Vishnoi

From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search

Vishnoi (विश्नोई) Bishnoi (बिश्नोई)[1] [2] is a sect whose founder Jhambaji lived towards the end of the 15th century.

They are basically Jats of various clans. Those who accepted the 29 principles of Guru Jambheshwar were called Vishnoi. [3]

29 precepts

Originally the Bishnois were opted for 20 rules of nature protection firstly and after that 9 more rules were opted by them so they called 'Beesnoi' not 'Vishnoi' as they are written now in writing or in books of many type as a reference of caste or clan. It is a well known fact that after conversion the Jats of India were called another caste likewise- Sikkh, Jasnathi (Nath), Vishnoi, Dadupanthi, Ramsnehi, Ganwaria (Sellers) etc.

According to H.A. Rose[4], The 29 precepts given by him for the guidance of his followers are as follows : —

Tis din sutak—pānch roz ratwanti nāri
Sera karo shnān — sil — santokh — suchh pyāri
Pāni — bāni — idhni — itnd lijyo chhān.
Dayā — dharm hirde dharo — garu batāi jān
Chori — nindya — jhuth — barjya bād na kariyo koe
Amal— tamāku — bhang — lil dur hi tyāgo
Mad — mās se dekhke dur hi bhāgo.
Amar rakhāo thāt — bail tani nā bāho
Amāshya barat — runkh lilo na ghāo.
Hom jap samādh pujā — bāsh baikunthi pāo
Untis dharm ki ākhri garu batāi soe
Pāhal doe par chāvya jisko nam Bishnoi hoe,

which is thus interpreted : — "For 30 days after child-birth and five after a menstrual discharge a woman must not cook food. Bathe in the morning. Commit not adultery. Be content. Be abstemious and pure. Strain your drinking water. Be careful of your speech. Examine your fuel in case any living creature be burnt with it. Show pity to living creatures. Keep duty present to your mind as the Teacher bade. Do not speak evil of others. Do not tell lies. Never quarrel. Avoid opium, tobacco, bhang and blue clothing. Flee from spirits and flesh. See that your goats are kept alive (not sold to Musalmans, who will kill them for food). Do not plough with bullocks. Keep a fast on the day before the new moon. Do not cut green trees. Sacrifice with fire. Say prayers. Meditate. Perform worship and attain Heaven. And the last of the 29 duties prescribed by the Teacher — 'Baptize your children, if you would be called a true Bishnoi'."

29 नियम

१- प्रतिदिन प्रात:काल स्नान करना
२- ३० दिन जनन – सूतक मानना,
३- ५ दिन रजस्वता स्री को गृह कार्यों से मुक्त रखना,
४- शील का पालन करना,
५- संतोष का धारण करना,
६- बाहरी एवं आन्तरिक शुद्धता एवं पवित्रता को बनाये रखना,
७- तीन समय संध्या उपासना करना,
८- संध्या के समय आरती करना एवं ईश्वर के गुणों के बारे में चिंतन करना,
९- निष्ठा एवं प्रेमपूर्वक हवन करना,
१०- पानी, ईंधन व दूध को छान-बीन कर प्रयोग में लेना,
११- वाणी का संयम करना, दया एवं क्षमा को धारण करना,
१२- चोरी, निंदा, झूठ तथा वाद–विवाद का त्याग करना,
१३- अमावश्या के दिन व्रत करना, १४-विष्णु का भजन करना,
१५- जीवों के प्रति दया का भाव रखना,
१६- हरा वृक्ष नहीं कटवाना,
१७- काम, क्रोध, मोह एवं लोभ का नाश करना,
१८- रसोई अपने हाध से बनाना,
१९- परोपकारी पशुओं की रक्षा करना,
२०- अमल, तम्बाकू, भांग, मद्य तथा नील का त्याग करना,
२१- बैल को बधिया नहीं करवाना

Thakur Deshraj writes -

विश्नोई जाट जो बीकानेर, जेसलमेर और मारवाड़ (सांचौर इलाका) में ज्यादा बसते हैं, राजस्थान में 69,873 हैं। बीकानेर, जयपुर, भरतपुर, मारवाड़, किशनगढ़ और मेवाड़ इन रियासतों में हर एक दूसरी जाति से इनकी संख्या अधिक थी। किसी-किसी रियासत में उनकी आबादी कुल आबादी का 23 प्रति सैंकड़ा तक थी।

भरतपुर-राज्य की ड्योढी़, डीग, कुम्हेर और नदवई, बीकानेर की प्रत्येक तहसील जयपुर की मालपुरा, सांभर, शेखावटी, तोरावटी, खेतड़ी और सीकर, किशनगढ़ की अराई, किशनगढ़, रूपनगर और सरवाड़ की विलाड़ा, डिडवाना, जोधपुर, मालानी, मेरता, नागौर, पर्वतसर और सांभर, मेवाड की भीलवाड़ा, कपसिन और रसमिन तहसील और निजामतों में वे मधु-मक्खियों की भांति भरे पड़े हैं।

राजपूतों जिनके कि नाम से यह प्रान्त सम्बोधित होता है, की आबादी कुल 6,33,830 समस्त राजस्थान में थी जो कि कुल आबादी का 56.5 था। विश्नोई जाटों को मिलाकर राजपूताने के जाटों की जो संख्या होती है राजपूत उनमें आधे के करीब होते थे। अर्थात् राजस्थान में जाट राजपूतों से दुगुनी संख्या में बसे हुए थे और उनसे पहले से भी। - जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठ 694


Read more at

http://www.jatland.com/forums/media.php?do=details&mid=157 - Green Warriors of Thar Desert.

External links

References


Back to Gotras