Ranthambore

From Jatland Wiki
(Redirected from Rinthumbor)
Jump to navigation Jump to search
Author:Laxman Burdak, IFS (R)

Ranthambore Fort
View from Ranthambore Fort

Ranthambore (रणथम्भोर) or Ranthambhor or Ranthambhore is a town of historical importance in Sawai Madhopur district in Rajasthan.

The Founders

It was founded by Nagil jat chieftain Ran Mal , hence the name Ranthambore. [1][2][3] Its earlier name was Ranastambha (रणस्तम्भ) or Ranastambhapura (रणस्तम्भपुर). It was associated with Jainism during the times of Prithviraja I of Chahamana dynasty in 12th century. Siddhasenasuri, who lived in 12th century has included this place in the list of holy Jaina tirthas. In Mughal period a temple of Mallinatha was built in the fort. [4]

History

Ranthambore Fort, Sawai Madhopur

Ran Mal Jat founded this place by putting a stambh (pillar) at the location of present Ranthambore. He challenged the neighbouring rulers for battle. The area around Ranthambore was ruled by Gora and Nagil Jats two centuries prior to the rule of Chauhans.[5]

Raja Sajraj Veer Singh Nagil (880 to 935 AD) was the most famous ruler of the this small Jat State who headed a small army of 20000 die hard warriors including a calvary of 10000 soldiers to protect his kingdom from invaders.He was the first ruler of Ranthambore who developed and raised infrastructure to make this area worth talking. He is also considered as the founder of the fort, but nobody knows for certainty about the real founder the famous fort.

The Jat chieftains of the area helped Bhaga Bhatta Chauhan against Muslim invaders. Jalal-ud-deen Tunia of the group belonging to the group owing allegience to Razia Begum wanted to capture Ranthambhor. Razia had also come to attack the fort and sought help from the Jats. Thereafter Altunia with the help of Jats attacked Delhi also. [6]

Nagavanshi History

We get following information from the history of Nagil clan: According to the records with people of this clan in Haryana, Raja Sajraj Veer Singh Nagil was the most famous ruler of this clan (880 to 935 AD). He ruled Ranthambore for 31 years. He is still remembered by his descendants and local historians for his administrative and war skills. His descendants are found in Sanjerwas, Jaitpur of Bhiwani district and Harita (हरिता) of Hisar district, very close to Rajasthan Border in Haryana. The great Nagill king headed and maintained a small army of 20000 thousand die hard Jat warriors including the cavalry of 10000 soldiers to protect his kingdom from the powerful Rajput kings of Rajasthan. Raja Sajraj Veer Singh Nagil had full support of Gora clan of Jat that ruled Ranthambore for a long time. Both Nagil and gora are associated with the rulers of Marwar. Nagill clan is brotherly branch of Kulharia rulers of Marwar. Nagil, Gora and Kulharia they all belong to the Nagavansh association.

It is believed that one foster son of Kularia ruler, whose grandfather was Jat ruler of Naga clan and ruled the north India for a long time, was playing in garden,when he spotted a garish, black cobra snake laying under a spout. The lethal snake attracted and drew the attention of little boy. He started playing with the patience of king cobra. The cobra ignored the little prince but the prince kept pursuing the noble work of provoking the king cobra snake. When the furious Naga was about to retaliate the little prince, the boy scared and shouted for the help. His meek voice for help was heard by his mother who at once rushed to help her little one. She found her kid son shivering in front of a black king cobra. She realized the situation and tendered her apology to the snake king on the behalf of her little son and asked the NAG to spare her son as he was not able to understand the dignity of a king cobra. She also assured the king snake that her son will carry the original title Naga if his life is spared by god of the snakes. She also reminded the king snake that Kulahria family is a Nagavanshi and worships the Shiva and Naga king. She also revealed that the little boy belongs to the Naga clan of Jat and deserves the blessing of king cobra. The king Naga forgave the little prince and gave its blessing to the kid by touching his right hand affectionately and left the room without any fuss.The mother kept her promise and the surname of the boy was reverted back since then the descendants of the prince are known as Nagill. The word Nagil had been derived from the association of Nagavansh. For a matter of fact, Nagill, Kohad and Kulaharia never marry in their clans.

Later on the same little prince captured the Ranthambore much before 900 A.D. and his children ruled this part of Rajasthan. The Nagill dynasty ruled the Ranthambore in isolation without any ambition. Raja Sajraj Veer Singh Nagil was the son of that naughty little prince who teased the king of snake innocently.

There are around 2500 people of this clan in Sanjerwas, Harita and Jaitpur in Haryana who are the only descendants of Raja Sajraj Veer Singh Nagil of Ranthambore. The Nagils are well known for their royal habits and well placed status in society.

Ranthambore Fort

The fortress of Ranthambore was founded by the Nagil[7]Ranthambore Fort is a formidable fort and has been a focal point of historical developments of Rajasthan. It is situated near Sawai Madhopur town in Rajasthan.

Nagill-The Jat Rulers And Tiger conservators

The Ranthambore was ruled by Nagil , a Jat of Nagavansh, prior to the rule of Prithviraj Chauhan of Ranthambore.The nagill jat captured the ranthambore much before 900A.D. and developed it into a place to live in.The name of the jat king ,was Raja Sajraj Veer Singh nagil who is also considered, according to the famous Jat historians Thakur Deshraj , the writer of jat ithihas 1934 and Mr Dharmpal Singh Dudi, Nagil people, a Jat clan, were rulers of Ranthambore.The association of nagil claim that their king was sajraj singh nagil and his small fort was demolished by Chouhan rulers and established their empire and fort of Ranthambore was renovated by them. Moreover no historian is sure about the date of construction of the fort.The A.S.I ,official agency of Indian Govt, is yet to confirm the actual date of construction of the fort .

The King of chauhans captured it from jat rulers as per the jat historians such as Takur deshraj singh. Raja Sajraj Veer Singh was really a brave king with brain,he also formulated some policies to conserve the FOREST and the TIGERS.He used to impose penalty on the offenders.He was a small king with a army of 20000 soldiers including the calvary of 10000 warrior.He was a nature lover king who did every thing for the human beings and tigers .He was a modern conservator in real sense.This is irony that he was never mentioned by the historians as a high class conservator.He is remembered as a brave king by his descendants of village Sanjarwas Haryana. We must adore his forest friendly policies and endorse his views about the conservation of tigers .He was against the customary law of hunting down the innocent animals.Even the guests of royal Jat ruler had been debarred from entering the forest. Once the Jat rulers lost the kingdom, the hunting had become a routine for the successive rulers whether its Hindu rulers or fanatic Mughal rulers. These so-called rulers just lived a lavish life style and never cared about wild creatures and human beings.The small time rulers did a better job than our big time rulers.The first ruler of Ranthambore, Raja Sajraj Veer Singh Nagill, never got the attention he deserved

Nagil - History of Nagil clan

रणथम्भौर

विजयेन्द्र कुमार माथुर[8] ने लेख किया है ...रणथंभौर, राजस्थान: [पृ.774]:सवाई माधोपुर नामक कस्बे से 6 मील दूर घने जंगलों के बीच राजस्थान का यह इतिहास प्रसिद्ध दुर्ग है. रणथम्भौर का दुर्ग सीधी ऊँची खड़ी पहाड़ी पर लगभग 9 मील के घेरे में विस्तृत है. किले के तीन ओर प्राकृतिक खाई बनी है जिसमें जल बहता रहता है. क़िला सुदृढ़ और दुर्गम परकोटे से घिरा हुआ है। दुर्ग के दक्षिणी ओर 3 कोस पर एक पहाड़ी है, जहाँ 'मामा-भानजे' की क़ब्रें हैं। सम्भवतः इस पहाड़ी पर से यवन सैनिकों ने इस क़िले को जीतने का [पृ.775]: प्रयत्न किया होगा और उसी में यह सरदार मारे गए होंगे। रणथम्भौर क़िले के निर्माता का नाम अनिश्चित है, किन्तु इतिहास में सर्वप्रथम इस पर चौहानों के अधिकार का उल्लेख मिलता है। सम्भव है कि राजस्थान के अनेक प्राचीन दुर्गों की भाँति इसे भी चौहानों ने ही बनवाया हो। जनश्रुति है कि प्रारम्भ में इस दुर्ग के स्थान के निकट 'पद्मला' नामक एक सरोवर था। यह इसी नाम से आज भी क़िले के अन्दर ही स्थित है। इसके तट पर पद्मऋषि का आश्रम था। इन्हीं की प्रेरणा से जयंत और रणधीर नामक दो राजकुमारों ने जो कि अचानक ही शिकार खेलते हुए वहाँ पहुँच गए थे, इस क़िले को बनवाया और इसका नाम 'रणस्तम्भर' रखा। क़िले की स्थापना पर यहाँ गणेश जी की प्रतिष्ठा की गई थी, जिसका आह्वान राज्य में विवाहों के अवसर पर किया जाता है।

क़िले का प्रारम्भिक इतिहास अनिश्चित है। राजपूत काल के पश्चात् से 1563 ई. तक यहाँ पर मुस्लिमों का अधिकार था। इससे पहले बीच में कुछ समय तक मेवाड़ नरेशों के हाथ में भी यह दुर्ग रहा। इनमें चौहान शासक राणा हम्मीर प्रमुख हैं। इनके साथ दिल्ली के सुल्तान अलाउद्दीन ख़िलज़ी का भयानक युद्ध 1301 ई. में हुआ था, जिसके फलस्वरूप रणथम्भौर की वीर नारियाँ पतिव्रत धर्म की ख़ातिर चिता में जलकर भस्म हो गईं और राणा हम्मीर युद्ध में वीर गति को प्राप्त हुए। इस युद्ध का वृत्तान्त जयचंद के 'हम्मीर महाकाव्य' में है। 1563 ई. में बूँदी के एक सरदार सामन्त सिंह हाड़ा ने बेदला और कोठारिया के चौहानों की सहायता से मुस्लिमों से यह क़िला छीन लिया और यह बूँदी नरेश सुजानसिंह हाड़ा के अधिकार में आ गया।

मुग़ल अधिकार: चार वर्ष बाद मुग़ल बादशाह अकबर ने चित्तौड़ की चढ़ाई के पश्चात् मानसिंह को साथ लेकर रणथम्भौर पर चढ़ाई की। अकबर ने परकोटे की दीवारों को ध्वस्त करने में कोई कसर नहीं छोड़ी, किन्तु पहाड़ियों के प्राकृतिक परकोटों और वीर हाड़ाओं के दुर्दनीय शौर्य के आगे उसकी एक न चली। किन्तु राजा मानसिंह ने छलपूर्वक राव सुजानसिंह को अकबर से सन्धि करने के लिए विवश कर दिया। सुजानसिंह ने लोभवश क़िला अकबर को दे दिया, किन्तु सामन्त सिंह ने फिर भी अकबर के दाँत खट्टे करके मरने के बाद ही क़िला छोड़ा। 1569 ई. में इस पर अकबर का अधिकार हो गया। इसके बाद अगले दो सौ वर्षों तक इस पर मुग़लों का अधिकार बना रहा। 1754 ई. तक रणथम्भौर पर मुग़लों का अधिकार रहा। इसी वर्ष इसे मराठों ने घेर लिया, किन्तु दुर्गाध्यक्ष ने जयपुर के महाराज सवाई माधोसिंह की सहायता से मराठों के आक्रमण को विफल कर दिया और दुर्गाध्यक्ष ने किले को जयपुर नरेश को सौंप दिया. तब से आधुनिक समय तक यह क़िला जयपुर रियासत के अधिकार में रहा।

रणथम्भौर किला

क़िले के निर्माण का समय: राजस्थान के इतिहास में कई ऐतिहासिक घटनाओं के साक्षी रहे रणथम्भौर क़िले के निर्माण का समय एवं निर्माता के बारे में निश्चित जानकारी नहीं है। सामान्यतः यह माना जाता है कि इस क़िले का निर्माण आठवीं शताब्दी में हुआ था।इस किले का निर्माण रणमल नागिल ने करवाया था। ग्यारहवीं-बारहवीं शताब्दी तक इस क़िले की प्रसिद्धि इतनी फैल चुकी थी कि तत्कालीन समय के विभिन्न ऐतिहासिक महत्त्व के ग्रंथों में इसका उल्लेख मिलता है। इतिहास में सर्वप्रथम इस क़िले पर चौहानों के आधिपत्य का उल्लेख मिलता है। यह सम्भव है कि चौहान शासक रंतिदेव ने इसका पुनःनिर्माण करवाया हो। [9]

क़िले का प्रारम्भिक इतिहास अनिश्चित है। मुहम्मद ग़ोरी के हाथों तराइन में पृथ्वीराज चौहान की पराजय के बाद उनका पुत्र गोविन्दराज दिल्ली और अजमेर छोड़कर रणथम्भौर आ गया और यहाँ शासन करने लगा। उसके बाद लगभग सौ वर्षों तक चौहान रणथम्भौर पर शासन करते रहे। उनके समय में दुर्ग के वैभव में बहुत वृद्धि हुई। [10]

रणथम्भौर क़िला राजस्थान के सवाईमाधोपुर ज़िले में स्थित प्राचीन ऐतिहासिक एवं सामरिक महत्त्व के दुर्गों में अपना विशेष स्थान रखता है। यह अत्यंत विशाल पहाड़ी दुर्ग है। अपनी प्राकृतिक बनावट के कारण यह काफ़ी प्रसिद्ध है। यद्यपि यह दुर्ग ऊँची पहाड़ियों के पठार पर बना हुआ है, परंतु प्रकृति ने इसे अपने अंक में इस तरह भर लिया है कि मुख्य द्वार पर पहुँचकर ही इस दुर्ग के दर्शन किये जा सकते हैं। इस दुर्ग के प्राचीर से काफ़ी दूर तक शत्रु पर निगाह रखी जा सकती थी। यह क़िला चारों ओर सघन वनों से आच्छादित चम्बल की घाटी पर नियंत्रण रखता था। [11]

क़िले में विभिन्न हिन्दू और जैन मंदिरों के साथ एक मस्जिद भी है. आवासीय और प्रवासी पक्षियों की एक बड़ी विविधता यहाँ देखी जा सकती है, क्योंकि क़िले के आसपास कई जल निकाय उपस्थित हैं। इस क़िले से पर्यटक रणथंभौर राष्ट्रीय उद्यान के शानदार दृश्यों का आनन्द उठा सकते हैं। [12]

कलात्मक भवन: चौहान शासकों ने इस दुर्ग में अनेक देवालयों, सरोवरों तथा भवनों का निर्माण करवाया था। चित्तौड़ के गुहिल शासकों ने भी इसमें कई भवन बनवाये। बाद में मुस्लिम विजेताओं ने कई भव्य देवालयों को नष्ट कर दिया। वर्तमान में क़िले में मौजूद नौलखा दरवाज़ा, दिल्ली दरवाज़ा, तोरणद्वार, हम्मीर के पिता जेतसिंह की छतरी, पुष्पवाटिका, गणेशमन्दिर, गुप्तगंगा, बादल महल, हम्मीर कचहरी, जैन मन्दिर आदि का ऐतिहासिक महत्त्व है। दुर्ग में आकर्षित करने वाले कलात्मक भवन अब नहीं रहे, फिर भी शेष बचे हुए भवनों की सुदृढ़ता, विशालता तथा उनकी घाटियों की रमणीयता दर्शकों को बरबस ही अपनी ओर आकर्षित करती है।[13]

रणथम्भौर क़िले के अंदर गणेश जी का प्रसिद्ध मंदिर है। कहते हैं कहीं भी कोई शादी व्याह हो, सबसे पहला कार्ड रणथम्भौर के गणेश जी के नाम भेजा जाता है। यह शायद देश का एकमात्र मंदिर होगा, जहाँ भगवान के नाम डाक आती है। डाकिया इस डाक को मंदिर में पहुंचा देता है। पुजारी इस डाक को भगवान गणेश के चरणों में रख देते हैं। घर में कोई भी मांगलिक कार्य हो, लोग गणेश जी को बुलाने के लिए यहाँ रणथम्भौर वाले गणेश जी के नाम कार्ड भेजना नहीं भूलते।[14]

रणथंभौर राष्ट्रीय उद्यान: 'रणथम्भौर राष्ट्रीय उद्यान' उत्तर भारत में सबसे बड़ा वन्यजीव संरक्षण स्थल है। यह राजस्थान के सबसे प्रसिद्ध स्थानों में से एक है। वर्ष 1955 में यह वन्यजीव अभयारण्य के रूप में स्थापित किया गया था। बाद में 1973 में 'प्रोजेक्ट टाइगर' के पहले चरण में इसको शामिल किया गया। इस अभयारण्य को 1981 में राष्ट्रीय उद्यान का दर्जा प्रदान किया गया था। बाघों के अलावा यह राष्ट्रीय अभ्यारण्य विभिन्न जंगली जानवरों, सियार, चीते, लकड़बग्घा, दलदली मगरमच्छ, जंगली सुअर और हिरणों की विभिन्न किस्मों के लिए एक प्राकृतिक निवास स्थान उपलब्ध कराता है। इसके अतिरिक्त यहाँ जलीय वनस्पति, जैसे- लिली, डकवीड और कमल की बहुतायत है। रणथम्भौर राष्ट्रीय अभ्यारण्य हाड़ौती के पठार के किनारे पर स्थित है। यह चंबल नदी के उत्तर और बनास नदी के दक्षिण में विशाल मैदानी भूभाग पर फैला है। अभ्यारण्य का क्षेत्रफल 392 वर्ग कि.मी. है। इस विशाल अभ्यारण्य में कई झीलें हैं, जो वन्यजीवों के लिए अनुकूल प्राकृतिक वातावरण और जलस्रोत उपलब्ध कराती हैं। इस अभ्यारण्य का नाम प्रसिद्ध रणथम्भौर दुर्ग पर रखा गया है।[15]

जाट इतिहास

ठाकुर देशराज[16] लिखते हैं कि रणथम्भोर पर पहले चौहानों का अधिकार था। किन्तु उससे लगभग दो सदी पहले जाटों का अधिकार था। रणथम्भोर में चौहान राजपूत आठवीं सदी से पीछे पहुंचे थे। किन्तु उस समय भी जाटों का जोर कम नहीं हुआ था। भाटों के काव्यों पर यदि हम विश्वास करें तो कहा जाता है कि गौर और नागिल जाटों ने उस स्थान पर बीसियों पीढ़ी राज्य किया था। रणमल नामक एक जाट सरदार ने जिस स्थान पर रणखम्भ गाड़ा था तो आस-पास के राजाओं ने लड़ने की चुनौती दी थी, उसी स्थान पर आज रणस्तंभपुर या रणथम्भोर है। भाग भट्ट चौहान की भी, आस-पास के जाट सरदारों ने मुसलमानों के विरुद्ध सहायता की थी। मुस्लिम-काल में जलालूद्दीन तूनियां जो कि रजिया के दल का था, यहां का शासक बनना चाहता था। रजिया भी रणथम्भोर पर चढ़कर आई। उसने जाटों से सहायता चाही। जब कि वह रणथम्भोर के पास पहुंचने वाली थी कि तूनियां गुलाम सरदार के साथ जाटों का एक बड़ा दल आ गया और वह लौट गई। रजिया ने लौटकर अपनी मर्जीदान के साथ शादी कर ली। अलतूनियां ने बादशाही के जाट-सरदारों की मदद लेकर दिल्ली पर चढ़ाई की।1 जाट बड़ी वीरता के साथ लड़कर इस औरत के लिये काम आये।2


1. तारीख फरिश्ता। उर्दू (नवलकिशोर प्रेस का छपा) पृ. 105, 106।
2. वाकए राजपूताना। जिल्द 3।

नागिल जाट राजाओं का दुर्ग

रणथम्भौर भारत के पर्यटन मानचित्र में एक विशेष स्थान रखता है। यहां का राष्ट्रीय उद्यान तो टाइगर्स के लिए विश्व प्रसिद्ध है ही, लेकिन इसके अलावा भी बहुत कुछ है। यहां अतीत को बयान करती अनेक इमारतें हैं, जिनमें सबसे प्रमुख है रणथम्भौर का किला। इस किले को हाल ही में यूनेस्को द्वारा विश्व धरोहर का दर्जा दिया गया है। दैनिक भास्कर जयपुर द्वारा 'झलक राजस्थान की' सीरीज के अंतर्गत रणथम्भौर-किले की कहानी बताई गई है। इस किले में अनेक हिंदू और जैन मंदिरों के साथ-साथ एक मस्जिद भी है। किले के भीतर ही कई तालाब भी हैं। इनमें सबसे महत्वपूर्ण है पद्म तालाब। इसे जौहर तालाब भी कहा जाता है। ऐसा माना जाता है कि संकट के समय में अपनी लाज बचाने के दौरान स्त्रियां यहां स्वयं को अग्नि को समर्पित कर देती थीं। नवीं सदी में नागिल जाट राजाओं द्वारा बनवाया गया यह दुर्ग बेहद घने जंगलों के बीच पहाड़ी पर बना है, जिसे देखना अपने आप में अद्‌भुत अनुभव होता है। [17]

Gallery

References

Notes