Rishi

From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search
बेधङक का हवाई जहाज
लेखक
पृथ्वीसिंह बेधङक



ऋषि दयानन्द


ऋषि से पहले कितना था अन्धकार


साढे पॉंच हजार साल से आर्य जाति सोती थी

बच्चों की ओर बुढ्ढों की भारत में शादी होती थी

आठ पहर घर के अन्दर जो ऑंसू से मुँह धोती थी

बहू बेचारी रंडी बनकर करम धरम सब खोती थी

कितनी उठकर आधी रात जा कुऑं झेरा टोहती थी

किसी गैर की नहीं खास वह राम कृष्ण की पोती थी


स्त्री जाति के ऊपर होता अतुलित अत्याचार


वेद कि विद्या छूट गै सब अठारह पुराण मानते थे

पुराण के ज्ञाता अपने को ब्राह्मण विद्वान मानते थे

उन्हीं ब्राह्मणों को दुनियाँ में सब यजमान मानते थे

मोक्ष का द्वार गंगा यमुना का स्नान मानते थे

आर्यावर्त देश अपने को हिन्दुस्तान मानते थे

मन्दिर ओर शिवालय के अन्दर भगवान मानते थे

पोप ने जो कुछ कह डाली सब इन्सान मानते थे


मुसलमान ईसाईयों का जब बैठ गया था तार


रोज़ विधर्मियों के द्वारा हिन्दूओं की चोटी कटती थी

शुद्धी करने की खातिर यह हिन्दू जाति नटती थी

हर मरदमशुमारी में यहाँ कृष्ण की जाते घटती थी

मुर्दा था न जिन्दा अध बिच में रोज लटकती थी

काशी मथुरा प्रयाग में जाकर के विधवा डटती थी

रेत के गर्भ में दबके नित पोप की माला रटती थी


फ़िर भी पोप बने रहते थे धर्म के ठेकेदार


बीस साल के जवान डरते भूत ओर प्रेत मसानी से

भंगी ओर चमार तरसते खङे कुऎ पर पानी से

अपने को ना दूर करते ना परहेज था मुसलमानी से

रामदास प्यासा रौवे पर कुछ ना कही रमजानी से

अल्लादेई पानी भरती लङें थी रोज़ खजानी से

हिन्दू जाति तुझे छुङाया आकर तेरी नादानी से


पृथ्वीसिंह बेधङक ऋषि का हुआ महान उपकार



Digital text (Wiki version) of the printed book prepared by - Vijay Singh विजय सिंह

Back to : बेधङक का हवाई जहाज


Back to : Prithvi Singh Bedharak