Udyana

From Jatland Wiki
Jump to navigation Jump to search
Author:Laxman Burdak, IFS (Retd.)

Udyana (उद्यान) or Udyāna (Sanskrit, meaning garden or orchard; Chinese: 烏萇; pinyin: Wūcháng) was a Buddhist region in North India delimited in part by the Indus River.

Variants of name

Location

History

The area is said to have supported some 500 viharas of the Sthavira nikāya at which traveling śrāmaṇeras were provided lodgings and food for three days. It is said Gautama Buddha's footprint or petrosomatoglyph, a rock on which he dried his clothes and a place where he converted a nāga.

It is said that the two schools derived from the Sthavira nikāya, the Dharmaguptaka and Kāśyapīya, were established in this area. Both of these schools had proto-Mahayana doctrines.

Udyāna is of vital importance in the Vajrayana schools of Buddhism, as most of the later tantras are identified as originating there.

Visit by Fahian in 403 AD

James Legge[1] writes about the travel of Fahian: After crossing the river, (the travellers) immediately came to the kingdom of Woo-chang,1 which is indeed (a part) of North India. The people all use the language of Central India, “Central India” being what we should call the “Middle Kingdom.” The food and clothes of the common people are the same as in that Central Kingdom. The Law of Buddha is very (flourishing in Woo-chang). They call the places where the monks stay (for a time) or reside permanently Sangharamas; and of these there are in all 500, the monks being all students of the hinayana. When stranger bhikshus2 arrive at one of them, their wants are supplied for three days, after which they are told to find a resting-place for themselves.

There is a tradition that when Buddha came to North India, he came at once to this country, and that here he left a print of his foot, which is long or short according to the ideas of the beholder (on the subject). It exists, and the same thing is true about it, at the present day. Here also are still to be seen the rock on which he dried his clothes, and the place where he converted the wicked dragon.3 The rock is fourteen cubits high, and more than twenty broad, with one side of it smooth.

Hwuy-king, Hwuy-tah, and Tao-ching went on ahead towards (the place of) Buddha’s shadow in the country of Nagara;4 but Fa-hien and the others remained in Woo-chang, and kept the summer retreat.5 That over, they descended south, and arrived in the country of Soo-ho-to.6


1 Udyana, meaning “the Park;” just north of the Punjab, the country along the Subhavastu, now called the Swat; noted for its forests, flowers, and fruits (E. H., p. 153).

2 Bhikshu is the name for a monk as “living by alms,” a mendicant. All bhikshus call themselves Sramans. Sometimes the two names are used together by our author.

3 Naga is the Sanskrit name for the Chinese lung or dragon; often meaning a snake, especially the boa. “Chinese Buddhists,” says Eitel, p. 79, “when speaking of nagas as boa spirits, always represent them as enemies of mankind, but when viewing them as deities of rivers, lakes, or oceans, they describe them as piously inclined.” The dragon, however, is in China the symbol of the Sovereign and Sage, a use of it unknown in Buddhism, according to which all nagas need to be converted in order to obtain a higher phase of being. The use of the character too {.}, as here, in the sense of “to convert,” is entirely Buddhistic. The six paramitas are the six virtues which carry men across {.} the great sea of life and death, as the sphere of transmigration to nirvana. With regard to the particular conversion here, Eitel (p. 11) says the Naga’s name was Apatala, the guardian deity of the Subhavastu river, and that he was converted by Sakyamuni shortly before the death of the latter.

4 In Chinese Na-k’eeh, an ancient kingdom and city on the southern bank of the Cabul river, about thirty miles west of Jellalabad.

5 We would seem now to be in 403.

6 Soo-ho-to has not been clearly identified. Beal says that later Buddhist writers include it in Udyana. It must have been between the Indus and the Swat. I suppose it was what we now call Swastene.

Visit by Xuanzang in 631 AD

Alexander Cunningham[2] writes about 7. Udyana or Swat:

[p.81]: On leaving Utakhanda Hwen Thsang travelled about 600 li, or 100 miles, towards the north, to U-chang-na, or Udyana, which was situated on the river Su-po-fa-su-tu, the Subhavastu and Suvastu of Sanskrit, the Suastus of Arrian, and the Swat or Suat river of the present day. It is called U-chang by the earlier pilgrims Fa-Hian and Sung-yun, which is a close transcript of Ujjana, the Pali form of Udyana. The country is described as highly irrigated, and very fertile. This agrees with all the native accounts, according to which Swat is second only to the far-famed valley of Kashmir. Hwen Thsang makes it 5000 li, or 833 miles, in circuit, which must be very near the truth, if, as was most probably the case, it included all the tributaries of the Swat river. Udyana would thus have embraced the four modern districts of Panjkora, Bijawar, Swat, and Bunir, which have a circuit of only 500 miles, if measured on the map direct, but


[p.82]: of not less than 800 miles by road measurement. Fa-Hian mentions Su-ho-to as a small district to the south of Udyana. This has generally been identified with the name of Swat ; but from its position to the south of Udyana, and to the north of Parashawar, it cannot have been the large valley of the Swat river itself, but must have been limited to the smaller valley of Bunir. This is confirmed by the legend told by Fa-Hian of the hawk and pigeon ; in which Buddha, to save the pigeon, tears his own flesh and offers it to the hawk. The very same legend is related by Hwen Thsang, but he places the scene at the north-west foot of the Mahaban mountain, that is, in the actual valley of Bunir. He adds that Buddha was then a king, named Shi-pi-kia, or Sivika, which may, perhaps, be the true form of Fa-Hian's Suhoto.

The capital of Udyana was called Mung-kie-li, or Mangala, which is probably the Mangora of Wilford's surveyor, Mogal Beg, and the Manglora of General Court's map. It was 16 or 17 li, about 2¾ miles, in circuit, and very populous. At 250 or 260 li, about 42 miles, to the north-east of the capital the pilgrim reached the source of the Suhhavastu river, in the fountain of the Naga king Apalāla ; and at 750 li, or 125 miles, further in the same direction, after crossing a mountain range and ascending the Indus, he arrived at Tha-li-lo, or Darel, which had been the ancient capital of Udyana. Darel is a valley on the right or western bank of the Indus, now occupied by Dardus, or Dards, from whom it received its name. It is called To-li by Fa-Hian, who makes it a separate kingdom. The Dards are now usually divided into three separate tribes, according to the dialects which


[p.83]: they speak. Those who use the Arniya dialect occupy the north-western districts of Yasan and Chitral ; those who speak the Khajunah dialect occupy the north-east districts of Hunza and Nager ; and those who speak the Shina dialect occupy the valleys of Gilgit, Chilas, Darel, Kohli, and Palas, along the banks of the Indus. In this district there was a celebrated wooden statue of the future Buddha Maitreya, which is mentioned by both of the pilgrims. According to Fa-Hian it was erected 300 years after the Nirvana of Buddha, or about B.C. 243, that is, in the reign of Asoka, when the Buddhist religion was actively disseminated over India by missionaries. Hwen Thsang describes the statue as 100 feet in height, and states that it was erected by Madhyantika.[3] The name and the date mutually support each other, as Madhyantika, or Majjhima in Pali, was the name of the Buddhist teacher, who, after the assembly of the Third Synod in Asoka's reign, was sent to spread the Buddhist faith in Kashmir and the whole Himavanta country.[4] This is most probably the period alluded to by Hwen Thsang when Darel was the capital of Udyana.

उद्यान

विजयेन्द्र कुमार माथुर[5] ने लेख किया है ...उद्यान (AS, p.97) प्राचीन गंधार देश का एक भाग जो आजकल स्वात या चितराल, पश्चिम पाकिस्तान के उत्तर-पूर्व में स्थित, के नाम से प्रसिद्ध है। बौद्ध काल में यहाँ अनेक विहार स्थित थे। चीनी पर्यटक सुंगयुन (520 ई.) के वर्णन के अनुसार बौद्ध साहित्य तथा कला में प्रसिद्ध बेस्संतर जातक की कथा की घटना स्थली यह नगर था। (देखें सुंगयुग का यात्रा विवरण; नागरीप्रचारिणी सभा, काशी, उपक्रम पृ. 23) उद्यान का वर्णन युवानच्वांगने भी किया है। उद्यान देश में बसने वाले लोगों को अश्वक (ग्रीक अस्सकनीज़) कहते थे। मार्कण्डेय पुराण तथा बृहत्संहिता में उन्हें उत्तर-पश्चिम की ओर स्थित बताया गया है। मंगलपुर में उद्यान की राजधानी थी। कुछ विद्वानों का मत है कि अफ़ग़ानिस्तान का वह भाग जो आजकल चमन कहलाता है प्राचीन 'उद्यान' है। दोनों नाम समानार्थक हैं। चमन का इलाका सदा से फलों के बागों के लिए प्रसिद्ध रहा है।

उज्जानक

विजयेन्द्र कुमार माथुर[6] ने लेख किया है ...उज्जानक (AS, p.88) कश्मीर के पश्चिम सिंधु नदी के तट का एक पवित्र क्षेत्र विशेष था।[7] महाभारत के अन्तर्गत पांडवों की तीर्थयात्रा के प्रसंग में इस तीर्थ का काश्मीर मंडल में मानसरोवर के द्वार के पश्चात् वर्णन आता है। इसी के पास कुशवान् सरोवर और वितस्ता नदी (झेलम नदी) का उल्लेख है- 'एष उज्जानको नाम पावकिर्यत्र शान्तवान्' (महाभारत वन पर्व 130, 17) उज्जानक में एक सरोवर भी था।

ठाकुर देशराज जाट इतिहास

ठाकुर देशराज[8] ने लिखा है .... यह वर्णन तो हुआ गणतन्त्र के सम्बन्ध में। इससे सहज ही जाना जा सकता है कि कुलों की ओर से निर्वाचित मेम्बरों को गण और उनकी सभा को संघ, उनके अधिपति को गणों का अधिपति अर्थात् गणेश और गणपति कहते थे। उनके शासनतंत्र में सभी कुल समान समझे जाते थे। शिवि लोगों के यहां भी गणतन्त्र शासन-प्रणाली थी। महाभारत में इसका नाम शैवल करके आया है। बौद्ध-ग्रन्थों में इन्हें शिवि और पतंजलि ने ‘शैव्य’ लिखा है। सिकन्दर के साथी यूनानी लेखकों ने इसे शिबोई नाम से उल्लेख किया है। पीछे से पंजाब प्रान्तों को छोड़ ये लोग मालवा में जा बसे थे। सिकन्दर के समय में शिवि लोग मालवों के साथी थे। चित्तौड़ के निकट ‘नगरी’ स्थान में इनके सिक्के पाये गए हैं। उन सिक्कों पर ‘‘मज्झिमकाय शिवि जनपदस’’ अंकित है। मध्यमिका (मज्झिमिका) इनकी राजधानी थी। हिन्दू पॉलिटी के लेखक श्री काशीप्रसाद जायसवाल लिखते हैं कि - ई.पू. पहली शताब्दी के बाद इनके अस्तित्व का कोई प्रमाण या लेख अभी तक नहीं मिला है।1 जाटों में एक बड़ा भाग शिवि गोत्री जाटों का है। ट्राइब्स एण्ड कास्ट्स ऑफ दी नार्थ वेस्टर्न प्रॉविन्सेज एण्ड अवध में मिस्टर विलियम क्रुक साहब लिखते हैं -

The Jats of the south-eastern provinces divide them selves into two sections - Shivgotri or of the family of Shiva and Kashyapagotri.

अर्थात् - दक्षिणी पूर्वी प्रान्तों के जाट अपने को दो भागों में विभक्त करते हैं - शिवगोत्री या शिव के वंशज और कश्यप गोत्री ।

इससे यह नतीजा तो नहीं निकालना चाहिए कि शिवि लोग ही जाट हैं। हां, यह अवश्य है कि शिवि लोग भी महान् जाट जाति का एक अंग हैं। ऐसे प्रमाण मिलते हैं कि अनेक गण मिल करके एक संघ या लीग स्थापित कर लेते थे। क्षुद्रक और मालवों ने मिल करके एक संघ स्थापित किया था। इसी तरह से शिवि लोग भी एक बड़े संघ जट (पाणिनि ने जट का अर्थ संघ किया है) में मिल गये और आज भी एक गोत्र के रूप में जाटों में विद्यमान हैं। बौद्ध-धर्म के अन्तिम काल तक भारतवर्ष में गणतन्त्र शासन-प्रणाली मौजूद थी। ज्यों-ज्यों नवीन हिन्दू-धर्म और राजपूतों का उत्कर्ष होता गया, त्यों-त्यों भारतवर्ष में एकतन्त्र शासन का जोर बढ़ता गया और प्रजातन्त्र घटते गए। यह भी हो सकता है कि यह शिव-वंश के जाट शैव-मतानुयायी रहे हों। चूंकि आरम्भ में शैव और वैष्णव सम्प्रदायों में काफी विरोध रहा था, उसी विरोध को तोड़-मरोड़ करके दक्ष के यज्ञ वाली कथा का सम्बन्ध जोड़ा गया हो। नवीन हिन्दू धर्म की व्यवस्था के अनुसार गण-तन्त्रवादी


1.हिन्दू राज्य-तंत्र, पेज 108


जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-92


अथवा जैन-बौद्ध-धर्मावलम्बी अनार्य म्लेच्छ और धर्म-हीन संज्ञा से पुकारे ही जाते थे। यदि शिव जाति के सम्बन्ध में भी उनके धर्म-ग्रन्थों में इन्हीं शब्दों में याद किया हो तो कोई आश्चर्य की बात नहीं है। गणतन्त्रवादी कुछ समुदायों में से जब कुछ समूह हिन्दू-धर्म में सम्मिलित हुए हों तो बहुत सम्भव है कि उनके पूजनीय और श्रद्धेय गणेश की पूजा को उनकी प्रसन्नता के लिए सम्मिलित कर लिया हो। हमारा कथन इस बात से भी पुष्ट होता है कि गणपति-पूजा का रिवाज महाराष्ट्र प्रान्त में अधिक है और यह सर्वविदित बात है कि मराठे आरम्भ में गणतन्त्रवादी ही थे। पं. सातवलेकर ने मराठों को नागवंशी माना है। नाग एकतन्त्री न होकर प्रजातन्त्रवादी ही थे। हमारा प्रसंग सिर्फ जटा और जाट तक है। गणेश का इतना विस्तृत विवरण हमें इसलिए करना पड़ा है कि लोग शिवजी की जटा से जाटों की उत्पत्ति की अवैज्ञानिक बात का विश्वास छोड़ करके वास्तविक इतिहास समझ लें।

पुराणों के अन्दर एक कथा और आती है कि - शिवि नाम के एक राजा थे। उनकी दयालुता की चर्चा जब स्वर्ग में पहुंची तो देवराज इन्द्र और यम उसकी परीक्षा करने के लिये श्येन (बाज) और कपोत का रूप धारण करके उसके पास आये। श्येन ने कबूतर का पीछा किया। कपोत भागता हुआ शिवि की गोद में आकर छिपा। श्येन ने आकर शिवि से कपोत की याचना की और कहा कि यह मेरी भोज्य वस्तु है। मैं कई दिन से भूखा हूं। आज मुझे यह कई दिन में दैवयोग से मिला है। यदि आप मुझे इसे न देंगे तो मेरे प्राण चले जाएंगे। राजा ने कहा यह तो मेरी शरण में आ चुका है इसे तो दूंगा नहीं। लेकिन तू कोई ऐसी युक्ति बता जिससे तेरे भी प्राण बच जाएं। श्येन न कहा यदि आप कबूतर के बराबर अपना मांस तोलकर दें तो मैं मान जाऊंगा। राजा ने तुला मंगवाई और एक पलड़े में कबूतर को रखकर दूसरे में अपना मांस काट कर रखा। पर सारे शरीर का मांस काट-काटकर चढ़ा देने पर भी वह पलड़ा न उठा। अन्त में राजा स्वयं पलड़े में बैठने लगा। राजा की इस धार्मिक पराकाष्ठा को देखकर इन्द्र स्वयं प्रकट हो गया और राजा के शरीर को पूर्ववत् बना दिया।

यही कथा बौद्ध-धर्म-ग्रन्थ शिविजातक में इस तरह से लिखी है कि - बोधिसत्व ने एक समय शिवि देश में एक राजा का जन्म लिया (राजा से अभिप्राय यहां गणपति का है - लेखक)। राजा बड़ा उदार और दानशील था। उसने अपने राज्य में अनेक दानशाला, धर्मसत्र स्थापित किये थे। कोई याचक राजा के पास से विमुख नहीं फिरता था, दीन-दुखियों के लिये वह दिल खोलकर दान देता था। उसकी ऐसी उदारता को देखकर देवराज इन्द्र का आसन हिल गया। वह राजा के दान की परीक्षा करने के लिये अन्धे ब्राह्मण का रूप धर के उसकी राजधानी में गया। राजा अपनी सभा में बैठा था। अन्धे ब्राह्मण ने कहा -


जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-93


शक्रस्य शक्र प्रतिमानुशिष्टस्त्वां याचितुं चक्षुरिहा गतोऽस्मि । संभावनां तस्य ममैव चाशां चक्षु प्रदानात्सफली कुरूष्व।।

अर्थात् इन्द्र की आज्ञा से मैं आपसे आंख मांगने आया हूं। मुझे आशा है और उसे संभावना है कि आप उन्हें सफल कीजियेगा। राजा अपनी आंख निकाल कर देने को तैयार हो गया। मंत्रियों के लाख मना करने पर भी वैद्य से अपनी एक आंख निकलवाकर उसे दे दी। ब्राह्मण ने वो आंख अपनी आंख के स्थान में लगा ली। राजा उसे एक आंख से देखते हुए देखकर बड़ा प्रसन्न हुआ और दूसरी आंख भी उसे दे दी। कुछ दिन के बाद अन्धे राजा के पास इन्द्र आकर के कहने लगा - राजा जो चाहो मुझसे मांग लो। राजा ने कहा -

प्रभूतं मे धनं शक्र शक्तिमच्च महत् बलम्।

अंधभावात्तिवदानीं मे मृत्युरेवाभिरोचते।।

अर्थात्- हे इन्द्र ! मेरे पास बल, धन, सब है किन्तु अंधा होने के कारण मैं याचकों का मुंह नहीं देख सकता, अतः मृत्यु मांगता हूं। इन्द्र ने कहा - धन्य है ! इस दशा को पाकर भी आप याचकों को देखना चाहते हैं। राजा ने इन्द्र की बातों पर क्रोध-प्रकट करते हुए कहा -

तदेव चेत्तर्हि च याचकानां वचांसि या´चानियताक्षराणि ।

आशीर्मयानीव मम प्रियाणि यथा तथोदेतु ममैकचक्षुः ॥

अर्थात् - यदि मुझे याचकों का आर्शीवाद प्रिय हो तो मेरी एक आंख जयों-की-त्यों अभी हो जाए। यह कहते ही राजा की आंख पूर्ववत् हो गई । पुनः राजा ने कहा -

यश्चापिना चक्षुरयाचतैकं तस्मै मुदा द्वे नयने प्रदाय।

प्रीत्युत्संवैकाग्रमतिर्यथासं द्वितीयमप्यक्षि तथा ममास्तु।।

अर्थात् - यदि एक आंख के मांगने पर मैंने अपनी दोनों आंख हर्ष पूर्वक दे दी हों तो दूसरी आंख भी त्यों हो जाएं। राजा का कहना था कि दूसरी आंख जैसी थी वैसी ही हो गई। फिर सारी पृथ्वी कांप उठी, आकाश में देवता दुंदुभी बजाने लगे। देवराज इन्द्र राजा को यह आर्शीवाद देकर साधु-साधु कह सुरलोक सिधारे -

ननो न विदित राजस्तव शुद्धशयाशयः।

एवं नु प्रतिदत्ते ते मयेमे नयने नृप ॥

समन्ताद्योजनशतं शैलैरपि तिस्कृतम् ।

द्रष्टुम् व्याहता शक्तिर्भविष्यत्यनयोश्चते ॥

अर्थात् - हे राजन् ! आपका आशय मुझसे छिपा नहीं है इसीलिये मैं आपको


जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-94


ये दो आंखे देता हूं। आप सौ योजन तक पर्वत की ओट होते हुए भी देखेंगे और आपकी देखने की शक्ति अव्याहत होगी।1

महाराज शिवि का यह स्थान पेशावर से सात दिन की यात्रा के पश्चात् सिंध नदी के उस पार था। यहां राजा अशोक ने इनकी स्मृति के लिये एक विहार और एक स्तूप बनवाया था। जातक ग्रन्थों से यह भी मालूम होता है कि राजा शिवि भगवान बुद्ध से पूर्व पैदा हुए थे। इस तरह से शिवि जाति का अस्तित्व बौद्ध-काल से पहले का पाया जाता है। लगभग यही समय जट-संघ के स्थापित होने का और भिन्न-भिन्न राजवंशों का जट-संघ में शामिल होकर जाट कहलाने का है। शिवि जाति में जो कि इस महान जाट-जाति का एक अंग है, कई प्रसिद्ध राजा उत्पन्न हुए, जिनका वर्णन हम यथास्थान करेंगे। चूंकि शिवि जाति जट-संघ में शामिल हो गई थी, अनेक पीढ़ियों के बाद तक भी उन लोगों के लिये जो कि शिवि-जाति में से आये थे यह बात तो याद रही कि उनके पुरखे शिवि कहलाते थे। पर इस बात को वे कतई भूल गये कि शिव किसी एक पुरूष का नाम न होकर जाति का नाम था। इसलिये वे स्वयं को शिवजी अर्थात् पौराणिक महादेव का वंशज मान बैठे। लेकिन यह प्रश्न कि वह शिवजी के वंशज होकर जाट नाम को कैसे प्राप्त हुए, मोटी अकल से यही मान लिया कि वे अवश्य ही शिवजी की जटाओं से पैदा हुए हैं। क्योंकि उनके सामने एक पौराणिक कथा भी थी कि शिवजी ने जटा में से कुछ आदमियों को पैदा किया जो कि वीरभद्र तथा गणादिक कहलाते थे। हालांकि यह कथा भी बहुत संभव है गणतंत्र के विरूद्ध गणों की राजनैतिक संस्थाओं के बजाय धार्मिक पुरूष बताने के लिये तथा वास्तविकता पर आवरण डालने के लिये रची गई हो। जाटों के सम्बन्ध में शिवजी के जटा में से पैदा होने की दन्तकथा का यही आधार और कारण है।

जाटों का विदेशों में जाना

ठाकुर देशराज[9] ने लिखा है .... उत्तरोत्तर संख्या वृद्धि के साथ ही वंश (कुल) वृद्धि भी होती गई और प्राचीन जातियां मे से एक-एक के सैंकड़ों वंश हो गए। साम्राज्य की लपेट से बचने के लिए कृष्ण ने इनके सामने भी यही प्रस्ताव रखा कि कुल राज्यों की बजाए ज्ञाति राज्य कायम का डालो।

सारे यदुओं का एक राष्ट्र हो चाहे वे भोज, शूर, अंधक, वृष्णि, दशार्ण आदि कुछ भी कहलाते हों। इसी तरह सारे कुरुओं का एक जाति राष्ट्र हो; पांचाल, पौरव, गांधार, मद्र, पांडव सब मिलकर एक संघ कायम कर लें। किन्तु इसको कोई क्या कहे कि कम्बखत कुरु लोग और यादव लोग आपस में ही लड़कर नष्ट हो गए। यदि वेदो के पंचजना:, कहे जाने वाले, यदु, कुरु, पुरू, आदि संगठित हो जाते तो आज सारे संसार में वैदिक धर्मी ही दिखाई देते। किंतु ये तो लड़े, खूब लड़े। एक दो वर्ष नहीं, सदियों तक लड़े। यही कारण हुआ कि अनेकों समूहों को देश छोड़ विदेशों में भटकना पड़ा। कौनसा खानदान भारत से बाहर (उस बृहतर भारत से बाहर जिसमें काबुल, कंधार, उद्यान और मानसरोवर


[पृ.148]: आ जाते हैं) कब गया, यह तो हम 'जाट शाही' अथवा विदेशों में जाट साम्राज्य नामक पुस्तक में बताएंगे। यहां तो थोड़े से खानदानों का ही जिक्र करना है।

द्वारिका के जाट-राष्ट्र पर हम दो विपत्तियों का आक्रमण एक साथ देख कर प्रभास क्षेत्र में यादवों का आपसी महायुद्ध और द्वारिका का जल में डूब जाना। अतः स्वभावतः शेष बचे जाटों को दूसरी जगह तलाश करने के लिए बढ़ना पड़ा। वज्र को तो पांडवों ने ले जाकर मथुरा का राजा बना दिया। लेकिन स्वयं भगवान श्रीकृष्ण के आठ पटरानियों से 17 पुत्र थे। पुराण अन्य रनियों से 80800 पुत्र बताते हैं। खैर हम 17 को ही सही मान कर चलते हैं। इनमें से दो चार तो बच्चे ही होंगे। ये लोग पूर्व-दक्षिण की ओर तो बढ़ नहीं सकते थे। क्योंकि साम्राज्य का हौआ दक्षिण से ही बढ़ रहा था। दूसरे उधर आबादी भी काफी थी। अतः पश्चिम उत्तर की ओर बढ़े।

उधर पांडवों में भी परीक्षित को इंद्रप्रस्थ का राज्य देने के बाद भीम, नकुल, सहदेव के कई पुत्र शेष रह जाते हैं। स्वयं युधिष्ठिर के भी यौधेयी रानी से पैदा होने वाले यौधेय बाकी थे। अतः उन्हें भी नए देश खोजने के लिए उत्तर पश्चिम की ओर बढ़ना पड़ा। यदि हम हरिवंश, यादव दिग्विजय और महाभारत तथा पुराणों के वर्णन में से सच्चाई को छांट लेने की कोशिश करें तो हमें ज्ञात होता है कि पेशावर से ऊपर उद्यान


[पृ.149]: में जहां तख्तेवाही अथवा भीम का तख्त है वहां भीम के पुत्र आबाद कर दिए गए। और मुगलों के आने तक वे लोग वहां पर आनंद से पीढ़ी-दर-पीढ़ी आबाद रहे। भीम का गल जाना वहीं माना जाता है। कहा जाता है कि युधिष्ठिर नहीं गले थे। इस तरह युधिष्ठिर के साथी कैस्पियन सागर के किनारे तक पहुंच जाते हैं।वे यौधेय ही धेय, धे और यूनानी लेखकों की भाषा में (Dahae) ढे और ढहाये हैं। कुछ लोग ऐसे ही जेन्थोई कहने लगे। यह शब्द जाट यौधेय का अपभ्रंश है, जो केवल भाषा भेद से जेन्थोई हो गया है। इन ढे लोगों को लेकर ही स्ट्रेबो और हेरोडोटस आदि ने भारतीय जाटों को विदेशी समझा है। इस्लाम के जोर के समय इनका एक समूह है भारत में आकर फिर आबाद हो गया जो आजकल ढे नाम से प्रसिद्ध है। यौधेयों का एक समूह आरंभ में पंजाब में ही रह गया था जो आजकल जोहिया कहलाता है।

शिविओं का एक समूह उद्यान को छोड़कर चीन की पूर्वी हद पर पहुंच गया, जो वहां की भाषा में श्यूची कहलाने लगा। कुशान लोग ही श्यूची (शिविची) लोगों की एक शाखा थे जो कि तुर्क देश में बसने के कारण तुरक नाम से भी याद किए हैं। वास्तव में यह वैसे ही तुरक थे जैसे मुंबई के रहने वाले पारसी, हिंदुस्तानी हैं। अर्थात रक्त से तुरक नहीं थे हालांकि पुराणों के कथनानुसार तुरक (तुरुष्क) यदुवंशी की संतान हैं।


[पृ.150]: ईसा की पहली शताब्दी में फिर ये भारत में आ गए और पुरुषपुर अथवा पेशावर को अपनी राजधानी बनाया।

यदुवंश में एक गज हुआ है। जैन पुराणों के अनुसार गज कृष्ण का ही पुत्र था। उसके साथियों ने गजनी को आबाद किया। भाटी, गढ़वाल, कुहाड़, मान, दलाल वगैरह जाटों के कई खानदान गढ गजनी से लौटे हुए हैं।

शिवियों का एक समूह है उद्यान से ईरान की और भी बढ़ गया था। वहां उन्होंने शिवस्थान नामक एक नगर अपने नाम से आबाद किया जो अब सीसतान कहलाता है।

References

  1. A Record of Buddhistic Kingdoms/Chapter 8
  2. The Ancient Geography of India/Udyana, pp. 81-83
  3. Julien's ' Hiouen Thsang,' ii. 168. But he fixes the date at only 50 years after Buddha, for which we should most probably read 250 years.
  4. Tumour's ' Mahawanso,' p. 71 ; see also my ' Bhilsa Topes,' p. 120.
  5. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.97
  6. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.88
  7. पौराणिक कोश |लेखक: राणा प्रसाद शर्मा |प्रकाशक: ज्ञानमण्डल लिमिटेड, वाराणसी |संकलन: भारत डिस्कवरी पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 556, परिशिष्ट 'क' |
  8. Jat History Thakur Deshraj/Chapter II,pp.91-95
  9. Thakur Deshraj: Jat Itihas (Utpatti Aur Gaurav Khand)/Navam Parichhed,pp.147-150

Back to Jat Places in Afghanistan