Mundhal

From Jatland Wiki
(Redirected from Mundhaal)
Jump to: navigation, search

Mundhal Kalan (मुंढ़ाळ कलां) and Mundhal Khurd (मुंढ़ाळ खुर्द) are twin villages in tahsil and District Bhiwani of Haryana.

Founder

Location

These twin villages are located on National Highway No. 10, between Meham and Hansi.

Origin

History

इतिहास

जयपुर रियासत के शेखावाटी भाग में गूगौर और बागौर नाम के दो गाँव थे। इनके स्वामी जयपरतनामी चौहान थे। जयपरतनामी के 4 पुत्र हुये 1. जाटू, 2. सतरोल, 3. राघू, और 4. जरावता. जाटू का विवाह सिरसा नगर के सरोहा गोत्री ठाकुर की पुत्री के साथ हुआ। जाटू के दो पुत्र हुये पाड़ और हरपाल। पाड़ ने राजली ग्राम बसाया जो अब जिला हिसार में पड़ता है। [p.11] राजली सारा जाटों का गाँव है जिसके स्वामी भी जाट हैं। हरपाल ने गुराणा गाँव बसाया जो राजली के पास ही है। यह ग्राम भी जाटों का है। [2]

हरपाल के 5 पुत्र हुये – 1. राणा, 2. आब्भा, 3. महीपाल, 4. लाखा, 5 बीलण. लाखा के 4 गाँव - 1. मुंडाल, 2. मांडेरी, 3. जताई, 4. तालू । ये सारे गाँव जिला हिसार में और जाटों के हैं। [3]

Jat Gotras

Jat Monuments

Population

Notable Persons

  • Ranbir Singh Mahendra - http://haryanaassembly.gov.in/MLADetails.aspx?MLAID=110
  • Dr. Jagwant Singh Beniwal - Ayurvedic Physician, Govt. Ayurvedic Hospital, Vpo- Mundhal,distt.-Bhiwani Haryana, Present Address : 93, Anand Nagar, Sirsi Road, Khatipura, Jaipur, Phone : 0141-2354396, Mob: 9414043753
  • Chaudhary Tek Chand of this village represented Mundhal Constituency as MLA in Haryana Vidhan Sabha.

External Links

References

  1. Jat Varna Mimansa (1910), Author: Pandit Amichandra Sharma, Published by Lala Devidayaluji Khajanchi, p.12-13
  2. Jat Varna Mimansa (1910), Author: Pandit Amichandra Sharma, Published by Lala Devidayaluji Khajanchi, pp.10-11
  3. Jat Varna Mimansa (1910), Author: Pandit Amichandra Sharma, Published by Lala Devidayaluji Khajanchi, pp.12-13

Back to Jat Villages