Narayana

From Jatland Wiki
(Redirected from Narana)
Jump to navigation Jump to search

Note - Please click → Naraina for details of similarly named villages at other places.


Author:Laxman Burdak, IFS (Retd.)

Location of Narayana in Jaipur district

Narayana (नरायणा) village is in Phulera tahsil of Jaipur district in Rajasthan.

Variants

Jat Gotras

History

Jaina sources mention that in ancient times Narayana village was known by the names Naranayana (नरानयण), Naranaka (नाराणक) etc. It is mentioned in KB (p.25). It is recognized as a tirtha in Sakalatirthastotra of Siddhasena. Dhanapala in his Satyapuria Mahavira Utsaha mentions the Mahavira temple of this place, which according to Bijolia Inscription of V.S.1226 (1170 AD), was built by an ancestor of Lolaka, who is mentioned as living in that year.It therefore appears that this temple was built in early 11th century. K.C. Jain mentions the date V.S. 1009 on a standing image of Parshvanatha of this place. [1]

Jinapala's Kharataragachchhapaṭṭavalī tells us that in V. 1239 (1182 AD) Prithviraja III started his digvijaya and on his conquest of all quartwers had pitched his first camp at Narayana. [2]

Sir H. M. Elliot[3] mentions Narána as the capital of Guzerát. When the capital of Guzerát was destroyed, the inhabitants removed to a town on the frontier. The distance between Narána and Máhúra is the same as between Máhúra and Kanauj, that is twenty-eight parasangs.

According to Sir H. M. Elliot[4]According to Abú Ríhán the town was destroyed, and the people retired far into the interior. By Firishta this invasion is assigned to the year A.H. 413, or A.D. 1022, when the king (Mahmúd), hearing that the inhabitants of two hilly tracts named Kairát and Nárdin (or Bairát and Naráyan) still continued the worship of idols (or lions in some manuscripts), resolved to compel them to embrace the Muhammadan faith. The place was taken and plundered by Amír 'Alí."]

Narána as described by Sir H. M. Elliot

Sir H. M. Elliot[5] has provided us following details:

[Extract of General Cunningham's Archœological Report for 1864-5,-Page 1.]

"In his account of the geography of Northern India, the celebrated Abú Ríhán makes the city of Narain the starting point of three different itineraries to the south, the south-west, and the west. This place has not been identified by M. Reinaud, the learned historian of ancient India, but its true locality has been accurately assigned to the neighbourhood of Jaipur. Its position also puzzled Sir H. Elliot, who says, however, that with one exception "Narwar satisfies all the requisite conditions." But this position is quite untenable, as will be seen by the proofs which I am now about to bring forward in support of its identification with Náráyan, the capital of Bairat, or Matsya.

According to the Chinese pilgrim, Hwen Tsang, the capital of the kingdom of Po-li-ye-to-lo, which M. Reinaud has identified with Páryátra, or Bairat, was situated at 500 li, or 83 2/3 miles, to the west of Mathura, and about 800 li, or 133 2/3 miles, to the south-west (read south-east) of the kingdom of She-to-tu-lo, that is, of Satadru, on the Sutlej-The bearing and distance from Mathura point unequivocally to Bairat, the ancient capital of Matsya, as the city of


[p.394]: Hwen Tsang's narrative; and this being fixed, we may identify the capital of Satadru, or the Sutlej Provinces, with the famous Fort of Hansi, which successfully resisted the arms of Mahmúd of Ghazní. According to the Tabakát-i Násirí, Hansi was the ancient capital of the Province of Siwálik, and up to the time of its capture by Mas'úd had been considered by the Hindus as impregnable.

Abú Ríhán, the contemporary of Mahmúd, places Narána, the capital of Karzát, at twenty-eight parasangs to the west of Mathura, which, taking the parasang at three and a half miles, would make the distance ninety-eight miles, or fourteen miles in excess of the measurement of Hwen Tsang. But as the narratives of the different Muhammadan historians leave no doubt of the identity of Narána, the capital of Kárzát, with Náráyana, the capital of Bairát, this difference in the recorded distance from Mathura is of little moment. According to Abú Ríhán, Narána, or Bazána,1 was called Náráyan <arabic> by the Musulmans, a name which still exists in Náráyanpur, a town situated at ten miles to the north-east of Bairat itself. From Kanauj to Narána, Abú Ríhán gives two distinct routes:-the first direct, via Mathura, being fifty-six parasangs, or 196 miles, and the other to the south of the Jumna being eighty-eight parasangs, or 308 miles. The intermediate stages of the latter route are, 1st., Asi, 18 parasangs, or 63 miles; 2nd., Sahina, 17 parasangs, or 59 1/2 miles; 3rd., Jandara (Chandrá), 18 parasangs, or 63 miles; 4th., Rajauri, either 15 or 17 parasangs, 54 or 59 1/2 miles; and 5th., Bazána, or Narána, 20 parasangs, or 70 miles. As the direction of the first stage is especially recorded to have been to the south-west of Kanauj, it may be at once identified with the Assai Ghát on the Jumna, six miles to the south of Etawa, and about sixty miles to the south-west of Kanauj. The name of the second stage is written Sahina, <arabic>, for which, by the simple shifting of the diacritical points, I propose to read Sahania, <arabic>, which is the name of a very large and famous ruined town, situated twenty-five miles to the north of Gwalior, of which some account will be given in the present report. Its distance from the Assai Ghát is about fifty-six miles. The third stage named Jandara by M. Reinaud, and Chandra by Sir Henry Elliot, I take to be Hindon, reading <arabic>. Its distance from Sahaniya by the Khetri Ghát on the Chambal river is


[p.395]: about seventy miles. The fourth stage, named Rajori, still exists under the same name, twelve miles to the south of Mácheri, and about fifty miles to the north-west of Hindon. From thence to Narainpur and Bairát, the road lies altogether through the hills of Alwar or Mácheri, which makes it difficult to ascertain the exact distance. By measurements on the lithographed map of eight miles to the inch, I make the distance to be about sixty miles, which is sufficiently near the twenty parasangs, or seventy miles of Abú Ríhán's account.

According to the other itineraries of Abú Ríhán, Narána was twenty-five parasangs to the north of Chitor in Mewár, fifty para¬sangs to the east of Multán, and sixty parasangs to the north-east of Anhalwára. The bearings of these places from Bairát are all sufficiently exact, but the measurements are more than one-half too short. For the first distance of twenty-five parasangs to Chitor, I would propose to read sixty-five parasangs, or 227 miles, the actual distance by the measured routes of the Quarter-Master General being 217 3/4. As the distance of Chitor is omitted in the extract from Abú Ríhán, which is given by Rashídu-d Dín,1 it is probable that there may have been some omission or confusion in the original of the Táríkh-i Hind from which he copied. The erroneous measurement of fifty parasangs to Multán is, perhaps, excusable on the ground that the direct route through the desert being quite impassable for an army, the distance must have been estimated. The error in the distance of Anhalwára I would explain by referring the measurement of sixty parasangs to Chitor, which lies about midway between Bairát and Anhalwára. From a comparison of all these different itineraries, I have no hesitation whatever in identifying Bazána or Narána, the capital of Karzát or Guzrat,2 with Náráyanpur, the capital of Bairát or Vairát. In Firishta the name is written either Kibrát, <arabic> as in Dow, or Kairát, <arabic> as in Briggs, both of which names are an easy misreading of <arabic> Wairát or Virát, as it would have been written by the Muhammadans.

According to Abú Ríhán the town was destroyed, and the people retired far into the interior. By Firishta this invasion is assigned to the year A.H. 413, or A.D. 1022, when the king (Mahmúd), hearing that the inhabitants of two hilly tracts named Kairát and Nárdin (or Bairát and Naráyan) still continued the worship of idols (or lions in some manuscripts), resolved to compel them to embrace the Muhammadan faith. The place was taken and plundered by Amír 'Alí."]

Taposthali of Sant Dadu Dayal

[6]Dadupanthi (दादूपंथी) sect was Founded by Dadu a Gaur Brahman, who died in 1703. Dadu was born at Ahmadabad in Guzerit, whence he migrated to Naraina 50 miles south-west of Jaipur and now the head-quarters of the sect. At the gurudwara here the Dadupanthis assemble in Phagan and thence go to Sambhar where a fair is held on the anniversary of Dadu's death. Regarding his birth, tradition avers that an aged Brahman had no son, but one day God, in the guise of an old man, told him in response to his prayers, that he would find floating on the river a box containing a male child, sucking its toe. He did so, and his wife's breasts miraculously filled with milk, so that she was able to suckle the child. When the boy was 10 years old, the aged man again appeared to the boy and gave him some betel from his own mouth, whereby all secrets were revealed to him, and the old man then named him Dadu Jiv, bidding him remain celibate and found an order of his own. Dadu then exclaimed ; Dādu gaib mahin gur dev milā, pāyā ham parshād, Mastak meri kar dharyā dekhā agam agād. " By chance I found a guru ; he gave me parshād and laid his hands upon my head, whereby all secrets were revealed to me." Didu'a death is assigned to Sbt. 1760 (1703 A.D.), but he is also said to have been 6th in descent from Ramanand. If so he flourished in 1600 A D. Other accounts make him contemporary with Darā Shikoh, others with Govind Singh. According to Macanliffe, Sikh Religion, VI, p. 140, the Dadupanthis place Dadu's death at the same time and place as Kabir's.

This village

This village was municipal Board before 1995 but in 1995 Municipal Board converted in Gram Panchayat. It is famous due to religious. This is a Taposthali of Sant Dadu Dayal. When Guru Govind Singh (10th Guru of Sikhs) was going to Naded (Maharastra) from Amritsar he stayed here for a night and his non-vegetarian BAAZ (Hawk) eat BAZRA on request of Sant Dadu Dayal. There are Dadudwara and a Gurudwara also.

नरैना

विजयेन्द्र कुमार माथुर[7] ने लेख किया है ...नरैना (AS, p.480) राजस्थान का एक ऐतिहासिक स्थान है। यह सांभर के निकट स्थित है। इस स्थान पर 1603 ई. में उत्तरी भारत के प्रसिद्ध संत तथा हिन्दी के कवि महात्मा दादू का निर्वाण हुआ था। दादू ने अपने मत का प्रथम बार प्रतिपादन नरैना में ही किया था। नरैना में 1833 ई. में निर्मित दादू का एक मंदिर भी है, जो आसपास के क्षेत्र में बहुत प्रसिद्ध है।

नरायणा का इतिहास

सिद्धसेनसूरी की वि. सं. 1123 (1066 ई.) में रचित सर्वतीर्थमाला में अपभ्रंश कथाग्रन्थ 'विलासवर्दूकहां' में झुंझुनू के साथ-साथ खण्डिल्ल, नराणा, हरसऊद और खट्टउसूस (खाटू) के नाम आये हैं। इससे इसकी उपस्थिति विक्रम की 12 वीं शती में भी ज्ञात होती है.[8]

नरैना या नरायणा शाकम्भरी (सांभर) क्षेत्र का एक प्राचीन क़स्बा है. साहत्यिक ग्रंथों और शिलालेखों में इसके विविध नाम हैं. यथा - नरानयन, नरना, नरनका, नराण, नरपुर, नारायणपुर, इत्यादि। उपलब्ध साक्ष्यों से पता चलता है कि 11 वीं- 12 वीं शताब्दी में यह अपने वैभव और समृद्धि के शिखर पर था. अजमेर से पहले दीर्घकाल तक चौहान शासकों की राजधानी सांभर रही, अतः सांभर से निकट ता के कारण चौहान काल में नारायणा का विशेष सामरिक महत्व था. शायद इसीलिए यह विभिन्न आक्रांताओं का कोपभाजन बना.[9]

महमूद गजनवी ने 1009 ई. के लगभग इस पर आक्रमण किया तथा साम्भर के चौहान राजा (सम्भवतः गोविन्दराज तृतीय) को हराने के बाद मंदिरों और मूर्तियों को ध्वस्त किया. इसकी पुष्टि समकालीन, फ़ारसी इतिहासकार अलबरूनी के यात्रा विवरण से होती है जिसने नरायणा को एक वीरान और खंडहरों का नगर बताते हुए यहाँ के निवासियों का अन्यत्र पलायन करने का उल्लेख है. कुछ वर्षों बाद नरायणा पर चौहानों ने फिरसे अपना अधिकार स्थापित कर लिया। वंशभास्कर में शाकम्भरी के माणिक्यराज चौहान द्वारा नरायणा तथा निकटवर्ती कस्बों पर आधिपत्य करने का उल्लेख हुआ है. इसी वंश के शासक चामुण्डराज द्वारा नरपुर में विष्णु मंदिर का निर्माण कराये जाने का जयानक विरचित 'पृथ्वीराज विजय' में उल्लेख हुआ है जिसका सम्भवतः नरायणा से ही आशय है. [10]

चौहानों की राजधानी साम्भर से अजमेर चले जाने के बाद भी नरायणा का महत्व कम नहीं हुआ. चौहान शासक पृथ्वीराज तृतीय द्वारा अपने सैन्य अभियान के क्रम में 1182 ई. में नरायणा में सैन्य शिविर लगाने का जैन ग्रन्थ खतरगच्छ पट्टावली में उल्लेख आया है. इतिहासकार हरबिलास शारदा ने अपनी पुस्तक 'अजमेर: हिस्टोरिकल एवं टोपोग्राफिकल' की पाद टिपण्णी में नरायणा में पृथ्वीराज के शासनकाल में जैन आचार्य पद्मप्रभ और जिनपति सूरी के बीच शास्त्रार्थ कराये जाने का उल्लेख किया है, जिससे नरायणा के महत्व का ज्ञापन होता है.[11]

मुहम्मद गोरी द्वारा तराईन के युद्ध में (1192 ई.) पृथ्वीराज चौहान को पराजित किये जाने के बाद नरायणा दिल्ली के सुल्तानों के अधिकार में आ गया. 1338 ई. में फिरोज तुगलक की मृत्यु के बाद दिल्ली का मुस्लिम राज्य बिखरने लगा. थोड़े समय तक नरायणा पर मेवाड़ के महाराजा मोकल का भी अधिकार रहा. इसके बाद नागौर के शासक फिरोजखान के भाई मुजाहिदखान ने नरायणा के गौरीशंकर तालाब पर अपने शिलालेख उत्कीर्ण करवाये जो आज भी विद्यमान हैं. [12]

Narayana Inscription at Gorishankar pond 1437 AD

गौरीशंकर ताल नरायना का लेख 1437 ई. - यह लेख गौरीशंकर ताल नरायना जिला जयपुर के प्रमुख तालाब के घाट[13] की दीवार का है जिसका समय 30 जून 1437 ई. है. इसमें वर्णित है कि त्राजिहुलमुल्य के पुत्र शम्सखां और उसके पुत्र मुजहिबखां ने डीडवाना, सांभर और नरायना को विजित किया और वहां किलों तथा मस्जिदों का निर्माण करवाया. उसने शाही युद्धस्थल के स्थान पर प्रतिष्ठित व्यक्तियों की अभ्यर्थना पर एक तालाब बनवाया. यह लेख इस क्षेत्र की विजय और तदुपरान्त वहां की शासकीय व्यवस्था प्रणाली पर प्रकाश डालता है. इस तालाब का नाम मुस्तफासर रखा गया.[14]

Sanskrit Text
L.१७-२० कुल करानन पंचाननस्य | विषमतरभंगसारंगपुर
गागरणनराणा का अजयमेरुमंडोरमंडलकरबूंदि
खाटूचाटसूजानादिनानामहादुर्ग लीलामरत्र ग्रहण
प्रमाणितजित काशित्वा भिमानास्य
Ranakpur Inscription of 1439[15]

रणकपुर प्रशस्ति 1439 ई. मुस्लिम अनाधिपत्य के बाद नरायणा एक बार फिर मेवाड़ राज्य का अंग बन गया. 1439 के रणकपुर के एक शिलालेख से पता चलता है कि कुम्भा ने नरायणा पर अपना अधिकार स्थापित किया था. ये विजयें बून्दी, गागरोण, सारंगपुर, नागौर, चाटसू, अजमेर, मंडोर, मांडलगढ, खाटू, लीलामरत्र आदि हैं. राणा सांगा के शासन काल में भी नरायणा का महत्व यथावत बना. राणा सांगा ने नरायणा के किले की गणना उन दुर्गों में में की थी जो दुर्भेद्य हैं, परन्तु नरायणा का किला काल के क्रूर प्रवाह तथा मानववी प्रकोप का शिकार होकर विस्मृति के गर्त में विलीन हो गया.

चित्तौड़ के कीर्तिस्तम्भ प्रशस्ति 1460 ई.

चित्तौड़ के कीर्तिस्तम्भ प्रशस्ति 1460 ई. [16] में सपादलक्ष का उल्लेख है. जहां कुम्भा का वर्णन हमें मिलता है वहां यह उल्लिखित है कि माण्डव्यपुर (मंडोर) से हनुमान की मूर्ति लाया और 1515 वि.सं. में उसकी स्थापना दुर्ग के प्रमुख द्वार पर की. इसके अनन्तर कुम्भा द्वारा सपादलक्ष, नराणा, वसंतपुर और आबू जीतने का वर्णन है. महाराणा ने एकलिंगजी के मन्दिर के पूर्व की ओर कुम्भ-मंडप का निर्माण कराया. आगे चलकर मालवा और गुजरात की और सेना के प्रयाण का वर्णन मिलता है जो बडा रोचक है. इसी तरह जांगल प्रदेश तथा धुंकराद्रि और खंडेला की विजय के उल्लेख के साथ लेखक ने उस भाग की नैसर्गिक स्थिति पर भी प्रकाश डाला है. श्लोक 146 में किसी शत्रु के पुर से (?) गणेश -मूर्ति को यहां लाकर स्थापित करने का उल्लेख है. इसी में डीडवाना की नमक की खान से कर लेना तथा विशाल सैन्य से खंडेले को तोड़ना भी उल्लिखित है.

खंगारोतों का पाटवी (मुख्य) संस्थान

तत्पश्चात नरायणा आमेर-जयपुर के कछवाहों की एक प्रमुख शाखा खंगरोतों का पाटवी (मुख्य) संस्थान हो गया. इस शाखा के पूर्व पुरुष जगमाल कछवाहा थे. उनके पुत्र राव खंगार थे जो इस खंगारोत वंश के प्रवर्तक माने जाते हैं. जगमाल कछवाहा तथा राव खंगार अकबर के परम विश्वस्त और प्रमुख मनसबदार थे.[17]

बादशाह अकबर की और से अनेक युद्ध-अभियानों में भाग लिया. 1537 ई. में जब अकबर ने गुजरात पर चढ़ाई की तब राव जगमाल को कैम्प कमांडर गया था. जगमाल कछवाहा के बाद राव खंगार नरायणा के शासक हुए. अकबर ने जब गुजरात का अभियान किया तब ये शाही सेना के साथ पाटण गए थे. दूसरे गुजरात अभियान के समय राव खंगार को राजा भारमल के साथ आगरा की सुरक्षा के लिए तैनात किया गया था. महाराणा प्रताप के विरूद्ध हल्दीघाटी की लड़ाई में राव खंगार कुंवर मानसिंह के साथ शाही सेना में सम्मिलित प्रमुख सेना नायकों में थे. अकबरनामा, तबकाते अकबरी, तथा मुन्तख़ब ऊत तावारीख अनेक ग्रंथों में वर्णन मिलता है. तबकाते अकबरी के अनुसार उनका मनसब 2000 का था. राव खंगार विक्रम संवत 1640 (1583ई) को पुर मांडल शाही थाने की रक्षा करते हुए हुए वीरगति को प्राप्त हुए.[18]

नरायणा के गौरीशंकर तालाब के पास स्थित भोजराज के बाग़ में खंगारोत शासकों की छतरियां हैं. नरायणा के खंगारोत शासकों में मुख्य हैं - नारायण दास जो 1616 ई. में दक्षिण की लड़ाई में मारे गए, बाघ सिंह जो खानजहाँ के विरूद्ध लड़ते हुए संवत 1687 में काम आये, भोजराज जिन्होंने मिर्जा राजा जयसिंह के अधीन शाही सेना के साथ दक्षिण के अनेक अभियानों में गए. भोजराज की छतरी के शिलालेख से ज्ञात होता है कि वे वि.सं. 1733 में भादवासुदी 6 रविवार को वीरगति प्राप्त हुए. [19]

सिद्धसेनसूरी की वि. सं. 1123 (1066 ई.) में रचित सर्वतीर्थमाला में अपभ्रंश कथाग्रन्थ 'विलासवर्दूकहां' में झुंझुनू के साथ-साथ खण्डिल्ल, नराणा, हरसऊद और खट्टउसूस (खाटू) के नाम आये हैं। इससे इसकी उपस्थिति विक्रम की 12 वीं शती में भी ज्ञात होती है।[20]

सिद्धसेन सूरि द्वारा रचित 'सकलतीर्थ स्तोत्र' में नरायणा की तीर्थ के रूप में वंदना की है यथा -

"खांडिल्ल डिडआणय नराण हरसउर खट्टउ देसे ।
नागउर मुब्बिद तसु संभरि देसं मि वन्देमि ।।[21]

विसं 1083 (1027 ई.) माघ सुदी 14 को स्थापित आचार्य धरमसेन के चरण यहाँ एक मंदिर में विद्यमान हैं. विसं 1226 (1170 ई.)के बिजोलिया शिलालेख में श्रेष्टि लोलक के पुरवजों द्वारा नरायणा में वर्धमान का मंदिर बनाये जाने का उल्लेख हैं. यहाँ पार्श्वनाथ की खड़ी प्रतिमा है तथा छोटे कद की सरस्वती प्रतिमा हैं. [22]

नरायणा दादूद्वारा का इतिहास तथा वर्तमान मठाधीश

नरायणा संत श्री दादू दयाल जी की तपोस्थली के रूप में प्रसिद्ध है. यहाँ पर दादू पंथ की सर्वोच्च पीठ दादूद्वारा स्थित है. इस स्थान पर 1603 ई. में उत्तरी भारत के प्रसिद्द संत तथा कवि महात्मा दादू का निर्वाण हुआ था. इन्होने अपने मत का प्रथम बार प्रतिपादन नरैना में ही किया था. 1833 में बना इनका एक मंदिर भी यहाँ है. [23]

संत दादू दयाल जी द्वारा प्रवर्तित दादू पंथ को नरायणा के खंगारोत शासकों द्वारा संरक्षण दिया गया था. यहाँ के शासक नारायण दास के अनुरोध पर दादूजी सांभर से नरायणा आये थे एवं यहीं पर अपनी प्रमुख गद्दी स्थापित की. नरायणा के दादू द्वारे में हस्तलिखित ग्रंथों एवं प्राचीन गुटकों के रूप में शोध और अनुसन्धान की प्रचुर सामग्री सुरक्षित है. [24]

दादू दयाल जी के व्यक्तित्व से प्रभावित होकर यहाँ के तत्कालीन जागीरदार ठा. नारायण सिंह ने अपनी जागीरदारी संत दादू दयाल जी को समर्पित कर दी थी और अपना नाम बदल कर नारायण दास रख लिया था. उसके बाद से ही नरायना ठिकाना गुरुद्वारा के अधीन चला आ रहा है और भारत के आज़ाद होने तक यहाँ पर दादूद्वारा की ही जागीरदारी थी.

वर्तमान में दादूद्वारा मठ के मठाधीश स्वामी श्री गोपाल दास जी महाराज है. जो मूल रूप से सीकर जिले के निवासी है और जाति से जाट हैं. स्वामी श्री गोपाल दास जी का जन्म बिजारनिया गोत्र में हुआ था. कहते है के पहले गोपाल दास जी महाराज के माता पिता के कोई संतान नहीं थी. तब उन्होंने संत श्री दादू दयाल जी की तपोस्थली में आकर मनौती मांगी कि हमारे संतान हो जाती है तो हमारी पहली पुत्र संतान को दादू द्वारा कि सेवा के लिए सौंप दिया जायेगा. उसके बाद गोपाल दास जी का जन्म हुआ तथा मनौती के चलते श्री गोपाल दास जी को उनके माता पिता द्वारा बचपन में ही दादूद्वारा के तत्कालीन मठाधीश स्वामी श्री हरी राम दास जी महाराज को सौंप दिया गया था. तब से श्री गोपा दास जी महाराज दादूद्वारा में ही पले बढे और श्री हरी राम दास जी महाराज के देवलोक गमन के बाद श्री गोपाल दास जी महाराज को मठाधीश बनाया गया. वर्तमान में दादूद्वारा नरायणा में शेखावाटी के कई जाट छात्र रह कर शिक्षा ग्रहण कर रहे है.

नरायणा गुरूद्वारा का इतिहास

सिक्खों के दसवें धर्म गुरु गुरु गोविन्द सिंह जी अमृतसर से नांदेड (महाराष्ट्र) जा रहे थे. नरायणा संत श्री दादू दयाल जी ख्याति से प्रभावित होकर गुरु गोविन्द सिंह उनसे मिलने गए तथा चर्चा करते करते शाम का वक्त हो गया. तब दादू दयाल जी गोविन्द सिंह जी को नरायणा में ही रात बिताने का अनुरोध किया. इस पर गोविन्द सिंह जी ने कहा कि मेरा यह बाज़ मांसाहारी पक्षी है और आप शाकाहारी हो और में बाज़ को खाना खिलाये बिना खाना नहीं खा सकता. तब संत दादू दयाल जी ने भगवान का नाम लेकर बाज़ को खाने के लिए बाजरा बिखेरा और मांसाहारी बाज़ ने बड़े मज़े से बाजरा खाया. तब गुरु गोविन्द सिंह जी संत श्री दादू दयाल जी कि भक्ति से प्रभावित होकर भारत से मुग़ल शासन को मिटाने के लिए मदद का निवेदन किया और वाही पर रात गुजारने का निश्चय किया. बाद में जिस स्थान पर गुरु गोविन्द सिंह जी ने रात गुजारी वहां पर एक गुरूद्वारे का निर्माण किया गया. जो गुरुद्वारा चरण कमल साहिब के नाम से प्रसिद्ध है. यहाँ पर हर साल लाखो सिक्ख श्रृध्दालू मत्था टेकने आते है. बाज़ द्वारा मांस कि बजाय बाजरा खाने पर गुरु गोविन्द सिंह जी ने फ़रमाया है कि "चिड़ियाँ संग बाज़ उड़ावा, दादू दयाल जी नाम कहावा."

Notable persons

External Links

References

  1. Encyclopaedia of Jainism, Volume-1 By Indo-European Jain Research Foundation p.5532
  2. "Early Chauhan Dynasties" by Dasharatha Sharma, pp. 83
  3. The History of India, as Told by Its Own Historians/VII. Rashídu-d Dín, from Al Bírúní,p.59
  4. The History of India, as Told by Its Own Historians/Note (A).- Geographical,p.395
  5. The History of India, as Told by Its Own Historians/Note (A).- Geographical,pp.393-396
  6. A glossary of the Tribes and Castes of the Punjab and North-West Frontier Province By H.A. Rose Vol II/D, p.215
  7. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.480
  8. Dr. Raghavendra Singh Manohar:Rajasthan Ke Prachin Nagar Aur Kasbe, 2010,p. 219
  9. Dr. Raghavendra Singh Manohar:Rajasthan Ke Prachin Nagar Aur Kasbe, 2010,p. 73
  10. Dr. Raghavendra Singh Manohar:Rajasthan Ke Prachin Nagar Aur Kasbe, 2010,p. 73
  11. Dr. Raghavendra Singh Manohar:Rajasthan Ke Prachin Nagar Aur Kasbe, 2010,p. 74
  12. Dr. Raghavendra Singh Manohar:Rajasthan Ke Prachin Nagar Aur Kasbe, 2010,p. 74
  13. डॉ गोपीनाथ शर्मा: 'राजस्थान के इतिहास के स्त्रोत', 1983, पृ. 220-221
  14. Dr. Raghavendra Singh Manohar:Rajasthan Ke Prachin Nagar Aur Kasbe, 2010,p. 74
  15. डॉ गोपीनाथ शर्मा: 'राजस्थान के इतिहास के स्त्रोत', 1983, पृ.140
  16. डॉ गोपीनाथ शर्मा: 'राजस्थान के इतिहास के स्त्रोत', 1983, पृ.146-147
  17. Dr. Raghavendra Singh Manohar:Rajasthan Ke Prachin Nagar Aur Kasbe, 2010,p. 74
  18. Dr. Raghavendra Singh Manohar:Rajasthan Ke Prachin Nagar Aur Kasbe, 2010,p. 74
  19. Dr. Raghavendra Singh Manohar:Rajasthan Ke Prachin Nagar Aur Kasbe, 2010,p. 76
  20. Dr. Raghavendra Singh Manohar:Rajasthan Ke Prachin Nagar Aur Kasbe, 2010,p. 219
  21. Dr. Raghavendra Singh Manohar:Rajasthan Ke Prachin Nagar Aur Kasbe, 2010,p. 77
  22. Dr. Raghavendra Singh Manohar:Rajasthan Ke Prachin Nagar Aur Kasbe, 2010,p. 77
  23. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.480
  24. Dr. Raghavendra Singh Manohar:Rajasthan Ke Prachin Nagar Aur Kasbe, 2010,p. 77

Back to Jat Villages