Balu Ram Chaudhary

From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search

Balu Ram Chaudhary or Balu Ram Khatkad, From village Dhandhan in Sikar district was a teacher, freedom fighter and MLA from Fatehpur Sikar, Rajasthan.

बालूराम चौधरी का जीवन परिचय

नलिन सराफ[1] ने लिखा है कि बालूराम चौधरी एक कर्मठ अध्यापक थे जिन्हें छात्रों का अध्यापन ही नहीं उनकी अन्य समस्याओं का भी ध्यान रहता था। वे चमड़िया हाईस्कूल के प्रधानाध्यापक रहे। उस समय शहर के आस-पास के गांवों से पढ़ने आने वाले विद्यार्थियों की आवास की समस्या को महसूस करते हुये इन्होने उनके लिए एक छात्रावास बनाने की कल्पना की।

समाज सेवा

नलिन सराफ[2] ने लिखा है किअपने व्यक्तिगत प्रयास से मित्रों एवं परिचितों से प्राय दस बीघा जमीन प्राप्त की, जो शहर के उत्तरी सीमा पर स्थित शिवालय के समीप थी। यहाँ उन्होने देहाती छात्रों को संग ले स्वयं श्रमदान में लगकर एक रहने लायक आवास का निर्माण किया। इस आवास की आधारशिला तत्कालीन राजस्व मंत्री चौधरी कुंभाराम ने 26 जनवरी 1954 को रखी। व इसका नाम 'देहाती छात्रावास' रखा। इसमें 8 कमरे, बरामदा व राशोईघर आदि बनाए गए। इसमें छात्र स्वयं ही आवश्कतानुसार स्वरूचि भोजन बना लेते थे। इस प्रकार इन्होने उन देहाती छात्रों की एक बड़ी समस्या को हल किया। इस तरह का जीवट शिक्षक जो छात्रों की समस्या को हल करने के लिए भवन निर्माण में स्वयम् मजदूर की तरह लग जावे यह अलौकिक बात थी। आज ऐसे शिक्षकों की कल्पना भी नहीं की जा सकती। उनके निधन के बाद यह छात्रावास व्यवस्था के अभाव में बंद हो गया। कालांतर में पूर्व प्रधान हरदेव सिंह के प्रयास से इसमें 12 कमरों, हाल व अन्य सुविधाओं का समायोजन किया गया। 23 मार्च 1998 को इसे चौधरी चरण सिंह बालिका छात्रावास के नाम से सहकारी समिति एक्ट के अंतर्गत रजिस्टर करवाया गया। वर्तमान में यहाँ चौधरी चरण सिंह ग्रामीण महिला शिक्षण संस्थान चल रहा है। यहाँ चौधरी बालूराम की एक मूर्ति भी स्थापित की गई है।

External links

References

  1. फतेहपुर दर्पण (एक चित्रमय गाथा), लेखक: नलिन सराफ, प्रकाशक: जीवन प्रभार प्रकाशन, ए-209, साईं श्रद्धा, वीरा देसाई मार्ग, मुंबई-400058, वर्ष: 2012, ISBN: 81-85564-82-5, p.55-56
  2. फतेहपुर दर्पण (एक चित्रमय गाथा), लेखक: नलिन सराफ, प्रकाशक: जीवन प्रभार प्रकाशन, ए-209, साईं श्रद्धा, वीरा देसाई मार्ग, मुंबई-400058, वर्ष: 2012, ISBN: 81-85564-82-5, p.55-56

Back to The Social Workers