प्रस्तावना

From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search

अतीत की वृतांत को आख्यान या इतिहास कहते है इतिहास एक प्रकार का दर्पण है जिसके दुवारा व्यक्ति अपने अतीत को याद कर सकता है और अतीत की गलतियों को भविष्य में सुधार सकता है विदेशी और कुछ आश्रित गुलाम इतिहासकारो ने जाटों के इतिहास को गलत रूप में प्रचारित किया है लेकिन जाटों का गौरवशाली इतिहास अब भी लोक कथाओ में जीवित है अपने गौरवशाली इतिहास की यादो को अपने ह्र्दय में संजोय हुए है उनका यह गौरवशाली इतिहास उनके अपने पूर्वजो नेअपनी वीरता ,त्याग, बलिदानी खून से सींचा है तभी तो कहा जाता है


" फूलो की कहानी बहारो ने लिखी कायरो की कहानी उनके गुलामो ने लिखो जाट नहीं थे किसी कलम के गुलाम जाटों की कहानी उनकी तलवारो ने लिखी "


लेकिन आज जाटों के इतिहास को कलमबद्ध करने का समय आचुका है इसलिए तो कहा जाता है यदि तुमको किसी जाति या सभ्यता को नष्ठ करना है तो उनसे उनका इतिहास छीन लो वो जाति खुद ही नष्ठ हो जाएगी जाटों का इतिहास नष्ठ करने का कार्य कही सदियो से निरंतर जारी हैआश्रित इतिहासकारो ने अपने आश्रय दाताओ को खुश करने के लिए अर्थ का अनर्थ ही कर डाला कुछ आश्रित इतिहासकारो ने भरसक कोशिश इतिहास को विकृत करने की की पर वो इसमें सफल नहीं हो पाये क्यों की जनमानस के लोक गीतों ओर कहानियो ने जाटों की इतिहासिक धरोहर को जीवित रखा आज के युग में इंसान के पास समय की कमी है तो वो अपने बच्चों को अपने सुनहरे अतीत के बारे में बता सके लेकिन पूर्वजो के नाम पर जो पंद्रह दिनों का श्राद्ध आता है । उसमे हर व्यक्ति को अपने स्वजनों और बच्चों को उनके वंश गोत्र जाति और पूर्वजो के इतिहास का ज्ञान आवश्यक रुप से देना चाहिए । यही अपने पूर्वजो को सच्ची श्रद्धांजली होगी। नहीं तो आधुनिकता के चक्कर में बच्चे अपने दादा और परदादा तक के नामो को भूल गए है । इसलिए हमको अपनी आने वाली पीढ़ी में सामाजिक संस्कारो की आहुति देनी होगी। To be continue.......