हीरासिंह चाहर का काव्य

From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search

कुर्बानी

दुनिया में बड़ी कुर्बानी रे दुनिया में -टेर-

जो देश धर्म पर मरता निज नाम अमर वो करता ।

सदा रहती उनकी कहानी रे । दुनिया में ।। 1।।

वो प्रतापसिंह बलधारी, बना आजादी का पुजारी ।

चितौड़ का रख्या पानी रे । दुनिया में ।। 2।।

हुआ शिवाजी बलशाली चोटी जनेऊ बचाली ।

सुन डरती है मुगलानी रे । दुनिया में ।। 3।।

धनि-धनि किशोरी रानी दिल्ली में तेग जा तानी ।

तेरी अमर रहेगी कहानी रे । दुनिया में ।। 4।।

बना हीरासिंह मर्दाना निज शीश देश पर चढाना ।

ना रहे सदा जिन्दगानी रे । दुनिया में ।। 5।।

दुनिया में बड़ी कुर्बानी रे दुनिया में

रचयिता

चौधरी हीरासिंह चाहर

यह भी देखें


Back to Rajasthani Folk Lore