Kaik

From Jatland Wiki
Jump to: navigation, search

Kaik (कैक) is a Gotra of the Jats.[1][2]

Origin

History

ठाकुर देशराज[3] ने लिखा है.... कैक - मद्रों की भांति ही यह भी शिवि जाटों की एक शाखा में से बताए जाते हैं। सन् 833 में अरब के सरदार अमरानवीन ने इन लोगों को जीत लिया और यह राज्य सदा के लिए नष्ट कर दिया। यह अफगानिस्तान के दक्षिण पूर्व में केकान पहाड़ के आसपास के प्रदेश के अधिपति थे।

Distribution

Notable persons

External links

References


Back to Jat Gotras