Teotihuacan

From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search
Teotihuacan4.jpg
Teotihuacan3.jpg

Teotihuacán (त्योतिहुवाकान) or Teotihuacan pyramid, is in San Juan Teotihuacan, Mexico.The President of India Mrs. Pratibha Patil visited this place on 18 April 2008. Teotihuacán name is often spelled with an orthographic accent on the last syllable, following the spelling and pronunciation of the name in Spanish. This place was, at its height in the first half of the 1st millennium CE, the largest pre-Columbian city in the Americas. The city during its existence was larger than any European city of the same era including Rome. [1]

I tried to search its origin and found article in Wikipedia.[2] My view is that it was founded by Teotia Jats. Though article no where mentions them as usual with the history of Jats.

The civilization and cultural complex associated with the site is also referred to as Teotihuacán. Its influence spread throughout Mesoamerica; evidence of Teotihuacano presence, if not outright political and economic control, can be seen at numerous sites in Veracruz and the Maya region.

The city was located in what is now the San Juan Teotihuacán municipality in the State of México, Mexico, approximately 40 km (24.8 mi) northeast of Mexico City. It covers a total surface area of 83 km² and was made a UNESCO World Heritage Site in 1987.


The name Teotihuacán was given by the Nahuatl-speaking Aztec centuries after the fall of the city. The term has been glossed as 'birthplace of the gods,' reflecting Nahua creation myths that took place in Teotihuacán. Another translation was offered by Thelma Sullivan, who interprets the name as "place of those who have the road of the gods." [3]

The name is pronounced [teoti'wakan] in Nahuatl, with the accent on the syllable wa, and by normal Nahuatl orthographic conventions a written accent would not appear in that position. Both pronunciations are used, and both spellings appear in this article. [teotiwa'kan]

The original name of the city is unknown, but it appears in hieroglyphic texts from the Maya region as 'puh', or "Place of Reeds".[4] This suggests that the Maya of the Classic period understood Teotihuacán as a 'Place of Reeds' similar to other Postclassic Central Mexican settlements that took the name 'Tollan,' such as Tula-Hidalgo and Cholula. This naming convention led to much confusion in the early 20th century as scholars debated whether Teotihuacán or Tula-Hidalgo was the Tollan described by 16th–century chronicles. It now seems clear that 'Tollan' may be understood as a generic term applied to any large settlement. In the Mesoamerican concept of urbanism, Tollan and other language equivalents serve as a metaphor, linking the bundles of reeds and rushes that formed part of the lacustrine environment of the Valley of Mexico and the large gathering of people in a city. [5]

History

Origins and foundation

The early history of Teotihuacán is quite mysterious, and the origin of its founders is debated. For many years, archaeologists believed it was built by the Toltec. This belief was based on colonial period texts such as the Florentine Codex which attributed the site to the Toltecs. However, the Nahuatl word "Toltec" means "great craftsman" and may not always refer to the archaeological Toltec civilization centered at Tula, Hidalgo. Since Toltec civilization flourished centuries after Teotihuacán, they cannot be understood as the city's founders.

In the Late Formative period, a number of urban centers arose in central Mexico. The most prominent of these appears to have been Cuicuilco, on the southern shore of Lake Texcoco. Scholars have speculated that the eruption of the Xitle volcano may have prompted a mass emigration out of the central valley and into the Teotihuacan valley. These settlers may have founded and/or accelerated the growth of Teotihuacan.

Other scholars have put forth the Totonac people as the founders of Teotihuacán, and the debate continues to this day.[citation needed] There is evidence that at least some of the people living in Teotihuacán came from areas influenced by the Teotihuacano civilization, including the Zapotec, Mixtec and Maya peoples. The culture and architecture of Teotihuacán was influenced by the Olmec people, who are considered to be the "mother civilization" of Mesoamerica.[citation needed]

The earliest buildings at Teotihuacán date to about 200 BCE, and the largest pyramid, the Pyramid of the Sun, was completed by 100 CE.[6]

The ruins of Teotihuacan are situated on the outskirts of Mexico City. Teotihuancan used to be the capital of once flourishing ‘Aztec’ civilization which apparently had some direct links with India. Even today, there are thousands of Aztec words which Mexicans utter, having similarity with ancient Sanskrit words. The famous Indologist Dr. Eva Alexandra Uchmani, the lady professor at Mexico State University (UNAM) has published a book titled “India and Mexico : Cultural Similarities” published by Indian Council for Cultural Relations.

The author of article in Wiki is perhaps confused with the word ‘Maya’. The Maya civilization flourished in southern part of Mexico – near Cancun where the famous pyramids of Chechen-Itza are situated. The Chechen Itza captured a seat recently in a private on-line poll campaign on “The new seven wonders of the world” (see thread Taj Bannya Sartaj). Teotihuacan was the capital of ‘Aztec’ civilization, not ‘Maya’ civilization.

I[7] served in Mexico City for more than three years and hence, I am lucky enough to have visited the ancient city of Teotihuacan several times. My heart-feeling is that there could have been some connection of that civilization with Teotia Jats. I am attaching below some photos from my personal album which I had snapped through an ordinary camera, now pasted here after scanning.

Who are Aztec ?

Aztec is a term used to refer to certain ethnic groups of central Mexico, particularly those groups who spoke the Nahuatl language and who achieved political and military dominance over large parts of Mesoamerica in the 14th, 15th and 16th centuries, a period referred to as the Late post-Classic period in Mesoamerican chronology.

Often the term "Aztec" refers exclusively to the people of Tenochtitlan, situated on an island in Lake Texcoco, who called themselves Mexica Tenochca or Colhua-Mexica.

Sometimes it also includes the inhabitants of Tenochtitlan's two principal allied city-states, the Acolhuas of Texcoco and the Tepanecs of Tlacopan, who together with the Mexica formed the Aztec Triple Alliance which has also become known as the "Aztec Empire". In other contexts it may refer to all the various city states and their peoples, who shared large parts of their ethnic history as well as many important cultural traits with the Mexica, Acolhua and Tepanecs, and who like them, also spoke the Nahuatl language. In this meaning it is possible to talk about an Aztec civilization including all the particular cultural patterns common for the Nahuatl speaking peoples of the late postclassic period in Mesoamerica.

Dr Natthan Singh writes with reference to Ram Lal Hala [8] that Indians had knowledge about America much earlier to Columbas. They had similar traditions as regards to the death rites. The Aztec people of Mexico were Jats.[9]

Hukum Singh Panwar (Pauria) [10] writes that in all probability the Punia or Pauniya belongs to the followers of the Pani leader Bribu. They were allowed by Aryans to remain in their Indian home in return for liberal donations by Bribu.[11] to the Aryans (the Bharatas) for which he was held in high esteem by them where as the rest of the Panis, who refused to donate likewise, were chased [12] to western lands. Babylonia, known as Brbyru to the Vedic Indians, is said to be the city of Bribu, (a wealthy leader of the Panis), by Weber, [13]. It is extremely interesting to note here that the leaders of the Panis who migrated [14] to America in pre-Aztec times from India, are depicted as robust, standing erect with folded hands, having Rajasthan features, with their head adorned with Marwari pagrees [15]


तेओतिह्वाकान और शहरी समाज

'ओहाका' (Oaxaca), 'वेराक्रुस' (Veracruz) और विशेषकर मध्य मेहिको (Mexico) की घाटियों में, ओल्मेक (Olmec) दुनिया के अवशेषों से माय्या (Maya) क्षेत्र में अनेक सम्बन्धित संस्कृतियों का जन्म हुआ, जिनमें प्रत्येक संस्कृति की अपनी-अपनी सुस्पष्ट विशेषताएँ थीं । इन्हें ही मेसोअमेरिका को पराकाष्टा पर पहुँचाना था । संक्षेप में, यह काल ईसा से लगभग 900 ई. सन् तक का है ।


उन सबके बारे में इसी अध्याय में सब कुछ समेट पाना सम्भव नहीं है । यहाँ केवल उसी का जिक्र किया जा सकेगा जो सबसे अधिक शक्तिशाली सिद्ध हुआ और जिसका प्रभाव आज के मिक्सिकोवासी भी महसूस करते हैं । यह 'मेक्सिको' और 'प्वेब्ला' (Puebla) की घाटियों की 'तेओतिह्वाकान (Teotihuacan) संस्कृति' है । विरासत में प्राप्त संस्कृति को मूल आधारबिन्दु बनाकर उसने भव्य भवन बनाये और एक ऐसी शहरी संस्कृति को विकसित किया जिससे अमेरिकी देश पहले कभी भी परिचित न थे


लेकिन हम शुरू से ही चलें । ईसा से करीब 400 वर्ष पूर्व जिस क्षेत्र में छोटे-छोटे गाँव छितरे हुए थे वहाँ बाद में एक शहर उभर आया । ईसा से दो शताब्दी पूर्व, धीरे-धीरे ये छोटे-छोटे गाँवों के झुण्ड एक दूसरे में मिलते चले गये जब तक कि वे 10,000 निवासियों के एक बड़े विकासशील शहर में नहीं बदल गये । उस वक्त तक कुइकुइल्को (Cuicuilco) मेक्सिको घाटी का सबसे अधिक महत्वपूर्ण पूजा-महोत्सव केन्द्र 'इक्सीत्ले' (Xitle) के ज्वालामुखी लावे के नीचे अदृश्य हो गया था । इधर-उधर के पड़ोसी भावी 'तेओतिह्वाकान' में एकत्र हुए जहाँ उन्हें अच्छी कृषि के लिए उपस्थित सोतों से घिरी हुई जमीन और लावा-काँच को ढालने तथा चमकाने जैसे प्रारम्भिक उद्योगों का आकर्षण खींच लाया, जो अधिक-से-अधिक लाभकारी बन रहा था ।


ईसा के बाद की शताब्दी के प्रारम्भ में 'तेओतिह्वाकान' ने शहर का रूप लेना शुरू कर दिया था । यह कराब 20 व. कि. मी. में फैल गया और इसमें लगभग 50,000 निवासी थे । वहाँ निर्माण की महान गतिविधि प्रकट हुई । केवल 'सूर्य-पिरामिड' ही उसकी वर्तमान ऊँचाई तक नहीं बनाया गया था बल्कि 'चन्द्र-पिरामिड' का भीतरी हिस्सा भी पूरा हो गया था और कम-से-कम 'मृतकों के मार्ग' के उत्तरी भाग की योजना बन गई थी । कुछ अंश के अन्तर के बावजूद, शहर का उत्तर-दक्षिण अनुस्थापन 'ला वेन्ता' (La Venta) की याद दिलाता है और इस प्रकार पूर्वजों से मिली विरासत की ओर संकेत करता है ।


इस सब निर्माण के साथ, तेओतिह्वाकान एक बहुत बड़ा धार्मिक केन्द्र बनने के मार्ग पर अग्रसर था । तब से इसने करीब के और दूर-दूर के शहरों को अपनी ओर आकर्षित करना शुरू किया, जिनकी एक बड़ी संख्या इसके प्रभावक्षेत्र में चक्कर लगाने लगी । ईसा के जन्म के चार शताब्दी बाद तक हालाँकि इसका 20 व. कि. मी. का पूर्व-क्षेत्रफल और नहीं बढ़ा था लेकिन मकानों और आबादी की भारी संख्या के साथ तेओतिह्वाकान एक बड़े शहर का रूप ले चुका था ।


उसी काल के दौरान एक राजनैतिक संगठन प्रकट हुआ जिसमें साम्राज्यवादी प्रवृत्ति की एक राजसत्ता थी । इसने हमले किये या कम-से-कम 'ओहाका' 'वेराक्रूस' और यहाँ तक कि 'ग्वातेमाला' तक कई व्यापारिक आक्रमण किये । इसने अपनी शक्ति का साम्राज्य हमलों के बन्दी या बढ़ते हुए व्यापार, विशाल शहर और उस समय के देवताओं की प्रतिष्ठा से आकर्षित कई दूसरे लोगों तक फैला डाला ।


यह दूर-दूर तक का विस्तार उतना शहर के चतुर्दिक विस्तार के परिणाम से सम्भव नहीं हुआ जितना शहर ने एक बड़े उपयोगी और मातृदेशीय क्षेत्र से अपने को घेर कर प्राप्त किया । यह संस्कृति 'मेक्सिको' और प्वेबला-त्लाक्सकाला (Puebla-Tlaxcala) घाटियों और 'हिदाल्गो' (Hidalgo) में 'तुलानसींगो' (Tulancingo) और शायद 'तेह्वाकान' (Tehuacan) तक विस्तृत थी । इस प्रकार तेओतिह्वाकान ने कार्य-कलाप के एक इतने अधिक शक्तिशाली केन्द्र की स्थापना की, जिसकी रचना किसी भी 'तोल्तेकों' और 'मेशिको' के उत्तराधिकारी द्वारा न हो सकी । इस राज्य का दूसरा शहर 'चोलूला' (Cholula) था जिसके नियन्त्रण में समूचा क्षेत्र था जिस तरह वायसरायल्टी के जमाने में नव-स्पेन का दूसरा शहर 'प्वेब्ला' था ।


इसी दौरान 'तेओतिह्वाकान' शहर की योजना मिलती है जिसके अनुसार इस शहर को 'ला काय्ये दे लोस म्वैर्तोस' (La calle de los muertos) को दक्षिण की ओर तीन किलोमीटर और बढ़ाया गया और पूर्व-पश्चिम की ओर भी सड़कें बनायी गयीं । इस तरह एक बहुत बड़ा चौराहा भी बना जिसने शहर के घेरे को चार हिस्सों में बाँट दिया । शहर के केन्द्र में 'केतसालकोआत्ल' (Quetzalcoatl) का मन्दिर था और उसके ठीक सामने एक चौकोर अहाता था जहाँ पर शायद महल था । सड़क के दूसरी ओर का बाजार कई भवनों से घिरा था जो शायद शहर तथा राज्य के शासन से सम्बन्धित रहे होंगे । 'ला काय्ये दे लोस म्वैर्तोस' की जो लम्बाई बढ़ाई गयी, उसने 'प्वैब्ला' और मेक्सिको की घाटी को मिलाने वाली सबसे आसान सड़क को पूरी तरह काट डाला । इस तरह, यात्रियों और व्यापारियों को शहर के बीच से होकर ही गुजरना पड़ता जिससे तेओतिह्वाकान का नियन्त्रण दोनों घाटियों पर और अधिक मजबूत ही नहीं हुआ, बल्कि व्यापार के आयाम में भी वृद्धि हुई ।


इस काल के अनेक भवनों में तब तक पूर्ण हो चुके 'चाँद पिरामिड' के स्मरणीय समूह थे और उस चौक का विशाल भाग भी था जो अपने को 'ला काय्ये दे लोस म्वैर्तोस' से विभाजित करता था । तेओतिह्वाकान के लोगों ने दुनिया के सबसे खूबसूरत चौकों में से एक बनाकर मेसोअमेरिका की धार्मिक वास्तुकला में असाधारण विजय पा ली थी । उसी तरह की दूसरी विजय 'केतसालकोआत्ल-मन्दिर' के पत्थर की कारीगरी के बने अग्रभाग में भी परिलक्षित है ।


भवन को इच्छित ऊँचाई तक बनाने के लिये, इन्हीं तथा दूसरे कई भवनों के निर्माण में, एक नयी तरह की शिल्प-शैली अपनायी गयी जिसमें पिरामिडी आधार के बाहरी हिस्से में एक-के-बाद-एक चौकोर सिल्लियों को ढ़लवाँ दीवाल पर रखा जाता था । ये सभी स्मारक पत्थर के बने होते थे और उन पर एक खास किस्म का पलस्तर भी होता था जिससे उन्हें भित्ति-चित्रों या साधारण रंगों से सजाया जा सकता था । इस तरह, पूरा-का-पूरा पत्थर दृष्टि से ओझल हो जाता था और आज जिन अवशेषों को हम गेरु के रंग में देख रहे हैं, वे कभी वहाँ के निवासियों के लिए रंगबिरंगी नगरी के रूप में थे । भीतर-बाहर दोनों जगहों के इन भित्ति-चित्रों में 'पौराणिक जानवरों' की तरह के कई खूबसूरत दृश्यों को चित्रित किया जाता था । भित्ति-चित्रों के निर्माण को कला के रूप में इतनी भारी सफलता मिली कि आगामी सदियों में वह चलता ही रहा ।


'राष्ट्रीय मानव विज्ञान संग्रहालय' (National Museum of Anthropology, Mexico City) के सम्मुख प्रस्थापित 'जलदेवी' या तथाकथित 'त्लालोक' जैसे भव्य प्रस्तर-मूर्तियाँ भी इसी काल की हैं ।


शहर के विशाल परिवर्तन केवल सार्वजनिक भवनों तक ही सीमित नहीं रहे । बहुत से स्थलों पर, पुराने-साधारण घरों को लकड़ी के पट्टों की छत और पत्थरों की दीवाल वाले घरों के समूह में बदल दिया गया । कभी-कभी इस सब को पलस्तर और दाँतेदार मुंडेर से भी सजाया जाता । हालाँकि स्पष्ट रूप से रहने के लिए बने इन मकानों की प्रकृति बहुत स्पष्ट नहीं है । उन्हें कभी महल कहा गया है, जो कि सही है अगर वे प्रतिष्ठित व्यक्तियों के निवास के रूप में काम लाये जाते, लेकिन अनेक उदाहरणों में उन्हें निवासगृहों के समूहों में विभाजित कर दिया जाता था । इससे पता चलता है कि ये उन विभिन्न परिवारों के रहने के लिए भी इस्तेमाल किये जाते थे जिनमें आपस में खून का या साधारण जनजातीय रिश्ता था और जिनका अपना मन्दिर उनके अपने समूह के बीच ही होता था ।


कुछ नगर-भागों का सीमांकन वहां के निवासियों के व्यवसाय और उनके मूल निवास के अनुसार भी किया जाता था । ऐसे एक नगर-भाग के निवासी कुम्हारगीरी करते, तो दूसरे नगर-भाग के निवासी छोटी-छोटी मूर्तियाँ बनाते और तीसरे के निवासी लावा-कांच की वस्तुयें । हमें कुम्हारों, नगीनासाजों, शंख, स्लेट, ईंटों तथा प्लास्टर की राजगीरी के काम करने वाले विशेषज्ञों के कलामय कारखानों की जानकारी है । हां, यह सत्य है कि कई दूसरे लोगों का कोई नामो-निशान भी न बचा ।


नगर के जिन हिस्सों में विदेशी रहते थे, वे विशेष दिलचस्प हैं - ओहाका की 'मध्य घाटी' के लोग जहां रहते थे, वह ध्यान देने योग्य है । यहाँ तक कि वहाँ 'मोंते अलबान' शैली का एक मकबरा भी मिला है जो तेओतिह्वाकान के लोगों के रिवाज से बाहर है क्योंकि वे मकबरा कभी बनाते ही नहीं थे, बल्कि या तो मृतक को यूं ही किसी गड्ढ़े में गाड़ देते या फिर जला देते थे - पुरातत्वविज्ञान के लिए अधिक खराब ।


350 से 650 ई. सन् के दौरान यह नगर अपनी पराकाष्ठा पर था । क्षेत्र नहीं बढ़ा लेकिन निर्माण इतना घना होता गया कि बहुत सम्भव है कि जनसंख्या 2,00,000 तक पहुँच गयी हो । लाखों-करोड़ों की आबादी वाले शहरों में रहने के आदी, हम लोगों को, यह संख्या मामूली दिखाई पड़ती हो, लेकिन सातवीं सदी में हमारी दुनिया की जो आबादी थी, वह आज की आबादी का एक अंश भर ही थी और शहरों के आकार नितान्त छोटे हुआ करते थे । रोम की प्राचीन भव्यता के खात्मे के साथ-साथ, उसकी जनसंख्या इतनी तेजी से गिरी कि दसवीं सदी में उसकी आबादी 10,000 से भी कम हो गई थी । 'कोन्स्तान्तिनोपल' (इस्तम्बूल) के सिवा यूरोप में कोई ऐसा बड़ा शहर नहीं था जिसकी आबादी 20,000 से ज्यादा रही हो । चीन के 'तांग-साम्राज्य' की राजधानी 'चानगान' को योजना के अनुसार, 'तेओतिह्वाकान' के आकार से कहीं बड़ा बनाया जाना था लेकिन शायद उस योजना को कभी भी पूरा न किया जा सका । जो भी हो, 'तेओतिह्वाकान' अपने समय का सबसे अधिक आबादी वाला शहर था । अफ्रीका और अमेरिका के दूसरे हिस्सों में उसकी बराबरी का कोई दूसरा बिल्कुल नहीं था ।


शहर का आकार और उसकी आबादी का घनत्व एक जटिल तथा मजबूत केन्द्रीय राज्य-संगठन की अपेक्षा करते थे । उतनी अधिक आबादी और उतने बड़े क्षेत्र पर आदिवासी समाज की पद्धतियों से शासन करना असम्भव ही होता । तेओतिह्वाकान का समाज विभिन्न सामाजिक वर्गों से बना था । सबसे नीचे का वर्ग घिरे हुए भाग में रहता था, ये शिल्पकार और छोटे सौदागर जैसे लोग थे । वे अब भी पुराने पारिवारिक सम्बन्धों में एक दूसरे से जुड़े थे और उनकी जमीन संजायती होती थी, यदि वे किसान थे । फिर भी, तेओतिह्वाकान लोगों के क्षेत्र देहाती होने के बजाय कहीं अधिक शहरी थे । शहर के ये चार हिस्से, शायद पुराने आदिवासी संगठन के विभाजन की याद दिलाते थे । सबसे छोटा समूह परिवार का होता था जो अपने घर या किसी कोठरी में रहता था । दूसरा, कई परिवारों का एक नगर-हिस्सा होता और तीसरा शहर के वे चार हिस्से होते, जिनमें प्रत्येक हिस्से में कई नगर-हिस्से होते । तीन हिस्सों में बंटे इस समाज का सरताज वह साम्राजिक-समाज था जिसके हाथ में सत्ता, ज्ञान और धार्मिक विशेषाधिकार था । लेकिन साम्राजिक-समाज और नगर-हिस्सों के बीच तीन समूह और थे जिनकी स्थिति यूं तो अज्ञात है, लेकिन जो समाज की सीढ़ी पर काफी ऊंचे थे ।


पहला समूह उन व्यापारियों का था जो अपनी बनायी हुई साधारण चीजों का प्रदर्शन बाजार के दिन नहीं करते थे, बल्कि दूर-दूर यात्राओं पर निकलकर विभिन्न चीजों का आयात-निर्यात करते थे । नष्ट होने वाली चीजें तो लुप्त हो गयीं और उनका प्रमाण हमें केवल भित्ति-चित्रों में ही मिलता है, जैसे - कोको, कपास और केटसोल (मध्य अमेरिका का एक सुन्दर पक्षी) के पंख । जेड और दूसरे कीमती पत्थरों से बनी हुई विलासिता की कुछ चीजें बची हुई हैं । इन शक्तिशाली व्यापारियों ने राज्याधीन जनता से कर भी वसूल किया होगा ।


दूसरा समूह सिपाहियों का था जिनका चित्रण बहुत ही कम दिखायी पड़ता है हालांकि वे काफी महत्वपूर्ण रहे होंगे । अक्सर कहा गया है कि तेओतिह्वाकान एक ऐसा शान्तिपूर्ण मजहबी राज था जिसमें युद्ध लगभग नहीं के बराबर होते थे । हालाँकि युद्ध दीर्घकालीन स्थिति का न रहा हो, जो कि बाद में दिखायी पड़ता है, फिर भी यह अविश्वसनीय है कि इतना शक्तिशाली राज्य बगैर किसी सैनिक सुरक्षा के रहा हो या कि बगैर किसी सैनिक कार्यवाही के अपना राज्य-विस्तार कर सका हो । छिटपुट ही सही, लेकिन तेओतिह्वाकान की कला में कुछ ऐसे संकेत मिलते हैं जिनका सम्बन्ध युद्ध से ही है । एक भित्ति-चित्र में हथियार-बंद सैनिक दिखायी पड़ते हैं । और कई दृश्यों में मानव-बलि तथा पूजा-विधि में खून के प्रयोग के संकेत मिलते हैं । मेसोअमेरिका में उनके देवता को सबसे अधिक स्वीकार्य युद्ध के कैदियों की बलि ही थी । तेओतिह्वाकान में सैनिकवाद की स्पष्ट कमी का कारण इस बात पर आधारित हो सकता है कि सैनिक योद्धा और उसकी गतिविधियाँ सम्मानित नहीं थीं, जैसी कि वे बाद में रहीं । विजय का श्रेय पुरोहितों को जाता था क्योंकि युद्ध देवता ही जीतते थे ।


तीसरा और सबसे महत्वपूर्ण समूह पुरोहितों का हुआ करता था । अपने धार्मिक क्रियाकलाप के अतिरिक्त, वे उच्चतम संस्कृति तथा ज्ञान से सम्पन्न थे । वे भवनों के खाके तैयार करते, उत्सवों और धार्मिक अनुष्ठानों के दिन बिताते । समय की गणना और पंचांग बनाने का काम भी वे ही करते, जिसके लिए उन्हें खगोल विज्ञान और गणित में भी विशेषज्ञ होना जरूरी होता था । शायद, केवल वे ही लिखना-पढ़ना जानते थे और बड़े-बड़े भित्ति-चित्रों का निर्माण भी उन्हीं की देख-रेख में होता था । यही वजह है कि उनकी कथावस्तु हमेशा ही धार्मिक कथावस्तु से सम्बद्ध होती थी और सभी का केन्द्र धर्म ही हुआ करता था । निकट या दूर से लोग तेओतिह्वाकान में सिर्फ व्यापार के लिए ही नहीं आते थे, बल्कि इसलिए भी कि वे इसकी भव्यता से आकर्षित थे । यह शहर सौन्दर्यबोध और भावपूर्ण आकर्षण का स्थल बन चुका था जिसे तेओतिह्वाकान-धर्म इतने लम्बे समय तक संजोये रहा । सर्वशक्तिमान उन देवताओं का आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए अनेक तीर्थयात्री आया करते, जिन्होंने इतना ऐशवर्य सम्भव कराया और इन तीर्थयात्रियों ने ठीक आज के पर्यटकों की तरह, इस शहर की समृद्धि में भी हाथ बँटाया ।


यह बात निर्विवाद है कि यह सामजिक वर्गों और पेशेवर समूहों में बँटा, एक राजनैतिक तन्त्र द्वारा शासित और काफी जटिल अर्थव्यवस्था वाला, वास्तव में तेओतिह्वाकान एक ऐसा शहरी समाज था जिसके निर्माण की प्रक्रिया का हमें कोई अन्दाज नहीं है । यानी इसका अर्थ यह हुआ कि हम एक समूची सभ्यता का सामना कर रहे हैं ।


सन् 600 से 700 के दौरान, तेओतिह्वाकान को आक्रमण, आगजनी और लूटपाट ही नहीं भोगनी पड़ी, बल्कि किसी हद तक वह जानबूझकर ध्वस्त किया गया । आग की आखिरी लपटों का निशाना 'काय्या दे लोस म्वेर्तोस' के किनारे स्थित अनेक मन्दिरों और विशेषकर 'केतसालपापालोत्ल' जैसे भव्य पुरोहिती महल पर बिल्कुल साफ-साफ दिखाये पड़ते हैं । यहाँ, आक्रमणकारी केवल इसकी छत को जलाकर ही सन्तुष्ट नहीं हुआ, बल्कि उसने देवताओं की शकलों के साथ तराशे गये अदभुत खूबसूरत खम्भों को भी उखाड़ डाला और उसके पत्थरों को चौक के एक खड्डे में दबा डाला । ठीक उसी तरह 'चन्द्र-पिरामिड' की सीढ़ी के विशाल पत्थरों को भी इरादतन तितर-बितर कर डाला गया और उन पत्थरों को - आज जो कि उनके वास्तविक स्थान पर पुनः रखे जा चुके हैं - चौक में इधर-उधर बिखेर दिया गया । अनेक कीमती भेंटों - जिन्हें निर्माण के दौरान मन्दिर के सामने प्रतिस्थापित किया जाता था - को इस तरह लूट लिया गया कि आज उनके खाली बक्से ही बच पाये हैं ।


प्रकृति और मनुष्य की लूटखसोट की आगामी तेरह सदियों की अपेक्षा इस महान शहर को लूटपाट ने कहीं अधिक नुकसान पहुँचाया । हम मेसोअमेरिका को हिला देने वाली इस घटना के कारणों से परिचित नहीं हैं, न उस आक्रमणकारी से जिसने आक्रमण किया था और न उससे कि यह सब कैसे घटित हुआ । यह स्पष्ट है कि तेओतिह्वाकान ने, अपनी कीर्ति के आखिरी वर्षों में, शहर का अपना कुछ हिस्सा खोना शुरू कर दिया था । और सबसे महत्वपूर्ण क्षेत्र - प्वेब्ला घाटी - ऐसा प्रतीत होता है कि कुछ नये लोगों द्वारा हथिया लिया गया था । इस प्रकार, इसके अधिक दूर के क्षेत्रों से सम्बन्ध भी या तो टूट गये या क्षीण होने लग गये ।


यह बहुत सम्भव है कि शहर की आन्तरिक कमजोरी का कारण, जिसके बगैर इसका पतन सम्भव प्रतीत नहीं होता, वहाँ बसे भिन्न-भिन्न किस्म के समूह ही थे । इन्हीं में से कुछ दूसरों के अधीन रहने से असन्तुष्ट रहे होंगे । लेकिन इस बात के संकेत मिलते हैं कि प्रमुख कारण सभी शक्तियों का केन्द्र शहर बन जाना था जिसकी वजह से शासकों के प्रति जनता का विद्रोह पनपा । पृथ्वी पर देवताओं के प्रतिनिधि अल्पसंख्यक थे जो कि बाद में रचनाशीलता छोड़कर अत्याचारी हो गये । इन पादरियों ने - जिन्होंने प्रारम्भ में संस्कृति और भौतिक विकास को, अदभुत कलाकृतियों का सृजन कर, पूरी गति के साथ आगे बढ़ाया था - एक बार जीती हुई शक्ति को बरकरार रखने के अलावा कुछ सोचा ही नहीं । फलतः अपनी जिद तथा आन्तरिक शक्ति के अभाव में वे उन प्रथम व्यक्तियों के शिकार हो गये जिन्होंने उस शहर पर हमला बोलने की हिम्मत की ।


ये साहसी योद्धा शहर के उत्तर और उत्तर-पूर्व में 'ओतोमीके' लोग रहे होंगे । वे निश्चय ही खानाबदोश नहीं थे और मेसोअमेरिका से उनके पुराने सम्पर्क ने उनकी संस्कृति को इस स्तर तक ऊपर उठाया था - जिसके कारण वे तेओतिह्वाकान जैसे एक शक्तिशाली और संगठित देश को पराजित करने की पर्याप्त शक्ति से सम्पन्न थे ।


जलवायु में परिवर्तन जैसे प्राकृतिक कारणों के बारे में भी काफी कहा जा चुका है जिन्होंने शुष्क जलवायु को जन्म देकर कृषि की सम्भावनाओं को सीमित कर डाला था । हालाँकि इसके अतिरिक्त कई सदियों तक पेड़ों को निरन्तर काटे जाने से पहाड़ियों के जंगल नष्ट हो गये थे, और भू-स्खलन से ग्रस्त और उजाड़ हो गये थे ।


विनाश के जो भी उद्देश्य तथा कर्ता रहे हों, सच्चाई यही है कि तेओतिह्वाकान के साथ-साथ उसकी महान् संस्कृति भी काल के गर्त में समा गयी । लेकिन यह अपार सम्पत्ति छोड़ती गयी जिसका प्रभाव अब तक स्पष्ट परिलक्षित है और उसने एक ऐसी कथा की रचना की जिसका प्रभाव स्पेन की चढ़ाई तक शायद ही सीमित रहा ।


तेओतिह्वाकान के पतन के बाद एक ऐसा चक्र शुरू हुआ जिससे उन्नीसवीं सदी के दौरान 'मोंते अलबान' (Monte Alban) और महान् 'माय्या काल' के सभी केन्द्र समाप्त हो गये । तेओतिह्वाकान के बहुत से निवासी दूसरी जगहों पर जाकर बस गये और अपने साथ अपनी संस्कृति भी ले गये और नये-नये शहरों की बुनियाद जमाते गये । लेकिन, शहर पर विजय हासिल करने वालों ने मिट्टी के आँगन और घरों के टूटे-फूटे खंडहरों में अपनी सत्ता स्थापित की और बचे हुए तेओतिह्वाकान के लोग इन विजेताओं के साथ अवश्य घुल-मिल गये होंगे । दोनों की इस मिश्रित संस्कृति से ही मेक्सिकी इतिहास का वह नया काल शुरू होने वाला था जिसे 'तोल्तेक' (Toltec) के नाम से जाना जाता है । दरअसल, नवागन्तुक लोगों ने तेओतिह्वाकान के लोगों से वे अनेक सांस्कृतिक प्रवृत्तियाँ ग्रहण कीं जो बाद में 'मेशिका' (Mexica) के लोगों तक पहुँची । संस्कृतिकरण की इस प्रक्रिया के दौरान, मेसोअमेरिका के अपने विशिष्ट गुण के अनुसार, नवागन्तुक अपना मूल भूल गये और केवल इतना ही महसूस नहीं करने लगे कि असल वंशज स्वयं वही थे, बल्कि यह भी कि भूतकालीन यश के प्रतिनिधि भी थे ।


इसके साथ, इतिहास पौराणिक कथा में बदल जाता है - एक ऐसे पौराणिक विगत में जिसमें इस महान शहर का निर्माण मनुष्यों ने नहीं बल्कि दानवों और स्वयं देवताओं ने किया था । इस बात का स्पष्टीकरण उन विशाल अवशेषों को दिये गये नाम में मिलता है । 'तेओतिह्वाकान' का अर्थ होता है देवस्थान या वह जगह जहाँ देवताओं की रचना की जाती है । 'पाँचवां सूर्य' वाली पौराणिक कथा भी इसी देवात्वरोपण की प्रक्रिया का हिस्सा है ।


इस पौराणिक कथा के अनुसार 'चौथे सूर्य' के काल में तेओतिह्वाकान का अस्तित्व था (पिछले तीन सूर्यों का काल पहले ही समाप्त हो चुका था)। जब तेओतिह्वाकान का पतन हुआ, तो उसके साथ मनुष्य भी समाप्त हो गये और चूँकि अब देवताओं की पूजा करने वाला कोई बचा नहीं था, इसलिए वे भी हताशा में थे । वे तेओतिह्वाकान में इकट्ठा हुए और उनमें से एक ने सूर्य का रूप धारण किया तथा दूसरे ने चन्द्र का । यही हमारे ऐतिहासिक काल के वे दो देवता हैं जो अभी तक हमें प्रकाश दे रहे हैं ।


यही पौराणिक कथा यह भी बताती है कि क्यों 'मोक्तेसूमा-द्वितीय' (Moctezuma-II) प्रति वर्ष तेओतिह्वाकान की तीर्थयात्रा पर निकलता था और क्यों उसने सूर्य के पिरामिड के समीप ही एक मन्दिर बनाने का आदेश दिया था । वह इन्हीं अपरिचित लेकिन शक्तिशाली तेओतिह्वाकान देवताओं को प्रतिष्ठित करने की इच्छा रखता था ।


यद्यपि तेओतिह्वाकान अपने अपकर्षकाल में था तथापि कम-से-कम, उपनिवेशकाल के शुरू तक वह एक स्पृहणीय पुरस्कार था और 'तेक्सकोको' (Texcoco) शासक इसके अधिकार पर गर्व भी करते थे । जो प्रथम शहरी और सही अर्थों में सभ्य समाज के रूप में रहा था और जो आज मेक्सिको के रूप में है, निश्चय ही समुचित प्रतिष्ठा के योग्य था । तेओतिह्वाकान के साथ ही पर्वतीय प्रदेश की मूल सभ्यता भी पनपी । यही वह सभ्यता है जो हमें विरासत में मिली है और जो आज मेक्सिकी हो गयी है । वास्तव में, इसकी महान् विजय के बगैर स्वयं हम लोग ही समुद्री सतह से दो हजार दो सौ मीटर ऊँचे एक ऐसे क्षेत्र में न रहते होते जो तेओतिह्वाकान के समय से ही भू-राजनीति का विश्व-केन्द्र हो गया है और जिसे 'मेक्सिकी लोग' (Mexicanos) 'अनाह्वाक' (Anahuac) कहकर पुकारते थे ।


  • Chapter copied from book "मैक्सिको का संक्षिप्त इतिहास" (Pages 28-38)
  • Authors: Daniel Cosio Villegas, Ignacio Bernal, Alejandra Moreno Toscano, Louis Gonzalez, Eduardo Blankel, Lorenzo Moener
  • Translation in Hindi from original Spanish : प्रभाती नौटियाल
  • Published by : राजकमल प्रकाशन, नई दिल्ली (Pubished with the assistance of Directorate General of Cultural Affairs of the Ministry of Foreign Affairs, Mexico City)
  • First edition in Spanish : August 1973
  • First edition in Hindi : January 1982


  • © El Colegio de Mexico

Contributed to Jatland by : Dndeswal 09:37, 27 April 2008 (EDT)

References

  1. [1]
  2. http://en.wikipedia.org/wiki/Teotihuacan
  3. Millon (1993, p.34)
  4. Mathews and Schele (1997, p.39)
  5. Miller and Taube (1993, p.170)
  6. Millon (1993, p.24)
  7. Dndeswal
  8. Ram Lal Hala: Jat kshatriya Itihas, p. 83
  9. Dr Natthan Singh:Jat Itihas, p. 84
  10. Hukum Singh Panwar (Pauria):The Jats - Their Origin, Antiquity & Migrations, 1993, Manthan Publications, Rohtak, Haryana. ISBN 81-85235-22-8, p.353
  11. R.V. 6.4 2. 31. Jain, op. cit., p.48; R V. VI 45 31
  12. Dutt, Nripendra Kumar, op. cit., p.96 R V. VII 63
  13. Kalyanaramana, 1969:112
  14. Jain, Ram Chandra; The Most Ancient Aryan Society, Varanasi, 1964, p. 72; History of Mexico, Mexican Govt. Pbn., q. by Chaman Lal, Hindu America, 1956, p. 256
  15. Mackenzie, D.A.; Myths of Pre-columbian America, pp. 256,265f



Back to General Articles