Page 2 of 9 FirstFirst 1 2 3 4 5 6 ... LastLast
Results 21 to 40 of 174

Thread: Mera Intzaar Karna !

  1. #21
    Moderator
    Points: 13,703, Level: 50
    Level completed: 81%, Points required for next Level: 97
    Overall activity: 10.0%
    Achievements:
    Social Veteran Created Album pictures Tagger First Class 10000 Experience Points
    Awards:
    Master Tagger
    Login to view details.

    Smile

    Quote Originally Posted by sunitahooda View Post
    jakhmo ko sahlaney ke bahaney dil ko bahlaya kartey hain
    mita ke mohabat ke naam par ilzam unn pe dharte hain
    मोहब्बत में खुद को मिटा देना तो इश्क की फ़ितरत है
    हुस्न वालों को तो इल्ज़ाम लगाने से ही फ़ुरसत कहाँ ||
    It's better to be alone than in a bad company.

  2. #22
    khob hi badia shaayari likhi hai Vijay ji maja agaya

  3. The Following User Says Thank You to choudhary_tapan For This Useful Post:

    vijay (November 6th, 2015)

  4. #23
    विजय भाई , आप जैसा सवेदनशील और कोमल हृदय व्यक्ति ही इतना सुंदर लिख सकता है !
    बहुत खूब !यूँ ही लिखते रहो !


    खुश रहो !

  5. The Following User Says Thank You to spdeshwal For This Useful Post:

    vijay (February 19th, 2012)

  6. #24
    Very nice Vijay ji...thnx for sharing

    Har ilzam ka haqdar wo hume bana jaate hain,
    Har khata ki saza wo hume suna jaate hain,
    Hum bas khamosh rah jaate hain,
    Kyunki wo apna hone ka ehsas dila jaate hain.
    Quote Originally Posted by vijay View Post
    मोहब्बत में खुद को मिटा देना तो इश्क की फ़ितरत है
    हुस्न वालों को तो इल्ज़ाम लगाने से ही फ़ुरसत कहाँ ||
    "Love, not words win arguements."

  7. The Following 3 Users Say Thank You to amritameerut01 For This Useful Post:

    kamnanadar (February 4th, 2012), reenu (February 22nd, 2012), vijay (February 19th, 2012)

  8. #25
    Moderator
    Points: 13,703, Level: 50
    Level completed: 81%, Points required for next Level: 97
    Overall activity: 10.0%
    Achievements:
    Social Veteran Created Album pictures Tagger First Class 10000 Experience Points
    Awards:
    Master Tagger
    Login to view details.

    Smile

    Quote Originally Posted by deepakdahiya24 View Post
    hiiiiiii....all...
    read ur dese...shayrii's.....
    Really toooooooooooooooo Gud.....!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!:rock
    Keep it Up...!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!
    Quote Originally Posted by choudhary_tapan View Post
    khob hi badia shaayari likhi hai Vijay ji maja agaya
    Deepak Ji and Tapan Ji

    Thanx a lot for the appreciation.
    It's better to be alone than in a bad company.

  9. #26
    Moderator
    Points: 13,703, Level: 50
    Level completed: 81%, Points required for next Level: 97
    Overall activity: 10.0%
    Achievements:
    Social Veteran Created Album pictures Tagger First Class 10000 Experience Points
    Awards:
    Master Tagger
    Login to view details.

    Smile

    Quote Originally Posted by spdeshwal View Post
    विजय भाई , आप जैसा सवेदनशील और कोमल हृदय व्यक्ति ही इतना सुंदर लिख सकता है !
    बहुत खूब !यूँ ही लिखते रहो !


    खुश रहो !
    धन्यवाद सत्यपाल भाई साहब,

    मानवीय संवेदनाओ से ही मजबूर होकर दिल अभिव्यक्ति के लिये प्रेरित होता है । संवेदना ही कोमलता लाती है । भावनाओं का समन्दर जब दिल में लहराता है तो उसे प्रकट करने की तीव्र इच्छा सी जाग्रत होती है और इसी के फ़लस्वरूप काव्य का जन्म होता है ।
    Last edited by vijay; February 15th, 2009 at 09:58 PM.
    It's better to be alone than in a bad company.

  10. #27
    Moderator
    Points: 13,703, Level: 50
    Level completed: 81%, Points required for next Level: 97
    Overall activity: 10.0%
    Achievements:
    Social Veteran Created Album pictures Tagger First Class 10000 Experience Points
    Awards:
    Master Tagger
    Login to view details.

    Thumbs up Wonderful !

    Quote Originally Posted by amritameerut01 View Post
    Very nice Vijay ji...thnx for sharing

    Har ilzam ka haqdar wo hume bana jaate hain,
    Har khata ki saza wo hume suna jaate hain,
    Hum bas khamosh rah jaate hain,
    Kyunki wo apna hone ka ehsas dila jaate hain.
    Beautifully written Amrita.
    I admire it when people write technically correct compositions.
    Keep it up.



    न चाहते हुए भी हमको वो सता ही जाते हैं
    राज की बातें आखिर चुपके से बता ही जाते हैं ।
    हज़ार बार कहा कि प्यार नाम है कुरबानी का
    लेकिन वो तो मोहब्बत का हक जता ही जाते हैं ॥
    It's better to be alone than in a bad company.

  11. The Following User Says Thank You to vijay For This Useful Post:

    anuragsunda (May 31st, 2012)

  12. #28
    Thanks Vijay.


    Pyar me qurban to hum ho hi gaye hain,
    Apna sab kuch lootakar kho hi gaye hain,
    Haq tha unpar mohabbat ka haq jatane ka,
    Wo haq bhi aaj humse wo loot le gaye hain.


    Quote Originally Posted by vijay View Post
    Beautifully written Amrita.
    I admire it when people write technically correct compositions.
    Keep it up.



    न चाहते हुए भी हमको वो सता ही जाते हैं
    राज की बातें आखिर चुपके से बता ही जाते हैं ।
    हज़ार बार कहा कि प्यार नाम है कुरबानी का
    लेकिन वो तो मोहब्बत का हक जता ही जाते हैं ॥
    "Love, not words win arguements."

  13. The Following 3 Users Say Thank You to amritameerut01 For This Useful Post:

    kamnanadar (February 4th, 2012), reenu (February 22nd, 2012), vijay (February 19th, 2012)

  14. #29

    ये मेरी हिन्दी में लिखी पहली पंक्तियाँ हैं ....डी.एन.देसवाल जी का कैसे शुक्रिया अदा करू


    प्यार का हक किसी पे जताया नही जाता
    किसी को दिल का जखम दिखाया नही जाता
    समझता है प्यार करने वाला ख़ुद ब ख़ुद
    दिल चीर कर तो ऐसे दिखाया नही जाता
    Quote Originally Posted by amritameerut01 View Post
    thanks vijay.


    Pyar me qurban to hum ho hi gaye hain,
    apna sab kuch lootakar kho hi gaye hain,
    haq tha unpar mohabbat ka haq jatane ka,
    wo haq bhi aaj humse wo loot le gaye hain.
    Last edited by sunitahooda; February 16th, 2009 at 12:46 PM.
    I AM WHAT I AM....JAT.... 16X2=8

  15. The Following 4 Users Say Thank You to sunitahooda For This Useful Post:

    anuragsunda (May 31st, 2012), ashe (April 5th, 2012), reenu (February 22nd, 2012), vijay (February 19th, 2012)

  16. #30
    Moderator
    Points: 13,703, Level: 50
    Level completed: 81%, Points required for next Level: 97
    Overall activity: 10.0%
    Achievements:
    Social Veteran Created Album pictures Tagger First Class 10000 Experience Points
    Awards:
    Master Tagger
    Login to view details.

    Smile

    Quote Originally Posted by amritameerut01 View Post
    thanks vijay.


    Pyar me qurban to hum ho hi gaye hain,
    apna sab kuch lootakar kho hi gaye hain,
    haq tha unpar mohabbat ka haq jatane ka,
    wo haq bhi aaj humse wo loot le gaye hain.

    मोहब्बत में हज़ारों दीवाने छले जाते हैं
    शमां की तपिश में परवाने जले जाते हैं ।
    न जाने क्या मज़ा है प्यार के खेल में
    लूटने वाले खुद ही लुट कर चले जाते हैं ॥
    It's better to be alone than in a bad company.

  17. #31
    Moderator
    Points: 13,703, Level: 50
    Level completed: 81%, Points required for next Level: 97
    Overall activity: 10.0%
    Achievements:
    Social Veteran Created Album pictures Tagger First Class 10000 Experience Points
    Awards:
    Master Tagger
    Login to view details.

    Smile

    Amrita,

    I would appreciate if you also try to write in Hindi Fonts ..... it's not a complex process if you just like to type in Hindi.

    Here is the simplest tool :

    http://www.google.co.in/transliterate/indic
    It's better to be alone than in a bad company.

  18. #32
    Moderator
    Points: 13,703, Level: 50
    Level completed: 81%, Points required for next Level: 97
    Overall activity: 10.0%
    Achievements:
    Social Veteran Created Album pictures Tagger First Class 10000 Experience Points
    Awards:
    Master Tagger
    Login to view details.

    Thumbs up

    Quote Originally Posted by sunitahooda View Post
    ये मेरी हिन्दी में लिखी पहली पंक्तियाँ हैं ....डी.एन.देसवाल जी का कैसे शुक्रिया अदा करू


    प्यार का हक किसी पे जताया नही जाता
    किसी को दिल का जखम दिखाया नही जाता
    समझता है प्यार करने वाला ख़ुद ब ख़ुद
    दिल चीर कर तो ऐसे दिखाया नही जाता
    बहुत अच्छा लिखा सुनीता



    जो दिल में उतरने का शौक है तो बरास्ता क्या
    पहलू में अगर मंजिल है तो ढूंढना रास्ता क्या ।
    बेवजह शरीफ़ों के घर में झांकने से बाज आइये
    मेरे दिल के मेहमान से दुनियाँ को वास्ता क्या ॥
    It's better to be alone than in a bad company.

  19. The Following User Says Thank You to vijay For This Useful Post:

    anuragsunda (May 31st, 2012)

  20. #33

    Smile

    आस्मां के तारे अक्सर पूछते हैं हमसे
    क्या तुम्हे आज भी इंतज़ार है उसके लौट आने का
    और ये दिल मुस्कुरा के कहता है
    मुझे तो अब तक यकीन नही उसके चल जाने का
    :rockSANDY = JAT

    JAI :rockKIL:DLKI :rock TAULL !!!!!

    "JAHAN JAAT VAHAN THAATH" :p

  21. The Following 2 Users Say Thank You to SANDEEP5 For This Useful Post:

    anuragsunda (May 31st, 2012), vijay (November 6th, 2015)

  22. #34
    आंधिया वो चली आशियाँ लुट गया ,
    प्यार का मुस्कुराता जहाँ लुट गया l
    यकीं था जिस पर ख़ुद से भी ज्यादा ,
    आज वही शक्स हमे बर्बाद कर गया ll


    Quote Originally Posted by vijay View Post
    मोहब्बत में हज़ारों दीवाने छले जाते हैं
    शमां की तपिश में परवाने जले जाते हैं ।
    न जाने क्या मज़ा है प्यार के खेल में
    लूटने वाले खुद ही लुट कर चले जाते हैं ॥
    "Love, not words win arguements."

  23. The Following 2 Users Say Thank You to amritameerut01 For This Useful Post:

    kamnanadar (February 4th, 2012), vijay (November 6th, 2015)

  24. #35
    Quote Originally Posted by sunitahooda View Post
    ये मेरी हिन्दी में लिखी पहली पंक्तियाँ हैं ....डी.एन.देसवाल जी का कैसे शुक्रिया अदा करू


    प्यार का हक किसी पे जताया नही जाता
    किसी को दिल का जखम दिखाया नही जाता
    समझता है प्यार करने वाला ख़ुद ब ख़ुद
    दिल चीर कर तो ऐसे दिखाया नही जाता

    दिल चीर कर तो उसका कभी देखा नही हमने ,
    हिसाब प्यार का तो उससे कभी माँगा नही हमने l
    समझा था उसके प्यार को लेकिन ,
    वो जिंदगी भर ना भरने वाला एक ज़ख्म दे गया ll
    "Love, not words win arguements."

  25. The Following 2 Users Say Thank You to amritameerut01 For This Useful Post:

    kamnanadar (February 19th, 2012), vijay (February 19th, 2012)

  26. #36
    Moderator
    Points: 13,703, Level: 50
    Level completed: 81%, Points required for next Level: 97
    Overall activity: 10.0%
    Achievements:
    Social Veteran Created Album pictures Tagger First Class 10000 Experience Points
    Awards:
    Master Tagger
    Login to view details.

    Smile

    Quote Originally Posted by amritameerut01 View Post
    आंधिया वो चली आशियाँ लुट गया ,
    प्यार का मुस्कुराता जहाँ लुट गया l
    यकीं था जिस पर ख़ुद से भी ज्यादा ,
    आज वही शक्स हमे बर्बाद कर गया ll

    मोहब्बत में यही सुलूक सैयाद करते है
    पहले आबाद किया फ़िर बर्बाद करते हैं ।
    जो आते हैं महज़ चले जाने के लिये
    हम किसलिये उनको ही याद करते हैं ॥
    It's better to be alone than in a bad company.

  27. The Following User Says Thank You to vijay For This Useful Post:

    kamnanadar (February 4th, 2012)

  28. #37
    Moderator
    Points: 13,703, Level: 50
    Level completed: 81%, Points required for next Level: 97
    Overall activity: 10.0%
    Achievements:
    Social Veteran Created Album pictures Tagger First Class 10000 Experience Points
    Awards:
    Master Tagger
    Login to view details.

    Smile

    Quote Originally Posted by sandeep5 View Post
    आस्मां के तारे अक्सर पूछते हैं हमसे
    क्या तुम्हे आज भी इंतज़ार है उसके लौट आने का
    और ये दिल मुस्कुरा के कहता है
    मुझे तो अब तक यकीन नही उसके चल जाने का

    दिलों का सौदा करना इतना आसान भी नहीं
    यकीन करोगे तो दिल पर चोट कर जायेगा ।
    आखों से पर्दा हटाकर जरा सच्चाई तो देखो
    वह आया ही कब था जो लौट कर जायेगा ॥
    It's better to be alone than in a bad company.

  29. The Following User Says Thank You to vijay For This Useful Post:

    reenu (February 22nd, 2012)

  30. #38
    kissi ko panne ki chahat se bhi aksar pyar ho jaata hai
    kissi pe yaken ke liye dil kaa souda karro ye jaroori to nahi
    kissi jhooth ke sahare bhi aksar jee liya jaata hai
    har baat se parda uthaya jaaye ye jaroori to nahi


    vijay bhai jaisa meri samaj aaya likha diya koi tech problem ho to jarror batna kai baar kuch likhna bahut accha lagta hai muje bhi

    Quote Originally Posted by vijay View Post
    दिलों का सौदा करना इतना आसान भी नहीं
    यकीन करोगे तो दिल पर चोट कर जायेगा ।
    आखों से पर्दा हटाकर जरा सच्चाई तो देखो
    वह आया ही कब था जो लौट कर जायेगा ॥

  31. #39
    Moderator
    Points: 13,703, Level: 50
    Level completed: 81%, Points required for next Level: 97
    Overall activity: 10.0%
    Achievements:
    Social Veteran Created Album pictures Tagger First Class 10000 Experience Points
    Awards:
    Master Tagger
    Login to view details.

    Smile

    Quote Originally Posted by vivekdh View Post
    vijay bhai jaisa meri samaj aaya likha diya koi tech problem ho to jarror batna kai baar kuch likhna bahut accha lagta hai muje bhi

    विवेक,

    चार पंक्तियो की रचना को हिन्दी में ’मुक्तक’, उर्दू में ’रुबाई’ और English में Quatrain कह्ते हैं । इसमें विभिन्न प्रकार की रचनाओं को लिखा जा सकता है । सामान्य कानून ये है कि चारों पंक्तियो में एक निश्चित लय होनी चाहिये ।

    सामन्यत रुबाई या मुक्तक में पहली, दुसरी और चौथी पंक्ति तुकात्मक रुप से समाप्त होनी चाहिये और वह तुकात्मक शब्द बोलने में बिल्कुल एक जैसे होने चाहिये । तुकात्मक अंत का मतलब ’काफ़िया’ और ’रदीफ़’ से है ।

    उदाहरण के लिये :

    मोहब्बत में हज़ारों दीवाने छले जाते हैं
    शमां की तपिश में परवाने जले जाते हैं
    न जाने क्या मज़ा है प्यार के खेल में
    लूटने वाले खुद ही लुट कर चले जाते हैं


    ये रुबाई AABA में लिखी गई है । AABA का मतलब है कि पहली, दुस्ररी और चौथी पंक्ति का समापन एक जैसा होना चहिये । इस रुबाई में ’जाते हैं’ इसका ’रदीफ़’ है और समान रुप से बोले जाने वाले शब्द ’छले’, ’जले’ और ’चले’ इसका ’काफ़िया’ कहलाते हैं ।

    अब काफ़िय और रदीफ़ को मिलाकर ये शब्द ऐसे बनते हैं :

    छले जाते हैं
    जले जाते हैं
    चले जाते हैं

    जो कि बिल्कुल एक जैसे हैं और इसी से ये रचना तकनीकी रुप से शुद्ध बनी है ।


    अब जरा अपनी लिखी हुइ रचना को देखो :

    Quote Originally Posted by vivekdh View Post
    kissi ko panne ki chahat se bhi aksar pyar ho jaata hai
    kissi pe yaken ke liye dil kaa souda karro ye jaroori to nahi
    kissi jhooth ke sahare bhi aksar jee liya jaata hai
    har baat se parda uthaya jaaye ye jaroori to nahi
    लाल रंग वाले शब्द रंग में भंग डाल रहे हैं ।

    ये आपने ABAB में लिखने की कोशिश की है .. मतलब पहली और तीसरी पंक्ति एक जैसी समाप्त होनी चहिये और दुसरी और चौथी एक जैसी । पहली और तीसरी पंक्ति में रदीफ़ तो आपने ”जाता है" एक जैसा रखा जो कि बिल्कुल सही है लेकिन रदीफ़ से पहले ’काफ़िया’ गलत लिख गये ( ’हो’ और ’लिया’ शब्दों में कोइ समानता नहीं है ) जो कि गलत है ।

    ठीक इसी तरह दुसरी और चौथी पंक्ति में रदीफ़ ( ये जरुरी तो नहीं) फ़िर सही है लेकिन काफ़िये फ़िर गलत कर दिये ( ’करो’ और ’जाये’ में कोई समानता नहीं है ) ’करो’ के साथ सही काफ़िया मरो, धरो, चरो या हरो होना चाहिये । इसी प्रकार ’जाये’ के साथ ’आये’, ’पाये, ’लाये’, ’खाये’ इत्यादि ।

    याद रखो पंक्ति का अंत ( काफ़िया + रदीफ़ ) एक जैसा होना चहिये । रदीफ़ दोनो पंक्ति में वही शब्द होता है और काफ़िया एक जैसे बोले जाने वाला शब्द ।

    आप किसी भी प्रकार कि रचना लिख सकते हैं जैसे AABA, ABAB, AABB, AAAA लेकिन ’काफ़िया’ और ’रदीफ़’ का उपयोग अगर सही प्रकार से नहीं किया तो तकनीकी रुप से वह एक गलत रचना मानी जायेगी ।

    अगर काफ़िया और रदीफ़ अभी भी समझ नहीं आया तो एक बार इसे पढ्कर देखो । उमीद है जरुर समझ आ जायेगा ।

    http://www.jatland.com/forums/group.php?&do=discuss&groupid=4&discussionid=69&gm id=630#gmessage630

    फ़िर भी कुछ और पूछ्ना हो तो मुझे लिख सकते हो । मैं सहायता के लिये सदैव उपलब्ध हूँ ।
    Last edited by vijay; February 17th, 2009 at 08:02 PM.
    It's better to be alone than in a bad company.

  32. The Following User Says Thank You to vijay For This Useful Post:

    anuragsunda (May 31st, 2012)

  33. #40

    Thumbs up

    Awesome composition Vijay, every word written here is direct dil-se
    Have always enjoyed poetry written by you.
    Keep pouring.....

    Some thing from my collection .....

    phir usi raahguzar par shayad..
    hum kabhi mil sakein .. magar shayad..

    jo bhi bichhde hain kab mile hain FARAZ..
    phir bhi tu intezaar kar .. shayad..

    Quote Originally Posted by vijay View Post
    मेरा इंतज़ार करना


    वादा वो मोहब्बत का मैं निभाऊँगा एक दिन
    तुम मेरा इंतज़ार करना मैं आऊँगा एक दिन ॥

    ज़माने से अलग पह्चान है मेरी
    दुनियाँ की भीड में खोया नहीं हूँ
    जुदाई की रात चाहे लम्बी सही
    सुबह के इंतज़ार में सोया नही हूँ
    हर पल बस तुमको ही याद किया
    आँखें नम हुईं लेकिन रोया नही हूँ
    कैसे गुजरे थे ये दिन मैं सुनाऊँगा एक दिन
    तुम मेरा इंतज़ार करना मैं आऊँगा एक दिन ॥

    व्यस्त हूँ ज़िन्दगी की उलझनों में
    मत सोचना कि तुमसे प्यार नही है
    वादा करके जुबान से मुकर जाऊँ
    ऐसे तो मिले मुझे संस्कार नहीं है
    फ़ैसला मेरा जमाने ने सुन लिया
    तुम बिन ज़िन्दगी स्वीकार नहीं है
    मैने तुमको चाहा है तुमको पाऊँगा एक दिन ॥
    तुम मेरा इंतज़ार करना मैं आऊँगा एक दिन ॥

    आज हम और तुम इतने दूर सही
    यह तो अपनी किस्मत का लेखा है
    हमें मिलने से कोई न रोक पायेगा
    मेरे हाथ में तुम्हारे नाम की रेखा है
    तुम मंज़िल हो मेरे इस सफ़र की
    कितनी बार तुम्हें सपने में देखा है
    सपनों को हकीकत में बदल जाऊँगा एक दिन
    तुम मेरा इंतज़ार करना मैं आऊँगा एक दिन ॥

    दिल की हर आरज़ू को अंजाम दूँगा
    तुम अधूरी हसरतों का मलाल रख्नना
    उदास रहने से झुर्रियाँ पड जाती हैं
    अपने हसीन चेहरे का खयाल रखना
    ज़िन्दगी छोटी सी है और काम ज्यादा
    मेरे लिये बचा कर कुछ साल रख्नना
    अपनी ज़िन्दगी तुम पर मैं लुटाऊँगा एक दिन
    तुम मेरा इंतज़ार करना मैं आऊंगा एक दिन ॥

    सच्चे दिल की सदायें कुबूल होती हैं
    खुदा को तुम दुआयें तमाम लिखना
    दीवानापन अगर हद से गुजरने लगे
    अपनी चाहत पर कोई कलाम लिखना
    जब दिल मिले हैं तो हम भी मिलेंगे
    मेरा नाम जोडकर अपना नाम लिखना
    तुमको ही अपनी पह्चान मैं बनाऊँगा एक दिन
    तुम मेरा इंतज़ार करना मैं आऊँगा एक दिन ॥

    वह सवेरे का सूरज जब भी निकलेगा
    जुदाई की ये काली रात गुजर जायेगी
    उतरेगी समंदर में जब अपनी किश्ती
    मंज़िल तक छोडने खुद लहर जायेगी
    साथ मिलकर किसी दिन ढूँढ ही लेंगे
    ये खुशी हमसे बच कर किधर जायेगी
    हँसी तुम्हारे होठों पर मैं सजाऊँगा एक दिन
    तुम मेरा इंतज़ार करना मैं आऊँगा एक दिन ॥

    हमसफ़र बन कर हम जब भी चलेंगे
    मेरे हाथों में अपना हाथ थमाना होगा
    ज़िन्दगी के तन्हा पथरीले रास्तों पर
    मेरे हर कदम से कदम मिलाना होगा
    वह दिन आयेगा मुझपे यकीन करना
    बाँहों में आस्माँ कदमों में जमाना होगा
    जमाने को तुम्हारे आगे मैं झुकाऊँगा एक दिन
    तुम मेरा इंतज़ार करना मैं आऊँगा एक दिन ॥

    बढते हुए कदम अब नहीं रुकने वाले
    तीर कब का निकल चुका है कमान से
    चाहे जैसा भी हो अंजाम देखा जायेगा
    मोहब्बत नहीं डरती किसी इम्तहान से
    जमीन वाले बस देखते ही रह जायेंगे
    जब माँग लाऊँगा मैं तुम्हे आसमान से
    विजय तुम्हारी किस्मत में लिख जाऊँगा एक दिन ॥
    तुम मेरा इंतज़ार करना मैं आऊँगा एक दिन ॥

  34. The Following User Says Thank You to divyakadyan For This Useful Post:

    vijay (February 19th, 2012)

Posting Permissions

  • You may not post new threads
  • You may not post replies
  • You may not post attachments
  • You may not edit your posts
  •