Gonarda

From Jatland Wiki
Jump to navigation Jump to search
For village of this name see Gonarda Nagaur

Variants

  • Gonarda गोनर्द (AS, p.300)

Location

ऐसा जान पड़ता है कि गोनर्द की स्थिति भोपाल के निकट थी।[1]

History

Kalhana’s account of Kashmir begins with the legendary reign of Gonarda, who was contemporary to Yudhisthira of the Mahabharata but the recorded history of Kashmir, as retold by Kalhana, begins from the period of the Maurya Empire. Gonarda became, king in Kashmira by Serving the Pandavas.[2]

गोनर्द

गोनर्द पाली ग्रंथ 'सुत्तनिपात' के अनुसार विदिशा तथा उज्जयिनी के मार्ग के बीच में स्थित एक नगर था। इस नगर को शुंग काल के उद्भट विद्वान् पतंजलि का जन्म स्थान माना जाता है। पतंजलि की माता का नाम 'गोणिका' था। ये 'योग दर्शन' तथा पाणिनि के व्याकरण के 'महाभाष्य' के विख्यात रचयिता थे। कई विद्वानों के मत में 'चरकसंहिता' के निर्माता भी पतंजलि ही थे। ऐसा जान पड़ता है कि गोनर्द की स्थिति भोपाल के निकट थी।[3]

Jat Gotras

Population

Notable Persons

External Links

References