Lohargal

From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search
Lohargal Bawdi

Lohargal (लोहार्गल) is a beautiful place of great tourist interest, situated in the Jhunjhunu District, Rajasthan. It is famous for its natural scenic beauty. Lohargal is 68 km from Jhunjhunu via Nawalgarh and Udaipurwati. It is situated at a distance of 10 km from Udaipurwati.

History

Lohargal has great historical importance – regarded as the place of Bhima, one of the heroes of the great epic of India – the Mahabharata. The holy shrine of Lohargal is situated at the foot hills of the Aravalli Ranges.

In the Varāha Purana, a place named Lohārgala is stated to be ruled over by the Mleccha kings. [1]

There is a holy water tank at Lohargal, where pilgrims who cannot afford to go all the way to Varanasi come to wash away their sins. According to myth a mighty and huge army of Pandavas came to bathe here after their glorious victory on the battle fields only to find that their weapons and armours dissolved in the water. The literal meaning of Lohargal is Loha (Iron)+Gal (To melt), means that melts the iron.

Other tourist attractions worth visiting include Malket, Barkhandi, Gyan Bawari, Bhim Kund and Chetan Das Bawari. A large fair, held here every year from Krishna Janmashtami to Amawashya, is a major draw.

The nearest bus station is at Golyana. Regular buses are available to Nawalgarh, Udaipurwati and Sikar.

Shri Navrang Singh Jakhar along with Sahib Singh Verma, the Chief Minister of Delhi inaugurated the Lohargal Jat Dharmsala on 30 June 2004. The attempts of Navrang Singh Jakhar to develop this site have succeeded in making it a good centre for tourist attraction.

हिंदी में जानकारी

राजस्थान के शेखावटी इलाके के झुंझुनूं जिले से 70 कि. मी. दूर आड़ावल पर्वत की घाटी में बसे उदयपुरवाटी कस्बे से करीब दस कि.मी. की दूरी पर स्थित है लोहार्गल। जिसका अर्थ होता है जहां लोहा गल जाए। पुराणों में भी इस स्थान का जिक्र मिलता है। झुंझुनू जिले में अरावली पर्वत की शाखाये उदयपुरवाटी तहसील से प्रवेश कर खेतडी, सिंघाना तक निकलती है, जिसकी सबसे उंची चोटी 1050 मीटर लोहार्गल में है ।

महाभारत युद्ध समाप्त हो चुका था, पर पांडव स्वजनों की हत्या के पाप से व्यथित थे। श्री कृष्ण के निर्देश पर वह सभी तीर्थ स्थलों के दर्शन करते भटक रहे थे। श्री कृष्ण ने उन्हें बताया था कि जिस तीर्थ में तुम्हारे हथियार पानी में गल जायेंगे वहीं तुम्हारा मनोरथ पूर्ण होगा। घूमते-घूमते पांण्ड़व लोहार्गल आये तथा जैसे ही उन्होंने यहां के सूर्य कुंड़ में स्नान किया उनके सारे हथियार गल गये। उन्होंने इस स्थान की महिमा को समझ इसे तीर्थ राज की उपाधी से विभूषित किया। फिर शिव जी की आराधना कर मोक्ष की प्राप्ति की।

लोहार्गल में सिर्फ पांडवों ने ही कुल हत्या का पाप नहीं धोया था, बल्कि ये जगह गवाह है परशुराम के पश्चाताप की भी. विष्णु के छठें अंशअवतार परशुराम ने क्रोध में क्षत्रियों का संहार कर दिया था, लेकिन शांत होने पर उन्हें अपनी गलती का अहसास हुआ.

पहले यहां सिर्फ साधू-सन्यासी ही रहा करते थे, पर अब गृहस्थ लोग भी रहने लगे हैं। यहां एक बहुत विशाल बावड़ी है जो महात्मा चेतन दास जी ने बनवाई थी, यह राजस्थान की बड़ी बावड़ियों में से एक है। साथ के पहाड़ पर प्राचीन सूर्यमंदिर बना हुआ है। साथ ही वनखंड़ी जी का मंदिर है। कुंड़ के पास ही प्राचीन शिव मंदिर, हनुमान मंदिर तथा पांड़व गुफा स्थित है। इनके अलावा चार सौ सीढियां चढने पर मालकेतु जी के दर्शन किये जा सकते हैं। यहां समय-समय पर मेले लगते रहते हैं। हज़ारों नर-नारी यहां आ कुण्ड़ में स्नान कर पुण्य लाभ प्राप्त करते हैं।

लोहार्गल एक प्राचीन, धार्मिक, ऐतिहासिक स्थल है। लोगों की इसके प्रति अटूट आस्था भी है। भक्तों का यहां आना-जाना लगा रहता है फिर भी इस क्षेत्र की हालत सोचनीय है। सरकार की ओर से पूर्णतया उपेक्षित इस जगह पर प्राथमिक सुविधाएं भी उपलब्ध नहीं हैं। चारों ओर गंदगी का आलम है। पशु-मवेशी खुले आम घूमते रहते हैं। सड़कों की हालत दयनीय है। नियमित बस सेवा भी उपलब्ध नहीं है। रहने खाने का भी कोई माकूल इंतजाम नहीं है। यदि इस ओर थोड़ा सा भी ध्यान पर्यटन विभाग दे तो यहां देशी-विदेशी पर्यटकों का आना शुरु हो सकता है।

भूतपूर्व विधायक नवलगढ़ श्री नवरंग सिंह ने ३० जून २००४ को दिल्ली के मुख्यमंत्री श्री साहिब सिंह वर्मा के साथ जाट धर्मशाला लोहार्गल का उद्घाटन किया. आपके प्रयास से इस स्थल को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने के लिए गति प्रदान की गई.

Population

As per Census-2011 statistics, Lohargal village has the total population of 1470 (of which 766 are males while 704 are females).[2]

Notable Persons

External Links

References


Back to Jat Villages