Sikar Jat Prajapati Maha-Yagya

From Jatland Wiki
(Redirected from सीकर यज्ञ)
Jump to navigation Jump to search
Author:Laxman Burdak, IFS (Retd.)

Sikar Jat Prajapati Maha-Yagya was a grand mass movement of farmers at Sikar, Rajasthan for awakening of farmers of Rajasthan especially the Jat farmers in 1934. It was organized at Sikar from 20-29 January 1934. Kunwar Hukam Singh Rahees Angai (Mathura) was made Yagyapati or Chairman of the Yagya. The program was scheduled for one whole week. The main aim of this event was to present to the Jats and other farmers of Shekhawati, the picture of advanced level of the cultural and education development, and the progressiveness of the Jat society in U.P. and elsewhere, so that the Jats of Shekhawati could be inspired to have a desire for education and upliftment.

Back ground

In Sikar district, Rajasthan, there were 500 villages of the Jats in one grouping, but in contrast to Haryana and Uttar Pradesh their condition was very backward. The condition was poor and destitute. The reason for this was the existence of the Rajput feudal Thakurs(Bikaner and Shekhawati). In this vast spread out region, there was not a single primary school. The Jats could not put Singh to their names. They could not wear a colored Pagri or turban. They could not sit on a charpoy in front of the Rajput Thakur. They were treated as untouchables. At the local Piyau or water fountain they were given water from separate pipes, the same as untouchables. The Jat ladies were made to wear clothes similar to those worn by lower classes. They were not allowed to wear gold ornaments. On his wedding day the Jat bridegroom was not allow to ride a horse. Fifty one kinds of taxes called ‘lagh’ were imposed on the Jats. For example if a son was born in the household of a Jat, the father had to give one Rupee as a gift to the local Thakur. If a son was born to the Thakur, each household had to give a Rupee to the Thakur as ‘Nazar’ or tribute. On a marriage ceremony there was an additional tax. There were additional taxes on Camels, Bullocks, Sheep, Goats and other animals. Taxes were imposed on all aspects of life. There was no Law or Court. The only law was that of the Thakur. The Jats and other communities had totally suppressed by the continual atrocities committed by the feudal arrogant Rajput intoxicated with his power. [3]


If any one spoke up, even just a little, they and their families were attacked physically, maimed and killed, their houses burnt down, their children kidnapped, by the pet thugs of the Rajput Thakur. There was no law, the cries of the victims went unheard. In the entire estate of Sikar, no one could hold an assembly or a gathering or receive permission for the same, if the applicant was a Jat, the refusal was prompt and totally adverse.

Some Jats from Uttar Pradesh went to Shekhawati on jobs, and some were sent there by the Jat Mahasabha to promote the Arya Samaj. They went from village to village attempting to awaken the people. Some also started to teach children in makeshift schools. Shekhawati was in the Thikana (district) of Sikar in the princely state of Jaipur. The Thakur of Sikar was Rao Raja Kalyan Singh. Some reformers met with him, and asked for some facilities and relief for the ordinary people. No resolution was achieved, and the reformers were instead harassed. This upset the Jats of Uttar Pradesh considerably. The Jat Mahasabha discussed the situation. It was decided that effort would be made to awaken to people in this area, in particular the Jats community.

The Sikar Jat Prajapati Maha-Yagya

The chairman of the Jat Mahasabha was a follower of the Arya Samaj and it was decided that a great Yagya (prayer ceremony), would be organized, and that venue would be used to make an introduction to the community. A Yagya was a religious function, and therefore permission was granted.

In 1934 it was decided to hold the ceremony at the time of Sharad, per the Hindu calendar, Yagya was called the Prajapati Yagya (Prayer ceremony for the Lord of Universe). The Jat Prajapati Maha-Yagya was organized at Sikar from 20-29 January 1934. Kunwar Hukam Singh Rahees Angai (Mathura) was made Yagyapati or Chairman of the Yagya. He had been Chairman of the Arya Prathinidhi Sabha, Uttar Pradesh province and All Arya Prathinidhi Sabha, Delhi, for many years. Chaudhary Kaluram Sund of village Kudan was the Yagyaman. Acharya Shri Jagdev Sidhanthi received an invitation for this Yagya at his Gurukul at Kirttal. In that invitation was he requested to attend the Yagya and bring twenty Bhramcharis and disciples with him. Volunteers went to all the households in all the villages in the region and collected material that would be needed. They collected Ghee, Flour, Gur, and invited all the householders to participate. Hundreds of cans of Ghee and hundreds of sacks of flour were collected.


When the trains carrying the groups of the Yajaks (organizers of the Yagya), reached Sikar railway Station, they were greeted with growing crowds. Seth Jamnalal Bajaj, who was a staunch supporter of Mahatma Gandhi, was also present at the railway station to greet the Yajaks. In the open sandy land near the railway station hundreds of thousands of men and women from every corner, every village in Rajasthan had set up camp with their families, bullock carts and camel carts. Seeing this vast preparation and gathering, the local Rajput community and the Brahmin community were not only astonished but panicky, and became determined to stop the Yagya. All kinds of tricks were attempted. The Pundits were determined to show the Yajaks as low people.

The program was scheduled for one whole week. The main aim of this event was to present to , the Jats and other farmers of Shekhawati, the picture of advanced level of the cultural and education development, and the progressiveness of the Jat society in U.P. and elsewhere, so that the Jats of Shekhawati could be inspired to have a desire for education and upliftment.

Jagdev Sidhanthi, per his plan, placed his honour student Raghuvir Singh, at the eastern entrance, as the one learned in the Yagya. Raghuvir Singh was sixteen years old at the time. He spoke fluent Sanskrit, and could recite all the Shastras and Mimamnsas from memory. On the Western entrance he placed Pundit Shanti Swarup, the guru from Gurukul Kirttal, who was a renowned Sanskrit Scholar. The function of these two was to greet the coming pundits in Sanskrit only, to speak to them in Sanskrit, and to give those directions. All the renowned gurus and students of the Sanskrit schools of Jaipur, Sikar, Ajmer, and Jodhpur etc came in small groups. They would first encounter the youth Raghuvir Singh. The students of the Puranic schools were less versed in the speaking of Sanskrit and compared the students of the Arya Samaj schools. In the first day itself the news flashed like wildfire that among the people, who came from Meerut to perform the Yagya, was a young boy who was speaking Sanskrit fluently and rapidly. People started to come from far and wide to listen to Raghuvir Singh.

Along with the Yagya ceremony, Bhajans, and updeshas (sermons) were carried on. The leaders and scholars gave their lectures and held seminars. Sir Chhotu Ram, the acclaimed leader of the common man, had made his debut and mark on the political firmament. He mad a speech. Many prominent persons were present:

People were enamored with their inspiring speeches.


One day, in the evening gathering, some puranic brahmins taunted Sidhanthiji that his students were simply parroting in Sanskrit. They were accused of simply having learnt their shlokas (verses) and dissertations, which anyone could do. They said - we will acknowdeh your student Raghuvir Singh, if we gave him topic of our choice, and he can speak even a few words on that. Raghuvir Singh accepted the challenge, and the topic given to him - Atma. The entire gathering of Puranic Brahmins was astounded by the extended discourse given by Raghuvir Singh. The people in the audience went wild in their appreciation, but the Rajput community present, were irritated. At The end of the Yagya, Raghuvir Singh made another discourse in Sanskrit, which was translated simultaneously into Hindi by Chaudhary Hariram Singh, which laid a stamp of confirmation on his scholarship.


When the Yagya program ended, the Yagyapati was to be taken in procession seated on an elephant. The Thakur of Sikar had allocated two elephants for this purpose, but the leaders of the Rajput community were unable to tolerate this. They collected in the palace of Raja Rao, and told him they would not tolerate a procession of the elephants with a Jat riding it. Raja Rao was convinced to stop the procession and orders were issued accordingly.


In those days the Chief of Police of the Jaipur state was an Englishman named F.S.Young. He had lived in then United Provinces (modern Uttar Pradesh) and was very popular with the people. Thakur Jhamman Singh, Chaudhary Hariram Singh, and Chaudhary Richpal Singh, knew him personally, and they went to Jaipur to seek his assistance. Mr. Young knew about the Yagya at Sikar, but he had been told that only three or four hundred people were present. The leaders told him that there were three or four hundred thousand people present, and could he go and see for himself. Mr. Young flew to Sikar in an aeroplane and flew over, circled and inspected the vast gathering many times. He moved in to the Guest House of the Raja of Sikar and invited both parties for talks. The Rajputs were not ready to bend. In the meantime their Pandits raised a new issue and stated that there was no such term as ‘Yagyapati’ in the Vedas, and therefore the question of a procession of the Yagyapati did not arise. Mr. Young asked the Yagya organizers for a response. Raghuvir Singh was asked this question. He gave a discourse of the place of Yagyapati in the Vedas, opening the books of the Vedas, marked innumerable places in the Vedas, where the term ‘Yagyapati’ appeared and put that in front of Mr. Young. The Puranic Pandits were stunned. Mr. Young then said to Rao raja - Now what do you have to say? These people are trying to spread learning and knowledge in this backward region and you are opposing them? See their students, how much of a grip and authority they have over their subject!


The Rajputs refused to budge. They threatened to shoot guns at the procession. The people were however so enthused that they were ready to face the bullets, make the greatest sacrifice, and were determined to see the procession take place. The Jat leaders however, showed great presence of mind and a compromise was reached that the procession would take place, but no Jat would sit on the elephant. Some Pandit with a book of the Veda would sit instead. One more obstacle was raised that in the Arya Samaj followers there was no birth born caste brahmin. In the Jats group there was only one caste born Brahmin, Pandit Khemchand Mandawar of Rajasthan, who was also a staunch Arya Samaj follower. His name was only agreed to after he had to pay two amounts 500 Rupees each as two individual bonds as surety that he was a born into the brahmin caste. As Pandit Khemchand sat upon the elephant with his Veda book, one small child of Thakur Deshraj was quietly seated with him in his lap.


The procession started but the gates to the city of Sikar were closed by those in opposition. Sikar was surrounded all around with very high walls. The gates being closed the Procession had to return from outside. The citizens of Sikar still saw the procession, as they climbed on to the rooftops, the trees and the walls, to see this vast procession.

During the Yagya 3000 men and women adopted the Yogyopavit, which was a symbol Kisan sangathan. Sheetal Kumari daughter of Kunwar Netram Singh adopted yagyopavit. Chaudhary Chimana Ram of Sangasi brought his wife wearing salwar-kurta. The unity of Jat farmers had terrified the Jagirdars of Sikar. The role played by Sardar Har Lal Singh and Thakur Deshraj was unparallel which made this yagya a grand success.

The benefits of yagya

There was a tremendous benefit of this Yagya. It sparked a renaissance and acted like water on parched land. It revived the spirit of the people. The struggle continued and grew took on more vigour. The minds of Jats of were now turned to education and the re-establishment of their ancient structures. The Jats and other communities, who had been suppressed for centuries, obtained the inspiration and would establish schools and colleges to educate their children.

After great struggle, Zamindari or feudal estates were abolished in a free India. In the last decades the increasing education and prosperity of the people of the region is index of their development. The brilliant Raghuvir Singh become the Vice Chancellor of Gurukul Kangri Mahavidhyayala (University), Haridwar. He also become a great leader of the Arya Samaj, and a much respected member of the community for his contributions in education and societal reforms.


जाट महायज्ञ सीकर 1933

ठाकुर देशराज[1] ने लिखा है .... जाट महायज्ञ सीकर 1933: सीकरवाटी में जागृति लाने के लिए ठाकुर देशराज ने जाट महायज्ञ करने की सोची। इसके लिए पलथाना में अक्तूबर 1932 में एक बैठक बुलाई। इसमें शेखावाटी के तमाम कार्यकर्ता और सीकर के हजारों आदमी इकट्ठे हुये। बसंत पर 7 दिन का यज्ञ करने का प्रस्ताव पारित हुआ। जिस समय यह मीटिंग चल रही थी सीकर ठिकाने ने पुलिस का गारद भेजा। जिसके साथ ऊंट पर हथकड़ियाँ लदी हुई थी। जिन्हें देखकर लोगों के होश खराब होने लगे। तब ठाकुर देशराज ने कहा ये हथकड़ियाँ तो हमको आजाद


[पृ.8]: कराएंगे। अगर आप इनसे डरोगे तो आप कभी भी आनंद प्राप्त नहीं कर सकते जो आप प्राप्त करना चाहते हो। हम यहाँ धर्म का काम करने के लिए इकट्ठा हुये हैं। यज्ञ में विघ्न डालना क्षत्रियों का काम नहीं है यह तो राक्षसों का काम है। आप डरें नहीं ठिकाना हमारे काम में विघ्न डाल कर बदनामी मौल नहीं लेगा। मुझसे अभी कहा गया है कि मैं राव राजा साहब सीकर के पास चलूँ। ऐसे तो मैं नहीं जा सकता। मुझे न तो किसी रावराजा का डर है न महाराजा का। इन शब्दों ने बिजली जैसा असर किया, लोग शांति से जमे रहे और यज्ञ के लिए कमेटियों का निर्माण कर लिया गया।

इससे कुछ ही महीने पहले खंडेलावाटी इलाके की जाट कनफेरेंस चौ. लादूराम गोरधनपुरा के सभापतित्व में बड़ी धूम-धाम से गढ़वाल की ढानी में हो चुकी थी। इस प्रकार जागृति का बिगुल तमाम ठिकानों में बज चुका था।

सीकर यज्ञ होने में थोड़े दिन शेष थे कि नेछआ में ठाकुर हुकम सिंह परिहार जब चंदा कमेटी का काम करने गए थे तो पकड़ कर काठ में दे दिया। और एक जाट की पिटाई सीकर में की। इन्हीं दिनों अर्थात दिसंबर 1932 को पिलानी में राय साहिब हरीराम सिंह के सभा पतित्व में अखिल भारतीय जाट विद्यार्थी कानफेरेंस का अधिवेशन हो रहा था। उसमें चौधरी छोटूराम साहब भी पधारे थे। तार द्वारा जब उनको सीकर से इतला मिली तो वे सीकर पहुँच गए। वहाँ उन्होने 5000 लोगों की उपस्थिती में एक तगड़ा भाषण दिया। इससे ठिकाने के भी होश ढीले हो गए। और जाटों में भी जीवन पैदा हो गया। सन 1933 की जनवरी में बसंत आ गया और उसके


[पृ.9]: सुनहले दिनों में लगभग 80000 की हाजिरी में यज्ञ का कार्य आरंभ हुआ। किरथल आर्य महाविद्यालय के ब्रह्मचारियों ने पंडित जगदेव सिद्धांती के नेतृत्व में यज्ञ आरंभ किया।

यज्ञपति थे आंगई के कुँवर हुकम सिंह परिहार और यज्ञमान ने कूदन के चौधरी कालूराम। वेदी पर दो दाढ़िया आर ब्रह्मचारी गण वैदिक काल के राजाओं और ऋषि बालकों की याद दिलाते थे। दस दिन तक वेद मंत्रों से यज्ञ हुआ। यज्ञभूमि छोटी-छोटी झोंपड़ियों और छोलदारियों का एक उपनिवेश सा बन गई थी।

यज्ञपति और वेदों का जुलूस निकालने के लिए जयपुर से एक हाथी मंगवाया गया था। किन्तु सीकर ठिकाने ने हाथी पर जुलूस न निकालने देने की जिद की। तीन दिन तक बराबर चख-चख रही। जयपुर के आईजी एफ़एस यंग को जयपुर से हवाई जहाज से मौके पर सीकर भेजा। दोनों तरफ की झुका-झुकी के बाद हाथी पर जुलूस निकल गया।

इस यज्ञ में 10 दिन तक जाट संगठन और जाट उत्थान का प्रचार होता रहा। लगभग 10 भजन मंडलियों और दर्जनों वक्ताओं ने जनता का मनोरंजन और ज्ञान-वर्धन किया। इसी समय कुँवर रतन सिंह की सदारत में राजस्थान जाटसभा का भी जलसा किया गया। इस में राजस्थान के तो हर कोने से लोग आए ही थे भारत के भी हर कोने से लोग आए थे। इसी समय जाट इतिहास का प्रकाशन हुआ और सर्वप्रथन उसकी कापी यज्ञकर्ताओं के लिए दी गई।


[पृ.10]: सीकर महयज्ञ के बाद जाटों में जागृति की वह लहर आई जिसे लाख जुल्म करने पर भी सीकर ठिकाना नहीं दबा सका जिसका विवरण अन्यत्र दिया गया है।

सीकर आंदोलन पर प्रकाश

ठाकुर देशराज[2] ने लिखा है....सीकर ठिकानेदार - [पृ.221]: जयपुर से लगभग 60 मील के फैसले पर उत्तर पश्चिम में सीकर नगर अवस्थित है। इस ठिकाने में लगभग 500 गांव हैं। ठिकानेदार को राव राजा की पुश्तैनी उपाधि है और अपने ठिकाने में न्याय और व्यवस्था के लिए फर्स्ट क्लास मजिस्ट्रेट के अधिकार प्राप्त हैं। ठिकाना अपने लिए एक राज्य मानता चला रहा है इसलिए यह फौज, पुलिस, जेल और न्याय का महकमा भी अपना रखा है। जयपुर ने भी उसे ताजिमी सरदार और कर दिहिंदा मातहत राज्य की जैसी आजादी दे रखी है। अंग्रेज हकीमों के आने तक जयपुर में उसके और अपने अधिकारों के निर्णय के बारे में कभी सोचा तक भी नहीं था। सन् 1934 से पहले यहां किसानों से लगान के अलावा वे सभी लागें ली जाती थी जो शेखावाटी के दूसरे बड़े ठिकानों में ली जाती थी।

ठिकाने के अंतर्गत और भी छोटे छोटे जागीरदार थे जो भोमिया, वाढ़दार और ठिकानेदारों के नाम से ही मशहूर थे और अब (सन् 1948 तक) हैं सीकर और उसके मातहत सभी ठिकानों में लगान उगाही के वही तरीके थे जो शेखावाटी में हैं।


[पृ.222]: आतंक शेखावाटी के ठिकानों की अपेक्षा सीकर में अधिक था फिर भी यहां के किसानों ने अपना दुखड़ा न रोया हो ऐसी बात नहीं। सीकर में वे टोल के टोल आकर अपनी शख्तियों को बयान करते थे और सीकर से निराश होने पर ही जयपुर पहुंचते थे। सब जगह से निराश होने पर ही उन्होंने आंदोलन आरंभ किया।

सीकर के जाट किसानों का आंदोलन सन् 1934 के तरीकों में भले ही नया था किंतु यह नहीं कहा जा सकता कि 1934 में जो वे चाहते थे इससे पहले नहीं चाहते थे। उन्होंने सन् 1925 के आसपास चौधरी राम नारायण जी के सहयोग से आगे आने की कोशिश की थी किंतु चौधरी राम नारायण जी को जयपुर राज्य से बाहर निकाल दिया गया इसलिए उनके पास फिर वही दरख्वास्तें देने का मार्ग शेष रह गया था। उन्होंने निरंतर बढ़ने वाले लगान, उसकी उगाए की शख्तियां और लाल बाग के गैरकानूनीपन पर बराबर जयपुर और सीकर के अधिकारियों के दरवाजे खटखटातये, गलियों की खाक छानी और धर्मशाला के फ़र्शों पर लेट लगाए किंतु कभी भी उनकी सुनवाई नहीं हुई।

सीकर के ठिकानेदार ने परवाह नहीं की और वह अपनी नालायक मुलाजिमों और मातहत ठिकानों के जुल्मी हाथों में उनकी दया पर छोड़ दिए गए।

अत्याचारों के सहते-सहते लोगों की आत्मा मर जाती है। उनका स्वाभिमान समाप्त हो जाता है। जातीय प्रेम लुप्त हो जाता है। ऐसा दशा किसी जाति की होने लगे तो समझ लो उसका नाश नजदीक है।

सीकर किसान आंदोलन की शुरुआत : सीकर में करीब करीब यही दशा थी। सन् 1931 के अक्टूबर महीने में जाट महासभा का


[पृ.223]: डेपुटेशन झूंझावाटी का दौरा करके सीकर में घुसा तो उसका प्रथम मुकाम कूदन में हुआ। डेपुटेशन में ठाकुर झम्मन सिंह जी एडवोकेट मंत्री जाट महासभा, ठाकुर देशराज जी मंत्री राजस्थान जाट सभा और महासभा के दोनों उपदेश ठाकुर भोला सिंह और हुकुम सिंह थे। गांव के किसी प्रतिष्ठित आदमी ने उनकी बात तक नहीं सुनी। यदि उस समय वहां मास्टर चंद्रभान सिंह जी (अध्यापक कार्य पर) न होते तो रात को ठहरना भी मुश्किल हो जाता। यह हालत थी उस समय सीकर के जाटों की हिम्मत और जाति प्रेम की।

हां उस समय भी एक जाट घराना सीकर में शेर की भांति ही निर्भर था वह था चौधरी रामबक्स जी भूकर, गोठड़ा का। चौधरी रामबक्स जी के लड़के चौधरी पृथ्वी सिंह को उस समय का सीकर का सिंह शावक कहें तो कुछ भी अयुक्ति नहीं होगी। उसके दिल में एक तिलमिलाहट थी और वह जल्द से जल्द अपनी कौम को बंधन मुक्त कराने की उत्कंठा में था। वही सिंह शावक अपने दूसरे साथियों श्री हरदेव सिंह पलथाना आदि के साथ झुंझुनू के महान जाट महोत्सव में पहुंचा और तमाम बाहरी जाट लीडर को उसने अपने इलाके के जाटों की दयनीय स्थिति से परिचित कराया।

जयपुर ने सीकर को आंतरिक अमन बनाये रखने की आजादी दे रखी थी। इसलिए यह सीकर का अपना आंतरिक मामला था कि कोई सभा-सोसाइटी अपने यहाँ होने दे या नहीं।

एक बार ठाकुर भोला सिंह जी महोपदेशक जाट महासभा सीकर में जा पहुंचे। CID ने पुलिस में इतला दी और पुलिस ने बैरंग उन्हें सीकर से वापस कर दिया। अतः यह एकदम कठिन था कि वहां जाट महासभा या उसकी किसी


[पृ.224]: शाखा सभा का वहां अधिवेशन हो जाने दिया जाता या प्रचारको को प्रचार की आजादी रहती। ऐसी कठिन परिस्थितियों में वहां जलसा करना था। यह वचन ठाकुर देशराज, कुँवर पृथ्वी सिंह जी को दे चुके थे।

पलथना में मीटिंग: बहुत सोचने विचारने के बाद उनके दिमाग में सीकर में एक यज्ञ कराने की आई और इसी उद्देश्य को लेकर उन्होंने सन् 1933 के अक्टूबर महीने में पलथना में एक मीटिंग बुलाई। इस मीटिंग में सीकर के 500 गांवों में से एक एक आदमी बुलाया गया लेकिन 5,000 आदमी इकट्ठे हुए। मीटिंग को भंग करने के लिए सीकर की पुलिस दल बल सहित मौके पर पहुंची किंतु मीटिंग सफल हुई और वक्ताओं के ओजस्वी भाषण से लोगों में जीवन की लहर पैदा कर दी। इस समय तक कुँवर पन्ने सिंह जी मर चुके थे। उनके बड़े भाई कुंवर भूर सिंह, चौधरी घासी राम, सरदार हरलाल सिंह, चौधरी रामसिंह कुँवरपुरा आदि सभी प्रतिष्ठित कार्यकर्ता शामिल हुए। मा. रतन सिंह जी बीए जो उस समय पिलानी में अध्यापक थे उनका भी भाषण हुआ।

इसी दिन सीकर बसंत पर जाट प्रजापति महायज्ञ करने का एलान किया गया और उसके लिए तय हुआ कि हर घर से घी व पैसा उगाया या जाए। श्री मास्टर चंद्रभान जी को यज्ञ कमेटी का मंत्री और चौधरी हरू सिंह जी पलथाना को अध्यक्ष चुना गया। श्री देवी सिंह बोचल्य और ठाकुर हुकुम सिंह, भोला सिंह जी को प्रचार विभाग सौंपा गया।

डेपुटेशन उपदेशकों के गांवों में पहुंचने से सीकर के कर्मचारियों के कान खड़े हुए और उन्होंने छेड़खानी आरंभ कर दी। तारीख 6 दिसंबर 1932 को जबकि नेछूआ तहसील के सिगड़ोला गांव में प्रचार हो रहा था, रात के समय लावर्दीखां


[पृ.225]: नाम का सवार तहसील की ओर से पहुंचा और ठाकुर हुकुम सिंह जी उपदेशक महासभा को पकड़ ले गया और तहसील में ले जाकर रात भर के लिए काठ में दे दिया। दूसरे दिन काफी डरा धमका कर उन्हें छोड़ दिया गया।

इसके विरोध में ठाकुर देशराज जी मंत्री राजस्थान आदेशिक जाटसभा ने राव राजा साहब सीकर को एक पत्र भेजा और मांग की कि लावर्दी खां को उसके गैरकानूनी कृत्य पर दंड दिया जाए किंतु ठिकाने ने उस पत्र का कोई उत्तर तक नहीं दिया।

जाट महायज्ञ की प्रबंधकारिणी का आफिस पहले तो पलथना, पोस्ट लक्ष्मणगढ़ में रहा इसके बाद दिसंबर के आरंभ में सीकर में आ गया और वहीं से कार्य संचालन होने लगा।

यज्ञ की प्रबंधकारिणी की ओर से एक डेपुटेशन जयपुर के अधिकारियों को यज्ञ में शामिल होने के लिए 13 दिसंबर को जयपुर पहुंचा। जयपुर पुलिस के आईजी एफ़.एस. यंग ने यज्ञ में आना स्वीकार कर लिया। किंतु वहां राजनीतिक चर्चा न होने देने के लिए भी आदेश दिया। इसके बाद सीकर के अधिकारियों ने यज्ञ के लिए इजाजत मांगने के लिए जोर देना शुरु किया किंतु यज्ञ कमेटी के अधिकारियों ने साफ कह दिया है कि यह धार्मिक कृत्य है इसके लिए इजाजत की आवश्यकता नहीं है। सीकर के अधिकारी दुविधा में पड़े, यज्ञ को बंद कराकर बदनामी का ठीकरा अपने माथे नहीं लेना चाहते थे किंतु यज्ञ को होने देना भी नहीं चाहते थे। उन्होंने लोगों को डराना, धमकाना


[पृ 226]: और काठ में देना और पीटना आरंभ किया किंतु जाट लोग अपने निश्चय से नहीं डिगे।

दिसंबर के आखिर में रायबहादुर चौधरी सर छोटूराम जी भी यज्ञ के काम को सफल बनाने के लिए लोगों को प्रोत्साहित करने सीकर पधारे। इसके बाद तो लोगों ने चौगुनी उत्साह से काम करना आरंभ कर दिया।

गांवों में दिल खोलकर लोगों ने घी और रुपया दिए। सोचा यह गया कि पंडित मदन मोहन मालवीय से यज्ञ का उद्घाटन कराया जाए। इसके लिए ठाकुर देशराज जी बनारस गए और वहां पंडित जी से मिलकर यज्ञ के संबंध में बातें की। जाटों के प्रति मालवीय जी का जो प्रेम था उसे प्रकट करते हुए मालवीयजी ने “ यदि उन्हीं दिनों वायसराय हिंदू विश्वविद्यालय में ना आए तो” शब्दों में आने का वादा किया।

जनवरी 1934 के बसंती दिनों में सीकर के आर्य महाविद्यालय के कर्मचारियों द्वारा यज्ञ आरंभ हुआ। उन दिनों यज्ञ भूमि एक ऋषि उपनिवेश सी जांच रही थी। बाहर से आने वालों के 100 तम्बू और और छोलदारियाँ थी और स्थानीय लोगों के लिए फूस की झोपड़ियों की छावनी बनाई।

20000 आदमी के बैठने के लिए पंडाल बनाया गया था जिसकी रचना चातुरी में श्रेय नेतराम सिंह जी गोरीर और चौधरी पन्ने सिंह जी बाटड़, बाटड़ नाऊ को है। यज्ञ स्थल 100 गज चौड़ी और 100 गज लंबी भूमि में बनाया गया था जिसमें चार यज्ञ कुंड चारों कोनों पर और एक बीच में था। चारों यज्ञ कुंड ऊपर यज्ञोपवीत संस्कार होते थे और बीच के यज्ञ कुंड पर कभी भी न बंद होने वाला यज्ञ।


[पृ 227]: 25 मन घी और 100 मन हवन सामग्री खर्च हुई। 3000 स्त्री पुरुष यज्ञोपवीत धारण किए हुये थे।

यज्ञ पति थे आंगई के राजर्षि कुंवर हुकुम सिंह जी और यज्ञमान थे कूदन के देवतास्वरुप चौधरी कालूराम जी। ब्रह्मा का कृत्य आर्य जाति के प्रसिद्ध पंडित श्री जगदेव जी शास्त्री द्वारा संपन्न हुआ था। यह यज्ञ 10 दिन तक चला था। एक लाख के करीब आदमी इसमें शामिल हुए थे। इस बीसवीं सदी में जाटों का यह सर्वोपरि यज्ञ था। यज्ञ का कार्य 7 दिन में समाप्त हो जाने वाला था। परंतु सीकर के राव राजा साहब द्वारा जिद करने पर कि जाट लोग हाथी पर बैठकर मेरे घर में होकर जलूस नहीं निकाल सकेंगे।

3 दिन तक लाखों लोगों को और ठहरना पड़ा। जुलूस के लिए हाथी जयपुर से राजपूत सरदार का लाया गया था, वह भी षड्यंत्र करके सीकर के अधिकारियों ने रातों-रात भगवा दिया। किंतु लाखों आदमियों की धार्मिक जिद के सामने राव राजा साहब को झुकना पड़ा और दशवें दिन हाथी पर जुलूस वैदिक धर्म की जय, जाट जाति की जय के तुमुलघोषों के साथ निकाला गया और इस प्रकार सीकर का यह महान धार्मिक जाट उत्सव समाप्त हो गया।

इस महोत्सव में भारतवर्ष के हर कोने से जाट सरदार आए थे। इन्हीं दिनों राजस्थान जाटसभा का द्वितीय अधिवेशन कुंवर रतन सिंह जी के सभापतित्व में पूर्ण उत्साह के साथ संपन्न हुआ।

इस अवसर पर जाट साहित्य भी काफी प्रकाशित हुआ। चौधरी रीछपाल सिंह जी धमेड़ा का लिखा जाट महायज्ञ का इतिहास, चौधरी लादुराम रानीगंज का लिखा नुक्ताभोज,


[पृ 228]: पंडित दत्तूराम जी की लिखी गौरव भजनावली और ठाकुर देशराज जी का लिखा पुनीत ग्रंथ जाट इतिहास भी इस समय प्रकाशित हुए। ....

See also

External links

References


Back to Jat Mahotsav