Rome

From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search
Author:Laxman Burdak, IFS (R)
Map of Italy

Rome (रोम) is a city and the capital of Italy and also of the homonymous province and of the region of Lazio.

In Mahabharata

  • Roma (रोम) as a city is mentioned in Sabha Parva, Mahabharata/Book II Chapter 28 shloka 49 with reference to Sahdeva's conquest where the hero brought under his subjection and exacted tributes. [1]
  • Roma (रोम) - Sabha Parva, Mahabharata/Book II Chapter 47 shloka 26 writes: And the Sakas and and Tukharas and Kankas and Romas and men with horns bringing with them as tribute numerous large elephants and ten thousand horses, and hundreds and hundreds of millions of gold waited at the gate, being refused permission to enter. [2]
  • Romana (रॊमाण) - In 'geography' of Mahabharata (VI. 10.54); probably a variant of Vahuka (Cr. Ed. II. 47.15). [3]
  • Romaka (रोमक) - The Romaka Siddhanta ("Doctrine of the Romans") and the Paulisa Siddhanta ("Doctrine of Paul") were two works of Western origin which influenced Varahamihira (505 - 587 AD).

Origin of name

Traditional stories handed down by the ancient Romans themselves explain the earliest history of their city in terms of legend and myth. The most familiar of these myths, and perhaps the most famous of all Roman myths, is the story of Romulus and Remus, the twins who were suckled by a she-wolf.[5] They decided to build a city, but after an argument, Romulus killed his brother. According to the Roman annalists, this happened on 21 April 753 BC.[6] This legend had to be reconciled with a dual tradition, set earlier in time, that had the Trojan refugee Aeneas escape to Italy and found the line of Romans through his son Iulus, the namesake of the Julio-Claudian dynasty.[7] This was accomplished by the Roman poet Virgil in the first century BC.

Mention by Panini

Roman (रोमन्) is name of a place mentioned by Panini in Ashtadhyayi under Pakshadi (पक्षादि) (4.2.80.12) group. [8]


Romaka (रोमक),is name of a place mentioned by Panini in Ashtadhyayi under Krishashvadi (कृशाश्वादि) (4.2.80.2) group. [9]

History

The original settlement developed into the capital of the

  • Roman Kingdom (ruled by a succession of seven kings, according to tradition), and then the
  • Roman Republic (from 510 BC, governed by the Senate), and finally the
  • Roman Empire (from 27 BC, ruled by an Emperor).

This success depended on military conquest, commercial predominance, as well as selective assimilation of neighbouring civilizations, most notably the Italics, Etruscans and Greeks. From its foundation Rome, although losing occasional battles, had been undefeated in war until 386 BC, when it was briefly occupied by the Gauls.[10] According to the legend, the Gauls offered to deliver Rome back to its people for a thousand pounds of gold, but the Romans refused, preferring to take back their city by force of arms rather than ever admitting defeat, after which the Romans recovered the city in the same year.[11]

The Republic was wealthy, powerful and stable before it became an empire. According to tradition, Rome became a republic in 509 BC. However, it took a few centuries for Rome to become the great city of popular imagination, and it only became a great empire after the rule of Augustus (Octavian).

By the 3rd century BC, Rome had become the per-eminent city of the Italian peninsula, having conquered and defeated the Sabines, the Etruscans, the Samnites and most of the Greek colonies in Sicily, Campania and Southern Italy in general. During the Punic Wars between Rome and the great Mediterranean empire of Carthage, Rome's stature increased further as it became the capital of an overseas empire for the first time.

Beginning in the 2nd century BC, Rome went through a significant population expansion as Italian farmers, driven from their ancestral farmlands by the advent of massive, slave-operated farms called latifundia, immigrated to the city in great numbers. The victory over Carthage in the First Punic War brought the first two provinces outside the Italian peninsula, Sicily and Corsica et Sardinia. Parts of Spain (Hispania) followed, and in the beginning of the 2nd century the Romans got involved in the affairs of the Greek world. By then all Hellenistic kingdoms and the Greek city-states were in decline, exhausted from endless civil wars and relying on mercenary troops. This saw the fall of Greece after the Battle of Corinth (146 BC) and the establishment of Roman control over Greece.[12]

The Roman Empire had begun more formally when Emperor Augustus (63 BC–AD 14; known as Octavian before his throne accession) founded the Principate in 27 BC.[13] This was a monarchy system which was headed by an emperor holding power for life, rather than making himself dictator like Julius Caesar had done, which had resulted in his assassination on 15 March 44 BC.[14] At home, Emperor Augustus started off a great programme of social, political and economic reform and grand-scale reconstruction of the city of Rome. The city became dotted with impressive and magnificent new buildings, palaces, fora and basilicae. Augustus became a great and enlightened patron of the arts, and his court was attended by such poets as Virgil, Horace and Propertius.[15] His rule also established the Pax Romana, a long period of relative peace which lasted approximately 200 years.[16] Following his rule were emperors such as Tiberius, Caligula, Nero, Trajan, and Hadrian. Nero was well known for his extravagance, cruelty, tyranny, and the myth that he was the emperor who "fiddled while Rome burned" during the night of 18 to 19 July 64 AD.[17] The Antonine Plague of 165–180 is believed to have killed as much as one-third of the population.[18]

Roman dominance expanded over most of western Europe and the shores of the Mediterranean, though its influence through client states and the sheer power of its presence was wider than its formal borders. Its population surpassed one million inhabitants.[19] For almost seven hundred years, Rome was the most politically important, richest, and largest city in the Western world. After the empire started to decline and was split, it lost its capital status to Milan and then to Ravenna, and was surpassed in prestige by the capital of the Eastern Roman Empire, Constantinople, whose Greek inhabitants continued through the centuries to call themselves Roman.

After the Sack of Rome in 410 AD by Alaric I and the fall of the Western Roman Empire in 476 AD, Rome alternated between Byzantine and Germanic control. Rome remained nominally part of the Byzantine Empire until 751 AD, when the Lombards finally extinguished the Exarchate of Ravenna which was the last holdout of the Byzantines in northern Italy. In 756, Pepin the Short gave the Pope temporal jurisdiction over Rome and surrounding areas, thus creating the Papal States. In 846, Muslim Arabs stormed the city and managed to loot St. Peter's and St. Paul's basilica, both outside the city wall.[20]

Jat history

Ram Sarup Joon[21] writes that in 500 BC, Jats took part in the civil war in Italy. When the hunters invaded Italy, the Jats defeated them on the battlefield of Nester. As a reward the ruler of Italy permitted them to occupy the Danube basin called Balkans now. After four years, differences arose between the Jats and king Theodius of Italy, who attacked the Jats. The Jats were victorious and occupied Asia Minor. Then they attacked Rome and after defeating the famous military commander Allers, occupied the south Eastern portion of Italy. Theodius gave his daughter in marriage to the Jat leader. The Jats vacated Italy, advanced into and settled in Spain and Portugal.

In 490 BC, there was another battle after which Jats occupied the whole of Italy and ruled there for 65 years upto 425 BC. During this period Italy made a great measure of progress.

After the death of the great Jat leader Totila, the Jat power declined and they were driven out of Italy. Soon after, the Arabs drove the Jats out of Spain and Portugal. Consequently Jats were so weakened and scattered that they ceased to exist as a recognised group in this area,


Bhim Singh Dahiya[22] writes that We know from Strabo that Porous (Phor/Phour), a ruler over 600 kings, sent an embassy to Augustus in Rome in 21/25 B.C.[23] As for Balhara, Karpura Manjari also mentions it as Balhara. They were the rulers of Ballbhipura. According to Cunningham, Mandlii and Monedes of Megasthenes were one and the same.[24] They are the ancient Mandas.

Bhim Singh Dahiya[25] says ....Further it is known that in the later half of fifth century A.D. after the death of Attila (454 A.D.), two tribes of the Hunas attacked the Holy Roman Empire and fought for 72 years, i.e., from 485 A.D. to 557 A.D. The names of these Huna tribes are given as Kulurguri and Utarguri who, later on, were called Balgari and gave their name to the country of Bulgaria in Europe.[26] Now though it is mentioned that the descendants of the Kulars and the Utars, were called the Bals, it cannot be correct because all three are different clan names and are found among the Indian Jats even today and are called, the Kullars, the Udars and the Bals, respectively. Therefore, what must really have happened is that the war was started by the Kulars and the Utars when their clans were ruling and later on the Bal clan must have come into power and gave its name to Bulgaria. Our point however, in mentioning these facts is that all the three clans are called, 'Huns' and they definitely went to Europe in mighty wave from Central Asia under Balamir (376 A.D.), Uldes (400 A.D.), Roilas (425 A.D.), Rugula (433 A.D.), and Attila (died in 454 A.D.). These people though described as Hunas were certainly Indo-European by race because the same people even now exist among the Jats in India and as stated by Nesfield, (JKI, p. 120. ) "if appearance goes for anything, the Jats could not but be Aryans". Dr. Trumpp and Beames have shown that the Jats are purely Aryans.5b Col. Tod too states this position and suggested a kinship among the Indian Jats, the Goths of Roman Empire and the Jutes of Jutland.

Bhim Singh Dahiya writes that When the Romans threatened Alarik, the Goth, in 410 A.D. with the vast multitudes of Roman population, and its wrath against him, he gave a typical Jat reply, “Thicker the hay, easier moved”.[27]


Mangal Sen Jindal[28] writes: Before long, one of the German chieftains, Alaric, became dissatisfied with the treatment that he received. He collected an army, of which the nucleus consisted of West Goths, and set out for Italy. Rome fell into his hands in 410 and was plundered by his followers. Alaric appears to have been deeply impressed by the sight of the civilization about him. He did not destroy the city, hardly even did serious damage to it, and he gave especial orders to his soldiers not to injure the churches or their property. Alaric died before he could find a satisfactory spot for his people to settle upon - permanently. After his death the West Goths wandered into Gaul, and then into Spain, which had already been occupied by other barbarian tribes, the Vandals and Suevi. These had crossed the Rhine into Gaul for years before Alaric took Rome; for three years they devastated the country and then proceeded across the Pyrenees. When the West Goths reached Spain they quickly concluded peace with the Roman government. They then set to work to fight the Vandals, with such success that the emperor granted them a considerable district (419) in Southern Gaul, where they established a West Gothic Kingdom. Ten years after, the Vandals moved on into Africa, where they founded a kingdom and extended their con trot over the Western Mediterranean. Their place in Spain was taken by the West Goths who, under their king, Ruric (466-484), conquered a great part of the peninsula, so that their kingdom extended from the Loire to the Straits of Gibraltar"- History of Western Europe pages 26-27.

Goths and Jat clans

Hukum Singh Panwar[29] quotes James Tod[30] who asserts that "the Jats of India, the Goths of the Roman Empire and the Juts of Jutland are kith and kin.

Gathchal (गथचाल) and Ganthawara (गन्थवारा) gotra of Jats originated from Goths, who came from Rome and west Italy to India. [31]

The highly reputed historian, Arnold Joseph Toynbee has also advocated:

"It may not be fantastic to conjecture that the Tuetonic-speaking Goths and Gauts of Scandinavia may have been descended from a fragment of the same Indo-European-speaking tribe as the homonymous Getae and Thyssagetae and Massagetae of the Eurasian Steppe who are represented today by the Jats of the Panjab."[32]

James Francis Katherinus Hewitt also notes the connection between Jats and Goths:

"The Jats ... trace their descent to the land of Ghazni and Kandahar, watered by the mother-river of the Kushika race, the sacred Haetuman.t or Helmand. Their name connects them with the Getae of Thrace, and thence with the Gattons, said by Pytheas to live on the southern shores of the Baltic, the Gaettones placed by Ptolemy and Tacitus on the Vistula in the country of the Lithuanians, and the Goths of Gothland = Sweden. This Scandinavian descent is confirmed by their system of land-tenure, for the chief tenure of the Muttra district is that called Bhagadura, in which the members of the village brotherhood each hold as their family property a separate and defined area among the village lands, according to the customs of the Bratovos of the Balkan peninsula and the Hof-bauers of North-West [33] Germany .. The Getae of the Balkans are said by Herodotus to be the bravest and most just of the Thracians." [34]

H. G. Keene,[35] writes that, "There is also a thriving little principality — that of Dholpur — between Agra and Gwalior, under a descendant of the Jat Rana of Gohad, so often met with in the history of the times we are now reviewing (v. inf. p. 128.) It is interesting to note further, that some ethnologists have regarded this fine people (Jats) as of kin to the ancient Get, and to the Goths of Europe, by whom not only Jutland, but parts of the south-east of England and Spain were overrun, and to some extent peopled. It is, therefore, possible that the yeomen of Kent and Hampshire have blood relations in the natives of Bharatpur and the Panjab."

Delu Jat clan: The people in Rome who settled around Denube river were called Delu. [36]

Thedkar Jat clan: Thedkar originated from Theoderik of Estonia (थियोडेरिक), the Jat chieftain in Rome country. [37]

Malan Jat clan: Malan gotra originated after city Milan of Roman Empire. [38]

Malen Jat clan: Malen gotra is said to be originated after city Milan of Roman Empire. [39]

Utar Jat clan: B S Dahiya[40] writes: Utar are mentioned by Herodotus as Utians, along with the Sarangians (Saramgha) and the Pactyans [41]. In the Puranas they are mentioned as Uttara. Mahabharata mentions them along with the Lohans, Rishikas and Kambojas. [42] In the Sixth century A.D. they were fighting the Holy Roman Empire, along with the Bals and the Kulars. There they are named as Utargari, meaning the caravan of the Utar. The word Gari has given the Indian name Gari (wagon) According to Cambridge Ancient History, Sargon , king of Agade (2371-2316 B.C.), hears some complaints from the merchants of the city of Purushkhand, near Kayesri in Cappadocia and goes to battle against “ the land of Uta-rapashtum.” [43] Cambridge Ancient History is not sure of this name, [44] because of the wrong bifurcation. The correct bifurcation should be Utara-Pashtum, i.e. the land of the Utaras and the Pashtuns.


Ghalyan (घाल्याण) Gahlan (गहलान) Ghalan (घालान) Gallan (गाल्लान) Galan (गाल्लान) Gala (गाला) gotra of Jats found in Distt Panipat in Haryana are mentioned in the Markandeya Purana as Galava (गालव). The original name is Gall and the suffix ‘an’ or ‘va’ is added to it. The Gauls of Europe are their brothers. [45] The Gauls, the old name of the French is the same as the Gallan of India, the suffix 'an', added to clan name under Panini's rule.[46] Galava Roman Fort, which stands at Borrans Head, Waterhead, Ambleside, was was built around 79 A.D., as one of a series of fortified structures constructed to defend Roman trade routes across Cumbria. The fort stands on land owned by the National Trust and is maintained by English Heritage.

Achra Jat clan - Achra are said to have got this name from Anglo people of Roma who came to India from Europe.Cite error: Closing </ref> missing for <ref> tag ने लिखा है: रोम की ओर जाट (गाथ) लोगों ने 250 ई. से बढ़ना शुरू किया था यद्यपि जाट रोम से ईसवी सन् से पूर्व कई शताब्दी से परिचित थे और उन्होंने डेरियस के साथ ईसा से 500 वर्ष पहले रोम के पड़ोसी यूनान पर आक्रमण किया था। सिकन्दर का भी उन्होंने फारिस के मैदानों में मुकाबला किया था। रोम में कई बार में जाकर इन्होंने बस्तियां आबाद कर ली थीं। रोम उस मसय गृहकलह में भी फंसा हुआ था। वे उत्तम सैनिक तो थे ही, इसलिए आक्रमणों से पहले रोम की सेना में स्थान पा चुके थे।

374 ई. में मध्य-यूरोप के लोगों पर ऐशिया से आई हुई, बर्बर जाति के हूणों ने आक्रमण किया। नीस्टर नदी के पास भयंकर युद्ध के बाद जाटों को आगे बढ़ने को विवश होना पड़ा। रोम सम्राट वैलिन्स की सहमति से उन्होंने बालकन प्रायद्वीप में डेन्यूब नदी के किनारे अपना जनपद स्थापित किया और भारी संख्या में वहा बस गये। कुछ ही दिन के बाद रोम के सम्राट ने उन्हें निकालने के लिए छेड़-छाड़ आरम्भ कर दी। भला परिश्रम-पूर्वक आबाद किये हुए देश को वे कैसे छोड़ सकते थे। कशमकश यहां तक बढ़ी कि पूर्व मित्रता के भाव नष्ट हो गये और युद्ध छिड़ गया।

378 में सम्राट वेलिन्स ने रोमनों की एक बड़ी सेना के साथ गाथों (जाटों) पर


जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-189


आक्रमण कर दिया। बड़ा घमासान युद्ध हुआ। किन्तु एड्रियानोपल नगर के पास गाथों के एक घुड़सवार दल ने रोमन लोगों को करारी परास्त दी। रोमन भाग खड़े हुए। सम्राट सख्त घायल हुआ और युद्ध-भूमि में ही मारा गया। गाथों के नेता की भी इसी समय मृत्य हो गई। साथ ही प्लेग भी फैल गया। इससे वह अपनी विजय पर हर्ष उत्सव न मना सके।

सम्राट बेलिन्स के उत्तराधिकारी सम्राट थियोडोसियस ने भी शासन-भार हाथ में आते ही जाटों पर चढ़ाई की, किन्तु अन्त में उसे गाथों (जाटों) से सन्धि करनी पड़ी। इस सन्धि के अनुसार थ्रेस और एशियाई माइनर में बहुत सी भूमि उसे उनको देनी पड़ी। जाटों ने भी बदले में रोम को चालीस हजार सेना की सहायता देना स्वीकार किया। यद्यपि यह सेना रोम के अधीन समझी जाती थी, किन्तु उसके अफसर जाट ही थे। इससे सम्राट दिल में शंकित भी रहता था, पर जाटों ने ईमानदारीपूर्वक सन्धि को निभाया।

395 ई. में सम्राट थियोडोसियस मर गया। उसने अपने दो पुत्रों को अपना राज्य बांट दिया था। बड़ा पुत्र आर्केडियस पूर्वी भाग का मालिक था। राजधानी उसकी कॉस्टेन्टाइन थी। दूसरा पुत्र होनोरियस पच्छिमी भाग का अधिकारी हुआ और मिलन में राजधानी रखी। इस समय गाथ लोगों से दोनों सम्राटों का सम्बन्ध हो गया था। गाथों का प्रसिद्ध नेता एलरिक इस समय अधिक प्रसिद्ध था। उसने पहले तो रोम के पूर्वी भाग को जाटों से अधिकृत करने के अभिप्राय से चढ़ाई की किन्तु कान्स्टेण्टीनोपुल की सुदृढ़ दीवारों को उसकी सेना न भेद सकी। अतः उसने मिलन पर चढ़ाई की। होनोरियस सम्राट के बंडाल सेनापति स्टिलाइको से मुकाबला हुआ। विशेष तैयारी न होने के कारण एलरिक की हार हुई। किन्तु एलरिक हताश होने वाला व्यक्ति न था। सन् 408 ई. में दुबारा चढ़ाई कर दी। बादशाह ने कुछ वायदे उसके साथ ऐसे किये, जिससे उसे घेरा उठा लेना पड़ा। किन्तु बादशाह ने वायदे को पूरा न किया। इसलिये एलरिक ने तीसरी बार इटली को फिर घेर लिया। रोमन लोग हार गए, शहर पर जाटों का अधिकार हो गया। एलरिक ने इटली के दक्षिण भाग को भी विजय करने की इच्छा से चढ़ाई की, किन्तु वहां वह बीमार होकर मर गया। यद्यपि गाथ नेताविहीन हो गए थे, फिर भी दृढ़ रहे, और औटाल्फस (अतुलसैन) को अपना राजा बनाया। रोम का पूर्वी भाग ले सम्राट थियोडोसियस गाथों (जाटों) से बहुत डरा हुआ था। उसने गाथों से निश्चिन्त होनें के लिये यही उत्तम समझा कि अपनी लड़की की शादी (अटाल्फस) के साथ कर दी| इस तरह से जाट और रोमन्स लोगों का रक्त सम्बन्ध स्थापित हो गया।

यह रोमन लड़की बड़ी स्वजाति-भक्त थी, यद्यपि वह जाटों के घर में आ गई थी, किन्तु चाहती यही थी कि रोमन लोग जाटों से निर्भय हो जायें, इसलिये उसने गाथों को सलाह दी कि इटली से बाहर अपना साम्राज्य स्थापित करें।


जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-190


उसकी सलाह के अनुसार गाथों (जाटों) ने स्पेन और गाल के बीच अपना साम्राज्य स्थापित किया जो 300 वर्ष तक कायम रहा।

सन् 446 ई. में हूणों ने एटिला की अध्यक्षता में रोम का ध्वंश करते हुए गाल पर आक्रमण किया जो कि रोमन और गाथों का सम्मिलित प्रदेश था। इस समय रोमन और गाथों ने एटिला की सम्मिलित शक्ति के साथ मुकाबला किया, हूण हार गए और एटिला को निराश होना पड़ा।

यूरोप में जाटों (गाथों) को ट्यूटानिक जाति में (दल) गिना गया है। हमारी समझ में प्रजातंत्री अथवा शक्ति-सम्पन्न होने के कारण उन्हें यह नाम दिया गया है। तांत्रिक शब्द से भी ट्यूटानिक बन सकता है, इन ट्यूटानिक लोगों मे गाथ, फ्रेंक, डेन, ऐंगल तथा सैक्सन आदि हैं।


यह ट्यूटांनिक जातियां स्कंधनाभ और राइन प्रदेश मे बसी हुई बताई गई हैं। यहां से उठकार काला सागर और डेन्यूब में बसने वाले लोगों को गाथ (जाट) कहा गया है।

इन लोगों को प्रजातंत्री बताया गया है। स्थानीय झगड़ों का फैसला नगर के मुखिया लोग ही इनके यहां करते थे, ऐसा यूरोप वालों का कथन है। ग्रामों में पंचायतों और प्रान्त में जनसभा के द्वारा शासन करते थे। इनकी सभाओं में सरदार और नागरिक की राय का मूल्य बराबर था। इनके युवक लोग किसी सरदार के पास रहकर सैनिक-शिक्षा प्राप्त करते थे, इससे सरदारों और युवकों में घनिष्ठ सम्बन्ध रहता था। प्रायः एक-एक योद्धा के पास बीसियों युवक होते थे।

धर्म में यह प्रकृति के उपासक थे, ऐसा यूरोप वालों का अनुमान है। वे कहते हैं, ये वृक्षों और गुफाओं की भी पूजा करते थे।1 इनमें कोई अलग पुजारी-दल न था। प्रायः सभी लोग चौपाये पालते थे। खेती करना इन्हें बहुत पसन्द था और शिकार भी खेलते थे। ये लोग सटी हुई बस्तियां पसन्द करते थे। नगर दूर-दूर और खुले मैदान में बनाते थे। इस कारण स्वस्थ और बलवान रहते थे। इनके लम्बे कद, उज्जवल रंग, बलवान शरीर और सुर्ख चेहरे को देखकर रोमवालों पर बहुत प्रभाव पड़ा। लड़ने को तो ये अपना पेशा समझते थे, सत्यप्रियता के लिए बहुत प्रसिद्ध थे।

इटली के जाट पूर्वी गाथ कहलाते थे और स्पेन की ओर बसे हुए पश्चिमी गाथ के नाम से रोमन लोगों द्वारा पुकारे जाते थे। 489 ई. में पूर्वी गाथों के सरदार थियोडेरिक (देवदारूक) ने इटली पर आक्रमण किया। 4 वर्ष की निरन्तर लड़ाई के बाद इटली के तत्कालीन सम्राट औडोवकर ने इटली का आधा राज्य


1.ये ही बातें तो भारत के जाटों में हैं, वे पीपल और खेजड़ी को पूजते हैं। पुजारियों का दल तो भला उनके साथ विदेश जाता ही क्यों?


जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-191


देकर गाथों से सन्धि कर ली। थोड़े ही दिन बाद थियोडोरिक (देवदारूक) ने औडोवकर को मरवाकर सारी इटली पर गाथों का अधिकार जमा दिया। रोमन लोगों के साथ उसने सख्त व्यवहार न करके इन्हें इतना सुख दिया कि वे यह कहने लग गये कि खेद है कि

‘जाट इससे पूर्व ही हमारे यहां क्यों न आये।’

बड़े-बड़े पदों पर रोमनों को नियुक्त किया। नगर, सड़क, बाग-बगीचे, बनाए तथा सड़क और नहरों की मरम्मत कराई । कृषि और उद्योग-धन्धों की वृद्धि के लिए प्रोत्साहन दिया। तेतीस वर्ष के अपने राज्य-काल में उसने इटली को कुबेरपुरी बना दिया। इसके अलावा पड़ोसी जर्मनी से विवाह सम्बन्ध करके सम्राज्य की नींव को और भी मजबूत किया। इतने अच्छे जाट सरदार की 526 ई. में मृत्यु हो गई। इससे जाट (गाथ) और रोमन सभी को बड़ा दुःख हुआ। इटली के पूर्वी गाथों का यह सबसे बड़ा और लोकप्रिय सरदार था। उसके बाद सन् 553 तक उसके वंशजों के हाथ में इटली का राज्य रहा। इसी सन् में उनके हाथ से रोमन सम्राट जस्टिनियन ने इटली का राज्य छीन लिया।

पश्चिम के जाट लोगों ने दक्षिणी गाल और स्पेन पर अधिकार कर लिया था, यह पीछे लिखा जा चुका है। आठवी शताब्दी तक उन्होंने वहां बड़ी निर्भयता और सफलता के साथ शासन किया। बीच में फ्रेंक राजाओं से उन्हें युद्ध करने पड़े थे और हानि भी रही थी। किन्तु मेरेसिन लोगों ने आठवीं शताब्दी के मध्य में प्रबल आक्रमणों से उनके राज्य का अन्त कर दिया। इस तरह रोम से जाटों का साम्राज्य जाता रहा। किन्तु उन्होंने आशा को न छोड़ा इस समय के स्पेनिश में केल्ट, रोमन गोथ तथा मूर कई जातियों का मेल है। जस्टिनियन ने गाथों से इटली के पूर्वी-पच्छिमी हिस्से की जीतने के बाद अन्य देशों पर भी चढ़ाइयां कीं, साथ ही बहुत सी इमारतें बनवा डालीं, जिससे उसका खजाना खाली हो गया। प्रजा में आर्थिक कष्ट बढ़ जाने से लोग जाटों के राज्य की याद करने लगे। इस असन्तोष से लाभ उठाने का गाथों ने फिर एक बार प्रयत्न किया और टोटिला (तोतिला) नाम से एक वीर सरदार की अध्यक्षता में इटली पर आक्रमण किया। टोटिला बड़ा न्यायी और वीर था, 538 ई. में उसने कई लड़ाइयों के बाद इटली पर फिर जाटों का अधिकार कर दिया। 14 वर्ष तक गाथ लोगों का सितारा इटली में चमकता रहा। 552 ई. में उनके विरूद्ध रोमनों ने फिर से तलवार उठाई। टोटिला बड़ी बहादुरी के साथ लड़ा, उसके बहुत से घाव आये जिनके कारण थोड़े ही दिनों में वह इस संसार से चल बसा। गाथ लोग फिर भी कई बार रोमनों से लड़े, किन्तु बार-बार के युद्धों के कारण उन्हें इटली छोड़ना पड़ा। और आल्पस को पार कर के पश्चिमी जाटों में जा मिले। इटली में उनका कुछ भी अस्तित्व न रह गया ।


जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-192


उस समय यूरोप में एक नया धर्म खड़ा हुआ था जिसका नाम महात्मा ‘यीशु’ के नाम पर ईसाई धर्म था। इस धर्म के प्रति यीशु को फांसी के पश्चात् लोगों के हृदय में सहानुभूति पैदा हो गई थी। इसके सिद्धान्त भी बौद्ध-धर्म से मिलते-जुलते थे। इसलिये गाथों पर भी जो कि अपनी मातृ-भूमि भारत से सदियों तक दूर हो चुके थे, ईसाई धर्म का प्रभाव पड़ गया और वे बारहवीं सदी तक सबके सब ईसाई हो गये। यदि भारतीय उपदेशक पौराणिक-धर्म की आज्ञा के प्रतिकूल विदेश-यात्रा करते रहते, तो बहुत सम्भव था, कि भारत से गई हुई जाट, कट्टी, सुऐवी, स्लाव, जातियां ईसाई न हुई होतीं। यूरोप के इतिहास में लिखा हुआ है कि गाथ तथा बण्डाल पहले आर्यन मत के अनुयायी थे।

नौवीं सदी तक गाथ, बरगंडी आदि जातियां अपनी पुरानी भाषा को भी भूल गई थीं। अपराध की जांच के लिए वे अग्नि-परीक्षा और जल-परीक्षा लिया करते थे। गर्म तवे अथवा जल में हाथ डलवा कर, अपराध जानने की उनमे वैसी ही प्रथा थी, जैसी कि भारत में थी। ef>

रोमस्पेन के जाट शासक

दलीप सिंह अहलावत[47] ने लिखा है:

अलारिक रोम की गद्दी पर बैठने वाला पहला जाट राजा था परन्तु वह पूरे रोमन साम्राज्य का सम्राट् नहीं बन सका। उसकी प्रमुख सफलता रोमन साम्राज्य को नष्ट करने की थी। इसके आक्रमणों के कारण से रोमन सेनाओं को ब्रिटेन व गॉल* को छोड़ देना पड़ा। अनेक साहसी योद्धाओं ने जिनमें गोथ (जाट) भी शामिल थे, गॉल पर अनेक आक्रमण किये जिससे ऐतिहासिक जानकारी मिलने में गड़बड़ी है।

जाट्स दी ऐनशन्ट रूलर्ज पृ० 80, पर बी० एस० दहिया ने लिखा है कि “जाट राजा इयूरिक सन् 466 से 484 ई० तक स्पेनपुर्तगाल का शासक रहा। उसके शासनकाल में शिवि गोत्री जाटों को इन्हीं के भाई जाटों ने स्पेन से निकलकर रूम सागर पार करके अफ्रीका में चले जाने को विवश किया। शिवि जाट अफ्रीका में पहुंच गये।” (जाटों का मिश्र सेनाओं से युद्ध प्रकरण इसी अध्याय में देखो)।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-392


पुर्तगाल, स्पेन में राजा इयूरिक का पुत्र अलारिक द्वितीय जाटों का आठवां राजा था जो कि 24 दिसम्बर 484 ई० में अपने पिता का उत्तराधिकारी बना। उसकी मुख्य स्मरणीय सफलता यह थी कि उसने रोमन कानूनों की एक सूची तैयार करवाई तथा रोमन लोगों के लिये सरकारी कानून बनाये जिनसे अपने अधीन रोमनों के लिये कानूनी अधिकार मिल गये। यह “अलारिक के स्तोत्र संग्रह” के नाम से प्रसिद्ध है।

अन्य जाट राजाओं ने दूसरे साधारण राजाओं की तरह अपना समय व्यतीत किया। जाटों ने रोमन गद्दी पर अधिकार कर लिया था। सन् 493 ई० में थयोडोरिक गोथ (जाट) रोम का राजा बना। रोम के जाट राजा तोतिला (Totila) ने यूनानियों से नेपल्स वापिस छीन लिया। नेपल्स पर अधिकार करते समय जाटों ने वहां की स्त्रियों का अपमान नहीं होने दिया तथा कैदी सैनिकों के साथ मानवता से व्यवहार किया1

विजेता जाट अत्तीला (Attila)

अत्तीला सीथियन जाट नेता बालामीर का वंशज था जिसने कैस्पियन सागर के उत्तर से बढ़कर डैन्यूब नदी तथा उससे भी पार तक कई देशों पर विजय प्राप्त की थी। अत्तीला जाटों की उसी शाखा से सम्बन्धित था जिससे इण्डोसीथियन थे। इसके पिता का नाम मुञ्जक था। यूरोप में विजयी अत्तीला का चरित्र अत्यन्त महत्त्वपूर्ण रहा है।

उसका राज्य डैन्यूब नदी के पूर्व में मैदानी क्षेत्र पर था। उसने यूरोप तथा एशिया दोनों में अपने राज्य का बहुत विस्तार किया। उसने चीनी सम्राट् के साथ समान शर्तों पर समझौता किया। उसने रेवेन्ना तथा कांस्टेंटीपल को 10 वर्ष तक भयभीत रखा।

पूर्वी रोमन सम्राट् थियोडोसियस द्वितीय की पोती हांनारिया को, दरबार के एक कर्मचारी पर मोहित होने के कारण बन्दी बनाया गया था। उस लड़की ने निराश होकर अपनी अंगूठी अत्तीला को भेजी तथा अपने को मुक्त कराने और पति बनने की प्रार्थना की। अत्तीला तुरन्त दक्षिण की ओर बढ़ा और कांस्टेंटीपल के निकट पहुंच गया। इतिहासज्ञ गिब्बन के अनुसार उसने अपनी सफलता में 70 नगर नष्ट कर दिए। रोमन सम्राट् ने उससे बहुमूल्य शान्ति-सन्धि करनी पड़ी। अत्तीला हांनारिया को अपनी दुल्हन समझता रहा। उसने अगले आक्रमण के लिये बहाने के रूप में उस सम्बन्ध को कायम रखा। सम्राट् को एक और सन्धि करने के लिये विवश कर दिया गया। अतः सम्राट् थियोडोसियस ने अपनी पौती हांनारिया का डोला अत्तीला को दे दिया।

सम्राट् ने अत्तीला के कैम्प में अपना एक राजदूत भेजा जिसके साथ एक साहित्यकार प्रिस्कस भी गया। उसने अत्तीला के कैम्प में जो कुछ देखा उसका एक विस्तृत विवरण लिखा। वह लिखता है कि “अत्तीला शराब के स्थान पर मधुपानीय, अनाज के प्रति बाजरा तथा शुद्ध पानी या जौ के पानी का सेवन करता था। (यह अत्यन्त रोचक है कि हरयाणाराजस्थान के जाटों का प्रिय भोजन बाजरा है)। उसकी राजधानी एक बहुत विस्तृत कैम्प के रूप में थी। उसमें रोमन नमूने का एक स्नानघर तथा पत्थर की बनी हुई एक कोठी थी। अधिकतर लोग


1. आधार लेख अनटिक्विटी ऑफ जाट रेस, पृ० 54 से 62, लेखक उजागरसिंह माहिल।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-393


झोंपड़ियों तथा तम्बुओं में रहते थे। अत्तीला तथा उसके प्रमुख नेता अपनी पत्नियों एवं मन्त्रियों के साथ लकड़ी के महलों में रहते थे। लूटी हुई वस्तुओं का बहुत बड़ा दिखावा था। किन्तु अत्तीला एक जाट की तरह ही बहुत साधारण जीवन व्यतीत करता था। वह लकड़ी के प्यालों तथा थालों में भोजन करता था। वह बड़ा परिश्रमी था। अपने महल के द्वार पर दरबार लगाता था तथा साधारण गद्दी पर बैठता था।”

451 ई० में अत्तीला ने पश्चिमी साम्राज्य पर धावा बोल दिया। उसने गॉल (फ्रांस) पर आक्रमण करके वहां के बहुत से नगरों तथा सुदूर दक्षिण में आर्लिअंज (Orleans) तक लूटमार की। फ्रैंक्स उसे हराने के लिये बहुत कमजोर थे किन्तु वीसी गोथ (पश्चिमी गोथ) कहलाने वाले जाटों की एक और शाखा फ्रैंक्स लोगों से मिल गई। 451 ई० में चालोञ्ज़ के स्थान पर एक भयंकर युद्ध हुआ जिसमें दोनों ओर से 1,50,000 आदमी मारे गये। यूरोप में अत्तीला को यह पहली पराजय मिली क्योंकि उसके विरुद्ध प्राचीन जाट विजेताओं की एक शाखा शत्रु की ओर मिलकर लड़ रही थी। इस हार से वह निराश नहीं हुआ। उसने अपना ध्यान दक्षिण की ओर दिया और उत्तरी इटली पर आक्रमण कर दिया। अक्वीला एवं पाडुआ को जला दिया तथा मिलान को उसने लूट लिया। यहां पोपलियो ने उसे अग्रिम आक्रमणों से रोका। चमत्कारिक अत्तीला ने ईसाइयों के मुख्य पादरी की प्रार्थना पर शान्ति स्थापित कर ली। उस साहसी वीर योद्धा की सन् 453 ई० में मृत्यु हो गई। उसका साम्राज्य कैस्पियन सागर से राइन नदी (पश्चिमी जर्मनी में) तक फैला हुआ था1

जाट इतिहास पृ० 186 पर ठा० देशराज ने लिखा है कि “रोमन सम्राट् थियोडोसियस जाटों से बहुत भयभीत था, अतः उसने लड़की हांनारिया की शादी अत्तीला से कर दी। इस तरह से जाट और रोमन लोगों का रक्त सम्बन्ध स्थापित हो गया। इस लड़की की सलाह के अनुसार जाटों ने इटली से बाहर स्पेन और गॉल के बीच में अपना साम्राज्य स्थापित किया जो 300 वर्ष तक कायम रहा। सन् 446 ई० में हूण लोग रोम का ध्वंस करते हुए गॉल में प्रवेश कर गए। वहां पर रोमनों व गाथों (जाटों) ने मिलकर हूणों को हरा दिया।”

अत्तीला के मरने के बाद उसके साम्राज्य को उसके तीन पुत्रों अल्लाक, हरनाम तथा देंघिसक में बराबर-बराबर बांट दिया। इस बंटवारे के समय अन्य दो निकट सम्बन्धी उजीन्दर व एमनेद्ज़र ने अपने अधिकार की मांग की। इसलिये अन्त में उस साम्राज्य को पांच भागों में बांटा गया। पिता की सम्पत्ति या साम्राज्य को उसके पुत्रों में विभाजन का यह तरीका प्राचीन आर्य रीति के अनुसार है जो कि जाट समाज में आज भी प्रचलित है।

इसी प्रकार बलवंशियों का राजा कुबरत जिसने 630 ई० में रोमन सम्राट् हरकलीन्ज से सन्धि की थी, के मरने पर उसका राज्य उसके पांच पुत्रों में बराबर-बराबर बांट दिया गया था2

अत्तीला के मरने के बाद कुल्लर और उदर गोत्र के जाटों ने मिलकर रोमन साम्राज्य पर आक्रमण किया तथा (485 ई० से 557 ई०) 72 वर्ष तक लड़े। इनका शासन चलता रहा। बाद में


1. आधार लेख अनटिक्विटी ऑफ जाट रेस, पृ० 54 से 62, लेखक उजागरसिंह माहिल।
2. जाट्स दी ऐन्शेन्ट रूलर्ज पृ० क्रमशः 88, 84, 85, लेखक बी० एस० दहिया।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-394


बलवंशीय जाटों का शासन हुआ जिनके नाम पर बुल्गारिया नाम पड़ा। (J.J. Modi in JBRRAS, 1914, P. 548)1

ये तीनों कुल्लर, उदर, बल वंश के लोग मध्यएशिया से यूरोप को बड़े संघों के रूप में गये। इनके नेता बालामीर (376 ई०), उलदस (400 ई०), रौलस (425 ई०), रूगुल (433 ई०) और अत्तीला (जो कि 453 ई० में मर गया) थे2

सन् 489 ई० में पूर्वी गाथों के सरदार थियोडेरिक (देवदारुक) ने इटली पर आक्रमण किया। 4 वर्ष की निरन्तर लड़ाई के बाद इटली के तत्कालीन सम्राट् ओडोवर ने इटली का आधा राज्य देकर गोथों से सन्धि कर ली। थोड़े ही दिन बाद देवदारुक ने सम्राट् ओडोवर को मरवाकर सारी इटली पर गाथों का अधिकार जमा दिया। इस जाट सम्राट् ने इटली पर 493 ई० से 526 ई० तक 33 वर्ष शासन किया। उसने रोमानों को बड़े-बड़े पदों पर नियुक्त किया। नगर, बाग-बगीचे, सड़कें और नहरों की मरम्मत कराई। कृषि और उद्योग-धन्धों की उन्नति कराई। रोमन लोगों के साथ न्याय व अच्छा व्यवहार किया जिससे वे कहने लग गये कि खेद है “जाट इससे पूर्व ही हमारे यहां क्यों न आये।” उन्होंने जाट राज्य को राम राज्य की संज्ञा दी।

थियोडोरिक जाट सम्राट् की सन् 526 ई० में मृत्यु हो गई जिससे जाटों तथा रोमनों को बड़ा दुख हुआ। उसके बाद सन् 553 ई० तक उसके वंशजों का इटली पर शासन रहा। इसी वर्ष उनके हाथ से रोमन सम्राट् जस्टिनियन ने इटली का राज्य छीन लिया।

यूरोप में एक नया धर्म खड़ा हुआ था जिसका नाम महात्मा यीशु के नाम पर ईसाई धर्म था। इसके सिद्धान्त भी बौद्ध-धर्म से मिलते-जुलते थे तथा एक ईश्वर को ही मानने के थे। इसलिए यूरोप के जाटों पर भी ईसाई धर्म का प्रभाव पड़ने लगा। वे 12वीं सदी तक सबके सब ईसाई हो गये।

सन् 711 ई० में तरीक की अध्यक्षता में मुसलमानों ने स्पेन में जाट लोगों पर चढ़ाई की। उस समय जाटों का नेता रोडरिक (रुद्र) था। वह युद्ध में हार गया और बर्बर अरबों का स्पेन और गॉल (फ्रांस) पर अधिकार हो गया। (जाट इतिहास पृ० 188-189, में ठा० देशराज)

इसके बाद फिर स्पेन पर जाटों का राज्य रहा। इसका प्रमाण यह है। दसवीं शताब्दी में स्पेन के अन्तिम जाट सम्राट् का पौत्र अलवारो था। एक साहित्यिक लेख में उसको स्पष्ट रूप से बहुत ऊँचे स्तर की पुरानी गेटी (जाट) जाति का वंशज बताया गया है। (Journal of Royal Asiatic society, 1954, P. 138)। अलवारो कहता है कि मैं उस जाट जाति का हूं जिसके लिये (1) सिकन्दर महान् ने घोषणा की थी कि जाटों से बचो, (2) जिनसे पाइरस डरा (3) जूलियस सीज़र कांप गया (4) और हमारे अपने स्पेन के सम्राट् जेरोम ने जाटों के विषय में कहा था कि इनके आगे सींग हैं, सो बचकर दूर रहो। (Episola XX, Nigne, Vol 121, Col, 514) बी० एस० दहिया, पृ० 58-59)।

External links

References

  1. अन्ताखीं चैव रॊमां च यवनानां पुरं तदा । दूतैर एव वशे चक्रे करं चैनान अथापयत (II.28.49)
  2. शकास तुखाराः कङ्काश च रॊमशाः शृङ्गिणॊ नराः महागमान थूरगमान गणितान अर्बुदं हयान (II.47.26)
  3. वध्राः करीषकाश चापि कुलिन्थॊपत्यकास तदा । वनायवॊ थशा पार्श्वा रॊमाणः कुश बिन्थवः (VI. 10.54)
  4. चित्रमाल्यधराः केच चित केच चिद रॊमाननास तथा दिव्यमाल्याम्बरधराः सततं परियविग्रहाः (IX.44.91)
  5. Livy (1797). The history of Rome. George Baker (trans.). Printed for A.Strahan.
  6. Hermann & Hilgemann(1964), p.73
  7. Livy (26 May 2005). The Early History of Rome. Penguin Books Ltd. ISBN 978-0-14-196307-5.
  8. V. S. Agrawala: India as Known to Panini, 1953, p.504
  9. V. S. Agrawala: India as Known to Panini, 1953, p.503
  10. Livy, Ab Urbe Condita V.
  11. Gallic Sack of Rome - UNRV History.
  12. CosmoLearning. "Greco-Roman World – Greece (3650 BC-146 BC)". Cosmolearning.com.
  13. "Augustus (63 BC – AD 14)". Historical Figures. BBC.
  14. "Julius Caesar – Roman Dictator". h2g2. British Broadcasting Company.
  15. "Augustus (63 BC – AD 14)". Historical Figures. BBC.
  16. "Pax Romana". Unrv.com.
  17. "University of Chicago". Penelope.uchicago.edu.
  18. Horst R. Thieme (2003). "Mathematics in population biology". Princeton University Press. p.285. ISBN 0-691-09291-5
  19. Population crises and cycles in history. A review of the book Population Crises and Population cycles by Claire Russell and W.M.S. Russell.
  20. Norman John Greville Pounds. An Historical Geography of Europe 450 B.C.-A.D. 1330. p. 192.
  21. History of the Jats/Chapter III,p.41-42
  22. Jats the Ancient Rulers (A clan study)/The Antiquity of the Jats,p.314
  23. Asiatic Researches, Vol. IX, p. 181.
  24. Strabo, Geography, bk. XV, ch. I, p. 73.
  25. Jats the Ancient Rulers (A clan study)/Relationship with the Aryans,p.84-85
  26. J.J.Modi in JBBRAS, Vol. XXIV,1914,p.5
  27. Bhim Singh Dahiya:Jats the Ancient Rulers (A clan study)/Introduction, p.xvii
  28. History of Origin of Some Clans in India/Jat From Jutland, pp. 46-47
  29. The Jats:Their Origin, Antiquity and Migrations/The Scythic origin of the Jats,p.175
  30. Annals and Antiquities of Rajasthan, Vol. 1. p. 85; Vol. 11, pp. 138,180.299. Ency. Asiatica, Vol. v, pp. 420-23.
  31. Dr Mahendra Singh Arya, Dharmpal Singh Dudee, Kishan Singh Faujdar & Vijendra Singh Narwar: Ādhunik Jat Itihasa (The modern history of Jats), Agra 1998 p. 236
  32. Toynbee, Arnold Joseph (1939). A Study of History. Volume 2. London: Oxford University Press. p. 435.
  33. Hewitt 1894, p. 482
  34. Hewitt, James Francis (1894). The Ruling Races of Prehistoric Times in India, South-Western Asia and Southern Europe. London: Archibald Constable & Co. p. 481-482.
  35. H. G. Keene: The Fall of the Moghul Empire of Hindustan, September, 1998. CHAPTER II. A.D. 1765-71. http://www.gutenberg.org/dirs/etext98/tfmeh10.txt
  36. Mahendra Singh Arya et al: Adhunik Jat Itihas, p. 250
  37. Mahendra Singh Arya et al: Adhunik Jat Itihas, p. 254
  38. Mahendra Singh Arya et al.: Ādhunik Jat Itihas, Agra, 1998, p. 275
  39. Mahendra Singh Arya et al.: Ādhunik Jat Itihas, Agra, 1998, p. 275
  40. Jats the Ancient Rulers (A clan study)/Jat Clan in India,p. 276-277
  41. Book VII , ch. 68)( Pakhtoons)
  42. op.cit,II , 27. 22-26
  43. Vol-I,pt. II, p.426 ff.
  44. ibid . p. 428 note 3
  45. Bhim Singh Dahiya : Jats the Ancient Rulers ( A clan study), 1980, Sterling Publishers New Delhi, p. 282
  46. Jats the Ancient Rulers (A clan study)/Porus and the Mauryas,p.154
  47. जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठ.392-395

Back to Places