Dhasan River

From Jatland Wiki
Jump to navigation Jump to search
Location of villages around Begamganj

Dhasan River (धसान नदी) is a right bank tributary of the Betwa River. Total basin area in Madhya Pradesh is 8291 km².

Origin

The river originates in Begumganj tehsil of Raisen district in Madhya Pradesh state in central India.

Course

The river forms the southeastern boundary of the Lalitpur District of Uttar Pradesh state. Total length of the river is 365 km, out of which 240 km lies in Madhya Pradesh, 54 km common boundary between Madhya Pradesh and Uttar Pradesh and 71 km in Uttar Pradesh. The river was known as the Dasharna in ancient period. The Lehchura Dam is built on this river at 2 km from Harpalpur railway station. Residents of nearby villages regard this river as a holy river.

Jat clans

दशार्ण

विजयेन्द्र कुमार माथुर[1] ने लेख किया है.... दशार्ण बुंदेलखंड, मध्य प्रदेश का धसान नदी से सिंचित प्रदेश है। धसान नदी भोपाल क्षेत्र की पर्वतमाला से निकल कर सागर ज़िले में बहती हुई झांसी के निकट बेतवा नदी में मिल जाती है। दशार्ण का अर्थ है- 'दस' (या अनेक) नदियों वाला क्षेत्र। 'धसान', दशार्ण का ही अपभ्रंश है। महाभारत में दशार्ण को भीमसेन द्वारा विजित किये जाने का उल्लेख है-'तत: स गंडकाञ्छूरो विदेहान् भग्तर्षभ:, विजित्याल्पेन कालेन दशार्णनजयत प्रभु:। तत्र दशार्ण को राजा सुधर्मालोमहर्षणम्, कृतवान् भीमसेनेन महद् युद्धं निरायुधम्' (महाभारत, सभापर्व 29, 4-5.) महाभारत काल में इस क्षेत्र पर उस समय सुधर्मा का शासन था। महाभारत में सुधर्मा के पूर्वगामी दशार्ण नरेश हिरण्यवर्मा का उल्लेख है। हिरण्यवर्मा की कन्या का विवाह द्रुपद के पुत्र शिखंडी के साथ हुआ था। (हिरण्यवर्मेति नृपोऽसौ दाशार्णिक: स्मृत:, स च प्रादान्महीपाल: कन्यां तस्मै शिखंडिने- महाभारत, उद्योगपर्व 199, 10.) महाभारत के पश्चात् दशार्ण का उल्लेख बौद्ध जातकों तथा कौटिल्य के 'अर्थशास्त्र' में मिलता है। उस समय विदिशा दशार्ण की राजधानी हुआ करती थी।

कालिदास ने 'मेघदूत' (पूर्वमेघ 25) में दशार्ण का सुंदर वर्णन करते हुए इस देश के बरसात में फूलने-फलने वाले जामुन के कुंजों तथा इस ऋतु में कुछ दिन यहाँ ठहर जाने वाले यायावर हंसों का वर्णन किया है- 'त्वय्यासन्ने फलपरिणतिश्यामजंबूवनान्तास्संपत्स्यन्ते कतिपयदिन स्थायिहंसा दशार्णा:।'

History

References

Back to Rivers in Madhya Pradesh