Devi Lal Ji.jpg

25 September
is the birthday of Chaudhary Devi Lal

Flowers.png

Rann of Kutch

From Jatland Wiki
(Redirected from Rann of Kachchh)
Jump to navigation Jump to search
Location of Rann of Kuchchh

The Rann of Kutch or Rann of Kachchh (कच्छ का रण) is a large area of salt marshes located mostly in Gujarat state (primarily the Kachchh district) of India and the southern tip of Sindh, Pakistan. It is a seasonally marshy region. The word Rann (रण) means "salt marsh", with elevated pieces of land where vegetation grows. It is positioned between the Gulf of Kutch and the mouth of the Indus River in southern Pakistan. To the northeast corner of the Rann of Kutch, lies the Luni River, originating in Rajasthan.

The area is a shallow wetland which submerges in water during the rainy season and becomes dry during other seasons. The word Kachh is also used in the languages of Sanskrit origin, for a tortoise and garments to be worn while having a bath.

कच्छ का रण

  • कच्छ का रण लवणीय दलदली भूमि है जो पश्चिमी-मध्य भारत और दक्षिणी पाकिस्तान में स्थित है। नाम "रण" हिन्दी शब्द से आता है (रण) अर्थ "रेगिस्तान" है।
  • कच्छ का रण लगभग 23,300 वर्ग किमी क्षेत्रफल में फैला हुआ है और पाकिस्तान सीमा से लगे भारतीय राज्य गुजरात में लगभग पूरा का पूरा अवस्थित है।
  • कच्छ का छोटा रण, कच्छ की खाड़ी के पूर्वोत्तर में है और यह गुजरात के लगभग 5,100 वर्ग किमी क्षेत्र में फैला हुआ है।
  • मूलतः अरब सागर का विस्तार रहा कच्छ का रण सदियों से एकत्रित होने वाले अवसाद के कारण एक बंद क्षेत्र बन गया है।
  • कच्छ का रण समुद्र का ही एक सँकरा अंग है जो भूकंप के कारण संभवत: अपने मौलिक तल को ऊपर उभर आया है और परिणामस्वरूप समुद्र से पृथक हो गया है।
  • सिकंदर महान के समय यह नौकायन योग्य झील थी। लेकिन अब यह एक विस्तृत दलदली क्षेत्र है, जो मॉनसून के दौरान जलमग्न रहता है।
  • उत्तरी रण, जो लगभग 257 किमी में फैला हुआ है। पूर्वी रण अपेक्षाकृत छोटा है। इसका क्षेत्रफल लगभग 5,178 वर्ग किमी है।
  • मार्च से अक्टूबर मास तक यह क्षेत्र अगम्य हो जाता है।
  • यहाँ के लोगों का निवास निम्न, विलग पहाड़ियों तक सीमित है।

इतिहास - सन 1819 ई. के भूकंप में उत्तरी रण का मध्य भाग किनारों की अपेक्षा अधिक ऊपर उभर गया। इसके परिणामस्वरूप मध्य भाग सूखा तथा किनारे पानी, कीचड़ तथा दलदल से भरे हैं। ग्रीष्म काल में दलदल सूखने पर लवण के श्वेत कण सूर्य के प्रकाश में चमकने लगते हैं।

बड़े रण के पश्चिमी छोर पर भारत-पाकिस्तान सीमा को लेकर 1965 में विवाद उठ खड़ा हुआ था। अप्रैल में लड़ाई छिड़ गई और ब्रिटेन की मध्यस्थता के बाद ही युद्ध विराम हुआ। संयुक्त राष्ट्र के महासचिव द्वारा सुरक्षा परिषद को भेजी गई रिपोर्ट के आधार पर इस मामले को अंतर्राष्ट्रीय न्यायाधिकरण (ट्राइब्यूनल) को भेजा गया। जिसने 1968 में निर्णय लिया कि इसका लगभग 10 प्रतिशत हिस्सा पाकिस्तान को और लगभग 90 प्रतिशत भारत को सौंप दिया जाए और 1969 में विभाजन हुआ।[1]

External Links

Dndeswal (talk) 05:36, 18 February 2017 (EST)

References