Anangpal

From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search
Mandir Statue of Anangpal Tomar II

Anangpal Tomar (731-736 AD) (अनंगपाल) or Bilan Dev Tomar was a Chandravanshi Kuntal Tomar Jat Kshatriya, descendant of Jat Samrat Parikshit of Mahabharat fame. He was the first ruler to make ancient Indraprastha, modern day - Delhi his capital.

History

Anangpal Tomar was a king of the Tomara dynasty, who ruled over areas of Delhi in India. Sources variously say this was in the 8th century CE or the 11th century.

Little is known of Anangpal, who whose ancestors had settled in the Aravalli Hills around the end of the first millennium CE. Some archaeological evidence survives of earlier settlements in the area and may be related to a ruler called Surajpal. Of Anangpal, the primary source for information comes from the Prithviraj Raso, a history of Prithviraj Chauhan which was written much later. Some sources say that physical evidence at Lal Kot (literally Red Fort, not to be confused with the present day Red Fort), which he is thought to have built and which is the oldest identifiable city in the area, suggests that he lived in the eleventh century[1][2] but others state that it was the 8th century.[3]

Anangpal Tomar II

Anangpal Tomar II अनंगपाल द्वितीय ruled Delhi in the mid-eleventh century.[1][2] He gave Mihirawali (now Mehrauli) name to modern Delhi which means path of Mihir.[3] In middle of 11th century, he built a fort called Lal Kot (literally Red Fort), in which the Qutb Minar stands today, and founded a town. He also removed the famous Iron pillar of Delhi on which are inscribed the eulogies of Chandragupta Vikramaditya (r. 375–415 CE), probably from Mathura, and set it up in 1052 CE, near a group of temples.[4] He also built the Yogmaya Temple nearby. The dynasty lasted just a century after this, as after him, came his son, Ausan Singh (Tejpal) and then his grandson Kosal Dev Singh (Mahipal).

Anangpal Tomar III

The last Tomar ruler Anangpal Tomar III was succeeded by his grandson, the famous Prithvi Raj Chauhan (1149-1192 CE), who renamed the Lalkot fort as Qila Rai Pithora, and ruled both Delhi and Ajmer, and built the city which bore his name at the former place.[5].He was killed in a battle with the Turks at Tarain in AD 1192. From then onwards, Muslims ruled Delhi.[6]

Genelogy of Anangpal according to Torawati Family

सम्राट अनंगपाल द्वितीय

सम्राट अनंगपाल द्वितीय (1051ई.-1081 ई.): अनंगपाल द्वितीय ने 1051 ई.-1081 ई. तक 29 साल 6 मास 18 दिन तक राज्य किया। इनका वास्तविक नाम अनेकपाल था। इनकी मुद्राएँ तोमर देश कहलाने वाले बाघपत जिले में जोहड़ी ग्राम से प्राप्त हुई। लेख के अनुसार "सम्वत दिहालि 1109 अनंगपाल बहि "

इसका अर्थ है कि अनंगपाल ने सन 1052 ईस्वी में दिल्ली बसाई। पार्श्वनाथ चरित के अनुसार भी 1070 ईस्वी में दिल्ली पर अंनगपाल था। इंद्रप्रस्थ प्रबंध के अनुसार भी इस बात की पुष्टि होती है। महाराजा अनंगपाल तोमर की रानी हरको देवी के दो पुत्र हुए। बड़े सोहनपाल देव बड़े पुत्र आजीवन ब्रह्मचारी रहे। और छोटे जुरारदेव तोमर हुए जुरारादेव को सोनोठ गढ़ में गद्दी पर बैठे जुरारदेव तोमर के आठ पूत्र हुए -

1. सोनपाल देव तोमर - इन्होंने सोनोठ पर राज्य किया

2. मेघसिंह तोमर - इन्होंने मगोर्रा गाँव बसाया

3. फोन्दा सिंह तोमर ने फोंडर गाँव बसाया

4. गन्नेशा (ज्ञानपाल) तोमर ने गुनसारा गाँव बसाया

5. अजयपाल तोमर ने अजान गाँव बसाया

6. सुखराम तोमर ने सोंख

7. चेतराम तोमर ने चेतोखेरा गाँव

8. बत्छराज ने बछगांव बसाया

इन आठ गाँव को खेड़ा बोलते हैं। इन आठ खेड़ों की पंचायत वर्ष अनंगपाल की पुण्यतिथि (प्रतिवर्ष चैत्र शुक्ला-पूर्णमासी ) पर कुल देवी माँ मनसा देवी के मंदिर अनंगपाल की समाधी और किले के निकट हज़ार वर्षो से होती आ रही है। इस का उद्देश्य पूरे वर्ष के सुख दुःख की बाते करना, अपनी कुल देवी पर मुंडन करवाना, साथ ही आपसी सहयोग से रणनीति बनाना था। वर्तमान में यह अपने उद्देश्य से दूर होता दिख रहा है। मंशा देवी के मंदिर पर प्रतिवर्ष चैत्र शुक्ला-पूर्णमासी को एक विशाल मेला लगता है जिसमे सिर्फ तोमर वंशी कुन्तल जाते हैं। दिल्ली के राजा अनंगपाल ने मथुरा के गोपालपुर गाँव में संवंत 1074 में मन्सा देवी के मंदिर की स्थापना की। यह गाँव गोपालदेव तोमर ने बसाया। अनंगपाल तोमर/तँवर ने गोपालपुर के पास 1074 संवत में सोनोठ में सोनोठगढ़ का निर्माण करवाया। जिसको आज भी देखा जा सकता है। इन्होंने |सोनोठ में एक खूँटा गाड़ा और पुरे भारतवर्ष के राजाओ को चुनोती दी की कोई भी राजा उनके गाड़े गए इस स्तम्भ (खुटे) को हिला दे या दिल्ली राज्य में प्रवेश करके दिखा दे। किसी की हिम्मत नहीं हुई। इसलिए जुरारदेव तोमर के वंशज खुटेला कहलाये।

इनकी अन्य मुद्राओं पर श्री अंनगपाल लिखा गया है। इन्होने हरियाणा भाषा में भी नाम अणगपाल नाम सिक्कों पर अंकित करवाया है। इनके कुछ सिक्कों पर कुलदेवी माँ |मनसा देवी का चित्र भी अंकित है। ब्रज क्षेत्र और कृष्ण से प्रेम के कारन इन्होने कुछ सिक्को पर श्री माधव भी अंकित करवाया।

Ref - सम्राट अनंगपाल द्वितीय (1051ई.-1081 ई.) फेसबुक पर

References

  1. Blake, Stephen P. (2002). Shahjahanabad: The Sovereign City in Mughal India 1639-1739. Cambridge University Press. pp. 7–9. ISBN 9780521522991.
  2. Khushwant Singh (2001). City improbable: an anthology of writings on Delhi. Viking. p. 5. ISBN 978-0-670-91235-3.
  3. Mukherji, Anisha Shekhar (2002). The red fort of Shahjahanabad. Delhi: Oxford University Press. p. 46. ISBN 9780195657753.
  4. Gazetteer, p. 233
  5. Gazetteer, p. 234
  6. D. C. Ahir (1989). Buddhism in north India. Classics India Publications. p. xvi. ISBN 81-85132-09-7.

Back to The Rulers