Masudpur Hansi

From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search

For other similar village-names, see Masood Pur.


Masudpur Hansi (मसूदपुर) is a village in Hansi Tehsil of Hisar district of Haryana. It is a site of Indus Valley Civilization.

Location

Origin

Founder

Site of Indus Valley Civilization

Sisai is an Indus Valley Civilization site with three mounds Sisai 1, Sisai 2 and Sisai 2.

Bolstering the status of Rakhigarhi as the largest Indus Valley Civilization metropolis on the banks of Drishadvati river (current day paleochannel of Chautang), at least 23 other Indus Valley Civilization sites within 5 km (at 4 sites), 10 km (at least 10 sites) and 15 km (at least 9 sites) radius of Rakhigarhi have been discovered till 2001. Some of the raw materials were procured from the nodal Rakhigarhi site and finished products were brought back to the nodal Rakhigarhi site for marketing.[2]

Within 5 km radius are early Harappan (4600 BCE - 2800 BCE site of Gamra and mature Harappan (2600 BCE - 1400 BCE sites of Budana, Haibatpur and Lohari Ragho 3.[3]

Within 5 km to 10 km radius, early Harappan sites are Lohari Ragho 1, Lohari Ragho 2 and Kheri Lochab-Kheri Jalab. Mature Harappan small farmstead sites are Milakpur and Gunkali. Small farmstead sites of Kinnar, Nara and Mirchpur have material from both mature and late Harappan period. late Harappan (after 1400 BCE) sites are Sotha and Gandaswala Khera.[4]

Within 5 km to 10 km radius are early, mature and late Harrpan sites. To the north-west of Rakhigarhi are Panhari, Gyanpura, Sotha, Kagsar, Sulchani and south-west of Rakhigarhi are Sisai 1, 2 and 3, Rajpura 2, Pali and Masudpur.[5]

History

इतिहास

जयपुर रियासत के शेखावाटी भाग में गूगौर और बागौर नाम के दो गाँव थे। इनके स्वामी जयपरतनामी चौहान थे। जयपरतनामी के 4 पुत्र हुये 1. जाटू, 2. सतरोल, 3. राघू, और 4. जरावता. जाटू का विवाह सिरसा नगर के सरोहा गोत्री ठाकुर की पुत्री के साथ हुआ। जाटू के दो पुत्र हुये पाड़ और हरपाल। पाड़ ने राजली ग्राम बसाया जो अब जिला हिसार में पड़ता है। [p.11] राजली सारा जाटों का गाँव है जिसके स्वामी भी जाट हैं। हरपाल ने गुराणा गाँव बसाया जो राजली के पास ही है। यह ग्राम भी जाटों का है। [6]

चेतंग नदी, जो यमुना से निकलती है, के किनारे पर जाटों के अनेक गाँव हैं। इन गांवों को सतरोला ने बसाया इसीलिए इनको सतरौले बोलते हैं जिनमें सामिल हैं – नार नाद, भैनी, पाली, खांडा, बास, पेट वाड़, सुलचाणी, राजथल आदि प्रसिद्ध गाँव हैं। यहाँ सतरोला का खेड़ा भी है। इसीसे यह प्रमाणित होता है कि ये सारे गाँव सतरोला ने बसाये। इन सारे ग्रामों का स्वामी सतरौला था। [7]


तहसील हांसी जिला हिसार में जाटों का सिसाय नाम का बड़ा गाँव है। इस ग्राम के स्वामी जाट हैं। इस ग्राम को राघू का ग्राम कहते हैं। डाटा, मसूदपुरा आदि और भी कई गाँव हैं जिनको राघू के ग्राम कहते हैं।ये सारे गाँव सिसाय के पास ही हैं ये सब राघू के बसाये ग्राम हैं। [8]

Jat Gotras

Population

The Masoodpur village has a population of 7980, of which 4332 are males while 3648 are females (as per Population Census 2011).[11]

Notable Persons

External Links

References


Back to Indus Valley Civilization/ Jat Villages