Swami Gopal Das

From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search
Author:Laxman Burdak, IFS (Retd.), Jaipur
Swami Gopal Das

Swami Gopal Das (स्वामी गोपाल दास) (1882-1938)was a social worker, educationist and freedom fighter from Churu in Rajasthan state in India.

Childhood

He was born in 1882 in village Bhainrusar situated at a distance of 13 km north of Churu town in Rajasthan in the family of Chaudhary Binja Ram Kaswan and Smt Nauji Devi. He lost his father in his childhood. There was no source of livelihood for her mother so she went to Churu with Gopal and took up labour work to make both end meet.

Came to Churu

Mahant Mukund Das of ‘Chhote Temple’ in Churu provided some support to her mother. Nauja Devi handed over her son Gopal to Mahant Mukund Das, who was impressed by the intelligence of child and sent him to a school run by Pandit Kanhaya Lal Dhandh. Sharp and intelligent Gopal Das learnt the lesson of humanity from his Guru and also obtained knowledge of Ayurvedic treatment. In view of the talent of Gopal, Mahant Mukund Das declared him as his disciple. After the death of Mahant Mukund Das, the 19-year Gopal was made the Mahanta of Nimbarka Sampradaya in his place and became Swami Gopal Das. The personality of Swami Gopal Das was very impressive. He was tall, handsome, with well built physique and broad headed and wore khadi dhoti-kurta and turban.

Committed to the welfare of cows

Swami Gopal Das

He was all his life committed to the welfare of cow as he considered cow to be an essential part of Indian life and culture. During the famine years Gopal Das arranged fodder and water for cows to lessen their sufferings. There was a ‘pinjarapol’ (Goshala) in Churu, which was at the verge of closure due to insufficient funds in those days. Gopal Das started a fair on ‘Gopashtami’ at this ‘pinjarapol’ and gave new life to it. The fair is still organized every year.

An environmentalist

He took large chunks of wasteland from the rich Seths of Churu and developed these as pasturelands for grazing of cows and did extensive plantations over them. These pasturelands and plantations not only saved the cows but also stopped further expansion of desert. The nearby villagers also were motivated from these acts and they also developed pasturelands in their villages.

Love for tree plantation was there in Swami from childhood as is clear from his letter written from Sardarshar to Shri Gigdas to take care of the Pipal tree he had planted in his childhood. It was due to his efforts that trees covered the deserted sand dunes. The big trees on both sides of the road from Railway Station to Ram temple in Churu town are there as a result of his hard work as he watered them by carrying water over his own head.

Social Services

Swami Gopal Das Statue Churu

Swami Gopal Das was a committed social worker. In 1917-18 Churu was infected by epidemic of plague and malaria. People died in large number. Rest of the people started running out leaving the weak and ill people behind. The town was deserted. The left out people started dying due to no care. There were no people left to even lift the dead persons. At this juncture Swami Gopal Das came to help the left out people by providing food, water and medicines and arranged to lift dead persons for cremation. It became difficult to move around on foot to look after the people so he took a horse and started taking round of the town. The famous poet from Churu Pandit Amolak Chand has written following poetry on the services of Swami Gopal Das in Rajasthani language as under:

"चूरु शहर में सोर भयो, जद जोर करयो पलेग महामारी ।
लाश पड़ी घर के अन्दर ढक छोड़ चले बंद किवाड़ी ।।
आवत है गोपाल अश्व चढ देखत जहाँ बीमार पड्यो है ।
देत दवा वो दया करके नाथ, अनाथ को नाथ खड्यो है ।।"

The epidemic was so severe that Post and Telegraph services collapsed. Swami Gopal Das arranged the delivery of letters and telegrams to the concerned people. His knowledge of Ayurveda proved a boon at this crisis. With his initiatives and efforts the Ayurveda Vidyapith centers started functioning in Churu.

Public awakening

The social services by Swami Gopal Das were multi dimensional. The Churu area prior to independence was suffering from illiteracy, poverty, famines, and lack of medical facilities. The people were exploited not only by British Raj but also by local Jagirdars. To talk about independence or read a new paper in those days was considered a disloyalty to the crown. Under such circumstances Swami Gopal Das started ‘Sarvahitkarini Sabha’ in 1907. The objectives of the Sabha were: satya, ahinsa, asteya and brahmcharya. For the first three years he was Chairman of the Sabha and thereafter its Minister. The Jagirdars were not happy with the foundation of ‘Sarvahitkarini Sabha’ as a result he had to face a lot of opposition from them. There was no building of ‘Sarvahitkarini Sabha’. So he vowed that he would not take food till the Sabha had its own building. He collected money from various sources for the construction of a building of the Sabha and survived on fruits only till seven-storied building was ready for the Sabha. He took a number of steps to improve the conditions of downtrodden people. To remove untouchability from society, he started ‘Kabir Pathshala’.

Woman education

Swami Gopal Das believed that woman’s education was a first step in the development of society and nation. To spread woman education, first of all, he started a ‘sarvahitkaruni putri pathshala’. This institute provided free textbooks to women and also trained them in sewing – weaving so that they can get earnings. This institute provided education to widows also to improve their condition. Later the branches of ‘putri pathshalas’ were started in neighbouring villages and towns. Taranagar putri pathshala was run by Churu sabha itself.

These initiatives taken by Swami Gopal Das in Rajasthan at a time when even Mahatma Gandhi was not on seen are considered revolutionary. ‘Putri pathshala’ and ‘Kabir pathshala’ were considered antireligious activities at that time. On the establishment of putri pathshala, the backward and conservative public had done stone throwing on Swami Gopal Das, but he moved with firmness and was successful in his mission. Swami Gopal Das raised a voice for compulsory education in Bikaner princely state. The ‘sarvahitakarini sabha’ in his guidance run a number of libraries, ‘putripathshala’, ‘Kabir pathshala’, ‘uddyog vardhini sabha’, aturalaya and mahilashrama. In addition there were number of constructive activities like shilpshala, sevasadan, anathalaya, goshala etc.

To eradicate social evils sarvahitakarini sabha also took steps like ban on child marriages and old age marriages, ban on use of toxic materials, spread of Hindi and Sanskrit languages etc. Swami Gopal Das through, sarvahitakarini sabha, also took steps to construct wells, kundas, johars, ponds and renovate old wells and ponds. The works done by sarvahitakarini sabha during famines and epidemics are a landmark in the history of Churu.

The rich Seths of area were very influenced by the honesty and sincerity of Swami Gopal Das. They were ready to provide finances through him. The public park ‘Indramani Park’ in Churu was established through his efforts. Industrialist J.K.Birla on the initiatives of Swami Gopal Das established the ‘Dharmastupa’ in Churu. The statues of Krishna, Mahavira and Buddha on this stupa indicate the faith in all religions. Sarvahitakarini sabha did not differentiate between Hindu, Muslim, Sikh, Baudh and Jain.

Freedom fighter

Swami Gopal Das started freedom movement in Churu. He wrote a series of articles in various magazines on the need of eradication of social evils and demand for freedom from the British. He invited national leaders of freedom movement and arranged their lectures and meetings in Churu. He started placing photographs of Bal Gangadhar Tilak and Mahatma Gandhi in public conferences and preached the use of swadeshi. The activities of Swami Gopal Das frightened the princely ruler of Bikaner, who got lodged case of 'Rajadroha' against him in 1932 and arrested. He was kept in Bikaner Central Jail for three years. Due to his active involvement in the freedom movement he was elected member of Provincial Congress Committee.

Born in a poor family he had become so revered that the millionaires used to touch his feet. He selflessly remained busy throughout his life in the service of the public. He passed away in the month of magha on the banks of river Ganga on magh krishna 3, 1938.

स्वामी गोपाल दास का जीवन परिचय

स्वामी गोपालदास का जन्म चूरू तहसील के उत्तर दिशा में 13 की.मी. दूर एक गाँव भैरुंसर में सन 1882 ई. को चौधरी बीजाराम के घर माता नौजादेवी की कोख से हुआ. अल्पायु में ही इनके पिता का स्वर्गवास हो गया. माता बालक को लेकर चूरू आ गयी और मेहनत-मजदूरी कर बालक का लालन-पालन करने लगी. [1]

चूरू के छोटे मंदिर के महन्त मुकुंददास के आश्रम में माता बालक को छोड़कर अपनी मेहनत-मजदूरी के लिए निकल जाती. बालक की प्रतिभा महन्त जी ने पहचानी और उसकी शिक्षा के लिए उन्होंने चूरू के विद्वान पंडित कन्हैया लाल ढंढ की पाठशाला में व्यवस्था कर दी. बालक ने अनुपम कुशाग्रता का परिचय देते हुए धर्म, दर्शन और आयुर्वेद का विधिवत और गहन अध्ययन किया. बालक गोपालदास में छिपी अध्यात्मिक गहरी और नेतृत्व क्षमता को देखते हुए महन्त मुकुंद दस ने उन्हें अपने पटशिष्य के रूप में मनोनीत किया. इस आशय से उनका नाम सन 1894 ई. में बही-भाटों के आलेख में अंकित करा दिया. सन 1901 में महन्त मुकुंद दास के स्वर्गवास के बाद उनको मंदिर के महन्त के रूप में पदासीन किया. चूरू के मोहता गुवाल सिंह लखोटिया द्वारा 17 वीं सदी में निर्मित इस मंदिर में कुछ काल बाद निम्बार्क सम्प्रदाय की गद्दी स्थापित हुई. कालांतर में बड़े मंदिर का निर्माण हुआ. [2]

जन जागृति के कर्ण धार

जनता में चेतना और जागृति लाने के लिए उन्होंने एक कर्णधार की तरह काम किया. इस हेतु उन्होंने देश के प्रखर नेताओं को चूरू में आमंत्रित कर, उनके व्याख्यानों का सर्वहितकारिणी सभा के मंच से संयोजन कर और देश-गौरव की हर तिथि का सामूहिक उत्सव मनाकर, स्वयं ने खद्दर और सम्पूर्ण रूप से स्वदेशी वस्तुओं के प्रयोग के माध्यम से अनुशीलन की प्रेरणा फैलाई. सर्वहितकारिणी सभा क्रमश: 'चूरू की कांग्रेस' के नाम से जानी जाने लगी. जब उन्हें 'बीकानेर षड्यंत्र काण्ड' में आरोपित कर सन 1932 में बंदी बनाया गया तो देशव्यापी प्रतिक्रिया हुई और देश के बहुत से नगरों में 'बीकानेर विरोध दिवस' मनाया गया. गांधीजी और नेहरूजी ने भी बीकानेर राज्य के इस वैमनस्यपूर्ण कार्य की आलोचना की. [3]

स्वर्गवास

मात्र 57 साल की तप:पूर्ण आयु पूरी कर वे शांतचित्त साधक की भांति सुरेश्वरी गंगा के लक्ष्मण झूला तट पर माघ कृष्ण 3 , वि.सं. 1995 तदनुसार सन 1938 ई. के दिन महाप्रयाण किया. [4]

सम्मान

स्वामी गोपालदास पर पुस्तक

स्वामी गोपाल दास का जीवन परिचय देने वाली पुस्तक का अभाव था. यह कार्य पूर्ण किया है लेखक प्रेम मोहन लखोटिया ने वर्ष 2003 में. राजस्थान स्वर्ण जयंती प्रकाशन समिति जयपुर के लिए राजस्थान हिंदी ग्रन्थ अकादमी जयपुर ने 'राजस्थान में स्वतंत्रता संग्राम के अमर पुरोधा' पुस्तक माला में अमर स्वाधीनता सेनानी कुंवर नेतराम सिंह गौरीर के व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर प्रकाश डाला गया है. [5]

चूरू नगरपालिका द्वारा लोक नायक श्री जयप्रकाश व्यास के कर कमलों द्वारा 17 अगस्त 1956 के दिन सभा और किले के बीच वाले चौक का नामकरण 'गोपाल चौक' किया गया और वहां स्वामी गोपाल दास की संगमरमर की अभिराम मूर्ति स्थापित की गयी जो न केवल चूरुवासियों के गौरव की धरोहर है अपितु यह सम्पूर्ण राजस्थान को अपने गौरवपूर्ण इतिहास और स्वर्णिम भविष्य की प्रेरणा से प्रभासित करती रहेगी. [6]

आपकी सेवाएँ किसानों के हितों के लिए सदैव स्वर्णाक्षरों में लिखी जाएगी और चूरू और आस-पास के क्षेत्र में आगे आने वाली पीढियां सदैव आपकी आभारी रहेंगी.

नवचेतना के चितेरे स्वामी गोपालदास

राजस्थान में नवचेतना और आधुनिक चूरू की चमक के चितेरे स्वामी गोपालदास:

मानवतावाद के पुरोधा , धर्म के मर्म के ज्ञाता ,कर्मयोगी संत, राजसत्ता के जुल्म के खिलाफ बीकानेर रियासत में आजादी के आंदोलन के आधार स्तंभ ,जन जागृति के जनक ,भविष्यदृष्टा, महान समाज सुधारक , सर्वहितकारी दूरगामी महत्व के कार्यों को व्यवस्थित स्वरूप में संचालित करने के प्रणेता, अनुपम पर्यावरणविद और सच्चे गौ भक्त स्वामी गोपालदास मात्र एक इंसान नहीं अपितु इंसानियत की परिष्कृत संस्था थे।

विराट ,विरल व विलक्षण व्यक्तित्व के धनी स्वामी जी एक ऐसे इंसान थे जिसमें उत्कर्ष पर पहुंची मानवता के दर्शन किए जा सकते हैं। इंसान एक पर उसमें गुण अनेक।आधुनिक चूरु की नींव की ईंट और शिल्पकार स्वामी गोपालदास को उनकी पुण्यतिथि ( 9 जनवरी ) पर शत- शत नमन ।

स्वामी गोपालदास का जन्म सन 1882 में चूरू की उत्तर दिशा में स्थित गांव भैरूंसर में श्री बिंजा राम कस्वां के घर उनकी पत्नी श्रीमती नोजी देवी की कोख से हुआ । शैशव काल में पिता की मृत्यु हो जाने के कारण माता के सामने इकलौते बेटे के लालन -पालन का संकट उत्पन्न हो गया। रोजी- रोटी के लिए बेटे को गोद में लेकर दुखियारी माता चूरु आकर मेहनत- मजदूरी करने के लिए मजबूर हुई। चूरू के उत्तराधा बाजार में स्थित छोटे मंदिर के प्रांगण में बच्चे को छोड़कर दुखियारी मां आस -पास के घरों में अनाज की पिसाई का काम कर अपना जीवन- यापन करने को विवश थीं। मंदिर के महंत मुकुंद दास जी ने बालक गोपाल की विलक्षण प्रतिभा व कुशाग्र बुद्धि को भांपते हुए उसे चूरू के ख्यातनाम पंडित कन्हैया लाल ढंड की पाठशाला में दाखिला दिलवा दिया, जहां उन्होंने धर्म, दर्शन और आयुर्वेद का गहन अध्ययन किया। महंत मुकुंद दास जी ने अपने पट शिष्य गोपाल को निंबार्क संप्रदाय में दीक्षित करके अपना उत्तराधिकारी घोषित कर दिया। सन 1901 में महंत मुकुंद दास जी के स्वर्गवास के बाद स्वामी गोपालदास को छोटे मंदिर के महंत के रूप में पदासीन किया गया।

बाल्यकाल से तमाम तरह की विपदाओं के बोझ तले दबे होने के बावजूद अपनी विलक्षण प्रतिभा के बल पर बालक गोपाल का स्वामी गोपालदास के रूप में मात्र 19 वर्ष की आयु में उत्तराधा बाजार, चूरू में स्थित छोटे मंदिर के महंत की गद्दी पर आसीन होना और फिर तमाम तरह की बाधाओं के बावजूद जन जागृति का अग्रदूत बनकर हर मोर्चे पर नव चेतना का संसार करना उनके संघर्षशील जीवन की कहानी को पुष्ट करता है। समाज के समग्र उत्थान के लिए सुसंगठित रूप से जनहित के विभिन्न कार्य संचालित करने हेतु स्वामी गोपालदास ने 1907 ईस्वी में चूरू में सर्वहितकारिणी सभा नामक सार्वजनिक संस्था की स्थापना की, जिसके माध्यम से शिक्षा का प्रचार- प्रसार , समाज -सुधार, पीड़ितों की सेवा आदि कार्य प्रारंभ किए गए। सर्व हितकारिणी सभा की शाखाएं अन्य इलाकों जैसे फतेहपुर ,सुल्ताना ,चिड़ावा आदि में भी स्थापित की गईं। स्वामी जी की पहल और प्रेरणा से राजगढ़, सरदारशहर, रतनगढ़ आदि कस्बों में भी सर्वहितकारी सभा की स्थापना की गई।

मरुभूमि में पानी के संकट से जूझते हुए आमजन को राहत प्रदान करने के उद्देश्य से सर्वहितकारिणी सभा के माध्यम से स्वामी जी ने शहर की बाहरी बस्तियों में एवं गांव के रास्तों पर तथा चूरु जनपद के अनेक गांवों में सार्वजनिक कुँए, कुंड ,जोहड़ व तालाब खुदवाए तथा पुराने, जीर्ण-शीर्ण कुँओं, कुंडों और जलाशयों की मरम्मत करवाई । चूरू के आसपास के गांवों के अलावा दूरदराज के गांव जैसे सरदारशहर के शिमला गांव में एक सौ बीघा गोचर भूमि पर बड़ा पक्का तालाब, एक कुंड व चार मरवों का कुआं और गौशाला का निर्माण चूरू की गौशाला के वास्ते स्वामी गोपालदास जी की आज्ञा से करवाया गया। इस आशय का शिलालेख वहां कुएँ पर अब भी मौजूद है। खंडवा व अन्य गांवों में भी कुँओं व कुण्डों का निर्माण करवा कर स्वामी जी ने ग्रामीणों को जल संकट से निजात दिलवाने का कार्य किया।

धार्मिक सहिष्णुता के पोषक:

सर्वहितकारिणी सभा की ओर से स्वामी गोपालदास एवं मास्टर श्रीराम ओझा के सद् प्रयास का ही सुफल था कि पिलानी के सेठ जुगल किशोर बिड़ला ने चूरू स्टेशन रोड पर धर्म स्तूप ( प्रचलन में नाम लाल घण्टा घर ) का निर्माण करवाया। लाल पत्थर से निर्मित इस धर्म स्तूप पर विभिन्न धर्मों के प्रवर्तकों की स्थापित मूर्तियां धार्मिक सहिष्णुता का संदेश दे रही हैं।

पर्यावरण प्रेमी :

स्वामी जी की सद्प्रयास से चूरू के सेठ रुकमानंद बागला ने अपनी सुपुत्री इंद्रमणि की पुण्य स्मृति में इंद्रमणि पार्क का निर्माण करवाया। स्वामी जी ने पार्क के निर्माण हेतु सरकार से निर्मूल्य जमीन प्राप्त करने में सफलता हासिल की। वहां स्थित टीलों को समतल करवा कर अपनी देख-रेख में चूरू के इस प्रथम सार्वजनिक पार्क का निर्माण करवाया।

स्वामी जी ने पर्यावरण संरक्षण एवं पशुधन की चराई की सुविधा हेतु सेठों से संपर्क कर चूरू के आसपास लगभग 5100 बीघा की गोचर भूमि ( बीड़ ) छुड़वाने का महत्वपूर्ण कार्य निष्पादित किया। स्वामी जी के नेतृत्व में सर्वहितकारिणी सभा चुरू की ओर से सन 1912 में महाराजा बीकानेर को एक प्रार्थना पत्र सौंप कर गोचर भूमि ( बीड़ ) अर्थात पशुओं को चरने के लिए आरक्षित भूमि छोड़ने की मांग की गई। इससे यह स्पष्ट होता है कि स्वामी जी मरुस्थल में हरियाली व पर्यावरण सरंक्षण के महत्व को बख़ूबी समझते थे। पर्यावरण और पशुधन के संरक्षण हेतु शहरों और गांवों के आसपास गोचर भूमि ( बीड़ ) आरक्षित करवाने के स्वामी जी के इस अभिनव अभियान की सर्वत्र सराहना की गई। इसी का प्रतिफल यह हुआ कि वन -रक्षण के लिए सर्वप्रथम जंगलों का बिल, रियासत बीकानेर, सन 1927 ईस्वी पास किया गया और पूरी रियासत में लागू हुआ।

स्वामी जी के गोचर भूमि अभियान से प्रभावित होकर रामगढ़ के सेठ रामचंद्र पोद्यार ने भी कई स्थानों पर गोचर भूमि छुड़वाने में महत्वपूर्ण योगदान दिया परन्तु जनवरी 1932 में स्वामी जी की गिरफ्तारी के साथ ही गोचर भूमि छुड़वाने के उनके अभियान को विराम लग गया।

स्वामी जी का पेड़ों के प्रति प्रेम:

चूरू में मंडी चौराहे से रेलवे स्टेशन तक के मार्ग के दोनों तरफ स्वामी जी स्वयं ने नीम व पीपल के अनेक पेड़ लगाए। अपने कंधों पर पानी से भरे घड़े ढोकर वे इन पेड़ों को पानी देते थे तथा उनकी समुचित सुरक्षा करते थे। जब वे लंबी अवधि तक चूरू से बाहर होते तब अपने निकटस्थ मित्रों को पत्र लिखकर पेड़ों की पूरी निगाह और 'ख्यान्त' अर्थात पूरा ध्यान रखने की ताक़ीद बार-बार करते। ( नगर-श्री , चूरू में इस आशय के पत्र उपलब्ध हैं। ) स्वामी जी के ख़ुद के लगाए हुए बहुत से पेड़ तथाकथित विकास के नाम पर समय-समय पर काटे जा चुके हैं परंतु कुछ विशाल वृक्ष अपने पालक स्वामी जी की याद दिलाते हुए अब भी सीना ताने खड़े हैं।

गो-पालक स्वामी जी 'यथा नाम तथा गुण' की उक्ति को सार्थक करते हुए एक सच्चे व समर्पित गो-भक्त/ गो-पालक थे। स्वामी जी ने अपने नाम को सार्थक करते हुए गो-पालक के रूप में चूरू पिंजरापोल ( गोशाला ) के सुचारु संचालन में उल्लेखनीय योगदान दिया। सेठ शिवबक्श राय बागला द्वारा संवत 1945 में स्थापित पिंजरापोल के संचालन में कालांतर में अव्यवस्था पनपने लगी तब स्वामी जी को गोशाला का प्रबंध सौंपा गया। जुलाई 1929 ईस्वी में पदाधिकारियों के हुए चुनाव में स्वामी गोपाल दास को पूर्ण स्वत्वाधिकारी बनाया गया। गौशाला के महत्व के प्रति आमजन का ध्यान आकृष्ट करने के लिए स्वामी जी ने गोपाष्टमी के अवसर पर मेले का आयोजन किए जाने की परंपरा प्रारंभ की जो कि अभी भी प्रतिवर्ष आयोजित हो रही है।

पीड़ित मानवता की सेवा:

सन 1917 व 1918 में चूरू जनपद अकाल और महामारियों की चपेट में रहा। दुर्भिक्ष के दौरान स्वामी जी ने स्थानीय एवं प्रवासी सेठों से संपर्क कर अभावग्रस्त आमजन को अन्न- वस्त्र उपलब्ध करवाए। गांवों में राहत कार्यों के अंतर्गत सार्वजनिक महत्व के निर्माण कार्य प्रारंभ करवाकर लोगों के लिए रोजगार का प्रबंध किया।

शीत ज्वर एवं सन्निपात का प्रकोप फैलने पर स्वामी जी ने इक्कीस सेवाभावी कार्यकर्ताओं की एक कमेटी गठित कर वैद्य शांत शर्मा एवं महंत गणपति दास को ऊंट की सवारी से गांवों में रोगियों की चिकित्सा हेतु दवाइयां दे कर भेजा। दूरदराज के गांवों तक घूम-घूम कर बीस दिनों तक रोगियों की चिकित्सा की गई।

मार्च 1918 में जब चूरू प्लेग की घातक बीमारी की चपेट में आ गया तो प्लेग- ग्रस्त रोगियों को छोड़कर परिवारजन अपने प्राण बचाने हेतु शहर से बाहर पलायन करने लगे। उस संकट की घड़ी में स्वामी जी व सभा के स्वयंसेवक शवों को उठाकर उनका अंतिम संस्कार करते थे। स्थिति बेकाबू होने पर स्वामी जी ने अजमेर सेवा समिति के मंत्री कु.चांद किरण शारदा को तार दे कर वहां से औषधियां मंगवाई तथा कुछ कार्यकताओं भी भी बुलवाया। लगभग सूने शहर में स्वामी जी और उनके कार्यकर्ता सेवा- कार्य में डटे रहे।रोगियों के बीच रहकर उन्हें दवाइयां देते, उन्हें पानी पिलाते, उनकी सेवा करते तथा घरों में पड़े शवों को निकालकर उनका अंतिम संस्कार करते थे। बीमारी के भयावह रूप का अंदाज़ा इस बात से लगाया जा सकता है कि उस समय चूरू की कुल जनसंख्या लगभग तीन हज़ार थी, जिसमें से लगभग आठ सौ लोग इस बीमारी से काल के ग्रास बन गए थे।

पुत्री पाठशाला एवं कबीर पाठशाला की स्थापना का क्रांतिकारी कदम :-

भविष्यदृष्टा स्वामी गोपालदास स्त्री शिक्षा की आवश्यकता को रेखांकित करते हुए कहते थे कि जब तक समाज का आधा अंग ( अर्थात नारी ) अशिक्षित और सुप्तावस्था में रहेगा तब तक राष्ट्र की उन्नति नहीं हो सकती। रूढ़िवादी लोगों के विरोध की परवाह नहीं करते हुए स्वामी जी ने सर्वहितकारिणी सभा के अंतर्गत सन 1912 में चूरू में सर्वहितकारिणी पुत्री पाठशाला की स्थापना कर चूरू व आसपास के इलाके में बालिका शिक्षा का मार्ग प्रशस्त किया। पाठशाला में लड़कियों को सिलाई -कढ़ाई का काम भी पढ़ाई के साथ-साथ सिखाया जाता था । रिणी ( अब तारानगर ) में भी सावित्री कन्या पाठशाला खोली गई, जिसका संचालन सर्वहितकारिणी सभा, चूरु द्वारा कई वर्षों तक किया जाता रहा। देश में गांधी जी के अछूतोद्धार आंदोलन की शुरुआत के कई वर्षों पूर्व मरुभूमि के इस सफेद खद्दरधारी गांधी स्वामी गोपालदास ने चूरू की वाल्मीकि ( दलित शब्द उस समय प्रचलन में नहीं था ) बस्ती में सर्वहितकारिणी कबीर पाठशाला की स्थापना कर शिक्षा के जरिए समाज में अछूत समझे जाने वाले लोगों में जागृति व स्वाभिमान पैदा करने के अग्रदूत बने। वक्त से आगे की सोचने वाले स्वामी जी कहा करते थे कि 'मनुष्य मात्र से घृणा नहीं की जाए और नीची समझी जाने वाली जातियों को ऊपर उठाने की चेष्टा की जाए। इसी से हिंदू धर्म की रक्षा हो सकती है।' स्वामी जी ने चूरू के अलावा भादरा एवं कुछ अन्य कस्बों में भी प्रयास करके दलित समुदाय के बच्चों के लिए ऐसी पाठशालाएं खुलवाई और उन्हें संचालित करने के लिए आर्थिक मदद भी दिलवाई ( इस आशय के पत्र नगर-श्री, चूरू के संग्रह में उपलब्ध हैं। ) परंपरावादी व रूढ़िवादी सोच पर सीधा प्रहार करते हुए स्वामी गोपालदास द्वारा पुत्री पाठशाला एवं कबीर पाठशाला स्थापित करना निःसंदेह उस जमाने में बड़ा क्रांतिकारी कदम था। वक्त से आगे सोचने और चलने वाले स्वामी जी ने सर्वप्रथम संपूर्ण बीकानेर राज्य में अनिवार्य शिक्षा की मांग करने का साहस किया ।

स्वामी गोपालदास ने तत्कालीन राजशाही, सामंती एवं औपनिवेशिक सत्ताधीशों के गठजोड़ से उत्पन्न संकटपूर्ण परिस्थितियों का डटकर मुकाबला करते हुए चूरु और आसपास के इलाके में सामाजिक, धार्मिक, शैक्षिक, साहित्यिक, राजनीतिक आदि विभिन्न गतिविधियों का संचालन किया और जनजागृति और समाज के समग्र उत्थान के अगुआ बने ।

कालांतर में स्वामी जी ने सर्वहितकारिणी सभा के लिए चूरू में गढ़ के सामने जमीन खरीद कर स्थापत्य की दृष्टि से सभा के सुंदर भवन का निर्माण करवाया। स्वामी जी ने भवन को सात मंजिला स्वरूप देकर राजसत्ता को यह संदेश दे दिया लोकसत्ता/ जनसत्ता का कद राजसत्ता के कद से ऊंचा होता है। एक शताब्दी से ज्यादा पुराना होने के बावजूद सर्वहितकारिणी सभा का यह भवन अपना पुख्तापन और रौनक अभी तक बरकरार रखे हुए है।

स्वामी जी ने सर्वहितकारिणी सभा भवन में लाला लाजपत राय, बाल गंगाधर तिलक एवं विपिन चंद्र पाल के चित्र सजा करके रखते थे। यह उनकी स्वतंत्रता सेनानियों के प्रति अगाध श्रद्धा का द्योतक है। ब्रिटिश शासन की दृष्टि में लाल-बाल-पाल तीनों सरकार से सजा प्राप्त अपराधी थे। स्वामी जी के विरुद्ध इस बात की शिकायत बीकानेर रियासत को यहां खुफियागिरी करने वाले लोग पहुंचाते रहते थे।

आज़ादी के आंदोलन के अग्रदूत:-

स्वामी गोपालदास की बीकानेर रियासत में आजादी के आंदोलन में आधार स्तंभ के रूप में भूमिका रही है। सन 1931 में लंदन में आयोजित गोलमेज सम्मेलन में बीकानेर रियासत में तत्समय हो रहे उत्पीड़न, दमन व शोषण से संबंधित जो पंपलेट बांटा गया था वह स्वामी जी एवं उनके साथी श्री खूबराम सर्राफ़ तथा श्री सत्यनारायण सर्राफ़ ने तैयार किया था। इस पम्पलेट को गोलमेज़ सम्मेलन में बांटने की व्यवस्था आज़ादी के राष्ट्रीय स्तर के आंदोलन के सबल नेता ने कर दी। महाराजा गंगासिंह इस पम्पलेट को पढ़कर विचलित हो गए और बहाना बनाकर सम्मेलन छोड़कर चले आए।

11 जनवरी 1932 को चूरू के उत्तराधा बाज़ार में आयोजित सार्वजनिक सभा में स्वामी जी ने बीकानेर रियासत में गेहूं लाने पर लगाई गई जकात का अपने भाषण में तीव्र विरोध किया। राजसत्ता की पहले से ही आंखों की किरकिरी बने हुए स्वामी जी के जकात के विरोध को राजसत्ता ने राजद्रोह की संज्ञा देखकर स्वामी जी एवं उनके साथियों पर बीकानेर राजद्रोह और षड्यंत्र केस दायर किया। न्याय के नाम पर हो रहे ढोंग से क्षुब्ध होकर स्वामी जी ने अपने मुकदमे की पैरवी नहीं की और उन्हें 4 वर्ष की कठोर कारावास की सजा सुना दी गई।

जेल से रिहाई के बाद कुछ दिन चूरू में ठहरकर स्वामीजी कलकत्ता गए, जहां उनका भव्य अभिनंदन किया गया। हिंदी समाचार पत्र 'लोकमान्य' ने अपने 15 अगस्त 1932 के अंक में कलकत्ता निवासियों से स्वामी जी का पुरजोर स्वागत करने की अपील प्रकाशित की ,जिसका अंग्रेजी अनुवाद राजस्थान अभिलेखागार, बीकानेर की फाइल 12 -1935 Cuttings relating to Swami Gopala Das में पढ़ने को मिलता है :-

Swami Gopal Das ji , the well-known heroic worker and sadhu of Churu ( Bikaner ), has arrived in our city these days and is putting up at the Surana Bhavan. He has got inherently a vow of pub service and did not budge off his way after undergoing hardships of jail for a pretty long period of three and half years. We accord him a hearty welcome in our city.

स्वामी जी कलकत्ता से चूरु लौटकर आए और सर्वहितकारी कार्यों का फिर व्यवस्थित संचालन करने लग गए परंतु खुफियागिरी में लिप्त कुछ तत्व उनकी हर गतिविधि की रिपोर्ट शिकायत के रूप में बीकानेर राज सत्ता के पास भेजते थे। दमनकारी राजसी सत्ता के भय से लोग स्वामी जी के पास मंदिर में आने से डरने लगे। ऐसी स्थिति में स्वामी जी ने व्यथित होकर चूरू छोड़कर स्वर्गाश्रम की ओर प्रस्थान कर दिया तथा अधिकतर लक्ष्मण झूला या फूल चट्टी में रहने लगे।

नव चेतना के सृजक, महिला व दलित शिक्षा के उत्प्रेरक, आज़ादी की अलख जगाने वाले त्यागी, तपस्वी ,कर्मनिष्ठ ,संत पुरुष स्वामी गोपालदास लक्ष्मण झूला में फूल चिट्टी( उत्तरप्रदेश) में गंगा तट पर 9 जनवरी 1939 को 57 वर्ष की आयु में काल कवलित हो गए ।

स्वामी जी के जन कल्याण के कार्यों की प्रशंसा में अनेक टिप्पणियां राष्ट्रीय स्तर के समाचार- पत्रों में प्रकाशित होती रहती थीं। दिल्ली से प्रकाशित अंग्रेजी पत्र प्रिंसली इण्डिया ने 8 जून 1932 के अंक में स्वामी जी के बारे में यह उद् गार प्रकट किए:

' Swami Gopaladas ji Maharaj is a saintly personality. The soul of social, religious and public life of Churu. He started new activities of public welfare and well- being in Churu. His life was devoted entirely to the service and well-being of the people. He firmly advocated the removal of illiteracy from the Bikaner state.'

प्रबुद्धजनों ने स्वामी गोपालदास को नव चेतना के जनक, संकल्प के धनी, संकल्प सिद्ध मनीषी, मानवीय सेवा के जन -प्रतीक, समस्त शक्तियों का समर्पण राष्ट्र सेवा में, प्रभावशाली व्यक्तित्व, निस्पृह वृत्ति, भविष्यदृष्टा ,जीवन-मुक्त व्यक्ति के रूप में चित्रित किया है। ( राजस्थान में स्वतंत्रता सेनानी, 1973 . लेखक: सुमनेश जोशी, पृष्ठ 104 -110)

' राजस्थानस्य गांधी गोभक्त जनसेवक :स्वामी गोपालदास' शीर्षक से स्वामी गोपालदास का सचित्र परिचय सचित्र परिचय हजारीबाग के प्रोफेसर बद्रीदत्त शास्त्री ने अपने संस्कृत ग्रंथ नवभारत निर्मातार: ( 1971) में किया है।

'स्वामी गोपालदास जी एक आदर्श कर्तव्यपरायण जनसेवक थे।' ( श्री ईश्वरदास जालान, कानून मंत्री बंगाल शासन )

'राजस्थान में जिन लोगों ने सिर पर कफन बांध कर लड़ाई लड़ी उनमें स्वामी गोपालदास निराली छटा रखते थे।' ( 'स्वामी गोपालदास: नीवं की ईंट' शीर्षक से आकाशवाणी पर 11 फरवरी 1985 को आयोजित वार्ता में प्रसिद्ध क्रांतिकारी मन्मथनाथ गुप्त का कथन।

दुःखद बात है कि सियासत-प्रधान इस ज़माने में हम जिक्र स्वामी गोपालदास जैसे कर्मवीरों, कर्मयोगियों , समाज-सुधारकों, अंधेरे से उजाले की तरफ़ ले जाने वाले प्रबुद्धजनों का नहीं करते बल्कि जयकारे उनके लगाते हैं जो एक छुपे एजेण्डे के तहत समाज में संकीर्णता परोसने के काम को अंजाम दे रहे हैं। यह याद रखना होगा कि सत्ता/ बल की गूंज सीमित दायरे में सीमित समय तक गूंजती है जबकि कर्म की गूंज स्थान और समय की सीमाओं से परे भी गूंजती है।

आभार:

1.श्री गोविंद अग्रवाल एवं श्री सुबोध अग्रवाल के प्रति जिन्होंने चूरू के शोधपरक इतिहास में स्वामी गोपालदास जी के व्यक्तित्व एवं कृतित्व को उजागर किया।

2.नगर -श्री, चूरु के प्रति जहां पर स्वामी गोपालदास जी के पत्र एवं उनकी जीवनी से संबंधित महत्वपूर्ण सामग्री का संकलन सुलभ है।

3. प्रोफेसर हनुमानाराम ईसराण, पूर्व प्राचार्य, कॉलेज शिक्षा, द्वारा अनुसंधान कर हिन्दी में यह लेख तैयार कर प्रस्तुत किया गया है।

Gallery

Reference

  1. प्रेम मोहन लखोटिया: राजस्थान स्वर्ण जयंती प्रकाशन समिति जयपुर के लिए राजस्थान हिंदी ग्रन्थ अकादमी जयपुर द्वारा प्रकाशित 'राजस्थान में स्वतंत्रता संग्राम के अमर पुरोधा - स्वामी गोपालदास', 2003, p.1
  2. प्रेम मोहन लखोटिया: राजस्थान स्वर्ण जयंती प्रकाशन समिति जयपुर के लिए राजस्थान हिंदी ग्रन्थ अकादमी जयपुर द्वारा प्रकाशित 'राजस्थान में स्वतंत्रता संग्राम के अमर पुरोधा - स्वामी गोपालदास', 2003, p.2
  3. प्रेम मोहन लखोटिया: राजस्थान स्वर्ण जयंती प्रकाशन समिति जयपुर के लिए राजस्थान हिंदी ग्रन्थ अकादमी जयपुर द्वारा प्रकाशित 'राजस्थान में स्वतंत्रता संग्राम के अमर पुरोधा - स्वामी गोपालदास', 2003, p.7
  4. प्रेम मोहन लखोटिया: राजस्थान स्वर्ण जयंती प्रकाशन समिति जयपुर के लिए राजस्थान हिंदी ग्रन्थ अकादमी जयपुर द्वारा प्रकाशित 'राजस्थान में स्वतंत्रता संग्राम के अमर पुरोधा - स्वामी गोपालदास', 2003, p.5
  5. प्रेम मोहन लखोटिया: राजस्थान स्वर्ण जयंती प्रकाशन समिति जयपुर के लिए राजस्थान हिंदी ग्रन्थ अकादमी जयपुर द्वारा प्रकाशित 'राजस्थान में स्वतंत्रता संग्राम के अमर पुरोधा - स्वामी गोपालदास', 2003
  6. प्रेम मोहन लखोटिया: राजस्थान स्वर्ण जयंती प्रकाशन समिति जयपुर के लिए राजस्थान हिंदी ग्रन्थ अकादमी जयपुर द्वारा प्रकाशित 'राजस्थान में स्वतंत्रता संग्राम के अमर पुरोधा - स्वामी गोपालदास', 2003, p.9
  • Dr Mahendra Singh Arya, Dharmpal Singh Dudi, Kishan Singh Faujdar & Vijendra Singh Narwar: Ādhunik Jat Itihas (The modern history of Jats), Agra 1998
  • Parvati Chaudhary: Jat Samaj monthly magazine, Agra, October 1997

Back to The Reformers/Freedom fighters from Churu district