Vindhyachal

From Jatland Wiki
(Redirected from Vindhya)
Jump to navigation Jump to search
Author: Dayanand Deswal
Location of Vindhyachal
Vindhyachal Mountain Ranges

Vindhya Range is a complex, discontinuous chain of mountain ridges, hill ranges, highlands and plateau escarpments in west-central India. Technically, the Vindhyas do not form a single mountain range in the geological sense.

Location and Extent

The exact extent of the Vindhyas is loosely defined, and historically, the term covered a number of distinct hill systems in central India, including the one that is now known as the Satpura Range. Today, the term principally refers to the escarpment that runs north of and roughly parallel to the Narmada River in Madhya Pradesh, and its hilly extensions. Depending on the definition, the range extends up to Gujarat in the west, and Uttar Pradesh and Bihar in the east.

The Vindhyas have a great significance in Indian mythology and history. Several ancient texts mention the Vindhyas as the southern boundary of the Āryāvarta, the territory of the ancient Indo-Aryans. The range of these mini hills continues to be considered as the traditional boundary between Northern and Southern part of India. The former Vindhya Pradesh (विन्ध्य प्रदेश) was named after the Vindhya Range.

Variants

Etymology and names

According to the author of a commentary on Amarakosha (अमरकोश), the word Vindhya derives from the Sanskrit word "Vaindh" (वैंध - to obstruct). According to another theory, the name "Vindhya" means "hunter" in Sanskrit, and may refer to the adivasi (tribal) hunter-gatherers inhabiting the region.

The Vindhya range is also known as Vindhyachala (विंध्याचल) or Vindhyachal; the suffix achala or achal (Hindi: अचल) refers to a mountain. In the Mahabharata, the range is also referred to as Vindhyapadaparvata (विन्ध्यापर्वत). The Greek geographer Ptolemy called the range Vindius or Ouindion, describing it as the source of Namados (Narmada) and Nanagouna (Tapti) rivers. The Daksinaparvata (दक्षिणपर्वत) ("Southern Mountain") mentioned in the Kaushitaki Upanishad is also identified with the Vindhyas.

Rivers in Vindhyas

Several tributaries of the Ganga-Yamuna system originate from the Vindhyas. These include Chambal, Betwa, Dhasan, Ken, Tamsa, Kali Sindh and Parbati. The northern slopes of the Vindhyas are drained by these rivers.

Narmada and Son rivers drain the southern slopes of the Vindhyas. Both these rivers rise in the Maikal hills, which are now defined as an extension of the Satpuras, although several older texts use the term Vindhyas to cover them.

विन्ध्याचल पर्वत

विन्ध्याचल पर्वत पहाड़ियों की टूटी-फूटी श्रृंखला, जो भारत की मध्यवर्ती उच्चभूमि का दक्षिणी कगार बनाती है। पश्चिम में गुजरात राज्य से लगभग 1,086 कि.मी. तक विस्तृत यह श्रेणी मध्य प्रदेश को पार कर वाराणसी (बनारस) की गंगा नदी घाटी से मिलती है। ये पर्वत मालवा पठार का दक्षिणी छोर बनाते हैं और इसके बाद दो शाखाओं में बंट जाते हैं – कैमूर श्रेणी, जो सोन नदी के उत्तर से पश्चिमी बिहार राज्य तक फैली है तथा दक्षिणी शाखा, जो सोन और नर्मदा नदी के ऊपरी क्षेत्र के बीच मैकाल श्रेणी (या अमरकंटक पठार) में सतपुड़ा पर्वतश्रेणी से मिलती है।

450 मीटर से 1100 मीटर ऊँचाई पर विंध्य श्रेणी से गंगा-यमुना प्रणाली की मुख्य दक्षिणी सहायक नदियाँ निकलती हैं, जिनमें चंबल, बेतवा, केन और टोन्स शामिल हैं। अपनी समतलीय बलुआ पत्थर संरचना के कारण ये पर्वत समतल शिखर युक्त और पठार जैसे लगते हैं। दूसरी शताब्दी के यूनानी भूगोलवेत्ता टालेमी ने इस श्रेणी को उत्तरी और प्रायद्वीप भारत के बीच सीमा माना था।

कुशावती

विजयेन्द्र कुमार माथुर[1] ने लेख किया है ...1. कुशावती (AS, p.213): वाल्मीकि रामायण, उत्तरकाण्ड 108,4 से विदित होता है कि स्वर्गारोहण के पूर्व रामचंद्र जी ने अपने ज्येष्ठ पुत्र को कुशावती नगरी का राजा बनाया था-- 'कुशस्य नगरी रम्या विंध्यपर्वत रोधसि, कुशावतीति नाम्ना साकृता रामेण धीमता'. उत्तरकांड 107, 17 से यह भी सूचित होता है कि, 'कोसलेषु कुशं वीरमुत्तरेषु तथा लवम्' अर्थात रामचंद्र जी ने दक्षिण कौशल में कुश और उत्तर कौशल में लव का राज्याभिषेक किया था. कुशावती विंध्यपर्वत के अंचल में बसी हुई थी और दक्षिण कोसल या वर्तमान रायपुर (बिलासपुर क्षेत्र छत्तीसगढ़) में स्थित होगी. जैसा की उपयुक्त उत्तर कांड 108,4 सेवा से सूचित होता है

स्वयं रामचंद्र जी ने यह नगरी कुश के लिए बनाई थी. कालिदास ने भी रघुवंश 15,97 में कुश का, कुशावती का राजा बनाए जाने का उल्लेख किया है--'स निवेश कुशावत्यां रिपुनागांकुशं कुशम्'. रघुवंश सर्ग 16 से ज्ञात होता है कि कुश ने कुशावती में कुछ समय पर्यंत राज करने के पश्चात अयोध्या की इष्ट देवी के स्वप्न में आदेश देने के फलस्वरूप उजाड़ अयोध्या को पुनः बसाकर वहां अपनी राजधानी बनाई थी. कुशावती से ससैन्य अयोध्या आते समय कुश को विंध्याचल पार करना पड़ा था-- 'व्यलंङघयद्विन्ध्यमुपायनानि पश्यन्पुलिंदैरूपपादितानि' रघुवंश 16,32. विंध्य के पश्चात कुश की सेना ने गंगा को भी हाथियों के सेतु द्वारा पार किया था, 'तीर्थे तदीये गजसेतुबंधात्प्रतीपगामुत्तर-तोअस्य गंगाम, अयत्नबालव्यजनीबभूवुर्हंसानभोलंघनलोलपक्षा:...' रघुवंश 16,33 अर्थात जिस समय कुश, पश्चिम वाहिनी गंगा को गज सेतु द्वारा पार कर रहे थे, आकाश में उड़ते हुए चंचल पक्षों वाले हंसों की श्रेणियां उन (कुश) के [p.214]: ऊपर डोलती हुई चंवर के समान जान पड़ती थीं. यह स्थान जहां कुश ने गंगा को पार किया था चुनार (जिला मिर्जापुर उत्तर प्रदेश) के निकट हो सकता है क्योंकि इस स्थान पर वास्तव में गंगा एकाएक उत्तर पश्चिम की ओर मुड़ कर बहती है और काशी में पहुंचकर फिर से सीधी बहने लगती है.

External Links

References