Shibi

From Jatland Wiki
(Redirected from Shivi)
Jump to: navigation, search

Shibi (शिबि)[1] Sibi (सिबी) Sibia (सिबिया) [2][3][4]Shibia (शिबिया)[5] Siba[6]/Sibai/Sibaya Shivi (शिवी)[7] is a gotra of Jats. Sibia is found in Punjab and Shivi in Uttar Pradesh. [8] Dilip Singh Ahlawat has mentioned it as one of the ruling Jat clans in Central Asia. [9]. They are the Sivikas of Fahian.

Origin

Ancestry of Shivi as per Bhagavata Purana

The descendants of Shiva ere called Shivi. Samrat Ushinara's son was Shivi. [10]Shivi was the name of a King and a Gana in ancient India, ruled by democratic system of administration known as ganatantra. Kshudrakas had formed a sangha with Malavas. Sibia were the people descendants of Sibi. Shivis formed a sangha with a big federation or sangha known as Jat, which is clear from Panini's shloka in grammar of Aṣṭādhyāyī. The famous Sanskrit scholar Panini of 500 BCE has mentioned in his Sanskrit grammar known as Aṣṭādhyāyī (III. 3. 19) in the form of shloka as जट झट संघाते or Jata Jhata Sanghāte. This means that the terms 'Jat' and 'democratic federation' are synonymous. [11]

History

V. S. Agrawala[12] writes that Ashtadhyayi of Panini mentions janapada Uśīnara (उशीनर) (IV.2.118) - Panini mentions Ushinara as part of Vahika. Panini mentions three divisions of Vahika Country, viz Kekaya, Uśīnara and Madra. Fourth division to be added to Vahika country is Śavasa. Of these Kekaya and Śavasa may be located between Jhelum and Chenab, the first in the south and second in north respectively; Madra and Ushinara between the Chenab and Ravi River in the north and south respectively.

The Divyadana refers to the Shvasas in Uttarapatha with headquarters at Takshasila to which Ashoka was deputed by his father Bindusara as Viceroy to quell their rebellion. The name of Savasa or Shvasa seems to be preserved in in the modern name Chhiba comprising of Punchh, Rajauri and Bhimbhara. In literature Ushinaras are often associated with the Śibis (greek - Siboi) whose chief town Śibipura has been identified with Shorkot in Jhang district.


V. S. Agrawala[13] writes that Panini mentions Pura (IV.2.122) ending names of towns like Arishṭapura (Pali: Ariṭṭapura, a city in the kingdom of Shivi in Vahika. V. K. Mathur[14] tells us the location of Shivirashtra at Shorkot in Jhang district of Pakistan.


V. S. Agrawala[15] writes that Panini mentions Pura (IV.2.122) ending names of towns like Śivapura - northern town probably in the Shivi Country.


Ram Sarup Joon[16] writes....In the eight generation of Krishna was King Ushinar whose son was Shavi, more popularly known as Shiv Ji. He married Sati and Parbati and had two sons Ganesh or Ganpati and Somi Kartik. Ganesh or Ganpati are not names but titles meaning head of a tribe. Jats have a big Gotra called Shavi. Iran was once known as Shavi Desh as mentioned by Huen Tsang and Fa Hein in the account of their travels to India. They have stated that through Tartar, Kashgar and Pamir they reached Shavi Country. Shavi is even today remembered in Iran as Prophet Shish. A shrine on his name is situated on the bank of River Tigris. A province of Iran was called Shavisthan now known as Seistan. These Shavi


History of the Jats, End of Page-29


People came to be known as Shavisthani, Shavisthans or Scythians. A great Scythian writer Abul Ghazi has called himself a Jat of Chandravanshi dynasty. He also writes that the mother of Scythians was the daughter of Ahilya Devi.

According to the Greek historians Herodotus and Strabo, Shavis spread into Scandanavia and settled down there. Their customs and traditions were like those of the Hindus.


Ram Swarup Joon[17] writes that Shavi was the son of the king Ushinar. He was a Yogi and an ascetic. He was married to, Sati the daughter of king Daksha. After her death he married Parvati. His seat of tapasya was on the Gangotri Mountain. He had two sons, Smokartik and Ganpati (Ganesh).

The Shavi dynasty prospered well. The Descendants of his dynasty are famous as Takshak, Bachak, Bharhaich, Nags etc. Shavi founded the country of Shavisthan (Siestan) in Iran and also the Island of Jatoli. They also founded kingdoms of Turkistan and Scandinavia.

The Shavi rulers constructed the Shorkot fort in Jhang.

In Iran there is a Mausoleum of prophet Shish. Hieun T-sang and Fahien have also called Iran as Shavi country.


Thakur Deshraj writes that The Shivi republic is very ancient and finds mention in Vedas. The Puranas write then as descendants of Ushinara. The Buddhist literature has also mentioned about this gana and mention that Tathagata once took birth in this gana.[18]

At the time of invasion of India by Alexander the great, in 326 BCE, they were found inhabiting area in the vicinity of Malava tribes. The Greek writers have mentioned them wearing clothes similar to wild people even during the war. After some time of Alexander's war, they probably moved to Rajasthan along with Malavas. Thus they are found moveing from Punjab to Malwa and from their to Rajasthan. Their are ruins of an ancient town called 'Tamva-vati nagari' 11 miles north of Chittor. Ancient coins of Shivi people are found near this town bearng 'Majhamikaya Shivajanapadas', which means coins of 'Shiva janapada of Madhyamika'. The 'Tamvavati nagari' was called as 'Madhyamika nagari'. These coins are of the period first to second century BCE. [19]

Sibia - They pretended that the Sibæ were descended from the people who accompanied Hercules in his expedition, and that they retained badges of their descent; that they wore skins like Hercules, and carried clubs, and branded with the mark of a club their oxen and mules. The Sibæ, according to Quintus Curtius, who gives them the name of Sobii, occupied the confluent of the Hydaspes and the Acesines. This people appear to have been driven towards the east by one of those revolutions so frequent in all Asia. At least, to the north of Delhi, and in the neighbourhood of Haridwar, a district is found bearing the name of Siba.[20]

H. W. Bellew[21] writes....The Tarin tribe occupies the Sibi and Peshin districts, and is one of the five tribes composing the Sharkhbun division of the Sarabanri Afghan. ....The Tor Tarin, "Black Tarin," inhabit the Peshin valley, having the Achakzi to their north, the Barech to their west, and the district of Shal (Quetta) to their south, whilst on the east they are separated from their Spin Tarin tribesmen by a strip of Kakar territory.

In Mahabharata

Shibi (शिबी) are mentioned at various places in Mahabharata (I.59.18), (I.61.8), (I.177.15), (II.29.6), (II.48.13), (XIII.116.66),


Adi Parva, Mahabharata/Mahabharata Book I Chapter 59 mentions details of Birth of all creatures starting from Brahma ....Hiranyakasipu had five sons, all famous throughout the world. The eldest of them all was Prahlada, the next was Sahradha; the third was Anuhrada; and after him were Shibi and Vashkala. Shibi is included in verse (I.59.18). [22]


Adi Parva, Mahabharata/Mahabharata Book I Chapter 61 mentions Genealogy of the Danavas...The first of Danavas, who was known by the name of Viprachitti, became that bull among men, noted as Jarasandha. And, O king, that son of Diti, who was known as Hiranyakasipu, was known in this world among men as the powerful Shishupala. He who had been known as Samhlada, the younger brother of Prahlada, became among men the famous Shalya, that bull amongst Valhikas. The spirited Anuhlada who had been the youngest became noted in the world as Dhrishtaketu. And, son of Diti who had been known as Sivi became on earth the famous monarch Druma. And he who was known as the great Asura Vashkala became on earth the great Bhagadatta. The five great Asuras gifted with great energy...Shibi is mentioned in verse (I.61.8). [23]


Adi Parva, Mahabharata/Mahabharata Book I Chapter 177 mentions Kshatriyas came on Swayamvara of Draupadi. Shibi is included in verse (I.177.15). [24]


Sabha Parva, Mahabharata/Book II Chapter 29 mentionsthat Nakula subjugated Western Countries. It includes Shibi in verse (II.29.6). [25]


Sabha Parva, Mahabharata/Book II Chapter 48 Describes Kings who presented tributes to Yudhishthira. It includes Shibi in verse (II.48.13). [26]


Anusasana Parva/Book XIII Chapter 115 gives the List of Kings who had abstained from flesh in Karttika month. It includes Shibi in verse (XIII.116.66). [27]


Shibayo (शिबयो) are mentioned at various places in Mahabharata (VI.18.12), (VI.47.14), (VI.112.109), (VIII.4.37),


Bhisma Parva, Mahabharata/Book VI Chapter 18 mentions... The large armies of the Kurus and the Pandavas ready for war..... And twenty thousand car-warriors followed them. The Abhishahas, the Surasenas, the Shibis, and the Vasatis,.... Shibayo is mentioned in verse VI.18.12). [28]


Bhisma Parva, Mahabharata/Book VI Chapter 47 describes immeasurable heroes assembled for battle.... And the Gandharas, the Sindhu-sauviras, the Shivis and the Vasatis with all their combatants also, (followed) Bhishma, that ornament of battle, and Sakuni, with all his troops protected the son of Bharadwaja. Shibayo is mentioned in verse (VI.47.14). [29]


Bhisma Parva, Mahabharata/Book VI Chapter 112 mentions warriors in the war....Shibayo mentioned verse (VI.112.109). [30]


Karna Parva/Mahabharata Book VIII Chapter 4 mentions that Sanjay tells Dhritarashtra about kings who are slain in war: The Abhishahas, clad in mail, capable of smiting effectually, and fierce in battle, also the Shibis, those foremost of car-warriors, with the Kalingas, have all been slain. Shibaya is mentioned in verse (VIII.4.37) [31]


Shaibya (शैब्य) are mentioned in Mahabharata (VI.46.45), (VI.46.54).


Bhisma Parva, Mahabharata/Book VI Chapter 46 mentions that the Pandavas look the war arrangement and wait for battle...And king Drupada, surrounded by a large number of troops, became the head (of that array). And the two kings Kuntibhoja and Saivya became its two eyes.....Shaibya are mentioned in verse (VI.46.45). [32]


And the rear was protected by Virata aided by the Kekayas, and the ruler of Kasi and the king of the Chedis, with thirty thousand cars. Shaibya are mentioned in verse (VI.46.54) [33]


Shaibyā (शैब्या) (daughter of Shibi) mentioned in Mahabharata (I.90.46), (I.90.83).

Adi Parva, Mahabharata/Mahabharata Book I Chapter 90 mentions ....Pratipa married Sunanda, the daughter of Sivi (Shaibyā), and begat upon her three sons, viz., Devapi, Santanu and Valhika. Shaibyā is mentioned in verse (I.90.46). [34]

Adi Parva, Mahabharata/Mahabharata Book I Chapter 90 mentions that ....Yudhishthira, having obtained for his wife Devika, the daughter of Govasana of the Shaibyā tribe, in a self-choice ceremony, begat upon her a son named Yaudheya. Shaibyā is mentioned in verse (I.90.83). [35]

Visit by Xuanzang in 631 AD

Alexander Cunningham[36] writes that On leaving Utakhanda Hwen Thsang travelled about 600 li, or 100 miles, towards the north, to U-chang-na, or Udyana, which was situated on the river Su-po-fa-su-tu, the Subhavastu and Suvastu of Sanskrit, the Suastus of Arrian, and the Swat or Suat river of the present day. It is called U-chang by the earlier pilgrims Fa-Hian and Sung-yun, which is a close transcript of Ujjana, the Pali form of Udyana. The country is described as highly irrigated, and very fertile. This agrees with all the native accounts, according to which Swat is second only to the far-famed valley of Kashmir. Hwen Thsang makes it 5000 li, or 833 miles, in circuit, which must be very near the truth, if, as was most probably the case, it included all the tributaries of the Swat river. Udyana would thus have embraced the four modern districts of Panjkora, Bijawar, Swat, and Bunir, which have a circuit of only 500 miles, if measured on the map direct, but of not less than 800 miles by road measurement.

Fa-Hian mentions Su-ho-to as a small district to the south of Udyana. This has generally been identified with the name of Swat ; but from its position to the south of Udyana, and to the north of Parashawar, it cannot have been the large valley of the Swat river itself, but must have been limited to the smaller valley of Bunir. This is confirmed by the legend told by Fa-Hian of the hawk and pigeon ; in which Buddha, to save the pigeon, tears his own flesh and offers it to the hawk. The very same legend is related by Hwen Thsang, but he places the scene at the north-west foot of the Mahaban mountain, that is, in the actual valley of Bunir. He adds that Buddha was then a king, named Shi-pi-kia, or Sivika, which may, perhaps, be the true form of Fa-Hian's Suhoto.

The Shokeen or Shivakhande clan

According to Hukum Singh Panwar (Pauria), it may, however, be interesting to note that a Jat tribe, living in about 25 contiguous villages in Jind district of Haryana and about 5 villages in Nangloi block of Delhi , goes by its gotra name as Shivakhande or Sheokhand. of late this gotra has been Arabicised as Shokeen in Delhi villages. Yet the elders of Sheokhand Khap area take pride in the fact that they originally hail from the Dharans, whose kingdom was rather misnomered as "Gupta Empire" in Indian history. Be that as it may, one thing is plausible about the Jats of Sheokhande clan. They must be the Sivas who fought against the Bharatas on the Jamuna River in one of the ten Rigvedic wars i.e. Battle of the Ten Kings. They are identified by scholars with the Shivis[37] or the Sibis of the Usinara country in the north of Haridwar near the source of Ganges.[38] The Sivas or Sibis became known as Shivakhande or Sheokhande from and after the Shivaliks, the abode of Lord Shiva, the highest deity of the Jats. Their descent from the Shivalik hills has provided good grounds to the author of Devasamhita to expound this theory. [39]

Shivi Kings

The Jatakas mention about rulers of Shivi tribe. One of them was a religious and kind king named Sanjaya, who donated every thing and moved himself with his wife Madri, son Jali Kumar and daughter Krishnajina Kumari to 'Bankagiri'. The Buddhist literature 'Avadan Kalplata' writes Sanjay a Vishwamitra. These people were democratic rulers of Ganasangha type. All works were done in these ganas with the consent of clan people. [40]

King Shivi (शिवि) was another great King of this tribe, powerful and generous king. Indra and Agni once tested his generosity by becoming birds when the king gave flesh from his body to fulfil his duty.

The Sibia Jats

Bhim Singh Dahiya[41] writes:This is yet another clan of the Jats which is being mentioned from remote antiquity. The word Sibiya is derived from Sibi, their first ancestor. Rig Veda mentions the Sivas, who fought against Sudasa in the Battle of the Ten Kings.[42] They are also mentioned by the scholiast on Panini. Their ancestor Sivi was the son of Usinara.[43] Another king of the Sivis was named Amitrat apana. [44]

The famous Shorkot inscription mentions their capital city as Sibipura.[45] The Shorkot mound in Jhang district (Pakistan) is the sight of Sibipura. It was lying between the rivers Ravi and Chenab in the Punjab.

The Greek writers mention them quite often. Arrian mentions them as Sibai.[46] They are also noted by Diodorus. At


[p.78]: the time of Alexander's invasion in 326 B.C., they had 40,000 soldiers under arms, ready to fight the Greeks. Arrian records,

"When the army of Alexander came among the Sibai, an Indian tribe, and noticed that they wore skins, they declared that the Sibai were descended from those who belonged to the expedition of Herakles, (again the connection of Jats with [[Hercules!) and had been left behind, for besides being dressed in skins, the Sibai carry a cudgel, and brand on the backs of their oxen, the representation of a club, wherein the Macedonians recognised a memorial of Herakles."[47]

B.C. Law, who gives these references, without identifying them with the Jats of Sibia clan, evades the point by saying, "It seems reasonable to suppose, from the above description of their dress and weapons that the tribe belonged to a racial group not distinctly Aryan.[48] Only B.C. Law has the magic power to know the racial features of a people from their weapons and dress! His phrase, "not distinctly Aryan", is without any basis. Were they indistinctly Aryan? They must have come to Punjab in the sixth century B.C., at the time of the fall of Manda empire at the hands of Cyrus the Great, and Darius. Their dress only shows their hardy nature, unspoilt by luxury which makes nations weak and cowardly. Their cows and oxen, show their cattle breeding and agricultural profession, while their army and weapons prove them to be what Panini calls, "Ayudhajivi" (living by fighting).

In India, they first settled on the Chandrabhaga (Chenab River|Chenab]]) river and later some of them moved to Rajasthan and even towards south along the Kaveri river. The Shivi Jataka No. 499, mentions their king with two cities, named as Aritthapura and Jettuttara]. The first is mentioned by Ptolemy, as Aristobothra, in the north of the Punjab.[49] The second city Jetuttara is identified by N.L. Dey with Nagri, 11 miles north of Chittor. Alberuni mentions it as Jattararur, capital of Mewar.[50] A number of their coins have been found near Chittor, at Madhyamika, and the legends on these coins are "Majhamikaya Sivijanapadasa", i.e., coins of the republic of the Sivis of Madhyamika (Chittor).


[p.79]: The democratic nature of their rule is further indicated by Vassantara Jataka, which shows that the king of the Sibis, banished his own son, Vassantara (वसंतर) in obedience to the demand of his people.

The Mahabharata refers to a Sibi-rashtra (country of the Sibis) ruled by king Usinara.[51] According to Pargiter[52] Sivi son of Ushinara not only originated the Sibis, but also extended his conquests in the whole of the Punjab, through his four sons, named Urisadarbha, Suvira, Kekaya and Madraka who founded the kingdoms named after their names.[53] It was after the names of Suvira and Madraka, that the people of Punjab were called in the Puranas, as Sauviras and Madrakas. The Sibis also migrated to the extreme south of India. The Dasha Kumara Charitam refers to a settlement of the Sibis on the Kaveri river. Varahamihira in his Brihatsamhita mentions a Sivika country in the south. H.C. Ray Chaudhuri identifies the southern Sibis with the Chola ruling family.[54]

Historian Bhim Singh Dahiya has provided proofs of Sivis being Jats. The first proof is of course the name itself. Sibi or Sivi, is the original name of their ancestor and Sibiya/Sibia is derivative meaning the descendants of Sibi. This clan name is only found in the Jats and in no other population group of India. These Sibia Jats are still existing. Shri Gurbax Singh Sibia, ex-minister in Punjab Cabinet was a scion of this ancient clan. The second proof is in the name of their city - Jattararur (Chittor) - which is based on the word Jatta-city of Jats. Incidentally, this is another proof of the fact that Mewar was under the Jats for very long time. Hence the names of its cities like Jaisalmer, Sikar, Sirohi, etc. The last two are names of the Jat clan also. [55]

The Buddhist Sibi Jataka (No. 499) contains their history and legends, and Vesantara Jataka, is named after a son of Sibia King of Jattaraur (Chittor). Their capital in Punjab was Sibipura (Modern Shorkot) [56] Rig Veda mentions the Sibi people and Baudhayana Srauta Sutra mentions, their king, Usinara , whom Indra saved from foreign aggression. They are the Sibai of Arrian and Siboi, of Deodorus. [57] [58]

Dr Pema Ram writes that after the invasion of Alexander in 326 BC, the Jats of Sindh and Punjab migrated to Rajasthan. They built tanks, wells and Bawadis near their habitations. The tribes migrated were: Shivis, Yaudheyas, Malavas, Madras etc. The Shivi tribe which came from Ravi and Beas rivers founded towns like Sheo, Sojat, Siwana, Shergarh, Shivganj etc. This area was adjoining to Sindh and mainly inhabited by Jats. The descendants of Shivi in Rajasthan are: Seu, Shivran, Shivral, Sihot, Sinwar, Chhaba etc. [59]

शिवी और जाट संघ

ठाकुर देशराज[60] ने लिखा है .... यह वर्णन तो हुआ गणतन्त्र के सम्बन्ध में। इससे सहज ही जाना जा सकता है कि कुलों की ओर से निर्वाचित मेम्बरों को गण और उनकी सभा को संघ, उनके अधिपति को गणों का अधिपति अर्थात् गणेश और गणपति कहते थे। उनके शासनतंत्र में सभी कुल समान समझे जाते थे। शिवि लोगों के यहां भी गणतन्त्र शासन-प्रणाली थी। महाभारत में इसका नाम शैवल करके आया है। बौद्ध-ग्रन्थों में इन्हें शिवि और पतंजलि ने ‘शैव्य’ लिखा है। सिकन्दर के साथी यूनानी लेखकों ने इसे शिबोई नाम से उल्लेख किया है। पीछे से पंजाब प्रान्तों को छोड़ ये लोग मालवा में जा बसे थे। सिकन्दर के समय में शिवि लोग मालवों के साथी थे। चित्तौड़ के निकट ‘नगरी’ स्थान में इनके सिक्के पाये गए हैं। उन सिक्कों पर ‘‘मज्झिमकाय शिवि जनपदस’’ अंकित है। मध्यमिका (मज्झिमिका) इनकी राजधानी थी। हिन्दू पॉलिटी के लेखक श्री काशीप्रसाद जायसवाल लिखते हैं कि - ई.पू. पहली शताब्दी के बाद इनके अस्तित्व का कोई प्रमाण या लेख अभी तक नहीं मिला है।1 जाटों में एक बड़ा भाग शिवि गोत्री जाटों का है। ट्राइब्स एण्ड कास्ट्स ऑफ दी नार्थ वेस्टर्न प्रॉविन्सेज एण्ड अवध में मिस्टर विलियम क्रुक साहब लिखते हैं -

The Jats of the south-eastern provinces divide them selves into two sections - Shivgotri or of the family of Shiva and Kashyapagotri.

अर्थात् - दक्षिणी पूर्वी प्रान्तों के जाट अपने को दो भागों में विभक्त करते हैं - शिवगोत्री या शिव के वंशज और कश्यप गोत्री ।

इससे यह नतीजा तो नहीं निकालना चाहिए कि शिवि लोग ही जाट हैं। हां, यह अवश्य है कि शिवि लोग भी महान् जाट जाति का एक अंग हैं। ऐसे प्रमाण मिलते हैं कि अनेक गण मिल करके एक संघ या लीग स्थापित कर लेते थे। क्षुद्रक और मालवों ने मिल करके एक संघ स्थापित किया था। इसी तरह से शिवि लोग भी एक बड़े संघ जट (पाणिनि ने जट का अर्थ संघ किया है) में मिल गये और आज भी एक गोत्र के रूप में जाटों में विद्यमान हैं। बौद्ध-धर्म के अन्तिम काल तक भारतवर्ष में गणतन्त्र शासन-प्रणाली मौजूद थी। ज्यों-ज्यों नवीन हिन्दू-धर्म और राजपूतों का उत्कर्ष होता गया, त्यों-त्यों भारतवर्ष में एकतन्त्र शासन का जोर बढ़ता गया और प्रजातन्त्र घटते गए। यह भी हो सकता है कि यह शिव-वंश के जाट शैव-मतानुयायी रहे हों। चूंकि आरम्भ में शैव और वैष्णव सम्प्रदायों में काफी विरोध रहा था, उसी विरोध को तोड़-मरोड़ करके दक्ष के यज्ञ वाली कथा का सम्बन्ध जोड़ा गया हो। नवीन हिन्दू धर्म की व्यवस्था के अनुसार गण-तन्त्रवादी


1.हिन्दू राज्य-तंत्र, पेज 108


जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-92


अथवा जैन-बौद्ध-धर्मावलम्बी अनार्य म्लेच्छ और धर्म-हीन संज्ञा से पुकारे ही जाते थे। यदि शिव जाति के सम्बन्ध में भी उनके धर्म-ग्रन्थों में इन्हीं शब्दों में याद किया हो तो कोई आश्चर्य की बात नहीं है। गणतन्त्रवादी कुछ समुदायों में से जब कुछ समूह हिन्दू-धर्म में सम्मिलित हुए हों तो बहुत सम्भव है कि उनके पूजनीय और श्रद्धेय गणेश की पूजा को उनकी प्रसन्नता के लिए सम्मिलित कर लिया हो। हमारा कथन इस बात से भी पुष्ट होता है कि गणपति-पूजा का रिवाज महाराष्ट्र प्रान्त में अधिक है और यह सर्वविदित बात है कि मराठे आरम्भ में गणतन्त्रवादी ही थे। पं. सातवलेकर ने मराठों को नागवंशी माना है। नाग एकतन्त्री न होकर प्रजातन्त्रवादी ही थे। हमारा प्रसंग सिर्फ जटा और जाट तक है। गणेश का इतना विस्तृत विवरण हमें इसलिए करना पड़ा है कि लोग शिवजी की जटा से जाटों की उत्पत्ति की अवैज्ञानिक बात का विश्वास छोड़ करके वास्तविक इतिहास समझ लें।

पुराणों के अन्दर एक कथा और आती है कि - शिवि नाम के एक राजा थे। उनकी दयालुता की चर्चा जब स्वर्ग में पहुंची तो देवराज इन्द्र और यम उसकी परीक्षा करने के लिये श्येन (बाज) और कपोत का रूप धारण करके उसके पास आये। श्येन ने कबूतर का पीछा किया। कपोत भागता हुआ शिवि की गोद में आकर छिपा। श्येन ने आकर शिवि से कपोत की याचना की और कहा कि यह मेरी भोज्य वस्तु है। मैं कई दिन से भूखा हूं। आज मुझे यह कई दिन में दैवयोग से मिला है। यदि आप मुझे इसे न देंगे तो मेरे प्राण चले जाएंगे। राजा ने कहा यह तो मेरी शरण में आ चुका है इसे तो दूंगा नहीं। लेकिन तू कोई ऐसी युक्ति बता जिससे तेरे भी प्राण बच जाएं। श्येन न कहा यदि आप कबूतर के बराबर अपना मांस तोलकर दें तो मैं मान जाऊंगा। राजा ने तुला मंगवाई और एक पलड़े में कबूतर को रखकर दूसरे में अपना मांस काट कर रखा। पर सारे शरीर का मांस काट-काटकर चढ़ा देने पर भी वह पलड़ा न उठा। अन्त में राजा स्वयं पलड़े में बैठने लगा। राजा की इस धार्मिक पराकाष्ठा को देखकर इन्द्र स्वयं प्रकट हो गया और राजा के शरीर को पूर्ववत् बना दिया।

यही कथा बौद्ध-धर्म-ग्रन्थ शिविजातक में इस तरह से लिखी है कि - बोधिसत्व ने एक समय शिवि देश में एक राजा का जन्म लिया (राजा से अभिप्राय यहां गणपति का है - लेखक)। राजा बड़ा उदार और दानशील था। उसने अपने राज्य में अनेक दानशाला, धर्मसत्र स्थापित किये थे। कोई याचक राजा के पास से विमुख नहीं फिरता था, दीन-दुखियों के लिये वह दिल खोलकर दान देता था। उसकी ऐसी उदारता को देखकर देवराज इन्द्र का आसन हिल गया। वह राजा के दान की परीक्षा करने के लिये अन्धे ब्राह्मण का रूप धर के उसकी राजधानी में गया। राजा अपनी सभा में बैठा था। अन्धे ब्राह्मण ने कहा -


जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-93


शक्रस्य शक्र प्रतिमानुशिष्टस्त्वां याचितुं चक्षुरिहा गतोऽस्मि । संभावनां तस्य ममैव चाशां चक्षु प्रदानात्सफली कुरूष्व।।

अर्थात् इन्द्र की आज्ञा से मैं आपसे आंख मांगने आया हूं। मुझे आशा है और उसे संभावना है कि आप उन्हें सफल कीजियेगा। राजा अपनी आंख निकाल कर देने को तैयार हो गया। मंत्रियों के लाख मना करने पर भी वैद्य से अपनी एक आंख निकलवाकर उसे दे दी। ब्राह्मण ने वो आंख अपनी आंख के स्थान में लगा ली। राजा उसे एक आंख से देखते हुए देखकर बड़ा प्रसन्न हुआ और दूसरी आंख भी उसे दे दी। कुछ दिन के बाद अन्धे राजा के पास इन्द्र आकर के कहने लगा - राजा जो चाहो मुझसे मांग लो। राजा ने कहा -

प्रभूतं मे धनं शक्र शक्तिमच्च महत् बलम्।

अंधभावात्तिवदानीं मे मृत्युरेवाभिरोचते।।

अर्थात्- हे इन्द्र ! मेरे पास बल, धन, सब है किन्तु अंधा होने के कारण मैं याचकों का मुंह नहीं देख सकता, अतः मृत्यु मांगता हूं। इन्द्र ने कहा - धन्य है ! इस दशा को पाकर भी आप याचकों को देखना चाहते हैं। राजा ने इन्द्र की बातों पर क्रोध-प्रकट करते हुए कहा -

तदेव चेत्तर्हि च याचकानां वचांसि या´चानियताक्षराणि ।

आशीर्मयानीव मम प्रियाणि यथा तथोदेतु ममैकचक्षुः ॥

अर्थात् - यदि मुझे याचकों का आर्शीवाद प्रिय हो तो मेरी एक आंख जयों-की-त्यों अभी हो जाए। यह कहते ही राजा की आंख पूर्ववत् हो गई । पुनः राजा ने कहा -

यश्चापिना चक्षुरयाचतैकं तस्मै मुदा द्वे नयने प्रदाय।

प्रीत्युत्संवैकाग्रमतिर्यथासं द्वितीयमप्यक्षि तथा ममास्तु।।

अर्थात् - यदि एक आंख के मांगने पर मैंने अपनी दोनों आंख हर्ष पूर्वक दे दी हों तो दूसरी आंख भी त्यों हो जाएं। राजा का कहना था कि दूसरी आंख जैसी थी वैसी ही हो गई। फिर सारी पृथ्वी कांप उठी, आकाश में देवता दुंदुभी बजाने लगे। देवराज इन्द्र राजा को यह आर्शीवाद देकर साधु-साधु कह सुरलोक सिधारे -

ननो न विदित राजस्तव शुद्धशयाशयः।

एवं नु प्रतिदत्ते ते मयेमे नयने नृप ॥

समन्ताद्योजनशतं शैलैरपि तिस्कृतम् ।

द्रष्टुम् व्याहता शक्तिर्भविष्यत्यनयोश्चते ॥

अर्थात् - हे राजन् ! आपका आशय मुझसे छिपा नहीं है इसीलिये मैं आपको


जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-94


ये दो आंखे देता हूं। आप सौ योजन तक पर्वत की ओट होते हुए भी देखेंगे और आपकी देखने की शक्ति अव्याहत होगी।1

महाराज शिवि का यह स्थान पेशावर से सात दिन की यात्रा के पश्चात् सिंध नदी के उस पार था। यहां राजा अशोक ने इनकी स्मृति के लिये एक विहार और एक स्तूप बनवाया था। जातक ग्रन्थों से यह भी मालूम होता है कि राजा शिवि भगवान बुद्ध से पूर्व पैदा हुए थे। इस तरह से शिवि जाति का अस्तित्व बौद्ध-काल से पहले का पाया जाता है। लगभग यही समय जट-संघ के स्थापित होने का और भिन्न-भिन्न राजवंशों का जट-संघ में शामिल होकर जाट कहलाने का है। शिवि जाति में जो कि इस महान जाट-जाति का एक अंग है, कई प्रसिद्ध राजा उत्पन्न हुए, जिनका वर्णन हम यथास्थान करेंगे। चूंकि शिवि जाति जट-संघ में शामिल हो गई थी, अनेक पीढ़ियों के बाद तक भी उन लोगों के लिये जो कि शिवि-जाति में से आये थे यह बात तो याद रही कि उनके पुरखे शिवि कहलाते थे। पर इस बात को वे कतई भूल गये कि शिव किसी एक पुरूष का नाम न होकर जाति का नाम था। इसलिये वे स्वयं को शिवजी अर्थात् पौराणिक महादेव का वंशज मान बैठे। लेकिन यह प्रश्न कि वह शिवजी के वंशज होकर जाट नाम को कैसे प्राप्त हुए, मोटी अकल से यही मान लिया कि वे अवश्य ही शिवजी की जटाओं से पैदा हुए हैं। क्योंकि उनके सामने एक पौराणिक कथा भी थी कि शिवजी ने जटा में से कुछ आदमियों को पैदा किया जो कि वीरभद्र तथा गणादिक कहलाते थे। हालांकि यह कथा भी बहुत संभव है गणतंत्र के विरूद्ध गणों की राजनैतिक संस्थाओं के बजाय धार्मिक पुरूष बताने के लिये तथा वास्तविकता पर आवरण डालने के लिये रची गई हो। जाटों के सम्बन्ध में शिवजी के जटा में से पैदा होने की दन्तकथा का यही आधार और कारण है।

उद्यान, कैस्पियन सागर में शिवि

शिवि - इन लोगों का राज्य पेशावर के उत्तर में उद्यान नामक प्रदेश पर था।[61]


शिवि वंश - आरम्भकाल में इन लोगों का राज्य उद्यान प्रदेश पर था। यह आजकल मस्सागेटाई नाम से प्रसिद्ध है जो कि कैस्पियन सागर के पश्चिमी किनारों पर वह प्रदेश है जिसको अरेकिसज एवं उसकी सहायक नदी कुर सींचती है। यह सीथिया देश का ही एक प्रान्त था। यहां पर जाटों की बड़ी शक्ति रहती आई है। शिवि लोगों का एक दल यूरोप की ओर बढ़ गया और स्केण्डेनेविया में पहुंच गया। दूसरा दल भारत से ईरान पहुंचा जहां इनका शासन शाकद्वीप (जो ईरान के उत्तर में है) पर था। इन लोगों ने एक शिवस्थान नामक नगर बसाया जो आज सीस्तान कहलाता है। सीस्तान ईरान के पूर्व प्रदेश में तथा अफगानिस्तान के दक्षिण-पश्चिम में स्थित है। जाट इतिहास अंग्रेजी अनुवाद पृ० 36, 101 लेखक रामसरूप जून ने लिखा है कि 2000 ई० पू० शिवि गोत्र के जाटों ने ईरान में सीस्तान प्रान्त पर राज्य स्थापित किया। चीनी यात्री फाह्यान व ह्यूनत्सांग ने भी ईरान को शिवि देश कहा है।[62]

शिवि गोत्र के तोमऋषि नामक राजा अमू दरिया के दक्षिणी क्षेत्र पर राज्य करते थे। इनकी राजधानी उद्यान थी। छठी शताब्दी ई० पू० में इनका युद्ध फारस के प्रसिद्ध सम्राट साईरस से, खुरासान के पूर्वी क्षेत्र पर हुआ था जिसमें साईरस को मुंह की खानी पड़ी और वह वापिस लौट गया। (जाट इतिहास उत्पत्ति और गौरव खण्ड), (पृ० 162-163, ले० ठा० देशराज)। (देखो तृतीय अध्याय, शिवि वंश प्रकरण)।[63]

शिवि का इतिहास

दलीप सिंह अहलावत[64] लिखते हैं:

चन्द्रवंशी सम्राट् उशीनर के पुत्र शिवि थे। प्रसिद्ध दानी महाराज शिवि की कथाओं से सारी हिन्दू जाति परिचित है। इसी सम्राट् से शिविवंश प्रचलित हुआ जोकि जाटवंश (गोत्र) है1। पेशावर के उत्तर उद्यान नामक स्थान में इनका राज्य था। शेरकोट झंग में इनके द्वारा बसाया शिविनगर आज भी विद्यमान है। इस शिविवंश का वर्णन रामायण में है। महाभारतकाल में युधिष्ठिर ने स्वयंवर रीति से शिवि नरेश गोवासन की कन्या देवकी से विवाह किया था, जिससे एक पुत्र जिसका नाम यौधेय था, उत्पन्न किया (महाभारत आदिपर्व 95वां अध्याय)। यही राजा गोवासन पूर्व प्रतिज्ञाबद्ध होने से दुर्योधन की ओर से महाभारत युद्ध में शामिल हुआ था। द्रोणपर्व अध्याय 95, श्लोक 38 में लिखा है कि इस राजा गोवासन के अतिरिक्त पांचों पांडवों के साथ द्रोपदी को काम्यक वन में जयद्रथ और शिविवंशी राजा कोटिकाश्य ने भी देखा था। वनपर्व (267-5) में इस कोटिकाश्य को शैव्य सुरथ का पुत्र लिखा है। द्रोणपर्व (22-12) में युद्धलिप्त शैव्य चित्ररथ का वर्णन है। यह शैव्यवंश या शिविवंश एक ही है। एक शिविवंश राजा को द्रोण ने मारा और एक पर श्रीकृष्ण जी ने विजय प्राप्त की थी। वनपर्व (12-31) से यह भी विदित होता है कि ये शिविराजे सिंधुओं के करद थे।

आरम्भकाल (वैदिककाल) में भारतवर्ष में शिवि लोगों को दक्ष राजा से भी भयंकर युद्ध करना पड़ा था। वीरभद्र इनका सेनापति था जो दक्ष को मारकर तथा दक्षनगर (कनखल) को विध्वंस करने के कारण ही प्रसिद्ध हुआ था। ईसा से सन् 326 वर्ष पूर्व जब विश्वविजेता सिकन्दर ने भारत पर आक्रमण किया, उस समय शिवि लोग मालव (मल्लों) के पड़ौस में बसे हुए थे। उस समय के इनके वैभव के सम्बन्ध में सिकन्दर के साथियों ने लिखा है - कि इनके पास चालीस हजार तो पैदल सेना थी। इन शिवि2 जाटों ने सिकन्दर की सेना का बड़ी वीरता से मुकाबला किया। कुछ लोगों ने पंजाब के वर्तमान शेरकोट (जि० झंग) जो पाकिस्तान में है, को इनकी राजधानी बताया है। महर्षि पतञ्जलि ने भी इस वंश का वर्णन किया है। बौद्ध-काल में इनकी अच्छी स्थिति थी। बौद्ध लोगों का कहना है कि भगवान् बुद्ध ने पहले एक बार शिवि लोगों में भी जन्म लिया था। शिवि जातक और सुंगयन के यात्रा वर्णन से शिवि जनतन्त्र की स्थिति पेशावर से सात दिन की यात्रा


1. देखो वंशावली, अनु का वंश।
2. शिवि को यूनानियों ने शिबोई कहा है। महाभारत में शैवल, पतञ्जलि ने शैव्य तथा बौद्धग्रन्थों में शिवि लिखा है।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-195


करने पर सिंधुपार निश्चित होती है जहां सम्राट् अशोक के द्वारा महाराजा शिवि की स्मृति में एक स्तूप और विहार के निर्माण कराए जाने का भी परिचय मिलता है।

शिवि लोगों के फैलने का वर्णन हमको तीन स्थानों पर मिलता है -

  1. आरम्भ में ये लोग हरद्वार से शिवालिक की पहाड़ियों और मानसरोवर के निचले हिस्से में आबाद थे। फिर यह उत्तर-पूर्व पंजाब में फैल गये। यही पंजाब के शिवि लोग राजपूताना में चित्तौड़ तक पहुंच गये जहां इनकी राजधानी मध्यमिका नगरी थी। यहां से इनके सिक्के भी प्राप्त हुये हैं जिन पर लिखा हुआ है - मज्झिम निकाय शिव जनपदस
  2. दूसरा समुदाय इनका तिब्बत को पार कर गया जो वहां की भाषा में श्यूची कहलाने लगा। कई इतिहासकारों का मत है कि कुषाण लोग इन्हीं श्यूची (शिवि) लोगों की एक शाखा थे। महाराजा कनिष्क कुषाणवंश के जाट नरेश थे।
  3. शिवियों का एक समूह उद्यान से ईरान की ओर बढ़ गया था। वहां उन्होंने एक शिवस्थान नामक नगर अपने नाम से बसाया जो अब सीस्तान कहलाता है। ईरान से इनका एक दल, जाटों के अन्य दलों के साथ यूरोप में बढ़ गया। [Scandinavia|स्कण्डनेविया]] और जटलैंड दोनों में ही इनका जिक्र आता है। टसीटस, टालेमी और पिंकर्टन तीनों का ही कहना है कि - “जटलैंड में जट (जाट) लोगों की छः जातियां (वंश) थीं जिनमें सुरावी, किम्ब्री हेमेन्द्री और कट्टी भी शामिल थीं, जो एल्व और वेजर नदियों के मुहाने तक फैल गईं थीं। वहां पर इन्होंने युद्ध के देवता के नाम पर इमनश्यूल नाम का स्तूप खड़ा किया था।” ये सुरावी ही शिवि जाट और किम्ब्री ही कृमि जाटवंश हैं। इन लोगों में हर गौरी और पृथ्वी की पूजा प्रचलित थी। उत्सवों पर वे हरिकुलेश1 (विष्णु) और बुद्ध2 की प्रशंसा के गीत गाते थे (हर गौरी - शिव पार्वती)। ये लोग संघ (गण) अधिपति को गणपति व गणेश कहते थे। इनकी जितनी भी छोटी-छोटी शाखायें थीं वे ‘जाति राष्ट्र’ (प्रजातन्त्र संघ) में सम्मिलित हो गईं थीं।

अफ़गानिस्तान में शिवि और कुर्रम दो जिले हैं, जो शिवि और कृमि जाटों के नाम पर प्रसिद्ध हुये थे। हाला जाटों के नाम पर हाला पहाड़ भी है जिसे सोमगिरि के नाम से भी पुकारते हैं। जाटों में शिवि गोत्रियों की बहुत बड़ी जनसंख्या रही है, यहां तक कि इनकी अधिकता को देखकर “ट्राइब्स एण्ड कास्ट्स आफ दी नार्थ प्राविन्सेज एण्ड अवध” के लेखक मि० कुर्क साहब ने लिखा है कि “दक्षिण-पूर्व के जाट अपने को दो भागों में बांटते हैं। शिवि-गोत्री या शिव के वंशज और कश्यप गोत्री।” इसी तरह की बात कर्नल टॉड भी प्रसिद्ध इतिहासकार टसीटस के हवाले से लिखते हैं - “स्कन्धनाभ देश में जट नामक एक महापराक्रमी जाति निवास करती थी, इस जाति के वंश की


1. Herodotus|हेरोडोटस]] मिश्र देश की परम्परा के आधार पर लिखता है - हरकुलीस दूसरी श्रेणी के देवों में से एक है। ये बारह हैं (दक्ष की अदिति कन्या से 12 देव कहलाये जिन में विष्णु सबसे छोटा और गुणवान् था। इनसे पहले 8 देव हुए जो पहली श्रेणी में गिने जाते हैं और विष्णु आदि 12 देव दूसरी श्रेणी में)। यह विष्णु का नाम ही हरकुलीस बन गया (भारत का वृहद इतिहास पृ० 220 लेखक पं० भगवद्दत्त बी० ए०)
2. जिस चन्द्र से चन्द्रवंश चला, का पुत्र बुध था।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-196


बहुत-सी शाखायें थीं। उन शाखाओं में शैव और शिवि लोगों की विशेष प्रतिष्ठा थी।” हिन्दुओं के प्राचीन ग्रन्थकारों ने शिवि लोगों को शैवल और शैव्य करके भी लिखा है।

पंजाब के सिक्ख जाटों मे शिवहोते दल के क्षत्रिय भी शिविवंश के ही हैं। जालन्धर जिले में चक्रदेशराज, बड़ा पिण्ड, छोटी रुडका, चकसाह, पिसौड़ी इसी वंश के बड़े गांव हैं।

शिवि वंश के शाखा गोत्र - 1. शिवहोते 2. तेवतिया 3. भटौनिया[65]

सिकन्दर की वापसी में जाट राजाओं से सामना

दलीप सिंह अहलावत[66] के अनुसार व्यास नदी के तट पर पहुंचने पर सिकन्दर के सैनिकों ने आगे बढ़ने से इन्कार कर दिया। इसका कारण यह था कि व्यास से आगे शक्तिशाली यौधेय गोत्र के जाटों के गणराज्य थे। ये लोग एक विशाल प्रदेश के स्वामी थे। पूर्व में सहारनपुर से लेकर पश्चिम में बहावलपुर तक और उत्तर-पश्चिम में लुधियाना से लेकर दक्षिण-पूर्व में दिल्ली, मथुरा, आगरा तक इनका राज्य फैला हुआ था। इनका प्रजातन्त्र गणराज्य था जिस पर कोई सम्राट् नहीं होता था। समय के अनुकूल ये लोग अपना सेनापति योग्यता के आधार पर नियुक्त करते थे। ये लोग अत्यन्त वीर और युद्धप्रिय थे। ये लोग अजेय थे तथा रणक्षेत्र से पीछे हटने वाले नहीं थे। इनकी महान् वीरता तथा शक्ति के विषय में सुनकर यूनानियों का साहस टूट गया और उन्होंने आगे बढ़ने से इन्कार कर दिया। इनके राज्य के पूर्व में नन्द वंश[67] (नांदल जाटवंश) के सम्राट् महापद्म नन्द का मगध पर शासन था जिसकी राजधानी पाटलिपुत्र थी। यह बड़ा शक्तिशाली सम्राट् था। यूनानी लेखकों के अनुसार इसकी सेना में 20,000 घोड़े, 4000 हाथी, 2000 रथ और 2,00,000 पैदल सैनिक थे। सिकन्दर को ऐसी परिस्थिति में व्यास नदी से ही वापिस लौटना पड़ा। [68]

सिकन्दर की सेना जेहलम नदी तक उसी रास्ते से वापिस गई जिससे वह आयी थी। फिर जेहलम नदी से सिन्ध प्रान्त और बलोचिस्तान के रास्ते से उसके सैनिक गये। परन्तु वापिसी का मार्ग सरल नहीं था। सिकन्दर की सेना से पग-पग पर जाटों ने डटकर युद्ध किए। उस समय दक्षिणी पंजाब में मालव (मल्लोई), शिवि, मद्र और क्षुद्रक गोत्र के जाटों ने सिकन्दर की सेनाओं से सख्त युद्ध किया तथा सिकन्दर को घायल कर दिया। कई स्थानों पर तो जाटों ने अपने बच्चों को आग में फेंककर यूनानियों से पूरी शक्ति लगाकर भयंकर युद्ध किया।

मालव-मल्ल जाटों के साथ युद्ध में सिकन्दर को पता चला कि भारतवर्ष को जीतना कोई सरल खेल नहीं है। मालव जाटों के विषय में यूनानी लेखकों ने लिखा है कि “वे असंख्यक थे और अन्य सब भारतीय जातियों से अधिक शूरवीर थे[69]।”

सिन्ध प्रान्त में उस समय जाट राजा मूसकसेन का शासन था जिसकी राजधानी अलोर थी। जब सिकन्दर इसके राज्य में से गुजरने लगा तो इसने यूनानी सेना से जमकर युद्ध किया। इससे आगे एक और जाटराज्य था। वहां के जाटों ने भी यूनानियों से लोहा लिया[70]

सिकन्दर की सेना जब सिंध प्रान्त से सिंधु नदी पर पहुंची थी तो इसी राजा मूसकसेन (मुशिकन) ने अपने समुद्री जहाजों द्वारा उसे नदी पार कराई थी[71]

जब सिकन्दर अपनी सेना सहित बलोचिस्तान पहुंचा तो वहां के जाट राजा चित्रवर्मा ने जिसकी राजधानी कलात थी, सिकन्दर से युद्ध किया[72]


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-363


अलग-अलग स्थानों पर हुए युद्ध में जाटों ने सिकन्दर को कई बार घायल किया। वह बलोचिस्तान से अपने देश को जा रहा था परन्तु घावों के कारण रास्ते में ही बैबीलोन (इराक़ में दजला नदी पर है) के स्थान पर 323 ई० पू० में उसका देहान्त हो गया[73]। उस समय उसकी आयु 33 वर्ष की थी।

भारत से लौटते समय सिकन्दर ने अपने जीते हुए राज्य पोरस और आम्भी में बांट दिये थे और सिन्ध प्रान्त का राज्यपाल फिलिप्स को बनाया। परन्तु 6 वर्ष में ही, ई० पू० 317 में भारत से यूनानियों के राज्य को समाप्त कर दिया गया और मौर्य-मौर जाटों का शासन शुरु हुआ। इसका वर्णन अध्याय पांच में किया गया है।

बोध कथाः राजा शिवि का नेत्र-दान

प्राचीनकाल में शिवि देश के अरिट्टपुर नगर में शिवि राजा रहता था। उस राजा की रानी ने बोधिसत्व के रूप में पुत्र को जन्म दिया था। राजा ने उसका नाम शिविकुमार रखा। समय आने पर राजा ने शिविकुमार को विद्या अध्ययन के लिए तक्षशिला भेजा। जब राजकुमार तक्षशिला से शिल्प सीखकर आया, तो राजा को अपनी सीखी हुई विद्या दिखाई। राजा उसकी कला को देखकर अत्यंत प्रसन्न हुआ और कुमार को उप राजा बना दिया।

राजा की मृत्यु के बाद वह राजा बना और धर्मानुसार शासन करने लगा। उसने किले के चारों फाटकों, नगर के मध्य और राजभवन के द्वार पर छ: दानशालाएं निर्मित कराईं, जिनमें वह प्रतिदिन छ:-सात हजार मुद्राएं खर्च करके दान दिलवाता रहता था। राजा अष्टमी, चतुर्दशी और पूर्णिमा के दिन दानशालाओं में जाकर निरीक्षण करता था।

एक बार राजा पूर्णिमा के दिन प्रात:काल श्वेत-छत्र के नीचे राजसिंहासन पर बैठा हुआ था। वह सोचने लगा, ‘‘कोई ऐसा बाहरी पदार्थ नहीं है जिसे मैंने दान नहीं दिया हो किंतु बाहर के पदार्थ के दान देने से संतोष एवं मन सुखी नहीं होता है। मैं अपनी निजी वस्तु दान देना चाहता हूं। क्या अच्छा हो यदि आज मैं दानशाला में जाऊं और कोई याचक मुझसे बाहरी वस्तु न मांगकर निजी वस्तु जैसे मेरा राजपाट, शरीर का मांस, रक्त या फिर मेरी आंख ग्रहण करे।

ऐसा सोचकर राजा दानशाला की ओर गया। शक्र देव ने राजा के मन की बात जानकर सोचा, ‘‘राजा शिवि आज याचक को अपनी आंखें निकालकर दान देने की सोचता है, वह दे सकेगा या नहीं?’’ उसकी परीक्षा लेने के लिए शक्र ने बूढ़े, अंधे ब्राह्मण का वेश बनाया और दानशाला में जा पहुंचा। राजा ने एक ऊंचे स्थान पर खड़े हो, हाथ उठाकर पूछा, ‘‘यह ब्राह्मण क्या कहता है?’’

शक्र बोला, ‘‘महाराज! तुम्हारे दान-संकल्प का जो कीर्तिघोष हुआ है, उसने समस्त लोकवासियों को स्पर्श किया है। मैं अंधा हूं और तुम्हारे पास दो आंखें हैं। बहुत दूर निवास करने वाला बूढ़ा आंख मांगने के लिए आया है। मैं मांग रहा हूं, मुझे एक आंख दे दो। दोनों एक-एक आंख वाले हो जाएंगे।’’

यह सुनकर बोधिसत्व राजा शिवि ने मन ही मन सोचा, ‘‘अभी मैं महल में बैठा-बैठा सोच रहा था। यह कितना अच्छा हुआ। आज मेरा मनोरथ पूरा होगा। जैसा दान मैंने पहले कभी नहीं दिया, ऐसा दान दूंगा।’’ यह सोचकर बोधिसत्व अत्यंत प्रसन्न हुए और उन्होंने कहा, ‘‘हे याचक! तू किसके कहने से यहां पर आंखें मांगने आया है? तू कठिनाई से देने योग्य उत्तम आंखें मांग रहा है, जिस नेत्र को सभी लोग कठिनाई से देने योग्य कहते हैं।’’

यह सुनकर शक्र ने उत्तर दिया, ‘‘जिसे देवलोक में सुजम्पति और मनुष्य लोक में मधवा कहते हैं। मैं उनके कहने से आंखें मांगने आया हूं। मैं याचक हूं, मुझे आंखें मांगने पर श्रेष्ठ दान दें। मुझे सर्वश्रेष्ठ आंखें दें, जिन आंखों के दान को लोग कठिनाई से दे सकने योग्य कहते हैं।’’

इतना सुनकर बोधिसत्व राजा शिवि ने कहा, ‘‘हे ब्राह्मण! जिस बात के लिए आया है, जिस बात की इच्छा रखता है, तेरे वे संकल्प पूरे हों। हे ब्राह्मण! आंखें प्राप्त कर। तू एक मांगता है, मैं तुझे दोनों देता हूं। तू लोगों की नजर के सामने आंख वाला होकर जा, जो तू चाहता है, तेरी इच्छा पूरी हो।’’

बोधिसत्व राजा शिवि ने विचार किया कि यहां पर आंख निकालकर देना उचित नहीं होगा। उसने राजमहल में आंखें निकालकर देना उचित समझा। राजा उसी समय राजमहल में गया और राजासन पर बैठकर सीवक नामक राज वैद्य को बुलाकर कहा, ‘‘मेरी आंखें निकाल।’’

यह सुनकर सारे महल और नगर में हा-हा कार मच गया कि राजा अपनी आंखें निकालकर ब्राह्मण को दान देना चाहते हैं। तब सेनापति, मंत्रियों, रानियों, नागरिकों तथा अंत:पुर के लोगों ने एकत्रित होकर राजा को निवेदन किया, ‘‘हे देव! आंखें दान में न दें। हम सबको न छोड़ें। बहुत-से हीरे-जवाहरात, मोती, सोना-चांदी आदि धन दे दें। हे देव! जुते हुए रथ दे दें। सजे हुए घोड़े दे दें। महाराज! स्वर्ण-वस्त्रों से सजे हाथी दे दें। जिस प्रकार हम सब शिवि के लोग आपको अपनी गाड़ियों और रथों के साथ चारों ओर से घेरे रहते हैं- हे राजन! ऐसा दान दें।’’

सेनापति, मंत्रियों, रानियों, नागरिकों आदि सबके कहने पर भी राजा शिवि ने किसी की भी बात नहीं मानी और राजवैद्य सीवक को आदेश दिया कि उसकी आंखें निकाल दी जाएं। सीवक के द्वारा राजा जड़ी-बूटियों के माध्यम से आंखें निकलवाकर और अपने हाथों में रखकर ब्राह्मण को दान दे दीं। बोधिसत्व शिवि के इस महानतम नेत्र-दान से प्रभावित होकर शक्र देव अपने असली रूप में प्रकट हुए और प्रसन्न होकर उन्होंने बोधिसत्व राजा शिवि के नेत्र पहले की भांति ठीक कर दिए।

Distribution in Punjab

Villages in Ludhiana district


Notable persons

  • Shri Gurbax Singh Sibia, ex-minister in Punjab Cabinet was a scion of this ancient clan.

See also

References

  1. O.S.Tugania:Jat Samuday ke Pramukh Adhar Bindu,p.60,s.n. 2315
  2. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Parishisht-I, s.n. स-179
  3. O.S.Tugania:Jat Samuday ke Pramukh Adhar Bindu,p.62,s.n. 2463
  4. Prof. B.S. Dhillon: History and study of the Jats/Chapter 10,p.121
  5. B S Dahiya:Jats the Ancient Rulers (A clan study), p.243, s.n.219
  6. Prof. B.S. Dhillon: History and study of the Jats/Chapter 10,p.128
  7. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Parishisht-I, s.n. श-3
  8. Jat History Thakur Deshraj/Chapter VIII,s.n. 350,p-586
  9. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV, p.341
  10. Mahendra Singh Arya et al: Adhunik Jat Itihas, p. 280
  11. Thakur Deshraj, Jat Itihas, pp. 87-88.
  12. V. S. Agrawala: India as Known to Panini, 1953, p.53
  13. V. S. Agrawala: India as Known to Panini, 1953, p.64
  14. V. K. Mathur:Aitihasik Sthanavali,p.38
  15. V. S. Agrawala: India as Known to Panini, 1953, p.64
  16. History of the Jats/Chapter II,p. 29-30
  17. Ram Swarup Joon: History of the Jats/Chapter V, p. 101
  18. Thakur Deshraj, Jat Itihas, p. 160
  19. Thakur Deshraj, Jat Itihas, p. 161
  20. Strabo, XV.1.8
  21. An Inquiry Into the Ethnography of Afghanistan,p.139
  22. प्रह्रादः पूर्वजस तेषां संह्रादस तदनन्तरम, अनुह्रादस तृतीयॊ ऽभूत तस्माच च शिबिबाष्कलौ Mahabharata (I.59.18)
  23. यस तु राजञ शिबिर नाम दैतेयः परिकीर्तितः, द्रुम इत्य अभिविख्यातः स आसीद भुवि पार्थिवः Mahabharata (I.61.8)
  24. सुदक्षिणश च काम्बॊजॊ दृढधन्वा च कौरवः, बृहद्बलः सुषेणश च शिबिर औशीनरस तथा Mahabharata (I.177.15)
  25. शैरीषकं महेच्छं च वशे चक्रे महाद्युतिः, शिबींस त्रिगर्तान अम्बष्ठान मालवान पञ्च कर्पटान Mahabharata (II.29.6)
  26. काश्मीराः कुन्दमानाशपौरका हंसकायनाः, शिबित्रिगर्तयौधेया राजन्या मद्रकेकयाः Mahabharata (II.48.13)
  27. कार्तवीर्यानिरुद्धाभ्यां नहुषेण ययातिनानृगेण विष्वगश्वेन तथैव शशबिन्दुना ।। [Yuvanashva|युवनाश्वेन]] च तथा शिबिनौशीनरेण च ।।। (XIII.116.66)
  28. रदा विंशतिसाहस्रास तदैषाम अनुयायिनः, अभीषाहाः शूरसेनाः शिबयॊ ऽद वसातयः
  29. गान्धाराः सिन्धुसौवीराः शिबयॊ ऽद वसातयः, शकुनिश च सवसैन्येन भारथ्वाजम अपालयत Mahabharata (VI.47.14)
  30. बाह्लिका दरदाश चैव पराच्यॊथीच्याश च मालवाः, अभीषाहाः शूरसेनाः शिबयॊ ऽद वसातयः Mahabharata (VI.112.109)
  31. अभीषाहाः कवचिनः परहरन्तॊ महॊत्कटाः, शिबयश च रदॊथाराः कलिङ्ग सहिता हताः (VIII.4.37)
  32. शिरॊ ऽभूथ थरुपथॊ राजा महत्या सेनया वृतः, कुन्तिभॊजश च चैथ्यश च चक्षुष्य आस्तां जनेश्वर Mahabharata (VI.46.45)
  33. जघनं पालयाम आस विराटः सह केकयैः, काशिराजश च शैब्यश च रदानाम अयुतैस तरिभिः Mahabharata (VI.46.54)
  34. प्रतीपः खलु शैब्याम उपयेमे सुनन्द्दां नाम, तस्यां पुत्रान उत्पादयाम आस देवापिं शंतनुं बाह्लीकं चेति Mahabharata (I.90.46)
  35. युधिष्ठिरस तु गॊवासनस्य शैब्यस्य देविकां नाम कन्यां सवयंवरे लेभे, तस्यां पुत्रं जनयाम आस यौधेयं नाम Mahabharata (I.90.83)
  36. The Ancient Geography of India/Udyana, pp. 81-83
  37. Kathasaritsagar, vol.1 p. 11
  38. ABORI, vol. XXIX, p. 117, fn. 9
  39. Hukum Singh Panwar (Pauria):The Jats - Their Origin, Antiquity & Migrations, p. 38
  40. Thakur Deshraj, Jat Itihas, p. 164
  41. Jats the Ancient Rulers (A clan study)/The Jats,pp.77-79
  42. Rig Veda, VII, 18,7. आ पक्थासो भलानसो भनन्तालिनासो विषाणिनः शिवासः । आ योऽनयत्सधमा आर्यस्य गव्या तृत्सुभ्यो अजगन्युधा नॄन् (VII.18.7)
  43. Shrauta Sutra, III, 53/22.
  44. Aitereya Brahmana, VIII, 23/10.
  45. EI., 1921, p. 16.
  46. Indica, V, 12.
  47. ibid.
  48. Tribes in Ancient India.
  49. N.L. Dey, Geographical Dictionary, p. 11.
  50. AIS, Vol. 1, P, 202.
  51. MBT, III, 130-131. 17 जलां चॊपजलां चैव यमुनाम अभितॊ नथीम । उशीनरॊ वै यत्रेष्ट्वा वासवाथ अत्यरिच्यत ।। (III.130.17); राज्यं शिबीनाम ऋथ्धं वै शाधि पक्षिगणार्चित (III.131.20);
  52. Ancient Indian Historical Tradition, pp. 41,264.
  53. H.C. Ray Chaudhuri, Political History of Ancient India, p. 205, f.n. 5.
  54. H.C. Ray Chaudhuri, Political History of Ancient India, p. 205, f.n. 5.
  55. Bhim Singh Dahiya: Jats the Ancient Rulers (A clan study), p.79
  56. Epigraphica Indica, 1921, p. 16; also Panini, IV/ 2/109
  57. Indica, 5, 12
  58. Bhim Singh Dahiya, Jats the Ancient Rulers ( A clan study), p. 289
  59. Dr Pema Ram:Rajasthan Ke Jaton Ka Itihas, ,p.14
  60. Jat History Thakur Deshraj/Chapter II,pp.91-95
  61. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV, p. 341
  62. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV, p.351
  63. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter IV, p.351
  64. [[जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठ.195-197
  65. Jat History Dalip Singh Ahlawat/Chapter III,p.197
  66. जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठ.363-364
  67. जाट्स दी ऐनशन्ट रूलर्ज, लेखक बी० एस० दहिया ने पृ० 256 पर लिखा है कि यह कहना उचित है कि नन्द जाट आज नांदल/नांदेर कहे जाते हैं।
  68. भारत का इतिहास, पृ० 47, हरयाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड भिवानी; हिन्दुस्तान की तारीख उर्दू पृ० 161-162)
  69. हिन्दुस्तान की तारीख उर्दू पृ० 162 भारत का इतिहास पृ० 47 हरयाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड, भिवानी।
  70. जाट इतिहास क्रमशः पृ० 695, 192, 695 लेखक ठा० देशराज।
  71. जाट इतिहास क्रमशः पृ० 695, 192, 695 लेखक ठा० देशराज।
  72. जाट इतिहास क्रमशः पृ० 695, 192, 695 लेखक ठा० देशराज।
  73. भारत का इतिहास पृ० 47, हरयाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड भिवानी; हिन्दुस्तान की तारीख उर्दू पृ० 162।

Back to Jat Kingdoms in Ancient India/ The Ancient Jats