Mahendra Singh Tomar

From Jatland Wiki
Jump to navigation Jump to search
Shahid Mahendra Singh Tomar

Mahendra Singh Tomar (Sep) from village Jadaupur, tahsil Mahaban, district Mathura, Uttar Pradesh, became martyr in Indo-Pak War-1971 on 22.12.1971 fighting on the border of Jammu and Kashmir. His brother Sonpal Singh Tomar also became martyr on 16.12.1971. He was in 9 Jat Regiment.

जीवन परिचय

सिपाही महेन्द्र सिंह तोमर (जाट)

No. - 3158939 Y

यूनिट - 9 जाट रेजिमेंट

युद्ध ऑपरेशन / भारत-पाक युद्ध 1971/ऑपरेशन - कैक्टस लिली

सिपाही महेन्द्र सिंह तोमर का जन्म उत्तर प्रदेश के मथुरा जिले की महाबन तहसील के गाँव जादोपुर में पिता श्री मान सिंह व माता श्रीमती हरदेवी जी के परिवार में हुआ। महेन्द्र सिंह अपने दो भाईयों सोनपाल सिंह व छोटे लाल सिंह के साथ भारतीय सेना की 9 जाट रेजिमेंट में शामिल हुए थे। ये अविवाहित थे।

भारत-पाक युद्ध में 22 दिसंबर 1971 सिपाही महेन्द्र सिंह जम्मू-कश्मीर में लड़ते हुए वीरगति को प्राप्त हुए। इनके बलिदान के 7 दिन पहले इनके बड़े भाई सोनपाल सिंह 16 दिसम्बर 1971 बलिदान हुए थे। तीनों भाई एक साथ फौज में भर्ती हुए, और दो भाईयों ने अपना सर्वोच्च बलिदान दिया।

भारत की एकता और अखंडता पर बलिदान हुए भारत मां के वीर सपूत महेन्द्र सिंह को शत्-शत् नमन।

External links

Gallery

References



Back to The Martyrs