Ranmal Singh

From Jatland Wiki
(Redirected from रणमल सिंह)
Jump to: navigation, search
Author: Laxman Burdak IFS (R)
Ranmal Singh, Katrathal

Ranmal Singh (Dorwal) (रणमल सिंह) (born:16.11.1923 ) from village Katrathal, Sikar, Rajasthan is a politician, social worker, a leading Freedom Fighter and a hero of Shekhawati farmers movement in Rajasthan.

Introduction

He is Ex-MLA of Congress Party (1977-1980) from Sikar District, Rajasthan.

Early life - Born to Smt Singari Devi and Shri Ganpat Singh, on 16th November, 1923 in the village of Katarathal in Sikar district, Rajasthan and schooled in Madhav School, Sikar Ranmal Singh started his career as a teacher.

Career as teacher: After completing schooling he was appointed as a teacher in Kotri Dhayalan school of Sikar thikana. In 1942 he was transferred to Piprali school and in 1943 to Kudan school. He resigned from the post of teacher on 29 February 1944.

Prajamandal: He soon joined the freedom movement by joining Jaipur Prajamandal under the guidance of social activist Badri Narayan Sodani of Sikar. He led Shekhawati farmers movement against the Jagirdars and Zamindars in the Shekhawati region in the interest of farmers.

Shekhawati farmers movement: He conducted number of meetings of farmers in various villages to awaken them against the exploitation by Jagirdars. On the 14h of December, 1945, 500 armed men of the Jagirdars, attacked him while he was addressing the farmers at Chaudhary Dudaram Nehra's Dhani in Molyasi village in Sikar, Rajasthan. He suffered critical injuries and was admitted to hospital.

In Army - In August 1947, when India gained its independence Ranmal Singh joined the Indian Army and trained in Lucknow in First Horse (Risaala). On 31 December, 1954, he retired from the reserves in the army but his services were called upon once again during the 1962 Indo-China war, when he was recruited in the army for two months.

A popular political leader and reformer: Not only he has been a dedicated servant of the country, both before and after independence, he has also been a social activist and popular political leader also. He was a pioneer in eradicating social evils like child-marriage, dowry, un-touchability, women education, mrityubhoj, pradapratha etc.

He has served as Sarpanch, Pradhan, Chairman of Sikar Sahkari Bhoomi Vikas Bank, Chairman of Sikar Krishi Upaj Mandi Samiti, founding Chairman of Sikar Kraya Vikraya Sahkari Samiti, Chairman of Sikar Kendriya Sahkari Bank, and Member Legislative Assembly of Rajasthan.

Sahkarita Ratna Award-2011: In 2011, he was awarded the Jawahar Lal Nehru IFFCO 'Sahkarita Ratna' and received Rs. 2,01,0007, as well as a certificate of appreciation. Believer and follower of Arya Samaj, he has helped the community fight against various social evils. He has participated in International Conferences of Arya Samaj in Europe (2010), Mauritus (2008), Russia & Armenia (2011), Thailand (2014) & Singapore (2014).

Educational Institutions: He has contributed invaluably in successful running of the Jat Boarding House Sikar and Gramin Mahila Shikshan Sansthan Sikar which are pillars of Institutions imparting education to the farming and rural communities.

Genealogy of Ranmal Singh

Following Genealogy of Ranmal Singh is based on Book Published on his life titled 'Shatabdi Purush - Ranbanka Ranmal Singh', Second Edition 2015, ISBN 978-81-89681-74-0 Pages 110-112:


Ancestors of Ranmal Singh came from Barwa, Jhunjhunu to Katrathal in V.S. 1807 (1759 AD).

↓some generations
Chimna Ram: (Marries: In Bhookhron Ka Bas)
Dewa Ram (Son of Chimna Ram) (Marries: In Sanwaloda Dhaylan of Beerda clan)
Tulchha Ram (Son of Dewa Ram) (Marries:In Kudan with daughter of Ch. Nopa Ram Sunda, Death: 1975 (1918 AD.) due to plague
Ganpat Singh (Son of Tulchha Ram), Born V.S. 1950 (1893 AD), Married to Smt Singari Devi Mahria of Dantru , Fatehpur, Sikar, Daughter of Panna Ram Mahria her Nanihal was in Karanga Chhota in Thori clan
Ranmal Singh (Son of Ganpat Singh), Born at Katrathal, Sikar on Margashirsh Krisnapaksha Navami V.S. 1980 (16.11.1923 AD), Marriage with Kasturi Devi Jakhar on on Akshaya Tratiya V.S. 1993 (1936 AD) of Dasa Ki Dhani daughter of Moona Ram Jakhar
Vidyadhar Singh (Son of Ranmal Singh), Married with Harkauri + Col. Ved Prakash (Son of Ranmal Singh) Married with Geeta + Geeta (Daughter of Ranmal Singh) (b.1943-d.20.10.2015) Married with Prem Singh Bhukar + Shanti Devi (Daughter of Ranmal Singh) Married with Balbir Singh Khichar + Sumitra (Daughter of Ranmal Singh) Married with Keshardeo Bhanwaria
Vidyadhar Singh has one son Atul Chaudhari + 5 daughters
+
Col. Ved Prakash has three sons 1. Amit Chaudhari, 2. Akhil Chaudhari (M:9414 883466), 3. Arun Chaudhary + one daughter Arti

Jat Boarding Sikar

Jat Boarding House Sikar was started under the guidance of Ishwar Singh Bhamu and Kalu Ram Sunda. Meanwhile, Master Kanhaiya Lal started hostel under a shed. In 1945 Sir Chhotu Ram inaugurated this Jat Hostel. Ranmal Singh, Katrathal retired from teaching profession and started helping in the running of this. Most of the funds collected for the running and maintenance of the boarding were single handedly raised by Ranmal Singh. He is president of the Jat Boarding House till date. By 1946 there were 15 rooms and two kitchens, with boundary wall around it. The hall was constructed with the help of Burdak Jats of Palthana. One room each was constructed by Rao Raja Sikar, Ch. Gopiram, Ch. Udaram Mawa of Dadia, Ch. Ishwar Singh Bhamu, Ch Gopal Ram Fandan, Rasidpura and Hari Ram Bhukar Gothra Bhukaran. Rest of the rooms were constructed with collective contribution from Jats of various villages.

Sahkarita Ratna Award-2011

Honoured as Shatabdi Purush - He is a great social crusader and freedom fighter. He was honoured as 'Shatabdi Purush' by organizing a felicitation programme and release of the publication named 'Ranbanka Ranmal Singh' on the occasion of his 92th birth day on 16 November 2014. Ranmal Singh's life and works are inspiring and worth emulating. This programme and publication will be successful in not only remembering the contributions of a great soul and social-political leader but will also be successful in motivating and inspiring younger generation to imbibe his qualities and to follow in footsteps of this great son of the soil.

He was honoured with Sahkarita Ratna-2011 Award on 21 November, 2011 by Lok Sabha Adhyaksha, Mira Kumar, in Delhi for his services in the field of Co-operative Movement.[1]

Book launched on Ranmal Singh

Book on Chaudhary Ranmal Singh ji's life which was launched at his 'Abhinandan Samaroh' on his 92nd Birth Anniversary.

A Book in Hindi language on Chaudhary Ranmal Singh's life was launched at his 'Abhinandan Samaroh' on his 92nd Birth Anniversary on 23.11.2014. The title of the book is: Shatabdi Purush Ranbanka Ranmal Singh under the guidance of his colleague Chain Singh Arya, Edited by Daya Ram Mehria, Chief Editor: Mahendra Singh Bhukar, Published by Kalpana Publication Jaipur, Phone: 0141-2317611, Mob: 9414053201, Second Edition 2015, ISBN 978-81-89681-74-0.

The content of this article is mainly based on this publication on his life.

A living Encyclopaedia

He is considered to be a living Encyclopaedia of Jat Gotras, Jat people and Jat History. He has got his original ideas of origin of Jats, Rajputs, many other communities and their Gotras. It is necessary that this oral knowledge of his should be recorded for future generations. Some of facts which I could get from him in verbal discussions are:

  • Maratha Jat connections: Ranmal Singh pointed out Maratha Jat connections. Some of the Maratha clans evolved from Jat clans as under:
Holkar - From Haga Jat clan
Sindia - From Sindhu Jat clan
Gayakwar - From Gawar Jat clan
Bhosle - From Bisu Jat clan

This is based on oral History and needs Genealogical research to establish any Jat-Maratha Connection.

Contact details

  • Address: Ranmal Singh, VPO: Katrathal, Tahsil and District Sikar, Rajasthan. Phone: 01572-232024
  • Col. Ved Prakash (Dorwal) - S/O Ranmal Singh, VPO: Katrathal, Distt. - Sikar, Rajasthan, Present Address : 238 AWHO Colony, Ambabari, Jaipur, Phone Number : 0141-2339471
  • Akhil Choudhary (Dorwal) - Grandson of Sh Ranmal Singh & son of Col. Ved Prakash, Advocate & Social Worker, Lions' Lane, Hanuman Nagar Ext, Jaipur. Mobile No. +91 9414 883466
  • Jitendra Bhukar - Dohita of Ranmal Singh, Mob:9414901010. He is second son of Geeta (Daughter of Ranmal Singh) and Prem Singh Bhukar. His elder brother is Col. Rajesh Bhukar.

रणमल सिंह के जीवन पर पुस्तक

रणमल सिंह के जीवन पर पुस्तक प्रकाशित की गई है जिसका शीर्षक है - शताब्दी पुरुष - रणबंका रणमल सिंह

मार्गदर्शक - चैनसिंह आर्य, संपादक - दयाराम महरिया, प्रबंध संपादक - महेन्द्रसिंह भूकर

कल्पना पब्लिकेशन जयपुर, फोन: 0141-2317611, मो: 9414053201

द्वितीय संस्कारण 2015, ISBN 978-81-89681-74-0

पुस्तक की विषय सूची

अनुक्रमांक विषय लेखक पृष्ठ
1 इतिहास पुरुष रतन सिंह गोठड़ा 1
2 बहुआयामी व्यक्तित्व सुमित्रा सिंह 6
3 निडर एवं संघर्षशील जननेता लक्ष्मण सिंह सुंडा, एडवोकेट, सीकर 7
4 शेखावटी का लौह-पुरुष राजेन्द्र कसवा 11
5 एक शताब्दी पुरुष रमेश्वरलाल सेवार्थी 23
6 बुजुर्ग स्वतन्त्रता सेनानी मो. हनीफ खत्री 25
7 सामाजिक धरोहर शिशुपाल सिंह 'नारसरा' 27
8 शेखावटी के चरणसिंह ठाकुर गोरधन सिंह, पूर्व विधायक, धोद 29
9 प्रेरणा दायक व्यक्तित्व प्रो. जवाहर सिंह जाखड़ 31
10 संघर्षशील व्यक्तित्व की एक झलक रामदेव सिंह आर्य 37
11 युगपुरुष कर्नल राजेश भूकर 43
12 युगपुरुष समाज सेवी रिछपाल सिंह जानू 48
13 चोखो अनोखो मिनख प्रो. भगवान सिंह झाझड़िया 51
14 गज़ब की कथा प्रो. जे. डी. सैनी 53
15 कर्मठ व ईमानदार इंसान प्रह्लाद झूरिया 55
16 मेरे प्रथम गुरु सुरत सिंह धायल 57
17 अपराजित यौद्धा राधाकृष्ण गिल 59
18 एक बहूआयामी व्यक्तित्व प्रो. सी. एम. कटारिया 61
19 रणबंका महेन्द्र शास्त्री, पूर्व विधायक, अलवर 63
20 ईमानदार व दमदार जननेता जय सिंह शेखावत 66
21 जीवट के धनी 'रणबंकुरे' डॉ ज्ञान प्रकाश पिलानिया (पूर्व राज्यसभा सांसद) 67
22 धरतीपुत्र डॉ रणजीत सिंह गिठाला 70
23 गृहस्थ संत शेर सिंह पुनिया, एडवोकेट 71
24 मेरे राजगुरु चौधरी दौलत राम सुंडा 74
25 स्वराज एवं सहकारी आंदोलन के जन नायक रिसालदार उदय सिंह 75
26 महर्षि दयानन्द के आदर्श मार्ग के अपरिश्रांत साहसी पथिक: स्वाधीनता सेनानी आचार्य नटवरलाल जोशी 78
27 एक वट वृक्ष बनवारी लाल नेहरा 81
28 प्रेरक एवं रोचक जीवन प्रसंग संपादक:दयाराम महरिया 85
29 एक समाज सुधार आंदोलन इंद्रा चौधरी गठाला 88
30 रण महारथी-किसान सारथी रामेश्वर लाल रणवां 90
31 ईमानदार एवं कर्मठ हनुमान सिंह आर्य 92
32 किसान की पुकार सर छोटूराम 93
33 किसान के लिए मेरा संदेश सर छोटूराम 99
34 बेधड़क की बिजली पृथ्वी सिंह 'बेधड़क' 103
35 जीवन परिचय रणमल सिंह 107
36 मेरी जीवन कहानी रणमल सिंह 110
37 डायरी के चुनिन्दा पन्ने रणमल सिंह 137
38 विधानसभा कार्यवाही के कुछ अंश 153
39 छायाचित्र 153

शताब्दी पुरुष - रणबंका रणमल सिंह पुस्तक से उद्धरण

रणमल सिंह के जीवन पर पुस्तक
  • सन् 1934 से ही आर्य समाज से जुडने के कारण जाती-प्रथा, छूयाछूत, अशिक्षा, जड़-पूजा, मूर्तिपूजा, अंधविश्वास, रूढ़ियों, पाखंडों के घोर विरोधी रहे हैं। अंतरराष्ट्रीय आर्य महा सम्मेलन दिल्ली, मारिशस, नीदरलैंड, मास्को, आर्मिनिया आदि देशों में शामिल हुये हैं। हाल ही सिंगापुर और थाईलैंड के आर्य सम्मेलन में 28 अक्तूबर 2014 से 12 नवंबर 2014 तक भाग लेकर लौटे हैं। (पृ. 4)
  • शादी विवाह में कम खर्चा करने, बिना दहेज, दिन में शादी करना आपकी मौलिक देन है। किसी भी प्रकार की नशाखोरी, गाजा-बाजा, नाच-गान के खिलाफ रह कर सादगी से सामाजिक कार्यों को प्रोत्साहन दिया है। (पृ. 4)
  • ग्राम में हरिजनों को मंदिर में पवेश का कार्य भी सर्वप्रथम आपके द्वारा ही आपके गाँव में हुआ जो दूसरों के लिए अनुकरणीय रहा। (पृ. 4)
  • ग्राम में शिक्षा के लिए भवन बनवाना, ज़मीनें दिलवाना, विद्यालयों को क्रमोन्नत कराना, शिक्षण संस्थाओं की प्रत्येक गतिविधि में भाग लेना आपके जीवन का अंग रहा है। ग्रामीण महिला शिक्षण संस्थान, सीकर, जाट बोर्डिंग हाऊस, सीकर, कर्माबाई शिक्षण संस्थान, लक्ष्मणगढ़ तथा अन्य कई संस्थाओं से जुड़कर उनको स्थापित करने स लेकर विस्तार रूप देने तक निरंतर प्रयत्नशील रहे हैं। अपने गाँव की स्कूल का भवन बनाने के लिए चीनी के कोटे पर प्रति व्यक्ति 10 पैसे प्रतिमाह लगाकर बहुत बड़ी रकम एकत्रित की गई थी जो आपकी एक अनूठी पहल थी। लाखों का दान स्वयं भी दिया है। आपका जीवन सदा मौलिकता प्रधान रहा है। अंधानुकरण से हमेशा परहेज किया। (पृ. 4)
  • आप जब बोलना शुरू करते हैं तो निरंतर अबाध गति से बिना रुके घंटों तक बोलते रहते हैं। ज्ञान पिपासु इतने हैं की उसे अर्जित करने के लिए देशाटन, सत्संग और स्वाध्याय में सदैव उत्सुकता से लगे रहते हैं। पिछले 58 वर्ष से डायरी लिखते हैं। (पृ.5)
  • वर्ष 1977 में जब पूरे उत्तरी भारत में कांग्रेस का सफाया हो गया था, तो कांग्रेस के टिकट पर सीकर जैसे शहरी विधानसभा क्षेत्र से अपनी लोकप्रियता के बलबूते विधायक बने। (पृ 6)
  • एक सरपंच से लेकर विधायक तक के पद पर पहुँचने वाले रणमल सिंह जी अपनी धुन के पक्के एवं अपने सिद्धांतों पर अटल रहते हुये अपने जीवन की संध्या पर खड़े हैं। (पृ 6)
  • वर्ष 1943 में आप कूदन में अध्यापक बन कर आए और उससे पूर्व आप कोटड़ी धायलान, ग्राम पिपराली में अध्यापक रह चुके थे। कोटड़ी धायलान में आपके अन्य शिष्यों के अलावा गोपाल सिंह खंडेला, पूर्व विधायक व मंत्री तथा सूरत सिंह मुख्य थे। 1944 में आपने राजनीति में प्रवेश किया। वे प्रजामंडल जयपुर के सदस्य बन गए। उसके बाद भारतीय सेना में भर्ती हो गए। 7 वर्ष बाद सेवानिवृत होकर 1954 में आए तथा बाद में एक बार पुनः 1962 में भारत-चीन युद्ध में दो माह के लिए सेना में सेवा दी। (पृ 7)
  • आपने युवा अवस्था में ही स्वतन्त्रता संग्राम में पूरा हिस्सा लिया। उसी दौरान आपको ग्राम मोल्यासी में रात्री में किसानों की सभा को संबोधित करते समय लाठियाँ झेलनी पड़ी। आपके सिर व नाक पर गंभीर चोटें आते हुये भी आपने मंच नहीं छोड़ा और जोशीले नारे लगाकर किसानों को रोकते रहे। उस घटना का साक्षी आज भी उनका चेहरा देखने से नाक की दबी हुई हड्डी है। (पृ 8)
  • आपने मृत्यु-भोज बंद करने और दिन में शादी करने के सराहनीय प्रयास किए। बिना घूँघट के शादी सबसे पहले अपनी पुत्री की करने की पहल की और हर किसी की सेवा निः स्वार्थ भाव से करते आ रहे हैं। इसी का परिणाम है कि राजस्थान में पंचायती राज स्थापित होने के बाद अपनी ग्राम पंचायत कटराथल में सरपंच बने व 1965 में पंचायत समिति पिपराली के प्रधान बने। जो 12 वर्ष तक रहे। (पृ 8)
  • इसी भांति सहकार आंदोलन से जुड़कर सर्वप्रथम अपने गाँव से ग्राम सेवा सहकारी समिति का 1958 में गठन कर 40 वर्ष तक इसके अध्यक्ष रहे। इसी आंदोलन को आगे बढ़ते हुये सीकर सहकारी भूमि विकास बैंक, सीकर; सीकर कृषि उपज मंडी, सीकर, सीकर क्रय-विक्रय सहकारी समिति व सीकर केन्द्रीय सहकारी बैंक, सीकर के भी आप अध्यक्ष रह चुके हैं। आपके अध्यक्ष बनाने से पहले सीकर केन्द्रीय सहकारी बैंक, सीकर काफी घाटे में चल रही थी जिसको घाटे से निकाल कर लाभ में ले आए। (पृ 8)
  • सीकर जिले में आपकी हर क्षेत्र में हर जगह अहम भूमिका रही है, जैसे – सीकर ठिकाने द्वारा लगाए गए टोल टैक्स के विरुद्ध आंदोलन हो, चाहे राजस्थान सरकार द्वारा अनाज पर लगाई गई लेवी के विरुद्ध आंदोलन हो, चाहे राजस्थान में बिजली संकट को लेकर जेल भरो आंदोलन हो या अन्य किसानों के हित कि रक्षा के लिए आंदोलन हो, आपकी सभी में अहम भूमिका रही है जो सर्वविदित है। (पृ 9)
  • आपकी आज भी स्मरण शक्ति इतनी प्रखर है कि जो व्यक्ति एक बार आपसे मिल गया उसके गाँव व गोत्र की जानकारी उनसे कभी भी ले सकते हैं। अब तक जिस गाँव से गुजरे हैं उस गाँव का नाम, गाँव के गोत्र आज भी बता सकते हैं। हर गाँव का आपको पूरा ध्यान है। उस गाँव में किस की रिसतेदारी है, वहाँ कौनसी जाती के और गोत्र के लोग रहते हैं, आपको याद है। (पृ 9)


  • स्वतन्त्रता सेनानी पूर्व विधायक रणमल सिंह का जन्म सीकर जिले के कटराथल गाँव में मार्गशीर्ष कृष्ण पक्ष नवमी वि. स. 1980 सन् 1923 को हुआ। आपके पिताजी का नाम गणपत सिंह डोरवल तथा माता का नाम सिणगारी देवी महरिया था। आपकी प्राथमिक शिक्षा गाँव कटराथल में हुई। आपने सन् 1941 में माधव मिडल स्कूल सीकर से वर्णाकुलर मिडिल परीक्षा पास की। (पृ 31)
  • राजनेता से अधिक आपका समाज सुधारक एवं समाज सेवा का अनुकरणीय जीवन रहा है। आप सहज स्वभाव, सरल एवं सादगीपूर्ण जीवन के मूर्त रूप हैं। आप प्रारम्भ से समाज में व्याप्त कुरीतियों, यथा: ओसार-मोसर, दहेज प्रथा, बाल-विवाह, प्रदर्शन व दिखावा, बड़ी बारात, छूछक, कुआ-पूजन, गणगौर पूजन, अंध-विश्वीस एवम् टोना-टोटका के प्रबल विरोधी रहे हैं। आपका मानना है कि शिक्षा विशेष रूप से नारी शिक्षा से समाज सामाजिक बुराईयों से मुक्ति पा सकता है एवं परिश्रम व कर्म से ही समाज आगे बढ़ सकता है। आपने 1951 में अपनी पौत्रियों को स्कूल भेज कर गाँव में नारी शिक्षा का मार्ग प्रसस्त किया। (पृ 31)
  • सन् 1966 में अपने पिता के देवलोक सिधारने पर समाज की चर्चाओं को दरकिनार कर मृत्युभोज न करने के निर्णय पर अडिग रहकर मृत्युभोज बंद करने वालों की अग्रिम पंक्ति में शामिल होने का साहसिक कार्य किया। आपने अपनी लड़कियों की शादी में न दहेज दिया और न पर्दा रखा। आप ऐसी शादियों में सम्मिलित नहीं होते जहां अनावश्यक दिखावा-प्रदर्शन, उछल-कूद एवं फिजूलखर्ची होती हो। आप दिन की शादियों के पक्षधर हैं। आपकी कथनी और करनी में अंतर नहीं है। आज के वैभवशाली भौतिक जीवन से कोशों दूर हैं। सीमित साधन होने के बावजूद हमेशा ही सामाजिक एवं शैक्षणिक संस्थाओं में खुले हाथ दान एवं आर्थिक सहायता देनेन में अग्रणी पंक्ति में खड़े रहने की आपकी स्वाभाविक प्रवृति देखने को मिली है। आप स्वयं तो सामाजिक संस्थाओं को आर्थिक सहयोग देते ही हैं साथ ही आप अपने संबंधियों, रिशतेदारों एवं अनुयाईयों को भी यथा सामर्थ्य दान देने को प्रेरित करते हैं। (पृ 32)
  • धन के प्रति आपके वैराग्य का अनुमान इस बात से लगाया जा सकता है कि 1911 में आपको जवाहर लाल नेहरू इफको सहकार रत्न की उपाधि से अलंकृत किया गया। इसके अंतर्गत शाल, श्रीफल, तथा प्रमाणपत्र के अतिरिक्त आपको 201000 का नकद पुरस्कार भी दिया गया। आपने यह सम्पूर्ण राशि विभिन्न संस्थाओं में दान स्वरूप वितरित करदी। (पृ 33)
  • आप जाट बोर्डिंग हाऊस सीकर से इसकी स्थापना के समय से ही जुड़े हैं। यह संस्था ही एक मात्र ऐसा स्थान रहा है, जहां किसी जमाने में किसानों को रात्री विश्राम को जगह मिलती थी। यही एक मात्र स्थान था जहां कृषक वर्ग के छात्रों को छात्रावास की सुविधा उपलब्ध थी। एक समय ऐसा आया कि यही छात्रावास राजनीति कि भेंट चढ़ गया। सरकार ने इसे 1987 में कुर्क कर दिया और इस छात्रावास को बदहाली की सूरत के लिए विवश किया। आपसे इसकी दुर्दशा देखी नहीं गई। आपने स्वर्गीय कामरेड त्रिलोक सिंह महला एवं कन्हैया लाल महला से पहले अलग-अलग और बाद में एक साथ मिलकर मंत्रणा की। तदुपरान्त दोनों पक्षकारों में 31 मार्च 1998 को परस्पर राजीनामा हुआ और राजीनामे की प्रति संबन्धित न्यायालय में प्रस्तुत कर इसे पुनः जाट बोर्डिंग हाऊस संस्थान की कार्यकारिणी के 5 सदस्यों क्रमश: रणमल सिंह, कन्हैया लाल महला, त्रिलोक सिंह महला, गणेश बेरवालरामदेव सिंह गढ़वाल को भौतिक चार्ज दिलवाया। उस समय स लेकर आज तक आप जाट बोर्डिंग हाऊस सीकर के अध्यक्ष हैं। सबको साथ चलने की मंशा के साथ आपने इसके उत्थान एवं विकास के लिए अथक प्रयास किए। स्थानीय एवं प्रवासी दान दाताओं से पर्याप्त धनराशि संग्रह कर इसकी कायापलट करदी। अब यहाँ छात्रों का सुरक्षित एवं सुसज्जित छात्रावास है। यहाँ बास्केट बाल व टेनिस का कोर्ट है। संस्थान का सामुदायिक भवन है। यहाँ स्वर्गीय युवा साहित्यकार मनसुख रणवा की पुण्य स्मृति में पुस्तकालय भवन बन चुका है, जिसे सुसज्जित बनाने का आश्वासन उनकी धर्मपत्नी श्रीमती दुर्गादेवी ने दे रखा है। दक्षिण दिशा में चौधरी पोखर सिंह मील की स्मृति में मुख्या द्वार बन चुका है। आपके सद्प्रयासों एवं प्रेरणा से ही प्रेरित होकर प्रो शिवनाथ सिंह ने मुख्य द्वार पर एक हाल बनाने एवं गोठड़ा तथा दिनारपुरा के भूकरों ने छात्रावास की सुसज्जित मैश बनाने की घोषणा कर रखी है। (पृ 33)
  • सन् 1990 से ही राजस्थान में जाट आरक्षण की आवाज उठ रही थी। इसे बुलंदी पर पहुंचाया 1995 में सीकर में आयोजित जाट महासभा के सम्मेलन ने। 1999 के लोकसभा चुनावों की घोषणा तक इस आरक्षण के मुद्दे पर तत्कालीन भारत सरकार कोई नीतिगत निर्णय नहीं ले सकी। लोकसभा के चुनावों की घोषणा के साथ ही जाट आरक्षण धर्मयुद्ध की ज्वाला भभक उठी। 1 अगस्त 1999 को जयपुर में आयोजित जाट महासभा की बैठक में अहम निर्णय लिया गया कि कांग्रेस को हटाओ एवं ऐसे उम्मीदवार को वोट दो जो कांग्रेस उम्मीदवार को हरा सके। इस निर्णय में सीकर जाट महासभा का अभूतपूर्व योगदान रहा था। सीकर जाट आरक्षण संघर्ष समिति के अध्यक्ष श्रवण कुमार बुरड़क थे। सीकर जिले के 60000 से अधिक व्यक्तियों ने उक्त सम्मेलन में भाग लिया था। (पृ 34)
  • इसके बाद सीकर जाट महासभा में लोकसभा उम्मीदवार के चयन के लिए कई उतार-चढ़ाव आए। कांग्रेस ने बलराम जाखड़ को सीकर से उम्मद्वार बनाया। 22 अगस्त 1999 को सीकर जाट महासभा कि बैठक मण्डी प्रांगण में हुई जिसमें सीकर से लोक सभा उम्मीदवार खड़ा करने पर विचार हुआ। रणमल सिंह सुभाष महरिया के पक्ष में थे। । 29 अगस्त 1999 को रामलीला मैदान में आयोजित जाट महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष दारा सिंह, राजस्थान जाट महासभा के संरक्षक डॉ ज्ञानप्रकाश पिलानिया, प्रदेश अध्यक्ष राजाराम मील, उपाध्यक्ष डॉ हरी सिंह, प्रवक्ता महेंद्र शास्त्री की उपस्थिती में जाट महापंचायत के आयोजित विशाल सम्मेलन में यह निर्णय लिया गया कि सीकर लोकसभा के लिए सुभाष महरिया को समर्थन दिया जावे। आपने उस समय सभासदों को अपने अपने क्षेत्र में जाकर सुभाष महरिया के पक्ष में समर्थन जुटाने का आव्हान किया और राष्ट्रीय अध्यक्ष को यह विश्वास दिलाया कि हम हर सूरत में सीकर से सुभाष महरिया को जीता कर भेज देंगे। मतदान समाप्त होने तक अंतिम क्षण तक आप पूरे दल-बल के साथ लगे रहे और वही कर दिखाया जो उस समय नामुमकिन लग रहा था। (पृ 35)
  • आपके परिवार में आपके एक पुत्र वेद प्रकाश सेना के सेवानिवृत कर्नल हैं एवं एक पुत्र विद्याधर सिंह स्कूल शिक्षा से सेवा निवृत हैं। आपकी एक पुत्री गीता भूकर सेवानिवृत अध्यापिका थी एवं दूसरी पुत्री सुमित्रा भंवरिया प्रधानाध्यापिका पद पर कार्यरत है। आपके साले स्वर्गीय बलबीर सिंह जाखड़ सन् 1952 में लक्ष्मण गढ़ विधानसभा से विधायक रहे हैं। (पृ 36)
  • आप अपने गाँव के प्रथम व्यक्ति हैं जिसे 1955 में पहली बार ग्राम पंचायत का निर्विरोध सरपंच बनाने का सौभाग्य मिला। बाद में 1965-78 तक पंचायत समिति पिपराली के प्रधान रहे। 1977 में लोकनायक जयप्रकाश नारायन के नेतृत्व में कांग्रेस विरोधी लहर चल रही थी । जनता लहर में विधानसभा में 200 में 43 विधायक कांग्रेस के थे जिनमें आप भी एक थे। (पृ 39)
  • आपकी पुत्री गीता भूकर के तीन पुत्र हैं – कर्नल राजेश भूकर, जितेंद्र भूकर और महेंद्र भूकर तथा पुत्री सरिता है। आप सभी का बचपन नाना रणमल सिंह के साथ कटराथल में बीता। (पृ 43) पुत्री गीता का विवाह 1960 के दशक में धन्नाराम जी भूकर दिनारपुरा के पुत्र प्रेमसिंह के साथ बिना पर्दा व दहेज के किया। (पृ 49)


  • आप सन 1958 से दैनिक दारी नियमित रूप से लिखते हैं। (पृ 43)
  • श्रीमति सालेहा गाजी, जो कि दूरदर्शन कि प्रसिद्ध एंकर हैं एवं 1000 से ज्यादा कार्यक्रमों की प्रस्तुति दे चुकी हैं, ने 2013 में दूरदर्शन राजस्थान पर रणमल सिंह का इंटरव्यू प्रसारित किया। कार्यक्रम था – Inspiring Veterans. (पृ 45)
  • विश्व आर्य सम्मेलन में भाग लेने के लिए हालैंड एवं यूरोप भ्रमण के दौरान 2010 में 21 दिन के भ्रमण के दौरान दोहिते कर्नल राजेश भूकर भी साथ थे। कर्नल राजेश भूकर लिखते हैं कि 88 वर्ष की उम्र में भी उनकी भ्रमण की इच्छा शक्ति और जोश देखने लायक था। उन्होने दुर्गम स्थलों पर भी घूमने में कोताही नहीं बरती। एस्सल वर्ल्ड के झूलों में झूलने में नवयुवक भी घबराते थे, वे उनका भी बिना किसी भय के आनंद लेते थे। भ्रमण दल के प्रत्येक सदस्य के खाना खाने के बाद स्वयं खाना खाते और सबकी कुशल क्षेम का ध्यान रखते। (पृ 45)

जीवन परिचय: रणमल सिंह के शब्दों में

संदर्भ - रणमल सिंह के जीवन पर प्रकाशित पुस्तक - 'शताब्दी पुरुष - रणबंका रणमल सिंह' द्वितीय संस्करण 2015, ISBN 978-81-89681-74-0, पृष्ठ 107-109

जीवन परिचय

पूर्वज : संवत 1807 तदनुसार 1759 ई. में ग्राम बारवा, जिला झुंझूनुं से कटराथल आए

बड़े परदादा : श्री चिमनाराम डोरवाल (शादी:भूकरों का बास)

परदादा : श्री देवाराम डोरवाल (शादी: सांवलोदा धायलान में बीरडा गोत्रीय परिवार में)

दादा : श्री तुलछा राम डोरवाल (शादी: कूदन चौधरी नोपाराम जी सुंडा की बेटी के साथ), देहांत विक्रम संवत 1975 (1918 ई.) में प्लेग से, दादी का ननिहाल कंवरपुरा में बिजारनिया परिवार में

पिता : श्री गणपत सिंह डोरवल, जन्म विक्रम संवत 1950 (1893 ई.), माता जी का ननिहाल ग्राम कारंगा छोटा में थोरी गोत्र में था

माता : श्रीमती सिणगारी देवी महरिया, ग्राम दांतरू तहसील फ़तेहपुर में चौधरी ठाकुर सिंह महरिया के छोटे भाई पन्नारामजी महरिया की पुत्री

रणमल सिंह : जन्म: ग्राम कटराथल, जिला सीकर (राजस्थान) के प्रतिष्ठित किसान परिवार में मार्गशीर्ष, कृष्ण पक्ष नवमी, विक्रम संवत 1980 (16 नवंबर 1923 ई.), शादी सन् 1936 (संवत 1993 अक्षय तृतिया) में श्रीमती कस्तूरी देवी जाखड़ से, जो दासा की ढ़ाणी के चौधरी मूनाराम जाखड़ की बेटी थी

पत्नी : श्रीमती कस्तूरी देवी जाखड़, जो दासा की ढ़ाणी के चौधरी मूनाराम जाखड़ की बेटी थी

पुत्रियाँ-दामाद : 1. श्रीमती गीता (b.1943-d.20.10.2015) – प्रेम सिंह भूकर दिनारपुरा, 2. श्रीमती शांति देवी – बलबीर सिंह खीचड़ और 3. श्रीमती सुमित्रा – केशर देव भंवरिया

पुत्र – पुत्रवधु : 1. विद्याधर सिंह – हरकोरी, 2. कर्नल वेदप्रकाश – गीता

शिक्षा: हिन्दी मिडिल (वर्णाकुलर फाइनल) 1941 ई. , स्कूल : माधव स्कूल, सीकर

शिक्षक :

1 जुलाई 1941 सीकर ठिकाना में कोटड़ी धायलान में ग्रहण किया
1942 में ग्राम पिपराली
1943 ग्राम कूदन रामदेव सिंह गिल से कार्यभार ग्रहण किया, रामदेव सिंह गिल 13 मई 1952 को चंवरा में शहीद हो गए

स्वतन्त्रता सेनानी: 29 फरवरी 1944 को अध्यापक पद से त्याग पत्र देकर जयपुर प्रजा मण्डल में शामिल। देश की आजादी के लिए एवं जागीरदारों के जुल्म के खिलाफ शेखावाटी किसान आंदोलन में भाग लिया। 14 दिसंबर 1945 को मोल्यासी (सीकर) में चौधरी दूदाराम नेहरा की ढ़ाणी में एक सभा के दौरान जागीरदारों ने हथियारों से लेस 500 हमलावरों ने आक्रमण किया। सभा में मंच पर भाषण के दौरान हुये आक्रमण में नाक क्षतिग्रस्त हुई एवं सिर में धारदार हथियारों की चोटें आई तथा गंभीर रूप से घायल हुये।

भारतीय सेना में: अगस्त 1947 में भारतीय सेना में भर्ती होकर फर्स्ट हार्स (रिसाला), लखनऊ में प्रशिक्षण प्राप्त किया। 31 दिसंबर 1954 को रिजर्व सेवानिवृत हुये एवं 1962 में भारत-चीन युद्ध में पुनः 2 माह के लिए सेना में कार्य किया।

लोकप्रिय नायक:

  • सरपंच: ग्राम पंचायत कटराथल (सीकर) - 6 जनवरी 1955 ई. निर्विरोध निर्वाचित।
  • सरपंच: ग्राम पंचायत कटराथल (सीकर) – 1961 ई.
  • सरपंच: ग्राम पंचायत कटराथल (सीकर) – 1965 ई.
  • सरपंच: ग्राम पंचायत कटराथल (सीकर) – 1978 ई.
  • सरपंच: ग्राम पंचायत कटराथल (सीकर) – 1988 ई.
  • प्रधान: पंचायत समिति पिपराली (सीकर) 1965 – 1977 ई.
  • विधायक: सीकर विधान सभा क्षेत्र 1977 – 1980 ई.

सहकार सारथी:

  • ग्राम सेवा सहकारी समिति, कटराथल 1958 ई. में गठन किया, संस्थापक अध्यक्ष एवं 40 वर्ष से अधिक समय तक अध्यक्ष रहे।
  • अध्यक्ष, सीकर सहकारी भूमि विकास बैंक 1964 – 1971 ई.
  • अध्यक्ष, सीकर कृषि उपज मंडी समिति 1964 – 1971 ई. तक , संस्थापक अध्यक्ष
  • अध्यक्ष, सीकर क्रय-विक्रय सहकारी समिति 1959 – 1965 ई. तक संस्थापक अध्यक्ष
  • उपाध्यक्ष सीकर केंद्रीय सहकारी बैंक 1958 – 1962 ई. तक
  • अध्यक्ष सीकर केंद्रीय सहकारी बैंक 1992 – 1996 ई. तक
  • जवाहर लाल नेहरू इफको ‘सहकारिता रत्न’ पुरस्कार 2011 ई. से सम्मानित। रु 201000 का नगद पुरस्कार एवं प्रमाण पत्र

समाज सुधारक:

  • प्रजापत महयज्ञ (सीकर) 1934 ई. में 11 वर्ष की आयु में भाग लिया एवं आर्य समाज से जुड़े। छूयाछूत, मृत्युभोज, पर्दा-प्रथा, स्त्री शिक्षा, दहेज प्रथा आदि सामाजिक कुरीतियों का विरोध किया एवं इनको दूर करने का अथक प्रयास किया।
  • स्वयं की पुत्री को 1951 ई. में विद्यालय में प्रवेश दिलाकर स्त्री शिक्षा के क्षेत्र में अथक प्रयास किया।
  • स्वयं की पुत्रियों के विवाह बिना घूँघट 1960 ई. में करते हुये प्रदा-प्रथा को समाप्त करने के लिए प्रयास किए। स्वयं के परिवार में विवाह में दहेज नहीं लेकर/देकर दहेज प्रथा समाप्त करने के प्रयास प्रारम्भ किए।
  • मृत्युभोज का विरोध 1943 ई. में प्रारम्भ किया। 1966 ई. में स्वयं के पिता का मृत्युभोज नहीं किया।
  • स्वयं के परिवार से 7 मई 1974 ई में रात्री-विवाह बंद कर दिन में विवाह प्रारम्भ किया।
  • हरिजन सेवक संघ के संस्थापक सदस्य बने तथा 24 अप्रेल 1955 को अपने ग्राम कटराथल में अनुसूचित जाति की 4 कौम (हरिजन, राइगार, मेघवल एवं नायक) को मंदिर में प्रवेश करवाकर छूयाछूत समाप्त करने का प्रयास किया।
  • अंतरजातीय विवाह को प्रोत्साहन।
  • क्षेत्र के लड़कों को सैनिक स्कूल में प्रवेश करवाने एवं भर्ती के लिए प्रोत्साहन करने में विशेष योगदान।
  • फरवरी 1943 ई. (बसंत पंचमी) को सीकर जाट बोर्डिंग हाऊस, संस्थान का शिलान्यास करवाने सक्रिय रहे। संस्थान में ग्रामीण क्षेत्र के कृषक वर्ग, आर्थिक एवं सामाजिक रूप से पिछड़े विद्यार्थियों के लिए आवास की व्यवस्था करने एवं बोर्डिंग हाऊस निर्माण समिति के अध्यक्ष के रूप में 7 अगस्त 1947 तक सक्रिय रहे। 1 दिसंबर 1976 से जाट बोर्डिंग हाऊस संस्थान (रजिस्टर्ड) के अध्यक्ष रहे।
  • आर्य समाज से 1934 ई. से जुड़कर वर्तमान समय में भी सामाजिक कुरीतियोंकों समाप्त करने तथा सामाजिक विकास की गतिविधियों में सक्रिय हैं।
  • आर्य समाज के अंतरराष्ट्रीय सम्मेलनों में भाग लेने के लिए अब तक मरीशस वर्ष 2008, यूरोप 2010 एवं रूस व आर्मिनिया की वर्ष 2011 में यात्रा की है। 28 अक्तूबर 2014 से 11 नवंबर 2014 तक थाईलैंड व सिंगापूर की यात्रा की।

मेरी जीवन कहानी: रणमल सिंह के शब्दों में

संदर्भ : रणमल सिंह के जीवन पर प्रकाशित पुस्तक - 'शताब्दी पुरुष - रणबंका रणमल सिंह' द्वितीय संस्करण 2015, ISBN 978-81-89681-74-0 पृष्ठ 110-136

[पृष्ठ 110]: मेरा जन्म मिति मार्गशीर्ष कृष्ण पक्ष नवमी विक्रम संवत 1980 तदनुसार 19 नवंबर 1923 को ग्राम कटराथल (सीकर) में हुआ। मैं अपने माता-पिता की तीसरी संतान हूँ। मेरे पिताजी का नाम चौधरी गणपत सिंह व मताजी का नाम सिणगारी देवी था। मेरे पिताजी कहते थे कि छपनिया अकाल (संवत 1956) के समय वे 6 वर्ष के थे। अर्थात मेरे पिताजी का जन्म विक्रम संवत 1950 (1893 ई.) में हुआ। वे दो भाई और चार बहिने थे। पिताजी का ननिहाल कूदन ग्राम में सुंडा गोत्र परिवार में चौधरी नोपरामजी सुंडा के था। मेरी दादी के चार भाई थे और वह अकेली ही थी। मेरी दादी का ननिहाल कंवरपुरा में बीजारनिया परिवार में था। मेरा ननिहाल ग्राम दांतरू तहसील फ़तेहपुर में चौधरी ठाकुर सिंह महरिया के छोटे भाई पन्नाराम जी के यहाँ था। मेरी माता जी का ननिहाल ग्राम कारंगा छोटा में थोरी गोत्र में था और नानीजी का ननिहाल ग्राम भाऊजी की ढाणी में डोटासरा परिवार में था। मेरा नाम मेरी माताजी ने रिड़मल रखा था। रिड़मल मंडीवाल ने दांतरू ग्राम के तन में ही मंडीवाल की ढाणी बसाई थी और उसका उठना-बैठना मेरे बड़े नाना चौधरी ठाकुर सिंह के यहाँ था। चौधरी ठाकुर सिंह महरिया दांतरु बावनी (52 हजार बीघा भूमि) (खाप) का चौधरी था। रजवाडी में गाँव के मुखिया को मेहता अथवा चौधरी कहते थे। बाद में पटेल कहने लगे। मेरा छोटा भाई मुझसे पाँच वर्ष छोटा था और बड़े भाई मुकुन्द सिंह चार वर्ष बड़े तथा सबसे बड़े भाई श्री दौलत सिंह मुझसे आठ वर्ष बड़े थे जिनका विवाह संवत 1885 में हुआ। मेरी शादी विक्रम संवत 1993 (1936 ई.) अक्षय तृतिया के दिन हुई। मैं तेरहवें वर्ष में चल रहा था। मैं जब पालने में था तभी मेरी चाची ने मां से वचन ले लिया था कि इस लड़के का रिश्ता मैं अपने पीहर दासा की ढाणी में ही करूंगी।


[पृष्ठ-111]: जब मैं 11 वर्ष का था उस समय जाट एजीटेशन के समय 1934 ई. में वर्तमान कलेक्ट्रेट के सामने प्रजापत महयज्ञ हुआ था। मैं प्रतिदिन मेरे साथियों के साथ यज्ञ देखने जाया करता था। उस समय मेरे एक ही बात समझ में आई कि मूर्तिपूजा पाखंड है। ईश्वर निराकार व सर्वव्यापी है। उसके बाद आज तक मैंने किसी पत्थर की मूर्ति के सामने हाथ नहीं जोड़ा। न मैंने अपनी पत्नी के गठजोड़े की जात सालसर बालाजी के दिलवाई और न मेरे बच्चों का जड़ूला उतरवाया।

रणमल सिंह के पूर्वज:

मेरे पूर्वज संवत 1807 तदनुसार 1759 ई में ग्राम बारवा, उदयपुरवाटी जिला झुंझूनुं से कटराथल आए थे। कारण एक दुर्घटना घटित हो गई थी। कहते हैं कि छपनिया अकाल से पूर्व खेजड़ी छांगते नहीं थे । भेड़ बकरियों को ही कुल्हाड़ा या अकूड़ा से काटकर चारा डाल दिया करते थे। उस समय गाय ही प्रमुख पशुधन था। ऊंट व भैंस नाम के ही थे। उस समय कहावत थी कि “घोड़ां राज और बल्दां (बैल) खेती” पाला (बेर की झड़ी की पत्तियाँ) बहुत होता था , सो गायों को पाला डाल देते और कड़बी का पूला तोड़ देते। उस समय छानी नहीं काटी जाती थी। मेरे पूर्वजों के खेत में चार राजपूतों के लड़के आए और उन्होने खेजड़ी की टहनियाँ काटकर अपनी बकरियों को डाल दी। हमारे पूर्वज के चार बेटे थे। सबसे छोटा बेटा बकरियाँ लेकर खेत गया हुआ था। उसने उनका विरोध किया औए अकेला ही उन चारों से भीड़ लिया। एक लड़के ने उसकी गरदन पर कुल्हाड़े से वार कर दिया और उसकी वहीं मृत्यु हो गई। इसका समाचार जब उसके पिता को दिया तो वह लट्ठ लेकर चल पड़ा। उन चारों में से एक लड़का तो भाग गया शेष तीन को उसने जान से ही मार डाला। गाँव के राजपूतों ने मंत्रणा की कि ये चारों बाप-बेटे हम से तो मार खाएँगे नहीं , क्योंकि सभी 6 फीट के जवान थे। अन्य गांवों और आस-पास के राजपूतों को बुलाकर लाओ और रात को इनके घर को आग लगाकर इन्हें जीवित जलादो। यह सूचना एक दारोगा (रावणा राजपूत) ने इनको दे दी। सो अपना गाड़ा (चार बैलों वाला) और दो बैलों में बर्तन भांडे, औरतें तथा बकरियों के छोटे बच्चों तथा गायों के छोटे बछड़ों को गाड़े में बैठाकर यहाँ से चल पड़े और रात को बेरी ग्राम के बीड़ में आकर रुके। सुबह उठकर कटराथल पहुँच गए। उस समय कटराथल में चौधरी (मेहता) ज्याणी गोत्र का जाट था। हमारे गाँव में मुसलमानों ने बौद्धकालीन मंदिर तोड़कर टीले पर गढ़ बनाया था। उस की एक बुर्ज आज भी खड़ी है। बौद्धकालीन मूर्तियों को गढ़ की नींव में औंधे मुंह डाल दिया। कालांतर में शेखावतों ने गढ़ पर कब्जा कर लिया था। हमारे गाँव के दो राजपूत जयपुर-भरतपुर के बीच हुये युद्ध (मावण्डा) में मारे गए थे। उनकी छतरियाँ आज भी गाँव मैं मौजूद हैं। दो विधवा ठुकराणियां एवं उनके नौकर-चाकर ही थे।


[पृष्ठ-112]: ज्याणी गोत्र के जाट चौधरी ने उन ठुकराणियों को बताया कि एक आदमी अपने परिवार एवं पशुओं सहित आया है तो उन्होने कहा कि उसे यहीं बसाओ। खीचड़ गोत्र के जाट हमारे पूर्वजों से 50 वर्ष पहले ही कटराथल में आकर बसे थे। उनके पास ही हमारे पूर्वजों को बसा दिया गया।

मेरे परदादा का नाम चौधरी देवाराम डोरवाल था। उनके पिताजी का नाम चिमनाराम था। वे दो भाई थे, बड़े का नाम जीवनराम था। मेरे परदादा का ननिहाल भूकरों के बास में था। वे पाँच भाई बहिन थे। उनके पिताजी का देहांत हो जाने पर उनकी माताजी अपने बच्चों को लेकर अपने पीहर भूकरों का बास चली गई। ननिहाल वालों ने मेरे परदादा की सगाई सांवलोदा धायलान में बीरडा गोत्रीय परिवार में करदी। भूकरों के बास वालों ने अपनी बेटी को सलाह दी कि तुम्हारे छान-झूपे हमारे बाड़े में बँधवा देंगे और सांवलोदा लाड़खानी के ठाकुरों का बहुत बड़ा बाढ़ है, उसमें बाह-जोत करो। यहीं तुम्हारे पुत्र की शादी भी कर देंगे। किन्तु मेरे परदादा की माताजी ने साफ इंकार कर दिया कि मैं तो अपने ससुराल वापस जाऊँगी और वहीं मेरे बेटे का विवाह करूंगी , आप तो भात भरने आना।

जब मेरे परदादा की माताजी अपने पाँच बच्चों सहित कटराथल वापस आई तो उसे जेठ जीवनराम ने कहा कि वापस अपने पीहर ही जाओ, मैं तुमको न घर, बाड़ा व खेड़ा दूंगा और न बसने की जगह ही दूंगा। इस पर पड़ोसी नोलाराम खीचड़ के पिता ने दो बीघा जमीन अपने खेड़े में से दे दी और उसी में छान-झूपे बँधवा दिये। हमारी जमीन, बाड़ा , खेड़ा व खेती पर अब झझड़िया, पचारओला गोत्र के परिवारों का कब्जा है।

मेरे परदादा देवाराम जी के केवल एक ही पुत्र तुलछा राम थे और 6 बेटियां थी। मेरे दादा तुलछाराम जी का विवाह ग्राम कूदन में चौधरी करणाराम जी सुंडा की पौती व चौधरी नोपाराम जी सुंडा की बेटी के साथ हुआ। मेरी कूदन वाली दादी के तीन पुत्र व दो पुत्रियाँ हुई। दादी का जवानी में ही देहांत हो गया। पुजारी की ढ़ाणी (उदयपुरवाटी) में मेरे दादाजी का विवाह हुआ, उस दादी से दो पुत्रियाँ हुई। मेरे दादाजी का देहांत विक्रम संवत 1975 (1918 ई.) में प्लेग से हो गया। उनका एक बेटा भींवाराम 13 वर्ष की उम्र में ही चल बसा था। मेरे पिताजी चौधरी गणपत सिंह जी एवं भाई मोती सिंह जी दोनों के चार-चार पुत्र हुये।

मेरी शादी सन् 1936 (संवत 1993 अक्षय तृतिया ) में कस्तुरी देवी से हुई जो दासा की ढ़ाणी के चौधरी मूनाराम जाखड़ के बेटी थी।


शेखावाटी किसान आंदोलन

[पृष्ठ-113]: सन् 1934 के प्रजापत महायज्ञ के एक वर्ष पश्चात सन् 1935 (संवत 1991) में खुड़ी छोटी में फगेडिया परिवार की सात वर्ष की मुन्नी देवी का विवाह ग्राम जसरासर के ढाका परिवार के 8 वर्षीय जीवनराम के साथ धुलण्डी संवत 1991 का तय हुआ, ढाका परिवार घोड़े पर तोरण मारना चाहता था, परंतु राजपूतों ने मना कर दिया। इस पर जाट-राजपूत आपस में तन गए। दोनों जातियों के लोग एकत्र होने लगे। विवाह आगे सरक गया। कैप्टन वेब जो सीकर ठिकाने के सीनियर अफसर थे , ने हमारे गाँव के चौधरी गोरूसिंह गढ़वाल जो उस समय जाट पंचायत के मंत्री थे, को बुलाकर कहा कि जाटों को समझा दो कि वे जिद न करें। चौधरी गोरूसिंह की बात जाटों ने नहीं मानी, पुलिस ने लाठी चार्ज कर दिया। इस संघर्ष में दो जाने शहीद हो गए – चौधरी रत्नाराम बाजिया ग्राम फकीरपुरा एवं चौधरी शिम्भूराम भूकर ग्राम गोठड़ा भूकरान । हमारे गाँव के चौधरी मूनाराम का एक हाथ टूट गया और हमारे परिवार के मेरे ताऊजी चौधरी किसनारम डोरवाल के पीठ व पैरों पर बत्तीस लठियों की चोट के निशान थे। चौधरी गोरूसिंह गढ़वाल के भी पैरों में खूब चोटें आई, पर वे बच गए।

चैत्र सुदी प्रथमा को संवत बदल गया और विक्रम संवत 1992 प्रारम्भ हो गया। सीकर ठिकाने के जाटों ने लगान बंदी की घोषणा करदी, जबरदस्ती लगान वसूली शुरू की। पहले भैरुपुरा गए। मर्द गाँव खाली कर गए और चौधरी ईश्वरसिंह भामू की धर्मपत्नी जो चौधरी धन्नाराम बुरड़क, पलथना की बहिन थी, ने ग्राम की महिलाओं को इकट्ठा करके सामना किया तो कैप्टेन वेब ने लगान वसूली रोकदी। चौधरी बक्साराम महरिया ने ठिकाने को समाचार भिजवा दिया कि हम कूदन में लगान वसूली करवा लेंगे।

कूदन ग्राम के पुरुष तो गाँव खाली कर गए। लगान वसूली कर्मचारी ग्राम कूदन की धर्मशाला में आकर ठहर गए। महिलाओं की नेता धापू देवी बनी जिसका पीहर ग्राम रसीदपुरा में फांडन गोत्र था। उसके दाँत टूट गए थे, इसलिए उसे बोखली बड़िया (ताई) कहते थे। महिलाओं ने काँटेदार झाड़ियाँ लेकर लगान वसूली करने वाले सीकर ठिकाने के कर्मचारियों पर आक्रमण कर दिया, अत: वे धर्मशाला के पिछवाड़े से कूदकर गाँव के बाहर ग्राम अजीतपुरा खेड़ा में भाग गए। कर्मचारियों की रक्षा के लिए पुलिस फोर्स भी आ गई। ग्राम गोठड़ा भूकरान के भूकर एवं अजीतपुरा के पिलानिया जाटों ने पुलिस का सामना किया। गोठड़ा गोली कांड हुआ और चार जने वहीं शहीद हो गए। इस गोली कांड के बाद पुलिस ने गाँव में प्रवेश किया और चौधरी कालुराम सुंडा उर्फ कालु बाबा की हवेली , तमाम मिट्टी के बर्तन, चूल्हा-चक्की सब तोड़ दिये। पूरे गाँव में पुरुष नाम की चिड़िया भी नहीं रही सिवाय राजपूत, ब्राह्मण, नाई व महाजन परिवार के। नाथाराम महरिया के अलावा तमाम जाटों ने ग्राम छोड़ कर भागे और जान बचाई।


[पृष्ठ-114]: कूदन के बाद ग्राम गोठड़ा भूकरान में लगान वसूली के लिए सीकर ठिकाने के कर्मचारी पुलिस के साथ गए और श्री पृथ्वीसिंह भूकर गोठड़ा के पिताजी श्री रामबक्स भूकर को पकड़ कर ले आए। उनके दोनों पैरों में रस्से बांधकर उन्हें (जिस जोहड़ में आज माध्यमिक विद्यालय है) जोहड़े में घसीटा, पीठ लहूलुहान हो गई। चौधरी रामबक्स जी ने कहा कि मरना मंजूर है परंतु हाथ से लगान नहीं दूंगा। उनकी हवेली लूट ली गई , हवेली से पाँच सौ मन ग्वार लूटकर ठिकाने वाले ले गए।

कूदन के बाद जाट एजीटेशन के पंचों – चौधरी हरीसिंह बुरड़क, पलथना, चौधरी ईश्वरसिंह भामु, भैरूंपुरा; पृथ्वी सिंह भूकर, गोठड़ा भूकरान; चौधरी पन्ने सिंह बाटड़, बाटड़ानाऊ; एवं चौधरी गोरूसिंह गढ़वाल (मंत्री) कटराथल – को गिरफ्तार करके देवगढ़ किले मैं कैद कर दिया। इस कांड के बाद कई गांवों के चुनिन्दा लोगों को देश निकाला (ठिकाना बदर) कर दिया। मेरे पिताजी चौधरी गनपत सिंह को ठिकाना बदर कर दिया गया। वे हटूँड़ी (अजमेर) में हरिभाऊ उपाध्याय के निवास पर रहे। मई 1935 में उन्हें ठिकाने से निकाला गया और 29 फरवरी, 1936 को रिहा किया गया।

जब सभी पाँच पंचों को नजरबंद कर दिया गया तो पाँच नए पंच और चुने गए – चौधरी गणेशराम महरिया, कूदन; चौधरी धन्नाराम बुरड़क, पलथाना; चौधरी जवाहर सिंह मावलिया, चन्दपुरा; चौधरी पन्नेसिंह जाखड़; कोलिडा तथा चौधरी लेखराम डोटासरा, कसवाली। खजांची चौधरी हरदेवसिंह भूकर, गोठड़ा भूकरान; थे एवं कार्यकारी मंत्री चौधरी देवीसिंह बोचलिया, कंवरपुरा (फुलेरा तहसील) थे। उक्त पांचों को भी पकड़कर देवगढ़ किले में ही नजरबंद कर दिया गया। इसके बाद पाँच पंच फिर चुने गए – चौधरी कालु राम सुंडा, कूदन; चौधरी मनसा राम थालोड़, नारसरा; चौधरी हरजीराम गढ़वाल, माधोपुरा (लक्ष्मणगढ़); मास्टर कन्हैयालाल महला, स्वरुपसर एवं चौधरी चूनाराम ढाका , फतेहपुरा

स्कूली शिक्षा

[पृष्ठ-115]: 12 वर्ष की उम्र में 1935 में मैं मेरे गाँव में नीम की ढाणी में चल रहे विद्यालय में पढ़ने के लिए गया। स्कूल का संचालन मास्टर दलेलसिंह जी जिला अलीगढ़ (उत्तर प्रदेश) कर रहे थे। वे आर्य समाज की ओर से शिक्षा प्रसार के लिए आए हुये थे।


[पृष्ठ-116]: कूदन गोलीकांड (24 अप्रेल 1935) के एक सप्ताह बाद पुलिस हमारी नीम की ढाणी वाली स्कूल में आई और देखते ही देखते हमारी पाठशाला के छप्पर को आग लगादी। हमारे अध्यापक श्री दलेल सिंहजी को हमारे सामने ही बेंत से पीटा और गिरफ्तार करके ले गए। पाठशाला के बड़े लड़कों को भी बेंतों से पीटा और मैं छोटा था इसलिए मेरे हिस्से में थप्पड़ों से पिटाई आई। इस प्रकार संघर्ष और आतंक के माहौल में मेरी शिक्षा प्रारम्भ हुई।

सन् 1936 में दूसरी कक्षा में पढ़ते समय मेरा विवाह दासा की ढाणी के चौधरी मूनाराम जाखड़ की पुत्री कस्तूरी देवी से कर दिया। मेरी पत्नी कस्तूरी देवी आगे चलकर मेरे सामाजिक व राजनीतिक जीवन में अप्रत्यक्ष रूप में प्रेरणादाई रही।


[पृष्ठ-117]: घर पर आए किसी भी जाति/धर्म, अमीर-गरीब व्यक्ति को बिना खाना खाये नहीं जाने दिया। सन 1962 की चीन की लड़ाई में अपने सोने के जेवर दिये। कभी संग्रह की प्रवृति नहीं राखी। गाँव की औरतों को बीमार होने पर सीकर अपने संसाधनों से स्वयं के खर्चे से ले जाकर इलाज करवाती थी।

सन् 1938 में हम हमारे गाँव के चार लड़के सीकर उच्च प्राथमिक विद्यालय (हिन्दी मीडिल) माधो स्कूल में पढ़ने के लिए गए। मेरे अलावा मेरे साथ गाँव के तीन अन्य छत्र थे – गणपत सिंह नेहरा, सुखदेव सिंह गढ़वाल एवं झाबर सिंह गढ़वाल। यहाँ एक समस्या आई, मेरी माताजी मुझे आगे पढ़ाना चाहती थी, परंतु मेरे पिताजी को समस्या थी कि पशुओं को कौन चराएगा। तब मेरे छोटे भाई हरफूल सिंह जो उस समय 10 वर्ष का ही था, ने साहसपूर्वक कहा कि आप तो पशुओं और बकरियों को लंगड़–दावने दे दिया करो फिर मैं चारा लूँगा। आप तो रणमल भाया को पढ़ने भेज दो। मेरे छोटे भाई हरफूल सिंह के साहस दिखाने के कारण ही मुझे आगे पढ़ने का मौका मिला।

छात्रावास का प्रबंध नहीं होने तक हम चांदपोल से छोटा तालाब तक की ओर जाने वाले मार्ग पर एक घर (जिसमें कृषि व जंगलात विभाग के श्री साहब सिंह जी रहते थे) के तिबारे में रहने लगे।

हम घर से 6 दिन का बाजरे का आटा, पीसी मिर्च एवं नमक लेकर आते थे। रविवार के दिन गाँव आ जाते। भोजन पकाने के लिए ईंधन की लकड़ियाँ प्रत्येक सोमवार को गाँव से अपने सिर पर रखकर सीकर लाते थे। मेरे गाँव से सीकर तीन कोस अर्थात 6 मील दूरी पर है।

रास्ते में दो-तीन बार लकड़ियाँ सिर से उतार कर आराम करना पड़ता था। यह क्रम लगभग दो-ढाई महीने चला। इसके पश्चात वर्तमान नगरपरिषद कार्यालय जो उस समय खां जी का डेरा कहलाता था, हमें छात्रावास के रूप में मिल गया । हमें 5 रुपये छात्रवृति भी मिलने लगी थी।

हम श्री माधव हिन्दी मिडिल स्कूल में पढ़ने जाते थे। छात्रावास (खांजी का डेरा ) में हम 20 छात्र थे। 6 छात्र सीकर तहसील के, जिनमें मेरे सहित चार कटराथल के एक मालाराम निठारवाल, बेरी का, एक भूरसिंह बड़सरा कूदन का। 9 छात्र लक्ष्मणगढ़ तहसील के जिनमें तीन छात्र हरदेव सिंह ढाका, जीवन सिंह ढाका व त्रिलोक सिंह ढाका रोरु बड़ी के, दो छात्र हीरा सिंह फगेडिया व हेम सिंह फगेडिया, हापास के, नारायण सिंह कड़वासरा, भोजासर बड़ा, गुमान सिंह डोटासरा, कसवाली, जोध राज कसवा, कुमास जटान, लाल सिंह कुलहरी,


[पृष्ठ-118]:माधोपुरा तन मंगलूना, पाँच छात्र फ़तेहपुर तहसील के थे – बीरबल सिंह बिजारणिया, बीबीपुर छोटा, लाल सिंह ठठावता, तारा सिंह भास्कर, ढांढण एवं दो भाई मूल सिंह राठोड़ एवं मोती सिंह राठोड़ ठठावता के थे। राजपूत छात्र श्री जमनालाल जी बजाज के कमरे में रहते थे। उनके साथ दो जाटों के लड़के रेखा राम बागड़िया, भुंवालाहणमानराम भाम्बू, अनोखू भी रहते थे। भगवान राम, परड़ोली भी मेरे साथ थे।

उस समय माधो स्कूल के प्रधानाध्यापक श्री बजरंग लाल जी शर्मा थे। छात्रावास के वार्डन मास्टर आलमचंद जी (उत्तर प्रदेश के जाट) थे। अप्रेल 1938 में सीकर के राव राजा कल्याण सिंह को जयपुर राज्य के तत्कालीन शासकों ने दिल्ली निर्वासित कर दिया था। उस समय सीकर ठिकाने के जाट जयपुर राज्य के साथ थे और अन्य जातियाँ राव राजा के साथ थी, इसलिए सीकर शहर की तमाम जनता जाटों से नाराज थी। उनका विचार था कि जाटों की लड़ाई के कारण ही राव राजा को देश निकाला दिया गया। उसी वर्ष 1 जुलाई से हम स्कूल मे भर्ती हुये थे।

रियासत काल मे गरीब जनता का इतना ज्यादा शोषण और भेदभाव था जिसकी आज कल्पना ही नहीं की जा सकतीहै। स्कूल मे पानी भी चार तरीके से पिलाया जाता था – यदि छात्र राजपूत जाति का होता था तो पानी रामझारे से, ब्राह्मण जाति को लौटे से, जाट छात्र को लोहे की डोली से और यदि मेघवाल हरिजन छात्र को लोहे की डोली से पानी डाल दिया जाता और उस नाली के नीचे खड़े होकर दोनों हाथों की औक बनाकर छात्र पानी पी लेते थे।


[पृष्ठ-119]: उस समय ब्राह्मण को अपशब्द कहना अपराध था, ब्राह्मण से मारपीट तो सामाजिक दृष्टि से भयंकर अपराध था, गरीब मेघवाल हरिजन के लिए अपशब्द सुनाना तो आम बात थी और छोटी-छोटी बात पर उसकी मार-पिटाई भी हो जाती थी। आज स्थितियाँ इससे पुर्णत: अलग हैं।


जब हम पाँचवीं कक्षा मे पढ़ रहे थे तो सीकर के दक्षिण में स्थित बीड मे स्काऊटिंग का कैंप लगा। रात्री में उस कैंप में ही रहना पड़ता था। मेरी कक्षा के दो छात्र सुवा लाल रैगर, सीकर एवं दाऊद मणियार, बेसवा भी मेरी कक्षा में पढ़ते थे। ये दोनों भी स्काउटिंग कैंप में साथ थे। सुयालाल रैगर आटा लगाता था, दाऊद चकले पर बेलन से रोटियाँ बेलता था और मैं चूल्हे पर रोटियाँ सेकता था। इस तरह मैं वर्ष 1938 में ही छूयाछूत छोड़ चुका था।

अध्ययन के दौरान सुखवीर सिंह बाटड़ जो मेरे से डेढ़ वर्ष छोटा था, मेरा कुछ समय तक सहपाठी रहा। उसने मुझे कहा कि मेरे गाँव के सारे लड़के मुकुंदगढ़ (झुञ्झुणु) पढ़ने चले गए हैं, इसलिए मेरा यहाँ मन नहीं लग रहा है। मास्टर उमरदान जी बारेठ मेरे पढ़ाई में होशियार होने से मुझसे प्रभावित थे, उनसे अनुरोध कर मैनें सुखवीर सिंह बाटड़ की टीसी कटवाकर मुकुंदगढ़ पढ़ने जाने में मदद की।

मेरे साथ मोतीसिंह राठोड भी थे जो कि अन्य राजपूत छात्रों से विपरीत सीधे सरल स्वभाव के थे, इसलिए मेरी उनसे अच्छी दोस्ती थी। जब हमने स्कूल में प्रवेश लिया तो राजपूत लड़के मज़ाक उड़ाया करते थे – देखो ये जाट के छोरे पढ़ने आ गए, इनका रेवड़ कौन चराएगा, रेवड़ कहाँ छोड़ आए, टरयो-टरयो की आवाज निकालते (रेवड़-भेड़, बकरियों को चराने के दौरान उनको हाँकने के लिए ग्वाला मुंह से आवाज निकालता है)। स्कूल में नाम लिखते समय हमारे (जाटों) के नामों के आगे पारंपरिक नाम ‘राम’ के स्थान पर ‘सिंह’ लगा दिया था, इसलिए राजपूत छात्र कहते कि जाटों के छोरे पढ़ने ही नहीं आए, इनको तो सींग भी उग आए हैं (उस समय नाम के आगे सिंह लिखना राजपूत जाति का एकाधिकार माना जाता था)। एक राजपूत छात्र मेरे ज्यादा ही पीछे पड़ गया और प्रतिदिन चिढ़ाने लगा कि “रे छोरा रेवड़ कठै छोड़यो है, बीको गुवाल कुण नै राख्यों है”। एक दिन मैंने गुस्से में आकर उसे जवाब दिया कि चिंता मत कर एकदम पुख्ता गुवाल छोडकर आया हूँ। उसने पूछा किसको गुवाल छोड़ा है। मैंने कहा कि तेरे बाप को। उसने इस बात की गांठ बांधली। मैं कुश्ती और मुर्गा लड़ाई में तेज था, इसलिए मुझसे लड़ नहीं सकता था, इसलिए छात्रावास में एक दिन मेरे से कद –काठी में बड़े छात्र मुरारी दान


[पृष्ठ-120]:को लेकर आया और कहा कि तेरे को इससे कुश्ती करनी पड़ेगी। मेरी मुरारी दान से कुश्ती हुई और मैनें उसे दो बार पटखनी देकर कुश्ती जीती।

मैंने वर्ष 1941 में ही हिन्दी मिडिल (वर्णाकुलर फाइनल) की परीक्षा उत्तीर्ण कर ली। परीक्षा में गणित के पेपर में 10 प्रश्न थे एवं उनमें से कोई पाँच प्रश्न हल करने थे। मुझे गणित में प्रारम्भ से ही रुचि थी। मैंने समस्त 10 प्रश्न हल कर दिये और जोश में नीचे नोट भी डाल दिया, “कोई पाँच प्रश्न जांच लें।” गणित में मेरे 100 में से 100 अंक थे।

स्कूल में अध्यापक

1 जुलाए 1941 को मुझे सीकर ठिकाने की कोटडी धायलान स्कूल में अध्यापक के पद पर नियुक्ति प्रदान की गई। महीने का वेतन 16 रुपये था।

कोटड़ी धायलान में मेरे शिष्यों में सुरता राम व गोपी राम, पोखर राम थे, जिनके नाम मैनें सूरत सिंह, गोपाल सिंहपुष्कर सिंह कर दिये थे। उस समय जाटों के आगे सिंह नहीं लगा सकते थे केवल राम लगा सकते थे। सिंह लिखना सामंतों का एकाधिकार था। आगे चलकर गोपाल सिंह तो विधायक एवं राज्य सरकार में मंत्री पद तक पहुंचे। सूरत सिंह गाँव के सरपंच एवं पुष्कर सिंह राज्य सरकार के अधिकारी बने।


[पृष्ठ-121]: सन 1942 में मेरा स्थानांतरण पिपराली ग्राम में हो गया। सीकर ठिकाने में केवल 19 प्रायमरी स्कूल थे और प्रायमरी स्कूल चौथी क्लास तक होती थी। पिपराली में मैंने मेघवालों के बच्चों को पढ़ाना शुरू कर दिया, जिसका विरोध महाजनों और ब्राह्मणों ने किया और कहा कि मेघवालों के बच्चे हमारे बच्चों के साथ बैठते हैं तो उनको छू देते हैं। मैं प्रारम्भ से ही छूयाछूत विरोधी था। मैंने उनके विरोध को नहीं माना और कहा कि राव राजा की स्कूल है और राव राजा से लिखवा कर लाओ कि मेघवालों को नहीं पढ़ाएंगे। मेरे लिए तो सारे छात्र बराबर हैं। इसके अलावा मैं मेघवालों और अन्य गरीब छात्रों की रात्रि में भी क्लास लेता था और उनके घरवालों को शिक्षा देता था कि भूखे सो जाओ परंतु महाजनों से उधर मत लो, क्योंकि आप अनपढ़ हैं और महाजन एक रुपये का दो रुपया लिखते हैं। यहाँ मेरा विरोध हुआ और वर्ष 1943 में मेरा कूदन स्थानांतरण कर दिया। कूदन में नई स्कूल खुली थी, पूर्व में वहाँ शिक्षामण्डल की स्कूल थी , जिसे बंद कर दिया गया और सीकर ठिकाने का स्कूल खोल दिया गया। यहाँ मैंने रामदेवसिंह गिल से कार्यभार लिया। श्री गिल 13 मई 1952 को चंवरा (उदयपुरवाटी) में शहीद हो गए थे

जयपुर प्रजामण्डल में शामिल

कूदन ग्राम में पढ़ते समय मेरा संपर्क श्री बद्रीनारायण सोढानी से हुआ। उनको सीकर का गांधी कहते थे। उन्होने कहा कि पढ़ाना छोड़ो और देश की आजादी के आंदोलन में आ जाओ। उनकी प्रेरणा से मैं 29 फरवरी 1944 को अध्यापक पद से त्याग पत्र देकर जयपुर प्रजामण्डल में शामिल हो गया। प्रजामण्डल में मेरे साथ माधोपुरा का लालसिंह कुलहरी था। हम दोनों जनजागृति के लिए रोजना गाँव में 24 मील पैदल सफर करते थे। मैं देश की आजादी के लिए जागीरदारों के ज़ुलम के खिलाफ सीकर किसान आंदोलन में भाग लेने लगा। सीकर ठिकाने में काश्त की जमीन का बंदोबस्त सन 1941 में हो गया था परंतु लगान व लाग-बाग के नाम पर जागीरदारों की लूट-खसोट बंद नहीं हुई थी। हमने इसका विरोध किया। हमने पहली मीटिंग बेरी गाँव की खेदड़ों की ढाणी में की। इसमें ईश्वर सिंह, त्रिलोक सिंह भी साथ थे, जिनहोने आगे चलकर अलग किसान सभा बना ली थी। दूसरी मीटिंग हमने दासा की ढाणी में रखी। यह मीटिंग 13 दिसंबर 1945 को रखी। इसका संचालन बलबीर सिंह जाखड़ ने किया। बलबीर सिंह जाखड़ रिश्ते में मेरे साले थे जो सन 1952 में लक्ष्मणगढ़ से विधायक चुने गए जो प्रथम विधानसभा के सबसे युवा 25 वर्षीय विधायक थे। उन्होने के एल पी से चुनाव लड़ा एवं 16000 से अधिक मतों से जीते थे। इस गाँव की बैठक असफल हो गई क्योंकि इस गाँव के मुसाहिब कानदास ने गाँव वालों को धमकी दी कि यदि कोई गाँव वाला प्राजमंडल की मीटिंग में जाएगा तो उसे गाँव से निकाल दूँगा।


[पृष्ठ-122]: इसके बाद दिसंबर 1945 को मोल्यासी गाँव में चौधरी दूदाराम नेहरा की ढाणी में प्रजा मण्डल की ओर से किसानों की मीटिंग रखी। इस मीटिंग को नहीं करने की जागीरदारों ने धमकी दी। मैं मोल्यासी पैदल ही जा रहा था। रास्ते में मैंने तासर बड़ी में गुमाना राम मंडीवाल के घर गुड मिला दूध पिया, खाना खाया, क्योंकि मेरे जुकाम हो रखी थी। यहाँ से पैदल मोल्यासी चला और वहाँ सरदाराजी भैरी की ढाणी में पहुंचा। चौधरी ने कहा कि हमारी जमीन मंदिर की है जिसे छुड़वा रहे हैं, अब कोई उपाय नहीं है, अतः गाँव छोडकर बीकानेर वाली में चले जाएंगे। उनका 13 वर्ष का बेटा था, तुलछा राम, उसने कहा, मर भले ही जाएँ परंतु जमीन व गाँव नहीं छोड़ेंगे। मुझे विश्वास हो गया था कि अब देश आजाद होकर रहेगा, क्योंकि नई पीढ़ी में हिम्मत और आत्मबल है। चाँदनी रात में एक तख्ते का मंच बनाकर मीटिंग शुरू की। मीटिंग में लगभग 150 किसान थे। मीटिंग के दौरान जागीरदारों के हथियार लैस 500 हमलावरों ने आक्रमण किया। सभामंच पर भाषण करने के दौरान मेरे ऊपर आक्रमण हुआ, इसमें मेरी नाक क्षतिग्रस्त हो गई एवं सिर में व हाथों पर धारदार हथियारों की चोटें आई। मैं गंभीर रूप से घायल हो गया। इस दौरान कन्हैयालाल जी, कुमार नारायण जी एवं लेखराम कसवाली भी मीटिंग में थे, इनपर भी आक्रमण हुआ। मुझे घायल अवस्था में सीकर के अस्पताल में लाये। मैं अस्पताल में जिस बेड पर था उसके पास वाले बेड पर मोल्यासी गाँव के ठाकुर दुरजनसिंह भी घायल होकर लेते थे। उनके गले में जनेऊ देखकर मैंने पूछा, महाराज (ब्राह्मण को सम्बोधन) आप यहाँ कैसे? तो उन्होने कहा कि मैं महाराज नहीं, मोल्यासी गाँव का ठाकुर दुरजनसाल सिंह हूँ। क्या विचित्र स्थिति थी, रात को मोल्यासी गाँव में हम आपस में संघर्षरत रहे और सुबह दोनों घायल होकर अस्पताल में बराबर चारपाई पर एक जगह लेटे इलाज करवा रहे थे।

प्रजा मण्डल के हम कार्यकर्ता थे, इसी दौरान 1945 में नेहरुजी जयपुर आए। जयपुर प्रजा मण्डल में हीरालाल शास्त्रीटीकाराम पालीवाल थे। मैं नेहरुजी की जयपुर की मीटिंग में वालंटियर के रूप में शामिल हुआ, जौहरी बाजार में प्रजा मण्डल का कार्यालय था। नेहरुजी की मीटिंग रामनिवास बाग में अल्बर्ट हाल के पीछे हुई, वहाँ उनका भाषण हुआ। इसके बाद हम वनस्थली गए। प्रजा मण्डल के कार्यकर्ता के रूप में। उस समय वनस्थली की स्कूल कच्चे कमरों में चलती थी। इस विद्यालय में सीकर-झुञ्झुणु की कई लड़कियां पढ़ती थी। सीकर की केवल एक बाटड़ानाऊ गाँव की लक्ष्मी पढ़ती थी, बाकी लड़कियां झुञ्झुणु की ही थी, जिसमें सुमित्रा सिंह जी और कमला बेनीवाल जी भी थी। सरदार हरलालसिंह की बेटियाँ भी पढ़ती थी। इससे प्रेरित होकर मैंने मेरी बेटी गीता को स्कूल भेजना शुरू किया। शुरू में कटराथल गाँव के स्कूल में भर्ती करवाया। गाँव में लड़कियों की समुचित शिक्षा


[पृष्ठ-123]: व्यवस्था नहीं होने के कारण पुत्री को 7 वीं कक्षा में स्वामी केशवानन्द द्वारा संचालित संगरिया विद्यापीठ में बोर्डिंग स्कूल में दखला दिलवाया एवं 9 वीं कक्षा में रामगढ़ शेखावाटी में बोर्डिंग स्कूल में दाखिला दिलवाया। बेटी को शिक्षित करने का अर्थ होता है दो घरों को शिक्षित करना। बेटी शिक्षित होने के कारण ही मैंने मेरी इस बेटी का विवाह सन् 1960 में दीनारपुरा गाँव के चौधरी धन्नाराम जी के पुत्र प्रेमसिंह जी भूकर से बिना घूँघट (खुले मुंह), बिना दहेज एवं बिना बारात की जुहारी के किया तथा मेरी बेटी का बिना घूँघट के हमारे क्षेत्र का पहला विवाह कर पर्दा-प्रथा को मैंने समाप्त करने का साहस और प्रयास किया।

फ़ौज में भर्ती

15 अगस्त 1947 को आजाद करने की घोषणा अंग्रेज़ सरकार ने कर दी। मैंने विचार किया कि देश आजाद हो गया। अब फौज में भर्ती होकर देश और इसकी आजादी की रक्षा करनी चाहिए। अगस्त 1947 में फौज में भर्ती होने में मेरे सामने दो समस्याएँ आई, एक मेरा वजन दो पाउंड कम था दूसरी मेरी उम्र 2 वर्ष अधिक हो चुकी थी। वजन की समस्या का समाधान किया केले खाकर और पानी पीकर तथा उम्र का समाधान किया वास्तविक जन्म वर्ष 1923 को 2 वर्ष कम कर 24 नवंबर 1925 लिखवाकर। अगस्त 1947 में भारतीय सेना में भर्ती होकर फर्स्ट हार्स (रिसाला) लखनाऊ में प्रशिक्षण प्राप्त किया। इस समय हमारी लिपि रोमन थी और भाषा उर्दू थी। हिन्दी परीक्षा निबंध में मैं प्रथम आया। हमारे साथ हरियाणा (पंजाब) के सिपाही थे, वे हमें कहते थे कि राजस्थानी बाँगड़ू सैं, सीमेंट (बाजरे) की रोटियाँ खाने वाले। इनमें से यह हिन्दी के जानकार कहाँ से आ गए। मुझे ब्रिगेड में हिन्दी पढ़ाने का काम सौंप दिया गया। सेना में हिन्दी पढ़ााने के दौरान मैं जवानों को शिक्षा देता था कि शराब मत पीओ, बीड़ी-सिगरेट मत पीओ, तंबाकू का सेवन मत करो। मैंने फौज में देखा कि हमें प्रति सप्ताह मुफ्त में शराब पैग दिये जाते थे। मैंने कभी शराब नहीं पी और मुफ्त की शराब लेकर अन्य किसी साथी को भी नहीं दी। क्योंकि मैं शराब नहीं पीता था , इसलिए मुफ्त की शराब लेता भी नहीं था। इस पर मेरे एक हरयाणवी साथी ने कहा कि तुम शराब छोड़ा मत करो, ले लिया करो और मुझे दे दिया करो। मैंने उसको कहा कि मैं शराब नहीं पीता हूँ एवं इसका विरोधी भी हूँ, इसलिए नहीं चाहता कि आप लोग शराब पीओ। मैं दारू का दान भी नहीं करता, क्योंकि जितने खोटे काम हैं, शराब पीकर आसानी से किए जाते हैं, व्यभिचार, दुराचार आदि। मैंने शराब एवं तंबाखू सेवन नहीं करने की नीति मेरे परिवार में भी लागू की। इसका नतीजा यह हुआ कि हम 8 भाई और उनके 19 बच्चे सभी इस व्यसन से दूर हैं। मेरा बेटा वेदप्रकाश जो कि सेना में कर्नल के पद से रिटायर है उसने भी कभी शराब एवं तंबाखू का सेवन नहीं किया।


[पृष्ठ-124]: 31 दिसंबर 1954 को मैंने रिजर्व सेवानिवृति लेते हुये सेना छोड़ दी एवं 1962 के भारत-चीन युद्ध में मैंने पुनः 2 माह के लिए भारतीय सेना में कार्य किया।

जनवरी 1955 में मैं ग्राम पंचायत कटराथल का निर्विरोध सरपंच निर्वाचित हुआ। मैं हरिजन सेवक संघ का संस्थापक सदस्य था। मैंने गाँव का सरपंच बनने के बाद 24 अप्रेल 1955 को अपने ग्राम कटराथल में अनुसूचित जाति की 4 कौम (हरिजन, रेगर, मेघवाल एवं नायक) को ग्राम के मुख्य मंदिर में प्रवेश करवाकर छूआछूत समाप्त करने का कार्य किया। वियोगी हरीजी को बुलाकर उनका प्रवचन भी करवाया। उन्होने कहा कि वेदों में कहीं भी ऊंच-नीच , छूआछूत का उल्लेख नहीं है। हमारे पुनीत कार्य से प्रेरणा लेकर पिपराली ग्राम में आर्य समाजी बुद्धरामजी ने भी अनुसूचित जातियों को मंदिर प्रवेश कराने का कार्य किया।

ग्रामीण महिला शिक्षण संस्थान

[पृष्ठ-130]: सीकर जिले में बालिका शिक्षा के क्षेत्र में निरंतर सहयोग देना मेरा उद्देश्य रहा, परंतु सीकर शहर में दूरस्थ ग्रामीण क्षेत्रों की लड़कियों के अध्ययन की व्यवस्था एवं आवास की व्यवस्था की सदैव कमी रही। वर्ष 1986 में सुखवीर सिंह बाटड़ के साथ मिलकर ग्रामीण महिला शिक्षण संस्थान की स्थापना करने में मैं संस्थापक सदस्य रहा। श्रीमति कमला बेनीवाल तत्कालीन राजस्व मंत्री, राजस्थान सरकार के सहयोग से भूमि आवंटन शिवसिंहपुरा में करवाया गया। इस संस्थान के लिए भूमि आवंटन के पश्चात भवन निर्माण हेतु राशि चंदे के रूप में एकत्र करना बड़ी चुनौती थी।


[पृष्ठ-131]: प्रारम्भ में 1100 रुपये प्रति सदस्य चंदा लेने एवं 100 सदस्य बनाने का लक्ष्य लेकर आगे बढ़े। चैनसिंह आर्य, लक्ष्मण सिंह सुंडा एवं सूरजमल ठेकेदार की दृढ़-निश्चयी, ईमानदार एवं स्वच्छ छवि के कारण यह संस्थान उत्तरोत्तर विकास की ओर अग्रसर हुई। आज यहाँ न केवल दो छात्रावास हैं अपितु सीनियर सेकंडरी स्कूल एवं पी. जी. कालेज भी संचालित हैं। बालिका शिक्षा में आज राजस्थान में झुंझुनूं के बाद सीकर जिले का नाम है। कालेज व्याख्याता, अध्यापक ही नहीं आई.ए.एस./आई.पी.एस./आई.आर.सएस. आदि अखिल भारतीय सेवाओं में भी सीकर की लड़कियां चयनित होकर आगे आ रही हैं। ---

नोट - पुस्तक में पृष्ठ 124 - 136 तक रणमल सिंह ने अपने राजनीतिक जीवन में सरपंच से विधायक चुने जाने तथा सहकारिता के क्षेत्र में किए गए कार्यों, विभिन्न नेताओं के साथ सम्बन्धों और जीवन के उतार-चढावों का जीवंत वर्णन किया है, जो यहाँ नहीं दिया जा सका।

सामाजिक सेवा

अनेक बार सरपंच, प्रधान एवं विधायक चुने जाने वाले रणमल सिंह की सामाजिक सेवा उल्लेखनीय है. आजादी के पूर्व ही उन्होंने मृत्यु भोज को त्याग दिया था. 1947 में ही तय कर लिया था कि शादियाँ सिर्फ दिन में ही की जायेंगी. निडर होकर रणमल सिंह रूढ़ियों, पाखंडों और अंधविश्वासों के विरुद्ध डटे रहे. बेशक इसके लिए उन्हें अनेक परेशानियों का सामना करना पड़ा.

उनका गाँव जिले में इस मायने में प्रथम रहा कि रणमल सिंह और उनके साथियों नें छूआछूत मिटाने के लिए भंगियों के घर पानी पीना शुरू कर दिया था. जबकि उन दिनों किसी भी गाँव में भंगी से बातचीत करना भी नीच कृत्य समझा जाता था. रणमल सिंह ने भंगियों के मोहल्ले में अलग से कूआ खुदवाया. शादियों में उन्हें जूठन दी जाती थी. रणमल सिंह ने शपथ दिलाई कि भविष्य में किसी कि जूठन नहीं खायेंगे. एक समारोह में अपने घर में सभी भंगियों को बैठाकर खिलाया. इससे अछूत और और बेहद नीची मानी जाने वाली जातियों में बराबरी और आत्मविश्वास का भाव जगा. जब सरपंच बने तो मुसलमानों के लिए मस्जिद बना कर दी. गाँव में जब किसी सम्प्रदाय में शादी समारोह होता, हिन्दू मुस्लिम के घर, या मुस्लिम हिन्दू के घर भोजन करते.

राजेन्द्र कसवा द्वारा रणमल सिंह का उल्लेख

शेखावाटी किसान आन्दोलन के संदर्भ में राजेन्द्र कसवा [2] ने लेख किया है कि राव राजा सीकर द्वारा पुन: जागीर संभालने पर अपेक्षाकृत शांति थी लेकिन हालात गंभीर थे. उस समय की परिस्थितियों का वर्णन स्वतंत्रता सेनानी रणमल सिंह ने कुछ यों किया है:

"मैं 1941 में पहली बार कोटड़ी धायलान में शिक्षक लगा. द्वितीय विश्वयुद्ध चल रहा था. पता नहीं क्यों हम लोग जर्मनी की जीत की कामना कर रहे थे. उस समय एक तुक बंधी प्रचलित थी-
'आई आंधी माच्यो सूंट, जर्मन फिरग्यो चारों कूंट ।'
यानी जर्मनी के विश्व-विजयी बनने की कामना करते थे. लोग मंदिरों में उपासना करते थे कि जर्मनी जीत जावे और अंग्रेज हार जावें...
"मौल्यासी गाँव में 23 दिसंबर 1945 की रात को मीटिंग रखी गयी थी. नेतृत्व देने वालों में किसनसिंह बाटड , मास्टर कन्हैया लाल स्वरूपसर, कुमार नारायण वकील, चन्द्रसिंह बिजारनिया बीबीपुर , लाल सिंह कुलहरी माधोपुर, लेखराम कसवाली और मैं थे. बदरी नारायण सोढानी को भी आना था, लेकिन वे नहीं पहुँच सके.
"हम लोग मंच को ठीक कर ही रहे थे कि रात को 10 बजे 50 राजपूत नारे लगाते आये. उनका जय घोष था - करणीमाता की जय. मैं मंच पर खड़ा हो गया. मेरे साथ एक फौजी हनुमान महला भी खड़ा था. हमारे अन्य साथियों ने समझाया कि हमें बिना मीटिंग किये चलना चाहिए. लेकिन मैं नहीं माना. मैं भाषण देना चाहता था लेकिन राजपूतों के शोर के कारण कुछ बोल नहीं पा रहा था. तब मैंने भी जोर-जोर से नारे लगाने शुरू कर दिए - 'भारत माता की जय ! महात्मा गाँधी की जय ! 'ठिठुरती रात में, जब चारों और सन्नाटा बिखरा था, गाँव के चौक में गर्जना हो रही थी.
"एक राजपूत ने आकर मेरे कान में कहा, "राजपूत सरदारों के पास हथियार हैं. मुकाबला करना ठीक नहीं है. लेकिन मैं रूका नहीं और जोर-जोर से नारे लगाता रहा. इससे मेरा गला भी ख़राब हो गया. तभी एक राजपूत ने मंच पर आकर बर्छी से मुझ पर वार किया. सर व नाक पर चोट आई (इस चोट के निशान आज भी उनके सर तथा नाक पर हैं) . मैं बेहोश होकर गिर पड़ा. मुझे सीकर लाया गया और इलाज कराया गया. इसके बाद मैंने विरोध स्वरुप पांच दिन उपवास रखा.
"मैं तो बच गया लेकिन यह आंकड़े हैं कि सम्पूर्ण शेखावाटी में आन्दोलन के दौरान 117 व्यक्ति मरे थे. इनमें 104 जाट, 8 जाटव, 4 अहीर एवं एक ब्राहमण था. ...."

राजेन्द्र कसवा [3] ने लेख किया है कि शेखावाटी किसान आन्दोलन जब चल रहा था तब कैसा आतंक था, इसका सटीक संस्मरण रणमल सिंह ने सुनाया.

"मैं बहुत छोटा था तब पिताजी के साथ एक बार सीकर गया. तब देखा कि एक किसान ऊँट गाड़ी में खेजड़ी की सूखी छड़ी बेचने आया था. छड़ी बेचकर जब किसान वापस जाने लगा तो रावराजा सीकर के व्यक्तियों ने पकड़ लिया. इन व्यक्तियों को 'तरवारिया' कहा जाता था. तरवारियों ने किसान को बिना भाड़ा दिए ही रामगढ़ जाने को मजबूर कर दिया. मैंने पिताजी से पूछा, 'ये कौन लोग हैं और किसान को क्यों धमका रहे हैं? पिताजी ने उत्तर दिया, 'बेटा ये राज के आदमी हैं. अपनी मनमर्जी के बादशाह. किसी से भी बेगार ले सकते हैं."
"सन 1938 में मैं सीकर पढने गया था. खांजी के डेरे में स्कूल चलती थी, जहाँ अब नगरपरिषद है. स्कूल में कुल 20 लड़के ही ऐसे थे जो गाँव से आये थे. इनमें 6 सीकर तहसील के, 9 फतेहपुर तहसील के और 5 लक्ष्मंगढ़ तहसील के थे. हमें देखकर रावराजा के कारिंदे कटाक्ष करते, 'तुम लोग खेती करो, ग्वाली करो, मजूरी करो. पढाई से तुम्हारा क्या वास्ता? क्या करोगे पढ़कर? तुम पढ़ गए तो खेती कौन करेगा? न जाने हमें वे क्या-क्या कहकर चिढाते. उस दिन एक दरबारी ने मेरा नाम पूछा. मैंने 'रणमल सिंह' बताया तो कहा, सिंह मत लगाओ. राम का नाम ही अच्छा लगता है."

रणमल सिंह पर मीडिया रिपोर्ट

सम्मान किसान पुत्र का नहीं, सर्व समाज का है:

संदर्भ - Bhaskar News Network, Nov 17, 2014

खेती,राजनीति और शिक्षा का स्तर सुधार कर समाज और युवा पीढ़ी को नई दिशा देने वाली प्रतिभा के सम्मान से देश और समाज के विकास को गति मिलती है। ऐसी प्रतिभाएं समाज का आइना होती हैं। जिनसे प्रेरित होकर दिशाहीन पीढ़ी भी सही मार्ग ढूंढने लगती है।

ये विचार वक्ताओं ने रविवार को रेलवे सामुदायिक भवन में पूर्व विधायक एवं किसान नेता रणमल सिंह के 92वें जन्म दिवस पर सर्व समाज के अभिनंदन समारोह में व्यक्त किए। वक्ताओं ने कहा, समाज को दिशा देने वाले किसान के बेटे का सम्मान सर्वसम्माज का सम्मान है। विधायक प्रेमसिंह बाजौर ने कहा राजनीति में रहकर भी किसी पर दाग नहीं लगे, ऐसी विभूति नहीं देखी जाती मगर रणमल सिंह सरपंच से लेकर विधायक तक कई महत्वपूर्ण पदों पर बेदाग रहे हैं। झाबर सिंह खर्रा ने कहा-युवा पीढ़ी को रणमल सिंह की तरह शिक्षा के साथ संस्कार भी अपनाने चाहिए।

व्यक्तित्व पर डाला प्रकाश: बंशीधरबाजिया ने कहा रणमल सिंह सर्वसमाज और शेखावाटी में समाने वाले व्यक्तित्व हैं। गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा रणमल सिंह ने शिक्षा, राजनीति, समाज सुधार सामाजिक बुराइयों के मिटाने के साथ जागीरदारी और दहेज प्रथा का खात्मा किया। गोवर्धन वर्मा ने युवाओं से देश समाज सेवा के लिए रणमल सिंह से प्रेरणा लेने का आह्वान किया। जनरल जयप्रकाश ने कहा रणमल सिंह से प्रेरणा लेकर हमें प्रेरणा लेकर दहेज प्रथा बंद करनी चाहिए। रतन जलधारी ने राजनीतिक अनुभव सुनाए। जिला प्रमुख रीटा सिंह ने रणमल सिंह के लिए जय जवान जय किसान का नारा दिया। जाट समाज के प्रदेश अध्यक्ष राजा राम मील ने शेखावाटी में आज भी शिक्षा का स्तर सुधारने की आवश्यकता पर बल दिया। पूर्व विधानसभाध्यक्ष सुमित्रा सिंह ने बालिका शिक्षा में योगदान पर प्रकाश डाला। कार्यक्रम में इंदिरा चौधरी ने भी संबोधित किया। वहीं नेकी राम सुल्तान सिंह ने रणमल सिंह का जीवन परिचय दिया। सांसद स्वामी सुमेधानंद ने कहा रणमल सिंह के जीवन से युवाओं को त्याग, चरित्र निर्माण और कर्मठता की शिक्षा लेनी चाहिए। शुरुआत में चैन सिंह आर्य ने कार्यक्रम की रुपरेखा रणमल सिंह के जीवन पर प्रकाश डाला।

पूर्व विधायक रणमल सिंह के 92वेंे जन्मदिन के अवसर पर सर्वसमाज की ओर से आयोजित अभिनंदन समारोह के दौरान अतिथियों ने उनके द्वारा लिखित साहित्य रणबंका का विमोचन किया।


स्वाभिमान और सम्मान की लड़ाई लड़नी होगी किसानों को: जाट

संदर्भ - Bhaskar News Network, Oct 27, 2016

प्रबुद्ध किसान सम्मेलन में रणमल सिंह

रेलवेसामुदायिक भवन में बुधवार को चौधरी कुंभाराम आर्य की 21वीं पुण्यतिथि किसान ललकार दिवस के रूप में पूर्व विधायक रणमल सिंह की अध्यक्षता में मनाई गई।

सम्मेलन में किसान महापंचायत के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामपाल जाट ने कहा कि किसानों को पहले खुद को और अपने हितैषी नेतृत्व काे पहचानना होगा। उसके बाद सम्मान स्वाभिमान की लड़ाई लड़नी होगी। बाजारों में फसल का मूल्य मिट्टी की कीमत से भी कम मिलता है और यही किसान जब बाजार में खरीदारी के लिए जाता है, तो उससे सोने के दाम वसूले जाते हैं। चाइनीज सामान की होली जलाने के मामले में हुए जाट ने कहा कि सरकार ने लौह पुरुष सरदार पटेल की मूर्ति भी चीन से निर्मित करवाकर मंगवाई गई है। सरकार अनेक एमओयू पर हस्ताक्षर कर रही है। चीनी सामान की होली पहले प्रधानमंत्री मुख्यमंत्री के घरों से जलानी चाहिए।

13 सूत्री मांगों को लेकर 23 दिसंबर को एक हजार ट्रैक्टरों से दिल्ली कूच का आह्वान किया। यूनियन के राष्ट्रीय महासचिव चौधरी युद्धवीर सिंह ने कहा कि झूठे वादे करके सत्ता में आए लोग और पार्टियां किसान का भला कभी नहीं चाहेंगे। उद्योगपति बड़े नेताओं ने कंपनियां बनाकर किसानों की जमीन छीनने का प्रयास किया था। यदि एक गांव से एक किसान भी संघर्ष करने के लिए उठ खड़ा होगा, तो सरकारें किसानों के सामने झुक जाएगी। प्रदेश के वरिष्ठ भाजपा विधायक घनश्याम तिवाड़ी ने कहा है कि किसान मूलभूत मुद्दे उठाएं। स्वर्गीय कुम्भाराम आर्य ने जागीरदारी प्रथा के उन्मूलन के लिए काम किया था।

रणमल सिंह की चित्रवीथि

External links

References

  1. Jat Samaj: November 2011, p. 32
  2. राजेन्द्र कसवा: मेरा गाँव मेरा देश वाया शेखावाटी, 2012, पृ. 198-199
  3. राजेन्द्र कसवा: मेरा गाँव मेरा देश वाया शेखावाटी, 2012, पृ. 176

Back to The Social Workers/ Back to The Freedom Fighters