Somnath

From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search
Somnath temple

Somnath (Hindi: सोमनाथ मन्दिर, Gujarati: સોમનાથ મંદિર ) is the site of Temple in Junagarh district in Gujarat. It is one of the twelve Jyotirlinga shrines of the god Shiva.

Location

It is located in the Prabhas Kshetra about 5 km from Veraval in Saurashtra, on the western coast of Gujarat, India.

History

Somnath means "The Protector of (the) Moon god". The Somnath Temple is known as "the Shrine Eternal", having been destroyed many times by Islamic kings and rulers. Most recently it was rebuilt in November 1947, when Sardar Vallabhbhai Patel visited the area for the integration of Junagadh and mooted a plan for restoration. After Patel's death, the rebuilding continued under K. M. Munshi, another minister of the Government of India.

During prehistorical period this place was inhabited by non-Aryan people known by the name Minur, which in Persian language means strong light.

Later on Suryavanshi Aryans settled here and renamed it Arkatirtha (अर्कतीर्थ) or Bhaskaratirtha (भास्करतीर्थ).

Later when Chandravanshi Kshatriyas occupied this area the called it Somatirtha (सोमतीर्थ).

When Chandravanshi and Suryavanshi Kshatriyas united they called it Prabhasa Tirtha (प्रभासतीर्थ) {Mahabharata: (I.60.17), (1.66), (I.60.19), (1.66), (III.80.77)}.

Mahabharata mentions it Anartasara (आनर्तसार ) in addition to above names.

Skanda Purana mentions it as Saraswati Tirtha and Shivapatan.

Ancient Gujarati literature describes it as Prabhasaka Devapatan, Prachi Patan etc. The inscriptions mention Somapura (S.V. 1220), Haranagara (S.V. 1272), Shivanagara (S.V. 1275), (S.V. 1220), Vilvilpur Patan (S.V. 1320), Surapatan (S.V. 1328), Somnathpuram (S.V. 1437) etc.[1]

According to an inscription of S.V. 1225 found at Bhadrakali temple in Prabhas Patan this temple was built by Somadeva. Later Rishi Pulastya's grandson named Rawana built a silver temple and after performing Rajsuya Yagya of Yudhisthira, Krishna built it by Sandal wood. During Ashoka's time it was Somnath Mahadeva temple. [2]

The second temple, built by the Yadava kings of Vallabhi in Gujarat, replaced the first one on the same site around 649 CE.

In 725 CE Junayad, the Arab governor of Sind, sent his armies to destroy the second temple.

The Gurjara Pratihara king Nagabhata II constructed the third temple in 815, a large structure of red sandstone.

In 1024, the temple was destroyed by the Muslim prominent ruler, Mahmud of Ghazni,[3][4] who raided the temple from across the Thar Desert. The temple was rebuilt by the Gujjar Paramara King Bhoj of Malwa and the Solanki king Bhimadev I of Anhilwara, Gujrat (present day Patan) between 1026 and 1042. The wooden structure was replaced by Kumarpal (r.1143-72), who built the temple of stone.[5][6]

In 1296, the temple was once again destroyed by Sultan Allauddin Khilji's army,[7] and Raja Karan of Gujarat was defeated and forced to flee. According to Taj-ul-Ma'sir of Hasan Nizami, the Sultan boasted that "fifty thousand infidels were dispatched to hell by the sword" and "more than twenty thousand slaves, and cattle beyond all calculation fell into the hands of the victors,". The temple was rebuilt by Mahipala Deva, the Chudasama king of Saurashtra in 1308 and the Linga was installed by his son Khengar sometime between 1326 and 1351.[8]

In 1375, the temple was once again destroyed by Muzaffar Shah I, the Sultan of Gujarat.[9]

In 1451, the temple was once again destroyed by Mahmud Begda, the Sultan of Gujarat.[10][11]

In 1701, the temple was once again attacked by Mughal Emperor Aurangzeb. As he was staring at the temple his crown fell off which infuriated him. Taking this as his condemnation he tried to destroy but fail to do so. And left it half ruined. Later the temple was rebuilt to its same glory adjacent to the ruined one.

Later on a joint effort of Peshwa of Pune, Raja Bhonsle of Nagpur, Chhatrapati Bhonsle of Kolhapur, Queen Ahilyabai Holkar of Indore & Shrimant Patilbuwa Shinde of Gwalior rebuilt the temple in 1783 at a site adjacent to the ruined temple.

Before independence, Prabhas Pattan was part of the princely state of Junagadh, whose ruler had acceded to Pakistan in 1947. After India refused to accept his decision, the state was made a part of India, and the Deputy Prime Minister of India, Sardar Vallabhbhai Patel came to Junagadh on November 12, 1947 to direct the stabilization of the state by the Indian Army and at the same time ordered the reconstruction of the Somanath temple.

In Chauhan records

Dasharatha Sharma in "Early Chauhan Dynasties" [180-191] writes about Jalor Chauhan ruler - Samantasimha and Kanhadadeva.

Samantasimha - [Page-180] The inscriptions of Samantasimha range from V. 1339 to 1362 and show Samantasimha ruling over almost the same territories as his father,Chachigadeva. Of Samantasimha's 16 inscriptions, four come from Bhinmal, three from the state of Sirohi, and the rest from various parts of the Jodhpur division of Rajasthan. About V. 1353, he associated his son, Kanhadadeva , with himself in the government of Jalor; The Jalor inscription of Samantasimha, V. 1353, refers itself to the reign of Maharajakula Sri-Samvatasimha, while Kanhadadeva was subsisting on his lotus like feet and bearing the burden of administration (EI, XI, pp. 61f.). Similarly the Chohtan inscription V. 1356, speaks of Maharajakula Sri-Samvatasimhadeva and Rajan Kanhadadeva.

In V. 1353 (1296 AD) the ruler on the throne of Delhi was Firuz's nephew and assassinator, Ala-ud-din Khalji, perhaps the greatest of Sultans of Delhi, whose avowed ambition was to end all Hindu principalities and kingdoms, and who had been advised by his trusted counselors to treat the Hindus as no better than slaves. Samantasimha of Jalor does not appear to


[Page-181] have been a man gifted or capable enough to fight against such a redoubtable adversary. It was good that he realised the need of some assistance, and acting probably on the advice of his people put the real direction of the affairs of the state into the hands of Kanhadadeva, then perhaps a young man of twenty five years or so.

Kanhadadeva - Kanhadadeva had not to wait long for a chance to prove his mettle. In the third year of his joint reign, i.e., 1298 A.D., Alauddin decided to conquer Gujarat and destroy the temple of Somanatha. As the best route for his army lay through Marwar, he despatched a robe of honour to Kanhadadeva and desired that he should permit the Khalji forces to pass through his territory. Worldly wisdom should have dictated instant submission to the imperial orders. But to the brave Kanhadadeva svadharma mattered more than worldly pleasures, or a kingdom or even his life. He therefore sent back Alauddin's messenger with the blunt answer,

"Your army would, on its way, sack villages, take prisoners, molest women, oppress Brahmanas and slay cows. This being against our dharma, we cannot accede to your request."

Though the refusal must naturally have angered Alauddin,he took no immediate steps against Jalor. The Khalji army, commanded by Ulugh Khan and Nusrat Khan, marched instead through Mewar. Like a storm of extreme fury, it laid low every state, every chiefship, every principality that lay across its path, conquered very soon the whole of Gujarat and Kathiawar, and destroyed the temple of Somanatha, in spite of the gallant opposition offered by the Jethava (जेठव), Vala (वला), Baja (बाजा) and Chudasama (चुडासामा). And then on its way back to Delhi, Ulugh Khan, either on his own initiative or acting on


[Page-182] instructions beforehand by Alauddin, decided to punish Kanhadadeva for the affront to Khalji authority. Victorious every where he marched through the Jalor. When the Khalji army reached Sakrana (tah-Ahore), a village 18 miles from Jalor, Kanhadadeva’s chief minister, Jaita Devada, conveyed his master’s message to Ulugh.


[Page-183] In a well planned raid led by Jaita Devada, Nusrat Khan’s brother, Malik Aizudin and a nephew of Alaudin were slain. Ulugh Khan barely escaped his life. They liberated thousands of Hindu prisnors and the rescue of an idol of Somanatha which was being carried to Delhi.


[Page-184] Kanhadadeva had its five fragments installed respectively at Prabhasa, Bagada, Abu, Jalor and his own garden. This rescue of Somanatha forms in the popular mind Kanhadadeva's best and greatest title to greatness.

सोमनाथ मन्दिर

सोमनाथ मंदिर एक महत्वपूर्ण हिन्दू मंदिर है जिसकी गिनती 12 ज्योतिर्लिंगों में होती है । गुजरात के सौराष्ट्र क्षेत्र के वेरावल बंदरगाह में स्थित इस मंदिर के बारे में कहा जाता है कि इसका निर्माण स्वयं चन्द्रदेव ने किया था । इसका उल्लेख ऋग्वेद में भी मिलता है । इसे अब तक 17 बार नष्ट किया गया है और हर बार इसका पुनर्निर्माण किया गया ।

सोमनाथ का बारह ज्योतिर्लिगों में सबसे प्रमुख स्थान है। सोमनाथ मंदिर विश्व प्रसिद्ध धार्मिक व पर्यटन स्थल है। मंदिर प्रांगण में रात साढे सात से साढे आठ बजे तक एक घंटे का साउंड एंड लाइट शो चलता है, जिसमें सोमनाथ मंदिर के इतिहास का बडा ही सुंदर सचित्र वर्णन किया जाता है। लोककथाओं के अनुसार यहीं श्रीकृष्ण ने देहत्याग किया था। इस कारण इस क्षेत्र का और भी महत्व बढ गया। ऐसी मान्यता है कि श्रीकृष्ण भालुका तीर्थ पर विश्राम कर रहे थे। तब ही ज़रा नाम के शिकारी ने उनके पैर के तलुए में पद्मचिन्ह को हिरण की आंख जानकर धोखे मेंभल्लबाण मारा था। तब ही कृष्ण ने देह त्यागकर यहीं से वैकुंठ गमन किया। इस स्थान पर बडा ही सुन्दर कृष्ण मंदिर बना हुआ है।

इतिहास: सागर तट से मंदिर का दृश्य सर्वप्रथम एक मंदिर ईसा के पूर्व में अस्तित्व में था जिस जगह पर द्वितीय बार मंदिर का पुनर्निर्माण सातवीं सदी में वल्लभी के मैत्रक राजाओं ने किया । आठवीं सदी में सिन्ध के अरबी गवर्नर जुनायद ने इसे नष्ट करने के लिए अपनी सेना भेजी । प्रतिहार राजा नागभट्ट ने 815 ईस्वी में इसका तीसरी बार पुनर्निर्माण किया । इस मंदिर की महिमा और कीर्ति दूर-दूर तक फैली थी । अरब यात्री अल-बरुनी ने अपने यात्रा वृतान्त में इसका विवरण लिखा जिससे प्रभावित हो महमूद ग़ज़नवी ने सन 1024 में सोमनाथ मंदिर पर हमला किया, उसकी सम्पत्ति लूटी और उसे नष्ट कर दिया ।

1024 के दिसम्बर महिनेमें मुहमद गजनवी ने कुछ 5000 साथीयोंके साथ लूट चलाकर स्वयं इस मंदिर के लिंग के नाश करने में महत्व का भाग लिया। 50000 लोग मंदिर के अंदर हाथ जोडकर पूजा अर्चना कर रहे थे ,प्रायः सभी कत्ल कर दिये गये।[12] [13]

इसके बाद गुजरात के राजा भीम और मालवा के राजा भोज ने इसका पुनर्निर्माण कराया । सन 1297 में जब दिल्ली सल्तनत ने गुजरात पर क़ब्ज़ा किया तो इसे पाँचवीं बार गिराया गया । मुगल बादशाह औरंगजेब ने इसे पुनः 1706 में गिरा दिया । इस समय जो मंदिर खड़ा है उसे भारत के गृह मन्त्री सरदार वल्लभ भाई पटेल ने बनवाया और पहली दिसंबर 1995 को भारत के राष्ट्रपति शंकर दयाल शर्मा ने इसे राष्ट्र को समर्पित किया ।

1948 में प्रभासतीर्थ प्रभास पाटण के नाम से जाना जाता था। इसी नाम से इसकी तहसील और नगर पालिका थी। यह जूनागढ रियासत का मुख्य नगर था। लेकिन 1948 के बाद इसकी तहसील, नगर पालिका और तहसील कचहरी का वेरावल में विलय हो गया।

मंदिर का बार-बार खंडन और जीर्णोद्धार होता रहा पर शिवलिंग यथावत रहा। लेकिन सन 1026 में महमूद गजनी ने जो शिवलिंग खंडित किया, वह यही आदि शिवलिंग था। इसके बाद प्रतिष्ठित किए गए शिवलिंग को 1300 में अलाउद्दीन की सेना ने खंडित किया। इसके बाद कई बार मंदिर और शिवलिंग खंडित किया गया। बताया जाता है आगरा के किले में रखे देवद्वार सोमनाथ मंदिर के हैं। महमूद गजनी सन 1026 में लूटपाट के दौरान इन द्वारों को अपने साथ ले गया था। सोमनाथ मंदिर के मूल मंदिर स्थल पर मंदिर ट्रस्ट द्वारा निर्मित नवीन मंदिर स्थापित है। राजा कुमार पाल द्वारा इसी स्थान पर अन्तिम मंदिर बनवाया गया था। सौराष्ट्र के मुख्यमन्त्री उच्छंगराय नवल शंकर ढेबर ने 19 अप्रैल 1940 को यहां उत्खनन कराया था। इसके बाद भारत सरकार के पुरातत्व विभाग ने उत्खनन द्वारा प्राप्त ब्रह्मशिला पर शिव का ज्योतिर्लिग स्थापित किया है। सौराष्ट्र के पूर्व राजा दिग्विजय सिंह ने 8 मई 1950 को मंदिर की आधार शिला रखी तथा 11 मई 1951 को भारत के प्रथम राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद ने मंदिर में ज्योतिर्लिग स्थापित किया। नवीन सोमनाथ मंदिर 1962 में पूर्ण निर्मित हो गया। 1970 में जामनगर की राजमाता ने अपने स्वर्गीय पति की स्मृति में उनके नाम से दिग्विजय द्वार बनवाया। इस द्वार के पास राजमार्ग है और पूर्व गृहमन्त्री सरदार बल्लभ भाई पटेल की प्रतिमा है। सोमनाथ मंदिर निर्माण में पटेल का बडा योगदान रहा। मंदिर के दक्षिण में समुद्र के किनारे एक स्तंभ है। उसके ऊपर एक तीर रखकर संकेत किया गया है कि सोमनाथ मंदिर और दक्षिण ध्रुव के बीच में पृथ्वी का कोई भूभाग नहीं है। मंदिर के पृष्ठ भाग में स्थित प्राचीन मंदिर के विषय में मान्यता है कि यह पार्वती जी का मंदिर है। सोमनाथजी के मंदिर की व्यवस्था और संचालन का कार्य सोमनाथ ट्रस्ट के अधीन है। सरकार ने ट्रस्ट को जमीन, बाग-बगीचे देकर आय का प्रबंध किया है। यह तीर्थ पितृगणों के श्राद्ध, नारायण बलि आदि कर्मो के लिए भी प्रसिद्ध है। चैत्र, भाद्र, कार्तिक माह में यहां श्राद्ध करने का विशेष महत्व बताया गया है। इन तीन महीनों में यहां श्रद्धालुओं की बडी भीड लगती है। इसके अलावा यहां तीन नदियों हिरण, कपिला और सरस्वती का महासंगम होता है। इस त्रिवेणी स्नान का विशेष महत्व है।

तीर्थ स्थान और मंदिर: मंदिर नं.1 के प्रांगण में हनुमानजी का मंदिर, पर्दी विनायक, नवदुर्गा खोडीयार, महारानी अहिल्याबाई होल्कर द्वारा स्थापित सोमनाथ ज्योतिर्लिग, अहिल्येश्वर, अन्नपूर्णा, गणपति और काशी विश्वनाथ के मंदिर हैं। अघोरेश्वर मंदिर नं. 6 के समीप भैरवेश्वर मंदिर, महाकाली मंदिर, दुखहरण जी की जल समाधि स्थित है। पंचमुखी महादेव मंदिर कुमार वाडा में, विलेश्वर मंदिर नं. 12 के नजदीक और नं. 15 के समीप राममंदिर स्थित है। नागरों के इष्टदेव हाटकेश्वर मंदिर, देवी हिंगलाज का मंदिर, कालिका मंदिर, बालाजी मंदिर, नरसिंह मंदिर, नागनाथ मंदिर समेत कुल 42 मंदिर नगर के लगभग दस किलो मीटर क्षेत्र में स्थापित हैं।

बाहरी क्षेत्र के प्रमुख मंदिर: वेरावल प्रभास क्षेत्र के मध्य में समुद्र के किनारे शशिभूषण मंदिर, भीडभंजन गणपति, बाणेश्वर, चंद्रेश्वर-रत्नेश्वर, कपिलेश्वर, रोटलेश्वर, भालुका तीर्थ है। भालकेश्वर, प्रागटेश्वर, पद्म कुंड, पांडव कूप, द्वारिकानाथ मंदिर, बालाजी मंदिर, लक्ष्मीनारायण मंदिर, रूदे्रश्वर मंदिर, सूर्य मंदिर, हिंगलाज गुफा, गीता मंदिर, बल्लभाचार्य महाप्रभु की 65वीं बैठक के अलावा कई अन्य प्रमुख मंदिर है। प्रभास खंड में विवरण है कि सोमनाथ मंदिर के समयकाल में अन्य देव मंदिर भी थे। इनमें शिवजी के 135, विष्णु भगवान के 5, देवी के 25, सूर्यदेव के 16, गणेशजी के 5, नाग मंदिर 1, क्षेत्रपाल मंदिर 1, कुंड 19 और नदियां 9 बताई जाती हैं। एक शिलालेख में विवरण है कि महमूद के हमले के बाद इक्कीस मंदिरों का निर्माण किया गया। संभवत: इसके पश्चात भी अनेक मंदिर बने होंगे।

प्रमुख तीर्थ द्वारिका सोमनाथ से करीब दो सौ किलोमीटर दूरी पर प्रमुख तीर्थ श्रीकृष्ण की द्वारिका है। यहां भी प्रतिदिन द्वारिकाधीश के दर्शन के लिए देश-विदेश से हजारों की संख्या में श्रद्धालु आते है। यहां गोमती नदी है। इसके स्नान का विशेष महत्व बताया गया है। इस नदी का जल सूर्योदय पर बढता जाता है और सूर्यास्त पर घटता जाता है, जो सुबह सूरज निकलने से पहले मात्र एक डेढ फीट ही रह जाता है।

External links

See also

Gallery of images

References

  1. Yogendra Doshi: Shri Somnath Darshan, 2013, p. 5,
  2. Yogendra Doshi: Shri Somnath Darshan, 2013, p. 14
  3. All About Gujarat
  4. Elliot, Sir Henry Miers (1952). The history of India, as told by his own historian Beirouni. 11. Elibron.com. p. 98. ISBN 978-0-543-94726-0.
  5. The Somanatha Temple from the south, Somnath (Prabhas Patan)
  6. Temples of India, Prabhat Prakashan.
  7. All About Gujarat
  8. Temples of India, Prabhat Prakashan.
  9. Temples of India, Prabhat Prakashan.
  10. Temples of India, Prabhat Prakashan.
  11. All About Gujarat
  12. Mahmud of Ghazni - Military campaigns
  13. Somnath Temple

Back to Gujarat