Bhagirath Chaudhary

From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search
Bhagirath Choudhary

Ch. Bhagirath Choudhary (Choyal) is a member of Rajasthan Legislative Assembly. He was born on 1 June 1954 at Manpura ki Dhani village in Ajmer district, Rajasthan. His father's name is Ramchandra Choudhary.

Education and family details

Ch. Bhagirath Chaudhary studied in Govt. College, Kishangarh till B.A. degree. After that, he started his own business. He is married to Smt. Bhanwari Devi and has 2 sons and 2 daughters.

Political career

Ch. Bhagirath Chaudhary won the last election (14th Vidhan Sabha) in December 2013 from Kishangarh constituency on B.J.P. party's ticket. He was also a member of 12th Vidhan Sabha of Rajasthan (2003-2008).

Social Service

From 1997 to 2007, he rendered great social service in his capacity as Chairman of Rajasthan Jat Mahasabha (Ajmer branch).

Coordinates

Permanent Address - Choyal House, Pani Ki Tanki Ke Pass, Shantinagar, Madanganj-Kishangarh Ajmer
Present Address - 8/23, Vidhayak Nagar (East), Jaipur.
Mobile No. - 94140-11998
eMail Id. - bhagirathchoudhary[dot]25[at]gmail[dot]com

हिन्दी में परिचय

http://bhagirathchoudhary.in/IntroductionOfLife.aspx

अजमेर जिले के नरवर ग्राम पंचायत की छोटी सी ढाणी मानपुरा की ढाणी में श्री रामचन्द्र जी चौंयल (चौधरी) की पाँच सन्तानों में तीसरी सतांन के रूप में ज्येष्ठ सुदी पूर्णिमा सवंत 2011 दिनांक एक जून सन उन्नीस सौ चौप्पन को श्री भागीरथ जी चौधरी का जन्म हुआ। आपकी माता श्रीमति दाखा देवी के आप सबसे लाडले रहे हैं। आपका बाल्यकाल पूर्णरूपेण ग्रामीण परिवेश में रहा है। आपके माता पिता ने बचपन से ही आपको कर्तव्य निष्ठा, अनुशासन प्रियता, सत्यमदिता एवं स्पष्टता का मार्ग बताया है। छोटी सी ढाणी में प्राथमिक शिक्षा ग्रहण कर अरड़का एवं गगवाना गांव में माध्यमिक शिक्षा अध्ययन कर आपने तत्कालीन परिसिथतियों में ग्रामीण अचल में शिक्षा की कठिन परिसिथतियों को पार कर उच्च शिक्षा अध्ययन हेतु किशनगढ़ शहर में अध्ययन किया। पारिवारिक विषम परिस्थितियों को दृष्टिगत रखते हुए आपने सन 1972 में राजकीय महाविद्यालय किशनगढ़ में कला संकाय में द्वितीय वर्ष उत्तीर्ण करने के पश्चात अध्ययन छोड़कर किशनगढ़ शहर में कार्य करने हेतु आ गये। इस बीच परबतसर तहसील के नैत्यान गाँव के किसान परिवार के श्री पाबूराम जी भींचर की सुपुत्री श्रीमती भंवरी देवी के साथ आपका विवाह सन 1973 में अक्षयतृतीया के शुभ दिन हुआ। आपके साथ वैवाहिक जीवन मे पाँच सन्तान हुई जिसमें दो पुत्री एवं तीन पुत्र हैं। तत्पश्चात सन 1973 में ही किशनगढ़ स्थित व्यापारिक प्रतिष्ठान म/स किस्तूरमल गुलाबचन्द के यहाँ मुनीम का कार्य 90- प्रतिमाह वेतन में किया एवं व्यापारिक कार्य शैली एवं वणिक वृति अर्जन कर एक वर्ष पश्चात ही सन 1974 में गांधीनगर किशनगढ़ में अपने मकान के बाहर स्थित दुकान में छोटे से किराणा व्यापार से अपना व्यावसायिक जीवन प्रारम्भ किया। इसी व्यावसायिक जीवन को आगे बढ़ाते हुए सन 1980 में श्री भागीरथ चौधरी ने खनिज विभाग अजमेर से अपने गांव के नजदीक कायमपुरा माईन्स क्षेत्र में एक ब्लेक मार्बल का माईन्स आवंटन कराकर मार्बल उत्पादन का कार्य प्रांरभ किया। तब से लेकर आज तक आप अनवरत मार्बल, ग्रेनार्इट, एवं अन्य खनन उत्पादन कार्य में अग्रसर है आपने सन 1994 से 2003 तक विश्वप्रसिद्ध मार्बल व्यापारिक प्रतिष्ठान आर के मार्बल में मार्बल उत्पादन एवं व्यवासायिक कार्य का सफल निर्देशन भी किया है।

राजनीतिक जीवन

आपने व्यावसायिक जीवन को शीर्ष स्थान पर पहुंचाने के पश्चात आपके मन में से जन सेवा एवं समाज सेवा एवं राष्ट्रहित में अपना योगदान देने की भावना रही है। इसी को परिणीत करने के लिये आपने राजस्थान जाट महासभा के अजमेर जिले के अध्यक्ष के रूप में आपने सन 1997 से 2007 तक समाज के उत्थान एवं विकास में तन, मन, धन से अथक सहयोग दिया आप पुष्कर स्थित जाट विश्राम स्थली के उपाध्यक्ष पद पर सन 2001 से 2006 तक आसीन रहे।

भागीरथ चौधरी ने सन 2003 में भारतीय जनता पार्टी के विधायक प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़ा एवं विजयश्री हासिल की। तत्पश्चात आपने किशनगढ़ विधानसभा क्षेत्र के सर्वांगीण एवं चहुमुखी विकास को दृष्टिगत रखते हुए अपने कुशल नेतृत्व, दृढ़ इच्छाशक्ति, समर्पण भाव एवं सभी को साथ लेकर चलने की कार्यशैली अपनाकर कार्य किया। वे गन्दी राजनीति से परे रहे हैं। आपकी लोकप्रियता का राज कथनी एवं करनी एक एवं काम की पूजा रहा है।

आपने लोकप्रिय पूर्व मुख्यमंत्री महोदया वसुन्धरा राजे जी एवं पार्टी सगंठन के कुशल नेतृत्व एवं मार्गदर्शन में विधायक कार्य काल में किशनगढ़ विधानसभा क्षेत्र में विभिन्न विकास कार्यों में लगभग 800 करोड रूपये के कार्य कराये हैं। जिसमें ग्रामीण क्षेत्र में फ्लोराइड युक्त पानी से मुक्ति दिलाने हेतु 152 करोड़ की वित्तीय स्वीकृति, शहरी क्षेत्र किशनगढ़ में एक दिवसीय जल भंडारण हेतु 214 लाख लीटर क्षमता का टैंक निर्माण हेतु 2.5 करोड़ रूपये की स्वीकृति , रूपनगढ़ रोड रेलवे फाटक पर ओवर-ब्रिज निर्माण की 20 करोड़ की स्वीकृति तो चिर-स्मरणीय एवं ऐतिहासिक रही है।

आपने मुख्यमंत्री सड़क विकास योजना में किशनगढ़ से हनुमानगढ़ मेगा हाइवे का निर्माण रिडकोर द्वारा 460 करोड़ की लागत से, किशनगढ़ उपखंड मुख्यालय पर रोजगारोन्मुखी नवीन औद्यौगिक प्रशिक्षक संस्थान (आई टी आई ) की स्थापना, बिजली की आपूर्ति व्यवस्था एवं गुणवत्ता में सुदृढ़ता हेतु नवीन 220 के वी जी एस एस स्थापना रामनेर ढाणी रोड पर, एवं सिलोरा एवं रूपनगढ़ औद्योगिक क्षेत्र में नये 132 के वी जी एस एस स्थापना आदि महत्वपूर्ण स्वीकृति कराकर स्थापना कराई।

माननीय पूर्व मुख्यमंत्री महोदया जी का वरद हस्त, पार्टी कार्यकर्ताओं को अपार सहयोग, राजनीतिक वरिष्ठ साथियों का कुशल मार्गदर्शन एवं इन सबके साथ किशनगढ़ विधानसभा क्षेत्र के प्रबु़द्ध आमजन एवं ईश्वर की कृपा भी आपकी सफलताओं में शामिल रही है।

सत्ता का सुख नहीं, सेवा ही आपका ध्येय है।

External Links

Contributor - Dayanand Deswal (talk) 03:26, 9 March 2017 (EST)

References


Back to The Leaders