Chahar Deo

From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search

Raja Chahar Deo ruled at the Narwar fort in Gwalior region at the end of 13th century. Coins of Chahar Deo are found in the region with "Asawar Sri Samant Deo" marked on one side and "King riding horse" on the other side. Raja Chahar Deo ruled Narwar till vikram samwat 1355.

Chahars Moved out of Narwar

After the fall of his rule at Narwar his descendents moved to "Brij Bhumi" region of Uttar Pradesh. Other group of Chahar Jats moved to Matsya and Jangladesh regions of Rajasthan.

राजस्थान में चाहर गोत्र

  • ऋषि - भृगु
  • वंश - अग्नि
  • मूल निवास - आबू पर्वत राजस्थान। शिव के गले में अर्बुद नाग रहता है उसी के नाम पर इस पर्वत का नाम आबू पर्वत पड़ा।
  • कुलदेव - भगवान सोमनाथ
  • कुलदेवी - ज्वालामुखी
  • पित्तर - इस वंश में संवत 1145 विक्रम (सन 1088 ई.) में नत्थू सिंह पुत्र कँवरजी पित्तर हुए हैं, जिनकी अमावस्या को धोक लगती है। इस वंश की बादशाह इल्तुतमिश (r. 1211–1236) (गुलाम वंश) से जांगल प्रदेश के सर नामक स्थान पर लड़ाई हुई।

राजा चाहर देव - इस लड़ाई के बाद चाहरों की एक शाखा नरवर नामक स्थान पर चली गयी। सन् 1298 ई. में नरवर पर राजा चाहरदेव का शासन था। यह प्रतापी राजा मुस्लिम आक्रांताओं के साथ लड़ाई में मारा गया और चाहर वंश ब्रज प्रदेश और जांगल प्रदेश में बस गया। इतिहासकारों को ग्वालियर के आस-पास खुदाई में सिक्के मिले हैं जिन पर एक तरफ अश्वारूढ़ राजा की तस्वीर है और दूसरी और अश्वारूढ़ श्रीसामंत देव लिखा है। इतिहासकार इसे राजा चाहरदेव के सिक्के मानते हैं।[1]

References

  1. अनूप सिंह चाहर, जाट समाज आगरा, नवम्बर 2013, पृ. 26-27

Back to The Rulers