Assam

From Jatland Wiki
Jump to navigation Jump to search
Author:Laxman Burdak, IFS (R)

Assam (आसाम) is a state in Northeast India, situated south of the eastern Himalayas along the Brahmaputra and Barak River valleys.

Variants

Location

The state is bordered by Bhutan and the state of Arunachal Pradesh to the north; Nagaland and Manipur to the east; Meghalaya, Tripura, Mizoram and Bangladesh to the south; and West Bengal to the west via the Siliguri Corridor, a 22 kilometres (14 mi) strip of land that connects the state to the rest of India.

Etymology

The precise etymology of modern anglicised word "Assam" is ambiguous. In the classical period and up to the 12th century the region east of the Karatoya river, largely congruent to present-day Assam, was called Kamarupa, and alternatively, Pragjyotisha.[1] In medieval times the Mughals used Asham (eastern Assam) and Kamrup (western Assam),[2][3][4] and during British colonialism, the English used Assam. Though many authors have associated the name with the 13th century Shan invaders the precise origin of the name is not clear. It was suggested by some that the Sanskrit word Asama ("unequalled", "peerless", etc.) was the root, which has been rejected by Kakati,[5] and more recent authors have concurred that it is a latter-day Sanskritization of a native name.[6] Among possible origins are Tai (A-Cham)[7]and Bodo (Ha-Sam).[8]

The People

The indigenous people traditionally include ethnic groups like

History

Pre-history: Assam and adjoining regions have evidences of human settlements from all the periods of the Stone ages. The hills at the height of 1,500–2,000 feet (460 to 615 m) were popular habitats probably due to availability of exposed dolerite basalt, useful for tool-making.[21]

Legendary: According to a late text, Kalika Purana (c. 9th–10th century AD), the earliest ruler of Assam was Mahiranga Danav of the Danava dynasty, which was removed by Naraka who established the Naraka dynasty. The last of these rulers, also Naraka, was slain by Krishna. Naraka's son Bhagadatta became the king, who (it is mentioned in the Mahabharata) fought for the Kauravas in the battle of Kurukshetra with an army of Kiratas, Chinas and dwellers of the eastern coast. At the same time towards east in central Assam, Asura Kingdom was ruled by indigenous line of kings of Mariachi dynasty.[9]

Ancient: Ambari site in Gwahati has revealed Shunga Kushana era artifacts including flight of stairs and a water tank which may date from 1st century BC and maybe 2000 years old, experts speculate that Ambari was another significant find is roman era Roman Roulette Pottery from the 2nd century BC[10][11][12]. Samudragupta's 4th century Allahabad pillar inscription mentions Kamarupa (Western Assam)[13] and Davaka (Central Assam)[14] as frontier kingdoms of the Gupta Empire. Assam and much of North East India were vassal states to the Mauryan, Shunga and Gupta Empire.

Davaka was later absorbed by Kamarupa, which grew into a large kingdom that spanned from Karatoya river to near present Sadiya and covered the entire Brahmaputra valley, North Bengal, parts of Bangladesh and, at times Purnea and parts of West Bengal.[15]

The kingdom was ruled by three dynasties; the Varmanas (c. 350–650 CE), the Mlechchha dynasty (c.655–900 CE) and the Kamarupa-Palas (c. 900–1100 CE), from their capitals in present-day Guwahati (Pragjyotishpura), Tezpur (Haruppeswara) and North Gauhati (Durjaya) respectively. All three dynasties claimed descent from Narakasura.

In the reign of the Varman king, Bhaskaravarman (c. 600–650 AD), the Chinese traveller Xuanzang visited the region and recorded his travels. Later, after weakening and disintegration (after the Kamarupa-Palas), the Kamarupa tradition was extended to c. 1255 AD by the Lunar I (c. 1120–1185 AD) and Lunar II (c. 1155–1255 AD) dynasties.[16]

असम - आसाम

असम या आसाम उत्तर पूर्वी भारत में एक राज्य है। असम अन्य उत्तर पूर्वी भारतीय राज्यों से घिरा हुआ है। असम भारत का एक सरहदी राज्य है। भारत-भूटान और भारत-बांग्लादेश सरहद कुछ हिस्सों में असम से जुड़ी है। यहाँ पर कपिली नदी और ब्रह्मपुत्र नदी भी बहती है। असम पूर्वोत्तर दिशा में भारत का प्रहरी है और पूर्वोत्तर राज्यों का प्रवेशद्वार भी है। असम की उत्तर दिशा में भूटान और अरुणाचल प्रदेश, पूर्व दिशा में मणिपुर, नागालैंड और अरुणाचल प्रदेश और दक्षिणी दिशा में मेघालय, मिज़ोरम और त्रिपुरा राज्य हैं।

इतिहास: विद्वानों का मत है कि 'असम' शब्द संस्कृत के 'असोमा' शब्द से बना है, जिसका अर्थ होता है अनुपम या अद्वितीय। किन्तु अधिकतर विद्वानों का मानना है कि यह शब्द मूल रूप से 'अहोम' से बना है। ब्रिटिश शासन में जब इस राज्य का विलय किया गया, उससे पहले लगभग छह सौ वर्ष तक इस राज्य पर 'अहोम' राजाओं का शासन रहा था। आस्ट्रिक, मंगोलियन, द्रविड़ और आर्य जैसी विभिन्न जातियां प्राचीन समय से इस प्रदेश की पहाड़ियों और घाटियों में अलग अलग समय पर आकर रहीं और बस गयीं जिसका यहाँ की मिश्रित संस्कृति में बहुत गहरा प्रभाव पड़ा।

इस राज्य के विकास में इन सभी जातियों ने अपना योगदान दिया। इस प्रकार असम राज्य में संस्कृति और सभ्यता की एक प्राचीन और समृद्ध परंपरा रही है।

प्राचीन नाम: प्राचीन समय में यह राज्य 'प्राग्ज्योतिष' अर्थात् 'पूर्वी ज्योतिष का स्थान' कहलाता था। कालान्तर में इसका नाम 'कामरूप' पड़ गया। कामरूप राज्य का सबसे पुराना उदाहरण इलाहाबाद में समुद्रगुप्त के शिलालेख से मिलता है। इस शिलालेख में कामरूप का विवरण ऐसे सीमावर्ती देश के रूप में मिलता है, जो गुप्त साम्राज्य के अधीन था और गुप्त साम्राज्य के साथ इस राज्य के मैत्रीपूर्ण संबंध थे। चीन के विद्वान् यात्री ह्वेनसांग लगभग 743 ईस्वी में राजा कुमारभास्कर वर्मन के निमंत्रण पर कामरूप में आया था। ह्वेनसांग ने कामरूप का उल्लेख 'कामोलुपा' के रूप में किया है। 11वीं शताब्दी के अरब इतिहासकार अलबरूनी की पुस्तक में भी 'कामरूप' का विवरण प्राप्त होता है। इस प्रकार प्राचीन काल से लेकर 12वीं शताब्दी ईस्वी तक समस्त आर्यावर्त में पूर्वी सीमांत देश को 'प्राग्ज्योतिष' और 'कामरूप' के नाम से जाना जाता था और यहाँ के नरेश स्वयं को 'प्राग्ज्योतिष नरेश' कहलाया करते थे। सन 1228 में पूर्वी पहाडियों पर 'अहोम' लोगों के आने से इतिहास में मोड़ आया। उन्होंने लगभग छह सौ वर्षों तक असम राज्य पर शासन किया। 1819 में बदनचन्द्र की हत्या के बाद सन् 1826 में यह राज्य ब्रिटिश सरकार के अधिकार में आ गया। इस समय 'बर्मी' लोगों ने 'यंडाबू संधि' को मानकर असम को ब्रिटिश सरकार को सौंप दिया था।

भू-आकृति: मैदानी इलाक़ों एवं नदी घाटियों वाले असम को तीन प्रमुख भौतिक क्षेत्रों में विभाजित किया गया है- 1. उत्तर में ब्रह्मपुत्र नदी घाटी, 2. दक्षिण में बरक नदी घाटी एवं कार्बी तथा आलंग ज़िलों के पर्वतीय क्षेत्र, 3. इन दोनों घाटियों के मध्य स्थित उत्तरी कछार की पहाड़ियाँ।

ब्रह्मपुत्र नदी घाटी असम का प्रमुख भौतिक क्षेत्र है। यह नदी असम के पूर्वोत्तर सिरे पर सादिया के पास प्रवेश करती है, फिर पश्चिम में पूरे असम में लगभग 724 किमी. लंबे मार्ग में प्रवाहित होकर दक्षिण की ओर मुड़कर बांग्लादेश के मैदानी इलाक़ों में चली जाती है। ब्रह्मपुत्र नदी घाटी, छोटी एकल पहाड़ियों और मैदानी इलाक़ों में अचानक उठते शिखरों, जिनकी चौड़ाई 80 किमी. से ज़्यादा नहीं है, से भरी हुई है। पश्चिम दिशा को छोड़कर बाक़ी सभी दिशाओं में यह पर्वत्तों से घिरी हुई है। पड़ोस की पहाड़ियों से निकली कई जलधाराओं एवं उपनदियों का जल इसमें समाहित होता है। बरक नदी घाटी दक्षिण-पूर्व दिशा में विस्तृत निम्न भूमि के क्षेत्र की संरचना करती है, जो कृषि के लिए महत्त्वपूर्ण है एवं इससे अपेक्षाकृत सघन बसी जनसंख्या को मदद मिलती है, हालांकि इस घाटी का एक छोटा सा ही हिस्सा राज्य के सीमाक्षेत्र में है।

संदर्भ: भारतकोश-असम

External links

References

  1. Lahiri, Nayanjot., Pre-Ahom Assam (Delhi 1991) p14
  2. Sukalpa Bhattacharjee, C Joshua Thomas,2013,Society, Representation and Textuality:The Critical Interface It deals with the expansion of the Mughal Empire in Bengal, Kamrup and Assam.
  3. Satish Chandra (2005), Medieval India:Fro Sultanate to the Mughals Part – II They had support of many Hindu Rajas of Jessore, Kamrup (Western Assam), Cachar, Tippera, etc.
  4. Peter Jackson,2003,The Delhi Sultanate: A Political and Military History, P. 141, into the region of Assam the Muslims called Kamrup or Kamrud
  5. Banikanta Kakati, Early Aspects of Assamese Literature (Gauhati, 1953) p2
  6. Satyendra Nath Sharma, Assamese Literature (Wiesbaden : Harrassowitz, 1976) p1
  7. "In Tai the root cham means "to be undefeated". With the privative Assamese affix ā the whole formation Āchām would mean undefeated.", Banikanta Kakati, Aspects of Early Assamese Literature (Gauhati University Press, 1953) p2
  8. "The Ahom domain of Upper Assam came to be known to the Dimasa and other Bodo people as Ha-Sam (the land of the Shams or Shans) in their language.", Amalendu Guha, The Ahom Political System: An Enquiry into the State Formation Process in Medieval Assam (1228–1714) in Social Scientist Vol. 11, No. 12, (1983) p24
  9. India History Association. Session (2001), Proceedings of North East India History Association North East
  10. "The Assam Tribune Online". www.assamtribune.com.
  11. Deka, Prodyut Kumar (2017-07-06). Ambari. Educreation Publishing.
  12. "Relics hold clue to missing history - Sunga-Kushana era terracotta artefacts may say if Guwahati existed before 7th century AD". www.telegraphindia.com.
  13. Tej Ram Sharma,1978, "Personal and geographical names in the Gupta inscriptions. (1.publ.)", Page 254,
  14. Suresh Kant Sharma, Usha Sharma – 2005,"Discovery of North-East India: Geography, History, Culture, ... – Volume 3", Page 248,
  15. Sircar 1990, pp. 63–68
  16. Barpujari, H. K. (ed.) (1990), The Comprehensive History of Assam, 1st edition, Guwahati, India: Assam Publication Board