Gramin Kisan Chhatrawas Ratangarh

From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search
Author:Laxman Burdak, IFS (Retd.), Jaipur
Gramin Kisan Chhatrawas Ratangarh
Gramin Kisan Chhatrawas Ratangarh

Gramin Kisan Chhatrawas Ratangarh (ग्रामीण किसान छात्रावास रतनगढ़), earlier called Vidyarthi Bhawan Ratangarh (विद्यार्थी भवन रतनगढ़), is situated in Ratangarh town of Churu district in Rajasthan. Vidyarthi Bhawan Ratangarh played a very important role in spreading education and reforming the society. This was inaugurated by Swami Keshwanand on 13-14 April 1946. It became centre of awakening for the farmers.

Contents

The beginning

Gramin Kisan Chhatrawas Ratangarh, Community Hall under construction

Rupa Ram Maan was from Haryana. He was Head Constable in Railway Police at Ratangarh, Rajasthan. He left the job in the beginning of 1945 and founded Vidyarthi Bhawan at Sihagon Ki Chhatri in Ratangarh under the guidance of Swami Keshwanand, Kumbha Ram Arya, Harish Chandra Nain etc. Here he started educating boys belonging to farming community. Initially his wife used to cook food for the boys. Rupa Ram Maan and Asha Ram Manda devoted their life for the purpose.

Kisan Chhatrawas becomes centre of awakening

Chaudhari Rupram Maan and Swami Chetnanand started the education program for Jat farmers in rural areas of Ratangarh tehsil by opening private schools. They appointed Swami Nityanand and Chaudhari Chandgi Ram for this purpose. Swami Chetnanand was born in the family of a Dhaka Jat farmer and could feel the effect of oppression by Jagirdars. These people remained under ground and collected money to start the private education of Jat boys. Chaudhari Budha Ram Katewa of Bharatia ki Dhani, Ratangarh, Chaudhari Budha Ram Dudi village Sitsar and Chaudhari Surta Ram Sewda, Ratangarh helped a lot in this campaign. Chaudhari Surta Ram Sewda gave his own land for starting a school and Chaudhari Budha Ram Dudi got made a shade on this land to start a school.[1]

At that time, there were 40-50 Jat boys getting education in Ratangarh town who were mainly from Sihag, Dudi, and Tetarwal Jat clans of Ratangarh and rest were from neighbouring villages like Sangasar, Loonchh, Loha, Chhabri, Kadia, Tidiyasar, Thathawata etc. Most of these boys were from poor families and could not afford education on their own. The only means of funding the private education was through collection of contribution (chanda) or subscription from the farmers. Jats of Ratangarh and Churu either could not afford or did not give subscription out of fear of the Jagirdars. But the Jats of Ganganagar district were well off and they were not much effected by Jagirdars. They gave handsome amounts for education. [2]

Chaudhari Hari Ram Dhaka went to Sangariya to get financial help from Swami Keshwanand. Swami Keshwanand appointed him the Manager of Industries Department of Jat High School Sangariya. Megh Singh Sewda also joined this school. Chaudhari Hari Ram Dhaka collected about Rs. 2000/- from the teachers of Jat High School and called Chaudhari Rupram Maan, Vidyarthi Bhawan Ratangarh, to hand over this amount. He then sent Chaudhari Rupram Maan to Advocate Harishchandra Nain at Ganganagar. There was a good subscription at Ganganagar and with this financial assistance Chaudhari Rupram Maan and Swami Chetnanand organized a grand sabha of farmers at Ratangarh in Podaron ka Nohra. Swami Keshwanand and Chaudhari Hari Ram Dhaka also joined this sabha. A number of decisions were taken in this sabha about awakening of the farmers of this area. As decided in this sabha Swami Keshwanand sent Chaudhari Hari Ram Dhaka to Ratangarh to enhance the movement of education and freedom.[3]

विद्यार्थी भवन रतनगढ़ की स्थापना

विद्यार्थी भवन रतनगढ़

विद्यार्थी भवन रतनगढ़ की स्थापना: सन 1944 में रतनगढ़ में सीहागों की छतरी में विद्यार्थी भवन शुरू हुआ। बाद में यह पोदारों के नोहरे में चलाया गया जहां पहला अधिवेशन हुआ। स्वामी केशवानन्द के कर कमलों से इसका विधिवत शुभारंभ 13-14 अप्रेल 1946 को हुआ। रूपराम मान और अशाराम मंडा ने तो अपना पूरा जीवन इसी के लिए न्यौछावर कर दिया। विद्यार्थी भवन रतनगढ़ के फलने फूलने में कुम्भाराम आर्य, स्वामी केशवानंद (ढाका), हरीशचन्द्र नैण का सतत मार्गदर्शन मिला। विद्यार्थी भवन रतनगढ़ ने क्षेत्र में जागृति का महत्वपूर्ण काम किया। रतनगढ़ तहसील के लोहा गाँव में किसान सम्मलेन - 10 अक्टूबर 1946 और कांगड़ आंदोलन 30 अक्टूबर 1946 इसी के परिणाम थे।

नोट - विद्यार्थी भवन रतनगढ़ की स्थापना और सहयोगी कार्यकर्ताओं के संबंध में एक विस्तृत लेख आधुनिक जाट इतिहास - 1998 में छपा था जिसकी पूर्ण प्रति चौधरी हरिराम ढाका के पेज पर उपलब्ध है।

सहयोगियों की सूची

विद्यार्थी भवन रतनगढ़ की स्थापना करने, बच्चों में शिक्षा के प्रति चेतना जागृत करने, जागीरदारों के विरुद्ध लोहा तथा कांगड़ जन आंदोलन के सफल बनाने में जिनकी महत्वपूर्ण भूमिका रही उनमें सम्मिलित हैं:

किसान छात्रावास रतनगढ़ की गतिविधियां

किसान छात्रावास रतनगढ़ समय समय पर समाज हित में कार्यक्रम आयोजित करता है जिनका विवरण नीचे दिया गया है।

प्रतिभाएं सम्मानित 12.01.2014

Mukanda Ram Nehra addressing Jat Bauddhik Manch

दिनाक 12.01.2014 को किसान छात्रावास रतनगढ़ में जाट बौद्धिक मंच के तत्वावधान में प्रतिभा सम्मान समारोह आयोजित किया गया। बोर्ड परीक्षाओं में 75 प्रतिशत से अधिक अंक प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों का सम्मान किया गया। आई. आई. टी. में चयनित रवीद्र कुमार, मेडिकल में चयनित मनीष खिचड़ व बबीता खिचड़ का सम्मान किया गया। समारोह में निम्न प्रबुद्ध गण उपस्थित थे -

जाट बौद्धिक मंच प्रतिभा सम्मान समारोह रतनगढ:19.10.2014

जाट बौद्धिकमंच और प्रतिभा सम्मान समारोह दिनांक 19.10.2014

रतनगढ में जाट बौद्धिकमंच और प्रतिभा सम्मान समारोह दिनांक 19.10.2014 को ग्रामीण किसान छात्रावास रतनगढ में आयोजित किया गया. समारोह में 10 वीं और 12 वीं कक्षा में 75 प्रतिशत से अधिक अंक पाने वाले प्रतिभावान बच्चों को सम्मानित किया गया.

समारोह में उपस्थित मुख्य महानुभाव थे -

लक्ष्मण राम बुरड़क - मुख्य अतिथि

दूला राम सहारण - विशिष्ठ अतिथि

ताराचंद पायल - अध्यक्ष

भंवर लाल डूडी - अध्यक्ष जाट बौद्धिक मंच

मुकंदा राम नेहरा - सचिव

पूरा राम गांधी - कार्यक्रम संचालक

कार्यक्रम में सम्मानित विद्यार्थी:

हेत राम धेतरवाल - आइ आइ टी में चयन

शुभम हुड्डा - एम बी बी एस में चयन

अनिता डूडी - एम बी बी एस में चयन

भानी राम सारण - एम बी बी एस में चयन

कमलेश खीचड़ - एम बी बी एस में चयन

पूनम खीचड़ - बी वी एस में चयन

राकेश बिजारणिया - राज्य सेवा में चयन

रुकमा नंद भींचर - राज्यपाल द्वारा सम्मानित शिक्षक

प्रतिभा सम्मान समारोह 19.10.2014 में सम्मानित प्रतिभाओं की सूची

Meritorious Students in 12th Board Examination-2014

S.No. Name Father's name Village Percent Marks
1. Sulochna Kaswan Rameshwar Lal Nuan 88.8
2. Manoj Kumar Ghintala Ratan Lal Pabusar 86.6
3. Satyendra Pal Singh Bhinchar Sultan Singh Kusumdesar 84
4. Sarda Kilka Sugna Ram Padihara 83.8
5. Ashish Dhaka Ram Lal Ratangarh 83.8
6. Kuldip Singh Achra Ram Chandra Chhabri Khari 82.2
7. Sarita Bhari Durga Ram Pabusar 81.6
8. Pramod Kumar Dudi Bhanwar Lal Sitsar 81.2
9. Mukhram Kadwasra Gyana Ram Golsar 81
10. Kuldip Kulhari Karni Singh Ratangarh 81
11. Krishna Kumar Kilka Nanu Ram Padihara 81
12. Sonu Kumari Dudi Chhatu Ram Kusumdesar 80.8
13. Dipika Chabarwal Shankar Lal Ratansara 80.8
14. Niranjan Nain Magha Ram Tidiyasar 80.4
15. Rakesh Kumar Beniwal Shrawan Ram Gopalpuriya 80.4
16. Priyanka Dudi Bhinwa Ram Sitsar 80
17. Annand Prakash Khichar Raghunath Singh Mainasar 79.2
18. Rajni Hudda Mahendra Kumar Kusumdesar 79
19. Hemant Bhamu Tilika Ram Bhukhredi 79
20. Sarita Dhaka Randhir Dhaka Bachhrara 79
21. Virendra Muhal Ramchandra Sulkhania 78.8
22. Jagdish Khichar Deep Chand Jandwa 78.6
23. Surya Prakash Jhajhra Chauth Ram Ratangarh 78.4
24. Piyanka Bagadwa Nand Ram Daudsar 78.2
25. Nirjan Kumar Muhal Girdhari Lal Sulkhania 78
26. am Pratap Sahu Gopal Ram Lachhadsar 77.2
27. Kavita Dudi Nagar Mal Sitsar 77.2
28. Kavita Bijarnia Kisna Ram Mainasar 77
29. Saroj Khichar Rugha Ram Mainasar 77
30. Suman Mahla Buddhar Ram Hansasar 77.6
31. Monika Sihag Bhanwar Lal Ratangarh 77.6
32. Himani Khichar Girdhari Lal Jandwa 77.6
33. Km Vinod Punia Surja Ram Thathawata 76.2
34. Babita Nyol Ram Kumar Bachhrara 76
35. Bal Ram Shishpal Khudera Bada 75.6
36. Himanshu Bhamu Tilika Ram Bhukhredi 75.6
37. Sita Ram Koka Kumbha Ram Ratangarh 75.2
38. Mam Raj Bissu Padma Ram Lachhadsar 75.2
39. Laxmi Kumari Bagadwa Bhanwar Lal Chhabri Mithi 82
40. Pawan Saran Pooran Chand Sangasar 83.6
41. Narendra Saran Pooran Chand Sangasar 76.2
42. Madhu Kumari Chaudhari Mamraj Ratangarh 78.8

Meritorious Students in 10th Board Examination-2014

S.No. Name Father's name Village Percent Marks
1. Sarika Dudi Manoj Kumar Sitsar 92
2. Suresh Kumar Mahla Moti Ram Bhukhredi 89.83
3. Chandra Kala Chabarwal Sohan Lal Ratansara 89.5
4. Anil Kumar Dhewa Raj Kumar Biramsar 89.17
5. Hitesh Dudi Bhanwar Lal Kusumdesar 88
6. Ashok Kumar Bhamu Jagna Ram Bhukhredi 87.67
7. Madan Lal Bhakhar Raghuvir Singh Lachhadsar 87.67
8. Ashok Kumar Khichar Jagdish Prasad Jandwa 86.83
9. Narendra Singh Dhaka Mangi Lal Ratangarh 86.5
10. Om Prakash Kansujia Poora Ram Daudsar 85.5
11. Bhageshwar Dhaka Ramlal Ratangarh 85
12. Sunita Dudi Om Prakash Sitsar 85
13. Dinesh Mahla Ram Kisan Raghunathpura 84.5
14. Dharendra Dhaka Sultan Kanwari 83.33
15. Monika Mahla Buddhar Ram Hansasar 83.33
16. Sadhna Bagadwa Nand Ram Daudsar 82.67
17. Mahendra Kumar Muwal Mota Ram Lachhadsar 82.17
18. Nikita Nehra Tarachand Biramsar 81.5
19. Mamta Dahia Ramawtar Sulkhania 80.83
20. Bhagyashri Sewda Pawan Kumar Ratangarh 80
21. Himanshu Saran Ram Niwas Tidiyasar 79.8
22. Anuradha Bana Madan Lal Jaleu 79.8
23. Vidya Dudi Mangi Lal Sitsar 79.33
24. Rahul Ruhela Sultan Singh Kadia 79
25. Raj Kumar Khichar Ram Chandra Mainasar 78
26. Raj Kumar Padgad Lichchhu Ram Khotri 77.83
27. Radha Saran Ganga Ram Bandwa 77.5
28. Lal Chand Dudi Pooran Mal Kusumdesar 77.33
29. Anurag Kulhari Madan Lal Ratangarh 77.33
30. Devanshu Chaudhari (Jhuria) Mahavir Prasad Jhuria Ratangarh 76.17
31. Vikas Gadhwal Girdhari Lal Ratangarh 76
32. Chhoti Punia Surja Ram Thathawata 75.83
30. Kalpana Chaudhari (Godara) Debu Ram Godara Ratangarh 75.8
34. Mamta Punia Gopal Ram Biramsar 75.67
35. Narendra Kumar Khichar Bhagirath Prasad Mainasar 75.5
36. Bharti Bijarnia Moti Lal Rukhasar 75.5
37. Poonam Chand Mundalia Teja Ram Bhawandesar 75.17
38. Roshni Nain Shyodana Ram Bachhrara 75
39. Km Pramod Budania Ramchandra Loha 75
40. Km Vinod Bagadwa Niranaram Daudsar 81.33
41. Ganesha Ram Dhaka Prabhu Ram Ratangarh 76.83

प्रतिभा सम्मान समारोह 19.10.2014 की पिक्चर गैलरी

जाट बौद्धिक मंच प्रतिभा सम्मान समारोह रतनगढ: 31.12.2017

जाट बौद्धिक मंच प्रतिभा सम्मान समारोह रतनगढ: दिनांक 31.12.2017
जाट बौद्धिक मंच प्रतिभा सम्मान समारोह रतनगढ: दिनांक 31.12.2017

रतनगढ में जाट बौद्धिकमंच प्रतिभा सम्मान समारोह दिनांक 31.12.2017 को ग्रामीण किसान छात्रावास रतनगढ में आयोजित किया गया।

समारोह में 10 वीं और 12 वीं कक्षा में 80 प्रतिशत से अधिक अंक पाने वाले 150 प्रतिभावान बच्चों को सम्मानित किया गया.

सिविल सेवा में चयनित 40 कर्मियों व राज्य स्तर और राष्ट्रीय स्तर की खेल-कूद प्रतियोगिताओं में भाग लेने वाले प्रतिभाओं को सम्मानित किया गया।

समारोह के मुख्य वक्ता श्री जितेंद्र महला थे।

मंच की अध्यक्षता श्री भँवरलाल डूडी द्वारा की गई जिनके द्वारा वार्षिक प्रतिवेदन भी प्रस्तुत किया गया।

कार्यक्रम के दौरान मोहन बाना द्वारा छात्रावास विकास के लिए 5 लाख रुपये के आर्थिक सहयोग की घोषणा की गई।

मंच सचिव मुकंदाराम नेहरा के द्वारा यह जानकारी भेजी गई है।

Commemoration of Centenary of Social Awakening in Bikaner Division on 31.8.2017

Invitation 31.8.2017.jpg

Jat Kirti Sansthan Churu has decided to commemorate Centenary of social awakening in Bikaner division on the auspicious occasion of Teja Dasmi (August 31,2017) at Kisan Chhatrawas Ratangarh situated at Ratangarh in District - Churu, Rajasthan.

As we know, the process of social awakening was pioneered by Swami Gopal Das (a Jat from Kaswan clan) by opening schools for girls and Dalits in and around Churu in 1912. The visionaries of our community deserve credit for realizing the significance of education in social awakening and betterment of society. Education is actually mother of all awakening. It is education that opens eyes of people to their pathetic plight and its root cause. Realizing the significance of education in empowerment of people and walking on the heels of Swami Gopal Das, Choudhary Bahadur Singh Bhobia played a pivotal part in providing impetus to social awakening by opening the school named Jat Anglo Sanskrit Middle School, Sangaria on August 9, 1917. This school of yester years has the proud privilege to be the first school in Rajasthan that was opened with the name of Jat Community.

Later on, under the refined stewardship and able guidance of Swami Keshwanand this school was metamorphosed into a progressive institution of higher studies in different disciplines. Despite all sorts of adverse circumstances a chain of hostels and hostel-cum schools for students hailing from rural areas were established in different towns ; and as many as 287 schools in rural areas were opened for propagation of education in the desert region of Rajasthan.

Education had its desired effect in rousing the heroes of our community to raise a determined voice against the suppression and exploitation at the hands of the deadly combination of the rulers of the earstwhile princely states, fuedals and foreign rule. The heroes of our community fought valiantly against all sorts of injustice and exploitative practices . They had to suffer trails and tribulations to pave the way for establishing the social set-up based on the principles of liberty, equality, fraternity and justice.

The features of the commemorative function:--

  • 1. Revisiting and re-evaluating the history of the community replete with struggles .
  • 2. Releasing a booklet comprising of articles on the role of the visionaries of the community who pioneered social awakening.
  • 3. Discussion on the the diverse sorts of issues pertaining to social awakening .
  • 4. The rich history of the Jats . What we were and what we have become .
  • 5. Displaying and selling of Literature on Jat community .
  • 6. Discussion on eradication of social evils .
  • 7. Remembering and paying rich tributes to those who paved the way for the social reformation or made contribution to ensure social upliftment.

The visitors of the Jatland.com are cordially invited to attend the commemorative function. Kindly make it convenient to attend the function to boost the morale of the organizers.......................H R Isran, President Jat Kirti Sansthan Churu

समाज-जागृति के सौ साल: समारोह 31.8.2017

जाट कीर्ति संस्थान चुरू द्वारा समाज-जागृति के सौ साल का समारोह दिनांक 31.8.2017 को ग्रामीण किसान छात्रावास रतनगढ़ में तेजा दशमी के अवसर पर मनाया गया।

भूमिका: शिक्षा और संघर्ष के बल पर हमारा समाज रूढ़िवाद औऱ पाखंडवाद के शिकंजे से मुक्त होकर आधुनिकता के पथ पर आगे बढ़ सका। चूरू के भैरुंसर गांव में श्री बींजाराम कस्वां के घर जन्मे स्वामी गोपालदास ने नव चेतना के अग्रदूत बनकर 1907 ई. में चूरू में सर्वहितकारिणी सभा की स्थापना कर शिक्षा के प्रचार-प्रसार, समाज-सुधार और जनहित का बीड़ा उठाया। उन्होंने 1912 ई. में महिला- शिक्षा के लिए पुत्री पाठशाला औऱ अछूतोद्धार के लिए दलित बस्ती में कबीर पाठशाला खोलने का क्रांतिकारी कदम उठाया। ताकतवर बनने के लिए शिक्षा जरूरी है, इस तथ्य को स्वीकारते हुए और स्वामी गोपालदास के नक्शे-कदम पर चलते हुए चौधरी बहादुर सिंह भोबिया ने 9 अगस्त 1917 को तमाम अवरोधों के बावजूद राजस्थान में समाज के नाम से पहली स्कूल 'जाट एंग्लो संस्कृत मिडल स्कूल, संगरिया की स्थापना की और समाज में शिक्षा-जागृति के प्रथम पुरोधा बने। भोबिया जी के असामयिक निधन के बाद इस संस्था की नाव के खेवनहार चौधरी हरिश्चंद्र नैन बने। 1932 में इस स्कूल के संचालन का दायित्व स्वामी केशवानन्द (मंगलूणा में जन्मे ढाका जाट) को सौंपा गया। स्वामी जी ने इस संस्था का कायापलट करते हुए इसे उत्तर भारत की एक प्रगतिशील शिक्षण संस्था के रूप में विकसित किया और 1948 ई. में इसका नाम बदलकर 'ग्रामोत्थान विद्यापीठ, संगरिया ' किया गया। इस संस्थान के तहत बीकानेर संभाग के देहाती इलाके में 287 स्कूल खोलकर हर इलाके में शिक्षा की अलख जगाई गई। समाज के संघर्षशील महानुभावों की अगुवाई में देहाती छात्रों के आवास और शिक्षा के प्रबंध हेतु विभिन्न कस्बों में छात्रावास व छात्रावास मय स्कूल स्थापित किए गए।

समारोह रतनगढ़ में क्यों?

युगद्रष्टा स्वामी गोपालदास ने सर्वहितकारिणी सभा के तहत रतनगढ़ में भी जनहित के काम संपादित किए। शिक्षा-संत स्वामी केशवानन्द का बचपन का कुछ समय रतनगढ़ में बीता था तथा 1944 से संचालित विद्यार्थी भवन, रतनगढ़ (जो अब किसान छात्रावास के नाम से जाना जाता है) का विधिवत उद्घाटन 13-14 अप्रैल 1946 को स्वामी केशवानन्द के कर कमलों से सम्पन्न हुआ था। चौधरी हरिश्चंद्र नैन के पुरखे रतनगढ़ तहसील के बछरारा गांव के निवासी थी औऱ हरिश्चंद्र जी का जन्म सरदारशहर तहसील के कुंतलसर गांव में हुआ था। चौधरी बहादुर सिंह भोबिया के पिताजी सरदारशहर के जैतसीसर गांव के मूल निवासी थे।

विद्यार्थी भवन, रतनगढ़ में संचालित राजनीतिक गतिविधियों की ही परिणीति थी कि जागीरी ज़ुल्म के विरुद्ध लोहा और कांगड़ आंदोलन का आगाज समाज के जुझारुओं ने किया।

राजशाही के दमनकारी शासन और सामन्ती उत्पीड़न के ख़िलाफ़ चौधरी हनुमान सिंह बुडानिया, चौधरी कुम्भाराम आर्य, चौधरी हरिराम ढाका नोरंगसर, चौ. चुनाराम चाहर कांगड़, चौ. बुधराम डूडी सीतसर, चौ. कुरड़ाराम घुमन्दा, चौ. रूपाराम मान, स्वामी नित्यानंद खींचिवाला व समाज के अन्य संघर्षशील लोगों ने लड़ाई लड़कर मुक्ति संघर्षों में सक्रिय सहयोग प्रदान किया और समाज को जागृत किया।

शिक्षा के प्रचार-प्रसार और मुक्ति संघर्षों मे अगुवाई करने वाले समाज-शिरोमणियों के योगदान का स्मरण करना और उन्हें सम्मानित करने का दायित्व हम सब समाज बंधुओं का बनता है। समाज- जागृति के सौ साल पूरे होने के अवसर पर रतनगढ़ में आयोजित स्मरण-समारोह में सम्मिलित होकर समाज के सितारों के प्रति कृतज्ञता ज्ञापित करना हमारा दायित्व था। उन्होंने कष्ट सहे, जेल की सजा भुगती, यातना सही ताकि हम शिक्षित हो सकें और सामन्ती उत्पीड़न से आज़ाद होकर प्रगति की राह पर आगे बढ़ते चलें।

समारोह में क्या हुआ?

  • बीकानेर संभाग में फैली हुई समाज की विरासत यथा शिक्षण संस्थाओं के भवन, छात्रावासों के भवन तथा अन्य ऐतिहासिक और सामाजिक स्मारक भवनों की तस्वीरों की प्रदर्शनी लगाई गई।
  • समाज के इतिहास और साहित्य संबंधी पुस्तकों की तस्वीर लगाकर प्रदर्शनी की तथा क्रय-विक्रय हेतु साहित्य के स्टॉल लगाए गए।
  • शिक्षा और संघर्ष में अगुवाई करने वाले समाज-शिरोमणियों की तस्वीरों की प्रदर्शनी लगाई गई तथा उनके योगदान पर इतिहासज्ञों व शिक्षाविदों द्वारा व्याख्यान दिये गए।
  • शिक्षा के प्रचार-प्रसार और सामन्ती उत्पीड़न के मुक्ति संघर्षों के इतिहास को आलोकित करते हुए प्रकाशित की गई पुस्तक का विमोचन किया गया।
  • समाज-शिरोमणियों को उनके योगदान का स्मरण करते हुए श्रदांजलि एवं उनके परिजनों का अभिनन्दन किया गया।
  • सामाजिक रूढ़ियों व बुराइयों के उन्मूलन पर विचार-मंथन
  • समाज की वर्तमान दशा के संदर्भ में भावी दिशा पर मार्गदर्शन।

समारोह की उल्लेखनीय पहल

  • कोई स्टेज नहीं। सभी समान धरातल पर बैठे।
  • कोई मुख्य अतिथि या विशिष्ट अतिथि नहीं। मुख्य वक्ता के रूप में इतिहासज्ञ, शिक्षाविद, साहित्यकार एवं सामाजिक सरोकारों से संबंधित गणमान्य लोग।
  • किसी को माल्यार्पण करने का कोई प्रावधान नहीं।
  • किसी राजनीतिक मुद्दे या राजीनीतिक एजेण्डे से इस समारोह का कोई सरोकार नहीं।
  • बीकानेर संभाग में शिक्षा और संघर्ष के इतिहास पर नई दृष्टि से चिंतन-मनन।
  • समारोह दिनांक 31 अगस्त 2017 को तेजा दशमी के अवसर पर आयोजित कर लोगों को तेजाजी का इतिहास और उनके बलिदान से अवगत कराया।
  • समारोह-स्थल: किसान छात्रावास, रतनगढ़ (चूरू)

आमंत्रित मुख्य वक्तागण

  • डॉ भरत सारण (संस्थापक, फिफ्टी विलेजर्स संस्थान, बाड़मेर)
  • चौधरी भीमसिंह आर्य (विद्यार्थी भवन, रतनगढ़ के पूर्व विद्यार्थी एवं जागीरी ज़ुल्म पर लिखी पुस्तक के लेखक)
  • जाट-रत्न मासिक पत्रिका के मुख्य संपादक/प्रकाशक: जसवीर सिंह मालिक, रोहतक, हरियाणा
  • सम्मानित हुये साहित्यकारों का उद्बोधन
  • समाज औऱ अपने पुरखों के संघर्षों के असली इतिहास से अवगत कराया कि हमारे पुरखे क्या थे, हम क्या हैं और हमें किस दिशा में आगे बढ़ना है।

समाज-जागृति के सौ साल: समारोह में सम्मानित हुये

समाज-जागृति के सौ साल: बीकानेर संभाग में शिक्षा और संघर्ष के प्रणेताओं के योगदान का स्मरण समारोह 31.8.2017 को ग्रामीण किसान छात्रावास रतनगढ़ में सम्मानित होने वाले प्रबुद्ध गणों की सूची निम्नानुसार है:


नाम सामाजिक कार्य सम्मान तस्वीर
श्रीमती अंजू नेहरा दिव्यांग बच्चों को शिक्षित कर उन्हें हुनरमंद एवं स्वावलंबी बनाने का अभिनव कार्य चूरू में प्रारंभ करने के लिए जनसेवा का स्वामी गोपालदास सम्मान Anju Nehra.jpg
श्री धर्मवीर जाखड़ (कॉन्स्टेबल, राजस्थान पुलिस) झुग्गियों में रहने वाले एवं परिस्थितिवश भिक्षावृत्ति में संलिप्त शिक्षा से वंचित बच्चों की शिक्षा के लिए चूरू में आपणी पाठशाला नामक स्कूल खोलकर उसे संचालित करने का अभिनव कार्य करने के लिए स्वामी केशवानन्द सम्मान
डॉ कन्हैयालाल सींवर सरदारशहर में किसान छात्रावास का विकास करने तथा खुद के घर पर ग्रामीण बालिकाओं के लिए होस्टल स्थापित करने एवं ततपश्चात आदर्श कन्या छात्रावास के निर्माण व विकास में अगुवाई करने के लिए शिक्षा के प्रचार-प्रसार का स्वामी केशवानन्द सम्मान
Khaniya Lal Sivar.jpg
डॉ पेमाराम समाज के इतिहास- लेखन एवं राजस्थान में स्वतंत्रता संग्राम में समाज के नेताओं की भूमिका को आलोकित करने के लिए इतिहासकार का ठाकुर देशराज सम्मान
Pema Ram.jpg
श्री लक्ष्मण बुरड़क इंटरनेट पर विकिपीडिया और जाटलैंड डॉट कॉम वेबसाइट के माध्यम से समाज का इतिहास विश्व-स्तर पर सर्व सुलभ कराने एवं समाज के इतिहास को डिजिटाइज़ करने के प्रक्रिया प्रारम्भ करने के लिए इतिहाकार का ठाकुर देशराज सम्मान
Laxman Burdak-1 20-05-13.jpg
डॉ भरत सारण एवं टीम 'फिफ्टी विलेजर्स सेवा संस्थान' बाड़मेर जिले के सरकारी स्कूलों में अध्ययनरत जरूरतमंद होनहार ग्रामीण छात्रों की शानदार सफलता चिकित्सा क्षेत्र की राष्ट्रीय पात्रता प्रवेश परीक्षा (NEET) एवं अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थानों की प्रवेश परीक्षाओं में सुनिश्चित करने के उद्देश्य से जनसहयोग से संचालित निःशुल्क कोचिंग मय बोर्डिंग संस्थान '50 विलेजर्स ' स्थापित करने की पहल करने के लिए नव शिक्षा-संस्थान स्थापना का चौधरी बहादुर सिंह भोबिया सम्मान
Bharat Saran.jpg
श्री रामस्वरूप चौधरी तेजा फाउंडेशन के माध्यम से समाज के जरूरतमंद प्रतिभाओं को प्रशासनिक पदों की भर्ती के लिए आयोजित प्रतियोगी परीक्षाओं की निःशुल्क कोचिंग प्रदान करने के विचार को क्रियान्वित करने की अगुवाई करने के लिए नव शिक्षण संस्थान स्थापना का चौधरी बहादुर सिंह भोबिया सम्मान
श्री देवेंद्र झाझड़िया पैरालिम्पिकस् में जैवलीन थ्रो में दो बार स्वर्ण पदक जीतकर कीर्तिमान स्थापित करने तथा खेल का सर्वोच्च सम्मान 'राजीव गांधी खेल-रत्न पुरस्कार' से सम्मानित होने के उपलक्ष्य में खेलकूद का दारासिंह सम्मान
Devendra Jhajharia1.jpg
श्रीमती कृष्णा पूनियां कॉमन वेल्थ गेम्स में डिस्कस थ्रो में स्वर्ण पदक जीतने एवं अर्जुन अवार्ड से सम्मानित होने के उपलक्ष्य में खेलकूद का दारासिंह सम्मान
Krishna Poonia.jpg
शैताना राम भुंवाल निवासी डूंगरगढ़ समाज-जागृति के सौ साल के उपलक्ष्य में आयोजित स्मरण-समारोह प्रयोजित करने के लिए समाज-भामाशाह का सेठ छाजूराम सम्मान
Shaitana Ram Bhuwal-1.jpg
श्री हनुमाना राम झूरिया बाजरे के बीज की पारम्परिक क़िस्म को सुलखनियाँ बाजरा के नाम से संरक्षित करने एवं राष्ट्रपति पुरस्कार से सम्मानित होने पर सामाजिक अभिनन्दन स्वरूप कृषि का वीर तेजाजी सम्मान
Hanumana Ram Jhuriya.jpg
श्रीमती शबनम गोदारा और श्री शोभा सिंह स्वामी गोपालदास पर्यावरण-संरक्षण सम्मान, राजस्थान में प्रवेश करने वाली नहरों में पंजाब के शहरों का मलबा प्रवाहित होकर आने के विरुद्ध नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल में वाद दायर करने एवं मुकदमा जीत कर बीकानेर की 70 लाख आबादी को शुद्ध पेयजल उपलब्ध करवाने के प्रयासों के लिए पर्यावरण-संरक्षण का स्वामी गोपालदास सम्मान
डॉ भरत ओला निवासी भिराणी (भादरा) राजस्थानी के ख्यातनाम कथाकार व कवि के रूप में तथा उनके कहानी संग्रह 'जीव री जात' को साहित्य अकादमी अवार्ड प्राप्त होने पर एवं राजस्थानी भाषा व साहित्य के उन्नयन हेतु उनके द्वारा किए गए प्रयासों के लिए साहित्य-सृजन का राणा बाई सम्मान
Bharat Ola.jpg
श्री रामस्वरूप 'किसान' निवासी परलीका (नोहर) श्रम और सृजन के समन्वय के सशक्त कवि एवं कथाकार के रूप में तथा खेत-खलिहान में पसीने से टपकते साहित्य का सृजन करने के लिए साहित्य-सृजन का राणा बाई सम्मान
स्व चौधरी बहादुर सिंह भोबिया निवासी बिडंगखेड़ा समाज के नाम से राजस्थान में पहला स्कूल 9 अगस्त 1917 को 'जाट एंग्लो संस्कृत स्कूल, संगरिया' नाम से खोलकर समाज मे शिक्षा- जागृति की अगुवाई करने के लिए शिक्षा-पुरोधा का सम्मान
Bahadur Singh Bhobia1.jpg
स्व चौधरी हरिशचंद्र नैण निवासी गंगानगर समाज में शिक्षा के प्रचार-प्रसार हेतु प्रदत सक्रिय सहयोग एवं सामाजिक सरोकारों में उनकी भूमिक के लिए समाज-शिरोमणि सम्मान
Chaudhari Harish Chandra Nain.jpg
स्व चौधरी जीवणराम पूनियां भजनोपदेशक के जरिए समाजसुधार एवं समाज-जागृति में सक्रिय योगदान के लिए मरणोपरांत सम्मान
Jiwan Ram Punia.jpg
कॉ. मोहर सिंह भजनोपदेशक के जरिए समाजसुधार एवं समाज-जागृति में सक्रिय योगदान के लिए मरणोपरांत सम्मान
Jan Jagaran Ke Jan Nayak Kamred Mohar Singh-Front.jpg
स्व चौधरी हीरासिंह चाहर निवासी पहाड़सर (राजगढ़) भजनोपदेशक के रूप में मारवाड़ क्षेत्र में समाज-जागृति और समाज- सुधार में सक्रिय योगदान के लिए मरणोपरांत सम्मान
Hira Singh Chahar-1.jpg
स्व चौधरी हनुमानसिंह बुड़ानिया निवासी दुधवा खारा मुक्ति-संघर्षों में भागीदारी के लिए मरणोपरांत सम्मान
Hanuman Singh Budania2.JPG
स्व चौधरी कुम्भाराम आर्य निवासी फेफना मुक्ति-संघर्षों में भागीदारी के लिए मरणोपरांत सम्मान
Kumbha Ram Arya1.jpg
स्व चौधरी लाधूराम खीचड़ निवासी सुजानगढ़ मुक्ति-संघर्षों में भागीदारी के लिए मरणोपरांत सम्मान
Ladu Ram Khichar.jpg
स्व चौधरी बुधराम डूडी निवासी सीतसर मुक्ति-संघर्षों में भागीदारी के लिए मरणोपरांत सम्मान
स्व चौधरी चुनाराम चाहर निवासी कांगड़ मुक्ति-संघर्षों में भागीदारी के लिए मरणोपरांत सम्मान
स्व स्वामी नित्यानन्द (पूनियां) निवासी खींचीवाला मुक्ति-संघर्षों में भागीदारी के लिए मरणोपरांत सम्मान
Swami Nityanand.jpg
स्व चौधरी दौलतराम सारण निवासी ढाणी पांचेरा मुक्ति-संघर्षों में भागीदारी के लिए मरणोपरांत सम्मान
Daulat Ram Saran3.jpg
स्व चौधरी कुरड़ाराम थालोड़ निवासी घुमान्दा मुक्ति-संघर्षों में भागीदारी के लिए मरणोपरांत सम्मान
स्व चौधरी मेघसिंह आर्य निवासी खारिया कनीराम( सुजानगढ़) मुक्ति-संघर्षों में भागीदारी के लिए मरणोपरांत सम्मान
Megh Singh Arya2.jpg
स्व बुधराम कटेवा निवासी भरतीयों की ढाणी (रतनगढ़) मुक्ति-संघर्षों में भागीदारी के लिए मरणोपरांत सम्मान
Budh Ram Katewa.jpg
स्व चौधरी चन्दगीराम कड़वासरा निवासी नेशल छोटी मुक्ति-संघर्षों में भागीदारी के लिए मरणोपरांत सम्मान
Chandgi Ram Kadwasra.jpg
स्व चौधरी हरदत्त सिंह बेनीवाल निवासी भादरा मुक्ति-संघर्षों में भागीदारी के लिए मरणोपरांत सम्मान
Hardatt Singh Beniwal.jpg
स्व चौधरी हंसराज आर्य निवासी घोटड़ा, भादरा मुक्ति-संघर्षों में भागीदारी के लिए मरणोपरांत सम्मान
HansRaj Arya.jpg
भीमसेन बेनीवाल, निवासी लूणकरणसर, बीकानेर मुक्ति-संघर्षों में भागीदारी के लिए मरणोपरांत सम्मान
माम राज गोदारा, निवासी लूणकरणसर, बीकानेर मुक्ति-संघर्षों में भागीदारी के लिए मरणोपरांत सम्मान
डॉ भागीरथ माचरा निवासी अमरसर (बीदासर) सांडवा में स्वामी केशवानन्द छात्रावास के निर्माण में योगदान के लिए सम्मान-पत्र (जीवित)
श्री हरिराम ढ़ाका निवासी नोरंगसर (सुजानगढ़) मुक्ति-संघर्षों में भागीदारी के लिए सम्मान (जीवित)
Hari Ram Dhaka 5.jpg
श्रीमती प्रियंका चौधरी (तरड़) निवासी झाड़ेली NRI (UK) देश-विदेश में सामाजिक सरोकारों को आगे बढ़ाने के लिए सम्मान (जीवित)

समाज-जागृति के सौ साल पर स्मारिका का प्रकाशन और भविष्य की कार्य-योजना

समाज-जागृति के सौ साल: स्मारिका

स्मारिका का प्रकाशन: शिक्षा के प्रचार-प्रसार और सामन्ती उत्पीड़न के मुक्ति संघर्षों के इतिहास को आलोकित करते हुए समाज-जागृति के सौ साल शीर्षक से एक स्मारिका इस अवसर पर प्रकाशित की गई जिसका विमोचन समारोह में किया गया।

बीकानेर संभाग के सभी जिलों का भू-भाग प्राचीन काल में अनेक नामों से जाना गया है, यथा- मरूदेश, जांगलदेश, बागड़देश आदि। यहाँ का ऋग्वेद और महाभारत काल से लेकर प्राचीन इतिहास स्मारिका में दिया गया है। स्मारिका में जिन जाट गणराज्यों का वर्णन किया है उनमें शामिल हैं: यौधेय जाटगण; जोहिया जाट; सात बड़े जाट जनपद - गोदारा, सारण, सोहुआ, कसवा, सिहाग, बेणीवाल, पूनिया; जोहिया वंश के जाट - कुलडिया, कुहाड़, दूलड़, भाटी, मोहिल, खीचड़; चौहान संघ के जाट - बुरड़क, सुहाग, रोज, भूकर, डूडी, मोठसरा, दहिया, भड़िया; जाटों के अन्य ठिकाने - जाखड़, भादू, नैण, चाहर, कालेर, सींवर, घनघस, गुलेरिया। लेख में संभावित जाट गोत्र जिनके इतिहास की खोज की आवश्यकता है वे भी बताए गए हैं। इनका इतिहास बड़वा या भाट से प्राप्त कर संकलित किया जावे। इनमें से पूनिया, दहिया, जाखड़ आदिकालीन जाट गोत्र हैं। इनकी उत्पत्ति शिव से मानी गई है। लगभग 6000 साल पहले।

इस आयोजन का दिन और स्थान बहुत महत्वपूर्ण हैं। यह दिन हमारे पूजनीय लोकदेवता तेजाजी का बलिदान दिवस तेजा-दशमी है। तेजाजी इसी दिन भाद्रपद शुक्ल दशमी शनिवार विक्रम संवत 1160 (तदनुसार 28 अगस्त 1103) के तीसरे प्रहर शहीद हुये थे, ठीक 914 साल पहले।

यह समारोह इस विषय पर विचार विमर्श करने हेतु विद्यार्थी भवन रतनगढ़ में रखा गया है। स्थान का चयन रतनगढ़ रखा जाना सभी दृष्टियों से उचित प्रतीत होता है। रतनगढ़ तहसील की संस्कृति अति प्राचीन है। इसको राजस्थान की काशी के नाम से भी जाना जाता है। रतनगढ़ का पहले नाम कोहलासर था। यह कोहला नाम के कसवा जाट ने 11 वीं शदी में बसाया था। कसवा रतनगढ़ और चुरू के शासक थे इनका प्रमुख ठिकाना सीधमुख था। कंसुपाल कसवा उनका मुखिया था तथा 400 गाँवों पर उसकी सत्ता थी। 19 अगस्त 1068 को कंसुपाल कसवा सीधमुख आया था। कंसुपाल के बाद कोहला सीधमुख के शासक हुए। कोहला ने ही कोहलासर बसाया। कसवा कुषाण का ही परिवर्तित नाम है। कुषाण के बाद यौधेय, जोहिया, सिहाग और राठौड़ यहाँ के शासक रहे। रतनगढ़ नामकरण बाद में राठौड़ नरेश द्वारा किया गया। सिहाग जाटों का जब यहाँ से स्वामित्व समाप्त हो गया तो राठौड़ नरेश सूरत सिंह ने 1803 में अपने पुत्र रतन सिंह के नाम पर रतनगढ़ रखा।

रतनगढ़ में जाटों में शिक्षा का इतिहास कम से कम 160 साल पुराना है। बीकानेर संभाग में शिक्षा के अग्रदूत हरीश्चंद्र जी नैण के पिता चौधरी रामूराम जी (1848-1911 ई.) के पुरखे कई पीढ़ी पहले से बछरारा में आबाद थे। उन्होने रतनगढ़ में एक साधू मोतीनाथ जी से शिक्षा प्राप्त की थी। यह समय लगभग प्रथम स्वतन्त्रता संग्राम 1857 के आस-पास का था। बाबा मोतीनाथ जी का जन्म राजपूत घराने में हुआ था। रतनगढ़ में अब भी ‘बाबा मोतीनाथ जी की बगीची’ उनका स्मरण कराती है।

इस सम्मेलन में विगत 100 वर्ष से अधिक काल के संघर्ष और उपलब्धियों की समीक्षा उपरांत समाज के समग्र और संतुलित विकास के लिए भविष्य की रूप-रेखा तैयार कर प्रस्तुत की गई।

समाज सुधार हेतु भविष्य की कार्य-योजना: समाज सुधार का कार्य वह होता है जो अपने व्यक्तिगत कामों के अलावा बिना किसी स्वार्थ के समाज के लिए किया जाता है। यह उस कार्य का प्रतिफल होता है जिससे समाज ने हमें यहाँ तक पहुँचने में मदद की। ऐसे कार्यों को हम खुद ही कर सकते हैं यदि हम ऐसा तय करलें तो। हम हमारे जमाने में अत्यधिक कठिन परिस्थितियों मे थे और आगे बढने के लिये बहुत संघर्ष करना पड़ा परन्तु आज परिस्थितियां बदल गई हैं। आज आगे बढ्ने के लिए पर्याप्त अवसर और सुविधाएं हैं।

समाज की विरासत: समाज एक तभी रहता है जब हमारे कोई एक प्रतीक चिन्ह या विरासत विद्यमान हों। हमारे राजा, किले, स्मारक, भगवान, भोमिया, जुझार, जठेरा, देवरी, मंदिर, सती, कुलदेवता, महापुरुष समाधि स्थल, कुये, बावड़ी, धर्मशाला, छात्रावास, भवन, जोहड़, तालाब, शिलालेख आदि बिखरी हुई धरोहरों को खोज कर समाज की जो विरासत हैं उनको संरक्षित और लिपिबद्ध किए जाने की आवश्यकता है।

जाट संस्कृति और परंपरा को जिंदा रखना: जाट एक आदिकालीन समुदाय है और प्राचीनतम क्षेत्रीय वर्ग है जिसकी अनेक अनुपम विशेषताएं हैं। व्याकरण के विद्वान पाणिनि का जन्म ई. पूर्व आठवीं-पाँचवीं शताब्दी में प्राचीन गंधार राज्य के सालतुरा गाँव में हुआ था, जो इस समय अफगानिस्तान में है, उन्होंने अष्टाध्यायी व्याकरण में 'जट' धातु का प्रयोग कर 'जट झट संघाते' सूत्र बना दिया। जाट का अर्थ भी यही है कि जिस जाति में बहुत सी ताकतें एकजाई हों यानि शामिल हों, एक चित हों, ऐसे ही समूह को जाट कहते हैं।

गोत्र और खाप : इसकी सामाजिक सरंचना बेजोड़ है। इस जाति ने आदिकाल से कुछ सर्वमान्य सामाजिक मापदण्ड स्वयं ही निर्धारित कर रखे हैं और इनके सामाजिक मूल्यों का निरंतर संस्तरण होता आ रहा है। जाट समाज की गोत्र और खाप व्यवस्थाएं अति प्राचीन हैं और आज भी इनका पालन हो रहा है। जाट समाज में अपने वंश गोत्र के लोग परस्पर भाई-भाई की तरह मानते है। हम गोत्र के नाम पर ही उपनाम रखें न कि चौधरी या जाट। गोत्र हमारा DNA है। इसमें इतिहास छुपा है।

कुवा पूजन, माण्डा रोपना, चाक पूजा, साथिया लगाना: समाज में आजकल नई-नई गलत परम्परायें कायम हो रही हैं। मैने देखा कि गांव में कुछ लोगों ने शादियों के समय पालन की जाने वाली माण्डा रोपना या चाक पूजा करना या बच्चे के जन्म पर साथिया लगाना जैसे काम बंद कर दिये हैं और वे कहते हैं कि हम प्रोग्रेसिव हो गये हैं। मैने समझाया कि ये हमारी अति प्राचीन वेदिक परम्परायें हैं और हर परम्परा का अपना इतिहास और औचित्य है। महाभारत के एक अध्याय में वासु जब नये राज्य चेदी पर विजय प्राप्त करते हैं तो राज्य के फ़लने फ़ूलने के प्रतीकात्मक रूप में बांस के पौधे रोपते हैं। यह आज भी हम बांस का माण्डा रोप कर याद करते हैं। चाक पूजा मानव के विकास-क्रम में पहिये और मटके के आविष्कार की याद दिलाती हैं। कुम्हार की तो अर्थव्यवस्था ही इस पर निर्भर है। कुम्हार इसी लिए प्रजापति कहलाता है। साथिया लगाने पर खोज की आवश्यकता है। इसमें गाय के गोबर से बच्चे के जन्म पर उस मकान पर एक सूर्य का चक्र और दूसरा स्वस्तिक का चक्र बनाया जाता है। इन परम्पराओं में ज्यादा खर्च नहीं होता है। इसलिये मेरा अनुरोध है कि इन प्राचीन परम्पराओं को जिन्दा रखा जावे ।

इतिहास लेखन - जाट समाज के हर सदस्य से अनुरोध करूंगा कि जाट इतिहास पढ़े, समझें और अन्य भाईयों को भी बतावें। हम स्कूल कालेजों में मुगलों का इतिहास पढ़ते हैं, राजपूतों का इतिहास पढ़ते हैं परन्तु जाटों का इतिहास नहीं पढ़ने को मिलता। यदि पाठ्य पुस्तकों में कहीं जाट शब्द आता है तो केवल इतना आता है कि जाट एक लुटेरे या विद्रोही जाति रही है। यह इसलिए कि जाटों ने हमेशा विदेशी आक्रामकों का विरोध किया और देश में भी गलत ढंग से संचालित व्यवस्थाओं का विरोध किया है। जाट समाज का उचित ढंग से इतिहास अभिलेखित नहीं किया है। समय-समय पर जाटों का विभिन्न समुदायों से वर्ग संघर्ष होता रहा है और इसमें जाट इतिहास लुप्त कर दिया गया। इस बात का उल्लेख गोरख सिन्हा द्वारा नौवीं शदी में लिखित देवसंहिता में किया गया है। पार्वती शिव से पूछती है जाट कौन हैं, उनका इतिहास क्यों नहीं प्रकाश में आया। शिवजी समझाते हैं कि जाट पृथ्वी के सबसे पहले क्षत्रिय और राजा हैं। इस इतिहास में विप्र जाति एवं देव जाति का गर्व खर्च होता है । इस कारण इतिहास वर्णनकर्ता कविगणों ने जाट जाति के इतिहास को प्रकाश नहीं किया है। अब समय की मांग है कि अब जाट इतिहास संकलित किया जावे।

सर्व-समाज का मनोबल ऊंचा करने के लिये हर समाज का तथ्यपरक सन्तुलित इतिहास का होना और इसकी जानकारी विद्यार्थियों को होना आवश्यक है। समाज वैज्ञानिक कहते हैं कि किसी कौम को समाप्त करना है तो उसके इतिहास को लुप्त करादो और उसमें हीन भावना पैदा करदो वह कौम स्वयं ही समाप्त हो जायेगी। मुगलों के लगातार आक्रमण और लम्बे समय तक राज करने से भारतीय इतिहास में असन्तुलन पैदा हो गया। हम अकबर को महान कहते है, सिकंदर को महान कहते हैं, जो विदेशी आक्रांता थे, पर महाराजा सूरजमल को महान क्यों नहीं कहते? भारत में एक मात्र किला भरतपुर का लोहगढ़ था जिसपर अंग्रेज़ सेना कब्जा नहीं कर सकी थी।

इतिहास की महता के दो उदाहरण: पहला उदाहरण - ठठावता गांव की एक बारात मई के महिने में कुछ कोस दूर दूसरे गांव गई। कुछ दूरी पर बारातियों को प्यास लगी तो एक प्याऊ पर रुके। प्याऊ एक मूछदार व्यक्ति ने लगा रखी थी। बारात में सभी जातियों के लोग थे। किसी ने प्याऊ वाले की जाती पूछ ली। वह बोला बावरिया हूं। जाटों और अन्य जातियों के लोगों ने पानी पी लिया। राजपूतों ने पानी पीने से मना कर दिया। बावरिये ने पूछा क्या हो गया प्यास नहीं है? वे बोले तुम नीची जाती के हो। बावरिया प्याऊ के अन्दर गया और एक मोटी सी बावरिया के इतिहास की किताब लाया और बोला पढो - जब राजपूत जाति का अस्तित्व नहीं था तब हम राजा थे। आपका इतिहास कबसे है? सबने वह अध्याय पढा और मान गये तथा पानी पी लिया। हर जाति अपना प्रामाणिक इतिहास संकलित करे तो ऊंच-नीच की कृत्रिम रूप से पैदा की गई भावना खत्म हो सकती है।

दूसरा उदाहरण: आजकल कई लोग कहते हैं जाट तो हिन्दू की श्रेणी में नहीं हैं। उनका इतिहास नहीं है। उन्होने देश के लिए कुछ नहीं किया। ऐसे ही एक कट्टर हिन्दू मित्र ने जाटलैंड मोडरेटर से भी कह दिया। उन्होंने पूछा- महमूद गजनी ने कितने आक्रमण देश पर किए थे। उत्तर मिला -17 बार। आपके पीढ़ियों में किसी ने उस आक्रांता का सामना किया था ? बोले – नहीं। जाटलैंड मोडरेटर ने कहा मेरे पूर्वज राव बुरड़कदेव और समुद्रपाल ने वर्ष 1000 ई. और 1010 ई. में हिंदुशाही सेना की तरफ से महमूद गजनी का सामना लाहोर और वैहिन्द में किया था और लड़ाई में मारे गए थे। उनकी पत्नियाँ ददरेवा और सांभर में सती हुई थी। वे बुरड़क जाट ही थे, बिना प्रमाण के ऐसा न कहें।

समय की मांग है कि अब समग्र जाट इतिहास संकलित किया जावे। जाट कीर्ति संस्थान चूरु द्वारा चूरू अंचल के जाट इतिहास का लेखन कार्य हाथ में लिया गया है। जयपुर स्थित तेजा फ़ाउंडेशन द्वारा भी राजस्थान के जाटों का इतिहास संकलन का कार्य किया जा रहा है। यह एक सराहनीय पहल है। आप अपने बड़वा से जानकारी प्राप्त करो। अपना इतिहास मिल जाएगा। तेजा फ़ाउंडेशन जयपुर इसमें आपकी मदद करेगा।

जाटलैंड वेबसाइट (https://www.jatland.com) - जाट समाज में कोई 6000 से अधिक गोत्र हैं। सन 2000 से जाटलैंड वेबसाइट पर जाट गोत्रों की उत्पत्ति की खोज करना शुरू किया था। जितने उपलब्ध अभिलेख थे उनकी खोज कर जाटलैंड वेबसाइट पर डाली गई। आप को जानकर ताज्जुब होगा कि इस साईट पर अब हम हमारा इतिहास, गोत्रों का इतिहास, गाँवों का इतिहास (12000) आदि संकलित करने में सफल हो रहे हैं। इसमें आप भी योगदान कर सकते हैं। दुनिया भर के हमारे प्रबुद्ध सदस्य इसमें योगदान कर रहे हैं। आप इसमें खुद जोड़ सकते है। यह एडिटेबल साईट है जो कोई भी जाट भाई सदस्य बन कर योगदान कर सकता है। समस्या हो तो मॉडरेटर को भी भेज सकते हैं।

शुभ संकेत: समाज के लिए यह गौरव की बात है कि समाज के द्वारा किए गए प्रयासों के परिणाम स्वरूप पाठ्यपुस्तकों में अब जाट इतिहास और महापुरुषों का समावेश हो गया है। उदाहरणार्थ NCERT पुस्तकों में यह समावेश हो चुका है कि गुप्त सम्राट धारण गोत्र के जाट थे। (भारत का इतिहास - कुलदीपराज दीपक, अध्याय-12, कक्षा-11) तेजाजी और महाराजा सूरजमल के डाक टिकट इसलिए जारी हो सके थे कि उनकी सम्पूर्ण जानकारी, जन्म तिथि सहित, इन्टरनेट पर उपलब्ध थी। महाराजा सूरजमल और शेखावाटी किसान आंदोलन ने भी पाठ्यपुस्तकों में स्थान बनाया है। (भारत का इतिहास, कक्षा-12, रा.बोर्ड, 2017)

सामाजिक और आर्थिक मुद्दे:

1. रोजगार में आरक्षण: हम अगर मोटा-मोटा विभाजन करें तो पिछले 100 साल में से आधा समय संघर्ष में गया और आधा समय हमारी स्मृद्धि में काम आया। संघर्ष से हमने शिक्षा के अवसर जुटाये और रोजगार पाया। संघर्ष से ही हमने रोजगार में आरक्षण पाया। अब कुछ शक्तियाँ इस आरक्षण व्यवस्था को खत्म करने पर तुली हैं। हमें सावधानी से और संगठित होकर काम लेना है। जिस अवसर पर आपको मौका मिले अपनी इस व्यथा से सबको अवगत करावें। आरक्षण केवल नाम के लिए नहीं हो बल्कि जनसंख्या के अनुपात में हो, यही हमारी मांग होनी चाहिए। मनलो राजस्थान में जाटों की जनसंख्या 20 प्रतिशत है तो आरक्षण इससे कम देने यथा 10 प्रतिशत दिया जावे तो हमें नुकसान होगा। क्योंकि मेरिट में आने वाले को भी अब इस कोटे तक ही सीमित होना होगा। अन्य पिछड़ा वर्ग में भी अपना कोटा सीमित होने जा रहा है। इसके लिए भी संघर्ष करना पड़ेगा। यह शुभ संकेत है कि भरतपुर और धोलपुर के जाटों को भी 23.8.2017 को आरक्षण मिल गया है।

2. भूमि अधिग्रहण कानून: किसानों को हमारे पूर्वजों के संघर्ष से भूमि पर अधिकार मिला। अब इस पर भी खतरा मंडराने लगा है। वर्ष 2014 में 4 बार अध्यादेश आया भूमि अधिग्रहण कानून को कमजोर कर किसानों की जमीन हड़पने के लिए। किसानों के दवाब में सरकार को झुकना पड़ा परंतु बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ फिर ज़ोर लगावेंगी। खतरा फिर सामने है। हमें हर लेवल पर किसान की भूमि के अधिकार के लिए लड़ना होगा।

3. संस्थागत संरचना का विकास: किसानों की आवाज को शक्ति मिले और सुनवाई हो इसके लिए संस्थागत संरचना तैयार होना बहुत जरूरी है। हर जिले, तहसील और गाँव में समाज के पास एक समाज सुधार संस्था हो और समाज सुधार कोष हो जो जरुरतमंद लोगों के लिये काम आये तभी लोग समाज से जुडते हैं। हम अपनी आय में से कम से कम 1 प्रतिशत धन समाज के कार्यों के लिये खर्च करे। जिस के पास धन की कमी है वे श्रम-दान या समय-दान कर समाज को कुछ दे सकते हैं। समाज सुधार के कार्यों के लिये एक कार्य आयोजना बने तथा इसे लागू करने के लिए कार्य-दल बने। जाट कीर्ति संस्थान एक अच्छा उदाहरण है। इससे जुड़कर हम कुछ प्रयास कर सकते हैं।

4. फिजूल-खर्च, कर्म-कांड, पाखंड आदि रोकना: जो स्मृद्धि हमने पाई है उसको बनाए रखना बहुत जरूरी है। इसके लिए हमें कुछ गलत परम्पराओं को छोड़ना चाहिये। गलत परम्पराओं को छोड़ने से जो पैसा बचेगा उसका उपयोग समाज के सामूहिक विकास के लिए हो। हमें फिजूल खर्च, कर्म-कांड, पाखंड आदि को रोकना पड़ेगा। हमें किन परम्पराओं पर कितना खर्च करना है यह समाज तय करे ना कि दुकानदार या पंडितजी।

5. दहेज-प्रथा: जिसमें हम लाखों खर्च करते हैं और जो हमारी इन प्रतिभाओं को सीधा प्रभावित करती हैं। ये हमारी प्रतिभावान बच्चियां पढ लिख कर ऊंचे पदों पर जावें और इनके पिता दहेज भी दें इस बात का समाज के कर्णधारों के पास क्या जवाब है। इनके मा-बाप पढाई के बाद शादियों में क्यों और कहां से इतना धन लायेंगे। दहेज प्रथा पर सभी समाजों में सामूहिक रूप से निर्णय कर रौक लगाने की आवश्यकता है। गुजरात में इस प्रथा पर बहुत नियंत्रण है।

6. मृत्यु-भोज: माता-पिता का जिन्दा रहते खयाल रखें मरने के बाद लाखों खर्च करने का औचित्य नहीं है। कुछ जिलों मे सामूहिक रूप से रौक लगी है पर सभी जिलों में नहीं है। यह समाज को ही रोकना पड़ेगा।

7. छूछक प्रथा: इसमें आजकल लाखों खर्च कर रहे हैं। मेरा सुझाव है कि बच्चे के नाम की नियमित अफ़. डी. करा दी जावे जिससे उसकी पढाई में मदद हो सके।

8. नशा उन्मूलन: समाज को बर्बाद कर देगा। इसे रोकने के लिये समाज को मनोयोग से आगे आना पड़ेगा। नशा उन्मूलन हेतु सामाजिक आंदोलन की आवश्यकता है।

9. युवा वर्ग को मार्गदर्शन : छात्रों को प्रतियोगिता के लिये सतत प्रोत्साहित करे तो हमारे बच्चे भी बहु संख्या में शासकीय सेवाओं में आयेंगे। बच्चों को अपनी रुचि और क्षमता के अनुसार पढाई और कैरियर का चयन करने दें। भटकाव अगर आता है तो प्रतिभा कुण्ठित होने से पहले ही भटकाव को रोकें। यह अभिभावक और समाज का दायित्व है। भरत सारण जैसे हमारे युवा बाड़मेर में बहुत अच्छा काम कर रहे हैं। तेजा फ़ाउंडेशन जयपुर के अंतर्गत समाज के गरीब बच्चों के लिए उड़ान कोचिंग सेंटर शुरू किया है। ईसरान साहब, डी. सी. सारण साहब और रामस्वरूप चौधरी साहब ने इसमें उल्लेखनीय भूमिका निभाई है। राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रसिद्धि पानेवाले प्रतिभावों और खिलाड़ियों यथा कृष्णा पूनियाजी, देवेंद्र झझडिया जी को समाज के युवा-वर्ग से रूबरू किया जावे जो उबको आगे बढ्ने का मनोबल बढ़ाएगा। किसान के रूप में हम बहुत अच्छे प्रबन्धक है। वह ख़राब पौधों (खरपतवार) को समाप्त कर अच्छे अन्न उत्पादक पौधों की फसल तैयार करते हैं और समाज का पेट भरते हैं तो क्या हम हमारी नई पौध छात्रों को दिशा निर्देश देकर उनका समुचित विकास नहीं कर सकते ? इसमें समाज का सहयोग जरूरी है।

10. पर्यावरण संरक्षण: बच्चों में पर्यावरण संरक्षण की भावना पैदा की जावे और देश और अन्य समाजों को समझने के लिये प्रतिवर्ष भ्रमण आयोजित किये जावें। राजस्थान में भ्रमण की प्रवृति बहुत कम है जबकि गुजरात और बंगाल के बच्चों में यह ज्यादा है। वहाँ शासन की तरफ से भ्रमण की व्यवस्था की जाती है।

11. पारस्परिक सम्मान और सामाजिक सद्भाव बढ़ाना: भारत को आजाद हुये 70 साल हो गये। परन्तु आज पारस्परिक सम्मान और सामाजिक सद्भाव कम हो रहा है। यह दुख दाई है। तेजाजी के जीवन से हमें प्रेरणा लेनी चाहिए। तेजाजी समान विचारवालों वाली मित्र-मंडली में मुख्य थे – पांचू मेघवाल, खेता कुम्हार और जेतराज जाट। उनका अंतिम संदेशवाहक था - आसू देवासी। तेजाजी ने पांचू मेघवाल को उस समय मंदिर में प्रवेश दिलाया था जब दलितोद्धार की कोई कल्पना भी नहीं करता था। इसी तरह कुंभाराम आर्य ने भी ऊंच-नीच की भावना खत्म करने के लिए बहुत काम किया था। आजकल सोशियल मीडिया बहुत उपयोगी है इसका नकारात्मक उपयोग न कर समाज में सद्भाव बढ़ाने में उपयोग किया जावे।

स्मरण समारोह दिनांक 31.8.2017 की पिक्चर गैलरी

ग्रामीण किसान छात्रावास रतनगढ़ में समाज जागृति के सौ साल समारोह दिनांक 31.8.2017 की झलकियाँ:

संदर्भ

  1. Dr Mahendra Singh Arya et al: Ādhunik Jat Itihas, Agra 1998, Section 9 pp.1-12
  2. Dr Mahendra Singh Arya et al: Ādhunik Jat Itihas, Agra 1998, Section 9 pp.1-12
  3. Dr Mahendra Singh Arya et al: Ādhunik Jat Itihas, Agra 1998, Section 9 pp.1-12

Back to Jat Organizations/Jat Monuments