Kirthal

From Jatland Wiki
(Redirected from Kirttal)
Jump to navigation Jump to search

Kirthal (किरठल) (also Kirtal, Kirttal, Kirtthal) is a village in Chhaprauli tahsil of Baghpat district in Uttar Pradesh. Its PIN Code is Kirthal-250617. STD Code - 01234.

आर्य महाविद्यालय को दान

ठाकुर देशराज[1] ने लिखा है ....स्वामी परमदास जी - [पृ.489]: रेवाड़ी फुलेरा रेलवे कार्ड लाइन पर भैंसलाना एक स्टेशन है। स्टेशन से पश्चिम की ओर मंढ़ा एक गाँव है। यहीं पर दादू संप्रदाय के साधुओं का एक मठ है। स्वामी परमदास जी इसी मठ के अंतिम जाट महंत थे। आप तीन भाई थे। बालदास जी, जयरामदास जी और परमदास जी। तीनों ही भाइयों ने संत रहते हुए जाट कोम की भारी सेवा की है।

स्वामी बालदास जी ने चौधरी हरलाल सिंह अलवर को श्रीमाधोपुर के पास जाटों में शिक्षा प्रसार के लिए रुपए देकर मदद की किंतु का वह काम पूरा नहीं हुआ।

जयरामदास जी जयपुर में ही समस्त भारत के जाटों में 20 वीं सदी के अद्वितीय पंडित और चिकित्सक है। आपने बीसियों हजारों की रसायने और काष्ठादिक औषधियां अपने पीछे छोड़ी थी। आपको इतिहास से बड़ा प्यार था। राजस्थानी जाटों के बारे में कई महत्वपूर्ण खोजें की थी। पूरा जीवन परिचय साधुमना चौधरी रीछपाल सिंह जी धमेडावासी ने लिखा है जो प्रकाशित हो चुका है।

अपने दोनों भाइयों के मरने पर स्वामी परमदास जी अपने मठ और गद्दी के मालिक हुए। वह बहुत कम पढ़े लिखे थे किंतु उनकी रुचि जाट कौम के हित के लिए अद्वितीय थी। उन्होंने अपने भाई की तमाम संपत्ति (औषधालय) जाट महासभा और किरथल आर्य महाविद्यालय को दान कर दी और अंतिम दिनों में तो उन्होंने अपना शरीर भी किरथल महाविद्यालय को दे


[पृ.490]: दिया। उन्हें गीता से अत्यंत प्रेम था। वह उनकी प्रिय पुस्तक थी उसके प्रचार पर जोर दिया था।

Prominent persons and Institutes

This place is known for Arya Mahavidyalaya, Kirthal. Initially in this school of Sanskrit language, there were only five students. Two among them were Raghuvir Singh Shastri and Dharmvir. The social service and efforts by Acharya Jagdev Sidhanthi led to its upgradation to the status of present College.

Jat Gotras

History

Notable persons

External links

References


Back to Jat Villages

  1. Thakur Deshraj:Jat Jan Sewak, 1949, p.489-490