Russia

From Jatland Wiki
(Redirected from Russian)
Jump to navigation Jump to search

Russia (Hindi: रूस, Russian: Россия, tr. Rossiya;), also officially known as the Russian Federation (Russian: Российская Федерация, tr. Rossiyskaya Federatsiya; ), is a country in northern Eurasia.

Location

From northwest to southeast, Russia shares land borders with Norway, Finland, Estonia, Latvia, Lithuania and Poland, Belarus, Ukraine, Georgia, Azerbaijan, Kazakhstan, China, Mongolia, and North Korea. It shares maritime borders with Japan by the Sea of Okhotsk, the US state of Alaska across the Bering Strait and Canada's Arctic islands.

Origin of name

The name Russia is derived from Rus, a medieval state populated mostly by the East Slavs.The name Rus itself comes from Rus people, a group of Varangians (possibly Swedish Vikings)[1]The medieval Russian state, established c. 862 by Scandinavian traders and warriors led by Rurik, who founded a dynasty at Novgorod. In 882 his successor moved the capital to Kiev, the center of Kievan Russia.[2] who founded the state of Rus (Русь).

History

In prehistoric times the vast steppes of Southern Russia were home to tribes of nomadic pastoralists. Remnants of these steppe civilizations were discovered in such places as Ipatovo,[3] Sintashta,[4] Arkaim,[5] and Pazyryk,[6] which bear the earliest known traces of mounted warfare, a key feature in the nomadic way of life.

In classical antiquity, the Pontic Steppe was known as Scythia. Since the 8th century BC, Ancient Greek traders brought their civilization to the trade emporiums in Tanais and Phanagoria. The Romans settled on the western part of the Caspian Sea, where their empire stretched towards the east.[7] In 3rd – 4th centuries AD a semi-legendary Gothic kingdom of Oium existed in Southern Russia till it was overrun by Huns. Between the 3rd and 6th centuries AD, the Bosporan Kingdom, a Hellenistic polity which succeeded the Greek colonies,[8] was also overwhelmed by nomadic invasions led by warlike tribes, such as the Huns and Eurasian Avars.[9] A Turkic people, the Khazars, ruled the lower Volga basin steppes between the Caspian and Black Seas until the 10th century.[10]

The ancestors of modern Russians are the Slavic tribes, whose original home is thought by some scholars to have been the wooded areas of the Pinsk Marshes.[11] The East Slavs gradually settled Western Russia in two waves: one moving from Kiev toward present-day Suzdal and Murom and another from Polotsk toward Novgorod and Rostov. From the 7th century onwards, the East Slavs constituted the bulk of the population in Western Russia[12] and slowly but peacefully assimilated the native Finno-Ugric peoples, including the Merya, the Muromians, and the Meshchera.

The establishment of the first East Slavic states in the 9th century coincided with the arrival of Varangians, the traders, warriors and settlers from the Baltic Sea region. Primarily they were Vikings of Scandinavian origin, who ventured along the waterways extending from the eastern Baltic to the Black Sea and Caspian Seas.[13] According to the Primary Chronicle, a Varangian from Rus' people, named Rurik, was elected ruler of Novgorod in 862. In 882 his successor Oleg ventured south and conquered Kiev,[14] which had been previously paying tribute to the Khazars, founding Kievan Rus'. Oleg, Rurik's son Igor and Igor's son Sviatoslav subsequently subdued all local East Slavic tribes to Kievan rule, destroyed the Khazar khaganate and launched several military expeditions to Byzantium and Persia.

In the 10th to 11th centuries Kievan Rus' became one of the largest and most prosperous states in Europe. The reigns of Vladimir the Great (980–1015) and his son Yaroslav the Wise (1019–1054) constitute the Golden Age of Kiev, which saw the acceptance of Orthodox Christianity from Byzantium and the creation of the first East Slavic written legal code, the Russkaya Pravda.

In the 11th and 12th centuries, constant incursions by nomadic Turkic tribes, such as the Kipchaks and the Pechenegs, caused a massive migration of Slavic populations to the safer, heavily forested regions of the north, particularly to the area known as Zalesye.[15] The age of feudalism and decentralization was marked by constant in-fighting between members of the Rurik Dynasty that ruled Kievan Rus' collectively. Kiev's dominance waned, to the benefit of Vladimir-Suzdal in the north-east, Novgorod Republic in the north-west and Galicia-Volhynia in the south-west.

Ultimately Kievan Rus' disintegrated, with the final blow being the Mongol invasion of 1237–40,[16] that resulted in the destruction of Kiev and the death of about half the population of Rus'.[17] The invading Mongol elite, together with their conquered Turkic subjects (Cumans, Kipchaks, Bulgars) became known as Tatars, formed the state of the Golden Horde, which pillaged the Russian principalities; the Mongols ruled the Cuman-Kipchak confederation and Volga Bulgaria (modern-day southern and central expanses of Russia) for over two centuries.[18]

Galicia-Volhynia was eventually assimilated by the Polish-Lithuanian Commonwealth, while the Mongol-dominated Vladimir-Suzdal and Novgorod Republic, two regions on the periphery of Kiev, established the basis for the modern Russian nation.[19] The Novgorod together with Pskov retained some degree of autonomy during the time of the Mongol yoke and were largely spared the atrocities that affected the rest of the country. Led by Prince Alexander Nevsky, Novgorodians repelled the invading Swedes in the Battle of the Neva in 1240, as well as the Germanic crusaders in the Battle of the Ice in 1242, breaking their attempts to colonize the Northern Rus'.

Jat History in Russia

Perhaps to solve the knot of discord on the issue of chronology of Indian History in general and and History of the Jats in particular, perhaps the history of Central Asia, covering the area of former Soviet Central Asia known in Russia as Middle Asia, the whole of Afghanistan, the northern parts of Pakistan and India, and the north-eastern part of Iran, holds the key. [20]

Herodotus (c. 484 BC - c. 425 BC) toured along the coast of the Black Sea and accumulated a considerable amount of knowledge about Jats called Scythian Getae, who were then distributed over south Russia. He went to the south of Italy, explored the antiquities of Tyre, coastal Palestine, landed at Gaza, and made a long stay in Egypt.[21]


Hukum Singh Panwar [22] writes: The Russian archaeologists discovered innumerable graves of the Saka Kings and chieftains in the Kuban, north of the Caucasus (7th-6th century B.C.), in the Crimea, in south Russia, in the Taman peninsula, in the Dnieper Valley as far up as Kiev, as well as in the Don, Donetz and Volga basins as far westwards as the Urals, in the Dunube basin as far west as Hungary and in what used to be East Prussia and is now Western Poland (6th-5th century B.C.)107. Excavations of the Royal Scythian tombs by M.P. Gryazhnov, S.I. Rudenko and others at Pazyryk and other sites in the Western Altai and nearer to lake Baikal (6th-4th century B.C. contemporary of Herodotus's Royal Scythians of South Russia) were most interesting and informative[23].


Prof. B.S. Dhillon[24]Jats writes....Jats are the one component of a group of people known as the Scythians in the Western countries and Sakas in India. Diodorus (first century B.C.) [25] wrote, "But now, in turn, we shall discuss the Scythians who inhabit the country bordering India. But some time later the descendants (Scythians) of these kings, because of their unusual valour and skill as generals, subdued much of the territory beyond the Tanais river (far eastern Europe) as far as Thrace (modern north of Greece), and advancing with their power as far as the Nile in Egypt. This people increased to great strength and had notable kings, one of whom gave his name to the Sacae (Sakas), another to the Massagetae ("great" Jats), another to the Arimaspi, and several other tribes". The recent edition of the Encyclopaedia Britannica [26] states "The Scythians were a people who during the 8th-7th centuries B.C. moved from Central Asia to Southern Russia, where they founded an empire that survived until they were gradually overcome and supplanted by the Sarmatians (another Scythian people) during the 4th century B.C. 2nd century A.D.".

Jat clans having roots in Russia

  • Burdak - The name Burdak has a web popularity of 184,000 pages as on 14.10.2014. As per online source an analysis of Burdak surname is Russia (83), USA (43), Canada (4), Ukraine (3), Australia (3), others (rest). What is the origin of name Burdak? Probably Russia or Ukraine.[39]
  • Don (दोन) is a Jat Gotra.[45] The Don (Russian: Дон, IPA: [don]) is one of the major rivers of Russia.
  • Lacha (लाचा) is a gotra of Jats. [55] [56] Lake Lacha is a freshwater lake, located in the south of Kargopolsky District of Arkhangelsk Oblast in Russia, 7 kilometres south of the town of Kargopol. It is the largest lake in Arkhangelsk Oblast, with a surface area of 334 square kilometres and a basin area of 12,600 square kilometres. Lake Lacha is the source of the Onega River, one of the major waterways of the White Sea basin.
  • Mangat - B S Dahiya[57] writes about Mangat clan: In the Tang period of Chinese history, the Chinese called the Mongols as Mengu Pronounced as Mung-nguet. [58] It is this word Mung-nguet which is now written as Mongait In Russia , e.g. A.L. Mongait, author of the Archeology in USSR, Pelican series, London (1961) and is written as Mangat (a Jat clan) in India, This clan’s name appears in Mahabharata as Manonugat-a country in Kroncha Dvipa, east of Pamirs. [59] This has almost exact similarity with the Chinese form.

जाटों का शासन

दलीप सिंह अहलावत[71] ने लिखा है.... ययाति जम्बूद्वीप के सम्राट् थे। जम्बूद्वीप आज का एशिया समझो। यह मंगोलिया से सीरिया तक और साइबेरिया से भारतवर्ष शामिल करके था। इसके बीच के सब देश शामिल करके जम्बूद्वीप कहलाता था। कानपुर से तीन मील पर जाजपुर स्थान के किले का ध्वंसावशेष आज भी ‘ययाति के कोट’ नाम पर प्रसिद्ध है। राजस्थान में सांभर झील के पास एक ‘देवयानी’ नामक कुंवा है जिसमें शर्मिष्ठा ने वैरवश देवयानी को धकेल दिया था, जिसको ययाति ने बाहर निकाल लिया था[72]। इस प्रकार ययाति राज्य के चिह्न आज भी विद्यमान हैं।

महाराजा ययाति का पुत्र पुरु अपने पिता का सेवक व आज्ञाकारी था, इसी कारण ययाति ने पुरु को राज्य भार दिया। परन्तु शेष पुत्रों को भी राज्य से वंचित न रखा। वह बंटवारा इस प्रकार था -

1. यदु को दक्षिण का भाग (जिसमें हिमाचल प्रदेश, पंजाब, हरयाणा, राजस्थान, दिल्ली तथा इन प्रान्तों से लगा उत्तर प्रदेश, गुजरात एवं कच्छ हैं)।

2. तुर्वसु को पश्चिम का भाग (जिसमें आज पाकिस्तान, अफगानिस्तान, ईरान, इराक, सऊदी अरब,यमन, इथियोपिया, केन्या, सूडान, मिश्र, लिबिया, अल्जीरिया, तुर्की, यूनान हैं)।

3. द्रुहयु को दक्षिण पूर्व का भाग दिया।

4. अनु को उत्तर का भाग (इसमें उत्तरदिग्वाची[73] सभी देश हैं) दिया। आज के हिमालय पर्वत से लेकर उत्तर में चीन, मंगोलिया, रूस, साइबेरिया, उत्तरी ध्रुव आदि सभी इस में हैं।

5. पुरु को सम्राट् पद पर अभिषेक कर, बड़े भाइयों को उसके अधीन रखकर ययाति वन में चला गया[74]। यदु से यादव क्षत्रिय उत्पन्न हुए। तुर्वसु की सन्तान यवन कहलाई। द्रुहयु के पुत्र भोज नाम से प्रसिद्ध हुए। अनु से म्लेच्छ जातियां उत्पन्न हुईं। पुरु से पौरव वंश चला[75]

जब हम जाटों की प्राचीन निवास भूमि का वर्णन पढते हैं तो कुभा (काबुल) और कृमि (कुर्रम) नदी उसकी पच्छिमी सीमायें, तिब्बत की पर्वतमाला पूर्वी सीमा, जगजार्टिस और अक्सस नदी


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-185


उत्तरी सीमा और नर्मदा नदी दक्षिणी सीमा बनाती है। वास्तव में यह देश उन आर्यों का है जो चन्द्रवंशी अथवा यदु, द्रुहयु, तुर्वसु, कुरु और पुरु कहलाते थे। भगवान् श्रीकृष्ण के सिद्धान्तों को इनमें से प्रायः सभी ने अपना लिया था। अतः समय अनुसार वे सब जाट कहलाने लग गये। इन सभी खानदानों की पुराणों ने स्पष्ट और अस्पष्ट निन्दा ही की है। या तो इन्होंने आरम्भ से ही ब्राह्मणों के बड़प्पन को स्वीकार नहीं किया था या बौद्ध-काल में ये प्रायः सभी बौद्ध हो गये थे। वाह्लीक,तक्षक, कुशान, शिव, मल्ल, क्षुद्रक (शुद्रक), नव आदि सभी खानदान जिनका महाभारत और बौद्धकाल में नाम आता है वे इन्हीं यदु, द्रुहयु, कुरु और पुरुओं के उत्तराधिकारी (शाखायें) हैं[76]

सम्राट् ययातिपुत्र यदु और यादवों के वंशज जाटों का इस भूमि पर लगभग एक अरब चौरानवें करोड़ वर्ष से शासन है। यदु के वंशज कुछ समय तो यदु के नाम से प्रसिद्ध रहे थे, किन्तु भाषा में ‘य’ को ‘ज’ बोले जाने के कारण जदु-जद्दू-जट्टू-जाट कहलाये। कुछ लोगों ने अपने को ‘यायात’ (ययातेः पुत्राः यायाताः) कहना आरम्भ किया जो ‘जाजात’ दो समानाक्षरों का पास ही में सन्निवेश हो तो एक नष्ट हो जाता है। अतः जात और फिर जाट हुआ। तीसरी शताब्दी में इन यायातों का जापान पर अधिकार था (विश्वकोश नागरी प्र० खं० पृ० 467)। ये ययाति के वंशधर भारत में आदि क्षत्रिय हैं जो आज जाट कहे जाते हैं। भारतीय व्याकरण के अभाव में शुद्धाशुद्ध पर विचार न था। अतः यदोः को यदो ही उच्चारण सुनकर संस्कृत में स्त्रीलिंग के कारण उसे यहुदी कहना आरम्भ किया, जो फिर बदलकर लोकमानस में यहूदी हो गया। यहूदी जन्म से होता है, कर्म से नहीं। यह सिद्धान्त भी भारतीय धारा का है। ईसा स्वयं यहूदी था। वर्त्तमान ईसाई मत यहूदी धर्म का नवीन संस्करण मात्र है। बाइबिल अध्ययन से यह स्पष्ट है कि वह भारतीय संसकारों का अधूरा अनुवाद मात्र है।

अब यह सिद्ध हो गया कि जर्मनी, इंग्लैंण्ड, स्काटलैण्ड, नार्वे, स्वीडन, रूस, चेकोस्लोवाकिया आदि अर्थात् पूरा यूरोप और एशिया के मनुष्य ययाति के पौत्रों का परिवार है। जम्बूद्वीप, जो आज एशिया कहा जाता है, इसके शासक जाट थे[77]

रूस निवासियों का भारतीय जाटों से सम्बन्ध

रूसी लोगों की अनेक जातियों के नाम भारतीय जाटों से मिलते हैं जैसे रूस के आंतस (Antas) भारतीय आंतल (Antals) तथा रूस के वैन (Ven), भारतीय बैनीवाल-वैन (Benhwal-Venwal) आदि। रूस की बड़ी आबादी के लोग स्लाव (Sláv) कहलाते हैं। यह स्लाव शब्द


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-346


सकलाव से निकला है जो कि भारतीय पुराणों में सकरवाक लिखा है और भारतीय जाटों का गोत्र सकरवार/सिकरवार है (मध्य एशिया का इतिहास, हिन्दी खण्ड 2, पृ० 563), लेखक राहुल सांकृत्यायन1। सिकरवार, शक जाट थे जिनका मध्य एशिया में सोगदियाना प्रदेश पर शासन छठी शताब्दी ईस्वी पूर्व में था तथा जिनके राज्य में बुखारा, समरकन्द, ताशकन्द आदि नगर थे। (American Journal of Semetic Languages and Literature, 1940, P. 354)2

भारतीय, मध्यएशिया तथा यूरोप के जाटों की पहिचान एवं समानता के लिए क्रिमिया (Crimea) एवं पश्चिमी रूस के अन्य स्थानों से की गई खुदाइयों से प्राप्त वस्तुओं के प्रमाण -

सन् 1971 ई० में रूस के यूक्राइन (Ukraine) प्रान्त में टोवस्टा (Tovsta) नामक स्थान से खुदाई करते समय शक लोगों की बहुत सी वस्तुएं मिली हैं। इनमें से एक सोने का बना हुआ छाती का कवच है जिसका भार 2½ पौंड का है। इस कवच पर 44 गायों एवं घोड़ियों की मूर्तियां हैं। इसके मध्य में दो शक हैं जिनके सिर पर जटाजूट बाल तथा लम्बी दाढ़ी है। यूक्राइन में सोलोखा (Solokha) नामक स्थान पर 400 ई० पू० का एक स्वर्ण का पीने का बर्तन तथा दूसरा पीने का प्याला मिले हैं। इस पर एक शक शिकारी, घोड़े पर सवार, अपने भाले से शेर को मारते हुए की मूर्ति अंकित है। एक सोने का कंघा भी मिला है। एक सोने या चांदी का ठोस हँसला (कंठा या गुलिबंद) मिला है जिसको शक स्त्रियां बड़े चाव से पहनती थीं जिसका प्रयोग भारतवर्ष की जाट जाति में आज भी होता है। इस कारण से, दृढ़ विश्वास के साथ हम कह सकते हैं कि रूस निवासी स्लाव लोग, तथा उत्तरी यूरोपियन लोग जाट जाति से सम्बन्धित हैं3। यह पिछले पृष्ठों पर लिख दिया गया है कि शक जाट हैं और उनके नाम पर सीथिया देश नाम पड़ा। शक-सीथियनज़, इण्डो-सीथियनज़, यूरोपियन-सीथियनज़ सब एक ही नाम हैं जो कि सब जाट हैं।

नोट - ड्यूक आलेग नॉरमन जाट ने आधुनिक रूस की नींव डाली। यह इसी अध्याय के अगले पृष्ठों पर लिखा जाएगा।

पश्चिमी रूस का एक बहुत बड़ा प्रान्त यूक्राइन है जहां पर [Slav|स्लाव]] जाटों की बड़ी संख्या है। वहां पर स्त्री-पुरुषों की शक्ल-सूरत, कद, चाल-ढाल, रंग-रूप, पहनावा हरयाणा प्रान्त के जाट स्त्री-पुरुषों से मिलता-जुलता है। इन स्लाव जाटों का देश चेकोस्लोवाकिया है। यह देश सेरब + स्लाव (Serb + Slav) दो जातियों के मिलाप से चेको + स्लोवाकिया (Czecho+Slovakia) चेकोस्लोवाकिया कहलाया। इस देश के साथ लगने वाले पोलैण्ड, आस्ट्रिया, हंगरी, रूमानिया, युगोस्लाविया आदि देशों में भी स्लाव जाट बड़ी संख्या में बसे हुए हैं।

इतिहासकार एच० जी० वेल्ज ने अपनी पुस्तक “दी ऑउटलाइन ऑफ हिस्ट्री” के अध्याय 32, पृ० 635 पर लिखा है कि “जब हम दक्षिणी रूस क्षेत्रों की वर्तमान जनसंख्या के विषय में सोचते हैं तो हमें नॉरमन लोगों का बाल्टिक तथा काला सागर के बीच आवागमन भी याद रखना होगा। और यह भी याद रखना होगा कि वहां स्लावोनिक (Slavonik) जनसंख्या काफी थी जो कि सीथियन तथा सरमाटियन्ज (Sarmatians) के वंशज एवं उत्तराधिकारी थे तथा वे इन अशान्त, कानूनरहित किन्तु उपजाऊ क्षेत्रों में पहले ही आबाद हो गये थे। ये सब जातियां परस्पर घुलमिल


1, 2, 3. जाट्स दी ऐनशन्ट् रूलर्ज लेखक बी० एस० दहिया पृ० क्रमशः 61, 372, 61, 62.


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-347


गईं तथा एक-दूसरे के प्रभाव में आ गईं। स्लावोनिक भाषाओं की, सिवाय हंगरी में, सम्पूर्ण सफलता से प्रतीत होता है कि स्लाव (Slav) लोगों की ही जनसंख्या अत्यधिक थी।” डेन, विकिंग्ज़, नॉरमन, ऐंगल्स, सैक्सन्स और गोथ ये सब सीथियन जाटों में से ही थे तथा उन्हीं के वंशज थे1

नोट - इनके जाट होने के प्रमाण इसी चतुर्थ अध्याय में यूरोप तथा अफ्रीका में जाटों का शासन, प्रकरण में लिखे जायेंगे।

मध्यएशिया का इतिहास हिन्दी, खण्ड 2, पृ० 565 पर लेखक राहुल सांकृत्यायन ने लिखा है कि “प्राचीन समय के शक, रूस के स्लाव लोगों के रूप में फिर से प्रकट हुए हैं, जो आज भी विद्यमान हैं। पश्चिमी शक लोग बहुत देशों में प्रवेश कर गये और भारतवर्ष में ब्राह्मण, गूजर, जाट, राजपूत आदि हिन्दू जाति में लीन हो गये। रूसी भाषा संस्कृत भाषा से मिलती जुलती है। इसका कारण यह है कि रूसवाले लोग, शक लोगों के वंशज हैं और शक लोग आर्य ही हैं जो प्राचीन समय से भारतवर्ष व ईरान में आबाद हैं। बहुत शताब्दियों के बीतने के पश्चात् काफी शक लोग फिर से अपने देश भारत में आये2। शक लोग क्षत्रिय आर्य जाट भी हैं तथा आज शक गोत्र के जाट बड़ी संख्या में विद्यमान हैं। (अधिक जानकारी के लिए देखो तृतीय अध्याय, शक प्रकरण)।

“इण्डिया एण्ड रस्सिया, लिंगुइस्टिक एण्ड कल्चरल अफीनिटी” लेखक डब्ल्यू० आर० ऋषि के अनुसार भारतीयों एवं भारतीय जाटों के रूस निवासियों से सम्बन्ध निम्न प्रकार से हैं -

आर्यों और पूर्वी स्लाव लोगों की भाषा, धर्म तथा धार्मिक त्यौहारों की समानता में विचित्र सम्बन्ध रहे हैं। यह सम्बन्ध मात्र दैवयोग या संयोग से नहीं हो सकते। यह दृढ़ कथन या यथार्थता है कि किसी समय संस्कृत भाषा बोलने वाले और रूसी भाषी लोग अवश्य साथ रहे हैं। रूस के इतिहास के अनुसार रूस के प्रथम निवासी काला सागर के उत्तर में पोनटिक मैदानों (Pontic steppes) में थे जो कि समेरियन्स (Cimmerians) कहलाते थे। ये समेरियन्स, आर्य लोग ही थे जिसके ठोस प्रमाण हैं। ईस्वी पूर्व 11वीं - 8वीं शताब्दियों में इन समेरियन्स के स्थान पर सीथियन या शक लोग आ गए थे। इन शक लोगों ने वहां पर उच्चकोटि की एवं प्राचीन संस्कृति उत्पन्न की जिसका पूर्वी और मध्य यूरोप की जनता पर गहरा प्रभाव पड़ा। इन सीथियन्स या शक लोगों का योगदान रूस के इतिहास पर इतना महान् एवं प्रभावशाली है कि यह सारा समय रूस के इतिहास में “सीथियन विशिष्ट युग” कहलाता है। यूनानी इतिहासकार हैरोडोटस ने सीथिया की सीमा डेन्यूब (Danube) नदी से डॉन (Don) नदी तक जिसमें क्राइमियन के मैदान (Crimean steppes) शामिल हैं, लिखी है। परन्तु प्रसिद्ध भारतीय विद्वान् राहुल सांकृत्यायन ने रूसी वैज्ञानिकों द्वारा हाल में की गई खुदाइयों से प्राप्त प्राचीनकालीन रूसी वस्तुओं का अध्ययन करके लिखा है कि सीथियन या शक लोगों का निवास एवं अस्तित्व कार्पेथियन पर्वतमाला (Carpathian Mountains) से गोबी मरुस्थल (Gobi Desert) तक 2000 ई० पू० से सिकन्दर


1. अनटिक्विटी ऑफ जाट रेस, पृ० 70 ।
2. जाट्स दी ऐनशन्ट् रूलर्ज पृ० 62 लेखक बी० एस० दहिया।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-348


महान् के समय तक (चौथी शताब्दी ई० पू०) था। यह देश शकद्वीप या शकटापू कहलाता था (पृ० 140-141)।

स्लाव और सरमाटियन्ज जातियों के अतिरिक्त पहली-तीसरी शताब्दियों में गोथ (जाट) नीपर नदी (Dnieper) के मैदानों में आबाद हो गये थे। आरम्भ में ये लोग स्केण्डेनेविया में रहे। ये लोग 3-2 शताब्दी ई० पू० में वॉल्टिक सागर के दक्षिणी तट तक फैल गए। ईसा की तीसरी शताब्दी तक गोथ जाति (जाटों) ने डेन्यूब नदी के निचले तथा नीपर नदी के बहुत बडे़ भाग पर अपना अधिकार कर लिया था। ये लोग पूर्व में डॉन नदी और दक्षिण में काला सागर तक पहुंच गए। (पृ० 115)

पूर्वी स्लाव लोगों को हूणों ने उत्तर-पूर्व की ओर धकेल दिया। इनमें से कुछ नीपर नदी के मैदानों में बस गए जो पोलियन कहलाए। (Poliane-Pole का अर्थ मैदान)। इनका दूसरा भाग जंगलों में आबाद होने के कारण द्रेवलियन कहलाया (Drevliane-derevo का अर्थ वृक्ष)। स्लाव लोगों का एक भाग इलमेन झील (ILMEN LAKE) के निकट आबाद हो गया और अपने स्लाव नाम से स्लोवेनज़ (Slovenes) कहलाते रहे। इन स्लाव (जाट) लोगों ने वहां पर नोवगोरॉड (Novgorod) नामक नगर का निर्माण किया। शेष स्लाव लोग जो उत्तर में बस गये वे सेवेरियन (Severiane) कहलाए। ये सब स्लाव लोग सीथियन्ज या शक लोगों के वंशज थे तथा एक-दूसरे की पहचान करना बहुत मुश्किल एवं असम्भव था। “सीथियन युग” में जंगलों से भरे हुए मैदानों में खेतीहर लोगों का पद (जिसमें स्लाव लोगों के पूर्वज भी शामिल थे) “सीथियन हलजोता” कहा गया। (पृ० 143) पूर्वी स्लाव लोगों का धर्म और आर्यों का धर्म समान थे। पूर्वी स्लावों ने अपना यह धर्म सन् 988 ईस्वी तक बराबर कायम रखा। तब उनके नेता स्लाव कनयजः वलाडीमीर स्वीटोस्लाविच (Slav knyaz Vladimir Sviatoslavich) ने ईसाई मत स्वीकार कर लिया। उसने अपने आश्रित प्रजा पर ईसाई पादरियों के उपदेश अनुसार स्लाव लोगों के देवताओं की तमाम मूर्तियां नष्ट कर दी गईं और उनके मन्दिरों के स्थान पर चर्च स्थापित कर दिए गए। इस तरह से पूर्वी स्लाव लोगों की ईश्वरपूजा रीति बदल गई और उनकी भाषा भी बदल गई।

रूस में और भारतवर्ष में रहने वाले सीथियनज़ या शकों का सन् 528 ई० तक घनिष्ठ सम्बन्ध रहा है जब तक कि शक राजा मिहिरकुल को जाट सम्राट् यशोधर्मा वरिक ने हराया। रूस निवासियों एवं भारतीयों की भाषा संस्कृत थी तथा संस्कृति भी एक रही थी। भौगोलिक स्थिति के कारण रूस एवं भारतीयों की संस्कृति एवं संस्कृत भाषा बदल गई। परन्तु इन दोनों देशों के निवासियों की भाषा एवं संस्कृति का मूल सम्बन्ध आज भी जीवित है। (पृ० 144)

हमने द्वितीय अध्याय में प्रमाणों द्वारा सिद्ध किया है कि जाट आर्य हैं तथा क्षत्रिय वर्ण के हैं और तृतीय अध्याय, शक प्रकरण में लिखा गया है कि शक या सीथियन जाट हैं। सारांश यह है कि रूस के स्लाव निवासी जो कि बड़ी संख्या में रूस के तथा यूरोप के अनेक प्रान्तों एवं देशों में आबाद हैं, वे सब जाट हैं। इनके अतिरिक्त इन महाद्वीपों में भिन्न-भिन्न जाट गोत्रों के लोगों की बड़ी संख्या है। यद्यपि वे कम ही जानते हैं कि हम जाट हैं। (लेखक)


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-349


मध्य एशिया (रूस) में बोले जाने वाले जाटगोत्रों के कुछ नाम निम्न प्रकार से हैं[78] -

रूसी नाम जाटगोत्र रूसी नाम जाटगोत्र
1. Avar Abara अबारा 13. Kirkin Kalkil कलकल
2. Allan Ailavat अहलावत 14. Kang Kang कांग
3. Anta Antal आंतल 15. Kula Kular कूलर
4. Asi Asiag असियाग 16. Hiung-nu Henga हैंगा
5. Bogda Bogdavat बोगदावत 17. Noyan Nain नैन
6. Balgari Bal-Ballan बालान 18. Shor Shoran सौराण-श्यौराण
7. Balkar Balhara बल्हारा 19. Timir Tomar तोमर-तंवर
8. Ven Benival बैनीवाल-बैन 20. Wark Virk विर्क-वरिक
9. Chol Chahl चहल 21. Saraut Sahravat सहरावत
10. Chimir Cheema चीमा 22. Jubolo Johl जोहल
11. Daghe-Dahi Dahiya दहिया 23. Gilli Gill गिल
12. Dashvhar Daswal देशवाल 24. Dol Dhul ढुल-ढिल्लूं

मध्य एशिया (उज्बेक व आसपास) में वर्तमान में पाए जाने वाले कुछ जाटगोत्र निम्नलिखित हैं[79] -

रूस में वर्तमान नाम जाटगोत्र
Karabura Bura बूरा
Tatar Tatran तातराण
Jani Janwar जनवार
Simarchim Sihmar शीहमार
Arbat Arab अरब
Gedoi-Gada Gathwal गठवाल
Bagurlu Bagarwa बागरवाल

[80]

Jats, Their Settlements and Strongholds in Eurasia

Mangal Sen Jindal[81] quotes Professor Cothburn Oneal in his work “Conquests of Tamerlane” published by Avon Publications Inc. 575 Madison Avenue – New York 22. This book mentions following cities as ‘Jat Strongholds’ in Russia and near about:

1. Almalyk (Alma – Ata): Pages 97, 232

2. Bokhara: Page 125,

3. Khojend (Khokand) now Ferghana, page 125,

4. Karshi (now BekBudi): Page 125,

5. Samarkand: Pages 103, 104, 106

6. Tashkant: Pages 108, 110

7. Otrar: Page 108

Jats who were residing there in strongholds in large numbers and were a source of permanent trouble to Timur-lung settled Uzbekistan.

Aryan city discovered in Russia

Russian archaeologists have unearthed some ancient and virtually unknown settlements, which they believe were built by the original Aryan race about 4,000 years ago.[82]

According to the team which has discovered 20 spiral-shaped settlements in remote Russia steppe in southern Siberia bordering Kazakhstan, the buildings date back to the beginning of the Western civilisation in Europe.

The Bronze Age settlements, experts said, could have been built shortly after the Great Pyramid, some 4,000 years ago, by the original Aryan race whose swastika symbol was later adopted by the Nazis in the 1930s.

TV historian Bettany Hughes, who explored the desolate part of the steppe for BBC programme ‘Tracking The Aryans,' said, “Potentially, this could rival ancient Greece in the Age of the Heroes.”

Kushan, Jats and Russia

डॉ धर्मचंद विद्यालंकार [83] लिखते हैं कि कुषाणों का साम्राज्य मध्य-एशिया स्थित काश्गर-खोतान, चीनी, तुर्किस्तान (सिकियांग प्रान्त) से लेकर रूस में ताशकंद और समरकंद-बुखारा से लेकर भारत के कपिशा और काम्बोज से लेकर बैक्ट्रिया से पेशावर औए मद्र (स्यालकोट) से मथुरा और बनारस तक फैला हुआ था. उस समय मथुरा का कुषाण क्षत्रप हगमाश था. जिसके वंशज हगा या अग्रे जाट लोग, जो कि कभी चीन की हूगाँ नदी तट से चलकर इधर आये थे, आज तक मथुरा और हाथरस जिलों में आबाद हैं. आज भी हाथरस या महामाया नगर की सादाबाद तहसील में इनके 80 गाँव आबाद हैं. (पृ.19 )

कुषाणों अथवा युचियों से रक्त सम्बन्ध रखने वाले ब्रज के जाटों में आज तक हगा (अग्रे), चाहर, सिनसिनवार, कुंतल, गांधरे (गांधार) और सिकरवार जैसे गोत्र मौजूद हैं. मथुरा मेमोयर्स के लेखक कुक साहब ने लिखा है कि मथुरा जिले के कुछ जाटों ने अपना निकास गढ़-गजनी या रावलपिंडी से बताया है. कुषाण साम्राज्य के अधिकांश क्षेत्र में जाटों की सघन जन संख्या उनको कुषाण वंसज होना सिद्ध करती है.(पृ.20)

रूस निवासियों का भारतीय जाटों से सम्बन्ध

Dalip Singh Ahlawat writes -

रूसी लोगों की अनेक जातियों के नाम भारतीय जाटों से मिलते हैं जैसे रूस के आंतस (Antas) भारतीय आंतल (Antals) तथा रूस के वैन (Ven), भारतीय बैनीवाल-वैन (Benhwal-Venwal) आदि। रूस की बड़ी आबादी के लोग स्लाव (Sláv) कहलाते हैं। यह स्लाव शब्द


1. जाट्स दी ऐनशन्ट् रूलर्ज पृ० 2, 26, 27, 302 लेखक बी० एस० दहिया।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-346


सकलाव से निकला है जो कि भारतीय पुराणों में सकरवाक लिखा है और भारतीय जाटों का गोत्र सकरवार/सिकरवार है (मध्य एशिया का इतिहास, हिन्दी खण्ड 2, पृ० 563), लेखक राहुल सांकृत्यायन1। सिकरवार, शक जाट थे जिनका मध्य एशिया में सोगदियाना प्रदेश पर शासन छठी शताब्दी ईस्वी पूर्व में था तथा जिनके राज्य में बुखारा, समरकन्द, ताशकन्द आदि नगर थे। (American Journal of Semetic Languages and Literature, 1940, P. 354)2

भारतीय, मध्यएशिया तथा यूरोप के जाटों की पहिचान एवं समानता के लिए क्रिमिया (Crimea) एवं पश्चिमी रूस के अन्य स्थानों से की गई खुदाइयों से प्राप्त वस्तुओं के प्रमाण -

सन् 1971 ई० में रूस के यूक्राइन (Ukraine) प्रान्त में टोवस्टा (Tovsta) नामक स्थान से खुदाई करते समय शक लोगों की बहुत सी वस्तुएं मिली हैं। इनमें से एक सोने का बना हुआ छाती का कवच है जिसका भार 2½ पौंड का है। इस कवच पर 44 गायों एवं घोड़ियों की मूर्तियां हैं। इसके मध्य में दो शक हैं जिनके सिर पर जटाजूट बाल तथा लम्बी दाढ़ी है। यूक्राइन में सोलोखा (Solokha) नामक स्थान पर 400 ई० पू० का एक स्वर्ण का पीने का बर्तन तथा दूसरा पीने का प्याला मिले हैं। इस पर एक शक शिकारी, घोड़े पर सवार, अपने भाले से शेर को मारते हुए की मूर्ति अंकित है। एक सोने का कंघा भी मिला है। एक सोने या चांदी का ठोस हँसला (कंठा या गुलिबंद) मिला है जिसको शक स्त्रियां बड़े चाव से पहनती थीं जिसका प्रयोग भारतवर्ष की जाट जाति में आज भी होता है। इस कारण से, दृढ़ विश्वास के साथ हम कह सकते हैं कि रूस निवासी स्लाव लोग, तथा उत्तरी यूरोपियन लोग जाट जाति से सम्बन्धित हैं3। यह पिछले पृष्ठों पर लिख दिया गया है कि शक जाट हैं और उनके नाम पर सीथिया देश नाम पड़ा। शक-सीथियनज़, इण्डो-सीथियनज़, यूरोपियन-सीथियनज़ सब एक ही नाम हैं जो कि सब जाट हैं।

नोट - ड्यूक आलेग नॉरमन जाट ने आधुनिक रूस की नींव डाली। यह इसी अध्याय के अगले पृष्ठों पर लिखा जाएगा।

पश्चिमी रूस का एक बहुत बड़ा प्रान्त यूक्राइन है जहां पर स्लाव जाटों की बड़ी संख्या है। वहां पर स्त्री-पुरुषों की शक्ल-सूरत, कद, चाल-ढाल, रंग-रूप, पहनावा हरयाणा प्रान्त के जाट स्त्री-पुरुषों से मिलता-जुलता है। इन स्लाव जाटों का देश चेकोस्लोवाकिया है। यह देश सेरब + स्लाव (Serb + Slav) दो जातियों के मिलाप से चेको + स्लोवाकिया (Czecho+Slovakia) चेकोस्लोवाकिया कहलाया। इस देश के साथ लगने वाले पोलैण्ड, आस्ट्रिया, हंगरी, रूमानिया, युगोस्लाविया आदि देशों में भी स्लाव जाट बड़ी संख्या में बसे हुए हैं।

इतिहासकार एच० जी० वेल्ज ने अपनी पुस्तक “दी ऑउटलाइन ऑफ हिस्ट्री” के अध्याय 32, पृ० 635 पर लिखा है कि “जब हम दक्षिणी रूस क्षेत्रों की वर्तमान जनसंख्या के विषय में सोचते हैं तो हमें नॉरमन लोगों का बाल्टिक तथा काला सागर के बीच आवागमन भी याद रखना होगा। और यह भी याद रखना होगा कि वहां स्लावोनिक (Slavonik) जनसंख्या काफी थी जो कि सीथियन तथा सरमाटियन्ज (Sarmatians) के वंशज एवं उत्तराधिकारी थे तथा वे इन अशान्त, कानूनरहित किन्तु उपजाऊ क्षेत्रों में पहले ही आबाद हो गये थे। ये सब जातियां परस्पर घुलमिल


1, 2, 3. जाट्स दी ऐनशन्ट् रूलर्ज लेखक बी० एस० दहिया पृ० क्रमशः 61, 372, 61, 62.


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-347


गईं तथा एक-दूसरे के प्रभाव में आ गईं। स्लावोनिक भाषाओं की, सिवाय हंगरी में, सम्पूर्ण सफलता से प्रतीत होता है कि स्लाव (Slav) लोगों की ही जनसंख्या अत्यधिक थी।” डेन, विकिंग्ज़, नॉरमन, ऐंगल्स, सैक्सन्स और गोथ ये सब सीथियन जाटों में से ही थे तथा उन्हीं के वंशज थे1

नोट - इनके जाट होने के प्रमाण इसी चतुर्थ अध्याय में यूरोप तथा अफ्रीका में जाटों का शासन, प्रकरण में लिखे जायेंगे।

मध्यएशिया का इतिहास हिन्दी, खण्ड 2, पृ० 565 पर लेखक राहुल सांकृत्यायन ने लिखा है कि “प्राचीन समय के शक, रूस के स्लाव लोगों के रूप में फिर से प्रकट हुए हैं, जो आज भी विद्यमान हैं। पश्चिमी शक लोग बहुत देशों में प्रवेश कर गये और भारतवर्ष में ब्राह्मण, गूजर, जाट, राजपूत आदि हिन्दू जाति में लीन हो गये। रूसी भाषा संस्कृत भाषा से मिलती जुलती है। इसका कारण यह है कि रूसवाले लोग, शक लोगों के वंशज हैं और शक लोग आर्य ही हैं जो प्राचीन समय से भारतवर्ष व ईरान में आबाद हैं। बहुत शताब्दियों के बीतने के पश्चात् काफी शक लोग फिर से अपने देश भारत में आये2। शक लोग क्षत्रिय आर्य जाट भी हैं तथा आज शक गोत्र के जाट बड़ी संख्या में विद्यमान हैं। (अधिक जानकारी के लिए देखो तृतीय अध्याय, शक प्रकरण)।

“इण्डिया एण्ड रस्सिया, लिंगुइस्टिक एण्ड कल्चरल अफीनिटी” लेखक डब्ल्यू० आर० ऋषि के अनुसार भारतीयों एवं भारतीय जाटों के रूस निवासियों से सम्बन्ध निम्न प्रकार से हैं -

आर्यों और पूर्वी स्लाव लोगों की भाषा, धर्म तथा धार्मिक त्यौहारों की समानता में विचित्र सम्बन्ध रहे हैं। यह सम्बन्ध मात्र दैवयोग या संयोग से नहीं हो सकते। यह दृढ़ कथन या यथार्थता है कि किसी समय संस्कृत भाषा बोलने वाले और रूसी भाषी लोग अवश्य साथ रहे हैं। रूस के इतिहास के अनुसार रूस के प्रथम निवासी काला सागर के उत्तर में पोनटिक मैदानों (Pontic steppes) में थे जो कि समेरियन्स (Cimmerians) कहलाते थे। ये समेरियन्स, आर्य लोग ही थे जिसके ठोस प्रमाण हैं। ईस्वी पूर्व 11वीं - 8वीं शताब्दियों में इन समेरियन्स के स्थान पर सीथियन या शक लोग आ गए थे। इन शक लोगों ने वहां पर उच्चकोटि की एवं प्राचीन संस्कृति उत्पन्न की जिसका पूर्वी और मध्य यूरोप की जनता पर गहरा प्रभाव पड़ा। इन सीथियन्स या शक लोगों का योगदान रूस के इतिहास पर इतना महान् एवं प्रभावशाली है कि यह सारा समय रूस के इतिहास में “सीथियन विशिष्ट युग” कहलाता है। यूनानी इतिहासकार हैरोडोटस ने सीथिया की सीमा डेन्यूब (Danube) नदी से डॉन (Don) नदी तक जिसमें क्राइमियन के मैदान (Crimean steppes) शामिल हैं, लिखी है। परन्तु प्रसिद्ध भारतीय विद्वान् राहुल सांकृत्यायन ने रूसी वैज्ञानिकों द्वारा हाल में की गई खुदाइयों से प्राप्त प्राचीनकालीन रूसी वस्तुओं का अध्ययन करके लिखा है कि सीथियन या शक लोगों का निवास एवं अस्तित्व कार्पेथियन पर्वतमाला (Carpathian Mountains) से गोबी मरुस्थल (Gobi Desert) तक 2000 ई० पू० से सिकन्दर


1. अनटिक्विटी ऑफ जाट रेस, पृ० 70 ।
2. जाट्स दी ऐनशन्ट् रूलर्ज पृ० 62 लेखक बी० एस० दहिया।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-348


महान् के समय तक (चौथी शताब्दी ई० पू०) था। यह देश शकद्वीप या शकटापू कहलाता था (पृ० 140-141)।

स्लाव और सरमाटियन्ज जातियों के अतिरिक्त पहली-तीसरी शताब्दियों में गोथ (जाट) नीपर नदी (Dnieper) के मैदानों में आबाद हो गये थे। आरम्भ में ये लोग स्केण्डेनेविया में रहे। ये लोग 3-2 शताब्दी ई० पू० में वॉल्टिक सागर के दक्षिणी तट तक फैल गए। ईसा की तीसरी शताब्दी तक गोथ जाति (जाटों) ने डेन्यूब नदी के निचले तथा नीपर नदी के बहुत बडे़ भाग पर अपना अधिकार कर लिया था। ये लोग पूर्व में डॉन नदी और दक्षिण में काला सागर तक पहुंच गए। (पृ० 115)

पूर्वी स्लाव लोगों को हूणों ने उत्तर-पूर्व की ओर धकेल दिया। इनमें से कुछ नीपर नदी के मैदानों में बस गए जो पोलियन कहलाए। (Poliane-Pole का अर्थ मैदान)। इनका दूसरा भाग जंगलों में आबाद होने के कारण द्रेवलियन कहलाया (Drevliane-derevo का अर्थ वृक्ष)। स्लाव लोगों का एक भाग इलमेन झील (ILMEN LAKE) के निकट आबाद हो गया और अपने स्लाव नाम से स्लोवेनज़ (Slovenes) कहलाते रहे। इन स्लाव (जाट) लोगों ने वहां पर नोवगोरॉड (Novgorod) नामक नगर का निर्माण किया। शेष स्लाव लोग जो उत्तर में बस गये वे सेवेरियन (Severiane) कहलाए। ये सब स्लाव लोग सीथियन्ज या शक लोगों के वंशज थे तथा एक-दूसरे की पहचान करना बहुत मुश्किल एवं असम्भव था। “सीथियन युग” में जंगलों से भरे हुए मैदानों में खेतीहर लोगों का पद (जिसमें स्लाव लोगों के पूर्वज भी शामिल थे) “सीथियन हलजोता” कहा गया। (पृ० 143) पूर्वी स्लाव लोगों का धर्म और आर्यों का धर्म समान थे। पूर्वी स्लावों ने अपना यह धर्म सन् 988 ईस्वी तक बराबर कायम रखा। तब उनके नेता स्लाव कनयजः वलाडीमीर स्वीटोस्लाविच (Slav knyaz Vladimir Sviatoslavich) ने ईसाई मत स्वीकार कर लिया। उसने अपने आश्रित प्रजा पर ईसाई पादरियों के उपदेश अनुसार स्लाव लोगों के देवताओं की तमाम मूर्तियां नष्ट कर दी गईं और उनके मन्दिरों के स्थान पर चर्च स्थापित कर दिए गए। इस तरह से पूर्वी स्लाव लोगों की ईश्वरपूजा रीति बदल गई और उनकी भाषा भी बदल गई।

रूस में और भारतवर्ष में रहने वाले सीथियनज़ या शकों का सन् 528 ई० तक घनिष्ठ सम्बन्ध रहा है जब तक कि शक राजा मिहिरकुल को जाट सम्राट् यशोधर्मा वरिक ने हराया। रूस निवासियों एवं भारतीयों की भाषा संस्कृत थी तथा संस्कृति भी एक रही थी। भौगोलिक स्थिति के कारण रूस एवं भारतीयों की संस्कृति एवं संस्कृत भाषा बदल गई। परन्तु इन दोनों देशों के निवासियों की भाषा एवं संस्कृति का मूल सम्बन्ध आज भी जीवित है। (पृ० 144)

हमने द्वितीय अध्याय में प्रमाणों द्वारा सिद्ध किया है कि जाट आर्य हैं तथा क्षत्रिय वर्ण के हैं और तृतीय अध्याय, शक प्रकरण में लिखा गया है कि शक या सीथियन जाट हैं। सारांश यह है कि रूस के स्लाव निवासी जो कि बड़ी संख्या में रूस के तथा यूरोप के अनेक प्रान्तों एवं देशों में आबाद हैं, वे सब जाट हैं। इनके अतिरिक्त इन महाद्वीपों में भिन्न-भिन्न जाट गोत्रों के लोगों की बड़ी संख्या है। यद्यपि वे कम ही जानते हैं कि हम जाट हैं। (लेखक)


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-349


मध्य एशिया (रूस) में बोले जाने वाले जाटगोत्रों के कुछ नाम निम्न प्रकार से हैं -

रूसी नाम जाटगोत्र रूसी नाम जाटगोत्र
1. Avar Abara अबारा 13. Kirkin Kalkil कलकल
2. Allan Ailavat अहलावत 14. Kang Kang कांग
3. Anta Antal आंतल 15. Kula Kular कूलर
4. असि Asiag असियाग 16. Hiung-nu Henga हैंगा
5. Bogda Bogdavat बोगदावत 17. Noyan Nain नैन
6. Balgari Bal-Ballan बालान 18. Shor Shoran सौराण-श्यौराण
7. Balkar Balhara बल्हारा 19. Timir Tomar तोमर-तंवर
8. Ven Benival बैनीवाल-बैन 20. Wark Virk विर्क-वरिक
9. Chol Chahl चहल 21. Saraut Sahravat सहरावत
10. Chimir Cheema चीमा 22. Jubolo Johl जोहल
11. Daghe-Dahi Dahiya दहिया 23. Gilli Gill गिल
12. Dashvhar Daswal देशवाल 24. Dol Dhul ढुल-ढिल्लूं

मध्य एशिया (उज्बेक व आसपास) में वर्तमान में पाए जाने वाले कुछ जाटगोत्र निम्नलिखित हैं -

रूस में वर्तमान नाम जाटगोत्र
Karabura Bura बूरा
Tatar Tatran तातराण
Jani Janwar जनवार
Simarchim Sihmar शीहमार
Arbat Arab अरब
Gedoi-Gada Gathwal गठवाल
Bagurlu Bagarwa बागरवाल

[84]

References

  1. "Online Etymology Dictionary"
  2. "Rus – definition of Rus by the Free Online Dictionary, Thesaurus and Encyclopedia"
  3. Belinskij A, Härke, H (1999). "The 'Princess' of Ipatovo". Archeology 52 (2).
  4. Drews, Robert (2004). Early Riders: The beginnings of mounted warfare in Asia and Europe. New York: Routledge. p. 50. ISBN 0-415-32624-9.
  5. Koryakova, L. "Sintashta-Arkaim Culture". The Center for the Study of the Eurasian Nomads (CSEN)
  6. "1998 NOVA documentary: "Ice Mummies: Siberian Ice Maiden"".
  7. Jacobson, E. (1995). The Art of the Scythians: The Interpenetration of Cultures at the Edge of the Hellenic World. Brill. p. 38. ISBN 90-04-09856-9.
  8. Tsetskhladze, G. R. (1998). The Greek Colonisation of the Black Sea Area: Historical Interpretation of Archaeology. F. Steiner. p. 48. ISBN 3-515-07302-7.
  9. Turchin, P. (2003). Historical Dynamics: Why States Rise and Fall. Princeton University Press. pp. 185–186. ISBN 0-691-11669-5.
  10. Christian, D. (1998). A History of Russia, Central Asia and Mongolia. Blackwell Publishing. pp. 286–288. ISBN 0-631-20814-3.
  11. Barford, P. M. (2001). The Early Slavs. Cornell University Press. pp. 15–16. ISBN 0-8014-3977-9.
  12. Christian, D. (1998). A History of Russia, Central Asia and Mongolia. Blackwell Publishing. pp. 6–7.
  13. Obolensky, D. (1994). Byzantium and the Slavs. St Vladimir's Seminary Press. p. 42. ISBN 0-88141-008-X.
  14. Thompson, J.W.; Johnson, E.N. (1937). An Introduction to Medieval Europe, 300–1500. W. W. Norton & Co. p. 268. ISBN 0-415-34699-1.
  15. Klyuchevsky, V. (1987). The course of the Russian history 1. Myslʹ. ISBN 5-244-00072-1.
  16. Hamm, M.F. (1995). Kiev: A Portrait, 1800–1917. Princeton University Press. ISBN 0-691-02585-1.
  17. "History of Russia from Early Slavs history and Kievan Rus to Romanovs dynasty". Parallelsixty.com.
  18. Рыбаков, Б. А. (1948). Ремесло Древней Руси. pp. 525–533, 780–781.
  19. Excerpted from Glenn E. Curtis (ed.) (1998). "Russia: A Country Study: Kievan Rus' and Mongol Periods". Washington, D.C.: Federal Research Division of the Library of Congress.
  20. Ancient Abode of Jats
  21. Antiquity of the Jat race - by Ujagar Singh Mahil, Delhi (1954)
  22. The Jats:Their Origin, Antiquity and Migrations/The identification of the Jats,p.318
  23. Artamonov, M.I.; 'Frozen Tombs of the Scythians', in the Scientific American, May, 1965, Vol. 212, No.5, pp. 100-109.
  24. History and study of the Jats/Chapter 2, p.31
  25. Diodorus of Sicily (published around 49 B.C.), translated by C.H. Oldfather, Harvard University Press, Cambridge, Massachusetts, 1936, pp. 27-28 (Vol. II), pp. 377, 382-383 (Vol. VIII).
  26. Scythians, The Encyclopaedia Britannica, The New Encyclopaedia Britannica, Inc., Chicago, 1984, pp. 438-442.
  27. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV, p.350
  28. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV,p.346
  29. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Parishisht-I, s.n. अ-30
  30. Mahendra Singh Arya et al: Adhunik Jat Itihas, p.221
  31. An Inquiry Into the Ethnography of Afghanistan, H. W. Bellew, p.121
  32. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV, p.350
  33. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV,p.346
  34. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV, p.350
  35. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV, p.350
  36. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV, p.350
  37. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV, p.350
  38. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV, p.350
  39. Burdak - details and analysis
  40. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV, p.350
  41. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV, p.350
  42. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV, p.350
  43. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV, p.350
  44. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV, p.350
  45. O.S.Tugania:Jat Samuday ke Pramukh Adhar Bindu,p.45,s.n. 1275
  46. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV, p.350
  47. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV, p.350
  48. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV, p.350
  49. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV, p.350
  50. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV, p.350
  51. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV, p.350
  52. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV, p.350
  53. An Inquiry Into the Ethnography of Afghanistan By H. W. Bellew, The Oriental University Institute, Woking, 1891, p.28
  54. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV, p.350
  55. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Parishisht-I, s.n. ल-78
  56. O.S.Tugania:Jat Samuday ke Pramukh Adhar Bindu,p.59,s.n. 2230
  57. Jats the Ancient Rulers (A clan study)/Jat Clan in India,p. 264
  58. Journal Asiatique 1920 , I, quoted by Studies in Indian History and Civilization by Buddha Prakash p. 409
  59. Bhisma Parva, 12 / 21
  60. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV, p.350
  61. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV, p.350
  62. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV, p.350
  63. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV, p.350
  64. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV, p.347
  65. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Parishisht-I, s.n. स-151
  66. O.S.Tugania:Jat Samuday ke Pramukh Adhar Bindu,p.63,s.n. 2551
  67. Bhaleram Beniwal:Jat Yauddhaon Ka Itihas, Ed 2nd, 2011, p. 885
  68. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV, p.350
  69. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV, p.350
  70. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV, p.350
  71. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter III, p.185-186
  72. महाभारत आदिपर्व 78वां अध्याय, श्लोक 1-24.
  73. ये वे देश हैं जो पाण्डव दिग्विजय में अर्जुन ने उत्तर दिशा के सभी देशों को जीत लिया था। इनका पूर्ण वर्णन महाभारत सभापर्व अध्याय 26-28 में देखो।
  74. जाट इतिहास पृ० 14-15 लेखक श्रीनिवासाचार्य महाराज ।
  75. हाभारत आदिपर्व 85वां अध्याय श्लोक 34-35, इन पांच भाइयों की सन्तान शुद्ध क्षत्रिय आर्य थी जिनसे अनेक जाट गोत्र प्रचलित हुए । (लेखक)
  76. जाट इतिहास (उत्पत्ति और गौरव खण्ड) पृ० 146-47 ले० ठा० देशराज।
  77. जाट इतिहास पृ० 14-18 लेखक श्रीनिवासाचार्य महाराज ।
  78. Jats the Ancient Rulers (A clan study)/Appendices/Appendix II
  79. Jats the Ancient Rulers (A clan study)/Appendices/Appendix II
  80. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV (Page 346-350)
  81. History of Origin of Some Clans in India: p.47-48
  82. http://www.thehindu.com/news/international/article812961.ece
  83. Jat Samaj:11/2013,pp 19-20
  84. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV (Page 346-350)

Back to Places