Normandy

From Jatland Wiki
(Redirected from Normans)
Jump to navigation Jump to search
Map of France

Normandy (नॉरमण्डी) is a geographical region of France corresponding to the former Duchy of Normandy. Rouen (Frankish: Rodomo; Latin: Rotomagus, Rothomagus) city on the River Seine in the north of France is the capital of the region of Normandy.

Variants of name

Origin

Dalip Singh Ahlawat[1] writes that Danes, Vikings, Normans and Goths were descendants of Scythian Jats. [2]

Norsemen

The Norsemen were a group of Germanic people who inhabited Scandinavia and spoke what is now called the Old Norse language between c. 800 and 1300 AD. The language belongs to the North Germanic branch of the Indo-European languages and is the predecessor of the modern Germanic languages of Scandinavia. In the late 8th century North Germanic tribes embarked on a massive expansion in all the directions. This was the start of the Viking Age, during which the North Germanic peoples as a whole were typically referred to as Norsemen, and seafaring traders, settlers and warriors were commonly referred to as Vikings.

Norseman means "man (in the generic sense) from the North" and applied primarily to Old Norse-speaking tribes living in southern and central Scandinavia. In history, "Norse" or "Norseman" could be any person from Scandinavia, even though Denmark, Norway and Sweden were different sets of people by the Middle Ages.

Connection between Normandy and Norsemen

The Old Frankish word Nortmann "Northman" was Latinised as Normanni and then entered Old French as Normands, whence the name of the Normans and of Normandy, which was settled by Norsemen in the 10th century.[3][4]


In the early Medieval period, as today, Vikings was a common term for attacking Norsemen, especially in connection with raids and monastic plundering by Norsemen in the British Isles. The Norse were also known as Ascomanni, ashmen, by the Germans,[5] Lochlanach (Norse) by the Gaels and Dene (Danes) by the Anglo-Saxons.[6]

The Gaelic terms Finn-Gall (Norwegian Viking or Norwegian), Dubh-Gall (Danish Viking or Danish) and Gall Goidel (foreign Gaelic) were used for the people of Norse descent in Ireland and Scotland, who assimilated into the Gaelic culture.[7] Dubliners called them Ostmen, or East-people, and the name Oxmanstown (an area in central Dublin; the name is still current) comes from one of their settlements; they were also known as Lochlannaigh, or Lake-people.

In the 8th century the inrush of the Vikings in force began to be felt all over Pictland. These Vikings were pagans and savages of the most unrestrained and pitiless type. They were composed of Finn-Gall or Norwegians, and of Dubh-Gall or Danes. The latter were a mixed breed, with a Hunnish strain in them.[8]

— Archibald Black Scott, The Pictish Nation, its People & its Church

However, British conceptions of the Vikings' origins were not quite correct. Those who plundered Britain lived in what is today Denmark, Scania, the western coast of Sweden and Norway (up to almost the 70th parallel) and along the Swedish Baltic coast up to around the 60th latitude and Lake Mälaren. They also came from the island of Gotland, Sweden. The border between the Norsemen and more southerly Germanic tribes, the Danevirke, today is located about 50 kilometres (31 mi) south of the Danish-German border. The southernmost living Vikings lived no further north than Newcastle upon Tyne, and travelled to Britain more from the east than from the north.

The northern part of the Scandinavian Peninsula (with the exception of the Norwegian coast) was almost unpopulated by the Norse, because this ecology was inhabited by the Sami, the native people of northern Sweden and large areas of Norway, Finland, and the Kola Peninsula in today's Russia.

The Slavs, the Arabs and the Byzantines knew them as the Rus' or Rhōs, probably derived from various uses of rōþs-, i.e. "related to rowing", or from the area of Roslagen in east-central Sweden, where most of the Vikings who visited the Slavic lands originated. Archaeologists and historians of today believe that these Scandinavian settlements in the Slavic lands formed the names of the countries of Russia and Belarus.

The Slavs and the Byzantines also called them Varangians (ON: Væringjar, meaning "sworn men"), and the Scandinavian bodyguards of the Byzantine emperors were known as the Varangian Guard.

History

Archaeological finds, such as cave paintings, prove that humans were present in the region in prehistoric times.

Belgae and Celts, known as Gauls, invaded Normandy in successive waves from the 4th to the 3rd century BC.

When Julius Caesar invaded Gaul, there were nine different Gallic tribes in Normandy.[9]

The Romanisation of Normandy was achieved by the usual methods: Roman roads and a policy of urbanisation. Classicists have knowledge of many Gallo-Roman villas in Normandy.

In the late 3rd century, barbarian raids devastated Normandy. Coastal settlements were raided by Saxon pirates. Christianity also began to enter the area during this period.

In 406, Germanic tribes began invading from the east, while the Saxons subjugated the Norman coast. The Roman Emperor withdrew from most of Normandy.

As early as 487, the area between the River Somme and the River Loire came under the control of the Frankish lord Clovis.

The Vikings started to raid the Seine Valley during the middle of 9th century. After attacking and destroying monasteries, including one at Jumièges, they took advantage of the power vacuum created by the disintegration of Charlemagne's empire to take northern France. The fiefdom of Normandy was created for the Danish Viking leader Hrolf Ragnvaldsson, or Rollo (also known as Robert of Normandy). Rollo had besieged Paris but in 911 entered vassalage to the king of the West Franks, Charles the Simple, through the Treaty of Saint-Clair-sur-Epte. In exchange for his homage and fealty, Rollo legally gained the territory which he and his Viking allies had previously conquered. The name "Normandy" reflects Rollo's Viking (i.e. "Northman") origins.

The descendants of Rollo and his followers adopted the local Gallo-Romance language and intermarried with the area's original inhabitants. They became the Normans – a Norman-speaking mixture of Scandinavians, Hiberno-Norse, Orcadians, Anglo-Danish, Saxons and indigenous Franks and Gauls.

Rollo's descendant William, Duke of Normandy, became king of England in 1066 in the Norman Conquest culminating at the Battle of Hastings, while retaining the fiefdom of Normandy for himself and his descendants.

Jat History

Sidhan (सिधन) is a gotra of Jats.[10]. This gotra originated from group of Saxon Jats in the western countries. [11] Saxon people were a confederation of Old Germanic tribes whose modern-day descendants in northern Germany are considered ethnic Germans while those in the eastern Netherlands are considered ethnic Dutch, those in modern Normandy ethnic French, and those in southern England ethnic English. [12]

Migration of Jats from Sapta Sindhu

Hukum Singh Panwar (Pauria)[13] writes... Just see the remarkable parallels between the functioning of the Germans and the Indian Jat tribal "Khaap" and "Sarvakhaap" panchayats. This further reminds us of the Vedic republican communities (the Panchajatah or Panchajna), who are, as we shall have occasion to show in the next chapter, considered by us as the common ancestors of the Indian Jats and the German Goths or Gots.

Before concluding, we may go into the question of identity of the Teutons and the Swedes. The Teutons were Aryans including High and low Germans and Scandanavians, and to be more specific Goths (Gots, Getae, Jats, Juts), Lombards (Lampaka or Lamba), Normans, Franks (Vrkas, Saxons (Sacae Getae) and Angles[14] The Suevis (Sivis) including the Vilka (Virkas), the Manns (Mans) the Schillers (Chhilller) (Within brackets I gave the Indian names of the tribes.) etc. who, as we shall note (infra), migrated from the Sapta Sindhu to the Scandanavian countries in ancient times, were known as


The Jats:Their Origin, Antiquity and Migrations: End of p.159


Svi Thjoth or Sui or (Suiones) Joth[15], (Sivi or Sibi Jat), in archaic Norse, and ultimately as the Swedes. Mr. B.S.Dahiya[16] has assiduously pin-pointed nearly 250 European communities whose names are identified by him with the surnames (gotras) of the Indian Jats. The Sivis were probably earliest migrants as leaders of these tribes. It is these tribes whose anthropological details are given above. In the light of the aforesaid evidence we can reasonably assert that the physical characteristics of the Sivisa (Suevis) and their descendents (the victims of Dasarajna wars, who managed, by hook or by crook, to remain in the Harappan region, cannot be different from those of ones who perforce left the country for good or were deported to their new home in the Scandanavian countries[17].

प्राचीनकाल में यूरोप देश

दलीप सिंह अहलावत[18] लिखते हैं: यूरोप देश - इस देश को प्राचीनकाल में कारुपथ तथा अङ्गदियापुरी कहते थे, जिसको श्रीमान् महाराज रामचन्द्र जी के आज्ञानुसार लक्ष्मण जी ने एक वर्ष यूरोप में रहकर अपने ज्येष्ठ पुत्र अंगद के लिए आबाद किया था जो कि द्वापर में हरिवर्ष तथा अंगदेश और अब हंगरी आदि नामों से प्रसिद्ध है। अंगदियापुरी के दक्षिणी भाग में रूम सागर और अटलांटिक सागर के किनारे-किनारे अफ्रीका निवासी हब्शी आदि राक्षस जातियों के आक्रमण रोकने के लिए लक्ष्मण जी ने वीर सैनिकों की छावनियां आवर्त्त कीं। जिसको अब ऑस्ट्रिया कहते हैं। उत्तरी भाग में ब्रह्मपुरी बसाई जिसको अब जर्मनी कहते हैं। दोनों भागों के मध्य लक्ष्मण जी ने अपना हैडक्वार्टर बनाया जिसको अब लक्षमबर्ग कहते हैं। उसी के पास श्री रामचन्द्र जी के खानदानी नाम नारायण से नारायण मंडी आबाद हुई जिसको अब नॉरमण्डी कहते हैं। नॉरमण्डी के निकट एक दूसरे से मिले हुए द्वीप अंगलेशी नाम से आवर्त्त हुए जिसको पहले ऐंग्लेसी कहते थे और अब इंग्लैण्ड कहते हैं।

द्वापर के अन्त में अंगदियापुरी देश, अंगदेश के नाम से प्रसिद्ध हुआ, जिसका राज्य सम्राट् दुर्योधन ने अपने मित्र राजा कर्ण को दे दिया था। करीब-करीब यूरोप के समस्त देशों का राज्य शासन आज तक महात्मा अंगद के उत्तराधिकारी अंगवंशीय तथा अंगलेशों के हाथ में है, जो कि ऐंग्लो, एंग्लोसेक्शन, ऐंग्लेसी, इंगलिश, इंगेरियन्स आदि नामों से प्रसिद्ध है और जर्मनी में आज तक संस्कृत भाषा का आदर तथा वेदों के स्वाध्याय का प्रचार है। (पृ० 1-3)।

यूरोप अपभ्रंश है युवरोप का। युव-युवराज, रोप-आरोप किया हुआ। तात्पर्य है उस देश से, जो लक्ष्मण जी के ज्येष्ठपुत्र अङ्गद के लिए आवर्त्त किया गया था। यूरोप के निवासी यूरोपियन्स कहलाते हैं। यूरोपियन्स बहुवचन है यूरोपियन का। यूरोपियन विशेषण है यूरोपी का। यूरोपी अपभ्रंश है युवरोपी का। तात्पर्य है उन लोगों से जो यूरोप देश में युवराज अङ्गद के साथ भेजे और बसाए गये थे। (पृ० 4)

कारुपथ यौगिक शब्द है कारु + पथ का। कारु = कारो, पथ = रास्ता। तात्पर्य है उस देश से जो भूमध्य रेखा से बहुत दूर कार्पेथियन पर्वत (Carpathian Mts.) के चारों ओर ऑस्ट्रिया, हंगरी, जर्मनी, इंग्लैण्ड, लक्षमबर्ग, नॉरमण्डी आदि नामों से फैला हुआ है। जैसे एशिया में हिमालय पर्वतमाला है, इसी तरह यूरोप में कार्पेथियन पर्वतमाला है।

इससे सिद्ध हुआ कि श्री रामचन्द्र जी के समय तक वीरान यूरोप देश कारुपथ देश कहलाता था। उसके आबाद करने पर युवरोप, अङ्गदियापुरी तथा अङ्गदेश के नाम से प्रसिद्ध हुआ और ग्रेट ब्रिटेन, आयरलैण्ड, ऑस्ट्रिया, हंगरी, जर्मनी, लक्षमबर्ग, नॉरमण्डी, फ्रांस, बेल्जियम, हालैण्ड, डेनमार्क, स्विट्जरलैंड, इटली, पोलैंड आदि अङ्गदियापुरी के प्रान्तमात्र महात्मा अङ्गद के क्षेत्र शासन के आधारी किये गये थे। (पृ० 4-5)

नोट - महाभारतकाल में यूरोप को ‘हरिवर्ष’ कहते हैं। हरि कहते हैं बन्दर को। उस देश में अब भी रक्तमुख अर्थात् वानर के समान भूरे नेत्र वाले होते हैं। ‘यूरोप’ को संस्कृत में ‘हरिवर्ष’ कहते थे। [19]

इंगलैंड पर नॉरमन विजय (सन् 1066-1154)

दलीप सिंह अहलावत[20] लिखते हैं: विकिंग्ज (Vikings) या नॉरमन्ज (Normans) - विकिंग्ज को नार्थमेन (Northmen) कहते थे क्योंकि वे नार्थ (उत्तर) में रहते थे। इनको संक्षेप में नॉरमन्ज (Normans) पुकारा जाने लगा। सन् 912 में इन नॉरमन्ज की एक बस्ती रोल्फ दी गेंजर (Rolf the Ganger) के अधीन फ्रांस के समुद्री किनारे पर नॉरमण्डी (Normandy) नामक थी। यह फ्रांस देश का एक प्रान्त है। डेन्ज (Danes), विकिंग्ज या नॉरमन सब जूट्स (Jutes) या जाट हैं। ये सब सीथियन जाटों के वंशज तथा उनके ही विभिन्न नाम हैं। अनटिक्विटी ऑफ जाट रेस पृ० 12-13 लेखक उजागरसिंह माहिल)।


दलीप सिंह अहलावत[21] लिखते हैं: इंगलैंड द्वीपसमूह के मनुष्यों की रगों में आज भी अधिकतर जाट रक्त बह रहा है। क्योंकि केल्टिक आर्य लोग तथा जूट, एंगल, सैक्सन और डेन लोग जाटवंशज थे। आज भी वहां पर अनेक जाटगोत्रों के मनुष्य विद्यमान हैं जो कि धर्म से ईसाई हैं।


दलीप सिंह अहलावत[22] लिखते हैं: स्केण्डेनेविया में रहने वाले जाटों को नार्थमेन-नॉरमन, विकिंग्स और डेन आदि नामों से पुकारा गया। वे बड़े बलवान् और उग्र थे। वे अपने जहाजों में ग्रीनलैण्ड व अमेरिका में भी पहुंचे। उन्होंने रूम सागर पर प्रभुता प्राप्त करके सिसिली और दक्षिणी इटली में भी एक राज्य स्थापित किया था। उनका एक दल रूस गया जहां पर एक राज्य स्थापित किया। इन लोगों का एक दल सन् 913 ई० में फ्रांस गया और वहां पर कुछ क्षेत्र विजय करके वहां के निवासी हो गये। इन लोगों के नाम पर वह क्षेत्र नॉरमण्डी कहलाया।

1066 ई० में साधु एडवर्ड की मृत्यु होने पर हेरोल्ड इंगलैण्ड का राजा बना। नॉरमण्डी के नॉरमन ड्यूक विलियम ने 1066 ई० में इंगलैण्ड पर आक्रमण कर दिया। राजा हैरोल्ड ने अपनी अंग्रेजी सेना के साथ नॉरमन सेना का मुकाबला किया। अन्त में 24 अक्तूबर, 1066 ई० में हेस्टिंग्स अथवा सेनलेक के स्थान पर नॉरमन सेना ने अंग्रेजी सेना को परास्त किया। हेरोल्ड बड़ी वीरता से लड़ा परन्तु उसकी आंख में तीर लगा जिससे वह रणक्षेत्र में वीरगति को प्राप्त हुआ। नॉरमण्डी के ड्यूक विलियम का वैस्टमिन्स्टर में इंगलैण्ड के राजा के रूप में राज्याभिषेक किया गया2

उजागरसिंह माहिल ने इन नॉरमनों के विषय में लिखा है कि “नॉरमन और कोई नहीं थे बल्कि ये जटलैण्ड के जूट या जाट थे जिन्होंने फ्रांस के उत्तरी समुद्री तट पर अधिकार कर लिया था। वे ह्रोल्फ दी गेंजर (Hrolf the Ganger) के नेतृत्व में उत्तरी फ्रांस पर उसी प्रकार टूट पड़े थे जिस प्रकार उनके पूर्वज हेंगेस्ट एवं होरसा बर्तानिया पर टूट पड़े थे। ह्रोल्फ ने सेन (Seine) नदी के डेल्टा के दोनों ओर के क्षेत्र को फ्राँस के राजा चार्ल्स-दी-सिम्पल से छीन लिया। फ्राँस के राजा ने नॉरमन नेता ह्रोल्फ से एक सन्धि 912 ई० में कर ली जिसके अनुसार इस समुद्री तट को राजा ने नॉरमनों को सौंप दिया और अपनी पुत्री का विवाह ह्रोल्फ से कर दिया। इस तरह से ह्रोल्फ (912-927 ई०) पहला ड्यूक ऑफ नॉरमण्डी बन गया। इनका नाम नॉरमन पड़ने का कारण यह है कि ये लोग नॉरवे और जूटलैण्ड के उत्तरी भाग में रहते थे। विजेता विलियम इस ह्रोल्फ से सातवीं पीढ़ी में था।”


1, 2. आधार लेख - इंगलैण्ड का इतिहास पृ० 40 से 43, 40, 49, लेखक प्रो० विशनदास; ए हिस्ट्री ऑफ ब्रिटेन पृ० 32-H से 32-O, 32-S से 32-T लेखक रामकुमार लूथरा।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-403


ड्यूक ऑफ नॉरमण्डी शासकों की वंशावली निम्न प्रकार से है -

1. ह्रोल्फ (912-927 ई०)

2. विलियम लोंग्वर्ड (927-943 ई०)

3. रिचर्ड प्रथम - निडर (943-996 ई०)

4. रिचर्ड द्वितीय - योग्य (996-1026 ई०)

5. रिचर्ड तृतीय (1026-1028 ई०)

6. राबर्ट (1028-1035 ई०)

7. विलियम प्रथम विजेता, (b.1035-r.1066-1087 ई०).

विलियम विजेता द्वारा इंगलैण्ड की विजय तथा उसके वंशज राजाओं का शासन, इंगलैंड के इतिहास का एक महत्त्वपूर्ण भाग है। उत्तर में जटलैंड में रहने वाले पूर्वजों का वंशज विलियम विजेता एक जाट था। उस बात को सिद्ध करने के लिए मैं इतिहासकार एच० जी० वेल्ज का वर्णन लिखता हूं जिसने अपनी पुस्तक “दी आउटलाइन ऑफ हिस्ट्री” के अध्याय 32, विभाग 8 में डेन, नॉरमन तथा विलियम विजेता के विषय में निम्न प्रकार से लिखा है -

सर्वव्यापक इतिहास के दृष्टिकोण से ये सब लोग पूर्णतः एक ही नॉरडिक परिवार के लोग थे। इनके समूह न केवल पश्चिम की ओर बढ़ते गये बल्कि पूर्व में भी चले गये। हम बाल्टिक सागर से काला सागर तक गोथ कहे जाने वाले इन लोगों के आन्दोलनों का बहुत ही रोचक वर्णन कर चुके हैं। इन गोथ लोगों के दो भाग आस्ट्रोगाथ (पूर्वी जाट) और वीसीगोथ (पश्चिमी जाट) लोगों की उत्साहपूर्ण यात्रायें खोज करके लिख दी हैं जो कि स्पेन में वीसीगोथ राज्य तथा इटली में आस्ट्रोगोथ साम्राज्य थे जो समाप्त हो गये।

नौवीं शताब्दी में एक दूसरा आंदोलन इन नॉरमन लोगों का रूस के पार चल रहा था और उसी समय इंगलैण्ड में उनकी बस्तियां तथा नॉरमण्डी में ड्यूक का पद मिलकर उनकी रियासत नॉरमण्डी स्थापित हो रही थी। दक्षिणी स्कॉटलैण्ड, इंगलैंड, पूर्वी आयरलैंड, फलैंडर्ज़ (बेल्जियम में पश्चिमी प्रान्त), नॉरमण्डी तथा रूस के लोगों में इतने अधिक सामान्य तत्त्व विद्यमान हैं कि हम उनकी पहचान करने में उनको अलग-अलग नहीं कर सकते। मूलतः ये सभी लोग गोथिक या नॉरडिक हैं। इनके नाप-तौल के पैमाने इंच व फुट एक ही थे।

रूसी नॉरसमेन (नॉरमन) गर्मियों में नदियों के रास्ते यात्रा करते थे। ये लोग रूस में बड़ी संख्या में थे। वे अपने जहाजों को उत्तर की ओर से दक्षिण की ओर बहनेवाली नदियों से ले जाते थे। वे लोग कैस्पियन तथा काला सागर पर समुद्री डाकुओं, छापामारों तथा व्यापारियों की तरह प्रतीत होते थे। अरब इतिहासकारों ने इन लोगों को कैस्पियन सागर पर देखा तथा यह भी ज्ञात हुआ कि इनको रूसी कहा जाता था। इन लोगों ने सन् 865, 904, 943 तथा 1073 ई० में छोटे समुद्री जहाजों के एक बड़े बेड़े के साथ पर्शिया (ईरान) पर छापा मारा और कांस्टेण्टीपल (पूर्वी


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-404


रोमन साम्राज्य की राजधानी) को भयभीत किया। इन नॉर्थमेन (नॉरमन) लोगों में एक रूरिक था जो कि लगभग सन् 850 ई० में नोवरगोरॉड (Novgorod) (पश्चिमी रूस में, लेनिनग्राड के दक्षिण में इलमेन (Ilmen) झील का क्षेत्र) का शासक बना और उसके उत्तराधिकारी ड्यूक आलेग ने कीफ (Kief) पर अधिकार कर लिया तथा आधुनिक रूस की नींव डाल दी। रूसी विकिंग्ज (नॉरमन) के कांस्टेण्टीपल के स्थान पर उनके युद्धकला के गुणों की बहुत प्रशंसा की गई। यूनानी उन्हें वरान्जियन्ज (Varangians) कहते थे तथा इन्होंने एक वरान्जियन्ज अङ्गरक्षक दल की स्थापना भी की।

1066 ई० में नॉरमनों द्वारा इंगलैण्ड को जीत लेने के पश्चात् बहुत से डेन तथा अंग्रेज लोगों को देश से बाहर निकाल दिया गया था और वे रूसी वरान्जियन्ज में सम्मिलित हो गये थे। उसी समय नॉरमण्डी के नॉरमन पश्चिम से रूमसागर में प्रवेश करने के लिए अपने पथ पर अग्रसर थे। पहले वे धन के लालच में आये किन्तु बाद में स्वतन्त्र छापामार बन गये। वे मुख्यतः समुद्र से नहीं बल्कि बिखरे हुए समूहों में थल से भी आए। वे लोग राइनलैण्ड (Rhineland, पश्चिमी जर्मनी में) तथा इटली से होकर आए थे। उनका उद्देश्य लड़ाई सम्बन्धी कार्यों, लूटपाट करने और तीर्थयात्रा करने का था। नौवीं और दसवीं शताब्दियों में उनकी ये तीर्थयात्राएं बहुत उन्नति पर थीं। जैसे ही इन नॉरमनों की शक्ति बढ़ी, वे लुटेरे एवं भयंकर डाकू के रूप में प्रकट हुये। सन् 1053 ई० में इन्होंने पूर्वी सम्राट् तथा पोप पर इतना दबाव डाला कि वे इनके विरुद्ध दुर्बल तथा विफल बन गये। बाद में ये हार गये और पकड़े गये तथा पोप द्वारा माफ कर दिए गए।

सन् 1060-1090 ई० में ये लोग केलेबरिया तथा दक्षिणी इटली में आबाद हो गये। सारासेन्ज (Saracens) से सिसिली पर विजय पाई। इन नॉरमन लोगों ने अपने नेता राबर्ट गुइस्कार्ड (Robert Guiscard), जो कि साहसी योद्धा था, और एक तीर्थयात्री के रूप में इटली में प्रवेश कर गया था और जिसने केलेबरिया (Calabria - इटली का एक दक्षिणी प्रान्त) में एक डाकू के रूप में अपना कार्य शुरु किया था, के नेतृत्व में सन् 1081 ई० बाईजन्टाईन (Byzantine) साम्राज्य को भयभीत कर दिया था।

उसकी सेना ने, जिसमें एक सिसिली के मुसलमानों का सेना दल था, ब्रिण्डिसी (Brindisi - इटली के पूर्वी तट पर) से समुद्र पार करके एपिरस (Epirus - यूनान का पश्चिमी प्रान्त) में प्रवेश किया था। परन्तु उनका यह मार्ग पाइर्रहस (Pyrrhus) के उस मार्ग से विपरीत था जिससे उसने 275 ई० पू० में रोमन साम्राज्य पर आक्रमण किया था।

इस राबर्ट ने बाईजन्टाईन साम्राज्य के शक्तिशाली दुर्ग दुराज्जो (Durazzo - अलबानिया में) पर घेरा डाला और उस पर सन् 1082 में अधिकार कर लिया। किन्तु इटली में घटनाओं के कारण उसे वहां से इटली लौटना पड़ा। अन्त में बाईजण्टाईन साम्राज्य पर नॉरमनों के इस पहले आक्रमण को समाप्त किया। इस प्रकार अधिक शक्तिशाली कमनेनियन (Comnenian) वंश के शासन के लिए रास्ता खोल दिया, जिसने सन् 1082 से 1204 ई० तक वहां शासन किया।

रोबर्ट गुइस्कार्ड ने सन् 1084 में रोम का घेरा लगाया तथा उसे जीत लिया। इसके लिये


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-405


इतिहासकार गिब्बन ने बड़े सन्तोष से यह स्वीकार किया है कि इन लुटेरों में सिसिली के मुसलमान सैनिक भी शामिल थे।

12वीं शताब्दी के इटली के पूर्वी साम्राज्य पर नॉरमन लोगों ने तीन और आक्रमण किए। उनमें से एक रोबर्ट गुइस्कार्ड के पुत्र ने किया तथा दूसरे दो आक्रमण सिसिली से सीधे समुद्री मार्ग से किए गए थे।

आगे यही लेखक एच० जी० वेल्ज इसी अध्याय 32, के पृष्ठ 635 पर लिखते हैं कि “जब हम इन दक्षिणी रूसी क्षेत्रों की वर्तमान जनसंख्या के विषय में सोचते हैं तो हमें नॉरमन लोगों का बाल्टिक तथा काला सागर के बीच आवागमन भी याद रखना होगा और यह भी याद रखना होगा कि वहां स्लावोनिक (Slavonic) जनसंख्या काफी थी जो कि सीथियन तथा सरमाटियन्ज (Sarmatians) के वंशज एवं उत्तराधिकारी थे। तथा वे इन अशान्त, कानूनरहित किन्तु उपजाऊ क्षेत्रों में पहले ही आबाद हो गये थे। ये सब जातियां परस्पर घुलमिल गईं तथा एक-दूसरे के प्रभाव में आ गईं। स्लावोनिक भाषाओं की, सिवाय हंगरी में, सम्पूर्ण सफलता से प्रतीत होता है कि स्लाव (Slav) लोगों की ही जनसंख्या अत्यधिक थी।”

मैंने यह विस्तृत उदाहरण इस बात को स्पष्ट करने के लिए दिए हैं कि डेन, विकिंग्ज, नॉरमन और गोथ - ये सब सीथियन जाटों में से ही थे तथा उन्हीं के वंशज थे1

इंगलैंड पर नॉरमन राज्य (1066-1154 ई०) में शासक:

विलियम प्रथम (विजयी) (1066-1087 ई०) -

14 अक्तूबर 1066 ई० को सेनलेक अथवा हेस्टिंग्स की विजय से विलियम प्रथम को इंगलैंड का सिंहासन प्राप्त हो गया। इस विजय के पश्चात् वह लन्दन की ओर बढ़ा और बुद्धिमानों की सभा (Witar) ने उसका स्वागत किया और अपनी इच्छा से उसे राजा के रूप में चुन लिया। इस प्रकार सैद्धान्तिक दृष्टि से उसके अधिकार का आधार चुनाव हो गया।

सेनलेक की विजय से विलियम इंगलैंड के केवल एक भाग का ही स्वामी बना था। देश के दूसरे भागों में अभी तक स्वतन्त्रता के युद्ध का कार्य चल रहा था तथा इंगलैंड के कई भागों में विद्रोह हुए और उन सबको दबाकर अपनी विजय को पूर्ण करने के लिए विलियम को पांच वर्ष तक घोर युद्ध करना पड़ा।

विलियम की नीति यह थी कि राजा की स्थिति को दृढ़ बनाया जाय और सारे इंगलैंड में एक शक्तिशाली केन्द्रीय शासन स्थापित किया जाय। वह सारी शक्ति अपने आप में केन्द्रित करके देश का वास्तविक शासक बनना चाहता था।

अंग्रेजों को अपने अधीन करने के लिए उनसे उनकी भूमियां जब्त कर लीं और वह नॉरमनों को दे दीं। इससे अमीर अंग्रेजों की शक्ति भंग हो गई तथा उनकी ओर से विरोध या विद्रोह का भय


1. अनटिक्विटी ऑफ जाट रेस, पृ० 66 से 70, लेखक उजागरसिंह माहिल


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-406


न रहा। उसने देशभर में किले बनवा दिये जिनमें नॉरमन सैनिक रखे ताकि वे अंग्रेजों के किसी भी विद्रोह को दबा सकें।

नॉरमनों को अपने अधीन रखने के लिये उसने नवाबी प्रथा का लोप कर दिया। उसने नॉरमन सरदारों को एक स्थान पर भूमि न देकर भिन्न-भिन्न भागों में बिखेरकर भूमियां दीं ताकि उनकी शक्ति का संगठन न हो सके। उसने अंग्रेजों की मिलिशिया सेना संगठित की, जो नॉरमनों के विद्रोह को दबाने के लिए हर समय तैयार रहती थी। उसने मुख्य काश्तकारों और उप-काश्तकारों को सालिसबरी में इकट्ठा करके उनसे राजा के प्रति भक्त रहने की शपथ दिलवाई।

उसने अंग्रेजी चर्च को रोम की बजाय अपने अधीन कर लिया। उसने पादरियों को मजबूर किया कि वे उसकी अधीनता स्वीकार करें तथा उसी से पद प्राप्त करें। उसने पादरियों की सभा (Synod) को आज्ञा दी कि वह राजा की स्वीकृति के बिना कोई कानून न बनाये। इससे चर्च की शक्ति राज के हाथों में आ गई।

विलियम द्वारा पादरियों को ब्रह्मचारी रहने की आज्ञा दी गई। पुराने सैक्सन पादरियों के स्थान पर नए नॉरमन पादरी रखे गए और चर्च का रोम के साथ सम्बन्ध कम कर दिया।

विलियम एक चतुर और दूरदर्शी राजनीतिज्ञ था। उसने इंगलैंड की सम्पत्ति और आय के स्रोतों की जाँच करवाई। यह जाँच इतनी पूर्ण थी कि कोई भूमि, सड़क तथा पशु आदि ऐसा न था जिसे पुस्तक में दर्ज न किया गया हो। यह जाँच सन् 1086 ई० में सम्पूर्ण हो गई और इसे ‘डूम्स्डे’ नामक पुस्तक में दर्ज किया गया। इसी को “डूम्सडे पुस्तक” (Doomsday Book) कहते हैं। यह प्रत्येक भूपति के नाम और उसकी जायदाद का वर्णन करती है तथा 11वीं शताब्दी के इंगलैंड के हालात का बहुमूल्य अभिलेख (Record) है। इससे सरकार की आय भी निश्चित हो गई और सरदारों की शक्ति का भी ज्ञान हो गया। यह पुस्तक उस समय के इंगलैंड का सच्चा चित्र है।

विलियम ने स्काटलैंड पर आक्रमण किया और उससे अपना परमाधिकार मनवाया। उसने फ्रांस के राजा को, विलियम के विद्रोही भाई की सहायता करने पर, दंड देने के लिए फ्रांस पर आक्रमण किया। उस प्रकार उसने इंगलैंड की प्रतिष्ठा बढ़ाई।

विलियम की इंगलैंड के प्रति सबसे बड़ी सेवा यह थी कि उसने देश में एक दृढ़ और निश्चित राष्ट्रीय राजतन्त्र स्थापित किया। वह एक योग्य प्रशासक और सफल राजनीतिज्ञ था। वह विदेशी था, परन्तु उसने इंगलैंड पर बुद्धिमत्ता के साथ शासन किया और अपनी प्रजा का उपकार किया। वह एक कठोर और कड़ा शासक था। उसने देश में शान्ति स्थापित की। राज्यभर में कोई आदमी अपनी छाती पर सोना रखकर जा सकता था। यह कहना उचित ही है कि “नॉरमन विजय इंगलैंड के इतिहास में एक निर्णायक स्थिति अथवा स्थल चिह्न है और यह विजय एक गुप्त आशीर्वाद थी।”

सम्राट् विलियम की सितम्बर 9, 1087 ई० को अपने घोड़े पर से गिरकर मृत्यु हो गई1


1. इंगलैण्ड का इतिहास पृ० 6-74, लेखक प्रो० विशनदास; ए हिस्ट्री ऑफ ब्रिटेन पृ० 32-R - 32-X, लेखक रामकुमार लूथरा।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-407


विलियम द्वितीय (1087-1100 ई०) -

विलियम विजयी ने अपने सबसे बड़े पुत्र राबर्ट को वसीयत द्वारा नॉरमण्डी का राज्य दिया और अपने अधिक पुरुषार्थी पुत्र विलियम को इंगलैंड का राज्य दिया। अपने तीसरे पुत्र हेनरी को केवल धन ही दिया। विलियम द्वितीय का अभिषेक 26 सितम्बर, 1087 ई० को वेस्टमिनिस्टर के बड़े गिरजा में हुआ।

वह एक अविश्वासी, अधार्मिक, सिद्धान्तहीन और क्रूर राजा था। उसमें अपने पिता के कोई गुण नहीं थे। उसने अपनी अनुचित आज्ञाओं को लोगों पर लागू करने के लिए वेतनभोगियों को अपने इर्दगिर्द इकट्ठा कर लिया। वह सरदारों से धन निचोड़ने के लिए अत्याचारपूर्ण तरीके प्रयोग में लाता था। इस कारण सामन्तगण इसको पसन्द नहीं करते थे तथा युद्ध आदि में कभी भी इसकी सहायता करने को तैयार नहीं होते थे।

प्रथम धर्मयुद्ध (First Crusade) 1095-1099 ई०

तुर्की ने जेरुसलेम को विजय कर लिया और वे जेरुसलेम की यात्रा करनेवाले ईसाई यात्रियों को बहुत कष्ट देते थे। सन् 1095 ई० में पोप ने ईसाई योद्धाओं को तुर्कों के विरुद्ध पवित्र युद्ध में शामिल होने के लिए आह्वान किया। प्रथम धर्म-युद्ध (1095-99) अपने उद्देश्य में सफल रहा और जेरुसलेम पर ईसाइयों का अधिकार हो गया।

विलियम द्वितीय की मृत्यु सन् 1100 ई० में घातक चोट लगने से हो गई।

हेनरी प्रथम (1100-1135 ई०) -

विजयी विलियम का सबसे छोटा पुत्र हेनरी प्रथम नये वन में शिकार खेल रहा था जबकि विलियम द्वितीय को घातक चोट लगी तथा उसकी मृत्यु हो गई। क्योंकि राबर्ट पूर्व में जेरुसलेम में धर्म-युद्ध लड़ रहा था, इसलिए हेनरी प्रथम को सरदारों ने राजा चुन लिया। उसका राज्याभिषेक 5 अगस्त 1100 ई० में हुआ। उसने स्वतन्त्राओं का चार्टर (शासन-पत्र) जारी करके अपनी प्रजा को सुशासन का विश्वास दिलाया। इस चार्टर की धारायें निम्नलिखित थीं –

  1. चार्टर में यह बताया गया कि राजा हेनरी को सारे इंगलैंड के लोगों ने राजा चुना है।
  2. उसने जनता के धन को निचोड़नेवाले सब कठोर, अत्याचारपूर्ण तरीके उड़ा दिए जो कि उसके भाई विलियम द्वितीय के राज्यकाल में प्रचलित थे।
  3. चर्च को भी अनुचित रूप से धन निचोड़ने के तरीकों से मुक्त कर दिया गया। सरदारों को विश्वास दिलाया गया कि उनसे अनुचित तरीकों से रुपया नहीं निचोड़ा जायेगा।
  4. सरदारों को भी चेतावनी दी गई कि वे अनुचित तरीकों से अपने काश्तकारों से धन न निचोड़ें।
  5. साधु एडवर्ड के कानूनों को फिर से लागू किया गया।
  6. यह प्रतिज्ञा की गई कि शुद्ध सिक्के जारी किये जायेंगे।

जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-408


हैनरी ने प्रशासनिक सुधार किए -

  1. उसने प्राचीन शत सभाओं (Hunded Moots) और शायर सभाओं (Shire Moots) को पुनर्जीवित किया।
  2. नॉरमन विजय से पहले के समय की बुद्धिमानों की सभा (Witanage moot) के स्थान पर महान् परिषद (Great Council) बनाई गई। इसमें बुद्धिमान् व्यक्ति न्याय के आधार पर झगड़ों का निर्णय करते थे।
  3. दो न्यायालय बनाये गये (1) एक्सचेकर (Exchequer) - जिसका काम राजस्व को इकट्ठा करना और उसका नियन्त्रण करना था। इसके प्रधान को 'जसतिशिया' कहा जाता था। (2) क्यूरिया रीजिस (Curia Regis) अथवा राजकीय न्यायालय, महत्त्वपूर्ण न्यायिक कार्य करता था। यह बड़े-बड़े काश्तकारों के मुकद्दमों और शायर सभाओं के फैसलों के विरुद्ध अपीलें करता था।
  4. घूमने-फिरने वाले न्यायाधीश (Lutinerant Justices) नियुक्त किये गये जो कि देश में घूमकर यह देखते थे कि छोटे न्यायालय लोगों को ठीक न्याय देते हैं या नहीं। इससे निर्धन से निर्धन व्यक्ति को भी उचित न्याय प्राप्त होने लगा।

न्यायिक कार्यों में रुचि रखने और उसके द्वारा किए गए अनेक न्यायिक सुधारों के कारण हेनरी सत्यपरायणता का शेर कहा जाता है।

हेनरी बड़ा बुद्धिमान् प्रशासक था। पादरियों और अंग्रेज जाति ने उसके कार्यों का समर्थन किया, क्योंकि उसने देश में शान्ति और न्याय की व्यवस्था की।

2 दिसम्बर, 1135 ई० को सम्राट् हेनरी की मृत्यु हो गई।

स्टीफन (1135-1154 ई०) -

स्टीफन विजयी विलियम प्रथम की पुत्री एडेला का पुत्र था। हेनरी प्रथम के मरने पर उसकी एकमात्र पुत्री माटिल्डा (Matilda) थी। हेनरी ने अपने सरदारों से, जिनमें स्टीफन भी शामिल था, यह शपथ ले ली थी कि वे उसके मरने पर उसकी पुत्री माटिल्डा को इंग्लैण्ड की रानी बनायेंगे। उन्होंने दबाव में आकर यह शपथ ली थी, परन्तु वास्तव में वे अशान्त समय में एक स्त्री को अपनी रानी बनाने से डरते थे। इसलिए उन्होंने बड़ी प्रसन्नता के साथ विजयी विलियम की पुत्री एडेला (Adela) के पुत्र स्टीफन को अपना राजा बना लिया। इस पर गृह-युद्ध शुरु हो गया, जो कई वर्षों तक चलता रहा। शुरु-शुरु में माटिल्डा को कुछ सफलता मिली। स्टीफन पकड़ा गया और माटिल्डा का लन्दन में अभिषेक किया गया। परन्तु उसने अपने घमण्डी व्यवहार से सरदारों को नाराज कर दिया और वे स्टीफन के झण्डे तले इकट्ठे हो गये।

माटिल्डा का मामा डेविड जो स्कॉटलैण्ड का राजा था, ने माटिल्डा के पक्ष को अपनाकर इंग्लैंड पर आक्रमण कर दिया, परन्तु वह सन् 1138 ई० में स्टैण्डर्ड की लड़ाई में पराजित हुआ। इसके बाद एक समझौता किया गया जिसके अनुसार डेविड के पुत्र हेनरी को नार्थम्बरलैंड में एक जागीर दी थी। अब माटिल्डा का कोई शक्तिशाली समर्थक न रहा। जब उसका भाई राबर्ट पकड़ा गया तो वह भागने पर मजबूर हो गई। राबर्ट और स्टीफन के समर्थकों में युद्ध फिर शुरु हो गया। परन्तु इससे थोड़े समय पश्चात् माटिल्डा को सिंहासन प्राप्ति की कोई आशा न रही और वह भागकर फ्रांस को चली गई।

अन्त में 1153 ई० में वालिंगफोर्ड (Wallingford) की सन्धि द्वारा युद्ध समाप्त हो गया


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-409


जिसके अनुसार स्टीफन मरने तक राजा रहेगा तथा उसका उत्तराधिकारी माटिल्डा का पुत्र हेनरी द्वितीय होगा। स्टीफन की मृत्यु सन् 1154 ई० में हो गई और हेनरी द्वितीय इंग्लैंड के सिंहासन पर बैठा। इस तरह से इंग्लैंड पर से नॉरमन राज्य सन् 1066 से 1154 ई० तक 88 वर्ष रहकर समाप्त हो गया।

स्टीफन एक कमजोर राजा था। उसके राज्यकाल में अव्यवस्था और अराजकता मची रही। इस कारण उसके राज्यकाल को 19 लम्बी सर्दियां कहा जाता है।

नॉरमन विजय से इंगलैंड को लाभ - नॉरमन शासक इंगलैंड के लिए एक आशीर्वाद थे और उन्होंने देश के राजनैतिक, सामाजिक, आर्थिक और धार्मिक जीवन के स्तर को उन्नत किया। नॉरमन राजा बड़े शक्तिशाली थे और उन्होंने कठोरतापूर्वक देश से अव्यवस्था दूर करके अन्दरूनी शान्ति स्थापित कर दी और इंगलैंड पर एक स्थिर शासन स्थापित किया।

नॉरमनों ने देश को अपनी नई कला, वास्तुविद्या (Architecture), ज्ञान, व्यवहार, संस्थायें और संस्कृति प्रदान की। इन कारणों से नॉरमन विजय को इंगलैंड के इतिहास में निर्णयात्मक स्थिति माना जाता है।

समय बीतने पर नॉरमन लोग अंग्रेजों में विलीन होकर एक जाति बन गये1

इंग्लैंड के नॉरमन शासकों (1066-1154 ई०) की वंशावली

विलियम प्रथम (विजयी) (1066-1087 ई०)

1. राबर्ट - नॉरमण्डी का ड्यूक (निःसन्तान मर गया)

2. विलियम द्वितीय (रूफस) (1087-1100)

3. हेनरी 1100-1135

4. एडला का पुत्र स्टीफन 1135-1154

हेनरी (1100-1135)

1. विलियम (1120 में डूबकर मरा) 2. माटिल्डा (पुत्री)

नोट : सन् 1154 ई० में स्टीफन के मरने पर इंगलैंड पर से नॉरमन जाटों का शासन समाप्त हो गया। उसके बाद अंजौवंश अथवा प्लांटेजिनेट्स का शासन इंगलैंड पर शुरु हो गया जिसका प्रथम सम्राट् हेनरी द्वितीय (1154-1189) था)।

External links

References

  1. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV, p.406
  2. Ujagar Singh Mahil: Antiquity of Jat Race, p.66-70
  3. Michael Lerche Nielsen, Review of Rune Palm, Vikingarnas språk, 750–1100, Historisk Tidskrift 126.3 (2006) 584–86 (pdf pp. 10–11) (in Swedish)
  4. Louis John Paetow, A Guide to the Study of Medieval History for Students, Teachers, and Libraries, Berkeley: University of California, 1917, OCLC 185267056, p. 150, citing Léopold Delisle, Littérature latine et histoire du moyen âge, Paris: Leroux, 1890, OCLC 490034651, p. 17.
  5. Adam of Bremen 2.29.
  6. Richards, Julian D. (8 September 2005). Vikings : A Very Short Introduction. UK: Oxford University Press. pp. 15–16. ISBN 9780191517396
  7. Baldour, John Alexander; Mackenzie, William Mackay (1910). The Book of Arran. Arran society of Glasgow. p. 11.
  8. Scott, Archibald Black (1918). The Pictish Nation, its People & its Church. Edinburgh/London: T. N. Foulis. p. 408. OCLC 4785362.
  9. "César et les Gaulois" (in French). pagesperso-orange.fr.
  10. O.S.Tugania:Jat Samuday ke Pramukh Adhar Bindu,p.62,s.n. 2445
  11. Mahendra Singh Arya et al.: Adhunik Jat Itihas,
  12. Saxons in Wikipedia
  13. The Jats:Their Origin, Antiquity and Migrations/An Historico-Somatometrical study bearing on the origin of the Jats, p.159-160
  14. Ripley op.cit., p. 106.
  15. Cr. Ch no. IX in the book.
  16. Cr. Ch no. IX in the book.
  17. Jats the Ancient Rulers (A clan study)/Appendices/Appendix II, p.319-332
  18. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV,p.339-340
  19. (सत्यार्थप्रकाश दशम समुल्लास पृ० 173)
  20. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV,p.321
  21. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV, p.401
  22. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV, pp.403-410