Kudan

From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search
This article is for Kudan village. For gotra Kudan see Kudan (Gotra)
Location of Kudan in Sikar district

Koodan (कूदन) or Kudan is a village in Dhod tahsil of Sikar district in Rajasthan. It is the birth place of leading Jat freedom fighters like Choudhary Kaluram Sunda, Choudhary Ganesh Ram Maharia. Kudan is ancestral village of prominent politician of Rajasthan late Chaudhary Kumbha Ram Arya.

It is a well developed village connected with road and all communication facilities.

Population

Population of the village, as of 2001 census, is 9193, out of which 1512 are SC and 4 are ST people.

Jat Gotras

It is mainly a Jat village with main Jat gotra Sunda (300 families). Other Jat Gotras are Mehria and Kajla. Maharias from this village are politically powerful. As per the bards of Sunda people they were originally at Pushkar from where they moved to village Khojas in Sikar district. From Khojas they moved to Jerthi and then to Kudan village. Kudan is the biggest village of Sundas where there are 300 families.

Origin

The word Koodan is derived from the name of first person who settled on this piece of land. He was Kuda Maharia.

History

Kunwar Bagh Singh son of Rao Samrath Singh (1748-1754) was thakur of Koodan under Sikar Thikana and his brother Kunwar Guman Singh of Magloona village. [1]

Education

Kudan has a very good schooling facilities.

Role in Shekhawati farmers movement

Before independence the conditions of the farmers were worst. The farmers of the Shekhawati region were exploited and oppressed by the Jagirdars during British Raj. They were deprived of fundamental rights. They were given inhuman treatment when the Jagirdars did not get cesses known as “lag” or “begar” in time, they were given hard punishments and their crop used to be destroyed. Every thing that the Kisan had, never treated as his own. In Jagir areas all cultivators were really landless. There was no tenancy law and one could be thrown away from the land one cultivated at the pleasure of Jagirdar, his "malik". In most of the Jagirs a Jagirdar would in the first instance be taking fifty percent of the produce. This would be taken by actual division of the produce on the thrashing floor or by appraisal of the standing crop (kunta). Then over and above the share of the produce the Kisan had to pay numerous "lags" or cesses. There were 37 kinds of ‘lags” prevalent in the Shekhawati area. Together with the share of the produce known as "Hasil" these cesses meant that the Kisans had to part with more than eighty percent of their produce. The findings of the Sukhdeonarain Committee in the years 1940-42 bear this out. If a Kisan had to marry his daughter he had to pay "Chavri Lag" if he held a dinner then a "Kansa Lag"; if members of the family separated then "Dhunwa Lag" and so on. If the Jagirdar had a guest then fodder for his mount had to be supplied. Then there was "begar" that is forced labour, for tilling the personal lands of the Jagirdar. The homestead in which the Kisan lived in the Abadi had to be vacated in case he ceased cultivating the land. He could not alienate the plot to anyone.

Farmers of the Shekhawati, mainly the Jats, united againt oppression of Jagirdars by forming ‘Sikar Jat-Kisan-Panchayat’ and stopped giving "lags" or cesses to the Jagirdards. The ‘Jaipur Praja-Mandal’ also supported the Shekhawati farmers’ movement against abolition of Jagirdari system. The leaders of ‘Bijoria-Kisan-Movement’ of 1922, 1931, and 1932 supported the movement of Shekhawati farmers. The Jagirdars tried to suppress the movement in many ways. Many farmers were killed and a large number were sent to jail. A Jat farmer was beaten to death in the market of Sikar town; his dead body was thrown and insulted.

The village Kudan was one of the pioneers in the freedom movement and abolition of Jagirs. The leading Jat farmers of Shekhawati region, who played important role in the movement for abolition of the Jagirdari system included following names from village Kudan:

The Jat Prajapati Maha-Yagya 1934

In 1934, to spread the principles of Arya Samaj and create awakening in Shekhawati, it was decided to hold the Prajapati Yagya (Prayer ceremony for the Lord of Universe). The Jat Prajapati Maha-Yagya took place at Sikar from 20 - 29 January 1934. Kunwar Hukam Singh Rahees Angai (Mathura) was made Yagyapati or Chairman of the Yagya. Chaudhary Kaluram Sunda of village Kudan was the Yagyaman. Acharya Shri Jagdev Sidhanthi received an invitation for this Yagya at his Gurukul at Kirttal, In that invitation was he requested to attend the Yagya and bring twenty Bhramcharis and disciples with him. Volunteers went to all the households in all the villages in the region and collected material that would be needed. They collected Ghee, Flour, Gur, and invited all the householders to participate. Hundreds of cans of Ghee and hundreds of sacks of flour were collected.

During the Yagya 3000 men and women adopted the Yogyopavit, which was a symbol Kisan sangathan. Sheetal Kumari daughter of Kunwar Netram Singh adopted yagyopavit. Chaudhary Chimana Ram of Sangasi brought his wife wearing salwar-kurta. The unity of Jat farmers in this Yagya had terrified the Jagirdars of Sikar. The role played by Sardar Har Lal Singh and Thakur Deshraj was unparallel which made this yagya a grand success.

In December 1934, ‘All India Jat Students Federation Conference’ was organized at Pilani; the coordinator of it was Master Ratan Singh. Sir Chhotu Ram, Kunwar Netram Singh, Chaudhary Ram Singh, Thakur Jhumman Singh, Thakur Deshraj and Sardar Har Lal Singh, along with large number of farmers from various states, attended it. This conference gave a great strength to the Jat youth.

Princely States Report

The main agricultural caste in Rajasthan is the Jats: they comprise the largest single caste in the state (9 per cent), and were, in the 1930's and even earlier, the most self-conscious and prosperous among the peasant castes. In 1935 their claims to certain privileges led to a series of clashes between them and the Rajputs, who resisted their attempts to revise accepted signs of status. The clash of 1935 is reminiscent of similar ones in other areas between lower castes on the rise and higher established castes. [2]

The Jat demonstrations broke out in Sikar, the largest thikana in Jaipur State, and involved both economic and social issues. The Jats in the area had formed two associations, the Sikarwati Jat Panchayat and the Jat Kisan Sabha, and had received some help and encouragement from the British Indian province of Uttar Pradesh. Some of these "outsiders" were organizers for the socialist-oriented Kisan Sabha which attempted to mobilize the peasantry in the 1930's in response to radical pressures in the Congress. [3]

The initial demonstration in Khuri village on March 27, 1935, was occasioned by a social issue, whether a Jat bridegroom should be allowed to ride to his bride's house on a horse, a ceremonial act asserting higher station than Rajputs were prepared to concede. The Rajputs objected, the Jats insisted, fighting broke out, and an old Jat was killed. The incident led to further clashes, and the thikana police, the Sikar Lancers, under command of the English chief of the Sikar police, charged the Jat crowds with lathis (quarter-staffs), injuring many. This incident was followed by others as Jats in the area protested against the revenue collections and resisted and attacked Sikar revenue officials on April 22 at Bhaironpura and at Kudan village on April 25. The Sikar police killed four Jats while putting down this last demonstration and arrested 104 persons. The anti-rent agitation eventually involved some twenty-one villages, and local headmen were as active as any outsiders. A school where, according to the Jaipur durbar, unlawful doctrines were being preached by a Jat teacher from outside the state, was knocked down. The agitation had some effects. The Rao Raja of Sikar remitted all arrears of revenue previous to 1934 and promised to open schools, provide loans where needed, and embark on a permanent land settlement that would introduce some certainty into the vagaries of the thikana's revenue demand. [4] [5]

राजस्थान की जाट जागृति में योगदान

ठाकुर देशराज[6] ने लिखा है ....उत्तर और मध्य भारत की रियासतों में जो भी जागृति दिखाई देती है और जाट कौम पर से जितने भी संकट के बादल हट गए हैं, इसका श्रेय समूहिक रूप से अखिल भारतीय जाट महासभा और व्यक्तिगत रूप से मास्टर भजन लाल अजमेर, ठाकुर देशराज और कुँवर रत्न सिंह भरतपुर को जाता है।


[पृ.4]: अगस्त का महिना था। झूंझुनू में एक मीटिंग जलसे की तारीख तय करने के लिए बुलाई थी। रात के 11 बजे मीटिंग चल रही थी तब पुलिसवाले आ गए। और मीटिंग भंग करना चाहा। देखते ही देखते लोग इधर-उधर हो गए। कुछ ने बहाना बनाया – ईंधन लेकर आए थे, रात को यहीं रुक गए। ठाकुर देशराज को यह बर्दाश्त नहीं हुआ। उन्होने कहा – जनाब यह मीटिंग है। हम 2-4 महीने में जाट महासभा का जलसा करने वाले हैं। उसके लिए विचार-विमर्श हेतु यह बैठक बुलाई गई है। आपको हमारी कार्यवाही लिखनी हो तो लिखलो, हमें पकड़ना है तो पकड़लो, मीटिंग नहीं होने देना चाहते तो ऐसा लिख कर देदो। पुलिसवाले चले गए और मीटिंग हो गई।

इसके दो महीने बाद बगड़ में मीटिंग बुलाई गई। बगड़ में कुछ जाटों ने पुलिस के बहकावे में आकार कुछ गड़बड़ करने की कोशिश की। किन्तु ठाकुर देशराज ने बड़ी बुद्धिमानी और हिम्मत से इसे पूरा किया। इसी मीटिंग में जलसे के लिए धनसंग्रह करने वाली कमिटियाँ बनाई।

जलसे के लिए एक अच्छी जागृति उस डेपुटेशन के दौरे से हुई जो शेखावाटी के विभिन्न भागों में घूमा। इस डेपुटेशन में राय साहब चौधरी हरीराम सिंह रईस कुरमाली जिला मुजफ्फरनगर, ठाकुर झुममन सिंह मंत्री महासभा अलीगढ़, ठाकुर देशराज, हुक्म सिंह जी थे। देवरोड़ से आरंभ करके यह डेपुटेशन नरहड़, ककड़ेऊ, बख्तावरपुरा, झुंझुनू, हनुमानपुरा, सांगासी, कूदन, गोठड़ा


[पृ.5]: आदि पचासों गांवों में प्रचार करता गया। इससे लोगों में बड़ा जीवन पैदा हुआ। धनसंग्रह करने वाली कमिटियों ने तत्परता से कार्य किया और 11,12, 13 फरवरी 1932 को झुंझुनू में जाट महासभा का इतना शानदार जलसा हुआ जैसा सिवाय पुष्कर के कहीं भी नहीं हुआ। इस जलसे में लगभग 60000 जाटों ने हिस्सा लिया। इसे सफल बनाने के लिए ठाकुर देशराज ने 15 दिन पहले ही झुंझुनू में डेरा डाल दिया था। भारत के हर हिस्से के लोग इस जलसे में शामिल हुये। दिल्ली पहाड़ी धीरज के स्वनामधन्य रावसाहिब चौधरी रिशाल सिंह रईस आजम इसके प्रधान हुये। जिंका स्टेशन से ही ऊंटों की लंबी कतार के साथ हाथी पर जुलूस निकाला गया।

कहना नहीं होगा कि यह जलसा जयपुर दरबार की स्वीकृति लेकर किया गया था और जो डेपुटेशन स्वीकृति लेने गया था उससे उस समय के आईजी एफ़.एस. यंग ने यह वादा करा लिया था कि ठाकुर देशराज की स्पीच पर पाबंदी रहेगी। वे कुछ भी नहीं बोल सकेंगे।

यह जलसा शेखावाटी की जागृति का प्रथम सुनहरा प्रभात था। इस जलसे ने ठिकानेदारों की आँखों के सामने चकाचौंध पैदा कर दिया और उन ब्राह्मण बनियों के अंदर कशिश पैदा करदी जो अबतक जाटों को अवहेलना की दृष्टि से देखा करते थे। शेखावाटी में सबसे अधिक परिश्रम और ज़िम्मेदारी का बौझ कुँवर पन्ने सिंह ने उठाया। इस दिन से शेखावाटी के लोगों ने मन ही मन अपना नेता मान लिया। हरलाल सिंह अबतक उनके लेफ्टिनेंट समझे जाते थे। चौधरी घासी राम, कुँवर नेतराम भी


[पृ.6]: उस समय तक इतने प्रसिद्ध नहीं थे। जनता की निगाह उनकी तरफ थी। इस जलसे की समाप्ती पर सीकर के जाटों का एक डेपुटेशन कुँवर पृथ्वी सिंह के नेतृत्व में ठाकुर देशराज से मिला और उनसे ऐसा ही चमत्कार सीकर में करने की प्रार्थना की।

शेखावाटी किसान आन्दोलन पर रणमल सिंह

शेखावाटी किसान आन्दोलन पर रणमल सिंह[7] लिखते हैं कि [पृष्ठ-113]: सन् 1934 के प्रजापत महायज्ञ के एक वर्ष पश्चात सन् 1935 (संवत 1991) में खुड़ी छोटी में फगेडिया परिवार की सात वर्ष की मुन्नी देवी का विवाह ग्राम जसरासर के ढाका परिवार के 8 वर्षीय जीवनराम के साथ धुलण्डी संवत 1991 का तय हुआ, ढाका परिवार घोड़े पर तोरण मारना चाहता था, परंतु राजपूतों ने मना कर दिया। इस पर जाट-राजपूत आपस में तन गए। दोनों जातियों के लोग एकत्र होने लगे। विवाह आगे सरक गया। कैप्टन वेब जो सीकर ठिकाने के सीनियर अफसर थे , ने हमारे गाँव के चौधरी गोरूसिंह गढ़वाल जो उस समय जाट पंचायत के मंत्री थे, को बुलाकर कहा कि जाटों को समझा दो कि वे जिद न करें। चौधरी गोरूसिंह की बात जाटों ने नहीं मानी, पुलिस ने लाठी चार्ज कर दिया। इस संघर्ष में दो जाने शहीद हो गए – चौधरी रत्नाराम बाजिया ग्राम फकीरपुरा एवं चौधरी शिम्भूराम भूकर ग्राम गोठड़ा भूकरान । हमारे गाँव के चौधरी मूनाराम का एक हाथ टूट गया और हमारे परिवार के मेरे ताऊजी चौधरी किसनारम डोरवाल के पीठ व पैरों पर बत्तीस लठियों की चोट के निशान थे। चौधरी गोरूसिंह गढ़वाल के भी पैरों में खूब चोटें आई, पर वे बच गए।

चैत्र सुदी प्रथमा को संवत बदल गया और विक्रम संवत 1992 प्रारम्भ हो गया। सीकर ठिकाने के जाटों ने लगान बंदी की घोषणा करदी, जबरदस्ती लगान वसूली शुरू की। पहले भैरुपुरा गए। मर्द गाँव खाली कर गए और चौधरी ईश्वरसिंह भामू की धर्मपत्नी जो चौधरी धन्नाराम बुरड़क, पलथना की बहिन थी, ने ग्राम की महिलाओं को इकट्ठा करके सामना किया तो कैप्टेन वेब ने लगान वसूली रोकदी। चौधरी बक्साराम महरिया ने ठिकाने को समाचार भिजवा दिया कि हम कूदन में लगान वसूली करवा लेंगे।

कूदन ग्राम के पुरुष तो गाँव खाली कर गए। लगान वसूली कर्मचारी ग्राम कूदन की धर्मशाला में आकर ठहर गए। महिलाओं की नेता धापू देवी बनी जिसका पीहर ग्राम रसीदपुरा में फांडन गोत्र था। उसके दाँत टूट गए थे, इसलिए उसे बोखली बड़िया (ताई) कहते थे। महिलाओं ने काँटेदार झाड़ियाँ लेकर लगान वसूली करने वाले सीकर ठिकाने के कर्मचारियों पर आक्रमण कर दिया, अत: वे धर्मशाला के पिछवाड़े से कूदकर गाँव के बाहर ग्राम अजीतपुरा खेड़ा में भाग गए। कर्मचारियों की रक्षा के लिए पुलिस फोर्स भी आ गई। ग्राम गोठड़ा भूकरान के भूकर एवं अजीतपुरा के पिलानिया जाटों ने पुलिस का सामना किया। गोठड़ा गोली कांड हुआ और चार जने वहीं शहीद हो गए। इस गोली कांड के बाद पुलिस ने गाँव में प्रवेश किया और चौधरी कालुराम सुंडा उर्फ कालु बाबा की हवेली , तमाम मिट्टी के बर्तन, चूल्हा-चक्की सब तोड़ दिये। पूरे गाँव में पुरुष नाम की चिड़िया भी नहीं रही सिवाय राजपूत, ब्राह्मण, नाई व महाजन परिवार के। नाथाराम महरिया के अलावा तमाम जाटों ने ग्राम छोड़ कर भागे और जान बचाई।


[पृष्ठ-114]: कूदन के बाद ग्राम गोठड़ा भूकरान में लगान वसूली के लिए सीकर ठिकाने के कर्मचारी पुलिस के साथ गए और श्री पृथ्वीसिंह भूकर गोठड़ा के पिताजी श्री रामबक्स भूकर को पकड़ कर ले आए। उनके दोनों पैरों में रस्से बांधकर उन्हें (जिस जोहड़ में आज माध्यमिक विद्यालय है) जोहड़े में घसीटा, पीठ लहूलुहान हो गई। चौधरी रामबक्स जी ने कहा कि मरना मंजूर है परंतु हाथ से लगान नहीं दूंगा। उनकी हवेली लूट ली गई , हवेली से पाँच सौ मन ग्वार लूटकर ठिकाने वाले ले गए।

कूदन के बाद जाट एजीटेशन के पंचों – चौधरी हरीसिंह बुरड़क, पलथना, चौधरी ईश्वरसिंह भामु, भैरूंपुरा; पृथ्वी सिंह भूकर, गोठड़ा भूकरान; चौधरी पन्ने सिंह बाटड़, बाटड़ानाऊ; एवं चौधरी गोरूसिंह गढ़वाल (मंत्री) कटराथल – को गिरफ्तार करके देवगढ़ किले मैं कैद कर दिया। इस कांड के बाद कई गांवों के चुनिन्दा लोगों को देश निकाला (ठिकाना बदर) कर दिया। मेरे पिताजी चौधरी गनपत सिंह को ठिकाना बदर कर दिया गया। वे हटूँड़ी (अजमेर) में हरिभाऊ उपाध्याय के निवास पर रहे। मई 1935 में उन्हें ठिकाने से निकाला गया और 29 फरवरी, 1936 को रिहा किया गया।

जब सभी पाँच पंचों को नजरबंद कर दिया गया तो पाँच नए पंच और चुने गए – चौधरी गणेशराम महरिया, कूदन; चौधरी धन्नाराम बुरड़क, पलथाना; चौधरी जवाहर सिंह मावलिया, चन्दपुरा; चौधरी पन्नेसिंह जाखड़; कोलिडा तथा चौधरी लेखराम डोटासरा, कसवाली। खजांची चौधरी हरदेवसिंह भूकर, गोठड़ा भूकरान; थे एवं कार्यकारी मंत्री चौधरी देवीसिंह बोचलिया, कंवरपुरा (फुलेरा तहसील) थे। उक्त पांचों को भी पकड़कर देवगढ़ किले में ही नजरबंद कर दिया गया। इसके बाद पाँच पंच फिर चुने गए – चौधरी कालु राम सुंडा, कूदन; चौधरी मनसा राम थालोड़, नारसरा; चौधरी हरजीराम गढ़वाल, माधोपुरा (लक्ष्मणगढ़); मास्टर कन्हैयालाल महला, स्वरुपसर एवं चौधरी चूनाराम ढाका , फतेहपुरा

रणमल सिंह के साथ

रणमल सिंह[8] लिखते हैं कि कूदन ग्राम में पढ़ते समय मेरा संपर्क श्री बद्रीनारायण सोढानी से हुआ। उनको सीकर का गांधी कहते थे। उन्होने कहा कि पढ़ाना छोड़ो और देश की आजादी के आंदोलन में आ जाओ। उनकी प्रेरणा से मैं 29 फरवरी 1944 को अध्यापक पद से त्याग पत्र देकर जयपुर प्रजामण्डल में शामिल हो गया। प्रजामण्डल में मेरे साथ माधोपुरा का लालसिंह कुलहरी था। हम दोनों जनजागृति के लिए रोजना गाँव में 24 मील पैदल सफर करते थे। मैं देश की आजादी के लिए जागीरदारों के ज़ुलम के खिलाफ सीकर किसान आंदोलन में भाग लेने लगा। सीकर ठिकाने में काश्त की जमीन का बंदोबस्त सन 1941 में हो गया था परंतु लगान व लाग-बाग के नाम पर जागीरदारों की लूट-खसोट बंद नहीं हुई थी। हमने इसका विरोध किया। हमने पहली मीटिंग बेरी गाँव की खेदड़ों की ढाणी में की। इसमें ईश्वर सिंह, त्रिलोक सिंह भी साथ थे, जिनहोने आगे चलकर अलग किसान सभा बना ली थी।

शेखावाटी में सर्वाधिक चर्चित गाँव

कूदन गाँव शेखावाटी का प्रथम गाँव है, जो सामंती दौर में भी नेतृत्व देता रहा है और स्वतंत्रता के बाद भी यह गाँव चर्चा में रहा. इस गाँव में एक लोकसभा सदस्य, तीन विधायक, एक जिला प्रमुख और एक प्रधान हुआ. यह एक उल्लेखनीय उदहारण है. आज भी कूदन गाँव शेखावाटी में सबसे अधिक चर्चित है. [9]

कूदन के महरिया

सीकर वाटी में राव राजा के प्रिय चौधरी नाथाराम महरिया थे। इसी परंपरा को उनके बेटे शिवबक्स महरिया ने निभाया। शिवबक्स कूदन के बेताज बादशाह थे। गांव में सुण्डा गोत्र के जाट अधिक संख्या में हैं। महरिया और सुंडा में हमेशा प्रतिस्पर्धा चलती रही है। लेकिन शिवबक्स महरिया के ऊंचे रसूख के कारण वे सुंडा लोगों पर भारी पड़ रहे थे। महरिया एक पोळी (दरवाजा) के भीतर रहते थे, जिसे मेहरिया पोली कहा जाता था। आज भी इस पोली के विशेष स्मारक के रुप में सुरक्षित हैं। विशेष रुप से नाथाराम महरिया गढों और महलों में प्रसिद्धि प्राप्त करते रहे हैं। किसान वर्ग में रहते हुए भी मेहरिया परिवार किसानों से अलग रहते एवं उनमें उच्च वर्ग की भावना थी। [10]

महरिया परिवारों का आदि पुरुष किसना मेहरिया थे, जिनकी छतरी अभी भी कूदन में मौजूद है। किसना राम के दो बेटे थे - 1. भीमाराम और 2.बोयत राम। भींवाराम के चार पुत्र थे जिनके नाम भानाराम, मोटाराम, गुमानाराम और न्योला राम थे। इन चारों ने 25-25 रुपये खर्च कर किसनाराम की छतरी बनाई थी। चारों भाइयों की चार हवेलियां काफी पुरानी हैं जिससे इस परिवार की समृद्धि का पता लगता है। कूदन के महरिया उन्हीं की वंशबेल हैं।[11]

शिवबक्स महरिया कूदन का मुख्य चौधरी था। 1935 ई. में सीकर आंदोलन के समय कूदन गाँव में करीब दस हवेलियाँ थी। शिवबक्स राव राजा सीकर के अति विश्वसनीय व्यक्तियों में से थे। गोली काण्ड के बाद गाँव की हालत गंभीर होगाई थी। शिवबक्स महरिया ने स्वयं ही पूरे गाँव का लगान चुका दिया था। शिवबक्स के कोई संतान नहीं थी। उन्होने अपने भाई के बेटे रामदेव सिंह को गोद लिया जो आगे चलकर राजस्थान सरकार में मंत्री बने। [12]

ठिकाने ने जांच कमीशन नियुक्त कर दिया

ठाकुर देशराज[13] ने लिखा है ....जयपुर 29 मई 1934 : जाट पंचायत सीकर वाटी के महामंत्री देवा सिंह बोचल्या की प्रमुखता में लगभग 200 जाटों का एक डेपुटेशन सीकर के नए सीनियर अफसर एडबल्यू वेब से मिला और अपनी शिकायतें सुनाई। मिस्टर वेब ने उनकी बातों को सहानुभूति पूर्वक सुनकर बतलाया कि राव राजा सीकर ने आप लोगों की शिकायतों की जांच करने के लिए 8 व्यक्तियों का एक मिशन नियत करने की इजाजत दे दी है। उसका प्रधान मैं स्वयं और मेंबर मेजर मलिक मुहम्मद सेन खां पुलिस तथा


[पृ.254]: जेलों के अफसर-इंचार्ज कैप्टन लाल सिंह, मिलिट्री मेंबर ठाकुर शिवबक्स सिंह, होम मेंबर और चार जाट प्रतिनिधि होंगे। चार जाटों में से दो नामजद किए जाएंगे और दो चुने जाएंगे।

आप ने यह भी कहा कि मुझे जाटों की शिकायतें कुछ अत्युक्तिपूर्ण मालूम पड़ती हैं तथापि यदि जांच के समय आंदोलन बंद रहा और शांति रही तो मैं जांच जल्दी समाप्त कर दूंगा और जाटों को कोई शिकायत नहीं रहेगी।

जाट जांच कमीशन की रचना से संतुष्ट नहीं हैं। न वे चारों जाट मेंबरों को चुनना ही चाहते हैं। वे झुंझुनू में एक सभा बुलाने वाले हैं। बोसना में भी एक पंचायत होगी इन दोनों सभाओं में मिस्टर वेब के ऐलान पर विचार होगा। (यूनाइटेड प्रेस)

इसके बाद राव राजा साहब और सीनियर साहब दोनों ही क्रमश: 2 जून और 6 जून सन 1934 को आबू चले गए।

आबू जाने से 1 दिन पहले सीनियर ऑफिसर साहब मिस्टर वेब ने सीकर वाटी जाट पंचायत को एक पत्र दिया जो पुलिस की मारफ़त उसे मिला। उसमें लिखा था, “हम चाहते हैं कि कार्यवाही कमीशन मुतल्लिका तहकीकात जाटान सीकर फौरन शुरू कर दी जावे। हम 15 जून को आबू से वापस आएंगे और नुमायदगान से जरूर सोमवार 18 जून सन 1934 को मिलेंगे। लिहाजा मुक्तिला हो कि जाट लीडरान जगह मुकर्रर पर हमसे जरूर मिलें।

सीनियर ऑफिसर के आबू जाने के बाद सीकर के जाट हाथ पर हाथ रखकर नहीं बैठे। बराबर गांवों में मीटिंगें करते रहे। उन्होंने इन मीटिंगों में इस बात के प्रस्ताव पास किया, “जयपुर दरबार के सामने पेश की हुई हमारी मांगे


[पृ.255]: सर्वसम्मत हैं और हमारे ऐसी कोई भी पार्टी नहीं जो इन मांगों के विरुद्ध हो, सीकर के कर्मचारियों ने मिस्टर वेब को यह समझाया कि यहां के जाटों में दो पार्टियां हैं कतई झूट है” (नवयुग 12 जून 1934)

मि. वेब आबू से एक दो दिन की देर से वापस हुए। इसके बाद में शायद किसी जरूरी काम से जयपुर गए। इसलिए जाट पंचायत के प्रतिनिधियों से बजाय 18 जून 1934 के 22 जून 1934 को मुलाकात हुई। उन्होने पहली जुलाई तक कमीशन के लिए जाटों के नाम की लिस्ट देने को जाट पंचान से कहा और यह भी बताया कि राव राजा साहब ने ठिकाने में से सभी बेगार को उठा दिया है।

29 जून 1934 को राव राजा साहब भी आबू से वापस आ गए। कुछ किसानों ने रींगस स्टेशन पर उनसे मुलाकात करनी चाहिए किंतु नौकरों ने उन्हें धक्के देकर हटा दिया।

इससे पहले ही तारीख 24 जून 1934 को कूदन में सीकर वाटी के प्रमुख जाटों की एक मीटिंग कमीशन के लिए मेंबर चुनने के लिए हो चुकी थी। भरतपुर से ठाकुर देशराज और कुंवर रतन सिंह जी भी इस मीटिंग में शामिल हुए थे। तारीख 25 जून 1934 को एक खुली मीटिंग गोठड़ा में हुई जिसमें रायबहादुर चौधरी छोटूराम और कुंवर रतन सिंह बाहर से तथा कुंवर पृथ्वी सिंह और चौधरी ईश्वर सिंह सीकर से जांच कमीशन के लिए चुने गए।

सीकर ठिकाने की चाल

ठाकुर देशराज[14] ने लिखा है ....सीकर ठिकाने ने इस बीच आंदोलन को ठंडा करने के लिए एक और चाल चली। राव बहादुर चौधरी लालचंद जी की सिफारिश किए हुए किसी चौधरी राजसिंह को सीकर में फौजदार (मुंशिफ) और ठाकुर झम्मन सिंह जी मंत्री जाट महासभा के एक स्वजन ठाकुर साहब सिंह जी को तहसीलदार के ओहदे पर लेकर बाहरी जाटों की जबान बंद करनी चाही किंतु इससे उसे फायदा कुछ भी नहीं हुआ। यूं तो उसने कुदन के चौधरी सुखदेव जी को जाट आंदोलन के खिलाफ इस्तेमाल किया किंतु जब दावानल लगती है तो उसे ओस के कण नहीं भुजा सकते।

पाशविकता की पराकाष्ठा

ठाकुर देशराज[15] ने लिखा है .... खुड़ी काण्ड के पश्चात राज्य अधिकारियों ने जाटों पर होने वाले अन्याय की ओर से बिल्कुल आंखें मीच ली। सीकर में जो भी जाट आया पुलिस वालों ने उसे पकड़ा और पीटा। कई स्थानों पर जाटों को गांव में भी पीटा गया। कस्बों में भी पुलिस के इशारे पर जाटों के साथ दुर्व्यवहार होने लगे। जो आदमी माल बेचने गया उसे पीटा, माल छीन लिया गया। जाट भयभीत हो गए और कस्बों में जाना बंद कर दिया। जाट जयपुर पुकारने गए। जयपुर के अधिकारियों ने डेपुटेशन से मिलकर उनकी बातें सुनने के लिए एक तारीख निश्चित की और रिप्रजेंटेशन मांगा। परंतु इसी बीच कैप्टेन वेब साहब जयपुर आए और जयपुर अधिकारियों का रुख बदल गया। जाटों ने विनय की कि समझौते के अनुसार 3 माह में सब लगान अदा करने को तैयार हैं। हमारी जान माल की रक्षा का प्रबंध कर दिया जावे और खुड़ी कांड की जांच कर दोषी अधिकारियों को दंड दिया जाए। परंतु उल्टा जयपुर राज्य ने जाटों के नेताओं को निर्वासित कर वेब साहब को विशेष अधिकार ऑर्डिनेंस बनाने के दे दिये। सीकर अधिकारियों ने समझौते की परवाह नहीं की। गांवों में जबरदस्ती जाकर लगान उगाहना शुरू कर दिया। घरों से अनाज, कपड़े, जेवर वगैरह जबरदस्ती चीन लिए और मारपीट की। नौबत यहां तक पहुंची की कुदन में एक ही दिन में सुबह शाम दो


[पृ.281]: समय अधिकारियों ने गोली चलाई और घरों को लूटा। अभी तक कूदन में कितने मरे कितने घायल हुए इसका पता ठीक से नहीं लगा क्योंकि वहां पर किसी बाहर के आदमी को नहीं जाने दिया जाता। तमाम गांव का लगान एक जाट से वसूल किया और ₹600 जुर्माना लिया गया। सामान घरों से निकाला गया, बर्तन भांडे तोड़े एवं लुटेर गए। किवाड़ तोड़कर घरों में से सैंकड़ों मन घी दूध फैला दिया गया, जिससे गांव में सड़ांध फैल गई। जो मिला उसी को मारा और गिरफ्तार कर लिया गया। एक प्रकार से पूर्ण मार्शल-लॉं की सी दशा कर दी। यह सब कुछ वेब साहब के पहुंचने पर हुआ। उसके बाद जो पुलिस वाले गांव में रही हुई अकेली स्त्रियों को काफी तंग किया।

सीकर गोलीकांड पर विचार

ठाकुर देशराज[16] ने लिखा है .... रानीगंज में मारवाड़ी संघ की बैठक: रानीगंज 30 अप्रैल 1934: आज राजस्थानी मारवाड़ी संघ की एक बैठक हुई जिसमें सीकर की भयानक स्थिति पर विचार किया गया। मीटिंग में निम्न आशय के प्रस्ताव पास किए गए - “मारवाड़ी संप्रदाय को सीकर से भयानक समाचार मिल रहे हैं। जहां पुलिस के जाट किसानों से मुठभेड़ के कारण पुलिस की गोली से 37 जाट मारे गए हैं। बाद में गांव लूट


[पृ.287]: लिए गए हैं और औरतों पर भी जुल्म भी जुल्म ढाये गए हैं। अतएव मारवाड़ी एसोसिएशन कांग्रेस असेंबली के सदस्यों और जनता की दूसरी संस्थाओं से अपील करता है कि वह घटना स्थल पर अपने प्रतिनिधि भेजकर घटना की शीघ्र जांच कराएं। जिससे आतंकग्रस्त जनता को शांति मिले। सीकर जिले के भैरूपुरा तथा कुदन में जो लूट खसोट हुई है तथा वहां के ग्रामीणों के साथ साथ औरतों का जिस तरह से अपमान किया गया है उसकी ओर एसोसिएशन सरकार का भी ध्यान आकर्षित करती है और इस पर जोर देती है कि उनकी विपत्तियों को को दूर करने के लिए वह शीघ्र अति शीघ्र कार्यवाही करें।" (लोकमान्य 3 मई 1935)

25 अप्रेल 1935 को कूदन में क्रूरता का तांडव

नोट - यह सेक्शन राजेन्द्र कसवा की पुस्तक मेरा गाँव मेरा देश (वाया शेखावाटी), प्रकाशक: कल्पना पब्लिकेशन, जयपुर, फोन: 0141 -2317611, संस्करण: 2012, ISBN 978-81-89681-21-0, P. 134-152 से साभार लिया गया है.

यह वास्तविकता है कि कूदन पूरी सीकर वाटी का चेतना केंद्र बन गया था. कूदन में ही कालूराम सुंडा तथा गणेशराम महरिया जैसे किसान नेता थे. पृथ्वी सिंह गोठड़ा का कूदन में ससुराल था. (राजेन्द्र कसवा, p.134)

कैप्टन वेब 25 अप्रेल 1935 को कूदन पहुंचा तो वहां आस-पास के गाँवों से बड़ी संख्या में जाट एकत्रित हो गए थे और राजस्व अधिकारियों को लगान वसूल नहीं करने दिया और विरोध को तैयार हो गए. (राजेन्द्र कसवा, p.136)

25 अप्रेल 1935 को कूदन में ग्रामीणों ने देखा कि सैंकड़ों घुड़सवारों ने गाँव को चारों और से घेर लिया है. अन्य गाँवों के बहुत से किसान उपस्थित थे. आन्दोलन का नेतृत्व कूदन ही कर रहा था. भीड़ ने आम सभा का रूप ले लिया. कुछ देर पश्चात रियासती पुलिस के दो सिपाही बखाल में पानी भरने के लिए गाँव के कुए पर आये. गाँव वालों ने उनको पानी भरने से रोक दिया. उसी समय तहसीलदार वगैरह भी आ गए. कुए के निकट ही धर्मशाला है. उसमें बैठकर तहसीलदार ने गाँव के प्रमुख व्यक्तियों को बुलाया. लगान के मुद्दे पर देर तक बात चली और यह सहमती बनी कि लगान चुका देंगे.(राजेन्द्र कसवा, p.137)

धापी दादी का विद्रोह - जिस वक्त धर्मशाला में गाँव के प्रमुख व्यक्तियों के साथ बातचीत चल रही थी, उसी समय गाँव की एक दबंग महिला धापी दादी अपनी भैंस को पानी पिलाने कुए पर आई थी. उसने सुना कि लगान सम्बन्धी चर्चा चल रही है, तो वह कुछ देर खड़ी रही. तभी बातचीत करके गाँव के चौधरी धर्मशाला से बहार निकले. किसी के पूछने पर चौधरियों ने जवाब दिया, 'हाँ हम लगान चुकाने की हामी भर आये हैं'. यह वाक्य धापी ने सुना तो उसके तन-मन में जैसे आग लग गयी. उसके हाथ में भैंस हांकने वाली कटीली छड़ी थी. धापी ने क्रोध में आकर एक छड़ी चौधरी पेमाराम के सर पर मारी और आवेश में आकर उसे अपशब्द कहे. पेमाराम का साफा कटीली छड़ी के साथ ही धापी के हाथ में आ गया. पेमा राम इस आकस्मिक वार से हक्का-बक्का रह गया और जान बचाने के लिए धर्मशाला की और दौड़ा. पेमा राम को भागकर धर्मशाला में घुसते लोगों ने देखा. धापी दादी छड़ी में उलझे पेमाराम के साफे को लहरा-लहरा कर पूछ रही थी, 'इन दो चार लोगों को किसने अधिकार दिया कि वे बढ़ा हुआ लगान चुकाने की हामी भरें?' सभी ने धापी दादी के प्रश्न को जायज ठहराया.(राजेन्द्र कसवा, p.138)

वास्तव में धापी दादी की बात सही थी. लगान चुकाने का फैसला किसान पंचायत ही कर सकती थी. चौधरियों को तो यों ही लगान में हिस्सा मिलता था. उपस्थित जन समुदाय क्रोधित हो गया. धापी दादी ने आदेश दिया, 'मेरा मूंह क्या देख रहे हो इन चौधरियों को पकड़कर धर्मशाला से बाहर ले जाओ.' बाहर शोर बढ़ रहा था. धर्मशाला में बैठे तहसीलदार, पटवारी, अन्य कर्मचारी और गाँव के चौधरी भय से थर-थर कांपने लगे. उन्हें लगा कि यह भीड़ अब उनकी पिटाई करेगी. चौधरियों ने तहसीलदार सहित कर्मचारियों को बगल के पंडित जीवनराम शर्मा के घर में छुपा दिया. इस भागदौड़ में ग्रामीणों ने एक सिपाही को पकड़कर पीट दिया जो ग्रामीणों को अपमानित कर रहा था.(राजेन्द्र कसवा, p.138)

किसान और रियासती पुलिस आमने सामने -कूदन गाँव के दक्षिण में सुखाणी नाम की जोहड़ी है. जोहड़ी क्या, विशाल सार्वजनिक मैदान जैसा भूखंड था, उसमें किसानों का विशाल जनसमूह खड़ा था. कुछ ही दूरी पर रियासत और रावराजा की पुलिस खड़ी थी. दृश्य कुछ वैसा ही था, जैसे युद्ध के मैदान में सेनाएं आमने-सामने खड़ी हों. अधिकांश किसान निहत्थे थे. सामने घुड़सवार पुलिस थी. जाहिर था यदि हिंसा हुई तो किसान मरे जायेंगे. यही सोच कर पृथ्वीसिंह गोठडा जनसमूह के बीच गए और समझाया, 'हम हिंसा से नहीं लड़ेंगे. हम शांतिपूर्ण विरोध करेंगे.'(राजेन्द्र कसवा, p.139)

कैप्टन वेब द्वारा फायरिंग का हुक्म - कैप्टन वेब ने जनसमूह को तितर-बितर होने का आदेश दिया और साथ ही बढ़े हुए लगान को चुकाने का हुक्म दिया. वेब की चेतावनी का किसानों पर कोई असर नहीं हुआ. वे अपनी जगह से हिले नहीं. मि. वेब ने निहत्थे किसानों पर गोली चलाने का हुक्म दे दिया. जनसमूह में कोहराम मच गया. लोग इधर-उधर भागने लगे. चीख-पुकार मच गयी. जब तूफ़ान रुका तो पता लगा कि पुलिस की गोली से निकटवर्ती गाँव गोठड़ा के चेतराम, टीकूराम, तुलछाराम एवं अजीतपुरा गाँव के आशाराम पिलानिया शहीद हो गए. सचमुच गाँव का चारागाह मैदान युद्ध स्थल बन गया. (राजेन्द्र कसवा, p.139)

इसी बीच जयपुर रियासत की सशत्र पलिस आ धमकी. दिन के 12 बजे कैप्टन वेब एवं एक अन्य अधिकारी बापना सहित 500 पुलिस के सिपाही कूदन गाँव के उस चौक में आये, जहाँ छाछ-राबड़ी की कड़ाही अब भी रखी थी और बड़ी परात में रोटियां थीं. लेकिन उपस्थित जनसमूह नहीं था. गोलीकांड के बाद काफी किसान एक चौधरी कालूराम सुंडा के घर पर एकत्रित हो गए थे. यह बात गाँव कूदन के ही राजपूत सिपाही मंगेजसिंह को पता थी. चौधरी कालूराम सुंडा के घर के दरवाजे पर कैप्टन वेब खड़ा हो गया. चौधरी कालूराम अपनी हवेली के प्रथम मंजिल के कमरे में थे, अंग्रेज अफसर ने कड़क आवाज में हुक्म दिया, 'कालू राम नीचे आओ.'(राजेन्द्र कसवा, p.139)

चौधरी कालूराम नीचे नहीं आये. जब पुलिस हवेली पर चढ़ने लगी तो छत से भोलाराम गोठड़ा ने राख की हांड़ी कैप्टन वेब की और फैंकी वेब ने गुस्से में आकर तुरंत गोली चला दी गोली का निशाना तो चूक गया लेकिन भोलाराम गोठड़ा के चेहरे पर गोली के कुछ छर्रे लगे. इसके पश्चात् वेब खुद छत पर गया. वेब ने ऊपर से किसी हमले की आशंका के परिपेक्ष्य में सर पर एक छोटी खात रखी और छत पर चढ़ गया. ऊपर चढ़े सभी किसानों को गिरफ्तार कर लिया. गाँव कूदन के ही राजपूत सिपाही मंगेजसिंह ने चौधरी कालू राम को गिरफ्तार कर बेब को सौंपा. वेब के हुक्म के अनुसार कालू राम को दोनों हाथ बांध कर पूरे कूदन में घुमाया. कालू राम के घर काम करने वाले चूड़ाराम बलाई को भी गिरफ्तार कर लिया. (राजेन्द्र कसवा, p.140)

राख फैंकने की घटना से अपमानित कैप्टन वेब ने चीख कर हुक्म दिया, 'घर-घर की तलासी लो !' 'कूदन गाँव को जलादो !!' (राजेन्द्र कसवा, p.140)

पुलिस के सिपाही घर-घर में घुसने लगे. घरों की तलासी ली जाने लगी. जो भी पुरुष दिखाई दिया, उसे गिरफ्तार कर लिया. कूदन का ठाकुर सिपाही मंगेजसिंह तलासी लेने और महिलाओं को धमकाने में सबसे आगे था. उनके अमूल्य सामान को नष्ट करने में मजा आ रहा था. किसानों के घरों में घी की भरी हुई हांड़ी रखी थी. मंगेज सिंह जिस भी घर में घुसता, सबसे पहले वह घी की मटकी उठाता और फर्श पर जोर से मारता. किसान के लिए अमृत बना घी फर्श पर बहने लगा. सामान घरों से निकला गया, बर्तन-भांडे तोड़े गए एवं लुटे गए. घरों में फैलाये गए दूध और घी की सड़ांध से पूरा गाँव महक गया. (राजेन्द्र कसवा, p.140)

एक किसान का घर बंध था. पुलिस ने भूराराम खाती को बुलाया और कहा, 'इस किवाड़ को तोड़ दो.' भूरा राम ने आदेश मानने से इनकार कर दिया. उसे गिरफ्तार कर लिया. (राजेन्द्र कसवा, p.140)

25 अप्रेल 1935 को कुल 106 किसानों को गिरफ्तार किया गया. अधिकांश को देवगढ़ जेल में 81 दिन तक बंद रखा गया. कुल 106 में से 57 किसान कूदन गाँव के थे. गिरफ्तार लोगों में 13 वर्ष से 70 वर्ष तक के लोग थे. सीकर उपकारागार के रिकोर्ड के अनुसार दो को छोड़ सभी जाट थे. कालूराम के घर काम करने वाला चूड़ाराम बलाई एक मात्र दलित था. दूसरा भूराराम खाती था. (राजेन्द्र कसवा, p.141-142)

इस संघर्ष में कूदन के जिन किसानों ने आगे बढ़कर भाग लिया और अंत तक गिरफ्तार नहीं हुए, उनमें प्रमुख थे - गोविन्द राम, मुकन्दा राम, गोरु राम, सुखदेवा राम एवं रामू राम.(राजेन्द्र कसवा, p.144)


चौधरी शिवबक्स महरिया - सन 1935 में भी कूदन गाँव में करीब दस हवेलियाँ थी. सभी हवेलियों के दरवाजे गोलीकांड के दिन बंद थे. लेकिन मुख्य चौधरी शिवबक्स महरिया की हवेली खुली. यहाँ भय के कोई चिन्ह नहीं थे. शिवबक्स रावराजा सीकर का अतिविश्वस्नीय व्यक्ति था. गोलीकांड के बाद गाँव की हालत ख़राब हो गयी थी. शिवबक्स महरिया ने स्वयं ने पूरे गाँव का लगान चुका दिया था. बाद में शांति होने पर गाँव वालों ने एक-एक करके सबका लगान शिवबक्स महरिया को दे दिया था. शिवबक्स महरिया के कोई संतान नहीं थी. उन्होंने अपने भाई के बेटे राम देव सिंह को गोद लिया जो आगे चलकर राजस्थान सरकार में मंत्री बने . (राजेन्द्र कसवा, P. 143)

जिस भांति झुंझुनूवाटी में चौधरी मोहन राम जागीरदारों के चहेते थे, वैसे ही सीकरवाटी में, रावराजा के प्रिय चौधरी नाथाराम महरिया थे. इसी परंपरा को उनके बेटे शिवबक्स ने निभाया. शिवबक्स कूदन के बेताज बादशाह थे. गाँव में सुंडा गोत्र के जाट अधिक संख्या में हैं. महरिया और सुंडा में हमेशा प्रतिस्पर्धा चलती रही है. लेकिन शिवबक्स महरिया के ऊँचे रसूख के कारण वे सुन्डाओं पर भारी पड़ते थे. महरिया एक 'पोली' के भीतर रहते थे जिसे 'महरिया पोली' कहा जाता था. आज भी इस पोली के अवशेष स्मारक के रूप में सुरक्षित हैं. जिस भांति अंग्रेजों के समय 'राय साहब' 'राय बहादुर' अथवा 'सर' के ख़िताब वाले उच्च वर्ग के लोग समझे जाते थे, वैसे ही सीकरवाटी में कुदन के महरिया, विशेष रूप से नाथाराम के वंशज गढ़ों और महलों में प्रसिद्धि प्राप्त करते रहे. किसान वर्ग में रहते हुए भी महरिया परिवार किसानों से अलग रहते एवं उन में उच्च वर्ग की भावना थी. महरिया परिवारों का आदि पुरुष किसना महरिया थे, जिसकी छतरी अब भी कूदन में मौजूद है. किसनाराम के दो बेटे थे - भींवाराम और बोयतराम. भींवाराम के चार पुत्र थे- भानाराम, मोटाराम, गुमानाराम और न्योलाराम. इन चारों ने 25 -25 रुपये खर्च कर किसनाराम की छतरी बनाई थी. चारों भाईयों की हवेलियाँ काफी पुराणी हैं जिनसे इस परिवार की समृद्धि का पता लगता है. कूदन के महरिया इन्हीं की वंश-बेल हैं. (राजेन्द्र कसवा, P. 144)


सीकर वाटी में सामंतों से संघर्ष करने वालों में कूदन के किसान गणेशराम महरिया का नाम आज भी श्रद्धा के साथ लिया जाता है. वर्तमान पीढ़ी 'गणेश दादा' के नाम से याद करती है. गणेश राम महरिया का नाम स्वतंत्रता सेनानियों की सूचि में नहीं है जबकि वे किसान आन्दोलन की अगली कतार में थे. उनके पुत्र हरिप्रसाद महरिया ने बताया कि कूदन के गोलीकांड के दिन सब घरों के दरवाजे बंद हो गए थे. लेकिन महरिया की पोली के भीतर एक हवेली बेधड़क खुली थी. वह थी शिवबक्ष महरिया की हवेली. (राजेन्द्र कसवा, P. 146)


एक अन्य किसान ने 25 अप्रेल 1935 की घटना का वर्णन करते बताया कि धापी दादी के झाड़वार को झेलकर जब पेमा दादा धर्मशाला में गया तो पूरा सरकारी अमला चौकन्ना हो उठा. एक सिपाही नंगी तलवार लेकर, धर्मशाला के गेट पर पहरा देने लगा. गाँव के गुवाड़ से बहुत से किसान लाठियां लेकर धर्मशाला की और चल पड़े. सिपाही का ध्यान इस जत्थे की और था. तभी गोरु राम कोलीड़ा ने पीछे से घात लगाकर सिपाही की तलवार छीन ली. सिपाही को जमीन पर गिरा दिया. तहसीलदार भाग कर पंडित जीवनराम की हवेली में छुप गया. कहा जाता है कि धापी दादी ने एक सिपाही के भी लाठी मारी थी. गोलीकांड के बाद पूरे गाँव में चीख-पुकार सुनाई देने लगी थी. पुरुषों में भगदड़ मच गयी थी. कोलीड़ा गाँव का नारायण मील भाग कर एक ऊँचे खेजड़ी के पेड़ पर चढ़ गया. उस पर गोली चलाई परन्तु तने की आड़ में बच गया. (राजेन्द्र कसवा, P. 143)


पालड़ी गाँव का एक किसान लाठी लेकर, गाँव के गुवाड़ से भाग छूटा. एक घुड़ स्वर की उस पर नजर पडी. घोड़े को दौड़ाते हुए उसने दूर से किसान को चेतावनी दी, 'लाठी फेंक दो, नहीं तो गोली मार दी जाएगी.' किसान अनसुना करता चलता रहा. तब तक घुड़ स्वर उसके नजदीक आ गया. अकस्मात् ही किसान पीछे मुड़ा और घोड़े की नाक पर लाठी का वार कर दिया. इस वार से घोडा बेकाबू हो गया और जिधर से आया था, उसी दिशा में पलट कर पूरे वेग से दौड़ गया. किसान की युक्ति काम आई. वह भी पूरी शक्ति से , जूती हाथों में ले, अपने गाँव की और भाग छूटा. (राजेन्द्र कसवा, P. 144)


कूदन गाँव के लादूराम पुत्र हनुमानाराम महरिया का ब्याह निश्चित हो गया था. इसी बीच कूदन गोलीकांड हो गया. हनुमानाराम महरिया जेल चला गया. तब लादूराम के ननिहाल वालों ने निश्चित तिथि पर लादूराम की बारात बनाई और शादी करने चल पड़े. लादूराम का ननिहाल सांखू गाँव में था. (राजेन्द्र कसवा, P. 144)


83 वर्षीय रामेश्वर सुंडा ने बताया कि उन दिनों गाँव-गाँव में जन जागरण अभियान चरम पर था. भूरसिंह बडसरा गांववालों को निर्भीक बनाने का आव्हान करते. आगे चलकर द्वितीय विश्व युद्ध शुरू हो गया तो गाँवों में अंग्रेजों की हार की कामना की जाती. नवयुवक दो दल बनाते. एक अंग्रेजों का दूसरा जर्मन का. नकली लड़ाई लड़कर अंग्रेजों की हार का प्रदर्शन किया जाता. (राजेन्द्र कसवा, P. 142)

अत्याचारों की देश और विदेशों में सर्वत्र चर्चा

सन्दर्भ :डॉ पेमाराम: शेखावाटी किसान आन्दोलन का इतिहास, 1990, p.121-123

कूदन काण्ड व सीकर के गाँवों में होने वाले अत्याचारों की चर्चा देश में फ़ैल गयी. कूदन काण्ड ऐसी घटना नहीं रही जिस पर सिर्फ जाटों ने ही आंसू बहाए. मानव मात्र से जिसे प्रेम था वे लोग विचलित हुए. उन्होंने जगह-जगह बैठकें कर शोक व्यक्त किया. मारवाड़ी संघ रानीगंज (बंगाल) ने 30 अप्रेल 1935 को अपनी मीटिंग में प्रस्ताव पास करते हुए लिखा कि यह संघटन कांग्रेस एसेम्बली के सदस्यों और जनता की दूसरी संस्थाओं से अपील करता है कि वे घटनास्थल पर अपने प्रतिनिधि भेजकर घटना की शीघ्र जाँच करावें जिससे आतंकग्रस्त जनता को शांति मिल सके. [लोकमान्य 3 मई 1935 ]

सीकरवाटी जाट पंचायत के सरपंच हरीसिंह बुरडक ने भारत सरकार से प्रार्थना करते हुए सारे मामले की जाँच करने के लिए एक निष्पक्ष आयोग नियुक्त करने की मांग की. [दी फ्री प्रेस जर्नल 29 मई 1935 , पृ.3] कुंवर हुकुमसिंह, अध्यक्ष, अखिल भारतीय जाट महासभा, अलीगढ ने भारत सरकार से मांग की कि वह सारा मामला अपने हाथ में लेकर सीकर के किसानों विशेषकर खुड़ी, कूदन, भैरोपुर , गोठडा आदि पर की गयी ज्यादतियों की जांचकर उनकी वाजिब शिकायतों को दूर करने का प्रयत्न करे. [दी हिंदुस्तान टाइम्स 3 मई 1935 , पृ. 13]

पाठ्यपुस्तकों में स्थान

शेखावाटी किसान आंदोलन ने पाठ्यपुस्तकों में स्थान बनाया है। (भारत का इतिहास, कक्षा-12, रा.बोर्ड, 2017)। विवरण इस प्रकार है: .... सीकर किसान आंदोलन में महिलाओं की महत्वपूर्ण भूमिका रही। सीहोट के ठाकुर मानसिंह द्वारा सोतिया का बास नामक गांव में किसान महिलाओं के साथ किए गए दुर्व्यवहार के विरोध में 25 अप्रैल 1934 को कटराथल नामक स्थान पर श्रीमती किशोरी देवी की अध्यक्षता में एक विशाल महिला सम्मेलन का आयोजन किया गया। सीकर ठिकाने ने उक्त सम्मेलन को रोकने के लिए धारा-144 लगा दी। इसके बावजूद कानून तोड़कर महिलाओं का यह सम्मेलन हुआ। इस सम्मेलन में लगभग 10,000 महिलाओं ने भाग लिया। जिनमें श्रीमती दुर्गादेवी शर्मा, श्रीमती फूलांदेवी, श्रीमती रमा देवी जोशी, श्रीमती उत्तमादेवी आदि प्रमुख थी। 25 अप्रैल 1935 को राजस्व अधिकारियों का दल लगान वसूल करने के लिए कूदन गांव पहुंचा तो एक वृद्ध महिला धापी दादी द्वारा उत्साहित किए जाने पर किसानों ने संगठित होकर लगान देने से इनकार कर दिया। पुलिस द्वारा किसानों के विरोध का दमन करने के लिए गोलियां चलाई गई जिसमें 4 किसान चेतराम, टीकूराम, तुलसाराम (तीनों गोठड़ा के) तथा आसाराम (अजीतपुरा) शहीद हुए और 175 को गिरफ्तार किया गया। हत्याकांड के बाद सीकर किसान आंदोलन की गूंज ब्रिटिश संसद में भी सुनाई दी। जून 1935 में हाउस ऑफ कॉमंस में प्रश्न पूछा गया तो जयपुर के महाराजा पर मध्यस्थता के लिए दवा बढ़ा और जागीरदार को समझौते के लिए विवश होना पड़ा। 1935 ई के अंत तक किसानों के अधिकांश मांगें स्वीकार कर ली गई। आंदोलन नेत्रत्व करने वाले प्रमुख नेताओं में थे- सरदार हरलाल सिंह, नेतराम सिंह गौरीर, पृथ्वी सिंह गोठड़ा, पन्ने सिंह बाटड़ानाउ, हरु सिंह पलथाना, गौरू सिंह कटराथल, ईश्वर सिंह भैरूपुरा, लेख राम कसवाली आदि शामिल थे। [17]

Gallery

Notable persons

External links

References

  1. SIKAR (Thikana)
  2. Princely States Report
  3. Princely States Report
  4. Amrit Bazar Patrika, April 4, 1935; Statesmen, April 4 and 18, Mayj2 and 16, June 6, 1935; Times (London), April 30 and July 5, 1935. Barnett R. Rubin, Feudal Revolt
  5. Princely States Report
  6. Thakur Deshraj:Jat Jan Sewak,1949, p.1, 4-6
  7. रणमल सिंह के जीवन पर प्रकाशित पुस्तक - 'शताब्दी पुरुष - रणबंका रणमल सिंह' द्वितीय संस्करण 2015, ISBN 978-81-89681-74-0 पृष्ठ 113-114
  8. रणमल सिंह के जीवन पर प्रकाशित पुस्तक - 'शताब्दी पुरुष - रणबंका रणमल सिंह' द्वितीय संस्करण 2015, ISBN 978-81-89681-74-0, पृष्ठ 57, 121
  9. राजेन्द्र कसवा: मेरा गाँव मेरा देश (वाया शेखावाटी), जयपुर, 2012, ISBN 978-81-89681-21-0, P. 148
  10. Rajendra Kaswan: Mera Gaon Mera Desh, Jaipur, 2012, ISBN 978-81-89681-21-0, p.144
  11. Rajendra Kaswan: Mera Gaon Mera Desh, Jaipur, 2012, ISBN 978-81-89681-21-0, p.144-145
  12. Rajendra Kaswan: Mera Gaon Mera Desh, Jaipur, 2012, ISBN 978-81-89681-21-0, p.143
  13. Thakur Deshraj: Jat Jan Sewak, 1949, p.253-255
  14. Thakur Deshraj: Jat Jan Sewak, 1949, p.277
  15. Thakur Deshraj: Jat Jan Sewak, 1949, p.280-81
  16. Thakur Deshraj: Jat Jan Sewak, 1949, p.286-87
  17. भारत का इतिहास कक्षा 12, माध्यमिक शिक्षा बोर्ड राजस्थान, 2017, लेखक गण: शिवकुमार मिश्रा, बलवीर चौधरी, अनूप कुमार माथुर, संजय श्रीवास्तव, अरविंद भास्कर, p.155
  18. Thakur Deshraj:Jat Jan Sewak, 1949, p.495-496
  19. रणमल सिंह के जीवन पर प्रकाशित पुस्तक - 'शताब्दी पुरुष - रणबंका रणमल सिंह' द्वितीय संस्करण 2015, ISBN 978-81-89681-74-0, पृष्ठ 117

Back ti Jat Villages