Kandhalsar

From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search

Kandhalsar (कान्धलसर) is a village in Sujangarh tehsil of Churu district of Rajasthan.

Location

Origin

The Founders

History

सन 1947 में भारत आजाद हो गया था। इससे सामंतो को उनकी जागीर ख़त्म होने का डर सताने लगा । उन्होंने किसानों पर दमन चक्र तेज कर दिया । जागीरदारों के पास हथियार थे और राज्य की सेवा से अधिक हथियार मिल गए थे । वे अब डाकू बन गए और जागीरदारों के इशारों पर गाँव के किसानों पर डाका डालने लगे । कान्धलसर के केशरराम व शम्भूराम ढाका ग्राम बिलणियासर तहसील नोखा में बसते थे । बिलणियासर के जागीरदार ने ग्राम के कुम्हारों, ढाकों, खीचड़ परिवारों पर हमले किये । एक कुम्हार शहीद हो गया । केशरराम ढाका तथा खीचड़ परिवारों को गाँव छोड़ कर आना पड़ा और वे सुजानगढ़ तहसील के ग्राम कान्धलसरनोडिया आदि में आकर आबाद हुए । खीचड़ तो जागीरदार के गिरफ्तार होने पर वापिस चले गए किन्तु केशरराम ढाका के पुत्र शम्भूराम ढाका आदि कान्धलसर में आबाद हैं, जो बीकानेर संसद रामेश्वर डूडी के सगे मामा हैं ।[1]

Jat Gotras

Jat Monuments

Population

According to Census-2011 information: With total 468 families residing, Kandhalsar village has the population of 2545 (of which 1269 are males while 1276 are females).[2]

Notable Persons

  • शंभूराम ढाका नि. कान्धलसर:स्वतंत्रता सेनानी, प्रजा परिषद् की गतिविधियों में सक्रिय भाग लिया.[3]
  • कुशलाराम सारण कान्धलसर:स्वतंत्रता सेनानी, प्रजा परिषद् की गतिविधियों में सक्रिय भाग लिया.[4]

External Links

References

  1. भीमसिंह आर्य:जुल्म की कहानी किसान की जबानी (2006),p.53
  2. http://www.census2011.co.in/data/village/70687-kandhalsar-rajasthan.html
  3. भीमसिंह आर्य:जुल्म की कहानी किसान की जबानी (2006),p.40
  4. भीमसिंह आर्य:जुल्म की कहानी किसान की जबानी (2006),p.40

Back to Jat Villages