Shefali Chaudhary (Laur)

From Jatland Wiki
Jump to navigation Jump to search

Shephali Chaudhary (Laur) was the first lady officer to get Shaurya Chakra in Indian Air Force. She became martyr of 24.3.1996 showing act of bravery. She was from Laudona, tehsil Jewar in Gautam Budh Nagar district in Uttar Pradesh.

जीवन परिचय

शहीद पायलट शैफाली चौधरी

शहीद पायलट शैफाली चौधरी भारतीय वायुसेना में ‘शौर्य चक्र’ प्राप्त करने वाली प्रथम महिला थी।

20 अगस्त 1973 को बुलंदशहर जिले के "लौदाना-गोठनी" गांव में जन्मी कु. शैफाली चौधरी (Laur) का कतरा कतरा छोटी सी उम्र में इतिहास रच गया!

राष्ट्रपति जी ने मरणोपरांत उसे अदम्य साहस और कर्त्तव्य परायणता के लिए सर्वोत्तम जीवन रक्षा पदक से सम्मानित किया! उसे पूर्ण सैनिक और नागरिक सम्मान दोनों मिले! भारतीय इतिहास में किसी महिला के नाम ये पहला सम्मान है!

24 मार्च, 1996 का दिन भारत के इतिहास में सदैव ही गौरव के साथ स्मरण किया जायेगा! इस दिन भारतीय वायुसेना की प्रथम महिला पायलट अफसर कु. शैफाली चौधरी ने अपने साथियों को मौत के मुंह में जाने से रोकने के लिए स्वयं अपने प्राणों की बली चढा दी!

इस वीरांगना को देश व समाज सदैव ही याद करता रहेगा! जन्म के साथ मृत्यु जुङी है! शरीर नश्वर है! जीवन क्षणभंगुर है, किंतु अपने कर्त्तव्यों का पालन करते हुए मृत्यु के वरण का सौभाग्य सभी को प्राप्त नहीं होता! कु. शैफाली ने आत्मोत्सर्ग से एक उदाहरण प्रस्तुत किया है!

कौम की प्रथम महिला पायलट बहन शैफाली चौधरी ने अभूतपूर्व साहस, त्यागमयी बलिदान से भारत देश और जाट कौम को इतना गौरव और सम्मान दिया है जो हम शायद 100 वर्ष का जीवन जीकर भी न दे सकें! उस वीरबाला के शौर्य तथा पराक्रम को स्मरणीय बनाना अब कौम का दायित्व है!

मैं निम्न पंक्तियों से इस वीर कन्या की स्मृति में श्रृद्धा सुमन अर्पित करता हूं!

"तेरे साहस को नमन करेगा, कल का रवि आने वाला| इतिहास बतायेगा गाथा, ऐसी थी एक वीर बाला || "


शत शत नमन..जय हिन्द, जय भारत


Author: Balveer Choudhary


Back to The Martyrs