Swami Keshwanand

From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search
Author:Laxman Burdak, IFS (Retd.), Jaipur
Swami Keshwanand
Swami Keshwanand

Swami Keshwanand (1883-1972) (स्वामी केशवानंद) was a great Saint, Freedom Fighter, Educationist, Social Reformer and Member of Rajya Sabha from Rajasthan, India.

His ancestors

The Family Tree of Swami Keshwanand

Swami Keshwanand was born at village Magloona in Sikar district of Rajasthan in hindi month paush of samvat 1940 (1883 AD) in Dhaka gotra Hindu Jat family. The village Magloona was founded by his ancestor of 13th generations ago named Maluji Dhaka on Tuesday baisakh sudi panchami samvat 1451 (1394 AD). His father’s name was Thakarsi Dhaka and mother’s name Saran of Kherwa Jat clan. This information is based on traditional records of Bhat (Bard) Balu Singh of village Lordi tahsil Dudu of Jaipur district in Rajasthan. His childhood name was Birama.[1]

Some of ancestors are:

Maluji → Baloji → Pemaji → Udoji → Jodhaji → Dudoji → Thakarsi (m. 1.Sara Kherwi+2.Nanda Rewad:childless) → Birama

The Childhood

He was born at village Magloona in Sikar district of Rajasthan in year 1883 in a poor Dhaka gotra Jat Hindu family. His father’s name was Thakarsi and mother’s name Saran. His childhood name was Birama. Birama did not get the formal primary education, as there was no school in that desert region in those days of British Raj.

Birama spent his childhood as a shepherd boy. At the age of five years Birama along with family left the village Magloona and moved to nearby city Ratangarh. In Ratangarh his father Thakarsi used to carry Seths (Businessman) of Ratangarh to Delhi on his camel. He lost his father due to snake bite at the age of 7 at Ratangarh in 1890. Birama and his mother moved from here to there in search of fodder for animals and landed at village Kelania in Sri Ganganagar district in 1897.

Became orphan

This was the time when Rajasthan was heading for the gravest famine of history during year 1899, known as the chhapaniya akal. There was no vegetation left on the ground. There was no drop of water. All the animals died for want of fodder. People survived on the bark of Khejri trees and seeds of grasses. Even that also became scarce. There was nothing like governance. The ruling Samants were least bothered for the poor people. Birama’s mother Saran could not bear the natural and human calamity and died in year 1899 at village Kelania.

Education

The greatest famine of the history, 1899, forced Birama to leave the desert region and moved to Punjab for livelihood. He approached Mahant Kushaldas of udasi sect and expressed willingness to learn Sanskrit. Mahant Kushaldas advised that as a Jat he would not be allowed to learn Sanskrit. Birama became sanyasi (saint) to learn Sanskrit language in 1904. He got education at Sadhu Ashram Fajilka (Punjab). He learnt Hindi, Gurumukhi and Sanskrit languages at the Ashram. In year 1905 on the occasion of Prayag Kumbh Mela Mahatma Hiranandji Avadhut awarded Birama, the title of Swami Keshwanand,.

The Freedom Fighter

Swami Keshwanand felt the heat of Jalianwala Bagh Massacre. He started going to the meetings of Arya Samaj and was influenced by its philosophy. He had a strong desire for the upliftment of helpless poor people. He started attending the meetings of Congress. He met Khan Abdul Gaffar Khan at Ahmedabad Adhiveshan of the Congress. Pandit Madan Mahan Malviya also influenced him. He attended Delhi Adhiveshan of the Congress chaired by Madan Mahan Malviya in 1919. He joined Indian Independence Movement under the leadership of Mahatma Gandhi. For taking part in Non-Co-operation Movement of Mahatma Gandhi, he was imprisoned for two years and was kept in Jail in Ferozepur (1921-1922). The role of Swami Keshwanand became so important in freedom movement that he was appointed dictator of Ferozepur district in 1930 to conduct the freedom movement in that area. He was again arrested in 1930 but released after the conclusion of Gandhi-Irvin Agreement.

The Social Reformist

Swami Keshwanand felt that the knowledge of Hindi language is must to keep the country united and to educate the public about nationality. He started “Vedant Pushp Vatika” library in year 1911 in the Ashram with the support of funds collected in it. In 1912 he started a Sanskrit school in the Ashram. In 1916 he handed over the charge of Ashram to his guru-bhai Shyamdas.

Social worker: Swami Keshwanand was a great social worker. He always remained associated with the spread of education, social and village upliftment. He was connected with the establishment of Sahitya Sadan, Abohar, Ferozepur district in Punjab (1917-1932). He started his progrrame of spreading knowledge of Hindi with a Hindi-forum in Abohar town. He founded ‘Nagari Pracharini Sabha’ institute at Abohar in 1920 that was renamed as Sahitya Sadan, Abohar.

His services for Hindi: He started a press ‘Deepak’ at Abohar in 1933 and published material in Hindi language and got distributed to villagers either free or at a very nominal price. Sahitya Sadan, Abohar developed into an institution comparable with Shantiniketan of Ravindranath Tagore. He organized 30th All India Hindi Sahitya Sammelan at Sahitya Sadan, Abohar in 1941. He was awarded degree of “Sahitya Vachaspati” looking to his services for Hindi in 1942.

An Educationist: Swami Keshwanand was connected with Gramothan Vidyapith Sangariya (Rajasthan) (1932-1952). He was made director of Jat School Sangaria in 1932 that was just to close for want of funds. He went from village to village and to the Seths of desert region who were in Calcutta and far off places and collected funds. He became instrumental in starting hundreds of schools in the desert region. The Jat School Sangaria was renamed as Gramothan Vidyapith, Sangaria in 1948. He developed here a beautiful museum with collection of rare documents, ancient items, paintings etc. brought from various places. Large-scale plantations were done in this arid area with the help of people and students of the Institute. Gramothan Vidyapith, Sangaria had become center of inspiration for educationists from India and abroad.

Swami Keshwanand, an orphan, illiterate, nomadic man who never got formal education in a school was the founder of more than 300 schools, 50 hostels, so many libraries, social service centers and museums. He got 100 books translated from other languages or wrote himself. With the great efforts of 11 years he got published the Book “History of Sikhs” in Hindi in 1954.

He had deep understanding of society in the desert region. He tried all his life with full devotion to remove social evils like untouchability, child marriage, woman illiteracy, indebtness, poverty, backwardness, intoxication, dissipation, bad customs etc. An idea about his visionary and logical thoughts can be had from the book he has published- “Maru Bhumi Seva Karya” in Hindi. In this book he has explained the peculiarities of the Desert region, identified the problems and suggested proper solutions.

Communal harmony: Swami Keshwanand, born in a Jat Hindu family, Sadhu of Udasi sect propagated by Srichandji, son of Sikh guru Nanakdevji, was a unique example of communal harmony. He organized celebrations in honour of Sikh, Bisnoi, Namdhari and Jain gurus. Gramothan Vidyapith, Sangaria being adjoining to Pakistan felt the heat of 1947 division of the country. He got admitted the wounded Muslims in hospitals and arranged food and shelter for them.

Member of Rajya Sabha: Swami Keshwanand was member of Hindi Sahitya Sammelan, Allahabad. He was imprisoned several times in satyagraha movements of Mahatma Gandhi. He was presented “Abhinandan Granth” by the chief minister of Rajasthan on March 9,1958. He was first elected to the Rajya Sabha of India in 1952 and was re-elected to the House in April, 1958. He remained member of Rajya Sabha till 1964.

Death

He died on September 13,1972 at Delhi.

Obituary Reference: In the proceedings of 'Rajya Sabha'

Extract from the proceedings of 'Rajya Sabha' held on the 13th November, 1972.

Obituary Reference

Mr. chairman: I have to refer to the passing away of Swami Keshwanand.

Swami Keshwanand was born at village Magloona in Sikar Distirict and was educated at Sadhu Ashram Fazilka. Being a social worker he was associated with the spread of education and all matters connected with village upliftment. He was imprisoned several times in satyagraha movements. He was presented "Abhinanadan Granth" by the chief minister of Rajasthan on March 9-1958. He was first elected to the Rajya Sabha in 1952 and was re-elected to the House in April, 1958.

We deeply mourn the passing away of Swami Keshwanand. I would request the members to stand and observe a minutes silence as a mark of respect to the memory of the deceased.

Hon. members then stood in silence for one minute.

Honours and awards

Postal Stamp Keshwanand.jpg
  • Abhinanadan Granth: He was presented "Abhinanadan Granth" by the chief minister of Rajasthan on March 9-1958.
  • Postal stamp : Department of Posts, Government of India, has issued a commemorative postage stamp on "India's Struggle for Freedom" on Swami Keshwanand on August 15, 1999.
  • On 15 August 2008 The Rajasthan Agriculture University, Bikaner was named as Swami Keshwanand Rajasthan Agriculture University, Bikaner Rajasthan, India 334006, Tel: 0151-2250025, Fax: 0151-2250025, Email Address: reg@raubikaner.org URL: www.raubikaner.org
  • Swami Keshwanand Charitable Trust Sangaria installed a metal statue of Swami Keshwanand at Swami Keshwanand Rajasthan Agriculture University Bikaner, which was inaugurated by Shri Ashok Gahlot, Chief Minister of Rajasthan on 4 October 2011.

स्वामी केशवानन्द जी का संक्षिप्त परिचय

जन्म: स्वामी केशवानन्द जी का जन्म महात्मा गांधी से 14 वर्ष पूर्व राजस्थान में सीकर जिले की सीमा पर सीकर जिले की लक्ष्मणगढ़ तहसील के अंतर्गत गाँव मगलूणा में पौष माह संवत 1940 ( दिसम्बर, सन् 1883) में निर्धन ढाका परिवार में हुआ। इनके पिता का नाम ठाकरसी और माता का नाम सारा था। ग्राम मगलूणा संवत 1451 में फत्तेखां नवाब फतेहपुर के क्षेत्र में केशवानन्द से 13 पीढ़ी पूर्व उनके ही वंशज मालुजी ढाका द्वारा बसाया था।

बचपन: स्वामी केशवानन्द का बचपन का नाम बीरमा था। पांच-छः वर्ष का बीरमा अपने परिवार के साथ मगलूणा से रतनगढ़ शहर में आ गया। बीरमा के अलावा उनके परिवार में उनके पिता ठाकरसी, माता सारां और रिश्ते में फुफेरे भाई रामलाल थे। रामलाल के माता-पिता बचपन में ही गुजर गए थे इसलिए उसका भरण-पौषण ठाकरसी द्वारा ही किया जा रहा था।

जीवनयापन हेतु रतनगढ़ आना और पिता का देहांत : ठाकरसी अपने पगड़ी-बदल भाई माली के सहयोग से रतनगढ़ में मालियों के बास में झोंपड़ा बनाकर ऊँट के सहारे अपना जीवन यापन करने लगा। यह सन् 1889 के आस-पास की बात है जब सड़क और रेल के अभाव में सेठ लोग कलकत्ता, बंबई आदि बड़े शहरों में व्यापार के लिए जाते थे तो अपना सामान ऊँट से दिल्ली ले जाया करते थे। ठाकरसी ने भी अपने ऊँट को एक काफिले में शामिल कर दिल्ली सामान ढोने का काम शुरू कर दिया। रतनगढ़ से दिल्ली के लिए कई-कई दिन लगते थे और यह काफी जोखिम भरा काम भी था। इस काम का मेहनताना उनको एक-डेढ़ रूपया मिलता था। ठाकरसी को रतनगढ़ आये मात्र डेढ़ वर्ष ही हुआ था कि ठाकरसी जब सरकारी बीड़ (जंगल) में ऊँट को चराने के लिए छोड़ने हेतु दावणा (पगबंधन) लगा रहे थे कि उनके प्राण पखेरू उड़ गए।

बीरमा की माता की विपत्तियां : बीरमा की माता सारां सेठों के यहाँ आटा पीसने, बर्तन साफ़ करने आदि का काम करती थी जिससे परिवार के लिए कुछ खाने-पिने की व्यवस्था हो जाती थी। पति की मृत्यु के कारण अब वह ज्यादा दिन रतनगढ़ में नहीं रह सकी। संवत 1948 (1891 ई.) में वह अपना सामान ऊँट पर लाद कर वापस मगलूणा अपने गाँव आ गयी। विधवा सारां देवी के मगलूणा वापस आने पर किसी को खुशी न हुई और न ही किसी ने इस बेसहारा परिवार पर किसी प्रकार की दया दिखाई अथवा सहायता की।

हामूसर में मौसी के पास आये : मगलूणा किसी प्रकार की सहायता न मिलने के कारण से सारां देवी ने अपना यह पड़ाव भी छोड़ दिया और वह हंसासर-हामूसर में बसी अपनी मौसी के यहाँ चली गयी। मौसी का परिवार सम्पन था। मौसी ने अपने सामर्थ्य अनुसार भांजी के रहने का प्रबंध किया। बीरमा और रामलाल गाएँ चराते एवं सारां ने गाँव में आटा पीसने का काम शुरू किया। जैसे-तैसे हामूसर में उनका समय कट रहा था। लेकिन धीरे-धीरे कठिनाईयां बढ़ने लगी। अकाल की काली छाया क्षितिज पर धीरे-धीरे उभर रही थी। सारा क्षेत्र वर्षा की बूँद-बूँद के लिए तरस गया। हरयाली सपने की वस्तु बनती जा रही थी। गायें मीलों तक भटकती पर सिवाय भटकने उनको चरने के लिए तिनका भी नसीब नहीं होता। बीरमा और रामलाल को अड़सीसर, घड़सीसर तक भी गायों को लेजाना पड़ता था परन्तु चारा कहीं उपलब्ध न था। गाएँ भूखी ही रहती। अब पानी का संकट भी गहराता जा रहा था। जीवन का आधार पानी के कुएं भी सूख गए थे। तीनसौ फीट गहरा पानी और वह भी खारा - जहर के सामान। गर्मी में गाएँ यह पानी पीती तो मर जाती और आदमी पीता तो उलटी-दस्त हो जाते। ऐसे में सारां देवी को अपना पड़ाव फिर बदलना पड़ा।

केलनिया गाँव पहुंचे: भूख की सम्भावित पीड़ा से डरते-डरते यह काफिला उत्तर की और बढ़ने लगा। संवत 1955 (1898 ई.) में तीनों प्राणी अपनी गायों सहित केलनिया गाँव पहुंचे। यहाँ पहुंचते-पहुंचते कई गायें मर चुकी थी। रिश्ते का भाई रामलाल अब समझदार हो गया था, वह अपने पुस्तैनी गाँव चला गया। शेष रह गए माता-पुत्र और कुछ गायें।

उस समय का दीन-हीन ग्रामीण कृषक समाज सामन्तों, राजाओं-नवाबों और विदेशी शासकों की तिहरी गुलामी में दबा हुआ था। वह शिक्षा से रहित, अंधविश्वासों और निरर्थक रूढ़ियों में जकड़ा हुआ था। ग्रामवासियों का जीवन नरक के समान कष्टों से भरा हुआ था। इस प्रकार के सामाजिक वातावरण में बीरमा के बालपन और किशोरावस्था के 16 वर्ष रेतीले टीलों के बीच, सर्दी-गर्मी में लगभग नंगे बदन सहते हुए गौचारण में बीते।

छपनिया अकाल: केलनिया गाँव भी संवत 1956 (1899 ई.) के भयंकर 'छपनिया अकाल' से बच न सका. अकाल की कालिमा गहराती गयी। एक-एक कर प्राणी काल-कवलित होते गए। वनस्पति का तरल द्रव्य और जीवों की रगों में बहने वाला रक्त धीरे-धीरे सूखता गया। क्षुधा शांत करने की ऐसी भगदड़ मची कि सामाजिक रिश्ते एक बीती बात हो गए। माताओं ने अपने बच्चों को छोड़ दिया और भूखे-तड़पते मृग-मरीचिका के भ्रम में जहाँ जिसे सूझा आसरा लिया। पशुओं द्वारा खाई जाने वाली ग्वार की सूखी फलियां विलास की वस्तु बन गयी। लोग वृक्षों की छाल और भरूट घास के कांटे खाने को मजबूर हुए। शासन-तंत्र नाम की कोई चीज नहीं थी। मानव शरीरों के खून का अंतिम कतरा तक हजम करने की गीदड़ दृष्टी वाले जागीरदार शासक इस घोर अकाल की स्थिति में सहयोग की बजाय भूख से तड़पते लोगों से कोसों दूर जश्न मनाते रहते।

माता सारां का देहांत : प्राकृत और मानवीय विपदाओं से पहले ही टूट चूका यह ढाका परिवार सन 1899 के अकाल की मार को न सह सका। बीरमा की कमजोर माता सारां देवी और पड़ाव न बदल सकी और वह केलनिया गाँव में सारे जगत को छोड़ कर अनंत की और चल दी। सारां की कोख का फल अपनी जननी के अंतिम सहारे को खोकर भटके हुए जहाज की मानिंद अनिश्चित राहों पर बढ़ गया।

स्वामी जी के बचपन की इस घटना को उनके परम भक्त श्री खूबचंद बाठियां ने अपनी सजीव कविता में कुछ यों लिखा है:

स्वामी केशवानन्द की यश गाथा, कोई क्यों कहेगा जुबानी।
वह मगलूणा का बाल अकिंचन, था अनकही एक कहानी।।
मरुधरा का वह अनगढ़ हीरा, नश्ल न जिसकी पहचानी।
काल पृष्ठ पर छोड़ दी जिसने, अपनी अमिट निशानी।।
थी ललक बहुत पढ़ने की मन में, किन्तु रोटी बनी पहेली।
बिना साधन शिक्षा मिल न सकी, रह गयी अबूझ पहेली।।
मनकी कुंठा से उपजी दृढ़ निश्चय की अजब कहानी।
अबोध बालक घर छोड़ चला, बढ़ गया रहा अंजनी।।

चरवाहे से महापुरुष

माता सारां के न रहने से स्वामी केशवानन्द जी का केलनिया गाँव से कोई लगाव न रहा। संवत 1956 (सन 1899) में वे नोहर, सिरसा, भटिंडा, गीदड़बाहा, मलोट, अबोहर, पंजकोषी आदि में भटकते हुए आखिर में झूमियाँवाली गाँव पंजाब में जाकर ठहरे। यह वह समय था जब मरुस्थल के अकाल पीड़ित क्षेत्रों से बीरमा जैसे अनेक अकाल के मारे जवान और बालक पंजाब की तरफ रोटी-पानी की तलास में आ रहे थे। धर्म प्रचारकों के लिए यह स्वर्णिम मौका था। इंसान की भूख का फायदा उठाकर हिन्दू से मुसलमान या ईसाई बनाने के प्रयास हो रहे थे। पंजाब में इस मौके पर धर्म-रक्षा का कार्य आर्य-समाज ने किया। बीरमा को झूमियाँवाली के चौधरी टिकूराम जी वैद्य ने पंडित गंगाराम जी के सहारे आर्यसमाज द्वारा फिरोजपुर में संचालित अनाथालय भिजवा दिया। अनाथालय में रोटी के साथ पढ़ाई के सर्व प्रथम दर्शन बीरमा ने किये। ज्ञान की ललक ने बीरमा को और आगे बढ़ने के लिए प्रवृत किया और चार वर्ष बाद ही बीरमा ने अनाथालय छोड़ अपनी मंजिल की राह पकड़ी। पैदल कष्ट साध्य सफ़र करते हुए भटिंडा, अबोहर होते हुए फाजिल्का पहुँच गए। गुरुग्रंथ के पाठी एक सिख सज्जन और भगत राम डाबड़ा के जरिये अध्ययन हेतु उदासी पंथ के महंत कुशलदास जी के डेरे में पहुंचे। बीरमा ने संस्कृत पढ़ने का मंतव्य जाहिर किया तो उन्होंने अमृतसर जाने की सलाह दी। लेकिन साथ ही यह भी नसीहत दी कि जाट को कोई संस्कृत नहीं पढ़ायेगा। इसलिए आपको संस्कृत सीखनी हो तो साधु बनना पड़ेगा। बीरमा के मन में साधुओं के प्रति आशंका थी फिर भी संस्कृत सीखने के लिए सब कुछ त्याग दिया और संत कुशलदास जी के चेले बन कर सन् 1904 में उदासीन सम्प्रदाय में साधु का रूप धारण किया।

उदासीन सम्प्रदाय में दीक्षित: इस तरह संस्कृत पढ़ने की तीव्र इच्छा लिए सन् 1904 में बीरमा फाजिल्का (पंजाब) के उदासी सन्त कुशलदास के डेरे में जा पहुंचे और उन्हें गुरु धारण कर वह उदासी मत में दीक्षित हो गये। उदासी मत की परम्परा के अनुसार उन्हें गुरुमुखी (पंजाबी) भाषा सीखनी पड़ी, जिसमें वह अपनी कुशाग्र बुद्धि से सहज ही पारंगत हो गये और कुछ ही दिनों में ग्रन्थ-साहब के अच्छे पाठी बन गये।

सन् 1905 में वह तीर्थ-भ्रमण के लिए निकले और प्रयाग के कुम्भ मेले में अवधूत हीरानन्द के सम्पर्क में आने पर उसे उन्होंने ‘‘केशवानन्द’’ नाम दे दिया। फाजिल्का लौटने पर कुशलदास जी ने साधु केशवानन्द को हरिद्वार और अमृतसर आदि स्थानों पर संस्कृत-अध्ययन के लिए भेजा । अध्ययन के साथ-साथ उन्होंने देश-भ्रमण भी चालू रखा और भारत भर के तीर्थ-स्थानों , मंदिरों, मठों, शहरों, विश्व-विद्यालयों, शिक्षा-संस्थानों, वनों, पर्वतों, ऐतिहासिक स्थलों पर संग्रहालयों, पुस्तकालयों में घूम-फिर कर दुनियां की पुस्तक भी पढ़ डाली। बीच-बीच में जब वे फाजिल्का गुरु-आश्रम में होते तो वहां की सफाई, अतिथि-सत्कार, गुरुसेवा और ग्रन्थ-साहब का पाठ अतीव निष्ठा से करते थे। गुरुजी उनकी कर्तव्य-परायणता, सेवा-भावना, सच्चरित्रता और योग्यता से इतने प्रसन्न थे कि उन्होंने सन् 1908 में साधु केशवानन्द की अनुपस्थिति में ही अपने अन्तकाल से पूर्व गुरुगद्दी उन्हें (केशवानन्द को) देते हुए डेरे की रजिस्ट्री उनके नाम करा दी। उस समय तक केशवानन्द केवल वेश से ही नहीं, मन और व्यवहार से भी पूरे सन्त बन चुके थे। अतः ‘‘परोपकाराय सतां विभूतयः’’ के अनुसार उन्होंने सम्पन्न डेरे के रूप में प्राप्त हुई उस पहली विभूति का उपयोग परोपकार में ही करना अपना कर्तव्य समझा। सर्वप्रथम परोपकार के रूप में उन्होंने हिन्दी भाषा के प्रचार को चुना।

राष्ट्र भाषा प्रचार

फाजिल्का-अबोहर के इलाके में उन दिनों प्रान्त की सरकारी भाषा उर्दू का बोलबाला था, हिन्दी भाषा के पढ़ने-पढ़ाने में किसी को कोई रुचि नहीं थी। वहां के गांवों की सामाजिक अवस्था भी उन रेगिस्तानी गांवों जैसी ही थी जहाँ केशवानन्द की आयु के प्र्रथम 16 वर्ष बीते थे। अतः उस क्षेत्र के ग्रामीण समाज में व्याप्त अंधविश्वासों और अर्थहीन रूढ़ियों की जड़ खोदने के लिए साधु केशवानन्द ने आवश्यक समझा कि उन्हें हिन्दी भाषा का ज्ञान देकर भारतीय संस्कृति के सही रूप से परिचित कराया जावे। इस लक्ष्य की पूर्ति के लिए उन्होंने सन् 1911 में साधु आश्रम (गुरू-डेरे) में एक पुस्तकालय-वाचनालय का आरम्भ कर दिया, जहां हिन्दी की पुस्तकें और समाचार- पत्र मंगाए जाते थे। शहर के आदमी उनसे लाभ उठाते और हिन्दी का स्वतः प्रचार होता। वे स्वयं हिन्दी-पुस्तकों की गठरी बांधकर आस-पास के गांवों में ले जाते और लोगों को उन्हें पढ़ने के लिए प्रेरित करते। सन् 1912 में उन्होंने आश्रम में एक संस्कृत पाठशाला भी आरम्भ कर दी। उन्हें मठाधीश बने रहकर पैर पुजाने, आशीष देने का कर्मकाण्डी जीवन पसन्द न आया, अतः सन् 1916 में उन्होंने अपनी फाजिल्का की गुरुगद्दी का त्याग करके अपने हिन्दी-प्रचार-कार्य को आगे बढ़ाने के निमित अबोहर में ‘‘नागरी प्रचारणी सभा’’ की स्थापना की। सन् 1924 में उन्होंने इलाके में व्यापक रूप से हिन्दी का प्रचार करने के लिए सार्वजनिक सहयोग से ‘‘साहित्य सदन अबोहर’’ नाम की संस्था का श्रीगणेश किया। साहित्य सदन अबोहर द्वारा ‘‘चल पुस्तकालय’’, केन्द्रीय पुस्तकालय-वाचनालय, हिन्दी की ग्रामीण पाठशालाओं, ‘‘दीपक प्रेस’’ लगाकर हिन्दी मासिक ‘‘दीपक’’ और ग्रामोपयोगी सत्साहित्य का प्रकाशन आदि योजनाओं से इलाके में हिन्दी के पठन-पाठन को बढ़ावा दिया गया। साहित्य सदन में ही हिन्दी साहित्य-सम्मेलन प्रयाग, राष्ट्रभाषा प्रचार समिति वर्धा और पंजाब विश्व-विद्यालय की हिन्दी परीक्षाओं के केन्द्र स्थापित कराए गए और हिन्दी विद्यालय प्रारम्भ कर उन परीक्षाओं की तैयारी का प्रबन्ध किया गया। इन विभिन्न परीक्षाओं में प्रतिवर्ष हजारों की संख्या में छात्र-छात्राएं प्रविष्ट होते थे। साहित्य-सदन के प्रबन्ध में इलाके के झूमियांवाली, मौजगढ़, जंडवाला, हनुमन्ता, भंगरखेड़ा, पंचकोसी, रामगढ़, रोहिड़ांवाली, चूहड़ियां वाला, कुलार, सीतो, बाजीदपुर, कल्लरखेड़ा, पन्नीवाला, माला आदि 25 गांवों में हिन्दी की प्राथमिक पाठशालाएं चलती थीं, जिनमें प्रौढ़-शिक्षा का भी प्रबन्ध था। साहित्य-सदन अबोहर में ही सन् 1933 में नौवां पंजाब प्रातीय हिन्दी साहित्य सम्मेलन और सन् 1941 में अखिल भारतवर्षीय हिन्दी साहित्य सम्मेलन का तीसवां अधिवेशन अत्यन्त सफलता-पूर्वक सम्पन्न हुए। राष्ट्र-भाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार की इन गतिविधियों का सुपरिणाम यह हुआ कि सन् 1947 में देश-विभाजन के समय फाजिल्का तहसील, जिसमें अबोहर भी शामिल था, बड़े-बड़े प्रभावशाली मुसलमान जागीरदारों, काश्तकारों और व्यापारियों की पर्याप्त आबादी होते हुए भी, हिन्दी-भाषी और हिन्दू-सिख बहुल मानी जाकर पाकिस्तान में जाने से बच सकी और उसके साथ लगती छोटी-छोटी मुस्लिम रिसायतें जलालाबाद और ममदोट भी भारतवर्ष के हिस्से में आ गईं।

स्वंत्रता आन्दोलन में भाग

सन् 1907 में साधु केशवानन्द ने समाचार-पत्रों को पढ़ना प्रारम्भ कर दिया था जिनमें प्रायः देश की स्वतंत्रता की चर्चा रहती थी। उनके मन में भी स्वतंत्रता-आंदोलन में भाग लेने की इच्छा जागृत हुई। सन् 1921 में वे गांधीजी के आह्वान पर असहयोग-आंदोलन में शामिल हो गए। वे आर्य साधुओं की भाँति जोशीले भाषण देते थे, इसलिए वे स्वामी केशवानन्द के नाम से पुकारे जाने लगे। पुलिस द्वारा उन पर अंग्रेजी सरकार विरोधी भावनाएँ भड़काने का दोषारोपण किया गया। अन्य आंदोलनकारियों के साथ उन्हें भी गिरफ्तार करके अंग्रेज मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया गया। मजिस्ट्रेट माफी माँग लेने वाले आंदोलनकारियों को छोड़ रहा था। मजिस्ट्रेट ने स्वामी जी से पूछा कि क्या वे माफी माँग कर छूटना चाहेंगे। स्वामी जी का सहज उत्तर था कि यदि मुझे बिना माफी माँगे भी छोड़ दिया जाए तो मैं पुनः आंदोलन में ही शामिल होऊँगा। इस उत्तर पर उन्हें दो वर्ष की जेल की सजा भुगतनी पड़ी। सन् 1930 में वे पुनः देश की पूर्ण स्वतंत्रता के संदेश के प्रचारार्थ फिरोजपुर जिले के स्वतंत्रता-आंदोलन के डिक्टेटर बनाए गए। उन्होंने उत्साहपूर्वक आंदोलन की बागडोर सम्भाली और वे आंदोलनकारियों का एक दल गठित कर अंग्रेजी राज्य के विरुद्ध गाँवों में धुआंधार प्रचार करने लगे। उनकी संगठन कुशलता को देखकर स्वतंत्रता सेनानियों के क्रांतिकारी दल ने भी स्वामी जी को अपने दल में सम्मिलित करने का प्रयत्न किया । स्वामी जी का उन्हें उत्तर था, ‘‘मुझे देश से पूरा प्यार है, मैं इसके लिए बलिदान भी दे सकता हूँ, मैं कठिनाई से डरता भी नहीं हूँ और आपके दल के प्रति भी मेरे मन में पूरा सम्मान है, पर मेरी एक दुविधा है, वह यह कि मैं सच ही कह पाउँगा, कोई बात गोपनीय न रख सकूंगा, और किसी प्रकार की हिंसा भी मुझसे न होगी।’’ उनका यह उत्तर सुनकर फिर कभी क्रांतिकारियों ने उनसे कोई वास्ता नहीं रखा। स्वामी जी के दल के प्रचार-कार्य में अड़चन डालने में पुलिस वालों की कोई चाल सफल नहीं हो पाती थी, अतः वे अपने पूरे दल सहित गिरतार किए जाकर मुलतान की कुख्यात सैण्ट्रल जेल में भेज दिए गए। वहां से वे लगभग एक वर्ष बाद गांधी-इरविन पैक्ट होने पर जेल से मुक्त हुए। मुलतान जेल में रहते हुए अपने दल के साथी अनपढ़ देहाती आंदोलनकारियों का उच्छृंखल व्यवहार देखकर स्वामी जी की देश-सेवा विषयक विचारधारा में परिवर्तन आ गया। उन्होंने अनुभव किया कि जब तक देहात के लोगों को शिक्षित नहीं किया जाता तब तक उन्हें न तो स्वराज्य का महत्व समझ में आएगा और न ही वे देश के स्वतंत्र होने पर अच्छे नागरिक होने का कर्त्तव्य पालन कर सकेंगे। इस कारण उसी समय से उन्होंने देहात में शिक्षा-प्रचार को अपना एक मात्र लक्ष्य बना लिया।

शिक्षा-प्रचार-प्रसार, ग्रामोत्थान विधापीठ संगरिया का निर्माण

फाजिल्का की गुरुगद्दी त्याग कर स्वामी जी ने सन् 1917 में अबोहर-फाजिल्का क्षेत्र में समाज सुधार और हिन्दी-भाषा-प्रचार का कार्य आरम्भ किया था। उसी वर्ष अविद्या और रूढ़िवादी मान्यताओं से घिरे बीकानेर के गांवों की दशा सुधारने का संकल्प लेकर वहां शिक्षा प्रचार के लिए चौ. बहादुर सिंह भोबिया ने 9 अगस्त 1917 को जाट एंग्लो-संस्कृत मिडिल स्कूल संगरिया की नींव डाली। श्रीगंगानगर (तत्कालीन रामनगर) के निवासी चौ. हरिश्चन्द्र नैण वकील भी अविद्या के कारण इलाके के गांव-वासियों की दुर्दशा और पिछडे़पन से दुःखी थे, अतः वे भी शिक्षा-प्रचार के शुभ कार्य में चौ. बहादुर सिंह का पूरा साथ देने लगे। उनके प्रयत्नों से पन्नीवाली के ठाकुर गोपाल सिंह राठौड़ से संगरिया में 14 बीघा 3 बिस्वा भूमि दान में प्राप्त कर वहां 5 कच्चे कमरों और दो कच्ची बैरकों का निर्माण हुआ और विद्यालय एवं छात्रावास का संचालन होने लगा। विद्यालय का सब प्रकार का व्यय गांवों से दान-संग्रह करके पूरा किया जाता था। छात्रों की शिक्षा निःशुल्क थी। सन् 1923 तक जाट विद्यालय संगरिया के प्रबन्ध में गोलूवाला, घमूड़वाली और मटीली में भी शाखा प्राथमिक-शालाएं प्रारम्भ कर दी गईं। जून सन् 1924 में चौ. बहादुर सिंह का देहावसान हो गया और विद्यालय संचालन का भार प्रमुखतः चौ. हरिश्चन्द्र नैण पर रहा। अगले आठ वर्ष तक संगरिया के निकटवर्ती गांवों एवं स्थानीय सज्जनों की एक प्रबन्ध समिति गठित करके और स्वयं संचालन सचिव रह कर वे आर्थिक संकट से जूझते हुए विद्यालय का संचालन ही नहीं करते रहे बल्कि उन्होंने मानकसर, हरीपुरा, दीनगढ़, पन्नीवाली, नगराना, नुकेरा, कुलार और चौटाला गांवों में भी शाखा-प्राथमिक शालाएं खुलवाईं। स्वामी केशवानन्द जी भी अबोहर के साहित्य सदन के संचालन के लिए दान-संग्रह के सिलसिले में संगरिया के आस-पास के गांवों में आते-जाते जाट विद्यालय में रुककर यहां के कार्य को देख चुके थे। जब आर्थिक संकट काबू से बाहर हो गया, तो जाट विद्यालय की प्रबन्ध समिति ने जाट स्कूल को बंद करने का मन बनाकर, उस पर निर्णय लेने के लिए 18 दिसम्बर 1932 को शिक्षा-प्रेमी सज्जनों की एक बैठक बुलाई और उसमें स्वामी केशवानन्द जी को भी आंमत्रित किया। विद्यालय बंद करने का प्रस्ताव सामने आते ही स्वामी जी ने उसका विरोध किया और साहित्य सदन अबोहर का कार्यभार अपने ऊपर होते हुए भी उपस्थित सज्जनों के अनुरोध पर उसके संचालन का जिम्मा अपने ऊपर ले लिया। स्वामी जी का यह निर्णय इलाके के गांवों के लिए कालान्तर में वरदान सिद्ध हुआ। स्वामीजी विद्यालय की दशा सुधारने में जी-जान से जुट गए और उन्होंने इलाके से दान-संग्रह करके सन् 1935 तक, पहले के पांच कच्चे कमरों के स्थान पर मुख्य पक्का विद्यालय-भवन सरस्वती-मंदिर, औषधालय-रसायनशाला, पुस्तकालय-भवन और यज्ञशाला, व्यायामशाला, ‘‘आर्यकुमार आश्रम’’ छात्रावास और दो पक्के जलाशयों (कुण्डों) से युक्त सुन्दर शिक्षा-उपनिवेश खड़ा कर दिया। सन् 1943 तक विद्यार्थी-आश्रम-छात्रावास व सभा-भवन, गौशाला-भवन, पांच अध्यापक-निवास, अतिथिशाला, स्नानागार और एक कुण्ड और निर्मित करवाकर विद्यालय को हाई स्कूल में उन्नत कर दिया गया। सन् 1948 तक वहां आयुर्वेद शिक्षा, वस्त्र-निर्माण और सिलाई, काष्ठ-कला और धातु-कार्य आदि उद्योगों की शिक्षा चालू कर संस्था का नाम ‘‘ग्रामोत्थान विद्यापीठ, संगरिया’’ कर दिया गया। जाट स्कूल की दशा सुधारने के पश्चात् स्वामी जी का ध्यान बीकानेर राज्य के उन मरूस्थलीय गांवों में शिक्षा-प्रचार की ओर गया, जहां उन्होंने जीवन के प्रथम सोलह वर्ष बिताए थे। जाट विद्यालय के लिए दान-संग्रह के सिलसिले में भी उन्होंने अनेक बार उन गांवों के पैदल चक्कर लगाए थे, अतः वे वहां की हर समस्या से परिचित थे। उस अनुभव के आधार पर उन्होंने वहां शिक्षा-प्रचार की एक विस्तृत योजना बनाई और उसे ‘‘मरू-भूमि सेवा-कार्य’’ नाम दिया। इस योजना को गांवों तक ले जाने के लिए उन्होंने गांवों से जुड़े कर्मठ कार्यकत्ताओं का सहयोग लिया, जिनमें प्रमुख थे चौ. दौलतराम सारण, चौ. हसंराज आर्य, लोक कवि सरदार हरदत्त सिंह भादू, चौ. रिक्ताराम तरड़, व्यायामाचार्य श्री रामलाल काजला ओर श्री लालचंद पूनिया। योजना का संचालन-कार्यालय ग्रामोत्थान विद्यापीठ संगरिया में रखकर उन्होंने सन् 1944 से 1959 तक के वर्षों में ‘‘त्रैमासिक शिक्षा योजना’’, ‘‘ग्रामोत्थान पाठशाला योजना’’ और ‘‘समाज शिक्षा-योजना’’ के अन्तर्गत मरूभूमि के गांवों में 287 शिक्षा-शालाओं की स्थापना और संचालन किया। इस कार्य में उन्होंने ग्रामवासियों तथा मारवाड़ी रिलीफ सोसाइटी कलकता का भरपूर सहयोग लिया। इन शालाओं में छात्र-छात्राओं की शिक्षा, प्रौढ़ शिक्षा और गांव वालों की प्राथमिक चिकित्सा का प्रबन्ध रहता था। इन शिक्षा-योजनाओं से बीकानेर, लूनकरणसर, सूरतगढ़, हनुमानगढ़, नोहर, भादरा, राजगढ़, चूरू, रतनगढ़, सुजानगढ़, डूंगरगढ़, नापासर और सरदारशहर तहसीलों के गांवों में शिक्षा प्रचार का इतना कार्य हुआ कि वहां जागृति की लहर उठ खड़ी हुई और लोगों में उन्नति की चाह और उत्साह पैदा हो गया। स्वामी जी की शिक्षा प्रचार की इन योजनाएं के महत्व को समझकर प्रोफेसर ब्रजनारायण कौशिक ने स्वामी जी को ‘शिक्षा-सन्त’ विशेषण देते हुए उनकी प्रथम जीवन गाथा ‘‘शिक्षा संत स्वामी केशवानन्द’’ सन् 1968 में लिखी थी।

समाज-सुधार कार्य

स्वामी जी ने मरूस्थल में प्रचलित मृत्युभोज, अनमेल विवाह, बालविवाह, नारी उत्पीड़न, पर्दा-प्रथा, शोषण और नशा-सेवन आदि, समाज को गरीबी और कष्टों में डालने वाली बुराइयों का भी खूब अनुभव किया था। इसलिए वे लोक-सेवा का मार्ग पकड़ते ही सन् 1908 से इनके विरोध में प्रचार करते आ रहे थे। सन् 1942 में जाट विद्यालय संगरिया की रजत-जयन्ती के अवसर पर सार्वजनिक सभा में उन्होंने मृत्यु-भोज (औसर) पर कानूनी पाबन्दी लगाने का प्रस्ताव पारित करवा कर बीकानेर-सरकार को भेजा था जिसे सरकार ने स्वीकार कर राज्य में मृत्यु-भोज को कानून-विरूद्ध ठहराया था। ‘‘मरूभूमि सेवा कार्य’’ के स्कूलों में भी इन बुराइयों के विरूद्ध प्रचार किया जाता था। सन् 1967 में स्वामी जी को श्रीगंगानगर जिला सर्वोदय मण्डल और जिला नशाबन्दी समिति का अध्यक्ष चुना गया। उन्होंने प्रचारार्थ एक इश्तिहार में लिखा, ‘‘हम इतिहास-प्रसिद्ध सर्वखाप पंचायत का सातवां अधिवेशन संगरिया में बुलाकर विवाह-प्रथा में सुधार करना चाहते हैं, दहेज की कुप्रथा को मिटाकर विवाहों में पांच बाराती ले जाने और दान में एक रूपया और नारियल देने की प्रथा चलाना चाहते हैं। विवाहों में फिजूल-खर्ची का रूपया बचाकर बच्चों की, विशेषकर कन्याओं की शिक्षा में लगाना चाहते हैं। इसके अलावा इस क्षेत्र में शराब और तमाखू के दुर्व्यसनों को हटाने तथा आपसी झगड़ों का निपटारा कराने के लिये ग्रामीण लोगों के थाना-कचहरियों में जाने के विरुद्ध प्रचार करना और पंच फैसलों के द्वारा झगड़े निपटाने के पक्ष में जनमत बनाना चाहते हैं।’’ उन्होंने इस आशय के बड़े-बड़े चार्ट भी बनवाकर इलाके में गाँवों की दीवारों पर लगवाये।

सांप्रदायिक सदभाव

सच्चा साधु होने के नाते स्वामी जी किसी सम्प्रदाय विशेष से न जुड़कर मानव-मात्र के कल्याण के लिए कार्यरत थे। उन्होंने ‘‘जाट विद्यालय’’ का नाम बदलकर ‘‘ग्रामोत्थान विद्यापीठ’’ रखवाया। उनकी संस्थाओं में सभी जातियों के छात्र बिना भेद-भाव, किसी प्रकार की छूआ-छूत न मानते हुए, शिक्षा ग्रहण करते थे। छात्रावासों में भी वे साथ-साथ रहते और एक ही भोजनालय में भोजन करते थे। हरिजन छात्रों को सन् 1952 से भोजन व्यय के लिए छात्रवृति मिलने लगी थी। सन् 1954 में यह सरकारी नियम बन गया कि अनुसूचित जाति के छात्रों को छात्रवृति तभी दी जावेगी, जब उन्हें अलग छात्रावास में रखा जावेगा। स्वामी जी ने इस नियम का सरकार से विरोध किया कि इस प्रकार तो सरकार छूआ-छूत को मिटाने की बजाय बढ़ावा दे रही है, परन्तु उक्त नियम में कोई परिवर्तन नहीं हुआ। उन छात्रों के हित को देखते हुए स्वामी जी ने ‘‘सरस्वती आश्रम’’ नाम का भवन अनुसूचित जाति के छात्रों के लिए दे दिया। उदासी साधु होने के नाते अपने गुरु-ऋण से मुक्त होने के लिए उन्होंने सिख गुरुओं की कल्याणमयी वाणी और सिखों के शौर्य और बलिदान की कहानी हिन्दी-भाषी समाज तक पहुंचाने के उद्देश्य से हिन्दी में एक 700 पृष्ठों के वृहद् सिख इतिहास को जाट इतिहास के सुविख्यात लेखक ठाकुर देशराज से लिखवाकर प्रकाशित कराया। उन्होंने बिश्नोई मत के प्रवर्तक गुरू जम्भेश्वर जी की जीवनी, महर्षि सुकरात, मार्टिन लूथर, महात्मा मेजिनी और महात्मा शेखसादी की जीवनियाँ भी प्रकाशित कराईं। स्वामी जी के निमंत्रण पर नामधारी सिखों के गुरु जगजीत सिंह, जैन मुनि आचार्य तुलसी, जगन्नाथ पुरी के शंकराचार्य, राजस्थान के मुख्यमंत्री बरकतुल्ला खां और हरिजनों के मसीहा बाबू जगजीवनराम समय-समय पर ग्रामोत्थान विद्यापीठ में पधारे। वास्तव में स्वामी केशवानन्द साम्प्रदायिक सद्भाव की जीती जागती तस्वीर थे।

स्वामी केशवानन्द जी के जीवन का घटनाक्रम

स्वामी केशवानन्द जी के जीवन का वर्षवार घटनाक्रम यहाँ दिया गया है जो पुस्तक "स्वामी केशवानंद", लेखक - डॉ. डी. सी. सारण, प्रकाशक - किशनसिंह फौजदार: जयपाल एजेंसीज दहतोरा आगरा-7, सन् 1985, p.13-20 पर आधारित है।

  • 1883: पौष संवत 1940 में ठाकरसी और सारां देवी के घर बीरमा (स्वामीजी का बचपन का नाम) गाँव मगलूणा, जिला सीकर राजस्थान के ढाका परिवार में जन्म।
  • 1888: मगलूणा छोड़कर पिता के साथ रतनगढ़ शहर में माली मोहल्ले में ऊँट के सहारे जीवनयापन प्रारम्भ।
  • 1890: पिता की मृत्यु के कारण अपने गाँव मगलूणा वापस आये जहाँ गायें चराने लगे।
  • 1891: गायें चराते समय भेड़ियों से प्रत्यक्ष सामना।
  • 1892: मगलूणा छोड़कर अपनी माताजी कि मौसी के यहाँ हंसासर-हामूसर (रतनगढ़) रहकर गायें चराने लगे।
  • 1898: अन्न के अभाव में खेजड़ी पेड़ की छाल, पशुओं की खल और भरूट घास पर जिन्दा रहे।
  • 1899: एक मात्र सहारा माता सारां के निधन के बाद अनजान रास्तों पर उत्तर की तरफ निकले।
  • 1899-1903: भटकाव और फिरोजपुर अनाथालय में हिंदी और संस्कृत का प्रारंभिक ज्ञान प्राप्त किया।
  • 1904: (संवत 1961) फाजिल्का में उदासी साधू स्वामी कुशलदास का संस्कृत अध्ययन हेतु शिष्यतव ग्रहण किया। इसी वर्ष स्वामी जी ने अख़बार पढ़ना प्रारम्भ किया।
  • 1905: प्रयाग कुम्भ मेले में महात्मा हीरानंद जी अवधूत ने बीरमा से स्वामी केशवानंद नाम रखा।
  • 1906: वृन्दावन-मथुरा का भ्रमण।
  • 1908: गुरु-गद्दी की प्राप्ति और मरुस्थल का भ्रमण।
  • 1910: नोहर में पं. शिव नारायण शास्त्री से वेदांत दर्शन का अध्ययन।
  • 1911: फाजिल्का साधु आश्रम में वेदांत पुष्पवाटिका नाम से पुस्तकालय की स्थापना।
  • 1912: फाजिल्का पंजाब साधु आश्रम में संस्कृत पाठशाला प्रारम्भ की।
  • 1916: गुरु-गद्दी का त्याग।
  • 1917: गाँव दानेवाले में तिलक की 'गीता रहस्य' का अध्ययन।
  • 1918: अबोहर में हिंदी प्रचार-प्रसार शिक्षा हेतु वातावरण तैयार किया।
  • 1919: दिल्ली के कांग्रेस अधिवेशन में पंडित मदन मोहन मालवीय का भाषण सुना।
  • 1920: मुक्तसर पंजाब में सत्याग्रह एवं अबोहर में नागरी प्रचारिणी सभा कि स्थापना।
  • 1921-22: महात्मा गांधी द्वारा प्रारम्भ असहयोग आंदोलन में भाग लिया। और दो वर्ष कैद।
  • 1923: फाजिल्का पुस्तकालय की शाखा के रूप में पुस्तकालय की स्थापना अबोहर में, ....भारतीय साधू ह्रदय नामक पुस्तक प्रकाशित की।
  • 1924: साहित्य सदन अबोहर की स्थापना, तुलसी जयंती का आयोजन।
  • 1925-26: स्वामी जी की प्रेरणा से एवं सहयोग से श्रीगंगानगर नवयुवक सार्वजनिक पुस्तकालय, ऐलनाबाद हरयाणा में साहित्य सदन एवं मुक्तसर पंजाब में हिंदी प्रचार मंडल की स्थापना।.... आर्यसमाज के अनेक जलसों में भाग लिया। ....रामेश्वरम में डॉ राजेन्द्र प्रसाद से, आनंद भवन में मोतीलाल नेहरू से, श्री सुरेन्द्र बनर्जी , श्री चितरंजन दस से, मैथिलि शरण गुप्त के घर चिरगांव एवं गांधीजी से साबरमती में भेंट की। केशरी कार्यालय पूना गए।
  • 1927: 'साइमन कमीशन वापस जाओ' आंदोलन में भाग लिया। ....युवक समिति सिरसा गठित कर पुस्तकालय की स्थापना।
  • 1928: राजनैतिक कैदियों के हिंदी ज्ञान के लिए पुस्तकें भेजी।
  • 1929: 15 मई 1929 की बिजली उर्दू साप्ताहिक अख़बार की एक कतरन के अनुसार, स्वामी जी ने शपथ ली कि साहित्य सदन का कर्ज अदा करने से पहले अबोहर एवं साहित्य सदन में पांव नहीं रखेंगे। .... 2 फ़रवरी 1929 को साहित्य सदन अबोहर का उद्घाटन उत्सव।
  • 1930: स्वतंत्रता आंदोलन में फिरोजपुर जिले के डिक्टेटर बने। पुनः कैद। गांधी इरवन समझौते के तहत कैद मुक्त।
  • 1931: अबोहर के गाँवों के लिए चलता फिरता पुस्तकालय योजना प्रारम्भ की।
  • 1932: जाट स्कूल संगरिया के संचालक बने। जाट स्कूल का जीर्णोद्धार।
  • 1933: 6 जनवरी 1933 को मण्डी डबवाली में हिन्दू हितकारिणी सभा का गठन कर साहित्य सदन की स्थापना। ....अबोहर के प्रसिद्ध हिंदी मासिक पात्र "दीपक" का प्रकाशन प्रारम्भ किया।
  • 1934: 24,25,26 सितम्बर को पंजाब प्रांतीय हिंदी साहित्य सम्मलेन का नवां अधिवेशन अबोहर में आयोजित किया। ....जाट स्कूल संगरिया में औषधालय की स्थापना।
  • 1935: शारीरिक शिक्षा की तैयारी हेतु विद्यार्थियों को प्रशिक्षण के लिए बड़ौदा भेजा। ....जाट स्कूल संगरिया हेतु धन संग्रह का भरसक प्रयास।
  • 1937: आयुर्वेद विद्यालय की स्थापना। .... बहावलपुर के चानण गाँव में हरिजन पाठशाला की स्थापना। ....खैरदीन मेहतर को धर्मपाल नाम देकर अपनी शरण में रखा.
  • 1938: हिंदी सिक्ख इतिहास लिखने की योजना बनाई। ....संग्रहालय की विधिवत स्थापना।
  • 1939: जाट स्कूल संगरिया में नंदन वन एवं संग्रहालय के भरसक प्रयास।
  • 1940: जाट स्कूल संगरिया हेतु धन संग्रह के अथक प्रयास एवं संग्रहालय विकास।
  • 1941: साहित्य सदन अबोहर में अखिल भारतीय हिंदी साहित्य सम्मलेन का 30 वां अधिवेशन आयोजित किया। ....जाट स्कूल संगरिया में सभा स्थल, पशु शाला, विद्यार्थी आश्रम कुंड, व अध्यापक निवास बनवाये।
  • 1942: जाट स्कूल संगरिया की रजत जयंती मनाई। ....13-14 सितम्बर को सर छोटू राम और के. एम. पन्निकर पधारे। ....विद्यार्थी सम्मलेन का आयोजन। ....मृत्यु भोज विरोधी क़ानून बनाने का अनुरोध, जो बीकानेर सरकार ने मान लिया। ....साहित्य सम्मलेन ने स्वामी जी को साहित्य वाचस्पति की उपाधि प्रदान की.
  • 1943: हिंदी साहित्य सम्मेलन की सभी परीक्षाओं का जाट स्कूल को केंद्र बनाया। ...9 अगस्त 1917 में स्थापित जाट विद्यालय संगरिया को हाई स्कूल में क्रमोन्नत करवाया।
  • 1944: महान मरुभूमि सेवा कार्य योजना लागू की, जिसके अंतर्गत 100 स्कूलों की स्थापना की गयी। संग्रहालय का नामकरण सर छोटूराम स्मारक संग्रहालय।
  • 1945: महाराजा सार्दूलसिंह जी द्वारा उद्योग विभाग का उद्घाटन। ....अखिल राजस्थान वैद्य सम्मलेन। 5 फ़रवरी को मास्टर तेगरामजी के साथ मगलूणा गाँव गए। ....24 दिसंबर को मरुभूमि सेवा कार्य हेतु कलकत्ता गए।
  • 1947: सांप्रदायिक सद्भावना हेतु अथक प्रयास, जाट स्कूल संगरिया में यह जहर नहीं घुलने दिया। ....अनेक मुसलमानों को बचाया और संरक्षण दिया। 24 मई को बीकानेर छात्रावास का उद्घाटन। मानसरोवर यात्रा। मेघवंश सम्मलेन बीकानेर की अध्यक्षता। जाट स्कूल में संगीत शिक्षा का शुभारम्भ।
  • 1949: 4 सितम्बर को भारत सरकार के पुराततव विभाग के डायरेक्टर जनरल डॉ. वासुदेव शरण को संग्रहालय व्यवस्थित करने के लिए बुलाया। ....ग्रामोत्थान पाठशाला योजना के तहत मरुभूमि में अनेक पाठशालाएं खुलवाई। ....20 अगस्त 1925 को स्थापित जाट बोर्डिंग हाउस भाद्रा को स्वामी जी ने 28-3-1949 को नवजीवन प्रदान किया।
  • 1950: नवजीवन प्रेस की ग्रामोत्थान विद्यापीठ में महिला शिक्षा का श्रीगणेश। महिला आश्रम प्रायमरी स्कूल प्रारम्भ। मासिक पत्रिका 'ग्रामोत्थान' का प्रकाशन प्रारम्भ । स्वामी जी ने पटियाला के प्रसिद्ध चित्रकार त्रिलोक सिंह से 8000 रुपये के चित्र ख़रीदे।
  • 1951: छात्रावास भवन सरस्वती और नवजीवन भवन का निर्माण। ....महाजन में 500 बीघा भूमि दान में प्राप्त कर दो माह का प्रौढ़ शिक्षण शिविर का आयोजन किया।
  • 1952: राष्ट्रीय संसद के सदस्य बने। (1952 से 1964 तक)।.... जीवन में पहली बार उपचार हेतु क्लोरोमाइस्टीन का प्रयोग किया।
  • 1953: 1905 से चल रहे चौटाला रोड (संगरिया का पूर्व नाम) का नामकरण संगरिया करवाया।.... 8 जनवरी को लाल बहादुर शास्त्री पधारे। गांधी विद्यामंदिर सरदारशहर की प्रबंध कारिणी के सदस्य बनाये गए। 13 सितम्बर को सांसदों का दल स्वामी जी के कार्यों को देखने आया।
  • 1954: मरुस्थल में बेसिक शिक्षा स्कूलों, समाज शिक्षा केन्द्रों की स्थापना। ....स्वामीजी द्वारा स्थापित स्कूलों की कुल संख्या 287 हुई। ....11 वर्षों के अथक प्रयासों से सिख इतिहास का प्रकाशन। ....छानी बड़ी (भादरा) में स्कूल की स्थापना में सहयोग। ....महिला आश्रम प्रायमरी स्तर से मिडिल स्कूल में क्रमोन्नत। ....समाज शिक्षा संचालकों के लिए प्रशिक्षण शिविर आयोजित किया।
  • 1955: हाईस्कूल बहु-उद्देशीय उच्चतर माध्यमिक स्कूल के रूप में परिवर्तित कराया। ....स्कूल में कृषि संकाय की स्थापना। महाजन में कस्तूरबा महिला ग्रामोत्थान विद्या-पीठ का शुभारम्भ किया। ....उद्घाटन में डॉ. सुशीला नायर पधारी। ....12 अक्टूबर 1955 को सूरतगढ़ में ग्राम छात्रावास का शिलान्यास राजस्थान के मुख्यमंत्री मोहनलाल सुखाडिया एवं डॉ सुशीला नायर द्वारा।
  • 1956: शिक्षक प्रशिक्षण शाला की स्थापना। स्वर्ण मंदिर अमृतसर के स्वर्ण पत्रों के जीर्णोद्धार समारोह के मुख्य अतिथि और उद्घाटन भाषण। ....सोवियत सांस्कृतिक दूत वारान्निकोव पधारे।
  • 1958: राजस्थान के मुख्यमंत्री श्री मोहनलाल सुखाड़िया द्वारा बनारसी दास चतुर्वेदी और ठाकुर देशराज द्वारा सम्पादित स्वामी केशवानंद अभिनन्दन ग्रन्थ उनकी 75 वीं वर्ष गाँठ पर भेंट किया । ....स्वामीजी की प्रेरणा से चौधरी शिवकरण सिंह गोदारा ने अपने पिता की स्मृति में एक लाख रूपया श्रीगंगानगर में कन्या महाविद्यालय की स्थापना के लिए दिए।.... भूदान के प्रणेता विनोबा भावे स्वामी जी के कार्यक्रमों को देखने संगरिया पधारे। ....अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त बहु-भाषाविद युगोस्लाविया के सैकल टी. बोर संगरिया पधारे।
  • 1959: पं. जवाहरलाल नेहरू प्रधानमंत्री भारत सरकार एवं श्रीमती इंदिरा गांधी का ग्रामोत्थान विद्यापीठ में पदार्पण। ....अमेरिकी सांकृतिक दूत थामस जी. ऐलन पधारे। स्वामी जी मोतिया बिन्द के इलाज के लिए अलीगढ गए।
  • 1960: कृषि महाविद्यालय की योजना बनाई ।
  • 1961: शपथ ली कि जबतक कृषि महाविद्यालय चलता न देखलूं संगरिया में पाँव नहीं रखूँगा। ....उनकी प्रतिज्ञा जल्द ही पूर्ण हुई। ....राजस्थान विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ मोहनसिंह मेहता ने स्वयं संगरिया पधार कर कृषि महाविद्यालय की मान्यता प्रदान की।
  • 1962: कृषि महाविद्यालय प्रारम्भ। ....भारत चीन युद्ध में 4100 रुपये चंदा कर एवं 501 रुपये स्वयं के भत्ते से राष्ट्रीय रक्षा कोष में भिजवाये।
  • 1963: 15 जनवरी को महाराजा करणी सिंह पधारे।....17 अप्रेल को रामसुभग सिंह जी से कीर्ति स्तम्भ का उद्घाटन करवाया। ....ग्रामोत्थान विद्यापीठ के लिए ईंट-भट्टे की स्थापना।
  • 1964: सर छोटू राम स्मारक संग्रहालय में क्रन्तिकारी मनमन्त नाथ गुप्त से शहीद कक्ष (लाला हरदयाल कक्ष) का उद्घाटन करवाया।
  • 1965: शिक्षा महाविद्यालय की स्थापना। भारत दर्शन उप शिक्षा मंत्री भारत सरकार ने उद्घाटन किया। ....डॉ सत्य प्रकाश पुराततव विभागाध्यक्ष राजस्थान सरकार के साथ कालीबंगा का निरिक्षण। 'अध्यापक ही वैद्य- वैद्य ही अध्यापक' नमक मौलिक योजना प्रस्तुत की।
  • 1966: मथुरा अखिल भारतीय कृषक सम्मलेन के सभापति। ....कन्याओं के लिए सावित्री देवी छात्रावास का उद्घाटन बृज सुन्दर शर्मा शिक्षा मंत्री राजस्थान सरकार द्वारा करवाया।
  • 1967: जिला सर्वोदय एवं नशा बंदी समिति के अध्यक्ष। चौटाला में हरिजन विद्यालय की स्थापना। ....नशाबंदी, गांधी एवं हिंदी प्रदर्शनी का आयोजन । ....नवम्बर में प्राकृतिक चिकित्सा हेतु जयपुर में।
  • 1968: कृषि महाविद्यालय में कला और विज्ञान संकाय प्रारम्भ। 9 मार्च को खाद्य-मंत्री जगजीवन राम और राजस्थान के मुख्य मंत्री मोहनलाल सुखाड़िया पधारे। 'शिक्षा संत स्वामी केशवानन्द' नामक पुस्तक का प्रकाशन आचार्य बृज नारायण कौशिक द्वारा।
  • 1970: सर्वखाप पंचायत का अधिवेशन एवं शराब तम्बाखू निषेध के प्रचार हेतु 100 पुस्तकालय खोलने का विचार।
  • 1972: मद्रास से 9750 रुपये धन संग्रह, कस्तूरबा महिला ग्रामोत्थान विद्यापीठ महाजन में बड़े पैमाने पर वृक्षारोपण, कन्या महाविद्यालय को हायर सेकंडरी स्कूल का रूप प्रदान किया।

युग पुरुष का महा प्रयाण - 13 सितम्बर 1972 के दिन 2 से 3 बजे के बीच मध्य दिल्ली के तालकटोरा चैराहे के फूट-पथ पर चिर-निद्रा में लीन।

जीवन दर्शन

दैनिक भास्कर[2] ने स्वामी केशवानंद के जीवन दर्शन पर लिखा है कि स्वामी केशवानंद सच्चे समाजसेवी थे। समाज के हित में उनसे यथाशक्ति जो भी बन पड़ता वे करते थे। इस कार्य में आने वाली परेशानियों का सामना भी वे उत्साह से करते और इनसे घबराकर कभी पीछे नहीं हटते थे। समाज कल्याण के कार्यो के अतिरिक्त शिक्षा प्रचार का कार्य स्वामी केशवानंद को अतिप्रिय था।

वे मानते थे कि भारत के पिछड़ा राष्ट्र होने के लिए अशिक्षा सर्वाधिक जिम्मेदार कारण है और यदि इसे दूर कर लिया जाए तो भारत की उन्नति शीघ्र होगी। अत: स्वामी केशवानंद शिक्षा प्रचार के कार्य में बहुत सक्रिय रहते थे। एक दिन इसी कार्य के सिलसिले में उन्हें कहीं जाना था और गाड़ी छूटने में समय कम रह गया था। वे दिनभर से भूखे थे। उन्होंने तत्काल दो-तीन सूखी व ठंडी रोटियां निकालीं, दाल खरीदी और जल्दी-जल्दी चबाकर खाने लगे।

उनके एक सहयोगी ने इस पर आपत्ति की तो वे बोले- मुझे कई जगह जाना है भाई। फिर रात की गाड़ी पकड़ना है। इसलिए मैंने ये रोटियां मंगवाकर रख ली थीं। सहयोगी ने कहा- इस उम्र में आपको ठंडा व बासी भोजन नहीं करना चाहिए। कुछ नहीं तो सूखे मेवे, फल व मक्खन ही ले लिया करें। तब स्वामीजी मुस्कराकर बोले- बात तो ठीक है किंतु यदि इन्हीं बातों की चिंता मुझे करनी होती तो संन्यासी बनकर समाजसेवा करने का व्रत ही क्यों लेता?

उक्त घटना में समाजसेवा का मर्म इंगित किया गया है। सच्चा समाजसेवक मात्र अपने लक्ष्य को दृष्टि में रखता है, मार्ग की बाधाओं को नहीं। समाजसेवा का व्रत लेने वाला व्यक्ति रुकावटों की चिंता नहीं करता।

स्वामी केशवानन्द ऐसे अनोखे साधु थे जिन्होंने आत्म-कल्याण या मोक्ष-प्राप्ति के स्वार्थमय पथ पर चलने की अपेक्षा आजीवन ब्रह्मचारी रहते हुए पर-सेवा और लोक-कल्याण में लगे रहना श्रेयस्कर समझा। उसी को उन्होने पूजा-पाठ, तप-जप और ध्यान-समाधि बनाया। उस खाली हाथ फकीर ने जन-सहयोग से करोड़ों रूपए की शिक्षा-संस्थाएं खड़ी कर दीं और 64 वर्ष के लोक-सेवा-काल में जन-जागरण का जो विशाल कार्य किया उसका मूल्य तो रूपयों में आंका ही नहीं जा सकता। राजस्थान की ओर से चुने जाकर सन् 1952 से 1964 तक वे दो बार संसद सदस्य (राज्य सभा) रहे और उस काल में उन्हें जो भत्ता मिला उसे उन्होंने ग्रामोत्थान विद्यापीठ के संग्रहालय के विस्तार में लगा दिया। स्वतंत्रता-सेनानी होने के नाते उन्होंने कभी न किसी भत्ते की मांग की और न ही किसी ताम्रपत्र की चाह रखी।

स्वामीजी पर पुस्तकें

1. स्वामी केशवानंद जी पर पंडित श्रीराम शर्मा आचार्य द्वारा पुस्तक लिखी गयी है जिसका चित्र यहाँ दिया गया है।

पुस्तक - कर्मयोगी केशवानंद
लेखक - पंडित श्रीराम शर्मा आचार्य
प्रकाशक - युग निर्माण योजना, गायत्री तापोभूमि, मथुरा-3, सन् 2009
फोन:0565-2530128, 2530399

2. स्वामी केशवानंद जी पर श्री डालचंद सारण द्वारा लिखित पुस्तक का विवरण यहाँ दिया गया है।

पुस्तक - स्वामी केशवानंद
लेखक - डॉ. डी. सी. सारण
प्रकाशक - किशनसिंह फौजदार: जयपाल एजेंसीज दहतोरा आगरा-7, सन् 1985

3. पुस्तक - "शिक्षा सन्त स्वामी केशवानंद": लेखक - श्री बृज नारायण कौशिक, सन् 1968

4. "स्वामी केशवानंद अभिनन्दन ग्रन्थ" - स्वामी जी की 75 वीं वर्षगाँठ पर उनकी महान सेवाओं को चिरस्थाई बनाने के उद्देश्य से श्री मोहनलाल सुखाड़िया, मुख्य मंत्री राजस्थान सरकार ने 1958 में बनारसी दास चुतुर्वेदी एवं स्व. ठाकुर देशराज द्वारा सम्पादित स्वामी केशवानंद अभिनन्दन ग्रन्थ भेंट किया।

5. पुस्तक - "सेवा श्रम और शिक्षा का एक अध्याय स्वामी केशवानंद": लेखक - सरदार शेर सिंह

6. प्रशस्ति गीत - अन्धे कवि और गीतकार रामलाल खुशदिल

7. स्वामी केशवानंद स्मारिका

8. पुस्तक: बीरमा से स्वामी केशवानंद, 13 सितम्बर 2011, प्रकाशक : ग्रामोत्थान विद्यापीठ संगरिया

9. राजस्थान स्वर्ण जयंती समारोह समिति जयपुर ने अपनी “राजस्थान में स्वन्त्रता-संग्राम के अमर पुरोधा ग्रंथमाला” के अंतर्गत सन 2002 में श्री गोविंद शर्मा द्वारा लिखित उनकी जीवनी “स्वामी केशवानन्द” प्रकाशित की ।

10. वर्ष 2015 में श्रीमती दुर्गा रणवा की पुस्तक 'शिक्षा संत स्वामी केशवानन्द' प्रकाशित हुई है। यह पुस्तक मनसुख रणवा 'मनु' स्मृति संस्थान, ज्योतिनगर, सीकर द्वारा प्रकाशित की गई है।

स्वामी केशवानंद द्वारा संस्थापित, संचालित एवं प्रेरित संस्थाएं

स्वामी केशवानंद एवं उनसे संबन्धित ऐतिहासिक स्थल
  • ग्रामोत्थान विद्यापीठ संगरिया द्वारा तत्कालीन बीकानेर राज्य के 285 ग्रामीण विद्यालय संचालित होते थे। 1 नवम्बर 1956 को ये विद्यालय राजस्थान सरकार को सुपुर्द कर दिए गए।
  • 15 अगस्त 2008 को राजस्थान सरकार ने बीकानेर में राजस्थान कृषि विश्वविद्यालय का नाम "स्वामी केशवानंद विश्वविद्यालय, बीकानेर" किया. Swami Keshwanand Rajasthan Agriculture University, Bikaner Rajasthan, India 334006, Tel: 0151-2250025, Fax: 0151-2250025, Email Address: reg@raubikaner.org URL: www.raubikaner.org
  • स्वामी केशवानंद द्वारा संस्थापित, संचालित एवं प्रेरित संस्थाएं इस प्रकार हैं:
    • Swami Keshvanand Institute of Technology, M&G, Jaipur, SKIT Campus Ramnageria, Jagatpura, Jaipur-303 025, (Rajasthan) INDIA[4]
    • Swami Keshwanand Engineering College[5]
    • Swami Keshwanand Nursary Teachers Training Institute. Badhadhar, NH-11, Sikar.
    • Swami Keshvanand Institute of Pharmacy , Raisar, Bikaner, Rajasthan
    • Swami Keshwanand Mahila College-Colleges, Abohar,India
    • Swami Keshwanand Sr. Sec. School-Schools, Abohar,India
    • Swami Keshwanand Memorial Public School - Hanumangarh - Rajasthan
    • फाजिल्का डेरा उदासी पंथ
    • अबोहर साहित्य सदन
    • महाजन कस्तूरबा गाँधी महिला विद्यापीठ
    • रतनगढ़ विद्यार्थी आश्रम एवं राजगढ़ विद्यार्थी आश्रम
    • खिचीवाला सुजानगढ़ शिक्षण संस्थान
    • अमृतसर स्वर्ण पात्र स्वामीजी द्वारा चढाया गया था
    • सरदार शहर गाँधी विद्या मंदिर स्वामीजी की प्रेरणा से खोला गया था।

स्वामी जी के नाम पर ट्रस्ट की स्थापना

Swami Keshwanand Trust Mono.jpg

सन 1983 में स्वामी जी की स्मृति को चिरस्थाई बनाने के उद्देश्य से से स्वामी केशवानन्द स्मृति चेरिटेबल ट्रस्ट संगरिया की स्थापना हुई । ट्रस्ट के सतत प्रयत्नों से भारत सरकार और राज्य सरकार के समक्ष स्वामी केशवानन्द जी की देश – सेवा और समाज – सेवा के पक्ष उजागर हुए ।

  • अत: भारत सरकार ने स्वामी केशवानन्द जी को स्वन्त्रता–सेनानी के रूप में स्वीकारते हुए उन्हें मरणोपरांत सम्मानित करने के लिए 15 अगस्त 1999 को उनके चित्र से युक्त तीन रूपए का डाक–टिकट जारी किया
  • राजस्थान स्वर्ण जयंती समारोह समिति जयपुर ने अपनी “राजस्थान में स्वन्त्रता-संग्राम के अमर पुरोधा ग्रंथमाला” के अंतर्गत सन 2002 में श्री गोविंद शर्मा द्वारा लिखित उनकी जीवनी “स्वामी केशवानन्द” प्रकाशित की ।
  • सन 2009 में राजस्थान सरकार ने स्वामी जी के प्रति इलाके के लोगों की श्रद्धा और कृतज्ञता की भावना का सम्मान करते हुए, राजस्थान कृषि विश्वविधालय बीकानेर का नाम स्वामी केशवानन्द राजस्थान कृषि विश्वविधालय बीकानेर करके उनके प्रति अपनी श्रद्धांजलि अर्पित की ।
  • ट्रस्ट ने विश्वविधालय परिसर में स्वामी जी की एक भव्य धातु प्रतिमा का प्रतिष्ठापन करवाकर राजस्थान के मुख्य मंत्री श्री अशोक जी गेहलोत से 4 अक्तूबर 2011 को उसका अनवर्णोत्सव सम्पन्न करवाया । शिक्षा संत स्वामी केशवानन्द जी समाजसेवी सत्पुरुषों के लिए सदियों तक प्रेरणा स्तोत्र बने रहेंगे ।

स्वामी केशवानन्द स्मृति चेरिटेबल ट्रस्ट, संगरिया का संक्षिप्त परिचय: स्वामी केशवानन्द जी का देहावसान 13 सितंबर 1972 को हुआ । उससे पूर्व के 64 वर्षों में उन्होने फाजिल्का अबोहर क्षेत्र में हिन्दी-प्रचार समाज सुधार के कार्य किए, स्वन्त्रता आंदोलन में भाग लेकर जेल की सजाएँ भुगती और फिर संगरिया में रह कर चालीस वर्ष में जाट मिडिल स्कूल को ग्रामोथान विध्यापीठ का रूप दिया और उसके माध्यम का बीकानेर संभाग के दुर्गम पिछड़े क्षेत्र में शिक्षा-शालाएँ स्थापित कर जन-जागृति, रूढ़ि – उन्मूलन, स्वास्थ्य रक्षा आदि कार्यक्रमों द्वारा गाँव को सर्वांगीण विकास की ओर उन्मुख किया । सन् 1952 से 1964 तक वे राजस्थान की ओर से चुने संसद-सदस्य (राज्य सभा) रहे और उन्होने अनेक सांसदों, जन-नेताओं एवं विद्वानो को ग्रामोत्थान विद्यापीठ, संगरिया में आमंत्रित कर इस कस्बे और संस्था को अन्तराष्ट्रिय पहचान दिलाई। ऐसे परोपकारी सिक्षा – संत की स्म्रति बनाए रखने और उनकी ग्रामोत्थान योजनाओं को सतत चालू रखकर समयानुकूल आगे बढ़ाते रहने के उद्देश्य से ग्रामोत्थान विधापीठ परिवार के प्रमुख लोगों, विशेषकर सर्वश्री प्रो. ब्रजनारयण कौशिक, साहिबराम भादू, खेमचंद चौधरी, प्रो. महावीर प्रसाद गुप्ता और श्री शेरसिंह तूर, जिन सबको स्वामी जी का सान्निध्य और मार्ग – दर्शन चिरकाल तक प्राप्त हुआ था, ने कुछ योजनाओं पर स्वामी जी के अंतिम–संस्कारोपरान्त ही प्रयत्न आरंभ कर दिया था । ग्रामोत्थान विधापीठ परिवार के छोटे-बड़े सभी कर्मचारियों एवं छात्र-छात्राओं ने, यथा-श्रद्धा आर्थिक योगदान दिया, जिससे स्वामी जी की संगमरमर-मूर्ति का निर्माण, उसका स्वामी जी के अंतिम संस्कार स्थल पर प्रतिष्ठापन एवं स्वामी जी की जीवनी, सेवा, श्रम और शिक्षा का एक अध्ययन-स्वामी केशवानन्द का प्रकाशन आदि कार्य सम्पन्न कराए गए एवं प्रतिवर्ष स्वामी जी की निर्वाण-तिथि 13 सितम्बर पर उनके श्रद्धा – दिवसोत्सव का आयोजन स्वामी जी की मूर्ति के पास किया जाने लगा। उस वार्षिक आयोजन में विध्यापीठ के सभी कर्मचारी और छात्र-छात्राएँ स्वामी जी लो श्रद्धांजलि देने के लिए एकत्र होते थे। गिने-चुने संस्था के पूर्व छात्र और स्वामी जी के श्रद्धालु सज्जन भी आया करते थे। ग्राम कटैहड़ा (पंजाब) के चौ. रामनरायण ज्याणी, चौधरी राजाराम ज्याणी और श्री ब्रजनारयण कौशिक का पहुँचना सर्वथा निश्चित था। स्वामी जी के पुण्य-तिथि 13 सितम्बर 1983 को श्रद्धा-दिवसोत्सव में श्री ब्रजनारयण कौशिक ने विचार रखा कि सन् 1983 स्वामी जी का जन्म-शती वर्ष होने के कारण उनकी स्म्रति मे ग्रामोत्थान विध्यापीठ में भी कोई प्रवृत्ति चालू की जावे जो स्वामी जी की ग्रामोत्थान योजनाओं को अनवरत चालू रखे। इस पर विस्तृत विचार के लिए सर्वश्री रामनारायण ज्याणी, राजाराम ज्याणी, प्रो. ब्रजनारयण कौशिक, साहिबराम भादू, खेमचन्द चौधरी एवं शेर सिंह तूर की समिति गठित की गयी और एक माह में प्रस्तुत करने को कहा गया। इस समिति ने स्वामी जी की कुटिया (निवास-स्थान) में 11 अक्टूबर 1983 को चौ. रामनरायण ज्याणी की अध्यक्षता में एक बैठक आयोजित की जिसमें संस्था में कार्यरत संस्था के पूर्व छात्रों को भी आमंत्रित किया गया। समिति के सुझावानुसार और चौधरी रामनरायण ज्याणी के आग्रह पर “स्वामी केशवानन्द स्मारक ट्रस्ट” की स्थापना का सर्व-सम्मत प्रस्ताव पारित किया गया। चौ. रामनरायण ज्याणी ने प्रस्तावनुसार कार्य को आगे बड़ाने की ज़िम्मेदारी संभाली और उनके मार्ग दर्शन एवं निर्देशन में समिति सदस्य ग्रामोत्थान विध्यापीठ संगरिया के पूर्व छात्रों – चौ. बलराम जाखाड़ लोक सभाध्यक्ष, डॉ. ज्ञानप्रकाश पिलानिया आई.पी.एस. पुलिस महानिदेशक राजस्थान, चौ. धर्मवीर आइ.ए.एस. क्लैक्टर उदयपुर, चौ. जगदीश कुमार नेहरा, शिक्षा मंत्री हरियाणा आदि उच्च-पदस्थ लोगों एवं श्री गंगानगर-हनुमानगढ़, फाजिल्का-अबोहर और सिरसा-फतेहाबाद के स्वामी जी के श्रद्धालु प्रमुख लोगों से ट्रस्ट के आजीवन ट्रस्टी बनने के स्वीकृति प्राप्त करने हेतु मिले। ट्रस्ट के प्रथम 21 आजीवन ट्रस्टी चुनने मे पूर्ण-निर्देशन चौ. रामनारायण ज्याणी का रहा। उनही की राय से डॉ. बलराम जाखड़ को आजीवन मुख्य संरक्षक एवं डॉ. ज्ञान प्रकाश पिलानिया को ट्रस्ट का अध्यक्ष मनोनीत कर उनकी सहमति प्राप्त की गयी। ग्रामोत्थान विद्ध्यापीठ के महामंत्री श्री यशवंत सिंह से भी संपर्क साधकर उनका सहयोग प्राप्त किया गया। संस्था के विभागाध्यक्षों ने भी सभी कर्मचारियों और छात्र-छात्राओं का सहयोग ट्रस्ट के लिए उपलब्ध कराया। जुलाई-अगस्त 1984 में ट्रस्ट की प्रथम स्मारिका प्रकाशित कराई गयी, जिसकी विषय-वस्तु स्वामी जी, ग्रामोत्थान विद्ध्यापीठ का संक्षिप्त इतिहास, ट्रस्ट-विधान की प्रारम्भिक रूप-रेखा और ट्रस्ट कोष में प्रथम वर्ष में प्राप्त दान का विवरण आदि थे।

ट्रस्ट स्थापना की विधिवत घोषणा: स्वामी जी का तेरहवां स्मृति दिवसोत्सव 13 सितम्बर 1984 को ग्रामोत्थान विद्यापीठ संगरिया के प्रांगण मे आयोजित किया गया और ट्रस्ट के मनोनीत आजीवन ट्रस्टीयों, इलाके के स्वामी जी के श्रद्धालु एवं ग्रामोत्थान विद्ध्यपीठ के हितैषी महानुभाव एवं संस्था के छात्रों को आमंत्रित किया गया। उत्सव के मुख्य अथिति डॉ॰ बलराम जाखड़ लोक सभाध्यक्ष और अध्यक्ष श्री रामचंद्र चौधरी पूर्व मंत्री राजस्थान थे। डॉ ज्ञान प्रकाश पिलानिया ने स्वामी जी को श्रद्धांजली देते हुए उनकी स्मृति में स्थापित किए जाने वाले ट्रस्ट की इलाके के लिए आवश्यकता और उपयोगिता पर प्रकाश डाला और उसकी संक्षिप्त रूप-रेखा उपस्थित जन-समूह के समक्ष रखी। तत्पश्चात उन्होंने जनता-जनार्दन से ट्रस्ट से निर्माण का अनुमोदन करने की मार्मिक अपील की। सब ओर से करतल ध्वनि द्वारा ट्रस्ट निर्माण का अनुमोदन किया गया। मुख्य अतिथि महोदय ने ‘स्वामी केशवानन्द स्मृति चैरिटेबल ट्रस्ट ’ के निर्माण की विधिवत घोषणा की और उसके स्थायी कोष (पूंजी) के निर्माण में उपस्थित जन- समूह से अधिक से अधिक आर्थिक योगदान का साग्रह निवेदन किया।

ट्रस्ट के मुख्य उद्देश्य:

  • स्वामी जी के जीवन-दर्शन के अनुरूप ग्रामोत्थान एवं समाज कल्याण के कार्य करना ।
  • सांस्कृतिक, शैक्षिक एवं आर्थिक उन्नति, सामाजिक एवं नैतिक उत्थान के द्वारा ग्राम्य जीवन के सर्वांगीण विकास के लिए प्रेरणा देना ।
  • सामाजिक कुरीतियों का निवारण, भ्रमपूर्ण रूढ़ियों का उन्मूलन, अछूतोद्धार, नारी-जाती का उत्थान, दान-दहेज बहिष्कार, मध्यनिषेध, नशा-मुक्ति, परिवार नियोजन व कल्याण, स्वास्थ्य-रक्षा एवं शिक्षा तथा हिन्दी-प्रचार को प्रोत्साहित करना ।
  • शिक्षा-प्रचार हेतु स्कूल, कालेज, प्रशिक्षण केन्द्र, वाचनालय, पुस्तकालय, छात्रावास आदि के संस्थापन-संचालन में आर्थिक सहयोग देना ।
  • प्रतिभा सम्पन्न छात्र-छात्राओं को शिक्षा हेतु पुरस्कार, छात्रवृत्ति, ऋण एवं मेडिकल, ईंजीनियरिंग आदि तकनीकी संस्थाओं में प्रवेश हेतु निर्धारित परतियोगिताओं की तैयारी करने की व्यवस्था करना ।
  • स्वामी जी द्वारा संस्थापित एवं पोषित विभिन्न संस्थाओं से सम्पर्क एवं सदभाव रखना तथा उनकी प्रगति में रुचि लेकर यथोचित सहयोग व आर्थिक सहायता करना ।
  • सार्वजनिक उपयोग हेतु मातृगृह, शिशु-शाला, चिकित्सालय, औषधालय, स्वास्थ्य-केन्द्र, परिचर्यालय, विश्रामालय, अतिथिगृह आदि का निर्माण एवं संचालन करना ।
  • स्वामी जी की जीवनी, कृतित्व एवं जीवन-दर्शन विषयक एवं अन्य समाजोपयोगी प्रेरणादायक सतसाहित्य का सृजन एवं प्रकाशन कराना ।
  • स्वामी जी के निर्वाण-दिवस पर एवं समय-समय पर उनके श्रधालुजन के सम्मेलन का आयोजन करना ।
  • कृषि, पशुनस्ल सुधार एवं ग्रामोपयोगी अन्य विषयों के क्षेत्र में अनुसंधान कार्य एवं खोजपूर्ण साहित्य रचना को प्रोत्साहन देना ।

ट्रस्ट के स्थायी कोष (पूंजी) को बढ़ाने का प्रयास : आगे के वर्षों में ट्रस्ट अध्यक्ष डॉ. ज्ञान प्रकाश पिलानिया एवं वरिष्ठतम संरक्षक ट्रस्टी श्री रामचन्द्र चौधरी के नेतृत्व में ट्रस्ट का सदस्यता अभियान (दान-संग्रह-कार्य) सतत चला जिसमें साथ रहकर प्रमुख सहयोगी हैं :

इनके अलावा समाज के कई अन्य सम्मान्य अग्रणी सज्जनों ने भी सहयोग दिया । प्रति-वर्ष स्वामी के स्मृति दिवसोत्सव 13 सितम्बर पर ग्रामोत्थान विध्यापीठ में श्रद्धांजलि सभा का भी आयोजन विध्यापीठ परिवार के सहयोग से होता रहा है और उस अवसर पर भी ट्रस्ट के स्थायी कोष में दान की प्राप्ति होती रही । 13 सितम्बर 1933 के स्मृति दिवसोत्सव तक ट्रस्ट के स्थायी कोष का प्रथम निर्धारित लक्ष्य एक करोड़ का पूर्ण हो गया । आगे के वर्षों में भी स्थायी कोष में धीरे-धीरे वृद्धि होती रही । इस समय में सबसे बड़ा व्यक्तिगत सहयोग प्रवासी भारतीय डॉ. घासीराम जी वर्मा, सीगड़ी जि. झुंझुनू का रहा है जो सन् 2008-09 से प्रतिवर्ष दस लाख रुपए ट्रस्ट की विभिन्न ग्रामोपयोगी योजनाओं के संचालन के लिए ट्रस्ट में दान स्वरूप देते आ रहे हैं । दिनांक 13 सितम्बर 2011 तक ट्रस्ट का स्थायी कोष दो करोड़ रुपए से ऊपर पहुंच गया है ।

ट्रस्ट द्वारा किये गए कार्य

स्थापना से लेकर 20-8-2011 तक उद्देश्य पूर्ति में ट्रस्ट कोष में दान आहुतियाँ ज्यों ज्यों प्राप्त होती गई त्यों-त्यों उद्देश्य पूर्ति के वास्ते ट्रस्ट गतिविधियां चालू होती और आगे बढ़ती गई । तदनुसार पिछले लगभग 28 वेर्षों में ट्रस्ट ने नीचे लिखे अनुसार कार्यों को सम्पन्न करने में आय का उपयोग किया है :-

1. शिक्षा, विशेषत: बालिका शिक्षा हेतु :-

  • स्वामी केशवानन्द महाविद्यालय 10,99,500 रु.
  • ग्रा. वि. उ. मा. विद्यालय 2,33,000 रु.
  • माता जीतो जी शिक्षा संस्था, सुरतगढ़ 1,00,000 रु.
  • राजस्थान कन्या छात्रावास, जयपुर 6,00,000 रु.
  • किसान छात्रावास, भादरा 45,000 रु.
  • सोसाइटी फॉर मैंटली हैंडीकैप्ड, जयपुर 4,00,000 रु.
  • आयु औष. व विश्रामालय, भादरा 5,00,000 रु.
  • जाट कन्या छात्रावास, नोहर 2,00,000 रु.
  • पर्यावरण ग्रामीण विकास समिति, झुंझुनू 50,000 रु.
  • योग 1,69,22,257 रु.

2. छात्र-छात्र हित में कार्य :-

  • छात्रवृत्तियाँ 42,51,257 रु.
  • पुरस्कार 1,77,332 रु.
  • वाचनालय 44,691 रु.
  • कोचिंग व निर्देशन 5,64,103 रु.
  • योग 50,37,383 रु.

3. समाज-सुधार-नशामुक्ति :-

  • कार्यक्रमों में व्यय 4,15,234 रु.

4. प्रचार – कार्य :-

  • स्मारिका विवरणिका आदि 15,20,090 रु.
  • वार्षिक उत्सव 3,89,460 रु.
  • स्वामी जी की मूर्तियां 6,34,400 रु.
  • मुख्य-मंत्री सहायता कोष 1,05,100 रु.
  • योग 26,49,050 रु.

5. भवन निर्माण मरम्मत :-

  • स्वामी केशवानन्द अध्ययन केंद्र 8,40,395 रु.
  • कार्यालय – अतिथिशाला 5,11,788 रु.
  • हनुमानगढ़ कार्यालय भवन एवं अन्य 17,07,398 रु.
  • योग 30,59,581 रु.

6. कार्यालय संचालक आदि

  • वेतन-भत्ते 38,08,393 रु.
  • स्टेशनरी छपाई 57,930 रु.
  • डाक-तार फोन 3,44,512 रु.
  • जल-प्रकाश आदि 2,21,829 रु.
  • अतिथि सत्कार 4,18,790 रु.
  • यात्रा – व्यय 1,33,985 रु.
  • फूटकर 1,16,227 रु.
  • बैंक व्यय 44,580 रु.
  • कानूनी सलाह आडिट 59,399 रु.
  • साज-सज्जा वाटिका 42,466 रु.
  • फर्नीचर टाइप राइटर 44,345 रु.
  • विविध अन्य व्यय 1,52,984 रु.
  • योग 54,45,440 रु.

कुल व्यय का योग 3,35,28,952 रु.

स्मारक का निर्माण

स्वामी केशवानन्द स्मृति समारोह-2016 में स्वामी सुमेधानंद

उतर भारत में शिक्षा सन्त का दर्जा प्राप्त स्वामी केशवानन्द का जन्म लगभग 133 साल पूर्व शेखावाटी के मंगलूणा गांव में हुआ। फाजिल्का फिरोजपुर अबोहर संगरिया महाजन खिचीवाला सुजानगढ सहीत सैंकडों बडे शिक्षण संस्थानों सहीत बीकानेर रियासत में पोने दो सो ग्रामीण पाठशालाओं के संस्थापक स्वामी केशवानन्द तत्कालिन भारत की एक बडी शख्सीयत थे। शिक्षा सन्त की पावन स्मृति में उनकी जन्मस्थली मंगलूणा में एक भव्य स्मारक निर्माणाधीन है। मंगलूणा सालासर बालाजी से 12 किमी लक्षमणगढ रोड पर अवस्थित है। शेखावाटी बीकानेर और मारवाड के संगम में शिक्षा की यह बेमिशाल मशाल सदियों प्रज्जवलित होती रहै इस मकसद से स्वामीजी के श्रद्धालु इस स्मारक पर सालाना एकत्र होंगे।

13 सितम्बर 2016 को शिक्षा सन्त केशवानन्दजी के गांव मंगलूणा में सर्व धर्म सर्व समाज ने स्वामी जी को खास याद किया। एक ही दिन में 1.70 करोड का जन सहयोग। स्वामी जी को भारत रत्न देने के लिये हजारों लोगों द्वारा प्रस्ताव पास किया गया। व्यसनों और कुरितियों के खिलाफ बडा काम करने वाले महान कर्मयोगी को हर साल याद करने का अभिनव संकल्प लिया गया।

मंगलूणा में सर्व धर्म सर्व समाज द्वारा उनकी 44 वीं पुण्यतिथि पर आयोजित स्मृति समारोह 13 सितम्बर 2016 की अध्यक्षता स्वामी सुमेधनंद सरस्वती (ढाका), सीकर संसद ने की तथा केन्द्रीय खाद्य आपूर्ति राज्य मंत्री सी. आर. चौधरी (छिरंग) मुख्य अतिथि थे। इस आयोजन में पूर्व सांसद डॉ हरी सिंह (लुनायाच), पूर्व विधायक दिलसुख राय (भाकर), पूर्व विधायक रनमल सिंह (डोरवाल) , केशरदेव बाबर, स्थानीय विधायक गोविंद सिंह डोटासरा, खंडेला विधायक बंशीधर बाजिया, पूर्व जिला प्रमुख डॉ रीटा सिंह (बुरड़क), वर्तमान जिला प्रमुख अर्पणा रोलन, आदि उपस्थित थे। समारोह में स्मृति स्थल निर्माण हेतु कुल 1.70 करोड़ की सहयोग राशि समारोह स्थल पर ही प्रपट हो गई। इस अवसर पर राजस्थान जाट महासभा के अध्यक्ष राजाराम मील, जिला जाट सभा के अध्यक्ष रतन सिंह पिलानिया, युवा जाट महासभा जिला इकाई अध्यक्ष रवि बिजारणिया, लेखक भँवर लाल बिजारणिया, प्रो० डीसी सारण, प्रो धर्मपाल कोलसिया, सत्यनारायन झझड़िया - फोगां सहित दो हजार लोग उपस्थित थे। यहाँ पर स्वामी केशवानन्द की स्मृति में भव्य समाधि स्थल, अष्टधातु मूर्ति और स्वामी जी की दीर्घा सहित पुस्तकालय और वाचनालय आदि स्थापित होंगे। [6]

Gallery of Images of Swami Keshwanand

Foot notes

  1. D C Saran: Swami Keshwanand vyaktitva evam kratitva, Mob - 9414471412, Jaypal Agencies, Agra,1985 (in Hindi),pp.1-2
  2. दैनिक भास्कर, भोपाल, दिनांक 25 जून 2010: स्वामी केशवानंद ने समाज सेवा का मर्म समझाया
  3. Swami Keshwanand G.V. College
  4. http://www.skit.ac.in/institute.html
  5. http://rajb2b.com/yellowpages/profile-swami_keshwa/Swami-Keshwanand-Engineering-College.html
  6. Jat Gatha, 11/2016,p.10

References

  • D C Saran: Swami Keshwanand vyaktitva evam kratitva, Mob - 9414471412, Jaypal Agencies, Agra,1985 (in Hindi)
  • लेखक - पंडित श्रीराम शर्मा आचार्य: कर्म योगी केशवानंद: , सन् 2009 , प्रकाशक - युग निर्माण योजना, गायत्री तापोभूमि, मथुरा-3, फोन:0565-2530128, 2530399

External link


Back to The Reformers/The Leaders