Dama Ram Jakhar

From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search
Dama Ram Jakhar

Nayak Dama Ram Jakhar became Martyr of militancy on 5 March 2000 in Gandarbal area of Jammu and Kashmir. He was from Chaba village in Shergarh Jodhpur.

जीवन परिचय

नायक दमाराम जाखड़ शेरगढ़ तहसील जिला जोधपुर में चाबा गाँव के निवासी थे। इंका जन्म 9.7.1966 को जाखड़ों की ढाणी में हुआ। इनके पिता का नाम पेमाराम, माता का नाम मूलीदेवी तथा पत्नी का नाम हपिया देवी है।

आतंकवादियों का हमला

दमा राम की बचपन से ही फौज में जाने की तमन्ना थी। 20 जाट रेजीमेंट के नायक दमाराम जाखड़ श्रीनगर के पतामबरा गाँव बादामपुर तहसील गंदरबल में 5 मार्च 2000 को सवेरे सवा 5 बजे अचानक सैन्य शिविर पर आतंकवादियों का हमला हुआ जिसमें वे गंभीर रूप से घायल हो गए। अत्यधिक रक्त बहने से वे वीरगति को प्राप्त हुये। इस संघर्ष में तीन आतंकवादियों को भी मौत के घाट उतार दिया। इस कार्यवाही में 15 जाट के हवलदार क्लार्क सुभास चंद्र, 15 मैकेनाइज्ड इन्फैन्ट्री के सिपाही सैजल सिंह तथा सिपाही ए. के. पांडे, 19 जे. अँड के. राइफल्स के हवलदार जयकुमार तथा सिग्नलमेन मंगल सिंह भी शहीद हुये।


शहीद का पार्थिव शरीर 11 मार्च को गाँव लाया गया तथा सैन्य सम्मान के साथ शहीद को अंतिम बिदाई दी गई।


"अमर शहीद चिता पर तेरी, लगता रहेगा मेला, तूने अपने खून से लिखा इतिहास अलबैला" शत् शत् नमन्

गैलरी

संदर्भ


Back to The Martyrs