Inana

From Jatland Wiki
Jump to navigation Jump to search
Location of Indana in Nagaur district

Inana (ईनाणा) or Indana is a village in Marwar Mundwa tehsil of Nagaur district in Rajasthan.

Location

History

The village of origin of Inania gotra of Nagavanshi Jats.


डॉ पेमाराम[1]लिखते हैं कि सिंध और पंजाब से समय-समय पर ज्यों-ज्यों जाट राजस्थान में आते गये, मरूस्थलीय प्रदेशों में बसने के साथ ही उन्होने प्रजातन्त्रीय तरीके से अपने छोटे-छोटे गणराज्य बना लिये थे जो अपनी सुरक्षा की व्यवस्था स्वयं करते थे तथा मिल-बैठकर अपने आपसी विवाद सुलझा लेते थे । ऐसे गणराज्य तीसरी सदी से लेकर सोलहवीं सदी तक चलते रहे । जैसे ईसा की तीसरी शताब्दी तक यौधेयों का जांगल प्रदेश पर अधिकार था । उसके बाद नागों ने उन्हें हरा कर जांगल प्रदेश (वर्तमान बिकानेर एवं नागौर जिला) पर अधिकार कर लिया । यौधेयों को हराने वाले पद्मावती के भारशिव नाग थे, जिन्होने चौथी शताब्दी से लेकर छठी शताब्दी तक बिकानेर, नागौर, जोधपुर तथा जालोर के जसवन्तपुरा तक शासन किया । जांगल प्रदेश में नागों के अधीन जो क्षेत्र था, उसकी राजधानी अहिच्छत्रपुर (नागौर) थी । यही वजह है कि नागौर के आस-पास चारों ओर अनेक नागवंशी मिसलों के नाम पर अनेक गांव बसे हुये हैं जैसे काला मिसल के नाम पर काल्यास, फ़िरड़ोदा का फिड़ोद, इनाणियां का इनाणा, भाकल का भाखरोद, बानों का भदाणा, भरणा का भरणगांव / भरनांवा / भरनाई, गोरा का डेह तथा धोला का खड़नाल आदि ।

छठी शताब्दी बाद नागौर पर दौसौ साल तक गूजरों ने राज किया परन्तु आठवीं शताब्दी बाद पुनः काला नागों ने गूजरों को हराकर अपना आधिपत्य कायम किया ।

दसवीं सदी के अन्त में प्रतिहारों ने नागों से नागौर छीन लिया । इस समय प्रतिहारों ने काला नागों का पूर्णतया सफ़ाया कर दिया । थोड़े से नाग बचे वे बलाया गांव में बसे और फिर वहां से अन्यत्र गये ।

Jat gotras

Bhumara Stone Pillar Inscription of the Maharaja Hastin and Sharvanatha

  • Hail! In (the boundary of) the kingdom of the Mahârâja Hastin, who meditates on the feet of (the god) Mahâdêva; at (the village of) Âmblôda; (and) in (the boundary of ) the bhôga of the Mahârâja Sharvanâtha,— (this) boundary-pillar has been set up by Shivadâsa, the grandson of Indana, and the son of the Grâmika Vâsu;— in the Mahâ Mâgha samvatsara; the month Kârttika; the day 10 (and) 9.
  • From: Fleet, John F. Corpus Inscriptionum Indicarum: Inscriptions of the Early Guptas. Vol. III. Calcutta: Government of India, Central Publications Branch, 1888, 111-112.

Population

Population of Inana according to Census 2001 is 5056, Where male population is 2610, While female population is 2446[2]

Geography

Inana is located at 27° 07' 60.00" North Latitude & 73° 49' 60.00" East Longitude.[3] It has an average elevation of 324 meters (1066 feet).

Notable persons

  • Mani Ram Inania - Distt. Excise Officer, Vpo-Inana, Via-Marwar Mundwa, Nagaur, Present Address : B-135, Nityanand Nagar, Road No. 10, Gandhi Path, Queen's Road, Jaipur, Resident Phone Number : 01412354363. Mobile Number : 9414304833
  • लाखा राम, ईनाणा- मारवाड़ जाट कृषक सुधार सभा की प्रबंधकारिणी और कार्यकारिणी में रहकर आप ने जाट जाति की सेवा करके अपने को कृतार्थ किया है। [4]

External Links

References

  1. राजस्थान के जाटों का इतिहास, 2010, पृ.19
  2. Inana on ourvillageindia.org
  3. Falling Rain Genomics, Inc - Inana
  4. Thakur Deshraj: Jat Jan Sewak, 1949, p.210

Back to Jat Villages