Raja Jaswant Singh

From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search
The Nabha rulers genealogy
Genealogy of Phul

Raja Jaswant Singh (राजा जसवन्तसिंह) (b.1775,r.1783-1840) of Nabha was in the fifth generation of the originator of the Phulkian Dynasty, Chaudhari Phul of Siddhu-Barar Jat clan.

Ancestors of Jaswant Singh

Phul’s descendants founded 3 States: Patiala, Jind and Nabha. Nabha was a state of Siddhu Jats founded by a grandson of Chaudhary Phul Singh in 1755.

Tiloka had two sons namely, 1. Gurudutta 2. Sukh Chain. Sukh Chain's descendants ruled Jind state. Gurudatta's descendants ruled Nabha state. Gurudatta's only son was Surat Singh. Surat Singh died in 1742 prior to Gurudatta in 1744.

Surat Singh had two sons 1. Hamir Singh (1755-1783 ) and 2. Kapur Singh.


Hamir Singh's son Raja Jaswant Singh (1783-1840) became the ruler. He had two sons namely 1. Raja Devendra Singh and 2. Ranjit Singh.

Raja Jaswant Singh

Raja Jaswant Singh was 2nd Raja of Nabha 1783/1840, born 1775, conducted protracted campaigns, first against Jind and then against Patiala, to regain disputed territory for his state, he entered into alliance with Lord Lake against Jaswant Rao Holkar in 1804, helped the British in the Gurkha war in 1814 as well as in the Kabul campaign in 1838, married 1stly, Rani Dya Kaur, a daughter of Sardar Jai Singh Nishanwalia of Lidhran, married 2ndly, Rani Chand Kaur, daughter of Sardar Ram Singh Dhillon, married 3rdly, Rani Ram Kaur, daughter of Sardar Bagh Singh Rallon, married 4thly, Rani Har Kaur, daughter of Sirdar Hari Singh of Jodhpur, married 5thly, Rani Dharam Kaur, daughter of Sardar Sujan Singh of Ghumon , and had issue. He died 22nd May 1840 at Nabha. [1]

The Raja offers his services during the Kabul campaign:

The Raja of Nabha offered his services to the British Government at the commencement of the Kabul campaign, and although they were necessarily declined, the Governor General thanked him for the friendly spirit which had prompted the offer.

The death of Raja Jaswant Singh, AD 1840

On the 22nd of May 1840, Raja Jaswant Singh, who had been for some time in a declining state of health, died, aged 66, and was succeeded by his only surviving son, Devindar Singh, then in his eighteenth year.§ The character of the Raja has been already described. However grasping and unscrupulous his conduct may have been towards his neighbours and rivals, he had always administered the affairs of his own State justly and well His policy was excellent, and his subjects were contented and had reason to lament his death.


* Secretary to Government to Agent Governor General 25th August 1838, and to Raja of Nabha of the same date. Agent Governor General to Sir G. Clerk, 8th September 1838, and to Secretary Government, 1st June and 11th August 1838.

Despatch No. 10 of Court of Directors 19th March 1840.

† Raja of Nabha to Governor General Governor General to Raja, dated 8th of November 1838, and to Sir G. Clerk of the same date.

§ Sir G. Clerk to Mr. Thomason, Agent Lieutenant Governor, 28th May 1840.


[Page-436]

His marriage:

Raja Jaswant Singh married five wives :

  1. Dya Kour. dauhter of Sirdar Jai Singh Lidhran ;
  2. Chand Kour, daughter of Sirdar Ram Singh Dhillon, who has lately died at a great age ;
  3. Ram Kour, daughter of Sirdar Bagh Singh Rallon ;
  4. Harkour, daughter of Sirdar Hari Singh of Jodhpur ; and, lastly,
  5. Dharam Kour, the daughter of Sirdar Sujan Singh of Ghumon.

Of these, Rani Dya Kour gave birth to Ranjit Singh and Rani Harkour to Devindar Singh.

The late Raja had been a faithful ally of the British Government. In 1804 he refused to assist Holkar against the English ; he gave assistance in supplies and carriage during the Gurkha campaign of 1810, and in that of Bikaner, in 1818 ; * and during the northward march of the British army to Kabul in 1838, he advanced a loan of six lakhs of Rupees to the Government.


[Page-437]

His early training and character:

The new Raja's character, the training he had received, and the circumstances of his succession did not promise a wise or successful administration. It was only after he had quarraled with Prince Ranjit Singh that Raja Jaswant Singh married the wife who gave birth to Devindar Singh. As this child grew up, the Raja's hatred for his elder son grew more intense, and his determination to disinherit him and leave the State to his younger and favorite son more confirmed.

This resolution was notorious, and in the dispute between father and son, the neighbouring Chiefs were involved, some taking one side and some the other. Devindar Singh was ten years old when his brother died, and from that time was the recognized heir to the throne. He had thus, from his earliest years, been surrounded by flatterers and parasites who desired to please his father, and, in order to accumulate every pretext for disinheriting Ranjit Singh, the greatest pains were taken with the education of his younger brother. When Devindar Singh became, when still a boy, the reigning Prince, his Brahman tutors, as was natural enough, retained their influence ; and filled his mind with an exaggerated estimate of his power, dignity and importance, till a character, which would otherwise have been distinguished for weakness alone, became repulsive from its arrogance and vanity, while the old feud which had for long existed between the rival houses of Pattiala and Jhind was revived with far greater bitterness than ever.


The installation of Raja Devindar Singh:

Devindar Singh was formally installed as Raja on the 5th of October 1840, the Agent of the Governor General being present. This was the first installation that had taken place in Nabha since the English connection with the States, and the Khillat conferred on the occasion was similar to that given to Raja Fatah Singh of Jhind in 1822, consisting of an elephant with jhul or trappings, a horse with a silver saddle, a Khillat of seven pieces, 3 rugums, and a sword and shield.§


* Captain Birch to Raja of Nabha, 20th July 1819.

† Captain Murray to Raja of Nabha, 6th November 1838.

§ Sir O. Clerk to Secretary to Government North Western Provinces 17th September 1840, and to Secretary to Government of India, 28th September 1840.

राजा जसवन्तसिंह

जाट इतिहास:ठाकुर देशराज लिखते हैं -

राजा जसवन्त सिंह (b.1775 -d.1840)

अपनी माता के देहान्त के पश्चात् जसवन्तसिंह (b.1775,r.1783-1840) ने रियासत का भार संभाला। रानी का प्रबन्ध ऐसा था कि कुछ दिन तक रियासत में उसी तरह शान्ति - अमन-चैन रहा। जसवन्तसिंह अन्य रईसों की भांति अंग्रेजों से मित्रता करने का अधिक इच्छुक न था। पर जब लार्ड लेक ने स्थान नमकलोटा पर अन्य रईसों से मित्रता का श्रीगणेश किया तो इसने भी समर्थन कर दिया था और जब होल्कर लाहौर जाते समय नाभा में ठहरा, तो जसवन्तसिंह ने स्पष्ट कह दिया कि “हम अंग्रेजों से मित्रता कर चुके हैं, इसलिए तुम्हारी कोई सहायता नहीं कर सकते।” लार्ड लेक ने राजा साहब जसवन्तसिंह को विश्वास दिलाया था कि जब तक तुम गवर्नमेण्ट के शुभचिन्तक रहोगे, तुम्हारे इलाकों में कमी न की जाएगी और न किसी तरह का खिराज लिया जाएगा।

राजा रणजीतसिंह से भी जसवन्तसिंह को 26 गांव जमा 26,660) और सात गांव पागना घोंगरना में से जमा 3350) के प्राप्त हुए थे। महाराज रणजीतसिंह जिस प्रकार प्रदेशों को विजय करता, उसी तरह वह अपने दोस्तों को दे भी दिया करता था। यह बात जींद के इतिहास और नाभा के इतिहास से अच्छी तरह प्रकट हो जाती है कि इन स्टेट की सीमा और आमदनी में महाराजा रणजीतसिंह के दिए परगनों से काफी वृद्धि हुई थी। हालांकि जसवन्तसिंह का व्यवहार रणजीतसिंह से भी था और सरकार से भी। इसलिए वह दोनों तरफ से ही अनुकूल वातावरण रखने की चेष्टा करता रहा। वह अंग्रेजी सरकार की ओर से उदासीन न रहा और जब कर्नल अकृरलोनी नाभा आया तो उनकी अच्छी तरह आवभगत की।

इस वक्त राजा जसवन्तसिंह का दरजा सतलज निकट की रियासतों से तीसरे नम्बर पर था। पहला नम्बर महाराजा पटियाला का था जिनकी आय 6 लाख से अधिक थी और दूसरा नम्बर भाई साहब कैथल का, जिनकी आय सवा दो लाख रुपया थी और तीसरा दर्जा नाभा का था, जिसकी आमदनी डेढ़ लाख रुपया थी। यद्यपि कलसिया वगैरह की आमदनी भी इसी कदर थी बल्कि सिपाही इससे अधिक थे, लेकिन तीसरा दर्जा नाभा का ही माना जाता था।

रियासत के इन्तजाम और राजा साहब की बुद्धिमानी का पता सर डेविड अकृरलोनी की इस तहरीर से अच्छी तरह लगता है जो उन्होंने गवर्नमेण्ट को अपनी रिपोर्ट में लिखी थी। अर्थात्

जसवन्तसिंह उन बड़े रईसों में से हैं जो हमारे शुभ चिन्तक हैं और उनके इन्तजाम और समझ उन रईसों की निस्बत जिनसे मैं अब

जाट इतिहास:ठाकुर देशराज, पृष्ठान्त-499


तक भेंट कर चुका हूं, अत्यन्त उत्तम है। इस रईस के बहुत से प्रदेशों को मैंने देखा है, उसमें खेती बहुत होती है और इस प्रदेश की हालात देखने से ज्ञात होता है कि यह रईस अपनी प्रजा के साथ सख्ती करने वाला नहीं है और प्रजा पर नम्रता-पूर्वक शासन करता है।”

जसवन्तसिंह ने गवर्नर-जनरल से पत्र-व्यवहार करके एक सनद इस आशय की भी प्राप्त कर ली थी कि वह अपने अधिकृत प्रदेश पर बदस्तूर कायम रहेगा।

Nabha Army Logo

पटियाला के तत्कालीन राजा साहबसिंह भोले थे, इसलिए रियासत का कारबार रानी आसकौर को इस शर्त पर हवाले किया गया था कि खास मौकों पर एजेण्ट, राजा सा० जींद, कैथल व नाभा से सलाह ले लिया करें। पर कहा जाता है कि जसवन्तसिंह के हृदय में पटियाला स्टेट के लिए शुभकामना न थी और वह रियासत की अवनति का इच्छुक था। सर लेपिल ग्रिफिन ने तो पटियाले के बारे में गजपतसिंह की मंशा के बारे में यहां तक लिखा है कि “उसकी यह इच्छा थी कि रियासत पटियाला टूट जाये क्योंकि इस रियासत के टूटने से उसको यह उम्मीद थी कि मेरे हाथ भी कुछ न कुछ हिस्सा आयेगा। इस तरह मेरा इलाका रियासत से ज्यादा हो जायेगा।” यह बात कहना कि उनकी इच्छा पटियाले को एकदम नष्ट-भ्रष्ट देखने की थी, चिन्त्य है। पर हां, कई कारण ऐसे हैं जिनसे ज्ञात होता है कि वे नष्ट करना नहीं तो उन्नत होना भी नहीं चाहते थे।

पटियाला और नाभा के बीच जो मनमुटाव और तकरार थी उसके कई कारण थे अर्थात् एक तो यह कि नाभा के राजा साहब अपने को चौधरी फूल के बड़े लड़के की औलाद होने से और पटियाला के छोटे बेटे के होने से जसवन्तसिंह अपने को बड़ा समझते थे और उधर पटियाला की आय और जागीर अधिक होने से पटियाला वाले अपने को बड़ा समझते थे। इसके अलावा गांव लुधी, अलीक ऐसे मौजे थे जिनके कारण भी यह तकरार बढ़ी थी। रियासत की हदों के कायम होने में भी एक दूसरे रईस का मत न मिलता था अर्थात् कई स्थान ऐसे थे जिन पर दोनों रियासतें अपना-अपना हक बतलाती थीं।

इन हक हकूकों के झगड़ों में कई ऐसे दावे थे, जिनमें राजा साहब नाभा का दावा न्याय्य था और जब मौजा कोसलहेड़ी इलाका पटियाला, फूलाशेरी इलाका नाम के तनाजा के फैसले के लिए पंच मुकर्रर किए गए थे, राजा साहब नाभा की तरफ ही फैसला दिया था और एक दूसरा झगड़ा कसबा भदोड़ और कांगड़ गांव की सरहद का था। भदौड़ सरदार दिलीपसिंह और वीरसिंह के अधिकार में था जो पटियाला के रिश्तेदार थे और कांगड़ नाभा के इलाके में था। इस मामले में भी नाभा का पक्ष सही था।

जसवन्तसिंह के सामने पटियाले के झगड़ों की दिक्कतें ही न थीं, उसके यहां गृह-युद्ध की आग भी सुलग चुकी थी अर्थात् उनका बड़ा लड़का कुंवर रणजीतसिंह


जाट इतिहास:ठाकुर देशराज, पृष्ठान्त-500


कुछ कुचक्रियों के बहकावे में आकर सन् 1819 में ऐलानिया बागी हो गया। वह अपने विद्रोही विचार से तब हटा जबकि पोलिटिकल एजेण्ट ने रौबदाब से काम लिया। जब उसने विश्वास दिलाया कि आइन्दा ऐसा न होगा तो उसकी जब्त जागीर लौटा दी जाएगी। परन्तु पिता-पुत्रों का यह व्यवहार कुछ दिन तक ही रहा और फिर सन् 1822 में राजा साहब ने इस अपराध से कि रणजीतसिंह मेरे विरोध में षड्यंत्र रच रहा है जो गांव उसके गुजारे के लिए दिए थे, उनको जब्त कर लिया।

सन् 1824 ई० में जसवन्तसिंह ने स्पष्ट प्रकट किया कि मेरा बड़ा लड़का रणजीतसिंह मेरे मारने का षड्यंत्र कर रहा है, इसलिए इसकी सन्तान और यह मेरे राज्य के अधिकारी नहीं होंगे। इस अपराध के सम्बन्ध के कई सबूत भी पेश किए। परन्तु जब यह मुकदमा गवर्नर-जनरल के सामने पेश हुआ, तो उन्हें इसके समर्थन का कोई विशेष सबूत न मिला कि रणजीतसिंह कोई षड्यंत्र राजा साहब की मृत्यु के लिए कर रहा है। इसलिए उन्होंने आज्ञा दी कि कुंवर रणजीतसिंह पर नजरबन्दी व रोक-टोक न की जाये। इस आज्ञा से राजा साहब जसवन्तसिंह को सन्तोष न हुआ।

यह बिल्कुल सही है कि कुंवर रणजीतसिंह का चाल-चलन ठीक न था। उसका दिमाग ठिकाने न था। वह बहुत अपव्ययी था। पर उस पर राजा साहब के मारने के षड्यन्त्र का अपराध सिवाय भ्रम के कुछ न था। इसीलिए इसकी जांच करने पर यह एक मिथ्या साबित हुआ। लेकिन इसके मुकदमे के पश्चात् अधिक समय तक वह जिन्दा न रहा और 17 जून 1732 को कोपतरेड़ी में जहां सरदार गुलाबसिंह शहीद, जिसकी साली से इसका विवाह हुआ था, रहा करता था मर गया। रणजीतसिंह ने तीन शादियां की थीं। उसकी मृत्यु के पश्चात् इस आधार पर कि बाप और उसमें कई दिन से मनोमालिन्य चला आ रहा था, उसकी रानियों ने राजा साहब जसवन्तसिंह पर आरोप लगाया। इसी तरह का इलजाम, दो वर्ष पहले रणजीतसिंह पर लगाया गया था जब उसका इकलौता बेटा संतोखसिंह मर गया था, कि उसके दादा ने उसे मरवा दिया है। परन्तु ये आरोप कोई खास सबूत न रखते थे। इसलिए यह मुकदमा डिसमिस हो गया।

सन् 1827 में लधरान और सोन्ती के सरदारों ने जो रियासत नाभा की देखरेख में जागीरदार थे, एजेण्ट गवर्नर-जनरल देहली से राजा साहब नाभा के जुल्म करने की बड़ी शिकायत की और बतलाया कि हमसे अपने जेलदारों की तरह बर्ताव करता है। लधरान से 50 और सोन्ती से 70 सवार हमेशा के वास्ते तलब करता है और ऐसी आज्ञायें देता है जो हमको बिलकुल पसन्द नहीं। क्योंकि हम कोई जेलदार नहीं हैं, जो राजा साहब इस तरह का व्यवहार करें। पोलीटिकल एजेण्ट अम्बाला ने इस मुकदमे में राय दी कि “यह बात आवश्यक और न्याय की


जाट इतिहास:ठाकुर देशराज, पृष्ठान्त-501


है कि यह सिख सरदार राजा साहब नाभा की खिदमत के वास्ते बदस्तूर सवार देते रहें। परन्तु जब राजा साहब उन पर सख्ती करें तो उससे भी बचाना चाहिए...।” मगर रेजीडेण्ट देहली ने इस राय को उचित न समझा और कहा कि लधरान और सोन्ती के सिख नाभा के अधीनस्थ समझे जायें और गवर्नमेंट का इसमें हस्तक्षेप न होना चाहिए क्योंकि इससे राजा साहब के रुतवे में फरक आता है। पर यह सिख सरदार रियासत नाभा का अपने ऊपर कुछ हक न मानते थे और जिन दस्तावेजों से यह हक साबित होता था, जाली बतलाते थे।

यह सिख-सरदार पहले नाभा की मातहई में न थे, बाद में आये थे। इस समय ऐसा कोई उनके पास सबूत न था कि वे उससे बिलकुल बरी हो सकें। सन् 1836 में सर जार्ज क्लार्कलोनी ने इस मुकदमे की छानबीन कर अपनी रिपोर्ट पेश की, जिससे यह जाना गया कि यह समाचार पहले से नाभा के मातहती में तो नहीं पर सरकार के सामने स्पष्ट सबूत था कि वे राजासाहब नाभा को सिपाही देते आ रहे हैं। इसलिए ऐसा रास्ता सोचा गया कि दोनों पक्ष स्वीकार कर लें और यह न सोचें कि सरकार उनको तंग करना चाहती है। फलस्वरूप सरकार ने निर्णय लिया कि - “जब राजासाहब नाभा के यहां कुंवर उत्पन्न हो या किसी लड़के या लड़की की शादी हो अथवा किसी रईस की मृत्यु का अवसर हो या इत्तफाक से कोई लड़ाई पेश आये, उस वक्त इन सरदारों से सेनायें ली जायें और हमेशा न ली जायें।”

इधर कितने ही समय से राजा साहब बीमार रहने लगे थे और रोग बढ़ता ही गया, जिससे 22 मई, सन् 1840 को 66 वर्ष की उम्र में देहावसान हो गया। राजा जसवन्तसिंह का शासन अत्यन्त उत्तम था। प्रजा उनसे बहुत प्रसन्न रहती थी। राजासाहब के पांच रानियां थीं, जिनमें एक से रणजीतसिंह जिसका हाल पहले आ चुका है, और रानी हरकुंवरि से देवेन्द्रसिंह पैदा हुए। 18 वर्ष की आयु में वह स्टेट के अधिकारी हुए।

References


Back to The Rulers