Nasik

From Jatland Wiki
(Redirected from Nasika)
Jump to navigation Jump to search
Author:Laxman Burdak, IFS (Retd.)
Map of Nashik district

Nasik (नासिक) or Nashik (नाशिक) is a city and district in Maharashtra.

Variants

Location

Nasik is located in the northwest of Maharashtra, 180 km from Mumbai and 202 km from Pune.

Origin

Mention by Panini

Nasika/Nasikā (नासिका) is a place name mentioned by Panini under Sankashadi (संकाशादि) (4.2.80.10) group. [1]

Tahsils

The district is divided into fifteen Tehsil (talukas), which are grouped into four sub-divisions:

Jat Villages in Nasik district

Villages in Nasik district

Abhona, Adgaon, Adgaon Chothava, Adgaon Repal, Adharwad, Adsare Bk, Adwadi, Adwan, Agas Khind, Aghar Bk, Aghar Kh, Ahergaon, Ahiwantwadi, Ajang, Ajmir Saundane, Akhatwade, Akrale, Alangun, Aliyabad, Ambad, Ambaner, Ambasan, Ambatha, Ambe, Ambebahula, Ambedindori, Ambegaon, Ambegaon, Ambevani, Ambewadi, Ambode, Amboli, Amode, Anakwade, Anandpur, Andarsul, Angangaon, Angulgaon, Anjanneri, Ankai, Ankute, Antapur, Antarweli, Arai, Asarbari, Asarkhede, Ashapur, Askheda, Astagaon, Astane, Athambe, Aundane, Aundhewadi, Aurangpur, Awankhed, Babhaleshwar, Babhulgaon, Babhulgaon Kh., Bafanvihir, Bagadu, Bahaduri, Balayduri, Balhegaon, Bambalewadi, Bangaon, Baragaon Pimpri, Barshingave, Bedse, Behed, Bej, Belgaon Dhaga, Belgaon Kurhe, Belgaon Tarhale, Belu, Berwal, Beze, Bhadane, Bhadar, Bhagur, Bhakshi, Bhalur, Bhandardarawadi, Bhanwad, Bharam, Bharatpur, Bharvir, Bharvir Bk, Bharvir Kh, Bharwas, Bhatgaon, Bhatode, Bhatwadi, Bhaur, Bhauri, Bhavli Kh, Bhayagaon, Bhayale, Bhaygaon, Bhendali, Bhendi, Bhilkot, Bhilwad, Bhimkhet, Bhokani, Bhormal, Bhoyegaon, Bhulegaon, Bhusani, Bhuse, Bhutyane, Bijorase, Bijore, Bijote, Bilwadi, Bival, Bokaddare, Bokate, Bolthan, Bopegaon, Borale, Borale, Bordaivat, Bordaiwat, Borgaon, Bortembhe, Borwath, Bramhan Wade, Bramhangaon, Bramhangaon Vanas, Bramhangaon Vinchur, Bramhanpade, Bubli, Bundhate, Chachadgaon, Chandanpuri, Chandgiri, Chandore, Chandori, Chandshi, Chandvad, Chankapur, Chapadgaon, Chapadgaon, Charose, Chas, Chatori, Chaugaon, Chaundhane, Chausale, Chichodi, Chichodi Kh., Chikadi, Chikhalambe, Chikhalohal, Chinchagavhan, Chinchale, Chinchavad, Chinchave, Chinchave, Chinchkhed, Chincholi, Chinchwad, Chitegaon, Chondhi, Dabhadi, Dabli, Dahegaon, Dahegaon, Dahegaon Manmad, Dahidi, Dahigaon, Dahindule, Dahiwad, Dahiwadi, Dahiwal, Dahyane, Dalpatpur, Dalwat, Dangrale, Dangsaundane, Dapur, Dapur, Dare Bhanagi, Daregaon, Daregaon, Daregaon, Darhane, Dari, Darna Sangvi, Dasane, Dasane, Daswel, Datli, Datyane, Daundat, Davachwadi, Deodongara, Deodongari, Deogaon, Deogaon, Deoghat, Deola, Deolali, Deolane, Deolane, Deole, Deopur, Deopur, Deopur, Deopurpada, Deothan, Deothanpada, Deshmane, Deshwandi, Desrane, Devali, Devaliwani, Devargaon, Devargaon, Devarpada, Devergaon, Dhakambe, Dhamangaon, Dhamangaon, Dhamani, Dhamode, Dhandri, Dhanore, Dharangaon, Dharangaon Khadak, Dharangaon Veer, Dhargaon, Dhaur, Dhavali Vihir, Dheku Kh., Dhodambe, Dhondbar, Dhondegaon, Dhondgavhan, Dhotane, Dhulgaon, Dhulwad, Dighwad, Dindori, Dindori, Dixi, Dodheshwar, Dodi, Dodi Kh., Dongaon, Dongargaon, Dongargaon, Dongargaon, Dongarogaon, Dongrale, Dongrej, Donwade, Dubere, Dudhkhede, Dugaon, Dugaon, Dundhe, Dyane, Dyane, Ekadare, Eklahare, Eklehra, Eklehra Gaothan, Erandgaon, Erandgaon, Fangul Gavhan, Fardapur, Gajarwadi, Galne, Gambhirwadi, Gandole, Ganeshgaon Naik, Ganeshgaon Trimbak, Gangadhari, Gangamhalungi, Gangave, Gangavhare, Ganore, Ganur, Garudeshwar, Gaulane, Gavatha, Ghanegaon, Ghodegaon, Ghorwad, Ghotewadi, Ghoti Budruk, Ghoti Kh, Ghytipada, Gigaon, Gilane, Giranare, Girnare, Gitakunj, Golakhal, Goldari, Golshi, Golwad, Gonde, Gondedumala, Gondegaon, Gondegaon, Gondegaon, Gondgaon, Gorane, Gorthan, Govardhan, Gugulwad, Gulvanch, Gunjalnagar, Hanumannagar, Harangaon, Harnul, Harsul, Haste Dumala, Hatane, Hatgad, Hatnore, Hatrundi, Hatrundi, Hatti, Hinganwedhe, Hirapur, Hirdi, Hiswal, Hiswal Bk, Hiswal Kh., Hivare, Hivarkhede, Hiwargaon, Igatpuri, Indiranagar, Indore, Indore, Inshi, Jad, Jaikheda, Jakhori, Jalalpur, Jalgaon, Jalgaon, Jalgaon, Jalgaon Kh., Jalgaon Neur, Jalkhed, Jalku, Jamale, Jambutake, Jamdari, Jamgaon, Jamoti, Janori, Jategaon, Jategaon, Jategaon Bk, Jatpade, Jaulakedindori, Jaulakevani, Jaulke, Jaygaon, Jeur, Jivhale, Jogaltembhi, Jopul, Jopul, Joran, June Dhagur, Kadawa Mhalungi, Kajwade, Kalamdare, Kalamdari, Kalgaon, Kalkhode, Kaluste, Kalwadi, Kalwan, Kalwan Kh, Kanadgaon, Kanadi, Kanadwadi, Kanashi, Kanchangaon, Kandhane, Kandhane, Kankapur, Kankori, Kankrale, Kanlad, Kanmandale, Kapashi, Karanj Gavhan, Karanjad, Karanjali, Karanjgaon, Karanji Kh., Karanjkhed, Karanjwan, Karhe, Karhi, Karsul, Karwadi, Kasabe Sukene, Kasari, Kasarwadi, Kasbe Vani, Kashti, Katarni , Katarwadi , Kathagad , Kathargaon, Kathipada , Kaudasar , Kaulane , Kaulane , Kautikpada, Kawaddara, Kawanai, Kazisangvi, Kersane, Khadak Malegaon, Khadak Sukene, Khadaki, Khadakjamb, Khadakohol, Khadakozar, Khadaktale, Khadangali, Khadgaon , Khadked, Khairgaon, Khakurdi, Khalap, Khambale, Khambale, Khambale, Khamgaon, Khamkhede, Khamlon, Khamtane, Khangaon Thadi, Kharde, Kharde Digar, Kharshet, Kharvandi, Khatwad, Khayade, Khed, Khedale, Khedale Zunge, Khede, Khedgaon, Kheldari, Khirad, Khirdi, Khirdipatode, Khirdisathe, Khirkidepada, Khirmani, Khobala Mani, Khopadi, Khuntewadi, Kikwari Kh., Kirtangali, Kochargaon, Kohor, Kokangaon, Kokangaon, Kokankhede, Kolam, Kolgaon, Kolgaonmal, Komalwadi, Konambe, Kondhar, Kone, Kopurli, Korhate, Koshimbe, Koswan, Kotam Gaon, Kotambi Harsul, Kotamgaon, Kotamgaon, Kotamgaon, Kotamgaon Kh., Kotbel, Kothule, Kothure, Krishnagaon, Krishnanagar, Kukane , Kukudmunda, Kukudne, Kulwandi , Kumbhale , Kumbharde , Kumbhari , Kundalgaon, Kundewadi, Kupkhede, Kurdane, Kurhegaon, Kurnoli, Kurudgaon, Kusegaon, Kusmadi, Kusur, Ladachi, Lakhalgaon, Lakhamapur, Lakhamapur, Lasalgaon, Lauki Shiras , Laxminagar , Lendane , Lodhare , Lohashingve, Lohoner, Lokhandewadi, Lonwade , Lonwadi , Madakijamb, Madsangavi, Mahadeopur, Mahajanpur, Mahaje, Mahalkhede Chandvad, Mahalpatane, Mahatma Fule Nagar, Mahirawani, Majargaon, Malagaon, Maldhe, Maledumala, Malegaon, Malegaon, Malegaon, Malegaon Tilwan, Malgaon, Malgavhan, Malhanagaon, Malunje, Malwadi, Mamdapur, Mandha, Mandwad , Manegaon , Mangrul , Mani , Manik Khamb , Manjare , Mankhed , Manmad, Manori, Manori , Manori Kh., Manur, Manur, Manwede, Maralgoi Kh., Marhal, Matane, Materewadi, Mathurpada, Matori, Matulthan, Mauje Sukene, Mavadi, Mehune, Mendhi, Mesankhede Kh, Meshi, Mhalsakore, Mhasgan, Mhasurli, Mheluske, Mirgaon, Mith-sagare, Modale, Mogare , Mohadi , Mohagaon, Mohalangi, Mohandari , Mohegaon , Mohu , Mokbhanagi, More Ngar, Mukane , Mukhed , Mukhed , Mulane , Mulegaon, Mulher , Mundegaon, Mungase, Mungsare, Munjwad, Murambi, Murambi, Musalgaon, Nagalwadi, Nagaon, Nagapur, Nagapur, Nagarsul, Nagde, Nagosali, Nagshewadi, Naigaon, Naikwadi, Naitale, Nakode, Nalegaon, Nalid, Nalwadi, Nalwadi, Nalwadpada, Nampur, Nanashi, Nandgaon, Nandgaon , Nandgaon, Nandgaon, Nandgaon, Nandgaonsado, Nandin, Nandur, Nandur, Nandur Kh., Nandur Madhyameshwar, Nandur Shingote, Nandurdi, Nanduri, Nandurkipada, Nandurtek, Nandurvaidya, Nanegaon, Narayan Tembhi, Narayangaon, Nardane, Narul, Nashik, Nasik Road Deoladi, Navedhagur , Navi Bej, Navi Shemali, Naydongari, Naygavhan, Neurgaon, Nhanave, Nigdol, Nikwel, Nilgavhan, Nilkhede, Nilwandi , Nimbait, Nimbale, Nimbole, Nimgaon, Nimgaon Madh, Nimgaon Sinner, Nimgaon Wakada, Nimon, Ninavi, Niphad, Nirgude Karanjali, Nirhale, Nirpur, Nitane, Niwane, Odha , Oney , Otur, Ozar , Ozar Khed, Ozarkhed, Ozarkhede, Oze, Pachore, Pachorewani, Padalde, Padali, Pade, Pahine, Pahuchibari, Palasdare, Palashe, Palasvihir, Pale, Pale Kh., Palkhed, Palkhed, Palsan , Palshi, Panchale, Panchkeshwar, Pandane, Pandharun, Pandhurli, Pandu Lena, Panewadi, Pangari, Panhale, Panjarwadi, Panzandeo, Pardeshiwadi, Pardhadi, Paregaon, Paregaon, Parmori, Parner, Parsul, Paste, Patane, Pathar-shembe, Pathare, Pathare Kh., Pathave Digar, Patoda, Patole , Patpimpri, Patvihir, Peint, Pilakos, Pimpalas, Pimpaldar, Pimpale, Pimpalgaon, Pimpalgaon, Pimpalgaon Baswant, Pimpalgaon Dhum, Pimpalgaon Dukra, Pimpalgaon Garudeshwar, Pimpalgaon Ghadaga, Pimpalgaon Jalal, Pimpalgaon Ketaki, Pimpalgaon Lep, Pimpalgaon Mor, Pimpalgaon Najik, Pimpalgaon Nipani, Pimpalkhute, Pimpalkothe, Pimpalnare, Pimpalnare, Pimparkhed, Pimparkhed, Pimplad, Pimplad Nasik, Pimple, Pimprale, Pimpri, Pimpr,i Pimpri Anchala, Pimpri Sadroddin, Pimpri Sayyad, Pimpri_haveli, Pingalwade, Pmpri Trimbak, Pohali, Pohane, Pokhari Patode, Pophalwade, Purangaon, Puri, Raghatvihir, Rahod, Rahude, Rajapur, Rajapur, Rajderwadi, Rajewadi, Rajmane, Rajur Bahula, Rameshwar, Ramnagar, Rampur, Rampur, Ramshej, Ramtir, Ranwad, Rasalpur, Rasegaon, Ratir, Raulas, Ravalgaon, Ravalji, Rawalgaon, Rayate, Raypur, Redgaon, Redgaon Kh, Rohile, Rokadpada, Ronzane, Rui, Sadadpada, Saigaon, Saikhede, Sajole, Sajvahal, Sakode, Sakore, Sakore, Sakur, Sakur, Sakuri, Salher, Salsane, Samangaon, Samnere, Sangavi, Sangavi, Sanjegaon, Saptashrungagad, Sarad , Sarade, Saradwadi, Sarole Kh., Sarole Thadi, Sarul, Satali, Satana, Satare, Satmane, Satpur, Satwaichiwadi, Satyagaon, Saundane, Savaki, Savandgaon, Savargaon, Savkarwadi, Sawargaon, Sawargaon, Sayale, Sayane Bk, Senvad Bk, Shaha, Shastrinagar, Shastrinagar, Shelu, Shemali, Shenit, Sherul, Shevare, Shevgedang, Shevgedarna, Shilapur, Shimpi Takali, Shinde, Shinde, Shinde, Shinde, Shindwad, Shingashi, Shingave, Shingve, Shirasamani, Shirasgaon, Shirasgaon, Shirasgaon, Shirasgaon Lauki, Shirsane, Shirsate, Shirsondi, Shirur, Shirwade Wakad, Shirwade Wani, Shivade, Shivadi, Shivare, Shivare, Shivnai, Shribhuvan, Shripurvade, Shriram Nagar, Shrirampur, Sinnar, Sogras, Sompur, Somthan-desh, Somthane, Sonaj, Sonambe, Sonari, Sonewadi, Sonewadi, Songaon, Songiri, Sonjamb, Soyagaon, Soygaon, Subhash Nagar, Subhashnagar, Sule, Sundarpur, Sundarpur, Supale Digar, Surane, Suregaon Rasta, Surgana, Sutarkhede, Taharabad, Takali , Takali Vinchur, Take Deogaon, Take Harsha, Taked Bk, Takeghoti, Takli, Talegaon Anjaner,i Talegaon Dindori, Talegaon Rohi, Talegaon Trimbak, Talegaon Vani, Talogha, Taloshi, Talwade, Talwade, Talwade, Talwade, Talwade Bhamer, Talwade Digar , Talwade Trimbak, Tamaswadi, Tandulwadi, Tarsali, Tarukhedle, Tatani, Tehare, Tembhe, Thanapada, Thangaon, Thangaon, Thangaon, Thengode, Thepanwadi, Tilloli, Tilwan, Tingri, Tisgaon, Tisgaon, Tisgaon, Titave, Tokade, Torangan, Torangan, Trimbak, Tringalwadi, Tungan Digar, Ubhade , Ugaon, Ujjani, Umarane, Umbardhe, Umbarkhed, Umbarkon, Umbarthan, Umrale, Umrale Kh,. Undirwadi, Urdhul, Usthale, Uswad, Utrane, Vadali Najik, Vadalibhoi, Vadangali, Vadel, Vadgaon, Vadgaon, Vadgaon Pangu, Vadgaon Pingala, Vadholi, Vadner, Vadner Bhairao, Vaghale, Vaghera, Vahegaonsal, Vajirkhede, Vake, Vaki Bk, Vaki Kh , Valkhed, Valwade, Valwadi , Vanare, Vanasgaon, Vani Kh., Vanoli, Vanpat, Varche Tembhe, Vare, Varhane, Varhe Davna, Varkhede, Vasol, Vatakapada, Vatar, Vaviharsha, Vaygaon, Vehelgaon, Vikharni Vilholi, Vilwandi, Vinchur, Vinchur Dalvi, Vinchure, Vinchurgavali, Virane, Virgaon, Visapur, Visapur, Vitave, Vithewadi, Wadali, Wadgaon Sinnar, Wadi, Wadivarhe, Wadzire, Wagdardi, Wagdeopada, Waghad, Waghale, Waghambe, Waghere, Wahegaon, Wajgaon, Wakad, Wakhari, Wakhari, Waki, Walvihir, Wanjarwadi, Warwandi, Wasali, Wasali, Wavi, Wavi, Waygholpada, Welapur, Welunje, Yashawantnagar, Yesgaon Bk, Yesgaon Kh, Yevla, Zadi, Zirepimple, Zodge,

History

Ramayana has it that Lord Rama, the King of Ayodhya, made Nashik his home during his 14 years in exile. At the same place Laxmana, by the blessing of Lord Rama, cut off the nose of Surpanakha and thus this place was named as "Nasik" (From Sanskrit word 'Nasika'). Several other references to the Ramayan era can be found in Nashik, which includes the Sita Gumpha caves, from where Sita, Lord Rama's wife, was abducted by Ravana. Nashik in 150 BC was believed to be the country's largest marketplace.

नासिक

विजयेन्द्र कुमार माथुर[2] ने लेख किया है ...नासिक (AS, p.497) - पश्चिम रेलवे के नासिक रोड़ स्टेशन से 5 मील दूर गोदावरी नदी के तट पर यह प्राचीन नगर बसा है. कहा जाता है कि रामायण में वर्णित पंचवटी, जहाँ श्रीराम, लक्ष्मण और सीता सहित वनवास काल में बहुत दिनों तक रहे थे, नासिक के निकट ही है।

नामकरण: किंवदंती है कि इसी स्थान पर लंका के राजा रावण की भगिनी (बहन) शूर्पणखा को लक्ष्मण ने नासिका विहीन किया था, जिसके कारण इस स्थान को 'नासिक' कहा जाता है।

सीता गुफ़ा: नासिक के पास सीता गुफ़ा नामक एक नीची गुफ़ा है, जिसके अंदर दो गुफ़ाएं हैं। पहली में नौ सीढ़ियों के पश्चात् राम, लक्ष्मण और सीता की मूर्तियाँ दिखाई पड़ती हैं और दूसरी पंचरत्नेश्वर महादेव का मंदिर है। नासिक से दो मील गोदावरी के तट पर गौतम ऋषि का आश्रम है। गोदावरी का उद्गम त्र्यम्बकेश्वर की पहाड़ी में है। जो नासिक से प्रायः बीस मील दूर है।

नासिक में 200 ई.पू. से द्वितीय शती ई. तक की पांडुलेण नामक बौद्ध गुफ़ाओं का एक समूह है। इसके अतिरिक्त जैनों के आठवें तीर्थंकर चंद्र

[पृ.498]: प्रभस्वामी और कुंतीबिहार नामक जैन चैत्य के 14वीं शती में यहाँ होने का उल्लेख जैन लेखक जिनप्रभु सूरि के ग्रंथों में मिलता है। 1680 ई. में लिखित 'तारीखे-औरंगज़ेब' के अनुसार, नासिक के 25 मंदिर औरंगज़ेब की धर्मांधता के शिकार हुए थे। इन विनिष्ट मंदिरों में नारायण, उमामहेश्वर, राम जी, कपालेश्वर और महालक्ष्मी के मंदिर उल्लखेनीय है। इन मंदिरों की सामग्री से यहाँ की जामा मस्जिद की रचना की गई। मस्जिद के स्थान पर पहले महालक्ष्मी का मंदिर स्थित था। नीलकंठेश्वर महादेव के उस प्राचीन मंदिर की चौखट, जो असरा फाटक के पास था, अब भी इसी मंदिर में लगी दिखाई देती है।

प्रसिद्ध मंदिर: नासिक के प्रायः सभी मंदिर मुस्लिम शासन काल के अंतिम दिनों के बने हुए हैं और स्वयं पेशवाओं तथा उनके संबंधियों अथवा राज्याधिकारियों द्वारा बनवाये गए थे। इनमें सबसे अधिक अलंकृत और संपन्न मालेगांव का मंदिर राजा नारूशंकर द्वारा 1747 ई. में 18 लाख रुपये की लागत से बना था। यह मंदिर 83 फुट चौड़ा और 123 फुट लंबा है। शिल्प की दृष्टि से नासिक के सभी मंदिरों में यह सर्वोत्कृष्ट है। इसका विशाल घंटा 1721 ई. में पुर्तग़ाल से बनकर आया था।

कालाराम मंदिर: कालाराम नामक मंदिर 1798 ई. का है। जो बारह वर्षों में 22 लाख रुपये की लागत से बना था। यह 285 फुट लंबे और 105 फुट चौड़े चबूतरे पर अवस्थित है। कहा जाता है यह मंदिर उस स्थान पर है जहां श्रीराम ने वनवास काल में अपनी पर्णकुटी बनाई थी। किंवदंती है कि यादव शास्त्री नामक पंडित ने इस मंदिर का पूर्वी भाग इस प्रकार बनवाया था कि मेष और तुला की संक्रांति के दिन, सूर्योदय के समय, सूर्यरश्मियां सीधी भगवान राम की मूर्ति के मुख पर पड़ती हैं। श्री राम की मूर्ति काले पत्थर की है।

सुंदर नारायण का मंदिर: सुंदर नारायण का मंदिर 1756 ई. में और भद्रकाली का मंदिर 1790 ई. में बने थे।

त्रयंबकेश्वर महादेव का ज्योतिर्लिंग: नासिक में त्रयंबकेश्वर महादेव का ज्योतिर्लिंग भी स्थित है। इसी कारण नासिक का मामात्म्य और भी बढ़ जाता है। पौराणिक किंवदंती के अनुसार नासिक का नाम सतयुग में पद्मनगर, त्रेता में त्रिकंटक, द्वापर में जनस्थान और कलियुग में नासिक है--'कृते तु पद्मनगरं त्रेतायां तु त्रिकंटम्, द्वापरे च जनस्थानं कलौ नासिकमुच्चयते'.

शिव पूजा का केंद्र: नासिक को शिव पूजा का केंद्र होने के कारण 'दक्षिण काशी' भी कहा जाता है। यहाँ आज भी साठ के लगभग मंदिर हैं। 'कलौ गोदावरी गंगा' के अनुसार कलियुग में गोदावरी गंगा के समान ही पवित्र मानी गई है। मराठा साम्राज्य में महत्त्व की दृष्टि से पूना के बाद नासिक का ही स्थान माना जाता है। एक किंवदंती के अनुसार नासिक का यह नाम पहाड़ियों के नवशिखों या

[p.499]: शिखरों पर इस नगरी की स्थिति होने के कारण हुआ था। ये नौ शिखर हैं- 1. जूनीगढ़ी, 2. नवी गढ़ी, 3. कोंकणीटेक, 4. जोगीवाड़ा टेक, 5. म्हास टेक, 6. महालक्ष्मी टेक, 7. सुनार टेक, 8. गणपति टेक, 9. चित्रघंट टेक.

मराठी की प्रचलित कहावत 'नासिक नव टेका वर वसाविले' अर्थात् नासिक नौ टेकरियों पर बसा है, नासिक के नाम के बारे में इस किंवदंती की पुष्टि करती है।

महत्त्वपूर्ण उत्कीर्ण लेख: नासिक के निकट एक गुफ़ा में क्षहरात नरेश नहपान के जमाता उशवदात का एक महत्त्वपूर्ण उत्कीर्ण लेख प्राप्त हुआ है। जिससे पश्चिमी भारत के द्वितीय शती ई. के इतिहास पर प्रकाश पड़ता है। यह अभिलेख शक संवत 42-120 ई. का है और इसमें बौद्ध भिक्षु संघ को एक गुहा विहार तथा उससे संबंधित नारियल के कुंज के दान में दिए जाने का उल्लेख है। नासिक का एक प्राचीन नाम गोवर्धन है। जिसका उल्लेख महावस्तु (सेनार्ट पृ. 363) में है। जैन तीर्थों में भी नासिक की गणना है। जैन स्तोत्र तीर्थमाला चैत्यवंदन में इस स्थान को कुंतीबिहार कहा गया है-- कुंती पल्लबिहार तारणगढ़े सोपारकारासणे-दे. एन्श्येंट जैन हिम्स, पृ.28.

नासिक परिचय

नासिक/नाशिक शहर दक्षिण-पश्चिमी भारत के पश्चिमोत्तर महाराष्ट्र राज्य में गोदावरी नदी के किनारे बसा हुआ है। यह मुंबई से 180 कि.मी. पूर्वोत्तर में प्रमुख सड़क और रेलमार्ग पर स्थित है। नासिक एक महत्त्वपूर्ण धार्मिक केंद्र है। प्रतिवर्ष यहाँ हज़ारों तीर्थयात्री गोदावरी नदी की पवित्रता और महाकाव्य रामायण के नायक भगवान श्रीराम द्वारा अपनी पत्नी सीता और भाई लक्ष्मण के साथ यहाँ कुछ समय तक निवास करने की किंवदंती के कारण आते हैं।

त्रयम्बकेश्वर गौतम ऋषि की तपोभूमि है। यह स्थान नासिक से लगभग 28 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। मान्यता है कि गौतम ऋषि ने शिव की तपस्या करके गंगा को यहाँ अवतरित करने का वरदान माँगा था, जिसके फलस्वरूप यहाँ गोदावरी नदी की धारा प्रवाहित हुई। इसलिए गोदावरी को दक्षिण भारत की गंगा भी कहा जाता है। इस स्थान पर किया श्राद्ध और पिण्डदान सीधा पितरों तक पहुँचता है। इससे पितरों को प्रेत योनी से मुक्ति मिलती है और वह उत्तम लोक में स्थान प्राप्त करते हैं। ऐसी मान्यता है कि यहाँ श्राद्ध, तर्पण, पिण्डदान एवं पितरों की संतुष्टि हेतु ब्राह्मण भोजन करवाने से पितर तृप्त होकर अखंड सौभाग्य का आशीर्वाद प्रदान करते हैं। यहाँ गौतम ऋषि की गुफ़ा है, जिसमें 108 शिवलिंग बने हुए हैं। वहीं आगे जाकर नाथ संप्रदाय के सबसे पहले नाथ गोरखनाथ का भी मंदिर है। राम-लक्ष्मण तीर्थ भी यहीं हैं, जहाँ अपने वनवास के दौरान कुछ दिन रुक कर भगवान श्रीराम ने अपने पिता दशरथ का श्राद्ध किया था। यहाँ राम का काफ़ी विशाल मंदिर भी बना हुआ है। यहीं 'गंगासागर' नाम का बड़ा-सा कुंड भी बना हुआ है।

कुम्भ पर्व चक्र: 'कुम्भ पर्व' विश्व में किसी भी धार्मिक प्रयोजन हेतु भक्तों का सबसे बड़ा संग्रहण है। सैंकड़ों की संख्या में लोग इस पावन पर्व में उपस्थित होते हैं। कुम्भ का संस्कृत अर्थ है- 'कलश'। ज्योतिष शास्त्र में कुम्भ राशि का भी यही चिन्ह है। हिन्दू धर्म में कुम्भ का पर्व हर 12 वर्ष के अंतराल पर चारों में से किसी एक पवित्र नदी के तट पर मनाया जाता है- हरिद्वार में गंगा, उज्जैन में क्षिप्रा, नासिक में गोदावरी और इलाहाबाद में संगम, जहाँ गंगा, यमुना और सरस्वती तीनों मिलती हैं।

नासिक में कुम्भ पर्व: भारत में 12 में से एक ज्योतिर्लिंग, त्र्यम्बकेश्वर नामक पवित्र शहर में स्थित है। यह स्थान नासिक से 38 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है और गोदावरी नदी का उद्गम भी यहीं से हुआ है। 12 वर्षों में एक बार सिंहस्थ कुम्भ मेला नासिक एवं त्रयम्बकेश्वर में आयोजित होता है। ऐतिहासिक प्रमाणों के अनुसार नासिक उन चार स्थानों में से एक है, जहाँ अमृत कलश से अमृत की कुछ बूँदें गिरी थीं। कुम्भ मेले में सैंकड़ों श्रद्धालु गोदावरी के पावन जल में स्नान कर अपनी आत्मा की शुद्धि एवं मोक्ष के लिए प्रार्थना करते हैं। यहाँ पर शिवरात्रि का त्यौहार भी बहुत धूम धाम से मनाया जाता है।

पर्यटन: शहर का मुख्य हिस्सा गोदावरी नदी के दाएं (दक्षिण) तट पर है, जबकि बांए किनारे पर स्थित खंड पंचवटी में कई मंदिर हैं। यह शहर नदी घाटों (सीढ़ीदार स्नान स्थल) से युक्त हैं। नासिक में पांडु (बौद्ध) और चामर (जैन) गुफ़ा मंदिर भी है, जो पहली शताब्दी के हैं। यहां स्थित कई हिंदू मंदिरों में काला राम और गोरा राम को सबसे पावन माना जाता है। नासिक से 22 किमी दूर त्रयंबकेश्वर गांव, जहां 12 शैव ज्योतिर्लिंग मंदिर हैं, तीर्थस्थलों में सबसे महत्त्वपूर्ण है।

संदर्भ: भारतकोश-नासिक

दंडक = दंडकवन = दंडकारण्य

विजयेन्द्र कुमार माथुर[3] ने लेख किया है ... दंडक = दंडकवन = दंडकारण्य (AS, p.421): रामायण काल में यह वन विंध्याचल से कृष्णा नदी के कांठे तक विस्तृत था. इसकी पश्चिमी सीमा पर विदर्भ और पूर्वी सीमा पर कलिंग की स्थिति थी. वाल्मीकि रामायण अरण्यकांड 1,1 में श्री राम का दंडकारण्य में प्रवेश करने का उल्लेख है-- 'प्रविश्य तु महारण्यं दंडकारण्यमात्मवान् रामो ददर्श दुर्धर्षस्तापसाश्रममंडलम्'.

लक्ष्मण और सीता के साथ रामचंद्रजी चित्रकूट और अत्रि का आश्रम छोड़ने के पश्चात यहां पहुंचे थे. रामायण में, दंडकारण्य में अनेक तपस्वियों के आश्रमों का वर्णन है. महाभारत में सहदेव की दिग्विजय यात्रा के प्रसंग में दंडक पर उनकी विजय का उल्लेख है--'ततः शूर्पारकं चैव तालकटमथापिच, वशेचक्रे महातेजा दण्डकांश च महाबलः' महा. सभा पर्व 31,36

सरभंगजातक के अनुसार दंडकी या दंडक जनपद की राजधानी कुंभवती थी. वाल्मीकि रामायण उत्तरकांड 92,18 के अनुसार दंडक की राजधानी मधुमंत में थी. महावस्तु (सेनार्ट का संस्करण पृ. 363) में यह राजधानी गोवर्धन या नासिक में बताई है. वाल्मीकि अयोध्या कांड 9,12 में दंडकारण्य के वैजयंत नगर का उल्लेख है. पौराणिक कथाओं तथा कौटिल्य के अर्थशास्त्र में दंडक के राजा दांडक्य की कथा है जिनका एक ब्राह्मण कन्या पर कुदृष्टि डालने से सर्वनाश हो गया था. अन्य कथाओं में कहा गया है भार्गव-कन्या दंडका के नाम पर ही इस वन का नाम दंडक हुआ था.

कालिदास ने रघुवंश में 12,9 में दंडकारण्य का उल्लेख किया है-- 'स सीतालक्ष्मणसख: सतयाद्गुरुमलोपयन्, विवेश-दंडकारण्यं प्रत्येकं च सतांमन:'. कालिदास ने इसके आगे 12,15 में श्रीराम के दंडकारण्य-प्रवेश के पश्चात उनकी भरत से चित्रकूट पर होने वाली भेंट का वर्णन है जिससे कालिदास के अनुसार चित्रकूट की स्थिति भी दंडकारण्य के ही अंतर्गत माननी होगी. रघुवंश 14,25 में वर्णन है कि अयोध्या-निवर्तन के पश्चात राम और सीता को दंडकारण्य के कष्टों की स्मृतियाँ भी बहुत मधुर जान पड़ती थी-- 'तयोर्यथाप्रार्थितमिंद्रियार्थानासेदुषो: सद्मसु चित्रवत्सु, प्राप्तानि दुखान्यपि दंडकेषु संचित्यमानानि सुखान्यभूवन'.

रघुवंश 13 में जनस्थान को राक्षसों के मारे जाने पर 'अपोढ़विघ्न' कहा गया है. जनस्थान को दंडकारण्य का ही एक भाग माना जा सकता है. उत्तररामचरित में भवभूति ने दंडकारण्य का सुंदर वर्णन किया है. भवभूति के अनुसार दंडकारण्य जनस्थान के पश्चिम में था (उत्तररामचरित, अंक-1).

जनस्थान

विजयेन्द्र कुमार माथुर[4] ने लेख किया है ...जनस्थान (AS, p.355): पौराणिक मान्यताओं के अनुसार नासिक (महाराष्ट्र) का ही प्राचीन नाम है। इसका नाम सतयुग में 'पद्मनगर', त्रेता में 'त्रिकंटक' और द्वापर में 'जनस्थान' था। अब कलियुग में इसका नाम 'नासिक' है। यह दंडकारण्य का ही एक भाग था। पुराणों के अनुसार नासिक का ही एक नाम जनस्थान बताया गया है- 'कृते तु पद्यंनगरंत्रेतायां तु त्रिकंटकम् द्वापरे च जनस्थानं कलौ नासिकमुख्यते'।

वाल्मीकि रामायण के अनुसार जनस्थान में खरदूषण आदि राक्षसों का निवास स्थान था- 'नानाप्रहरणा: क्षिप्रमितोगच्छत सत्वरा:, जनस्थानं हतस्थानं भूतपूर्वखरालयम्। तत्रास्यतां जनस्थानेशून्ये निहतराक्षसे, पौरुषं बलमाश्रित्य त्रासमुत्सृज्य दूरत:'। रामचन्द्रजी ने, जैसा कि इस उद्धरण से सूचित होता है, इस प्रदेश के सभी राक्षसों का अंत कर दिया था।

महाकवि कालिदास ने कई स्थलों पर जनस्थान का उल्लेख किया है- 'प्राप्य चाशुजनस्थानं खरादिभ्यस्तधाविधम्' (रघुवंश 12, 42.) 'पुराजनस्थानविमर्दशंकी संघाय लंकाधि पति: प्रतस्ये' (रघुवंश 6, 62.) 'अमीजनस्थानमपोढविध्नं मत्वा समारब्ध नवोटजानि' (रघुवंश 13, 22.) उपर्युक्त अंतिम उद्धरण से विदित होता है कि मुनियों ने जनस्थान से राक्षसों का भय दूर होने पर अपने परित्यक्त आश्रमों में पुन: नवीन कुटियाँ बना ली थीं।

भवभूति ने भी जनस्थान और पंचवटी का नासिक के निकट उल्लेख किया है- 'पश्चामि च जरस्थानं भूतपर्वखरालयम्, प्रत्यक्षानिव वृत्तान्तान्पूर्वाननुभवामिच' (उत्तररामचरित 2, 17) उपर्युक्त श्लोक में वाल्मीकि रामायण के उपर्युक्त उद्धरण की भाँति जनस्थान में खर राक्षस का घर कहा गया है। यह संभव है कि उपर्युक्त उद्धरणों में वर्णित जनस्थान की ठीक-ठीक स्थिति गोदावरी नदी के पर्वत से अवरोहण करने के स्थान (नासिक के निकट) पर पालवेराम के सन्निकट रही होगी। (दे. इंडियन एंटिक्वेरी जिल्द 2, पृ. 283) किंतु महाभारत, अनुशासनपर्व (अनुशासनपर्व 25, 29) में जनस्थान को चित्रकूट और मंदाकिनी के निकट बताया गया है- 'चित्रकूटजनस्थाने तथा मंदाकिनी जले, विगाह्म वै निराहारो राजलक्ष्म्या निषेव्यते'।

त्रिकंटक

विजयेन्द्र कुमार माथुर[5] ने लेख किया है ... त्रिकंटक (AS, p.413) पौराणिक मान्यताओं के अनुसार नासिक (महाराष्ट्र) का ही प्राचीन नाम है। इसका नाम सतयुग में 'पद्मनगर', त्रेता में 'त्रिकंटक' और द्वापर में 'जनस्थान' था। अब कलियुग में इसका नाम 'नासिक' है- 'कृते तु पद्यंनगरंत्रेतायां तु त्रिकंटकम् द्वापरे च जनस्थानं कलौ नासिकमुख्यते'।

पद्मनगर

विजयेन्द्र कुमार माथुर[6] ने लेख किया है ... पद्मनगर (AS, p.524) पौराणिक मान्यताओं के अनुसार नासिक (महाराष्ट्र) का ही प्राचीन नाम है। इसका नाम सतयुग में 'पद्मनगर', त्रेता में 'त्रिकंटक' और द्वापर में 'जनस्थान' था। अब कलियुग में इसका नाम 'नासिक' है- 'कृते तु पद्यंनगरंत्रेतायां तु त्रिकंटकम् द्वापरे च जनस्थानं कलौ नासिकमुख्यते'।

चक्रतीर्थ

विजयेन्द्र कुमार माथुर[7] ने लेख किया है ...1. चक्रतीर्थ (AS, p.324): नासिक (महाराष्ट्र) के पास गोदावरी का तीर्थ. गोदावरी के स्रोत, ब्रह्मगिरि के पश्चात इस स्थान पर नदी का जल पहली बार प्रकट होता है. यह ब्रह्मगिरि से 6 मील दूर है.

दक्षिण काशी

दक्षिण काशी (AS, p.422) लोकश्रुति में नासिक का एक नाम है. [8]

Jat Gotras

Notable persons

  • Kailash Gadar - Nasik, Mob:9665906365, 9425046425[9]
  • Dilip Singh Beniwal, Flat No.2, Sarvottam Society, Dwarka Corner, Phone: 0253-2595281 (Res) 2593614, 2507977, 2204303, 2204156 (Office). दिलीप सिंह बेनीवाल, सी-4 कर्मा हाइट्स, श्री समर्थ नगर, नासिक
  • Chaturbhuj Bajrang Chaudhary, Chaudhari Yatra Co, 276 M G Road. Ph: 0253-2598242, 2598871, 2508873 (Office) 2577364, 2577359 (Res), Mob: 9823091926
  • Bane Singh Jhajhadia, Bhagyawati Society, Plot No. 5, Parijat Nagar.
  • Mahendra Chaudhary - Director, Chaudhary Yatra Co. Pvt Ltd. Tirupati Apartment, Near Panchwati Hostel, Bhabha Nagar, Mumbai Naka, Nashik-422011. Mob: 9422272001, Email: mbc@choudharyyatra.co.in

External links

References


Back to Mahabharata Places