Page 1 of 6 1 2 3 4 5 ... LastLast
Results 1 to 20 of 1661

Thread: Movie's Reviews

Hybrid View

Previous Post Previous Post   Next Post Next Post
  1. #1

    Movie's Reviews

    Hi all let's start posting reviews of new releases of Hindi and English movies in India. And rate them on the scale of 1-5 Put 5 for the best and 1 for for the worst.

    Let me start with 'A Wednessday' One of the wonderfull movies showing an angry common man stands against the system to take the revenge. Beautifull stated movie i recommend please watch it.

    My Rating 4 out of 5.
    Plant one tree atleast
    and pls save water and electricity

  2. The Following User Says Thank You to Nishantrathi82 For This Useful Post:

    hrdhaka (March 18th, 2016)

  3. #2
    You must also watch "Rock on!!"

    My Rating 5 out of 5

    Quote Originally Posted by nishantrathi82 View Post
    Hi all let's start posting reviews of new releases of Hindi and English movies in India. And rate them on the scale of 1-5 Put 5 for the best and 1 for for the worst.

    Let me start with 'A Wednessday' One of the wonderfull movies showing an angry common man stands against the system to take the revenge. Beautifull stated movie i recommend please watch it.

    My Rating 4 out of 5.
    Men may come and men may go, but I go on forever

  4. The Following User Says Thank You to suneet_rana For This Useful Post:

    hrdhaka (March 18th, 2016)

  5. #3
    Wall E very beautiful movie (4.5/5)

  6. The Following User Says Thank You to vivekdh For This Useful Post:

    hrdhaka (March 18th, 2016)

  7. #4
    Wednesday is truly an amazing movie...I request all Indians to watch this movie....Bollywood has really come of age...

    Deserves 4.5 star rating...
    JaT - 3rd EyE of GoD:rock

  8. The Following User Says Thank You to sangwanpardeep For This Useful Post:

    hrdhaka (March 18th, 2016)

  9. #5
    '1920' this movie is ok ok u can watch this alteast once u can't expect better special effects then this in india, this is a horror movie and u will find this one quite ok. Direction is good some scenes are quite good.

    Rating 2.5
    Plant one tree atleast
    and pls save water and electricity

  10. The Following User Says Thank You to Nishantrathi82 For This Useful Post:

    hrdhaka (March 18th, 2016)

  11. #6

    Smile

    Quote Originally Posted by vivekdh View Post
    Wall E very beautiful movie (4.5/5)
    Quote Originally Posted by sangwanpardeep View Post
    Wednesday is truly an amazing movie...I request all Indians to watch this movie....Bollywood has really come of age...

    Deserves 4.5 star rating...
    As per my views

    Rock on (4/5)
    Wednesday - (5/5)
    Wanted - (4/5)
    Wall E - (4/5)
    “Excellence is not a skill. It is an attitude.”


    Best Regards,
    Maniisha


  12. The Following User Says Thank You to Maniisha For This Useful Post:

    hrdhaka (March 18th, 2016)

  13. #7
    okkkkkkkkkkkkkkkkkkkkkkkkkkkkkkkkkkkkk yes its realy a goooooooooood plateform 444444 alllll jaaattttttt

  14. #8

    RocknRolla

    Nothing unexpected, typical Guy Ritchie film.... Drugs, money, crazy guys, kidnapping, torture, subtle dark humor, slang, unusual camera movement...
    Full time pass: 3.5/5


    looking forward to The Real RocknRolla.

  15. #9
    love 3 idiots ...................all izzzz welll


    looking forward for ROAD MOVIE---- - http://www.youtube.com/watch?v=ac4DZi5v8zU


    Think which become obvious in future

  16. #10
    I had also stopped watching the movie in between.....
    You think The Real Rocknrolla won't be.....errrr......typical Guy Richie?:p
    Quote Originally Posted by sunillathwal View Post
    Nothing unexpected, typical Guy Ritchie film.... Drugs, money, crazy guys, kidnapping, torture, subtle dark humor, slang, unusual camera movement...
    Full time pass: 3.5/5


    looking forward to The Real RocknRolla.

  17. #11
    Quote Originally Posted by anjoo View Post
    You think The Real Rocknrolla won't be.....errrr......typical Guy Richie?:p
    typical or atypical... i won't feel like 1 idiot after watching :p I have faith in Guy Richie he would spring some surprises here n there!!! :D like in RocknRolla: slapping school theory and interesting names Mr. One Two. Handsome Bob, Tank, Mumbles, Fred the Head, Roman :D :D

  18. #12
    what a movie....really its shows tht common man can also fight against the terrorism with out any help......:thappad

  19. The Following User Says Thank You to NKharub For This Useful Post:

    hrdhaka (March 18th, 2016)

  20. #13
    Quote Originally Posted by nkharub View Post
    what a movie....really its shows tht common man can also fight against the terrorism with out any help......:thappad

    Bhai kuch naam bhi hai Movie ka?:o
    Plant one tree atleast
    and pls save water and electricity

  21. The Following User Says Thank You to Nishantrathi82 For This Useful Post:

    hrdhaka (March 18th, 2016)

  22. #14
    samaj kam aawe hai k.. line dekh k samaj le............wednesday:tamatar

  23. The Following User Says Thank You to NKharub For This Useful Post:

    hrdhaka (March 18th, 2016)

  24. #15

    Dev d

    Movie rating: 2/5
    A very so-so movie....went to watch twice...payed attention to movie on second time and still can't get it.
    Movie is amalgam of MMS n few news paper headlines....as acting is concerned, it was nice from both new comer actresses...i know movies are not about meaning now a days, but few people still have that craving for whats going on!!! it looks like Mr. Director had couple of movie ideas in mind and due to lack of finance and indecisive nature he used them all in one go...although i am not much of a fan of hard hitting movies, i mean whats the point in paying 200 bucks for feeling guilty about being the privileged one. Although i know the story of devdas however I have not watched any of original or remakes ones and not planning to do so until and unless my family doc suggests that...all in all, feel safe to avoid this one or watch to criticize like me :p
    LeTz SpReAd ----JaTiSm-----
    --JaTiSm Is NoT A ReLiGiOn, ItZ StAtE oF MiNd--

  25. The Following User Says Thank You to mittu For This Useful Post:

    hrdhaka (March 18th, 2016)

  26. #16
    Quote Originally Posted by mittu View Post
    Movie rating: 2/5
    A very so-so movie....went to watch twice...payed attention to movie on second time and still can't get it.
    Movie is amalgam of MMS n few news paper headlines....as acting is concerned, it was nice from both new comer actresses...i know movies are not about meaning now a days, but few people still have that craving for whats going on!!! it looks like Mr. Director had couple of movie ideas in mind and due to lack of finance and indecisive nature he used them all in one go...although i am not much of a fan of hard hitting movies, i mean whats the point in paying 200 bucks for feeling guilty about being the privileged one. Although i know the story of devdas however I have not watched any of original or remakes ones and not planning to do so until and unless my family doc suggests that...all in all, feel safe to avoid this one or watch to criticize like me :p


    according to me very good movie...
    :tamatar:boxing" Live Every Day As If It Was Your Last, And One Day You Will Be Right!"
    .................¤ॐ¤..............
    :p"लोड करके राईफल, जब जीप पे सवार होते...
    बाऩध साफा जब गाबरू तयार होते....
    देखती है दुनिया छत पर चढके....
    और कहते ......
    काश हम भी जाट होते........


  27. The Following User Says Thank You to vivektaliyan For This Useful Post:

    hrdhaka (March 18th, 2016)

  28. #17

    gulal film review

    कुछ लोग सत्ता की अपनी भूख को किस तरह युवाओं के माध्यम से पूरा करने का कुत्सित षड़यंत्र रचते हैं, किस तरह छात्र राजनीती को अपने फायदे के लिए इस्तेमाल किया जाता है, किस तरह दबंग लोग अपनी वासना और इच्छाओं की पूर्ति करते हैं और किस तरह एक आप लड़का "क्रांति " करते हुए खुनी बनकर मौत के घाट उतर जाता है और किस तरह सभी के सपने अधूरे ही रह जाते हैं, अगर ये जानना है तो गुलाल देख आइये. निर्देशक अनुराग कश्यप की इस फिल्म का आधार राजपुताना है. फिल्म शुरू होते ही इतनी तेजी से आपके दिलो दिमाग में घुस जाती है की आप इसके ख़तम होने तक पूरी तरह से गुलाल से सरोबार हो जाते हैं. राजस्थान की पृष्ठभूमि पर बनी गुलाल एक बेहतरीन फिल्म है और इसके माध्यम से अनुराग ने एक बार फिर से खुद को साबित करते हुए दिखा दिया की वो सब तरह की फिलम बना सकते हैं और यही नहीं एक मसाला फिल्म से भी वो एक बेहतर सन्देश दे सकते हैं. मुझे लगता है की फिल्म में सभी की ने बेहत अभिनय किया है लेकिन मुझे याद रहेंगे पियूष मिश्रा, के के मेनन , राजा सिंह चौधरी और अभिमन्यु सिंह.
    राजपुताना अतीत के माध्यम से आज के युवाओं को अपने साथ जोड़कर नई क्रांति लाने की तैयारी कर रहा दुकी बना (के के मेनन ) का किरदार वर्तमान राजनेताओं को आइना दिखा देता है. एक जगह दुकी बना कहता है की- के बाद क्या मिला इस देश को, राजपूतों के साथ धोखा हुआ और हालत क्या है की एक दल की सरकार तक नहीं बनती. हालाँकि इस सबके पीछे दुकी का मकसद कोई क्या नहीं है की वो देश या समाज की भलाई की बात सोच रहा है, इस सबके लिए उसका सीधा मकसद एक ऐसी क्रांति पैदा करना चाहता है जिसका फायदा सिर्फ और सिर्फ उसे मिले. राजपुताना राज्य बनने का उसका "दुस्वप्न " पूरा हो जाये. इसके लिए वो बार बार राजपूत धन्ना सेठों को धिक्कारता भी है की वो सत्ता तो चाहते हैं लेकिन इसके लिए बलिदान नहीं देना चाहते. सीधे तौर पर हम कह सकते हैं की दुकी उन्हें यही कहना चाहता है की - भगत सिंह पैदा हो लेकिन पडौसी के घर में. दुक्की के घर में उनके बड़े बना भी हैं, पियूष मिश्रा. हमेशा एक अर्धनारीश्वर के साथ रहने वाले पियूष पूरी फिल्म में एक सूत्रधार की तरह हैं. हमेशा बाजेवालों की ड्रेस दल के रखते हैं और जब तब दुकी और समाज के मुह पर तमाचा भी मारते रहते हैं. अभिनय ही नहीं गीत संगीत के मामले में भी पियूष जी ने कमाल कर दिया है बड़े दिनों बाद ऐसे गाने सुनने को मिले जो सीधे तौर पर फिल्म को जोड़ने का काम करते हैं न की उसके दृश्यों को तोड़ने का, फिल्म का एक गाना सुनकर लगता है की जैसे उन देशों को सच बताने की कोशिश करने की कोशिश की गई है जो दुसरे देशों पर बेवजह आक्रमण करते हैं. गाना ऐसा है की सीधा आपके होठों पर तैरने लगता है.. बोल हैं.. जैसे दूर देश के टावर में घुस जाये रे एरोप्लेन. ( गाना सुंनते 9/11 याद आने लगता है)

    हालाँकि फिल्म दिलीप से शुरू होकर उसी पर ख़तम होती है. दिलीप के रूप में राज सिंह ने अच्छा अभिनय किया है. एक आम और डरपोक लड़के से वो किस तरह की क्रान्ति कर देता है देखने लायक है. दिलीप बता देता है की वो नपुंसक नहीं है. आम लड़के की ही तरह वो राजनीती से दूर रहना चाहत अहै और जब एक लड़की , जो सिर्फ उसका इस्तेमाल करने के लिए उससे प्यार करती है, को सच्चा प्यार करने लगता है और इसी चक्कर में कई "खून " भी कर देता है. इसमें दुकी भी शामिल होता है. फिल्म में छात्र राजनीती को काफी अच्चे ढंग से दिखाया गया है. इस मुद्दे पर तिग्मांशु धुलिया की "हासिल " नाम की एक फिल्म पहले आ चुकी है. उसने भी इस मुद्दे को अच्छे से छुआ था. खैर गुलाल से एक बार फिर अनुराग कश्यप ने अपनी प्रतिभा को साबित कर दिय है. फिल्म में कई जगहों पर सो कॉल्ड अभद्र भाषा का इस्तेमाल किया गया है. लेकिन फिल्म देखते हुए वो न गलत लगती है न अजीब. फिल्म में कई महिला किरदार भी हैं लेकिन इनका ज्यादा असरदार किरदार नहीं. सभी लगभग दबे कुचले से किरदार हैं जिनमे उठने के चाहत है. इसके लिए उनके अपने अपने तरीके हैं. हालांकि गुलाल की कहानी को १० साल पहले लिखा गया था लेकिन फिल्म देखकर लगता है आज कल में ही गीत लिखी गई है यानी १० साल पहले जो चल रहा था वो कतई नहीं बदला. या फिर हम कह सकते हैं की अनुराग ने १० साल पहले ही आज की सोच ली थी. अगर आप भी एक अच्छी फिल्म देखना चाहते हैं, एक ऐसी फिल देखने की सोच रहे हैं जो मासालेदार हो लेकिन थोडा हटके तो जाइये और रंग लीजिये खुद को गुलाल से....
    www.suniyezara.blogspot.com

  29. The Following User Says Thank You to adityachoudhary For This Useful Post:

    hrdhaka (March 18th, 2016)

  30. #18
    Quote Originally Posted by adityachoudhary View Post
    कुछ लोग सत्ता की अपनी भूख को किस तरह युवाओं के माध्यम से पूरा करने का कुत्सित षड़यंत्र रचते हैं, किस तरह छात्र राजनीती को अपने फायदे के लिए इस्तेमाल किया जाता है, किस तरह दबंग लोग अपनी वासना और इच्छाओं की पूर्ति करते हैं और किस तरह एक आप लड़का "क्रांति " करते हुए खुनी बनकर मौत के घाट उतर जाता है और किस तरह सभी के सपने अधूरे ही रह जाते हैं, अगर ये जानना है तो गुलाल देख आइये. निर्देशक अनुराग कश्यप की इस फिल्म का आधार राजपुताना है. फिल्म शुरू होते ही इतनी तेजी से आपके दिलो दिमाग में घुस जाती है की आप इसके ख़तम होने तक पूरी तरह से गुलाल से सरोबार हो जाते हैं. राजस्थान की पृष्ठभूमि पर बनी गुलाल एक बेहतरीन फिल्म है और इसके माध्यम से अनुराग ने एक बार फिर से खुद को साबित करते हुए दिखा दिया की वो सब तरह की फिलम बना सकते हैं और यही नहीं एक मसाला फिल्म से भी वो एक बेहतर सन्देश दे सकते हैं. मुझे लगता है की फिल्म में सभी की ने बेहत अभिनय किया है लेकिन मुझे याद रहेंगे पियूष मिश्रा, के के मेनन , राजा सिंह चौधरी और अभिमन्यु सिंह.
    राजपुताना अतीत के माध्यम से आज के युवाओं को अपने साथ जोड़कर नई क्रांति लाने की तैयारी कर रहा दुकी बना (के के मेनन ) का किरदार वर्तमान राजनेताओं को आइना दिखा देता है. एक जगह दुकी बना कहता है की- के बाद क्या मिला इस देश को, राजपूतों के साथ धोखा हुआ और हालत क्या है की एक दल की सरकार तक नहीं बनती. हालाँकि इस सबके पीछे दुकी का मकसद कोई क्या नहीं है की वो देश या समाज की भलाई की बात सोच रहा है, इस सबके लिए उसका सीधा मकसद एक ऐसी क्रांति पैदा करना चाहता है जिसका फायदा सिर्फ और सिर्फ उसे मिले. राजपुताना राज्य बनने का उसका "दुस्वप्न " पूरा हो जाये. इसके लिए वो बार बार राजपूत धन्ना सेठों को धिक्कारता भी है की वो सत्ता तो चाहते हैं लेकिन इसके लिए बलिदान नहीं देना चाहते. सीधे तौर पर हम कह सकते हैं की दुकी उन्हें यही कहना चाहता है की - भगत सिंह पैदा हो लेकिन पडौसी के घर में. दुक्की के घर में उनके बड़े बना भी हैं, पियूष मिश्रा. हमेशा एक अर्धनारीश्वर के साथ रहने वाले पियूष पूरी फिल्म में एक सूत्रधार की तरह हैं. हमेशा बाजेवालों की ड्रेस दल के रखते हैं और जब तब दुकी और समाज के मुह पर तमाचा भी मारते रहते हैं. अभिनय ही नहीं गीत संगीत के मामले में भी पियूष जी ने कमाल कर दिया है बड़े दिनों बाद ऐसे गाने सुनने को मिले जो सीधे तौर पर फिल्म को जोड़ने का काम करते हैं न की उसके दृश्यों को तोड़ने का, फिल्म का एक गाना सुनकर लगता है की जैसे उन देशों को सच बताने की कोशिश करने की कोशिश की गई है जो दुसरे देशों पर बेवजह आक्रमण करते हैं. गाना ऐसा है की सीधा आपके होठों पर तैरने लगता है.. बोल हैं.. जैसे दूर देश के टावर में घुस जाये रे एरोप्लेन. ( गाना सुंनते 9/11 याद आने लगता है)

    हालाँकि फिल्म दिलीप से शुरू होकर उसी पर ख़तम होती है. दिलीप के रूप में राज सिंह ने अच्छा अभिनय किया है. एक आम और डरपोक लड़के से वो किस तरह की क्रान्ति कर देता है देखने लायक है. दिलीप बता देता है की वो नपुंसक नहीं है. आम लड़के की ही तरह वो राजनीती से दूर रहना चाहत अहै और जब एक लड़की , जो सिर्फ उसका इस्तेमाल करने के लिए उससे प्यार करती है, को सच्चा प्यार करने लगता है और इसी चक्कर में कई "खून " भी कर देता है. इसमें दुकी भी शामिल होता है. फिल्म में छात्र राजनीती को काफी अच्चे ढंग से दिखाया गया है. इस मुद्दे पर तिग्मांशु धुलिया की "हासिल " नाम की एक फिल्म पहले आ चुकी है. उसने भी इस मुद्दे को अच्छे से छुआ था. खैर गुलाल से एक बार फिर अनुराग कश्यप ने अपनी प्रतिभा को साबित कर दिय है. फिल्म में कई जगहों पर सो कॉल्ड अभद्र भाषा का इस्तेमाल किया गया है. लेकिन फिल्म देखते हुए वो न गलत लगती है न अजीब. फिल्म में कई महिला किरदार भी हैं लेकिन इनका ज्यादा असरदार किरदार नहीं. सभी लगभग दबे कुचले से किरदार हैं जिनमे उठने के चाहत है. इसके लिए उनके अपने अपने तरीके हैं. हालांकि गुलाल की कहानी को १० साल पहले लिखा गया था लेकिन फिल्म देखकर लगता है आज कल में ही गीत लिखी गई है यानी १० साल पहले जो चल रहा था वो कतई नहीं बदला. या फिर हम कह सकते हैं की अनुराग ने १० साल पहले ही आज की सोच ली थी. अगर आप भी एक अच्छी फिल्म देखना चाहते हैं, एक ऐसी फिल देखने की सोच रहे हैं जो मासालेदार हो लेकिन थोडा हटके तो जाइये और रंग लीजिये खुद को गुलाल से....
    Its really nice movie but u look like the biggest of fans. Such a long praise. :rock:rock
    Strive not to be a success, rather to be of value.

  31. The Following User Says Thank You to vikrantsiwag For This Useful Post:

    hrdhaka (March 18th, 2016)

  32. #19

    Thumbs down Jai Veeru

    Thanx god theater par nai dekhi. One of the biggest bandal/bakwaas movies of all time. Crap story crap performance, everything else all but crap crap crap.....

    1/5.
    Strive not to be a success, rather to be of value.

  33. The Following User Says Thank You to vikrantsiwag For This Useful Post:

    hrdhaka (March 18th, 2016)

  34. #20
    Hey guys yesterday i watched the Mukhbir.
    Its really a nice movie.
    3.25 out of 5
    Plant one tree atleast
    and pls save water and electricity

  35. The Following User Says Thank You to Nishantrathi82 For This Useful Post:

    hrdhaka (March 18th, 2016)

Posting Permissions

  • You may not post new threads
  • You may not post replies
  • You may not post attachments
  • You may not edit your posts
  •