Raja Hira Singh

From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search
The Nabha rulers genealogy
Genealogy of Phul

Raja Hira Singh (राजा हीरासिंह) (adopted son of Raja Bhagwan Singh)(b.1843, r.1871-1911)) was in the eighth generation of the Originator of the Phulkian Dynasty, Chaudhari Phul of Siddhu-Barad Jat clan.

Ancestors of Hira Singh

Phul’s descendants founded 3 States: Patiala, Jind and Nabha. Nabha was a state of Siddhu Jats founded by grandson of Chaudhary Phul Singh in 1755.

Tiloka had two sons namely, 1. Gurudutta 2. Sukh Chain. Sukh Chain's descendants ruled Jind state. Gurudatta's descendants ruled Nabha state. Gurudatta's only son was Surat Singh. Surat Singh died in 1742 prior to Gurudatta in 1744.

Surat Singh had two sons 1. Hamir Singh (1755-1783 ) and 2. Kapur Singh.


Hamir Singh's son Raja Jaswant Singh (1783-1840) became the ruler. He had two sons namely 1. Raja Devendra Singh and 2. Ranjit Singh.


Raja Devendra Singh had two sons namely, 1. Raja Bharpur Singh and 2. Raja Bhagwan Singh. Raja Bharpur Singh died in 1863 prior to Raja Devendra Singh. Raja Bhagwan Singh ruled from 1864-1871. He had no son, so he adopted Raja Hira Singh (1871-1911).

Raja Hira Singh (1843-1911)

Raja Hira Singh

Raja Hira Singh was 6th Raja of Nabha 1871/1911, G.C.S.I [1879], born 19th December 1843, son of Sardar Sukkha Singh of Badrukhan was installed on the gaddi of Nabha state on 10th August 1871. He was granted the titles of Raja-i-Rajgan and Maharaja by the British. He provided funds for the establishment of the Khalsa Printing Press at Lahore, supported the Khalsa College at Amritsar and promoted the reformist (Anand) form of Sikh marriage; married HH Rani Jasmer Kaur, died in 1921, daughter of Sardar Anokh Singh Longowalia, and had issue. He died on 25th December 1911 at Nabha. [1]

राजा हीरासिंह

नाभा के किले पर 8 फरवरी 1908 को हुए एक समारोह का चित्र

राजा हीरासिंह - गद्दी-नशीनी का उत्सव अत्यन्त समारोह के साथ समाप्त हुआ। आपने रियासत की सभी प्रकार उन्नति की और अंग्रेजी सरकार के भी मित्र बने रहे। रियासत की इम्पीरियल सर्विस ने समय-समय पर बहुत सी सेवाएं कीं। प्रजा के लिए आपने बहुत से मकान तैयार कराए। महाराज साहब का स्टेट का प्रबन्ध बड़ा उत्तम था जिससे प्रसन्न होकर टामकेन ने लेफ्टीनेण्ट गवर्नर सूबा पंजाब को लिखा था कि “जब इलाका जींद और पटियाला में लुटेरों का आतंक था, नाभा को ऐसी वारदातों से दूर रहने का सौभाग्य हासिल था। इसका कारण राजा हीरासिंह जी० सी० एस० आई० के सुप्रबन्ध का फल है।” आपने 40 वर्ष तक राज्य किया और 25 दिसम्बर सन् 1911 ई० में आपका स्वर्गवास हो गया जिससे सरकार का एक खैरख्वाह रईस और प्रजा का शुभ-चिन्तक प्यारा राजा सदा के लिए छिन गया।

राजा साहब हीरासिंह बड़े अच्छे चाल-चलन और पवित्र विचार और दयालु शासक थे। आपके 40 वर्ष के शासन-काल में स्टेट की बहुत उन्नति हुई। औषधालय, शिक्षणालय आदि का इन्तजाम भी किया गया। सरकार की ओर से जी० सी० एस० आई०, जी० सी० आई० ई० की उपाधि मिली थी। इनके एक राजकुमार थे, जिसका जन्म 1883 ई० में हुआ था।

References


Back to The Rulers