चला गया | डा० विधालंकर तो लिखते हैं कि उस पादरी ने अपना ईसाई धर्म छोड़ दिया था लेकिन यह निश्चित हैं कि उसने अपना पादरीपना अवश्य छोड़ दिया था | जिस प्रकार ' कश्मीरी ब्राह्मण सभा ' कि तर्क ने आज लगभग 600 वर्षो बाद कश्मीरी ब्राह्मणों को बेघर कर दिया , इसी प्रकार हमारे उस बूढे जाट ने हमारी आनेवाली संतानों को आधुनिक शिक्षा से वंचित कर दिया और फिर से ब्राह्मणवाद के चुंगल में फंसा दिया |
इसी प्रकार पहले हमे दो बार सिक्ख धर्मी बनने का अवसर मिला और बाद में स्वामी जी हमे कट्टर हिन्दू बनाने में कोई कमी नहीं छोड़ी तथा हम जाटों कर सदा -सदा के लिए ब्राह्मणवाद की गुलामी झेलने के लिए छोड़ दिया | अभी हम चींटियों के बिलों पर आटा डालने जाते हैं तो चौराहों पर टूना - टंकन करते फिरते हैं या फिर गुरनामे के चक्कर में रात भर जागरणों में तालियाँ पिटते फिरते हैं | अब हम न तो आर्यसमाजी रहे न ही पूर्ण ब्राह्मणवादी | वही कहावत हुई " गंगा गया तो गंगादास जमना गया तो जमनादास " | इस बारे में गुरुनानक जी कहते हैं की :-
' घट में हैं सूझत नहीं लानत ऐसी जिन्द |
नानक इस संसार को हुआ मोतियाबिन्द ||'
स्वामी दयानंद जी ने कहा था की अरबी / फ़ारसी भाषा के अनुसार तो हिन्दू का अर्थ काफिर होता हैं इसलिए हम अपने को हिंदी न कहे आर्य कहे लेकिन हमारे आर्यसमाजी उनकी बात न मानकर अभी भी अपने को हिन्दू कहते और लिखते हैं | इस प्रकार आर्यसमाजी स्वय ही स्वामी जी का विरोध कर रहे हैं |चौ.छोटूराम ने तो स्कूल में अपना धर्म वैदिक लिखवाया और बाद में सन 1941 में इन आर्यसमाजियों की अलग से जनगणना भी करवाई थी | लेकिन यही लोग फिर डर गए की कही हिन्दू कम न पड़ जाये | स्वामी दयानंद जी , पं० बस्तीराम व पं० विष्णुप्रभाकर को ब्राह्मणों ने ' रत्न ' भेंट किया | लेकिन हमारे जाट आर्यसमाजियों ऐसा कुछ क्यों नहीं किया ?

VivekGathwala
June 3rd, 2009, 11:48 PM
thanks for the information mr jangu ..

ARVINDJANGU
June 4th, 2009, 12:07 AM
धन्यवाद विवेक मलिक जी

dndeswal
June 4th, 2009, 12:08 PM
.
हवा सिंह सांगवान की किताब "असली लुटेरे कौन" में बहुत से ऐतिहासिक तथ्य दिये गये हैं और यह पुस्तक हमें पढ़नी चाहिये । परन्तु हरेक लेखक अपने विचार अपने ढ़ंग से लिखता है और उसमें उसकी अपनी सोच शामिल रहती है । आर्यसमाज और स्वामी दयानन्द के बारे में जो कुछ उन्होंने लिखा है, वह मेरे विचार से अर्धसत्य ही है, पूरा सच नहीं ।

स्वामी दयानन्द गुजरात में पैदा हुए थे । ऐसा पढ़ने में आया है कि उनके पूर्वज हरयाणा से जाकर वहां बसे थे, इसलिए स्वामी जी को उत्तर भारत की भाषा और हरयाणवी का ज्ञान भी था । यह कहना कि "आर्यसमाज ब्राह्मणवाद के सुधार के लिए था न की जाटों के सुधार के लिए", एक भ्रामक कथन से अधिक कुछ नहीं । समाज सुधार को जातियों में बांट कर नहीं देखा जाता । स्वामी दयानन्द ने निम्न जातियों के उत्थान और उन्हें शिक्षा दिलाने की पैरवी की, जबकि तथाकथित ब्राह्मण इनको वेदपाठ से वंचित रखते थे ।

"नीच, भंगी व चमार आदि का खाना न खाए" - इसे भी भ्रामक रूप में उद्धरित किया गया है । ऐसा लिखने में कुछ भी गलत नहीं है । स्वामी जी का ऐसा लिखने का अर्थ जाति से नहीं, बल्कि कर्म से है । क्या आप किसी ऐसे आदमी के हाथ का बना हुआ खाना खाना चाहेंगे जो पेशे से कसाई हो या जो चमड़े का काम सुबह से शाम तक करता हो ? भले ही वह आदमी किसी ऊंची जाति में पैदा हुआ हो । यदि कोई आदमी किसी भंगी के घर में जन्म लेता है पर वह भंगी का काम करने की बजाय कोई होटल खोल लेता है, तो उसके हाथ का भोजन करने में कोई बुराई नहीं, क्योंकि उसका पेशा अब भंगी का नहीं, बल्कि एक रसोइये का है ।

"मिस्टर मिटकाफ" ने 1857 में दिल्ली और आसपास के इलाके (हरयाणा, पश्चिम उत्तर प्रदेश) की जनता पर जो जुल्म किये वे रोंगटे खड़े करने वाले हैं । भला इस गौरे साहब का गुणगान करने की क्या जरूरत है जो जाटों को ईसाई बनाना चाहता था ? जरा स्वामी ओमानन्द की पुस्तक "देशभक्तों के बलिदान" (http://www.jatland.com/home/%E0%A4%A6%E0%A5%87%E0%A4%B6%E0%A4%AD%E0%A4%95%E0%A 5%8D%E0%A4%A4%E0%A5%8B%E0%A4%82_%E0%A4%95%E0%A5%87 _%E0%A4%AC%E0%A4%B2%E0%A4%BF%E0%A4%A6%E0%A4%BE%E0% A4%A8) पढ़िये जो जाटलैंड विकि पर मौजूद है ।

सत्यार्थप्रकाश का उत्तरार्ध खंडन से सम्बन्धित है । इसके चार समुल्लासों में संसार के चारों मुख्य धर्मों की समीक्षा की है और उनकी बुराइयों का खंडन भी किया है । ये चारों धर्म हैं - १. पुराणी (पुराणों को मानने वाले अर्थात ब्राह्मणवादी) २. बौद्ध-जैन ३. किरानी (Christians) और ४. कुरानी (कुरान में आस्था रखने वाले - मुसलमान)। ग्यारहवें समुल्लास में दादूपन्थी, कबीरपंथी और सिखपंथियों के बारे में भी लिखा है । गुरु नानक के बारे में स्वामी जी ने कोई अपशब्द नहीं लिखे बल्कि उनको एक अशिक्षित या अनपढ़ लिखा है जो कि सच भी है, इसमें बुरा मानने की कोई बात नहीं । बहुत से सिख भी इस बात को लेकर भड़क जाते हैं कि स्वामी जी ने गुरु नानक के बारे में ऐसा क्यों लिखा । यही अंधविश्वास है, हालांकि डा. महीप सिंह जैसे पढ़े-लिखे सिख विद्वान स्वामी जी बात से सहमत हैं । गुरु नानक एक संत थे, ज्ञानी भी थे पर थे अनपढ़ । उनकी वाणी को लिखने वाले उनके शिष्य थे, वे खुद नहीं । नानक के बाद जो उनके चेले हुए, उन्होंने पाखंड कुछ कम नहीं किया, जो आज भी जारी है ।

गुरु नानक के बारे में जो कुछ स्वामी जी ने लिखा है उसको नीचे उद्धृत कर रहा हूं - खुद ही पढ़ लो कि इसमें क्या खराबी है !



(सत्यार्थप्रकाश - ग्यारहवें समुल्लास से उद्धृत)

प्रश्न - पंजाब देश में नानकजी जे एक मार्ग चलाया है । क्योंकि वे भी मूर्त्ति का खंडन करते थे । मुसलमान होने से बचाये । वह साधु भी नहीं हुए किन्तु गृहस्थ बने रहे । देखो ! उन्होंने यह मन्त्र उपदेश किया है इसी से विदित होता है कि उनका आशय अच्छा था - ओं सत्यनाम कर्त्ता पुरुश निर्भो निर्वैर अकालमूर्त अजोनि सहभं गुरु प्रसाद जप, आदि सच, जुगादि सच, है भी सच, नानक होसी भी सच ॥(जपजी पौड़ी १)॥

(ओ३म्) जिसका सत्य नाम है, वह कर्त्ता, पुरुष भय और वैररहित अकाल मूर्त्ति जो काल में और जोनि में नहीं आता, प्रकाशमान है, उसी का जप गुरु की कृपा से कर । वह परमात्मा आदि में सच था, जुगों की आदि में सच, वर्त्तमान में सच और होगा भी सच ।

उत्तर - नानकजी का आशय तो अच्छा था, परन्तु विद्या कुछ भी नहीं थी । हां भाषा उस देश की जो कि ग्रामों की है, उसे जानते थे । वेदादि शास्त्र और संस्कृत कुछ भी नहीं जानते थे । जो जानते होते तो निर्भय को 'निर्भो' क्यों लिखते ? और इसका दृष्टान्त उनका बनाया संस्कृती स्तोत्र है । चाहते थे कि मैं संस्कृत में भी 'पग अड़ाऊं' परन्तु बिना पढ़े संस्कृत कैसे आ सकता है ? हां, उन ग्रामीणों के सामने कि जिन्होंने संस्कृत कभी सुना भी नहीं था, 'संस्कृती' बना कर संस्कृत के पंडित बन गये होंगे । भला यह बात अपने मान, प्रतिष्ठा और अपनी प्रख्याति की इच्छा के बिना कभी न करते । उनको अपनी प्रतिष्ठा की इच्छा अवश्य थी, नहीं तो जैसी जानते थे, कहते रहते और यह भी कहते कि मैं संस्कृत नहीं पढ़ा । जब कुछ अभिमान था तो मान-प्रतिष्ठा के लिये कुछ दंभ भी किया होगा । इसीलिये उनके ग्रन्थ में जहां-तहां वेदों की निन्दा और स्तुति भी है, क्योंकि जो ऐसा न करते तो उनसे भी कोई वेद का अर्थ पूछता; जब न आता तो प्रतिष्ठा नष्ट होती । इसलिये पहिले ही अपने शिष्यों के सामने कहीं-कहीं वेदों के विरुद्ध बोलते और कहीं-कहीं वेद के लिये अच्छा भी कहा है । क्योंकि जो कहीं अच्छा न कह्ते तो लोग उनको नास्तिक बनाते । जैसे:

वेद पढ़त ब्रह्मा मरे, चारों वेद कहानि । सन्त की महिमा वेद न जानी ॥
(सुखमनी पौड़ी ८, पद ६)

क्या वेद पढ़ने वाले मर गये और नानकजी आदि अपने को अमर समझते थे ? क्या वे नहीं मर गये ? वेद तो सब विद्याओं का कोष है, परन्तु जो चारों वेदों को कहानी कहे, उसकी सब बातें कहानी हैं ? जो मूर्खों का नाम सन्त होता है, वे बिचारे, वेदों की महिमा कभी नहीं जान सकते । जो नानकजी वेदों ही का मान करते तो उनका सम्प्रदाय न चलता, न वे गुरु बन सकते थे । क्योंकि संस्कृत विद्या तो पढ़े ही नहीं थे तो दूसरे को पढ़ा कर शिष्य कैसे बना सकते थे ?

यह सच है कि जिस समय नानकजी पञ्जाब में हुए थे, उस समय पञ्जाब संस्कृत विद्या से सर्वथा रहित मुसलमानों से पीडि़त था । उस समय उन्होंने कुछ लोगों को बचाया । नानकजी के सामने कुछ उनका सम्प्रदाय वा बहुत से शिष्य नहीं हुए थे । क्योंकि अविद्वानों में यह चाल है कि मरे पीछे उनको सिद्ध बना लेते हैं, पश्चात् बहुत सा माहात्म्य करके ईश्वर के समान मान लेते हैं ।

हाँ, नानकजी बड़े धनाढ़्य, रईस भी नहीं थे, परन्तु उनके चेलों ने 'नानक-चन्द्रोदय' और 'जन्मशाखी' आदि में बड़े सिद्ध और बड़े-बड़े ऐश्वर्य वाले थे, लिखा है । नानकजी ब्रह्मा आदि से मिले, बड़ी बातचीत की, सबने इनका मान्य किया, नानकजी के विवाह में बहुत से घोड़े, रथ, हाथी, सोने, चांदी, मोती, पन्ना आदि रत्नों से सजे हुए और अमूल्य रत्नों का पारावार न था, लिखा है । भला, ये गपोड़े नहीं तो क्या हैं ? इसमें इनके चेलों का दोष है, नानकजी का नहीं ।

-------------


सिख पन्थ के बारे में आगे लिखा है स्वामी दयानन्द ने -


------
"मूर्त्तिपूजा तो नहीं करते परन्तु उससे विशेष ग्रन्थ की पूजा करते हैं, क्या यह मूर्त्तिपूजा नहीं है ? किसी जड़ पदार्थ के सामने सिर झुकाना वा उसकी पूजा करने सब मूर्त्तिपूजा है । जैसे मूर्त्तिपूजा वालों ने अपनी दुकान जमाकर जीविका ठाड़ी की है, वैसे इन लोगों ने भी कर ली है । जैसे पुजारी लोग मूर्त्ति का दर्शन कराते, भेंट चढ़वाते हैं, वैसे नानकपन्थी लोग ग्रन्थ की पूजा करते-कराते, भेंट भी चढ़वाते हैं, अर्थात् मूर्त्तिपूजा वाले जितना वेद का मान्य करते हैं, उतना ये लोग ग्रन्थसाहब वाले नहीं करते । हां, यह कहा जा सकता है कि इन्होंने वेदों को न सुना, न देखा, क्या करें ? जो सुनने और देखने में आवें तो बुद्धिमान् लोग जो कि हठी-दुराग्रही नहीं हैं, सब सम्प्रदाय वाले वेदमत में आ जाते हैं । परन्तु इन सबने भोजन का बखेड़ा बहुत सा हटा दिया है । जैसे इसको हटाया, वैसे विषयासक्ति और दुरभिमान को भी हटाकर वेदमत की उन्नति करें तो बहुत अच्छी बात है ।
.....

SANDEEP5
June 4th, 2009, 12:44 PM
Namaste ji,

We are in aprocess to make directory of ARYA PEOPLE(the people who want to propagate vedic value system, followers of RAJA RAM and KRISHAN) of the world. So please feel free to add your name to the post or any arya with contact number. OR u can send me mail or personal message. or send sms to +919254092210 FORMAT may be as follows:

Name Contact NO. Place



Your cooperation will be a step toward propagation of our own value system, humanity, truth, justice and implementation of Law of HUMANITY.


Can you please let me know. You are searching for what ---- ARYA OR ARYA SAMAJI ?

satyenderdeswal
June 4th, 2009, 01:15 PM
What is the benefit of this directory and to whom??
Namaste ji,

our own value system, humanity, truth, justice and implementation of Law of HUMANITY.

kulduhan
June 5th, 2009, 08:52 PM
Arvind,
rather than pasting the uncleared comments of some other person here, would be better once go through the philosophy and principles of Arya Samaj on Web, Might be it wud help you to clear the dark frm your eyes, if you really not known abt it ?

I wonder, any body even who knows little about this society will believe on your's writer absurd statements!!!

//Kuldeep Duhan



हमे कोई बतलाये कि गुरुकुलों में पढ़नेवाले इस प्रकार इसी फैशन में जाट अपने घरों में स्वामी दयानंद द्वारा लिखी पुस्तक ' सत्यार्थप्रकाश ' की प्रतियाँ रखकर गौरव का अनुभव करने लगे | जबकि स्वामी दयानंद की शिक्षाएं कही भी व्यावहारिक , राष्ट्रवादी व आधुनिक विज्ञान पर आधारित नहीं हैं | कुछ उधाहरण इस प्रकार हैं :-
(i) 24 वर्ष की कन्या का विवाह 48 वर्ष के पुरुष से हो तो वह उत्तम विवाह हैं | (पृ० 54 स.प्र. ) (यह साफ़ तौर पर गैर व्यावहारिक शिक्षा हैं - लेखक )
(ii) ब्राह्मण वर्ण का ब्राह्मणी , क्षत्रिय वर्ण का क्षत्रिय , वैश्य वर्ण का वैश्य और शुद्र वर्ण का शुद्र के साथ विवाह करे | ( पृ० 60 स. प्र. ) यह स्पष्ट रूप से ब्राह्मणवादी विचारधारा हैं - लेखक )
(iii) जच्चा अपने बच्चे को केवल ६ दिन तक दूध पिलाये , इसके बाद बच्चे को दूध धाई पिलाए जिसे उत्तम खाना दिया जाये | ( पृ० 20 स. प्र. ) स्वामी जी ने पुरे विज्ञान व मातृत्व को ही अमान्य कर दिया - लेखक |
(iv) आर्यवर को भूरे नेत्रों वाली नारी से विवाह नहीं करना चाहिए आदि- आदि | ( पृ० 53 स. प्र .) अर्थात बेचारी भूरे नेत्रों वाली कन्याये तो त्याग के योग्य हैं - लेखक |
(v) नीच , भंगी व चमार आदि का खाना न खाए | ( पृ० 184 स. प्र. ) - स्वामी जी का कहने का अर्थ यह निकलता हैं की दलित समाज जाति के लोग तो होटलों / ढाबों में ही ना जाये - लेखक |
contd................

snandal1
June 5th, 2009, 10:46 PM
हमे कोई बतलाये कि गुरुकुलों में पढ़नेवाले कितने बच्चे सिविल सर्विसिज पास कर पाए ? इन गुरुकुलों की उपयोगिता केवल संस्कृत के मास्टर पैदा करने तक सीमित रही , ये कर्त्तव्य ब्राह्मणवाद का था हमारा नहीं | ये गुरुकुल गरीब तबके के जाट किसानो की लड़कियों को मास्टर बनाने तक ही सफल रहे , जबकि आज सभी सरकारें स्कूलों से संस्कृत विषयों को हटाकर अंग्रेजी अनिवार्य कर रही हैं | क्योंकि यह समय की मांग हैं | चाहे प्राचीन में इन ग्रंथो में चाहे जितना विज्ञान हो लेकिन आधुनिक युग की लगभग सभी खोजें यूरोप की देन हैं और आज विज्ञान का साहित्य विशेषकर मेडिकल व इंजीनियरिंग संस्थानों में अंग्रेजी भाषा में हैं और यही हमारे देश में लागु हैं और रहेगा | लेकिन जाट जाति एक के बाद एक निष्ठावान और कर्मठ आर्यसमाजी देती रही , फिर भी हमारे हाथ क्या आया ? एक बार एक समय था कि कई अन्य जातियाँ भी अपने को राजपूत कहलाने में गर्व का अनुभव करती थी | इसी प्रकार यह भी एक फैशन बन गया था कि कोई भी जाट पुरुष विख्यात होने पर उसे आर्यसमाजी कहा जाने लगा था | चौ.छोटूराम को भी लोगो ने आर्यसमाजी लिखा हैं , जबकि सच्चाई यह हैं कि उन्होंने 1923 से ही मन से आर्यसमाजी विचारधारा को निकाल दिया था | इसका प्रमाण उनके जाट सभाओ के भाषण से प्रमाणित हैं और इसी कारण आज भी पाकिस्तान के जाट मुसलमान उन्हें आदर भाव से याद करते हैं | इसी कारण वे जिन्ना को उसकी औकात बतलाने में सफल हुए और हिन्दू-मुस्लिम-सिक्ख और ईसाइयों को एक मंच पर खडा कर दिया | इस प्रकार इसी फैशन में जाट अपने घरों में स्वामी दयानंद द्वारा लिखी पुस्तक ' सत्यार्थप्रकाश ' की प्रतियाँ रखकर गौरव का अनुभव करने लगे | जबकि स्वामी दयानंद की शिक्षाएं कही भी व्यावहारिक , राष्ट्रवादी व आधुनिक विज्ञान पर आधारित नहीं हैं | कुछ उधाहरण इस प्रकार हैं :-
(i) 24 वर्ष की कन्या का विवाह 48 वर्ष के पुरुष से हो तो वह उत्तम विवाह हैं | (पृ० 54 स.प्र. ) (यह साफ़ तौर पर गैर व्यावहारिक शिक्षा हैं - लेखक )
(ii) ब्राह्मण वर्ण का ब्राह्मणी , क्षत्रिय वर्ण का क्षत्रिय , वैश्य वर्ण का वैश्य और शुद्र वर्ण का शुद्र के साथ विवाह करे | ( पृ० 60 स. प्र. ) यह स्पष्ट रूप से ब्राह्मणवादी विचारधारा हैं - लेखक )
(iii) जच्चा अपने बच्चे को केवल ६ दिन तक दूध पिलाये , इसके बाद बच्चे को दूध धाई पिलाए जिसे उत्तम खाना दिया जाये | ( पृ० 20 स. प्र. ) स्वामी जी ने पुरे विज्ञान व मातृत्व को ही अमान्य कर दिया - लेखक |
(iv) आर्यवर को भूरे नेत्रों वाली नारी से विवाह नहीं करना चाहिए आदि- आदि | ( पृ० 53 स. प्र .) अर्थात बेचारी भूरे नेत्रों वाली कन्याये तो त्याग के योग्य हैं - लेखक |
(v) नीच , भंगी व चमार आदि का खाना न खाए | ( पृ० 184 स. प्र. ) - स्वामी जी का कहने का अर्थ यह निकलता हैं की दलित समाज जाति के लोग तो होटलों / ढाबों में ही ना जाये - लेखक |
contd................


Arvind Ji

You have put some bitter realty of this so called noble samaj and naturally People who have invested precious time will like to defend their own earlier judgment of believing in this philosophy.Any way you will be reading a lot of twisted arguments to defend this propagation of hatred against poor Bhangi Chamar Neech etc people considered low by Sawami ji..

AryaSamaj had little common with Jat ideology .

Where Jats support Widow remarriage Swami ji opposed this instead he says widow can get son by niyoga (one night relationship) not remarriage what short of nobility.Jats believed in social equality and Democratic institutions Swami ji propagated this Castist discrimination ,there are lot many points which I won't like to discuss here...




Recently I saw a 100 years old document of Sarvkhap where neo converted Arya Samaji ( like Rajmal of Khanda Kheri ,though I have lot of respect for this man for his support to Bhagat Singh )prevailed on sarvkhap to issue direction not to eat with bhangi chamar and neech people naturally since Arya means noble...




Ashok ji I believed you are same Ashok who posted origin of Mathura Jats from Kushan but they were Buddhists not Arya Samaji ,if you read CHINESE sources It is mentioned Kushans Jats(Yeuchi) adopted religion of Fo(Buddha) before entering India .IF we read world history and see medes were synonymous with Aryans and Persian Tarikh E .? quoting an older Sanskrit book refer Jats enemy of Medes read Aryans ...Or Arabs were told that Custom of Honoring Jat Samanis (Buddhists ) is giving a turban in Chachnama ...I mean in History we find Jats as Saivites and Buddhists not Vedic Aryas any way it is not so easy to know about past times but why we never find these vedic traditions in Jats.

I respect the sentiments of people who want to do good for us but I just wish we could carry it under some organization which is close to our value system and not this Arya type Samaj .

Regards.

spdeshwal
June 6th, 2009, 11:17 AM
अरविन्द जी
लेखक श्री सांगवान जी को पछतावा है की क्यों नहीं जाट सिख या इसाई बन गए !
आपकी क्या राय है ? श्री सांगवान जी अपनी पुस्तक में एक जगह लिखते हैं की चौधरी छोटूराम आर्य समाजी नहीं थे और दूसरी जगह लिकते हैं की स्कूल में उन्होंने उन्होंने अपना धर्म वैदिक लिखवाया और आर्य समाजियों की अलग से जनगणना भी करवाई थी ! ये दो परस्पर विरोधाभाषी कथन हैं!
मेरा ये निजी अनुभव रहा है कि गुरुकुल में आम तौर पर उन्ही बच्चों को दाखिल करवाया जाता है जो आम स्कूलों में मन लगा कर पढाई नहीं करते, या माता पिता को लगता है कि उनका बचा बुरी संगत का शिकार हो रह है! ऐसे में अगर वे अगर शारीरिक और बोधिक विकास के साथ २ संस्कृत अध्यापक भी बन जाएँ तब क्या हर्ज है ? जहाँ तक आई ऐ अस आफिसर बनने का सवाल है, में अरविन्द जी आप से पूंछना चाहता हूँ कि कितने बच्चे आम स्कूलों में पढ़ कर आई ऐ अस बन जाते हैं !
मेरा ये सब लिखते हुए न तो सांगवान जी के प्रति कोई अनादर का भावः है न ही आपके प्रति, बस अँधा धुंध आर्य समाज कि बुराई कहाँ तक उचित है ये बात समझ में नहीं आई ! आप या और कोई सदस्य उस डारेक्टरी में अपना नाम सामिल करें या न करे , ये आपकी निजी इच्छा है!


खुश रहो !

ashokpaul
June 6th, 2009, 04:11 PM
What is the benefit of this directory and to whom??
Namaste Deswalji,
Arya people in haryana are organising Arya Nirman Movement because none can't be arya by birth. Arya is a degree not caste. So for this purpose Arya Prashikshan Satras(Pathshalas) are being organised. Directory will help the arya people to come close make Aryanisation a success. The benefit of the directory will be to the whole humanity. Cooperation of arya people will definitely bring goodness and prosperity.


Arya Ashok Pal

ashokpaul
June 6th, 2009, 04:35 PM
[QUOTE=ARVINDJANGU;212432][SIZE=3]जब बात आर्य समाज की हो रही हैं तो मैं यहाँ चौ.हवा सिंह सांगवान जाट ( पूर्व कमांडेंट ) की क्रन्तिकारी किताब " असली लुटेरे कौन ? " का अध्याय 19 " स्वामी दयानंद के आर्यसमाज से जाटों को क्या लेना - देना था ? " प्रस्तुत करना चाहूँगा .......
19. स्वामी दयानंद के आर्यसमाज से जाटों को क्या लेना - देना था ?
इस अध्याय पर पिछले संस्करण में कुछ लोगो ने रोष जताया हैं | मैं जनता हू की मेरी कौम का आर्य समाज से बड़ा गहरा लगाव रहा हैं और जाट समुदाय स्वामी दयानंद को जाट ही समझते हैं |

Namaste Arvindji,
It seems that ch. Hawa Singhji want to find out asli decoits? par kya wo decoits ki paribhasha janate hain. Arya samaj is the organisation which tell JATS how to stand up with education. Swamiji ne JAT Logon ki bhawna dekhi thi. and he tried a lot educate these people and not only to JATS but everyone who is eager to learn and this education results in freedom of India. Family of Bhagat Singh, Lala Lajpat Rai, Chhaju Ram, Chhotu Ram, RamPrasad Bismil, Shyamji Krishan Verma of INDIA HOUSE at london are names in history who make exemplary work for the froodom if India.

Asli lutere to angrej the jo divide and rule ki policy lagu kar gaye. It seems Ch Hawa Singh is victim of this policy. I don't have any personal biasing with ch. Hawa singh, but after reading above para, i foud that he is biased towards ARYASAMAJ and he want to attach Arya samaj with so-called BRAHAMANS who behave with him otherwise.

and not only this kale-angrej(Christianised JATS) bhi janam le chuke hain. Wo hamare Itihaas ko mitana chahate hain. the people who have nothing to give want to destroy the history. Arya Samaj ne to hame apni jaro tak pahuncha diya hai. Now we can have our own civilisation and not to follow EUROPEANS.
Arvindji aap unbiased ho ke satyartha Prakash padiye. and you will find the answer or attend our 2 days workshop on arya philosophy being organised every weekend at different places. you can contact me at +919416482391 or ashok_palsingh@yahoo.co.in.


Namaste

ashokpaul
June 6th, 2009, 04:37 PM
thanks for the information mr jangu ..

Get the knowledge not the Information Vivekji...............

ashokpaul
June 6th, 2009, 04:53 PM
[QUOTE=dndeswal;212507][SIZE="3"].
हवा सिंह सांगवान की किताब "असली लुटेरे कौन" में बहुत से ऐतिहासिक तथ्य दिये गये हैं और यह पुस्तक हमें पढ़नी चाहिये । परन्तु हरेक लेखक अपने विचार अपने ढ़ंग से लिखता है और उसमें उसकी अपनी सोच शामिल रहती है । आर्यसमाज और स्वामी दयानन्द के बारे में जो कुछ उन्होंने लिखा है, वह मेरे विचार से अर्धसत्य ही है, पूरा सच नहीं ।

"मिस्टर मिटकाफ" ने 1857 में दिल्ली और आसपास के इलाके (हरयाणा, पश्चिम उत्तर प्रदेश) की जनता पर जो जुल्म किये वे रोंगटे खड़े करने वाले हैं । भला इस गौरे साहब का गुणगान करने की क्या जरूरत है जो जाटों को ईसाई बनाना चाहता था ?

Namaste Deswalji,
You have critically examined and analysed the each and every fact. yes its true that when one writes his thinking make contribution. Ch. Hawa Singh praised Mr. Mitcalf who want to convert Jats to charistians. It seems Ch. Hawa Singh is also of same party(if the statement is not wrong). We have to find out who is this Ch Hawa Singh. Otherwise few people writes for fame only otherwise JATLAND pe unhe kaun discuss karta.

there is also similar case of one Mr. Duhan Who works with diversity mission and writes a book "JAT-DALIT EKTA"
and deswalji there is nil historical facts in such books. these are just to create confusion and earn time to cook their khichadi. (TO CONVERT JATS TO OBCs and then to Chritians).

RavinderSura
June 7th, 2009, 08:12 PM
[QUOTE=dndeswal;212507][SIZE="3"].
हवा सिंह सांगवान की किताब "असली लुटेरे कौन" में बहुत से ऐतिहासिक तथ्य दिये गये हैं और यह पुस्तक हमें पढ़नी चाहिये । परन्तु हरेक लेखक अपने विचार अपने ढ़ंग से लिखता है और उसमें उसकी अपनी सोच शामिल रहती है । आर्यसमाज और स्वामी दयानन्द के बारे में जो कुछ उन्होंने लिखा है, वह मेरे विचार से अर्धसत्य ही है, पूरा सच नहीं ।

"मिस्टर मिटकाफ" ने 1857 में दिल्ली और आसपास के इलाके (हरयाणा, पश्चिम उत्तर प्रदेश) की जनता पर जो जुल्म किये वे रोंगटे खड़े करने वाले हैं । भला इस गौरे साहब का गुणगान करने की क्या जरूरत है जो जाटों को ईसाई बनाना चाहता था ?

Namaste Deswalji,
You have critically examined and analysed the each and every fact. yes its true that when one writes his thinking make contribution. Ch. Hawa Singh praised Mr. Mitcalf who want to convert Jats to charistians. It seems Ch. Hawa Singh is also of same party(if the statement is not wrong). We have to find out who is this Ch Hawa Singh. Otherwise few people writes for fame only otherwise JATLAND pe unhe kaun discuss karta.

there is also similar case of one Mr. Duhan Who works with diversity mission and writes a book "JAT-DALIT EKTA"
and deswalji there is nil historical facts in such books. these are just to create confusion and earn time to cook their khichadi. (TO CONVERT JATS TO OBCs and then to Chritians).
yeah we should find him...gumshuda ki talaash .....;) .....pata lagte hi mujhe bhi batana :)..... unn mere mama ji s ye ...inne tohwan khatir kitte jaan ki jarurat koni roj akhbaar me ya har hafte dus din me haryana news pe inki jhalak dekhan n mil ja s ....

VivekGathwala
June 7th, 2009, 10:05 PM
Get the knowledge not the Information Vivekji...............


Mr paul i have read this book & gained all the information & i know the author personally ..& ya i more thing for knowing more about ch hawa singh ji subscribe the wiki section.... his num is also there for knowing more about him

ashokpaul
June 16th, 2009, 02:21 PM
Namaste JI,
As you know Arya is not by birth, but by attributes. And attributes are the result of knowledge imparted by Rishis and Acharyas and learned by us. To continue the Rishi Pranali of Arya Nirman RASHTRIYA ARYA NIRMATRI SABHA is providing us the opportunity to learn the ARYA PRINCIPLES through ARYA PRASHIKSHAN SATRAS organising vigorously in Haryana, Delhi and Uttar Pradesh specially on the weekend. The Satras are so designed that even an unknown to Arya philosophy is also able to completely grab the theory. The Satra make one to eager to live one's life according to Ishwariya AAdesh. So to know is the only answer to ignorance as ignorance itself is no excuse. To keep ourselves away from committing sins we must know ISHWARIYA AADESH through ARYA PRASHIKSHAN SATRA.

So What are U Thinking?
Why you are not attending the only Designed Course to Know Arya PHILOSOPHY scientifically and completely?
I extend my cordial invitation specially to those who know little abou arya philosophy and comment a lot without cause...

ARYA PRASHIKSHAN SATRAS OF THIS WEEK (20-21JUNE) ARE AS FOLLOWS:

ARYA PRASHIKSHAN SATRA (FOR GENTS)

1. JYAN BHARATI VIDYA NIKETAN, BHAGAT SINGH NAGAR, KARAWAL NAGAR(DELHI)- AR. VIJAYPALJI-09250782188; AR. KULDEEPJI-09968376001
2. RAWA RAJPUT DHARMASHALA, NAZIBZBAD (U.P.)- AR. RAJENDERJI- 09837317062
3. ARYA SAMAJ, MODEL TOWN, KARNAL (HARYANA)- AR. MUKESHJI- 09254092227
4. ARYA SAMAJ, JURERA, MEWAT (HARYANA)- Ar. PADMACHANDJI-09868055362
5. GOVT. SR. SEC. SCHOOL VILLAGE-BUROLI, DISTT.-REWARI (HARYANA)- AR. DEVENDERJI-09466671301

ARYA PRASHIKSHAN SATRA (Exclusively for Ladies)

1. BHARAT GHAR, NIWARI, MODINAGAR (U.P.)- AR. SUNIL SHASTRI-09259253155

For more details feel free to contact me or the respective organiser.

Namaste

Arya Ashok Pal
09254092210

SANDEEP5
June 25th, 2009, 12:34 PM
Namaste JI,
As you know Arya is not by birth, but by attributes. And attributes are the result of knowledge imparted by Rishis and Acharyas and learned by us. To continue the Rishi Pranali of Arya Nirman RASHTRIYA ARYA NIRMATRI SABHA is providing us the opportunity to learn the ARYA PRINCIPLES through ARYA PRASHIKSHAN SATRAS organising vigorously in Haryana, Delhi and Uttar Pradesh specially on the weekend. The Satras are so designed that even an unknown to Arya philosophy is also able to completely grab the theory. The Satra make one to eager to live one's life according to Ishwariya AAdesh. So to know is the only answer to ignorance as ignorance itself is no excuse. To keep ourselves away from committing sins we must know ISHWARIYA AADESH through ARYA PRASHIKSHAN SATRA.

So What are U Thinking?
Why you are not attending the only Designed Course to Know Arya PHILOSOPHY scientifically and completely?
I extend my cordial invitation specially to those who know little abou arya philosophy and comment a lot without cause...

ARYA PRASHIKSHAN SATRAS OF THIS WEEK (20-21JUNE) ARE AS FOLLOWS:

ARYA PRASHIKSHAN SATRA (FOR GENTS)

1. JYAN BHARATI VIDYA NIKETAN, BHAGAT SINGH NAGAR, KARAWAL NAGAR(DELHI)- AR. VIJAYPALJI-09250782188; AR. KULDEEPJI-09968376001
2. RAWA RAJPUT DHARMASHALA, NAZIBZBAD (U.P.)- AR. RAJENDERJI- 09837317062
3. ARYA SAMAJ, MODEL TOWN, KARNAL (HARYANA)- AR. MUKESHJI- 09254092227
4. ARYA SAMAJ, JURERA, MEWAT (HARYANA)- Ar. PADMACHANDJI-09868055362
5. GOVT. SR. SEC. SCHOOL VILLAGE-BUROLI, DISTT.-REWARI (HARYANA)- AR. DEVENDERJI-09466671301

ARYA PRASHIKSHAN SATRA (Exclusively for Ladies)

1. BHARAT GHAR, NIWARI, MODINAGAR (U.P.)- AR. SUNIL SHASTRI-09259253155

For more details feel free to contact me or the respective organiser.

Namaste

Arya Ashok Pal
09254092210


Dear Mr. Ashok ji,

You haven't replied me that to whom you are looking for "ARYA" or "ARYA SAMAJI". What will you do after complete this directory. What's the benifit to "JAT" for this directory.
Waiting for your reply.

Fateh
July 17th, 2009, 07:42 PM
Dear Ashok pal, wish you all the best in your efforts, but I would like to submit following few lines for your considration please.
(a) I think this forum is for the welfare, education, unity & help to jats, we should avoide any talk on religion, politics, business, advertisements eta here.
(b) I think all jatlanders are educated & can read Vedas & writings of swamiji themselves, they donot need camp training.
(c) Jat religion/way of life/culture is much older, wast, richer & useful. People in the community need to be updated on their background, routes, strength & culture. Therefore why cannot we make directory of jats, why cannot we make our people aware of themselves, their richness, their good qualities eta. why cannot we devote time on social evils in the community.
Dear nothing against anybody, & the Arya Samaj, as i know little, during Bhagti moment, Guru Nanak, Kabir, Sawami Dayanand all worked against social evils & various type of religious evils growing fast in those days. Aim of all was to help the society. Teaching of Sawamiji were liked by our elders & they adopted the path , today we cannot blame anybody including Sawamiji. However, if our community is gaining in any way by any efforts, I am always for that try. I am always against Brahmanical culture/religious system but certainly I will never like to leave one of the oldest Hindu mythology/way of life for ofsprings like Budhism, Sikhism & also not at all for any other religion. We can change religious practices,/system or any unsuitable tradition. Arya samaj is not a seperate religion. It is different thing that people in control, may give turn in the direction suits to them. Infact Sawamiji alwayS worked against unnecery religious practces, Ireally donnot understand as to why the present day leadership believe in showmanship, camp training,weapon training eta. Adopt teaching of SAWAMIJI in true sense & walk, people will follow no need of camps & weapon training. with warm regards

aryasatyadev
July 20th, 2009, 06:55 AM
Fateh bhai, you were right about many points but, when we can't shun the politics from this site, then why we are criticizing any movement which was supposed to be for welfare of the men......
Before answering to my this post please read my earlier post in this thread...

Fateh
July 20th, 2009, 08:19 PM
Fateh bhai, you were right about many points but, when we can't shun the politics from this site, then why we are criticizing any movement which was supposed to be for welfare of the men......
Before answering to my this post please read my earlier post in this thread...

My dear Satya Dev, I have not criticised but submitted my views. Secondly, I donot approve discussion on politics on this forum either, also, I just donot consider such religious efforts/moment by any religion or by any person, some where close to any welfare. Like most of us, I also love VEDAS, respect Sawamiji & my opposition/objection in my above post is against expression that we would have become cristians or sikhs. However, I may not have been able to put my views properly. Certainly I donot approve camp/weapon training, even if I like many teaching of Sawamiji & adpted many of them in my life. Any way thanks for response & giving me an opportunity to submit few more lines on the topic. With lots of warm regards

aryasatyadev
July 21st, 2009, 01:14 AM
Dear Fateh, thanks for the inputs and sharing the thoughts about politics. As such I am also opposed to the idea of turning Arya Samaj into something like RSS. Swamiji, has started this movement for the betterment of society and he had never envisioned about the religious fanatics who might turn his movement on the wrong path.
The Arya Samaj of Swami Dayanand is dead (my personal view), now a days what we see is the ghost of that samaj..... although i appended Arya to my name but I do not subscribe to all the thoughts and actions of so called modern day Arya Samaj.
Like Swamiji has said, adopt what is good for you and leave the rest.

raka
July 21st, 2009, 10:27 AM
अरविन्द जी
मेरा ये निजी अनुभव रहा है कि गुरुकुल में आम तौर पर उन्ही बच्चों को दाखिल करवाया जाता है जो आम स्कूलों में मन लगा कर पढाई नहीं करते, या माता पिता को लगता है कि उनका बचा बुरी संगत का शिकार हो रह है! ऐसे में अगर वे अगर शारीरिक और बोधिक विकास के साथ २ संस्कृत अध्यापक भी बन जाएँ तब क्या हर्ज है ? जहाँ तक आई ऐ अस आफिसर बनने का सवाल है, में अरविन्द जी आप से पूंछना चाहता हूँ कि कितने बच्चे आम स्कूलों में पढ़ कर आई ऐ अस बन जाते हैं !
खुश रहो !
देशवाल साहब गाँव में गुरुकुल खोलने में कोई हर्ज नहीं पर भाईसाहब हमारे साथ ये दोगला व्यवहार क्यों , गाँव वालो के लिए गुरुकुल खोल दिए संस्कृत पढने के लिए और शहरी बच्चो को आधुनिक शिक्षा पढ़ने के लिए ' दयानंद एंग्लो वैदिक' ( dav ) के नाम से स्कूल कॉलेज क्यों ? शहरी बच्चो के लिए गुरुकुल क्यों नहीं खुल वाए ? ये dav स्कूल कॉलेज गाँव में क्यों नहीं खुलवाए गए ?

guliayaj100
July 24th, 2009, 10:26 PM
..... although i appended Arya to my name but I do not subscribe to all the thoughts and actions of so called modern day Arya Samaj.
Like Swamiji has said, adopt what is good for you and leave the rest.

Bhai satya dev
Can you please tell me what good did you see in the name Arya that you adopted and what bad you found that you left.
For sake of knowledge

aryasatyadev
July 25th, 2009, 04:59 AM
Yajvir bhai, if you go through Satyarth Prakash, it discuss various issues at length and will be enogh to satisfy you. As far as I am concerned, I was influenced by Arya Samaj during my school days and appended Arya to my name. For all practical reasons I am not wearing Janeo and had never performed Sandhya etc, but the principal of Arya Samaj are good enough to attract anybody. It encourages one almighty and denaounces different gods for different sects.
I do admit (as i had said in second post of this thread) that Arya Samaj is not as effective now-a-days and the so called leaders should have to rethink and impart knowledge to the seeking people.
The Arya Samaj movement was started in late 19th Century to curb some social evils like Sati, Education, Change of religion etc. which are no longer valid.

guliayaj100
July 26th, 2009, 10:27 PM
Thanks bhai satya dev.
Bhai Ashok I will contact you shortly as I am going through the ideology of arya samaj these days and i have discovered a lot of wonderful ideas in it. I have come to know about our old literature which was never told to me up till now. Af